Real Sex Story नौकरी के रंग माँ बेटी के संग
04-12-2019, 12:30 PM,
#31
RE: Real Sex Story नौकरी के रंग माँ बेटी के स�...
ज्योति की बातों का मतलब मैं समझ गया था और मेरे होठों पे भी मुस्कान आ गई- घबराइए नहीं ज्योति जी… हम किसी को भी जबरदस्ती नहीं जगाये रखते… हमेशा दूसरों की चाहत का ख़याल रखते हैं…
मैंने भी अब ज्योति के दोअर्थी बातों का जवाब उसी के अंदाज़ में दिया।
‘हाय राम… अगर आप जैसा जगाने वाला हो तो मैं तो सारी उम्र जागने को तैयार हूँ…’ फिर से उसने शरारती अंदाज़ में कहा और इस बार मुझे ही आँख मार दी।
‘फिर तो हमारी खूब जमेगी…’ इस बार मैंने हल्के से उसे आँख मरते हुए कहा और हम तीनों एक साथ खिलखिला कर हंस पड़े।
खैर अब हम ज्योति के घर से बाहर निकले और उससे विदा ली… बाहर अब भी हल्की हल्की बारिश हो रही थी… ऐसी बारिश मुझे बहुत पसंद है, मेरा मन झूम उठा…
मैंने ज्योति से हाथ मिलाकर बाय कहा और वंदना ने उसे गले से लगा कर!
हम दोनों कार में बैठ गए और धीरे धीरे ज्योति की आँखों से ओझल होते हुए सड़क पर आ गये, हम दोनों के बीच ख़ामोशी थी। हम धीरे धीरे चले जा रहे थे.. अचानक फिर से बारिश तेज़ होने लगी और बिजलियाँ कड़कने लगीं।
बिजलियों की चमक में मेरा ध्यान वंदना के ऊपर गया तो मैंने उसके चेहरे पे डर का भाव देखा जो घर से आते वक़्त भी देखा था। 
क्या मुझे वंदना से प्यार हो गया?
एक बात थी दोस्तो, जब हम घर से ज्योति के यहाँ आने के लिए चले थे तब और अब जब लौट रहे थे तब, मेरे और वंदना के बीच सबकुछ बदल सा गया था… क्यूंकि उस वक़्त मैं रेणुका जी के बारे में सोच सोच कर परेशां था और वंदना की तरफ ध्यान ही नहीं लगा पा रहा था, लेकिन वो कहते हैं न कि अक्सर कुछ पलों में जिंदगियाँ बदल जाती हैं… तो वैसा ही कुछ एहसास हो रहा था।
मैं यह नहीं कह रहा कि मुझे प्यार हो गया था.. क्यूंकि मैं यूँ एक नज़र में होने वाले प्यार और कुछ पलों में होने वाले प्यार पे यकीन नहीं करता, लेकिन एक बात जरूर मानता हूँ कि कुछ बदलाव जरूर आ जाते हैं कुछ पलों में…
मेरे होठों पे बरबस ही मुस्कान आ गई और अब मैं चोर नज़रों से अपने पास बैठी उस चंचल शोख़ हसीना के रूप और सौन्दर्य को निहारने लगा…
उसके चेहरे पे उसके बालों की एक लट बार-बार उसे परेशान कर रही थी और वो बार-बार उसे हटाने की कोशिश करे जा रही थी। अपनी धुन में बेखबर और कार में बज रहे हलके से संगीत पे हौले-हौले गुनगुनाती अपने लट को संभालती बाहर हो रही बारिश को निहारती वंदना मुझे अपनी तरफ खींचने लगी थी।
मैं उसे पसंद करने लगा था… और ये सहसा ही हुआ था।
मुझे यकीन होने लगा था कि अगर मैं रेणुका के मोह में इतना न उलझा होता तो शायद ये मेरे पास बैठी ख़ूबसूरत सी लड़की अब तक मेरे बाहुपाश में समां चुकी होती और शायद हम कई बार प्रेम के फूल खिला चुके होते।
यह सोच कर कर मैं मुस्कुराने लगा और धीरे से सड़क के किनारे एक बड़े से पेड़ के नीचे कार रोक दी। 
कार रुकते ही वंदन ने मेरी तरफ देखा और फिर बड़े ही प्यार से अपनी आँखें नीचे कर लीं…
उसकी इस अदा ने मुझे घायल ही कर दिया.. मैं अब भी उसे देखे जा रहा था…
कहाँ तो थोड़ी देर पहले तक मैं वंदना को इतना सीरियसली नहीं ले रहा था लेकिन कुछ घंटे साथ में बिताने के बाद ही मैं उसकी तरफ आकर्षित होता जा रहा था…
बाहर तेज़ बारिश की बूंदों की आवाज़ और अन्दर एक गहरी ख़ामोशी… 
‘खूबसूरत लड़कियों को देख कर बड़े ही रोमांटिक गज़लें निकल रही थीं जनाब के गले से…’ उस ख़ामोशी को तोड़ती हुई वंदना की आवाज़ मेरे कानों में पहुँची।
जब मैंने ध्यान से देखा तो अपना सर नीचे किये हुए ही बस अपनी कातिलाना निगाहों को तिरछी करके उसने मुझे ताना मारा।
उफ्फ्फ यह अदा… ऐसे अदा तब दिखाई देती है जब आपकी प्रेमिका आपसे इस बात पर नाराज़ हो कि आपने उसके अलावा किसी और की तरफ देखा ही क्यूँ…!! वैसे इस नाराज़गी में ढेर सारा प्यार छुपा होता है… 
-  - 
Reply

04-12-2019, 12:30 PM,
#32
RE: Real Sex Story नौकरी के रंग माँ बेटी के स�...
‘अच्छा, वहाँ खूबसूरत लड़कियाँ भी थीं… मुझे तो बस एक ही नज़र आ रही थी… और मैंने तो वो ग़ज़ल भी बस उसी के लिए गाया था.’ मैंने भी उसे प्यार से देखते हुए कहा और मुस्कुरा दिया।
‘झूठे… जाइए, कोई बात नहीं करनी मुझे आपसे…’ वंदना ने बनावटी गुस्सा दिखाते हुए कहा और अपना मुँह बना लिया बिल्कुल रूठे हुए बच्चों की तरह।
तभी जोर से बिजली कड़की… बस होना क्या था, चीखती हुई वो हमसे लिपट गई… 
‘हा हा हा हा… डरपोक !!’ मैंने हंसते हुए धीरे से उसे अपनी बाहों में कसते हुए कहा।
‘फिर से डरपोक कहा मुझे… अब तो पक्का बात नहीं करुँगी…’ मेरे सीने से अलग होते हुए वंदना अपनी सीट पर जाने लगी।
और तभी मैंने उसे जोर से अपनी तरफ खींचा, अपने सीने से लगा कर इतनी जोर से जकड़ लिया मानो उसे अपने अन्दर समा लेना चाहता हूँ।
यूँ अचानक खींचे जाने से वंदना थोड़ी सी हैरान तो जरूर हुई लेकिन मेरी बाहों के मजबूत पकड़ में वो अपने सम्पूर्ण समर्पण के साथ किसी लता के समान मुझसे लिपट गई और हम दोनों के बीच सिर्फ खामोशियाँ ही रह गईं।
एक तरफ तेज़ बारिश की आवाज़ थी जिसके शोर में कुछ सुनाई नहीं दे रहा था लेकिन कार के अन्दर इतनी ख़ामोशी थी कि हम दोनों की उखड़ती साँसों की आवाज़ हम साफ़ साफ़ सुन पा रहे थे… बारिश की वजह से हवा में फैली नमी के साथ मिलकर वंदना के बदन से उठ रही एक भीनी सी खुशबू सीधे मेरे अन्दर समां रही थी और मदहोश किये जा रही थी।
लगभग 10 मिनट तक हम वैसे ही एक दूसरे की बाँहों में खोये रहे… न उसने कुछ कहा न ही मैंने!
फिर धीरे से मैंने अपनी पकड़ थोड़ी ढीली की लेकिन अब भी वो मेरी बाहों में ही थी, मैंने उसके चेहरे की तरफ देखा… घना अँधेरा था, बाहर भी और कार के अन्दर भी… कुछ साफ़ तो नहीं दिख रहा था लेकिन रुक रुक कर चमकती बिजलियों की रोशनी में उसके थरथराते होंठ और बंद आँखें उस पल को इतना रोमांटिक बना रही थीं कि दिल से यह दुआ आ रही थी कि ये पल यहीं रुक जाएँ!
