Mastram Story प्यार की खुजली
09-02-2018, 11:54 AM,
#1
Thumbs Up  Mastram Story प्यार की खुजली
प्यार की खुजली-1

नीता की शादी दो महीने बाद फिक्स हो गई थी. वो मन ही मन मुस्कुराती रहती थी. दिन भर अपने होने वाले पति रमेश की यादों मे खोई रहती थी. बार बार
उसकी तस्वीर देखती और उसे चूमती.कई कई घंटों तक अपने कमरे से बाहर नही आती थी. अपनी होने वाली सुहागरातकी सोच सोच कर अपनी चूत सहलाती रहती.इधर उसकी मा कमला भी खुश थी. अपने पति के मरने के बाद पहली बार उसे पूरीखुशी का एहसास हो रहा था. नीता के कारण उसने अपनी सेक्स की भूख को दबा कररखा था. लेकिन क्या करती सेक्स को दबाना इतना आसान नही था.अब जब नीता का ब्याह पक्का हो गया था उसकी चूत की खुजली बढ़ने लगी थी.बाहर तो कम ही जाती थी. दो साल मे कभी उसका देवर आता तब मौका देख कर उससे चुदवा लेती. 


आख़िर कुच्छ ऐसा हो गया कि उसकी आग और भड़क उठी. उसने एक दिन अपने 18 सालके लड़के जीतू को नंगा देख लिया ओर उसका लंड देख कर वो गरम हो गई. उसनेसोचा जीतू को तैयार कर लेती हूँ और नीता की शादी के बाद उसके साथ सोउंगी.अगले दिन जब नीता दोपहर को अपने कमरे मे चली गई तो उसने जीतू को बुलाया.?बेटा देख और बता कौन सी सारी मुझपे अच्छी लगती है? तेरी बहेन तो खुद मेही बिज़ी है.?. जीतू को औरतों की सारी मे कोई इंटेरेस्ट नही रहता था,लेकिन अपनी मा की बात सुन कर उसे रुकना पड़ा.ये वाली तीन अच्छी हैं.? जीतू बोला. ?मुझे डाउट है ये इतनी ठीक हैंक्या? रुक मैं पहेन कर देखती हूँ.? ये कह कर उसने अपना गाउन उतार दिया.अपनी मा को पहले भी वो पेटिकोट ब्लाउस मे देख चुका था. लेकिन आज जब उसनेगाउन उतारा तब उसके दो बटन खुले थे. उनमे से दिख रही ब्रा ने जीतू को एकबार परेशान कर दिया.कमला समझ गई जीतू की नज़र कहाँ है. उसने उस बात को इग्नोर किया और सारीपहेन्ने लगी. जान भुज कर उसने सारी अंदर डालते समय और ठीक करते समयपेटिकोट नाभि से नीचे खींच लिया. उसकी नाभि पर जीतू की नज़र पड़ते हीउसकी पॅंट मे करेंट दौड़ गया.



दो सारी पहेन्ने के बाद जीतू बोला ?इसका मॅचिंग ब्लाउस भी साथ पेहेन्ति
तो ज़्यादा अच्छा लगता.?. ?कल मिलेंगे सिल कर? ये कहते हुए उसने सारी
उतारी और उसी अवस्था मे बिस्तर पर लेट गई. आदमी को चूत का दरवाज़ा दिखाना
उसे अच्छी तरह आता था?.

?आ इधर ही सो जा.? कहते हुए वो थोड़ा खिसक गई. जीतू उसके उभरे हुए वक्ष
देख कर वैसे ही सुध बुध खो बैठा था, कुच्छ बोले बिना पास मे लेट गया.

