bahan ki chudai भाई बहन की करतूतें
01-23-2019, 01:21 PM,
#21
RE: bahan ki chudai भाई बहन की करतूतें
मैंने हामी में सिर हिलाते हुए प्रीती को अपने आलिँगन में ले लिया, और दोनों ने एक दूसरे को अपनी बाँहों में भर लिया, और जिस तरह हमने कुछ देर पहले, चाट कर एक दूसरे की चूत लण्ड का पानी निकाला था, उस बारे में धीमे धीमे बात करने लगे। 


वैसे ही कमर से नीचे नंगे होकर, एक दूसरे को बाँहों में भरकर आलिंगनबद्ध होकर जब हम लेटे हुए थे, तो कुछ देर बाद हम दोनों फिर से उत्तेजित होने लगे, और प्रीती ने मेरे ऊपर झकते हुए मेरे मुँह पर प्यार से अपने होंठो से एक मीठा किस कर लिया, जिससे मैं और ज्यादा उत्तेजित हो गया। मेरा सीधा हाथ जो कि उसकी कमर के पीछे था, उसको नीचे ले जाकर मैं उसकी गाँड़ की दरार में घुसाते हुए, उसकी चूत तक ले गया, जो फिर से पनियाने लगी थी। मैंने जब उसकी चूत के झाँटरहित बाहरी होंठों को सहलाते हुए, चूत से निकल रहे रस से उनको गीला करना शुरू किया, तो प्रीती मेरी तरफ देखकर मुस्कुराने लगी। 

प्रीती अपना बाँया हाथ नीचे ले जाकर मेरे औजार को छूने लगी, जो फिर से खड़ा होने लगा था, वो और ज्यादा मुस्कुराते हुए बोली, “लो ये तो फिर से खड़ा हो गया, इसका तो कुछ करना ही पड़ेगा।” मैंने उसके चेहरे को पढने की कोशिश कि, उस पर आ रहे भाव हर पल बदल रहे थे, वो एक पल को कुछ सोचने लगी। प्रीती ने अपना थूक निगलते हुए कहा, “चलो एक बार फिर से उस रात की तरह फिर से प्यार करते हैं।” 

अब मेरी थूक निगलने की बारी थी। “मैं सोच रहा था कि तुम ने ही तो कहा था कि हम फिर उस हद तक कभी नहीं जायेंगे,” मैंने ये बोल तो दिया, लेकिन मन ही मन सोच रहा था कि कहीं वो अपना मन ना बदल ले। 

“हाँ, वो तो है,” प्रीती अपने निचले होंठ को काटते हुए, कुछ सोचते हुए बोली, “लेकिन अभी मेरे पीरियड होने में एक दो दिन बाकि हैं, तो फिर इस सेफ टाईम का हम फायदा उठा ही लेते हैं।”

“बात बनाना तो कोई तुम से सीखे,” मैने मुस्कुराते हुए उसकी चिकनी चूत को निहारते हुए कहा। मैं बरबस बेकाबू होने लगा था। तभी मुझे वो बात याद आ गयी कि जब मैंने पहली बार उसकी शेव की हुई चिकनी चूत देखी थी, तो किस तरह मेरा मन उस पर अपने लण्ड का सुपाड़ा घिसने का करने लगा था। पता नहीं क्यों मेरा वैसा ही करने का मन करने लगा।

मैंने ऊपर आते हुए प्रीती के कँधों पर अपने हाथ रख दिये, और उसको प्यार से पलट कर सीधा कर दिया, और फिर उसके होंठो पर अपने होंठों को दबाते हुए एक पल को उसको जोरों से चूम लिया, और फिर से मैं उसकी दोनों टाँगों के बीच आ गया। उसकी झाँटरहित हाल ही में शेव की हुई चिकनी चूत थोड़ा सा खुली हुई थी, चूत का मुँह फूला हुआ था, उसमें से रस टपक रहा था, मैंने नीचे झुकते हुए उसके चिकने चूत के उभार को चूम लिया। सीधा बैठते हुए, मैंने प्यार से एक ऊँगली उसकी चूत में आधी घुसा दी, और फिर बाहर निकाल कर उस पर लगे चूत के रस को चाट लिया, ऐसा करते हुए मैंने प्रीती की तरफ देखा। वो मेरे फनफना कर ख़ड़े हुए लण्ड को एकटक देख रही थी, और फिर उसने मेरे चेहरे की तरफ देखते हुए एक गहरी लम्बी साँस ली। 