कुछ पल मैं यूँ ही उसे निहारता रहा… फिर अपने एक हाथ से उसके चेहरे को ऊपर उठाया… उसने अपनी आँखें नहीं खोली।
मैंने धीरे से उसकी दोनों बंद आँखों के ऊपर से ही चूमा और फिर एक बार उसके माथे को चूम लिया।
अगर सच बताऊँ तो ऐसा मेरे साथ पहली बार नहीं हुआ था जब मैं किसी लड़की के साथ ऐसी सिचुएशन में था… लेकिन आज से पहले जब भी ऐसा हुआ था तब मेरे होंठ सबसे पहले सामने वाली लड़की या औरत के होठों से ही मिलते थे और एक जोरदार चुम्बन की प्रक्रिया शुरू करता था मैं… लेकिन आज पता नहीं क्यूँ मैं ऐसी हरकतें कर रहा था मानो मैं प्रेम से अभिभूत होकर अपनी प्रेमिका को स्नेह और दुलार से चूम रहा हूँ।
उसकी आँखों और माथे पर चूमते ही वंदना ने मुझे और जोर से पकड़ लिया और गहरी साँसें लेना शुरू कर दिया… मुझे लगा कि अब वो अपनी आँखें खोलेगी… लेकिन ऐसा नहीं हुआ… मैं अचंभित सा उसे देख रहा था और तभी एक कड़कती बिजली की रोशनी में मुझे उसके दोनों आँखों के किनारे से मोतियों की तरह आँसुओं की बूँदें दिखाई दीं।
मैं समझ गया था कि ये आँसू क्यूँ निकल रहे थे… यह अलग बात है कि मैं वासना और शारीरिक प्रेम का अनुयायी रहा और आज भी हूँ लेकिन उतना ही ज्यादा भावुक भी हूँ और किसी की भावनाओं को समझने की शक्ति भी रखता हूँ…
मैंने वंदना के चेहरे के करीब जाकर उसके कान में धीरे से पूछा- ए पगली… रो क्यूँ रही हो… मेरा छूना बुरा लगा क्या… अपनी बाहों से आजाद कर दूँ क्या?
इतना सुनते ही उसने आँखें खोलीं और मेरी आँखों में झाँका… इस बार तो आँसुओं की झड़ी ही लग गई…
‘समीर… आप मुझसे दूर तो नहीं चले जाओगे ना… क्या हम ऐसे ही रहेंगे जीवन भर… क्या आप ऐसे ही प्यार करते रहेंगे मुझे…’ एक साथ न जाने कितने सवालों से वंदना ने मुझे झकझोर सा दिया और यूँ ही आँखों से बहती अविरल अश्रु धारा लिए मुझे एकटक देखती रही…
-  - 
Reply
04-12-2019, 12:30 PM,
#33
RE: Real Sex Story नौकरी के रंग माँ बेटी के स�...
‘जीवन बस एक पल है वंदना… न इसके पीछे कुछ था और न ही इसके आगे कुछ होगा… जो है वो बस यही एक पल है… और इस पल में मैं तुम्हारे साथ हूँ… तुम मेरी बाहों में हो… बस इस पल में जियो और सबकुछ भूल जाओ… कल किसने देखा है…’ मैंने भी अपनी भावनाओं पर काबू करते हुए उसकी आँखों में देखकर कहा।
मेरी बातें सुनकर उसके चेहरे पर एक हल्की सी मुस्कान उभर गई और फिर धीरे धीरे हमारे होंठ एक दूसरे के इतने करीब हो गए कि पता ही नहीं चला कब हमारे होठों ने एक दूसरे को अपने अन्दर समां लिया… हम सब कुछ भूल कर एक दूसरे से चिपक गए और यूँ एक दूसरे के होठों का रसपान करने लगे मानो कभी अलग नहीं होंगे… हमारी साँसें एक दूसरे की साँसों से टकराती और फिर एक दूसरे से मिल जातीं…
यूँ ही वंदना के होंठों को चूसते हुए मैं धीरे-धीरे वंदना के ऊपर ढलता गया और अपनी सीट से हटकर उसकी सीट के साइड में लगे लीवर को खींच कर उसकी सीट को पीछे की तरफ बिल्कुल लिटा सा दिया…
अब वंदना अपनी सीट पर बिल्कुल लेटी हुई थी और मैं उसके ऊपर अधलेटा हुआ था… हमारे होंठ अब भी एक दूसरे के साथ चिपके हुए थे, उसकी बाँहों ने मुझे जोर से जकड़ा हुआ था… और मेरे हाथ अब उसके बदन पर धीरे-धीरे फिसलने लगे… यूँ ही एक दूसरे के साथ चिपके हुए ही मेरे हाथों में उसका दुपट्टा आ गया और मैंने धीरे से उसे खींच कर अलग कर दिया…
लेकिन दुपट्टा खींचना इतना आसान नहीं था… मैं वंदना के ऊपर यूँ औंधा पड़ा हुआ था कि मेरे सीने और उसके उन्नत उभारों के बीच दुपट्टा बुरी तरह से फंस गया था और जब मैंने उसे खींचा तो सहसा ही वन्दना का ध्यान उस तरफ चला गया और उसने मेरे होठों को चूसना छोड़ दिया और अचानक से हमारी निगाहें एक दूसरे से टकरा गईं…
वंदना का दुपट्टा हटते ही उसकी दो खूबसूरत 32 साइज़ की चूचियाँ तेज़ चल रही साँसों की वजह से उभर कर मेरे सीने से कभी सट रही थीं और कभी हट रही थीं…
बड़ा ही कामुक सा दृश्य था वो..
मेरी नज़र सहसा ही उसकी उठती बैठती चूचियों पर टिक गईं। वंदना ने मुझे उसकी चूचियों को निहारते देख लिया और जब मैंने उसकी तरफ देखा तो उसने शर्मा कर मेरे सीने में अपना मुँह छुपा लिया..
यूँ लग रहा था मानो वो मेरी नई नवेली दुल्हन हो और सुहागरात को मैंने उसे पहली बार उसके कामुक बदन को निहारना शुरू किया हो… 
मैंने उसे धीरे से खुद से थोड़ा सा अलग किया और झुक कर उसके होठों को एक बार फिर से अपने होठों में भर लिया… उसने भी उतने ही प्यार से मेरे होठों को फिर से चूसना शुरू कर दिया… और इसी बीच मैंने अपने दाहिने हाथ की उँगलियों से उसकी गर्दन और सीने के ऊपर चलाना शुरू किया…
मेरी छुअन ने आग में घी का काम किया और जैसे ही मेरी उँगलियों ने वंदना की चूचियों की घाटी में प्रवेश किया उसने मेरे होठों को जोर से चूसना शुरू किया… मेरी उँगलियाँ अब उसके कुरते के ऊपर से ही उसकी चूचियों की गोलाइयों का जायजा लेने लगीं और मैंने धीरे से अपनी पूरी हथेली को उसकी बाईं चूची पे रख दिया…
वंदना की धड़कनें इतनी बढ़ गईं कि मुझे बारिश के शोर में भी साफ़ साफ़ सुनाई देने लगीं…
मैंने अब अपनी हथेलियों को धीरे-धीरे उसकी चूचियों पे चलाना शुरू किया.. उसकी चूचियाँ इतनी कड़ी थीं मानो मैंने बड़े साइज़ का कोई अमरुद थामा हो.. 32 का साइज़ मेरी हथेलियों में पूरी तरह से फिट बैठ गया था और मैं मज़े से धीरे-धीरे अपना दबाव बढ़ाता गया।
मेरे हर दबाव के साथ हम दोनों का मज़ा दोगुना होता जा रहा था… 
अब मैंने अपने बाएँ हाथों को वंदना के सर के नीचे से आज़ाद किया और उसकी दाईं चूची को भी थाम लिया… अब स्थिति यह थी कि मैं वंदना के होठों को खोलकर अपनी जीभ को उसके मुँह में डालकर उसके जीभ से खेल रहा था और अपने दोनों हाथों से उसकी खूबसूरत चूचियों को मसल रहा था…
वंदना के हाथ मेरी पीठ पे थे और वो मेरे शर्ट को अपनी हथेलियों में पकड़ कर खींच रही थी… 
-  - 
Reply
04-12-2019, 12:31 PM,
#34
RE: Real Sex Story नौकरी के रंग माँ बेटी के स�...