कमला उसकी तरफ मूड कर उससे बातें करने लगी. लेकिन जीतू का ध्यान बातों मेकम और उसके बाहर झाँकते हुए बूब्स पे ज़्यादा था. ऐसा लग रहा था मानो वोकिसी भी पल ब्रा से बाहर निकल पड़ेंगे. उसकी ब्रा देख कर तो मानो जीतू केलंड मे आग लग रही थी.थोड़ी देर बाद दोनो सो गये. कमला की जब नींद खुली तो जीतू सो रहा था.कमला ने धीरे से उसके आधे सख़्त लंड पे हाथ रख दिया और आँख बूँद कर केजीतू के उठने का इंतजार करने लगी. जब जीतू की आँख खुली और उसने अपनी माका हाथ अपने लौदे पे पायातो उसका लंड तेज़ी से फूलने लगा. कमला को उसके कड़क होते लंड का एहसास बड़ा मीठा लगा. मन तो किया दबा डाले पर अपने आप को रोक लिया. जीतू भी आँख बूँद कर के सोने का नाटक करते हुए कमला के कोमल हाथों का स्पर्श एंजाय करता रहा?.अगले दिन फिर दोपहर को कमला ने जीतू को बुलाया. जीतू भाग कर आ गया. ?देख
आज ब्लाउस भी आ गये.? कहते हुए कमला ने एक ब्लाउस निकाला और उसे निहारनेलगी. फिर उसने कल की तरह गाउन उतारा.

आज उसने गाउन उतारते समय अपनापेटिकोट जांघों तक उठा कर गिराया. उसकी सुडोल और चिकनी जाँघ देख कर जीतूहड़बड़ा गया.'मैं ये पहेन कर देखती हूँ.' ये कहते हुए कमला ने गाउन अपने कंधों पर रखाऔर अपना ब्लाउस खोल दिया. जब जब वो अपने हाथ उपर करती जीतू को उसकी पतली
ब्रा दिखाती और उसे मे से झाँकते हुए उसके उरोज. जीतू के लॉड का हाल बुरा था. कमला की नज़र उस पर थी. वो समझ रही थी जीतू का ध्यान उसके वक्ष पर है. उसने सिर्फ़ एक उपर का बटन बूँद किया और फिर गाउन उठा कर बिस्तर पे फेंक दिया.बड़ी सरलता के साथ वो अपने बटन लगाने लगी पर चोर नज़रों से जीतू को देख लेती. जीतू का पूरा ध्यान उसकी ब्रा पर था. मानो वो उनमे च्छूपे लाल लाल हीरे ढूंड रहा था.कमला ने आज फिर सारी पेहेन्ते समय अपना पेटिकोट नीचे खींचा. आज पूरी तैयारी मे थी इसलिए पेटिकोट लूज बाँध रखा था. आज थोड़ा खींचने पर दो इंच
नीचे आ गया. जीतू बहाल हो गया??सारी चेक करने के बाद उसने अपना पुराना ब्लाउस पहना और इस बार बिना कोई बटन लगाए गाउन उतार दिया. फिर धीरे से दो बटन लगाए नीचे के, बाकी खुले रहने दिए. और बिस्तर पर लेट गई 'आज बहुत थक गई हूँ.' कहते हुए वो पेट के बल घूम गई. "आ, सो जा" कहते हुए उसने थोड़ी जगह बिस्तर पर बनाई. सिर्फ़
इतनी जगह की जीतू सो सके और उसका शरीर कमला के शरीर से टच हो जाए.कमला के शरीर को छुते ही उसका शरीर गरम हो गया. 

कमला भी जान बूझ कर उसकी तरफ मूड कर बातें करने लगी. उसके आधे नंगे बूब देख कर जीतू का लंड चार गुना हो गया. उसकी ब्रा मे से निकलते बूब्स देख कर आज जीतू से रहा नही गया.उसने बात करते करते कमला की नंगी कमर पे हाथ रख दिया. कमला उसके स्पर्श से सिहर उठी. बड़ी चालाकी से जीतू ने अपना हाथ धीरे धीरे उपर कर दिया. अब
उसका हाथ कमला के उरोज का पास था. और कमला गरमा रही थी. उसका हाथ अपने आप जीतू के गाल पर चला गया और वो उसे सहलाने लगी. जीतू ने थोड़ी देर बाद सोने का नाटक करते हुए आँख बूँद कर ली.