एक बार फिर से नीचे आते हुए, मैं प्रीती के ऊपर आ गया, और एक बार फिर से अपना वजन अपनी कोन्हीयों पर ले लिया, और फिर प्यार से अपने व्याकुल कड़क लण्ड के सुपाड़े को उसकी चूत के मुहाने पर रख दिया।प्रीती की पनियाती हुई चूत बहुत ज्यादा चिकनी हो रही थी, मैं उसकी चूत के मुहाने को अपने लण्ड के सुपाड़े के अग्रभाग से घिसने लगा, वो भी थोड़ा थोड़ा अपनी गाँड़ को ऊँचकाने लगी, इस तरह हम दोनों एक दूसरे को चुदाई के लिये तैयार करने लगे। इस तरह एक दूसरे को परेशान करते हुए मुझे बहुत ज्यादा मजा आ रहा था, हमारे यौनांग चूत और लण्ड एक दूसरे को चिढा रहे थे, और बीच बीच में प्रीती खिलखिला उठती, मैं किसी तरह उसकी चूत में हुमच कर अपना लण्ड पेल कर चोदने की हर पल बलवती हो रही तीव्र इच्छा पर काबू कर रहा था। 

मैं चाहता तो उसी वक्त प्रीती की चूत में अपने वीर्य के बीज की बौछार कर उसमें बाढ ला देता, और उसकी चिकनी झाँटरहित चूत में से वीर्य टपक कर बाहर निकलने लगता, लेकिन मुझे मालूम था कि ऐसा करने से प्रीती को मजा नहीं आता, इस वजह से मैंने उस छेड़छाड़ के खेल को जारी रखा। थोड़ी थोड़ी देर बाद, मैं अपने लण्ड को थोड़ा और अंदर घुसा देता, प्रीती अपनी चूत पीछे कर लेती, और अपना सिर झटकते हुए कहती, “ओह विशाल, अभी नहीं,” और कभी जब वो अपनी मुलायम, भीगी, पनियाती चूत में मेरे लण्ड को थोड़ा और अंदर घुसाने की कोशिश करती, तो मैं अपने आप को पीछे कर लेता, और कहता, “मेरे लण्ड को थोड़ी दोस्ती तो कर लेने दो अपनी चूत से।” प्रीती के साथ एक दूसरे को तरसाने वाला वो सैक्सी खेल खेलने में बहुत मजा आ रहा था, चूत और लण्ड एक दूसरे को सहलाते हुए चिढाकर, एक दूसरे को चैलेंज कर रहे थे, और प्रीती की चूत के मुखाने पर मेरे लण्ड के छूने का एक अनूठा मस्त एहसास था। प्रीती की चूत इस कदर पनिया गयी थी, कि अब उससे रस टपकने लगा था। 

कुछ देर बाद, हम दोनों पर ठरक इस कदर हावी हो गयी, कि फिर मेरे लण्ड और प्रीती की चूत का मिलन अत्यावश्क हो गया, और जिस चुदाई के लिये हम दोनों के बदन बेसब्र हो रहे थे , विवश होकर दोनों के शरीर का संभोग लाचारी बन चुका था। मैं प्रीती के ऊपर मिशनरी पोजीशन में छाया हुआ था, और मेरे लण्ड के सुपाड़े का थोड़ा सा आगे का हिस्सा उसकी चूत में घुसा हुआ था, मेरे बदन का रोम रोम मुझे धक्का मारकर अपनी बहन को चोदने पर विवश कर रहा था, और वो कह रही थी, “विशाल, पता है, मेरा क्या मन कर रहा है?”

“हाँ, कुछ कुछ समझ आ रहा है,” मैंने अपने लण्ड को चूत के अंदर घुसाते हुए कहा। ये सिर्फ दूसरा मौका था, जब मेरा लण्ड उसकी चूत के अंदर घुस रहा था, इसलिये मैं थोड़ा आराम आराम से कर रहा था। ये जानने के लिये कि प्रीती क्या कहना चाह रही थी, मैं एक पल को रुक गया। 

“चलो, डॉगी स्टाईल में करते हैं,” प्रीती ने मुस्कुराते हुए कहा, “जैसे मम्मी और चंदर मामा कर रहे थे वैसे, कितना मजा आ रहा था ना, उनको उस तरह करते हुए देखने में।”

मैं तो उसको उस तरह चोदने को बेसब्र था, लेकिन मैंने कहा, “मैंने सुना है कि उस स्टाईल में बहुत अंदर तक घुस जाता है, तुम तैयार हो, तुमको कोई तकलीफ तो नहीं होगी ना?”