धीरे-धीरे मेरे दायें हाथ ने उसकी चूची को छोड़ दिया और नीचे की तरफ उसके पेट को सहलाने लगा… पेट को थोड़ी देर सहलाने के बाद मेरा हाथ नीचे की तरफ बढ़ चला और मैं उसके जाँघों से लेकर नीचे जहाँ तक हो सके उसकी टांगों को सहलाना शुरू किया।
टांगों से होते हुए जब मेरे हाथ नीचे से ऊपर की तरफ आने लगे तब सहसा ही मेरी उँगलियाँ उसके कुरते के नीचे घुस गईं और और अब मेरी उँगलियों ने उसके चिकने मखमली त्वचा को छुआ… 
उफ्फ… कितनी रेशमी थी उसकी त्वचा… मेरी उँगलियाँ खुद बा खुद कुरते के अन्दर फिसलती चली गईं और अब मेरी पूरी हथेली उसके कुरते के अन्दर थी… मैंने बड़े ही प्रेम से उसके मखमली पेट और उसकी नाभि को सहलाया… और धीरे-धीरे उसके कुरते को ऊपर की तरफ खिसकाना शुरू किया… खिसकते खिसकते उसका कुरता इतना ऊपर उठ गया कि अप मेरी उँगलियों से उसकी सिल्की ब्रा टकरा गई…
उसकी ब्रा के सिल्की एहसास ने मेरा जोश और दोगुना कर दिया और अब मैंने कोशिश करनी शुरू कर दी ताकि मेरी पूरी हथेलियों में उसकी चूचियाँ ब्रा सहित आ सके… लेकिन वंदन ने इतना कसा हुआ कुरता पहना हुआ था कि यह मुश्किल ही नहीं नामुमकिन सा लगने लगा…
अपनी असफलता से दुखी होकर मैंने वंदना की आँखों में देखा और उसने मेरी मुश्किल को भांप लिया… अब हम दोनों ने एक दूसरे के होठों को आजाद कर दिया था और मैं इस उधेड़बुन में था कि वो खुद अपने कुरते को निकलेगी या फिर मुझे कोई इशारा देगी…
लेकिन वो बस शरारत भरे अंदाज़ में मुस्कुराती रही…
ये शायद उसका मौन निमंत्रण था जिसमें उसकी रजामंदी भी छिपी थी। 
मैंने धीरे से उसे अपनी बाँहों का सहारा देते हुए उठाया और बैठा दिया… अब उसकी आँखों में एक टक देखते हुए उसकी कुरती को अपने दोनों हाथों से पकड़ कर आहिस्ता-आहिस्ता ऊपर की तरफ निकलने लगा।
वंदना ने शरमाते हुए कार के बाहर चारों तरफ झांक कर सुनिश्चित किया कि कहीं कोई देख न रहा हो… और फिर धीरे से अपनी दोनों गुन्दाज बाहें उठा दीं।
जैसे ही कुरती उसके सीने से ऊपर हुई तो उस अँधेरे में भी उसकी सिल्की ब्रा चमकने लगी और उससे भी ज्यादा उसकी हसीन चूचियाँ दूध की तरह सफ़ेद और मखमली एहसास लिए हुए मेरी आँखों में चमकने लगी।
दोनों बाजुओं के ऊपर होने से उसकी चूचियाँ आपस में बिल्कुल सैट गई थीं और तनकर चूचियों की घाटी को और भी गहरा बना रही थी…
मुझसे बर्दाश्त नहीं हुआ और मैंने झुककर उन घाटियों के ऊपर अपने दहकते हुए होंठ रख दिए।
कुरती अब भी वंदना के गले में फंसी हुई थी और जैसे ही मैंने उसकी चोटियों पे चूमा.. उसने एक ज़ोरदार सांस खींच कर झट से लगभग अपने कुरते को फाड़ते हुए निकाल फेंका और मेरे सर को अपनी चूचियों में दबा लिया…
उफ्फ्फ… वो भीनी सी खुशबू… और वो रेशमी एहसास… बयाँ करना मुश्किल है…स
मैंने अपनी दोनों बाहों में उसके चिकने बदन को बिल्कुल समेट सा लिया और उसकी चूचियों पर चुम्बनों की झड़ी लगा दी।
‘उफ्फ… समीर… मैं पागल हो जाऊँगी… ऐसा मत करो… सीईईई..’ वंदना ने एक कामुक सी सिसकारी लेते हुए धीरे से मेरे कान के निचले भाग को अपने होठों में भरा और कहा…
वासना और उन्माद की लहरें उसकी आवाज़ में साफ़ साफ़ सुनी जा सकती थी।
उसके ऐसा करने से मुझे थोड़ी सी गुदगुदी हुई और मैंने उसकी चूचियों को अपने दांतों से धीरे से काटा, मैंने उन घाटियों को इतना चूमा कि मेरे चूमने की वजह से वहाँ की पूरी त्वचा लाल सी हो गई… और मेरे मुँह से रिश्ते हुए लार की वजह से पूरी घाटी चमचमा उठी… 
वंदना पूरे समर्पण के साथ अपनी आँखें बंद किये लम्बी लम्बी साँसें ले रही थी, मैंने धीरे से अपने हाथों को जो उसकी पीठ पर थे उन्हें सहलाते हुए वंदना की ब्रा के हुक के पास ले आया… मेरे होंठ अब भी उसकी चूचियों पर ही थे।
ब्रा का हुक टूट गया
क्रक… एक जानी पहचानी सी आवाज़ हुई… यह आवाज़ मुझे बहुत पसंद है… पता नहीं कितनी बार इस आवाज़ ने मेरे जोश को और दोगुना किया था… अब आप समझ ही गए होंगे क्यूँ…
इस आवाज़ ने यह एहसास दिलाया कि अब मेरी आँखें उन उन्नत विशाल कोमल कठोर यौवन पर्वतों के दर्शन करने वाले हैं जिसके दर्शन करने को इस पृथ्वी के सारे मर्दों की आँखें हर समय तरसती रहती हैं… चाहे ये पर्वत किसी भी आकार के हों, मर्दों की आँखों में ऐसे समां जाते हैं जैसे उन्हें कभी आँखों से ओझल न होने देना चाहते हों…

उस आवाज़ को सिर्फ मेरे कानों ने ही नहीं सुना था… वंदना को भी इस बात का पूरा एहसास हुआ और उसने झट से अपनी आँखें खोल लीं… और नारी सुलभ लज्जा के कारण अपने दोनों हाथों को अपने सीने पे रख कर अपनी चूचियों को ढक लिया।
वंदना की यह हरकत मुझे ये यकीन दिलाने के लिए काफी थे कि यह शायद उसके लिए पहला अनुभव था जब कोई मर्द उसके उभारों को नग्न देखेगा।
मैं उसे देख कर मुस्कुरा उठा और उसके चेहरे को पकड़ कर उसकी आँखों में आँखें डाल कर एक प्रेम से अभिभूत मिन्नत की… इस मिन्नत में कोई आवाज़ नहीं थी… बस खामोशियाँ और आँखों के इशारे…
प्रेम की कोई भाषा नहीं होती… यहाँ भी कुछ ऐसा ही हाल था। हम दोनों की आँखें एक दूसरे से बातें किये जा रहे थे। मेरी मिन्नत को समझने में वंदना को कोई परेशानी नहीं थी फिर भी औरत तो औरत ही होती है, उसने अपनी नज़रें झुका लीं.. मेरे हाथों ने अब भी उसके चेहरे को यूँ ही पकड़े रखा था।
तभी उसने अपने कांपते हुए हाथों को धीरे से अपने सीने से अलग करते हुए मेरे सर को हौले से पकड़ा और अपनी गर्दन ऊपर पीछे की तरफ करते हुए अपने सीने से लगा दिया।
हाथ हटते ही उसकी चूचियाँ मानो उछल कर बाहर आ गई हों… उसकी सिल्की ब्रा अब उसकी चूचियों को आज़ाद करके खुद एक संतरे के छिलके की तरह लटक चुकी थी पर अब भी उसकी बांहों में ही फंसी हुई थी।
आज़ाद होते ही उसकी बेहतरीन चूचियों पर मैंने अपने नाक से हर जगह की खुशबू लेनी शुरू की, पूरी की पूरी चूची इतने मदहोश कर देने वाली खुशबू छोड़ रही थी कि बस जी कर रहा था कि ऐसे ही उसकी पूरी खुशबू को अपनी साँसों में बसा लूँ।
सूंघते-सूंघते मैंने अपने दाँतों से उसकी ब्रा को पकड़ कर बड़े ही फिल्मी अंदाज़ में उसके हाथों से बाहर कर दिया और बेचारी वो सिल्की सी ब्रा सीट के नीचे गिरकर उस खजाने को लुटते हुए देखने लगी जिसे न जाने कितने दिनों से दुनिया की नज़रों से छुपा रखा था उसने।
मेरी नाक ने वंदना को कई ऐसे सिहरन दिए जिसे वंदना दबा कर नहीं रख पा रही थी और वो सिहरन सिसकारियों के रूप में उसके मुँह से बाहर आ रही थी.. उसकी उँगलियाँ मेरे बालों से अठखेलियाँ कर रही थी।
-  - 
Reply
04-12-2019, 12:31 PM,
#35
RE: Real Sex Story नौकरी के रंग माँ बेटी के स�...