“हाँ,” प्रीती ने जवाब दिया, “अगर ज्यादा दर्द हुआ तो मैं तुमको बता दूँगी।” प्रीती मुस्कुरा कर मेरे प्रत्युत्तर की प्रतीक्षा करने लगी।

“ओके, तो फिर ठीक है,” मैंने कहा, “ट्राई कर के देखते हैं।”

मैंने अपना लण्ड प्रीती की चूत में से बाहर निकाला, और वो बैड के सिरहाने की तरफ मुँह कर के, अपने घुटनों के बल हो गयी। उसके पीछे मैं अपने घुटनों के बल आ गया, और उसकी सुंदर, गोल गाँड़ के साथ खुली हुई चूत, जिसके दोनों फूले हुए होंठ, जो रस में भीगकर चमक रहे थे, और मुझे आमंत्रित करते हुए प्रतीत हो रहे थे, ये सब देख मानो मेरी तो सांसें ही रुक गयीं। मैंने धीमे से आगे बढकर प्रीती की चूत को, ठीक चूत के अंदरूनी होंठो के बींचोबीच चूम लिया, उसकी चूत की मस्त मादक सुगंध को सूंघने लगा, और थोड़ा सा उसकी चूत का रस अपनी जीभ पर ले लिया। और इससे पहले कि हम दोनों दूसरी बार फिर से चुदाई शुरू करते, कुछ देर वहीं, मैं अपने घुटनों के बल रहते हुए, अपनी बहन की मस्त चूत का दीदार करने लगा। 

मैंने प्रीती के पीछे पोजीशन बनाकर उसकी चूत में अपना लण्ड घुसा दिया। प्यार से धीरे धीरे कम से कम छः या सात झटकों के बाद मेरा लन्ड पूरी तरह अंदर घुस पाया, शायद इसकी वजह ये थी कि बस ये दूसरी बार था जब उसकी चूत में लण्ड घुसाकर चुदाई हो रही थी, और एक बार जब मेरा लण्ड पुरा उसकी चूत में घुस गया तो मैंने प्यार से धीरे धीरे लम्बे लम्बे, जोर जोर से नहीं बल्कि आराम आरामे से ताल मिलाते हुए, झटके मारने शुरू कर दिये। मैंने प्रीती को गहरी लम्बी साँस लेते हुए और सिसकते हुए सुना, तो मैंने पूछा, “दर्द तो नहीं हो रहा प्रीती?”

“नहीं, ज्यादा नहीं, बहुत मजा आ रहा है,” प्रीती ने कहा, “सच में बहुत मजा आ रहा है, विशाल।”

“अगर दर्द हो तो बता देना,” मैंने कहा, और मैंने लयबद्ध, आराम से, अपनी बहन की चूत के अंदरूनी हर हिस्से को अपने लण्ड से मेहसूस करते हुए, चोदना जारी रखा। मैं कोशिश कर रहा था कि प्रीती की चूत का कोई हिस्सा अछूता ना रह जाये, ताकि उसको चुदाई का परम सुख मिल सके। हाँलांकि मैं लण्ड को ज्यादा अंदर घुसाने के लिये धक्के नहीं मार रहा था, लेकिन फिर भी मेरा मूसल जैसा लण्ड, मेरी बहन की छोटी सी, कमसिन चूत में गहराई तक जा रहा था, शायद इसकी वजह ये थी कि हर झटके के साथ जब मेरा लण्ड उसकी चूत से बाहर निकलता तो उसकी चूत के रस में पहले से ज्यादा भीगा हुआ होता, और उसकी उसकी चूत में अपना लण्ड घुसाने से पहले किस कदर उसकी चूत पनिया रही थी, वो तो मैं देख ही चुका था।
-  - 
Reply
01-23-2019, 01:22 PM,
#22
RE: bahan ki chudai भाई बहन की करतूतें
“अगर दर्द हो तो बता देना,” मैंने कहा, और मैंने लयबद्ध, आराम से, अपनी बहन की चूत के अंदरूनी हर हिस्से को अपने लण्ड से मेहसूस करते हुए, चोदना जारी रखा। मैं कोशिश कर रहा था कि प्रीती की चूत का कोई हिस्सा अछूता ना रह जाये, ताकि उसको चुदाई का परम सुख मिल सके। हाँलांकि मैं लण्ड को ज्यादा अंदर घुसाने के लिये धक्के नहीं मार रहा था, लेकिन फिर भी मेरा मूसल जैसा लण्ड, मेरी बहन की छोटी सी, कमसिन चूत में गहराई तक जा रहा था, शायद इसकी वजह ये थी कि हर झटके के साथ जब मेरा लण्ड उसकी चूत से बाहर निकलता तो उसकी चूत के रस में पहले से ज्यादा भीगा हुआ होता, और उसकी उसकी चूत में अपना लण्ड घुसाने से पहले किस कदर उसकी चूत पनिया रही थी, वो तो मैं देख ही चुका था। 

मैं प्रीती को छेड़ते हुए, थोड़ा परेशान करते हुए, मजे ले लेकर चोदने लगा, पहले कुछ झटकों तक मैंने उसकी चूत में अपने लण्ड का सिर्फ सुपाड़ा ही घुसाया था, और फिर प्रीती स्वतः ही अपनी चूत को आगे बढाते हुए मेरे लण्ड को और ज्यादा अपनी चूत में घुसाने की कोशिश करने लगी, और फिर एक गहरी साँस लेते हुए बोली, “ढंग से करो ना, विशाल।” वो अपनी गाँड़ और कमर को हिलाकर एडजस्ट करते हुए बोली, “अब ज्यादा शरीफ बनने की कोशिश मत करो, प्लीज ढंग से चोदो विशाल, थोड़ा जोर जोर से। हाँ, थोड़ा जोर से विशाल।”

सामान्यतः प्रीती गंदे शब्दों का इस्तेमाल कम ही करती थी, और उसका इस तरह बोलना मुझे और ज्यादा उत्तेजित कर रहा था, और थोड़ी सी पोजीशन चेन्ज करने के बाद अब मेरे लण्ड का संवेदनशील हिस्सा उसकी चूत के अंदर तक जोर से घिस रहा था। मैंने चुदाई की स्पीड थोड़ा तेज की, और कुछ देर प्रीती को उसी स्पीड में चोदता रहा, और मुझे वो मंजर याद आ गया, जब मैं और प्रीती मम्मी के बैडरूम के डोर की झिर्री में से, चंदर मामा को अपने लण्ड से मम्मी की चूत पर बेरहमी से वार करते हुए देख रहे थे, हाँलांकि मुझे मालूम था कि प्रीती की कमसिन नयी नवेली चूत अभी उस तरह की बेरहम चुदाई के लिये तैयार नहीं थी, फिर भी मैंने चुदाई की स्पीड को थोड़ा और तेज कर दिया। 

चाहे मैं कितने ही जोर का झटका मारता, उसकी कमसिन प्यारी छोटी सी चूत, अपने आप को हर झटके के साथ मेरे लण्ड के अनुसार ढालने का प्रयास करती, और उसकी चूत इतनी ज्यादा पनिया रही थी, कि किसी प्रकार का कोई घर्षण मेहसूस नहीं हो रहा था, एहसास था तो बस मेरे लण्ड के उसकी चूत की अंदरूनी दीवारों पर फिसलने का। मेरी गोलियाँ अण्डकोश में ऊपर चढकर वीर्य का पानी निकालने को बेताब हो रहीं थीं, मेरा भी पानी निकाल कर हल्का होने का मन हो रहा था, लेकिन मैं चाहता था कि प्रीती की चूत का पानी निकालकर पहले उसकी चूत की आग शांत कर दूँ।

“तुम बहुत अच्छा चोदते हो, विशाल,” प्रीती ने थोड़ा झिझकते हुए कहा, “अगर और अंदर घुसाना चाहो, तो प्लीज घुसा लेना, मैं ठीक हूँ।” 