अब बारी आई उसकी चूचियों के रसपान की… मैंने धीरे-धीरे अपने होठों से उसकी दोनों चूचियों को हर जगह चूमना शुरू किया… अँधेरे की वजह से मैं उन चूचियों को ठीक से देख नहीं पा रहा था और इस बात से मुझे बुरा लग रहा था।
तभी एक बिजली कड़की… और मेरी आँखों ने उन पर्वतों के साक्षात् दर्शन कर लिए… बस एक दो सेकंड सेकेण्ड के लिए ही सही लेकिन बिजली की चमक ने उन खूबसूरत उभारों को इतना उजागर कर दिया कि उत्तेजना में कड़ी उन चूचियों की नसें तक साफ़ दिख गईं और साथ ही उन चूचियों के ठीक मध्य भाग में वो गुलाबी सा घेरा और उस घेरे के ऊपर किशमिश के दाने के आकार की घुंडी… 
उफ्फ्फ… मैं बावला हो गया और उस अचानक हुए उजाले में उन घुण्डियों की तरफ निशाना साध कर अपने होठों को टिका दिया.. निशाना बिल्कुल सटीक बैठा था।
अँधेरा अब भी था और बारिश की बूंदें अब भी शोर मचा रही थीं… लेकिन मेरे होठों ने जैसे ही वंदना की चूची की घुंडी को अपने अन्दर समेटा, एक जोरदार सिसकारी के साथ वंदना ने मेरे बालों को बड़े जोर से खींचा… अपने पैरों को बिल्कुल एक साथ जोड़कर यूँ ऐंठने लगी जैसे उसे किसी बिजली के तार ने छू लिया हो।
लम्बी-लम्बी साँसें… और धड़कते हुए दिल की आवाजों के साथ उसने अपने बदन को कदा कर लिया और अपनी कमर के 3-4 झटके दिए… मुझ जैसे अनुभवी खिलाड़ी के लिए यह समझना मुश्किल नहीं था कि मेरे होठों की छुवन ने वंदना को चरमोत्कर्ष पर पहुँचा दिया था और उसकी मुनिया ने अपने रस को धीरे से विसर्जित कर दिया था।
वंदना का पूरा बदन काँप रहा था… मैंने उसकी चूची की घुंडी को अपने पूरे मुँह में होठों के बीच रख लिया और अन्दर से अपनी जीभ की नोक को उस घुंडी पे चलाने लगा।
हमारी पाठिकाएँ इस एहसास को बखूबी जानती होंगी और यह भी जानती होंगी कि ये क्षण पूरे बदन को कितनी गुदगुदी से भर देते हैं… लेकिन इस गुदगुदी में हंसी नहीं निकलती बल्कि पूरे बदन में एक सिहरन सी दौड़ जाती है।
ऐसा ही कुछ वंदना के साथ भी हुआ और उसका बदन झनझना उठा… मैंने अपने जीभ की करामात जारी रखी और अब अपने दूसरे हाथ को वहाँ पहुँचा दिया जहाँ उसे उस वक़्त होना चाहिए था।
उसकी दूसरी चूची को अपने दूसरे हाथ की हथेली में भरते हुए मैंने उन्हें हौले-हौले मसलना शुरू किया।
वंदना भी अभी-अभी स्खलित हुई थी… इसलिए उसने अपने बदन को अब बिल्कुल ढीला कर दिया और अपने आप को मेरे हवाले कर दिया… अब मैंने उसकी पहली चूची को अपने होठों से अलग किया और फिर दूसरी चूची की तरफ बढ़ा।
उसकी दूसरी चूची को मुँह में भरने से वंदना को एक बार फिर से उत्तेजना हुई, मेरे दूसरे हाथ ने अब उसकी वो चूची थाम ली जिसे मैंने चूस चूस कर गीला कर दिया था।
एक तो पहले ही उसकी चूचियाँ चिकनी थीं, ऊपर से मेरे मुँह से निकले रस से सराबोर होकर और भी चिकनी हो गई थीं… मेरी हथेली में भरते ही उसकी चूचियों की चिकनाहट ने वो आनन्द दिया कि मैंने एक बार अपनी हथेली को जोर से भींच कर चूचियों को लगभग कुचल सा दिया।
‘आआह्हह… ..सीईईई ईईस्सस्स…’ बस इतना ही निकल सका उसकी जबान से..
मैंने मज़े से उसकी चूचियों का रसपान जारी रखा और साथ ही साथ मर्दन भी करता रहा।

हम दोनों दीन-दुनिया से बेखबर उस बारिश के शोर में एक दूसरे से लिपटे एक दूसरे के अन्दर समां जाने को बेकरार थे… मेरे हाथों ने अब अपना स्थान बदलना शुरू किया… चूचियों को होठों के हवाले करके अब मेरे हाथ उसके पेट पर चलते-चलते उसकी नाभि को एक बार फिर से छेड़ने लगे… उँगलियों ने जैसे ही नाभि को छुआ तो मेरा ध्यान उसकी तरफ खिंच गया… मैंने वंदना की चूचियों को अपने मुँह से निकला और अपनी जीभ को बाहर निकल कर चूचियों के घाटी के बिल्कुल बीच से होते हुए अपनी छाप छोड़ते-छोड़ते सीधा उसकी नाभि में समां कर रुक गए…
अब यह एक और ऐसी जगह है स्त्रियों के शरीर में जहाँ हलकी सी सरसराहट भी उत्तेजित कर देती है और अगर उस जगह जीभ रख दी जाए तो फिर तो सिहरन से शरीर उन्मादित हो उठता है। मैंने वंदना को वही उन्माद दिया था… अपनी जीभ की नोक को उसकी सुन्दर गहरी नाभि में यूँ चलाने लगा मानो एक छोटी सी कटोरी जिसके अन्दर सिर्फ कोई नुकीली चीज़ ही जा सकती है, वहाँ से कोई शहद चाट कर पी लेना चाहता हूँ…
नाभि को चूम-चूम कर मैं फिर से उसकी चूचियों को मसलने लगा। वंदना के हाथ पहले की तरह ही मेरे बालों से खेल रहे थे… 
मेरे हाथों ने एक बार फिर से अपने स्थान परिवर्तन का फैसला किया और अब धीरे-धीरे चूचियों को सहलाते हुए पेट की तरफ बढ़े और फिर मेरी उँगलियाँ वंदना की पटियाला सलवार से टकरा गई… मैं अपनी उँगलियों को आहिस्ते-आहिस्ते कमर की तरफ से उसकी सलवार के अन्दर डाल दिया और लगभग दो उँगलियों से जितना संभव हो सके उतना नीचे की तरफ सरका दिया…
अब मेरी उंगलियों को खेलने के लिए उसकी नाभि और उसकी मुनिया के बीच की सपाट चिकनी सतह मिल गई और उँगलियों ने उस सतह को हौले-हौले सहलाना शुरू किया…
स्त्रियों का यह भाग बहुत ही संवेदनशील होता है… मेरी उँगलियाँ मानो मेरे होठों का मार्गदर्शन कर रही थीं। नाभि को अपने मन मुताबिक़ चूमने के बाद सहसा ही मेरे होंठ नाभि के ठीक नीचे उसी भाग को चूमने लगे… अब मेरे नाक में एक चिर-परिचित महक आने लगी…
जी हाँ… आपका अनुमान बिल्कुल सही है, यह महक वहाँ से आ रही थी जहाँ पहुँचने की लालसा हर एक मर्द में होती है… ‘चूत’ !!
एक मदहोश कर देने वाली महक जिसने हमेशा मुझे मदहोश किया है… आज भी और आज से पहले भी।
वंदना के सपाट पेट और चूत तथा नाभि के बीच के चिकने भाग पर मेरी जीभ खुद बा खुद फिसलने लगी… साथ ही साथ मेरी उँगलियाँ अब बड़े ही मुस्तैदी से वो डोर ढूंढ रहे थे जिसे खींचे बिना स्वर्ग के उस दरवाज़े के दर्शन नहीं हो सकते। ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ी मुझे और वंदना के शलवार की डोरी मेरे हाथों में आ गई… मैंने उसके पेडू को चूमते हुए ही डोरी को हल्के से खींचा!
इस बार भी नारी सुलभ लज्जा का प्रदर्शन हुआ और एकदम से वंदना ने अपने हाथों से मेरे हाथों को रोकने का प्रयास किया लेकिन अब बहुत देर हो चुकी थी.. मेरे प्रेम भरे मनुहार ने वंदना के अन्दर अब विरोध करने की शक्ति को क्षीण कर दिया था… थोड़ी सी ना नुकुर के बाद मैंने डोरी को पूरी तरह खोल दिया और एक बार वंदना की तरफ देखा…
वंदना ने अपने हाथों से अपना मुँह ढक लिया… उसकी इस हालत पे मैं वासना भरी मुस्कान के साथ अपने काम में वापस लग गया…
हमें काफी देर हो चुकी थी… उस जगह रुके हुए और अपने प्रेम लीला शुरू किये हुए लगभग डेढ़ घंटे बीत चुके थे… वासना अपनी जगह है और जिम्मेदारियाँ अपनी जगह..