मैंने प्रीती को और जोरों से तेजी से चोदना शुरू कर दिया, हाँलांकि जिस तरह से चंदर मामा ने मम्मी को ताबड़तोड़ जोरदार तरीके से चोदा था, उसके मुकाबले ये कुछ भी नहीं था, लेकिन अब मैंने अपना पूरा लण्ड प्रीती की चूत में अंदर तक घुसा दिया था, और मेरे लण्ड का सुपाड़ा उसकी बच्चेदानी से टकराने लगा था। प्रीती ने अपना सिर नीचे करते हुए कहा, “हाँ, अब मजा आया ना,” और फिर एक गहरी लम्बी साँस लेते हुए बोली, “मैं अब तुम्हारे पूरे लण्ड को अपने अंदर मेहसूस कर पा रही हूँ, इस तरह बहुत ज्यादा मजा आ रहा है।”

कुछ देर मैं उसी तरह प्रीती की चूत में अपने लण्ड के झटके मारता रहा, और फिर प्रीती बोली, “अब समझ में आया चंदर मामा से चुदते हुए, मम्मी कौन सा मजा आने की बात कर रहीं थीं,” ऐसा कहते ही वो एक बार फिर से गुर्राने लगी, और बोली, “बहुत मजा आ रहा है, विशाल!” उसने अपना सिर झुकाया हुए बोली, “जितना ज्यादा अंदर जाता है, उतना ही ज्यादा मजा आता है!” 

मैं अपने मूसल जैसे लण्ड को प्रीती की छोटी सी चूत में अंदर बाहर होते हुए देख रहा था, उसको पीछे से मस्ती में चोदते हुए उसकी गोल गुदाज गाँड़ बहुत ज्यादा सैक्सी लग रही थी, मुझे लगने लगा था कि मैं शायद ज्यादा देर तक ठहर नही पाऊँगा। मैं अपने वीर्य का रस प्रीती की चूत में निकालने के लिये बेताब हो रहा था, लेकिन तभी, “हाँ विशाल, ऐसे ही विशाल, ऐसे ही करते रहो, मैं बस होने ही वाली हूँ विशाल!!” जिस अंदाज में उसने कहा, “बस होने ही वाली हूँ,” उससे लगा कि मानो वो रोने ही वाली हो, उसकी आवाज में एक दर्द भरी कसक थी, लेकिन जिस तरह से वो अपना सिर झुकाकर, अपनी पींठ को उंचकाते हुए, अपनी कमर को पीछे धकेलते हुए, मेरे लण्ड को अपनी चूत में घुसवाकर, चुदाई का मजा लेते हुए, चरमोत्कर्ष के करीब पहुँचते हुए, उसके बदन में जो आनंद की मीठी लहर का संचार हो रहा था, उससे प्रतीत हो रहा था कि उसके रोने की बात सोचना बेमानी था। 

मैं प्रीती को बैडशीट अपनी मुट्ठी में भरकर भींचते हुए देख रहा था, ठीक उसी तरह जिस तरह मम्मी कर रहीं थीं, और फिर उसने अपना सिर बैडशीट पर रख दिया, और कराहते हुए गुर्राने लगी, “ओहह, ओह, ओहह,” कुछ सैकण्ड के बाद जब वो थोड़ा शांत हुई तो मुझे मेहसूस हुआ कि मेरे लण्ड से भी ज्वालामुखी फूट पड़ा था। मुट्ठ मारने के अनुभव से मुझे पता था कि दूसरी बार झड़ने में पहली बार से ज्यादा मजा आता है, और इस बार जब मेरा लण्ड मेरी बहन की इच्छुक आतुर चूत में वीर्य के बीज रोप रहा था, तो मुझे गजब का मजा आ रहा था। मेरे बदन में मस्ती की एक लहर के बाद दूसरी लहर दौड़े जा रही थी, मेरे लण्ड से निकल रहे वीर्य ने प्रीती की चूत को पूरा भर दिया था, और पिछवाड़े से अपने लण्ड को उसकी चूत में पेलेते हुए, जब मैं अपनी उलझी हुई झाँटो के थाप उसकी गाँड़ के छेद पर लगा रहा था, तो उसकी चूत से वीर्य चूँकर बाहर टपक रहा था। उसकी गाँड़ की गोलाइयों को अपने हाथों में भरकर, मैं उसकी चूत को और ज्यादा अपने करीब लाने का प्रयास कर रहा था, और झड़ते हुए इस चरमोत्कर्ष के इन यादगार अंतिम पलों का संवरण कर रहा था। 