यह एक बात है मेरे अन्दर और यह मैं खुद नहीं कहता, बल्कि मेरे साथ सम्बन्ध बना चुकी हर उस लड़की या स्त्री ने कहा है जिसके हर बात का ध्यान रखा था मैंने।
-  - 
Reply
04-12-2019, 12:32 PM,
#36
RE: Real Sex Story नौकरी के रंग माँ बेटी के स�...
इस प्रेम लीला को बीच में रोक तो नहीं सकता था मैं क्यूंकि मैं खुद उन्माद से मरा जा रहा था.. अब देर करना उचित नहीं था.. वैसे भी हम एक छोटे से शहर में सुनसान सड़क पर थे।
अब मैंने झुक कर फिर से वंदना की नाभि से होते हुए अपनी जीभ की नोक को नीचे की तरफ सरकाना शुरू किया और साथ-साथ अपनी उँगलियों को उसकी सलवार और उसकी सिल्की पैंटी में फंसा कर हौले-हौले सरकाना शुरू किया… जैसे-जैसे उसकी शलवार पैंटी के साथ सरकती जा रही थी वैसे-वैसे मेरे होठ खाली हो रहे भाग पर अपनी छाप छोड़ रहे थे… और जितना मेरे होंठ चूत रानी के करीब पहुँच रहे थे उतना ही वंदना का शरीर काँप रहा था… उसका बदन आग की तरह तप रहा था, अगर उस वक़्त थर्मामीटर होता तो उसके बदन से सटाते ही उसका पारा उसे तोड़ कर बाहर आ जाता!
और अब अंततः मेरे होटों ने कुछ नरम रेशमी सा महसूस किया… यह रेशमी चीज़ और कुछ नहीं, वंदना के चूत पे उगे हुए रोयें थे… मैं एक बार को थोड़ा चौंका जरूर था।
वंदना की उम्र लगभग 18 साल से ज्यादा हो चली थी और इस उम्र में चूत के ऊपर रोयें नहीं होते बल्कि वो सख्त होकर झांट का रूप ले लेते हैं… लेकिन वंदना की चूत पर अब भी वो बाल बिल्कुल रोयें की तरह ही थे जो मेरे होठों और मेरे नाक पे गुदगुदी कर रहे थे।
अब लगभग मैंने उसकी चूत को पूरी तरह से नंगी कर दिया था… एक बार फिर वंदना ने आखिरी बार अपने सर्वस्व को छुपाने की नाकाम कोशिश की। उसने अपने दोनों हाथों को अपनी कोमल चूत पर रख लिया और उसे पूरी तरह से ढक लिया।
यह स्वाभाविक था…
मैंने उसके दोनों हाथों पे बारी-बारी से चुम्बन लिया और फिर अपने हाथों से पकड़ कर उसके हाथों को अलग किया। थोड़ी सी जद्दोजेहद के बाद मैंने उसकी मुनिया को पुर्णतः आज़ाद कर लिया और अपने होटों को उसकी संतरे के फांकों के सामान बंद चूत के ऊपर रख दिया…
उसके दोनों हाथ मेरे दोनों हाथों में थे… जैसे ही मैंने उसकी चूत पर अपने होंठ रखे उसने अपने हाथों को खींचना शुरू किया, लेकिन मैंने अपनी पकड़ बनाये रखी और उसकी चूत पे चुम्बनों की बरसात कर दी…
वंदना तो एक बार पहले ही झड़ चुकी थी और उसकी चूत से निकले हुए काम रस का साक्षात्कार मेरे होठों से भी हुआ था… उसकी चिपचिपाहट मेरे होठों पे लग चुकी थी लेकिन मेरे चुम्बनों की बरसात ने उसकी चूत को एक बार फिर से इतना उत्तेजित कर दिया कि चुदाई से पहले निकलने वाली रस से अब उसकी चूत सराबोर हो चुकी थी।
अब मैंने धीरे से उसके हाथों को छोड़ दिया क्यूंकि मैं जानता था की अब वो कोई विरोध नहीं करेगी… ऐसा ही हुआ और उसके हाथ अब मेरे सर को अपनी चूत पे दबाने लगे… मैंने अपनी उँगलियों से उसकी चूत के बंद दरवाज़े को थोड़ा सा फैला दिया और इस बार अपनी जीभ पूरी तरह से बाहर निकाल कर सीधा उसकी चूत के मुहाने तक घुसा दिया।
‘आऐईईईइ…’ एक किलकारी गूंजी उस शोर में और काम रस की दो तीन बूँदें सीधे मेरे जीभ पे गिरी… अब अगर मैं थोड़ी देर और ऐसे ही उसकी चूत को चाटता तो वो फिर से झड़ जाती और मैं ऐसा नहीं चाहता था… अबकी बार मैं उसे अपने लंड की चोट के साथ झाड़ना चाहता था।
पहली बार में लड़की अपने चूत को ज्यादा देर तक नहीं चटवा पाती है, यह मेरा अनुभव है लेकिन एक दो बार के बाद अगर चूत को सही तरीके से चाटा और चूसा गया हो तो फिर चूत को इसमें असीम आनन्द मिलता है और फिर तो चूत की मालकिनों को ऐसा चस्का लगता है कि बस पूछो ही मत… उनका बस चले तो सारी रात अपनी चूत को अपने प्रेमी से चुसवाती रहें और जीभ से उसकी चुदाई करवाती रहें!
समय की नजाकत को देखते हुए अब देर करना उचित नहीं था… लेकिन यह क्या… वंदना के हुस्न में मैं ऐसा खोया कि उसे तो पूरी तरह से नंगी कर दिया लेकिन खुद अब भी पूरे कपड़ों में था मैं…
मैं अपने आप पर हंस पड़ा… मैंने अब भी उसकी चूत को नहीं छोड़ा था और अपने जीभ से हौले-हौले उसकी चूत को छेड़ रहा था… मेरी हर हरकत वंदना को और भी पागल बना रही थी और वो जल बिन मछली की तरह तड़प रही थी।
मैं अब उससे थोड़ा अलग हुआ और जल्दी से अपने शर्ट के बटन खोलने लगा।
मेरे यूँ अचानक हटने से वंदना की आँखें बरबस ही खुल गईं और उसने अपना एक हाथ अपनी चूत पर रख कर अपने चूत के दाने को सहलाना शुरू किया… हालाँकि मुझे उससे इस बात की उम्मीद नहीं थी, मैं सोच रहा था की वो अब भी शायद थोड़ी झिझक समेटे यूँ ही अपने बदन को हिलाकर अपनी बेचैनी ज़ाहिर करेगी लेकिन शायद इस उत्तेजना को संभालना उसके लिए कठिन था।
-  - 
Reply
04-12-2019, 12:32 PM,
#37
RE: Real Sex Story नौकरी के रंग माँ बेटी के स�...
मैं अब अपनी शर्ट उतर चुका था और मेरे हाथ अपनी पैंट को निकलने में व्यस्त थे… एक तो वो छोटी सी कार… जिसमें आप सीट को पीछे करके लेट तो सकते हो लेकिन अपनी टांगों को अपनी मर्ज़ी के मुताबिक़ फैला नहीं सकते… मुझे अपनी पैंट उतरने में खासी मेहनत करनी पड़ी…
लेकिन चुदाई के जोश के आगे कुछ भी मुश्किल नहीं होता.. जैसे तैसे मैंने अपने आप को कपड़ों से मुक्त किया और वापस वंदना की तरफ मुड़ा… मेरे मुड़ते ही वंदना अचानक से उठ बैठी और मुझसे लिपट कर मेरे नंगे सीने पे चारों तरफ चूमने लगी… मैंने भी उसे फिर से अपनी बाहों में जकड़ लिया और हम दोनों के बदन बिल्कुल चिपक से गए… हवा भी नहीं गुजर पाती हमारे बीच से!
इस चिपकने का फायदा यह हुआ कि मेरे ‘नवाब साब’ (जी हाँ मैं उन्हें ‘नवाब साब’ ही कहता हूँ) वंदना के पेट से टकरा गए… उनका तो यह हाल था कि लोहार की भट्ठी में तपे हुए लोहे की मोटी छड़ के समान धधक रहे थे..
जैसे ही मेरे लंड ने उसके पेट पे दस्तक दी वैसे ही वंदना ने अपनी आँखें मेरी आँखों में डाल दिन और आश्चर्य से मेरी तरफ देखने लगी।
मैंने मुस्कुराकर आँखों ही आँखों में उसे बता दिया कि वो कौन है जो उनसे मिलने को बेताब हुआ जा रहा था..
मेरी आँखों की भाषा समझते ही उसने शर्म से अपनी आँखें झुका लीं और और मेरे सीने में अपना सर छुपा कर अपनी उँगलियों से मेरी पीठ को सहलाना शुरू किया।
मैंने अब उसकी आखिरी झिझक को दूर करना ही उचित समझा और उसका एक हाथ पकड़ कर उसे सीधे अपने ‘नवाब साब’ पर रख दिया।
मेरे लिए किसी लड़की या स्त्री का मेरे लंड को छूना कोई पहली बार नहीं था लेकिन फिर भी लंड तो लंड ही होता है… जब भी कोई नया हाथ उसे दुलार करे तो वो ठुनक कर उसका स्वागत जरूर करता है… मेरे लंड ने भी वंदना के हाथ पड़ते ही ठुनक कर उसका स्वागत किया..