चुदाई सम्पूर्ण होने के बाद भावातिरेक कमजोर होने लगा। मैं चुदाई के पश्चात पूर्ण रूप से संतुष्टी का अनुभव कर रहा था, और मेरी कमर ने झटके लगाना बंद कर दिया था। प्रीती ने एक गहरी लम्बी सांस लेते हुए, थोड़ा हाँफते हुए कहा, “तो ये थी, डॉगी स्टाईल।”

मैंने अपने सिंकुड़ कर छोटे होते हुए लण्ड को प्रीती की चूत में से निकाल लिया, और प्रीती पलटकर सीधी पींठ के बल बैड पर लेट गयी, उसकी फूली हुई चूत के दोनों होंठो के बीच में से अभी भी वीर्य़ चूँकर बाहर निकल रहा था, ऐसा लग रहा था मानो उसकी चूत थोड़ा सूज गयी हो। अब झाँटें ना होने की वजह से वीर्य़ का पानी बिना किसी रुकावट के नीचे टपक रहा था। उसने अपने सीधे हाथ से अपनी चूत के उभार को हल्के से सहलाया, और फिर मुस्कुराते हुए मेरी तरफ देखते हुए बोली, “बहुत मजा आया!” 

मैं भी झट से उसकी राईट साईड में सीधा लेट गया, और फिर जब हम दोनों छत की तरफ देख रहे थे, तो मैं बोला, “क्या मजा आया, बहुत मस्त चुदवाती हो तुम प्रीती!!”

“इसका सारा श्रेय मम्मी को जाता है,” प्रीती मुस्कुराते हुए बोली, “वो ही हमारी मार्गदर्षक हैं।”

मैं मुस्कुराते हुए बोला, “कितना बिगड़ गयी हो तुम,” और प्रीती ने मुस्कुराकर जवाब दिया, “हम दोनों बिगड़ गये हैं।”
“चलो अब जल्दी से कपड़े पहन लो, और सो जाओ, मम्मी अगर उठ गयीं और उन्होने हमको इस हालत में देख लिया तो बवाल हो जायेगा,” प्रीती ने कहा। 

“हाँ मम्मी और मामा करें तो कुछ नहीं, और हम करें तो बवाल हो जायेगा,” मैंने शरारती अंदाज में कहा। ये सुनकर प्रीती मुस्कुरा भर दी। 

उस रात के बाद, अगली सुबह जब डाईनिंग टेबल पर बैठ कर हम दोनों नाश्ता कर रहे थे, तो हम दोनों का एक दूसरे को देखने का नजरिया बदल चुका था, और जो कुछ हम दोनों ने पिछली रात देखा था, उसके बाद जो कुछ हुआ, और आगे भविष्य में क्या कुछ होने वाला था, इस बारे में हम मंथन करने लगे। मैं और प्रीती अब सारी मर्यादायें तोड़ चुके थे, इंतजार था तो बस अब अगले मौके का।

***

समाप्त

***
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Kamukta Kahani अहसान 61 184,033 02-15-2020, 07:49 PM
Last Post:
Thumbs Up bahan sex kahani बहना का ख्याल मैं रखूँगा 82 27,163 02-15-2020, 12:59 PM
Last Post:
  mastram kahani प्यार - ( गम या खुशी ) 60 125,864 02-15-2020, 12:08 PM
Last Post:
Star Adult kahani पाप पुण्य 220 919,679 02-13-2020, 05:49 PM
Last Post:
Lightbulb Maa Sex Kahani माँ की अधूरी इच्छा 228 719,274 02-09-2020, 11:42 PM
Last Post:
Thumbs Up Bhabhi ki Chudai लाड़ला देवर पार्ट -2 146 71,534 02-06-2020, 12:22 PM
Last Post:
Star Antarvasna kahani अनौखा समागम अनोखा प्यार 101 198,178 02-04-2020, 07:20 PM
Last Post:
Lightbulb kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत 56 23,183 02-04-2020, 12:28 PM
Last Post:
Thumbs Up Hindi Porn Story द मैजिक मिरर 88 95,878 02-03-2020, 12:58 AM
Last Post:
Star Hindi Porn Stories हाय रे ज़ालिम 930 1,118,090 01-31-2020, 11:59 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


sauth inadiyan girl all piccudakd bahu ko tel laga ke codha kahani comMahdi lagayi ladki chudaei xnxxxSaxkahanxxtharki damad sex baba threadसेकसी पङने वाली कहानीAapa.ki.gand.antrwasna.hindi.sex.kahaniSexstoreiskannadamai apani uncle se raat me chudbai jaan bujhkar भाभी की गीली सलवार मे लाल चड्डी मे gand faadi की khaniya photo के साथदश बारह वर्ष के युवा लडका युवा लडका लंड को मूठ मारना लडको लडको काTELGUHOTMOMxxxx.desi.chudai.ke.bad.panibahat.nikalnshttps://septikmontag.ru/modelzone/Thread-maine-aunty-ki-gaand-chatiPregnantkarne k lie kaun si chudai kare xxx full hd videoजवान औरत बुड्ढे नेताजी से च**** की सेक्सी कहानीwww xxx sexbaba.net/artisex mami bhagana xxxfemaliReema ki honeymoon me chudai-threadxxnx. didi Ne Bhai Ki Raksha Bandhan ban jata hai bhai nahi hotasaxbaba nude gif Sex दोस्त की ममी सोके थी तब मैने की चुदाई विडियोभाई ने अपनी बहन को पटा कर छूट मरी हिंदी हड सेक्सी खांयXnx कपड़े फाड़कर हनिमूनHd sex jabardasti Hindi bolna chaeye fadu 2019Xxx.jo.sadi.pahni.thi.utari.nahi.ho.sirf.sadi.utha.ke.pelta.hocodacodi kre avo kharab vidiyoभाभी गले मालाxxxलडको का लडँ केसे चोदेadla badli kahani sexbabadesi lataki watasab nambar xxxx comMoti gand wali haseena mami ko choda xxxbfxnxnwwwxxxpotos chomSarabi pati gaali Sexxx saramke apane kamare se bahar gai kahneeMotty.lebar.lugai.chudai.story.comChudasa parivaar/sexbaba.netxossipy जोरूbhabhi ne bulakar bur chataya secx kahaniyatumhare nandoi din me bhi nangi choddteबाजरे के खेत मे छीनाल बहन को गालीया दे दे कर गंदी गाड मारने की कहानीयाwww maa ne shawtele beta ko shone ko majboor kiya xnxx comxxx BF picture XX bolata jaaye bullet walaaunty ki xhudai x hum seterबुर चोदाइ चुची दबाइwfite ka samna pti gand marataho xvideomastarm sex kahani.bhatije.ko.gand.marabhai bhan hisicool ti hot khaniक्य प्रीयंका चोपडा सचमे porn बनाती हैjethalal sasu ma xxx khani 2019 new storyxxxvideomalhSeptikmontag.ru Maa Sex Kahaniek chut ne dhoke se dusre ki gaad mrba di chudayi khaniउम्रदराज विधवा औरत से शादी फिर जमकर चुदाई कीAlia bhatt टोयलेट मे नगी बेठी xxx sex photosXxx Indian bhabhi Kapda chanjegभाभी के साथ सेक्स कहानीमोटी गांड़ मरवाने वाली सेक्स मुवीteacher sexy video tution saree and sutsalwardogali.sex.full.muvi.daulodigisatani ko dukan ma jaber dasti choda xxn videosangharsh ora chudai panditji ne chodaबस मे गान्डु को दबाया विडियो लङकी की चुत विरिये निकला सैक्सी विडियोदुलहन की चाहत कय है चुत चोदाने का या फिर खडे लड पर धोखा देना www.sexbaba net ka kahani sas bahu gurup gandi kahani hindi..comXxxदिपिका photoChoti bhen ko land pe biyakar khel kilaya jindi cudai kahaniMahdi lagayi ladki chudaei xnxxxghagrey mey chori bina chaddi kedost ki maa sexybaba net storesअजली जीजा किXxx storyjabardasti choda aur chochi piya stories sex picदीदी की गान्ड मे डालाbfxxx image dher sarebare bahean or chota bahi Indian sex storiesXporn 6nabar