लेकिन इस ठनक ने वंदना को थोड़ा सा चौंका दिया और उसने लंड के ऊपर से हाथ हटा लिया लेकिन उसके हाथ अब भी लंड के आस पास ही थे…
‘क्या हुआ… कमरे में तो बहुत तड़प रही थीं आप इन्हें पकड़ने के लिए… अब जब ये खुद आपसे मिलना चाहते हैं तो आप शर्मा रही हैं…!?!’ मैंने धीरे से उसके कानो के पास अपने होठ ले जा कर फुसफुसा कर कहा।
‘धत… बदमाश कहीं के…’ वहाँ अँधेरा था लेकिन मैं इतना जरूर कह सकता हूँ कि यह कहते हुए उसके चेहरे पे लाली जरूर छा गई होगी।
‘मुझे डर लग रहा है… .कुछ होगा तो नहीं??’ वंदना ने दबे हुए गले से कांपते होठों से कहा।

जवाब में मैंने बस उसके होठों पर एक चुम्बन लिया और धीरे से उसके हाथ को एक बार फिर से अपने लंड पे रखते हुए कहा- मुझ पर भरोसा है… अगर हाँ तो डरो मत.. मैं आपको कुछ नहीं होने दूँगा।
मेरी बातों ने वंदना पे जादू सा काम किया और अब उसके हाथों ने थोड़ी हरकत करनी शुरू की… अब मेरे ‘नवाब साब’ पूरी मस्ती में आ गये और जोर-जोर से ठुनकने लगे… पता नहीं कैसे लेकिन हर लड़की और स्त्री को इतना आभास हो जाता है कि लंड महाराज को किस तरह हिलाया जाए या सहलाया जाए… या फिर हो सकता है ये किसी से सीखा भी जाता हो।
खैर जो भी हो… वंदना ने अब मेरे लंड को अपनी मुट्ठी में पकड़ कर हौले-हौले ऊपर नीचे करना शुरू किया। उसकी रफ़्तार बहुत धीमी थी… वरना जितनी देर से मैंने अपने लंड को सम्भाल रखा था, अगर थोड़ी देर और ऐसा ही चलता तो मेरी पिचकारी जरूर चल जाती..
एक बार फिर वंदना और मेरे होंठ एक साथ मिल गए और हमारी जीभ एक दूसरे के साथ अठखेलियाँ करने लगी… और मेरे हाथ उसकी चूचियों का मर्दन करने में व्यस्त हो गए… 
लंड की हालत बहुत खराब हो रही थी और उसे हर हालत में अब कोई न कोई छेद चाहिए था… कौन सा छेद, यह हालात पर निर्भर करता है। अगर हम इस वक़्त किसी कमरे में होते तो मैं अपनी पसंद के अनुसार पहले तो मुँह के छेद को इस्तेमाल करता और फिर बाद में उन दोनों छेदों का इस्तेमाल करता जो अनमोल हैं लेकिन इस छोटी सी कार में अपनी हर इच्छा की पूर्ति संभव नज़र नहीं आ रही थी मुझे…
इसी दरम्यान मेरा ध्यान सहसा अपने लंड की तरफ खिंच गया क्यंकि मुझे मेरे लंड से किसी शानदार गद्देदार चीज के टकराने और उससे रगड़ खाने का एहसास हुआ। यूँ तो वंदना की चूचियाँ मेरे हाथों से ही मसली जा रही थीं लेकिन उन चूचियों के बीच की घाटी में वंदना ने मेरे लंड को रगड़ना चालू कर दिया था। यह इस बात का प्रमाण था कि अब वो भी इस खेल के अंतिम पड़ाव पर पहुँचना चाहती थी।
सहसा उसने लंड को अपने सीने पे रगड़ते-रगड़ते अपनी गर्दन झुकाई और मेरे लंड के माथे पे अपने होठों से एक हल्का सा चुम्बन लिया… और बड़ी तेज़ी से अपने होंठ हटा लिए।
अँधेरे का फायदा हो रहा था… आम तौर पे कोई भी नई लड़की पहली बार इतना नहीं खुलती कि खुद से लंड को चूमे या उसे अपने मुँह में ले, और सामान्य हालातों में तो बिल्कुल भी नहीं जहाँ थोड़ से भी उजाले की गुंजाइश हो। लेकिन यहाँ तो घना अँधेरा पसरा हुआ था… बस बीच-बीच में चमकती बिजलियाँ हम दोनों को एक दूसरे के नंगे बदन को देखने और महसूस करने में मदद कर रही थी।
वंदना का मेरे लंड पर चूमना मुझे बहुत खुश कर गया और मैंने उसकी चूचियों को जोर से अपनी हथेलियों में दबाकर और उसके माथे पे अपने होठों से एक चुम्बन देकर अपनी ख़ुशी का इज़हार किया।
मुझे पूरा यकीन था कि अगर मैं थोड़ी सी कोशिश करता तो आराम से वंदना के खूबसूरत रसीले होठों से होते हुए अपने लंड को उसके मुँह में अन्दर तक डाल कर उसका मुख मैथुन कर सकता था… और मेरा लंड भी मुझे बार-बार ऐसा करने के लिए प्रेरित कर रहा था।
पर मुझे इस बात का ख़याल था कि हमें अब ज्यादा देरी किये बिना जल्दी से जल्दी अपनी चुदाई कर लेनी होगी और घर पहुँचना होगा वरना थोड़ी मुश्किल हो सकती थी। और अब मुझे इस बात की तसल्ली थी कि आज के बाद वंदना को जब चाहूँ तब बड़े आराम से चोद सकूँगा तो फिर इतना बेसब्र होने की कोई जरूरत नहीं थी। 
-  - 
Reply
04-12-2019, 12:32 PM,
#38
RE: Real Sex Story नौकरी के रंग माँ बेटी के स�...
इस बार मेरे लंड चुसवाने की जो इच्छा अधूरी रह गई है उसे मैं बड़े ही शानदार तरीके से पूरी करूँगा और वो पल यादगार साबित होगा… वंदना रानी को अपने लंड का ऐसा रस पिलाऊँगा कि वो तृप्त ही हो जाएगी।
फिलहाल तो उसकी रस से लबालब भरी और उत्तेजना में फड़फड़ाती हुई चूत की आग को शांत करना जरूरी था।
अब मैदान छोड़ नहीं सकते.. और कौन कमबख्त इतनी हसीन लड़की को यों काम वासना से तड़पते हुए छोड़ कर जा सकता था।
सारी बातों का ध्यान रखते हुए मैंने वंदना को अब धीरे-धीरे से सीट पे लिटाना शुरू किया और उसे यहाँ-वहाँ चूमते हुए लिटा दिया। वंदना उन्माद से भर कर अपनी चूचियों को हौले-हौले सहलाने लगी और सिसकारियाँ निकलने लगी..
मैंने अब झट से उसके पैरों में फंसी हुई उसकी सलवार और उसकी पैंटी को निकाल फेंका और उसके पैरों को फैलाकर किसी तरह उनके बीच घुसने की कोशिश करने लगा।
आप सब जिन्होंने कभी किसी छोटी कार में इस खेल का मज़ा लिया है उन्हें पता होगा इस कशमकश के बारे में…
खैर जैसे-तैसे मैं उस जगह पर पहुँचने में कामयाब रहा और अब मैं लगभग वंदना के ऊपर आ गया। मैंने अपने हाथों से उसके हाथों को हटाया जो उसकी चूचियों को सहला रहे था… उसके दोनों हाथों को अपने हाथों से थाम लिया मैंने और क्यूँ ये शायद मुझे बताने की जरूरत नहीं… इतने समझदार तो आप हैं।
उसके होठों को एक बार चूम कर मैंने धीरे से फुसफुसाकर बिल्कुल उन्माद भरे स्वर में उससे कुछ कहा- अब इन्हें मेरे हवाले कर दो ‘वंदु’…
पता नहीं मेरे मुँह से ये शब्द कैसे निकल पड़े… 
‘आःहह्ह… ये आपके लिए ही हैं समीर… अब उनपर मेरा कोई अधिकार नहीं!’ लड़खड़ाती आवाज़ में वंदना ने मेरी बात का जवाब दिया और अपनी गर्दन पीछे की तरफ धकेलते हुए अपने सीने को उभार दिया।
उसके इस अंदाज़ पे मैं फ़िदा हो गया और झट से अपने होठों में उसकी एक चूची को भर लिया और उसके निप्पल को चूसने लगा.. वंदना अपने मुँह से मादक सिसकारियाँ लेती हुई अपनी चूचियों को मेरे मुँह में ठेलने लगी।
मैंने भी उसकी इच्छा का पूरा सम्मान किया और जितना हो सके उसकी चूचियों को अपने मुँह में भर लिया और मज़े से चूसने लगा।
अब मैंने अपने एक हाथ को आज़ाद कराया और नीचे ले जा कर अपने लंड को पकड़ कर वंदना की चूत पर हल्के से रखा।
‘उह्ह हह्हह्ह… स्स्स्समीर, मुझे डर लग रहा है…’ वंदना ने अचानक से अपनी चूत पर मेरे गरम लंड के सुपारे को महसूस करती ही अपने हाथ से मेरे बालों को पकड़ लिया और कांपते हुए शब्दों में अपनी घबराहट का इज़हार किया। 
यह स्वाभाविक था और मैंने भी वही किया जो इस समय एक कुशल खिलाड़ी को करना चाहिए। झुक कर उसके होठों को अपने होठों में भरा और अपने लंड को उसकी रसीले चूत पे रगड़ने लगा मैं। इस तरह से सुपारे को उसकी चूत के दरवाज़े पे ऊपर से नीचे तक रगड़ते हुए मैंने उसके बदन में और भी सिहरन भर दी…
उसके होठों को प्रेम से चूस रहा था मैं कि उसने अपने होठों को छुड़ाया और एक लम्बी सांस ली- अआह्हह… स्स्स्समीर… कक्क कुछ कीजिये… मम्म मैं..मर जाऊँगी वरना… प्लीईईईईज…
अपने संयम का बाँध संभाल नहीं पा रही थी वंदना!
-  - 
Reply
04-12-2019, 12:32 PM,
#39
RE: Real Sex Story नौकरी के रंग माँ बेटी के स�...
मैंने उसके कान के पास अपना मुँह लेजा कर उसके कान में धीरे से बोला- बस थोड़ा सा सब्र रखना ‘वंदु’… यकीन करो मैं तुम्हें कोई तकलीफ नहीं होने दूँगा… बस अपने बदन को बिल्कुल ढीला रखना!
मैंने इतना कहकर मैंने अब मोर्चा संभाला और अब अच्छी तरह से अपे लंड को चूत के मुँहाने पर सेट किया और एक बार फिर से झुक कर उसके होठों को अपने होठों में क़ैद किया… साथ ही अपने हाथ से उसके उस हाथ को भी पकड़ लिया जिसे मैंने आज़ाद किया था.
ऐसा करना बहुत जरूरी था ताकि वंदना मेरे लंड को अपनी चूत में लेते हुए दर्द की वजह से बिदक न जाए… अगर ऐसा होता तो फिर उसे अपने वश में करना थोड़ा कठिन हो जाता… लड़की चाहे कितनी भी उन्माद से भरी हो लेकिन थोड़ी देर के लिए दर्द तो होता ही है… और अगर पहली बार हो तो फिर तो पूछो ही मत।
मेरा अनुमान तो यही था कि यह वंदना के लिए अपने कौमार्य को भंग करवाने का वक़्त था… यानी वो अभी तक बन्द कलि थी जिसे मुझे प्यार से फूल बनाना था।
और इस फूल को खिलाने में थोड़ी सावधानियाँ तो बरतनी ही पड़ती हैं वरना बेचारी कलि फूल तो बन जाती है लेकिन कुचल भी जाती है।
कम से कम मेरा तो यही मानना है दोस्तो… बाकी हर इंसान को अपना-अपना तरीका ही सही लगता है।
अब आई वो बारी जिसका हर लंड और चूत को इंतज़ार होता है… मैंने अपने लंड को चूत के मुँहाने पर रगड़ते हुए उसके होठों को अपने होठों में लेकर चूसते हुए धीरे से अन्दर ठेला।
चूत इतना रस छोड़ चुकी थी कि मेरे सुपारे का आधा भाग उसकी चूत के मुँह में घुस गया।
वंदना के मुँह से दबी दबी सी आवाज़ निकालनी शुरू हुई… जो मेरे मुँह में आकर ख़त्म हो गईं। मैंने अब लंड को हौले-हौले से अन्दर की तरफ सरकाना शुरू किया।
लगभग एक चौथाई लंड चूत में जा चुका था लेकिन जिस लंड को खाने में वंदना की माँ को भी तकलीफ हुई थी उस लंड को वंदना के लिए झेलना इतना आसान नहीं था। एक चौथाई लंड के घुसते ही वंदना को दर्द की अनुभूति होनी शुरू हो गई और उसके मुँह से गों..गों.. की आवाजें निकलने लगी, उसने अपने बदन को अकड़ाना शुरू किया।

मैं जानता था कि ऐसा ही होगा… आप लड़की को जितना भी समझा दो लेकिन इस वक़्त वो सारी नसीहत भूल कर अपनी आखिरी कोशिश में लग जाती हैं ताकि वो उस दर्द से निजात पा सके… वो तो बाद में पता चलता है उन्हें कि इस दर्द का इलाज़ तो बस लंड ही कर सकता है।
मैंने अपने हाथों से उसके हाथों को पकड़ कर कुछ यूँ इशारा किया मानो मैं उसे सामान्य रहने के लिए कह रहा हूँ… मैंने उसके होठों को लगातार चूसते हुए उसका ध्यान बंटाने की कोशिश की और जैसे ही वो थोड़ी सी सामान्य हुई मैंने एक तेज़ धक्का दिया और लंड उस चूत की सारी दीवारें तोड़ते हुए सीधा उसकी बच्चेदानी से टकरा गया।
‘आआआईईईई… ..आआआह्ह्ह्ह्हह… ..ह्म्म्मम्म्म्म… माँऽऽऽऽऽऽऽ..’ वंदना ने एक झटके में अपने मुँह को मेरे मुँह से आज़ाद करवाया और जोर से चीखी।
अगर इस वक़्त हम किसी कमरे में होते तो पूरा मोहल्ला उसकी चीख सुनकर दौड़ पड़ा होता… शुक्र है भगवान् का कि स्थिति और वातावरण मेरे पक्ष में था, बारिश की बूंदों का शोर वंदना की उस चीख को निगल गया।
‘ऊऊह्हह्हह्हह्हह्हह… समीर… प्लीज… निकालिए इसे… मर जाऊँगी मैं !!’ वंदना के मुँह से बस यही आवाज़ बार बार निकल रही थी और वो अपनी गर्दन इधर-उधर करके छटपटा रही थी.. उसके पैर मेरे पैरों से लड़ाई कर रहे थे जिन्हें मैंने दबा रखा था… वो जी तोड़ कोशिश कर रही थी कि किसी तरह आज़ाद हो जाए और अपनी चूत से वो लंड निकाल फेंके। 
मेरे लंड को चूत के अन्दर से कोई गरम तरल पदार्थ अपने सुपारे पे गिरता और वहाँ से बाहर रिसता सा महसूस हुआ।
मेरी आँखें बड़ी हो गईं और चेहरे पर एक विजयी मुस्कान उभर गई।
जी हाँ… मुझे समझते देर न लगी कि वो कुछ और नहीं बल्कि उसके कौमार्य भेदन की वजह से निकलने वाला रक्त था… यानि मेरा अनुमान बिल्कुल सही निकला, वो अभी तक कुंवारी थी और उसे कलि से फूल बनाने का सौभाग्य मुझे मिला था!!
वंदना अब भी दर्द से तड़प रही थी, मैंने स्थिति को सँभालते हुए झट से अपने होठों से उसकी चूची को थामा और उन्हें अपनी जीभ से चुभलाने लगा। इस हरकत ने वंदना को ध्यान बंटाया और उसके मुँह से आ रही आवाज़ थोड़ी धीमी हुई।
-  - 
Reply

04-12-2019, 12:32 PM,
#40
RE: Real Sex Story नौकरी के रंग माँ बेटी के स�...
मैं वैसे ही लगातार उसकी चूचियों को चूसता रहा और अपने लंड को चूत की गहराइयों में दबाये रखा। मैंने अपने एक हाथ को वंदना के हाथों से छुड़वा कर उसकी दूसरी चूची पे रख दिया और एक को चूसने तथा दूसरे को मसलने लगा।
वंदना का जो हाथ मैंने छोड़ा था उस हाथ से उसने मेरे सर के बालों को सहलाना शुरू किया और सहसा ही नीचे से उसकी कमर भी हौले-हौले हिलने लगी।
यह प्रमाण था इस बात का कि अब वो झटके खाने को तैयार थी। मैंने इस इशारे को समझते हुए अपनी कमर को हौले-हौले हिलाना शुरू किया और लंड को अन्दर रख कर ही रगड़ना चालू किया।
उसकी चूत ने थोड़ा सा रस छोड़ा और अन्दर चिकनाई बढ़ गई, अब धीरे-धीरे धक्के लगाने का वक़्त आ गया था, मैंने अपनी कमर को थोड़ा ऊपर उठाया और अपने लंड को आधा बाहर खींच कर एक ज़ोरदार सा धक्का दिया।
‘आआह्ह्ह्ह… उईईईईइ माँ…’ एक और सिसकारी निकली उसके मुँह से!
मैंने यह धक्का इसलिए दिया था ताकि उसकी चूत की झिल्ली फटने का बाकी बचा दर्द भी वो झेल सके और अब मेरी बारी थी कि मैं इस दर्द को सँभालते हुए उसे ज़न्नत की सैर करवाऊँ।
मैंने उस धक्के के साथ ही अपने लंड के आगे-पीछे होने की गति बढ़ाई और लगभग अपने आधे लंड को बाहर निकलने और फिर उतना ही अन्दर डाल कर चुदाई चालू की।
मंद-मंद गति से चोदते हुए मैंने वंदना को अपने बाहुपाश में भर लिया और उसके होठों को चूसते हुए उसे चुदाई का परम सुख देने लगा।
जगह पर्याप्त नहीं थी… वहाँ कुछ ज्यादा करने की गुंजाइश नहीं थी। मैंने अपनी गति बढ़ाई और अब अपने बदन को थोड़ा सा ऊपर उठा आकर तेज़ी से झटके लगाने शुरू किया।
‘आःहह्ह… स्स्स्समीर.. मुझे ऐसे ही प्यार करो… .बस ऐसे ही… उफ्फ्फ… हम्म्म्म… आह!’ उन्माद से भरे वंदना के बोल मेरा हौसला बढ़ा रहे थे…
‘ओओह… वंदु… मेरी प्यारी वंदु… ह्म्म्म…’ बस ऐसे ही प्यार और मनुहार के छोटे छोटे शब्दों और हम दोनों की सिसकारियों ने एक बड़ा ही मदहोश समां बना दिया था उस वक़्त…
मैंने अपनी स्थिति और वंदना की स्थिति को बदलने के बारे में सोचा… मुश्किल लग रहा था… लेकिन जहाँ चाह वहाँ राह!
मैंने अपना लंड उसकी चूत से बाहर खींचा…
‘फक्क…’ एक मस्त धीमे सी आवाज़ के साथ मेरे नवाब साब बाहर आये… 
बाहर आकर मेरा लंड ऐसे ठनकने लगा मानो मुझपे अपना गुस्सा निकाल रहा हो… और ये तो सही भी था, मैंने उसे एक रसदार गरम और तंग भट्टी से निकाल दिया था जहाँ वो मज़े से मौज कर रहा था।
खैर मैंने अब धीरे से अपने हाथों को संतुलित करते हुए वंदना की टांगों में नीचे से फंसाया और ऊपर उठा दिया। वंदना का बदन इतना लचीला था और वो छरहरी भी थी इसलिए उसके पैरों को उठाते ही उसका शरीर कमर से मुड़ कर एकाकार हो गए। मैंने आहिस्ते से उसके पैरों को अपने कंधे पे रखा और एक बार फिर से अपने नवाब को उसकी मुनिया के मुँह पर रख कर ज़ोरदार धक्का दिया।
‘आआआईईईईईई… मर गई… समीर… थोड़ा धीरे…’ यूँ अचानक लंड जाने से वंदना एक पल को कराह उठी।
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Incest Kahani उस प्यार की तलाश में 84 163,498 12 minutes ago
Last Post:
  स्कूल में मस्ती-२ सेक्स कहानियाँ 1 8,530 Yesterday, 02:37 PM
Last Post:
Star Rishton May chudai परिवार में चुदाई की गाथा 18 41,111 Yesterday, 02:19 PM
Last Post:
Star Chodan Kahani रिक्शेवाले सब कमीने 15 62,993 Yesterday, 02:16 PM
Last Post:
  पड़ोस वाले अंकल ने मेरे सामने मेरी कुवारी 3 37,069 Yesterday, 02:14 PM
Last Post:
  पारिवारिक चुदाई की कहानी 20 174,568 Yesterday, 02:06 PM
Last Post:
Lightbulb Hindi Chudai Kahani मेरी चालू बीवी 204 15,422 08-08-2020, 02:00 PM
Last Post:
Thumbs Up Hindi Porn Story द मैजिक मिरर 89 163,453 08-08-2020, 07:12 AM
Last Post:
Star Hindi Porn Stories हाय रे ज़ालिम 931 2,468,439 08-07-2020, 12:49 PM
Last Post:
Star Maa Sex Kahani माँ का मायका 33 130,183 08-05-2020, 12:06 AM
Last Post:



Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.


दोसत की बीबी को उसके घरपर अकेलेमे चोदकर पिचर वीडीयो बनायाWww.xxx.hindi.sexi.kahaniya.dostke.maka.petikot.uthayasix bhan ko chodbata dakh bursexmuhme landhIndian auntys big bombsxuxx ek rat bhabi ke panty me hatdala sexstroymujhe apni chut me maal dalvana pasand hai sex story Jabarjast chudai randini vidiyo freepurash kis umar me sex ke liye tarapte haixxxxvediohindeeMaa ne bete se bathroom me chutcata hindi kahaniमाँ की मलाईदार चूतchoonchi chabhane wala sex videos hdमुह मे मूत पेशाब पी sex story ,sexbaba.netMeri biwi chudai dost behen maa se sab ne liya chudwaya talwar baburaoantravasna bete ko fudh or moot pilayaलन्ड का सूपड़ा चूत की झिल्ली को फाड़ता घुस गया69 sexy kath in marathi aaa aa aaaa a aaaa aaaaa aaaa aa ooogayab houkar ki chudai xxx sexXXX बड़े मटकते चुतड़ पर चढने की कहानीबियप ऊरमिला हिरोईनssssssssssssssssssssssssssssss बिलूपिचरआटी पेशाब चुद दीखाती मारीDesi.ladke.ka.sundre.esmart.dehati.photo.dekhansonarika bhadoria sexbaba photosकुवारि बाळ होते समय का फोटोahhh ahhh umhhh ma sex storybhosrasexबाबा मला झवलाचूदाई के वाद गाँड़ का छेद कितना खुला रह जाता हैलडकी क्यो चोदेते करण क्या हैkondam phanka sexxxi bhavisushar.bahoo,sex.kahun.comसविता भाभी एपिसोड ८२swara bhaskar nude aznudeSasur kamina on sexbabaPeriod yani roju ki sex cheyallimaa ke bed ke neeche nirodhअसल चाळे चाचीKotha Pakki randi wali sexy jungle badlav ki chudai wala thiअनुषका काXxxपोती की चुत में जबरदस्ती लन्ड घुसाया सील तोड़ी सेक्सी कहानीबुआ ने भैस हरी करवाई अन्तर्वासना कहानीDesi52sex.kandsex Indian मां ने बेटी को सिकाई चोदाईआई झवायाbina peloay boor ke porn pics xxx4 vela zavle tar pregnant rahte kaसवीता भाभी गंधी बात मराठी काणीGaon me papa ne skirt pehnayaDesiplay. Net xxxvedioactresses bollywood GIF baba Xossip Nudebahin or bhai ka porn video schoolwalagagrha uthakar karwati lugaai sex videoBabhi ne apne dever se apni gad mervaliAnjeli mehata nude fakeshplease wale ki sazaxxxmaa bani rakil newsexstory.comसहेर की सच्ची सेक्सी कहानीRaveena tandon nude new in 2018 beautiful big boobs sexbaba photos chachi ka gadaraya badan ne hosh udaya sex story shriya saran ki chudai photos saphkarba chotu Dasi xxxwwजवजवी कशा करतातहाथी ghonha xxxxxx वीडियो कॉमyaar tera pati chut nangi chod uii ahhChampa ke samne chameli ki Chudai अवनीत कौर के पोफाइल सेकसी नगीत्याग मॉ और बेटा राज शर्मा सेक्सस्टोरीkamukta.com kacchi todJaadui Chashma desi52.comबड़े नितंब कहानियाSerial actress fakes xossipysexbaba fake TV actress picturesनंदिता दास के हिन्दी मे xxxविडीओsexstorydikshaअपनी चाची की चूचि को हाथ लगाते शरम नहीं आती तुम्हेंSex Baba net stroy Aung dikha keBahpan.xxx.gral.naitमाँ का दुलारा सेक्स कहानीAnokhi ghatna bhai behen ki sexbaba.netmalis karake garam huaa bhabhi ne diya thokne ka maoka hi.kahaniचूद और फिगर दीखाने वाली xxxgopi bahu xxxJamuna Mein jaake Bhains ki chudai video sex videoसकसी फोटूsonakshi sinha anterwasna cudai khaniहोनेवाला ससुर ने चोदा स्टोरी uncle ne meri bibi ki burfad daliKamuk bhu ki gaali kahaniHindi desi Saman nikal Jata man Panixxx. HD