कमला उसका हाथ अपनी चुचियों पर चाहती थी. वो धीरे से घूमी. सिर्फ़ इतना की जीतू का हाथ उसके उभार पर ठीक से आ जाए. और फिर वो उसके हाथ का स्पर्श एंजाय करते हुए सो गई.

जब वो उठी तो उसने पाया जीतू का हाथ उसकी चूत पर था. अगर उसका पेटिकोट का
नाडा आगे होता तो शायद आज जीतू उसकी नंगी चूत सहला लेता??

उस की उमीद से कहीं ज़्यादा तेज़ी से जीतू आगे बढ़ रहा था. कमला सोच मे
पड़ गई और उसने सोच लिया की अब थोड़ा स्लो करेगी. लेकिन अगले दिन फिर
उसकी चूत की आग ने उसकी सोच को जला दिया. आज उसने सिर्फ़ ब्रा पहेन ली और
पेटिकोट दो इंच नीचे. नाडा इतना खुला रखा की उसकी सफेद चड्डी के दर्शन हो
जाएँ?..

जैसे ही नीता अपने कमरे मे गई जीतू बिना बुलाए कमला के कमरे मे आ गया.
?वो नीली वाली सारी पहेन कर बताना ज़रा. शायद वो ज़्यादा अच्छी लगेगी?
जीतू बोला. कमला के मन मे लड्डू फूट रहे थे जीतू की बात सुन कर. उसने
फटाफट कपबोर्ड से सारी निकाली और गाउन उतार दिया. ?अर्री ! ब्लाउस तो
अंदर ही है.? कहते हुए कमला ब्रा मे ही गई और ब्लाउस निकल कार बेशर्मी से
उसके सामने पहनने लगी. जीतू का लंड उपर नीच होने लगा?..

?ज़रा खींच? कहते हुए कमला ने उसे बुलाया. जीतू उसके पास बैठ कर सारी को
खींचने लगा और इस बहाने उसका पेटिकोट और नीचे सरक गया. जीतू उसकी नाभि
देख कर और गरमा गया. ?ये पेटिकोट तो फट गया है. आप फटे कपड़े क्यों
पेहेन्ति हो?? कहते हुए जीतू ने उसका पेटिकोट थोड़ा उपर उठाया और कमला को
दिखाया. इस बहाने उसकी सुडोल कॅफ के दर्शन जीतू को हो गये.
-  - 
Reply
09-02-2018, 11:54 AM,
#2
RE: Mastram Story प्यार की खुजली
कमला उसके बर्ताव से खुश हो रही थी. उसने अपने मन को मजबूत किया और बोली
?ठीक कहता है तू बेटा. अभी बदल देती हूँ? ये कहते हुए उसने अपनी सारी
उतारी और नया पेटिकोट निकाल लिया. जीतू इंतजार मे ज़मीन पर ही बैठा रहा.
कमला ने नया पेटिकोट उपर से डाला और जब वो उसकी कमर तक आ गया तो उसने अपने पहने हुए पेटिकोट का नाडा खोल दिया और उसे गिरा दिया. कुच्छ पल के लिए जीतू को कमला की पॅंटी और उसमे से उसकी फूली हुई चूत के दर्शन हो गये. जैसे जैसे नया पेटिकोट नीचे आता गया उसकी आँखें भी नीच आती गयी और कमला की जांघों को निहारती रही. कमला सब समझ रही थी. उसने अपना नाडा बाँधा पर इस तरह की उसकी पॅंटी खुल कर दिखे. जीतू की आँखें वहाँ से हट नही रही थी?..चल अब सो जाते हैं? कहते हुए कमला बिस्तर पर लेट गई. आज उसने ब्लाउस पहने बिना ही सोने की सोच ली थी. दिखावे के लिए उसने अपना गाउन अपने वक्ष पर रख दिया और लेट गई. आज उसने सिर्फ़ इतनी जगह रखी कि जीतू आधा ही लेट पाए. जीतू भी तो यही चाहता था. वो चुपचाप उसके पास लेट गया और जगह कम होने की वजह से उसका लंड कमला की जाँघ को टच हो गया. कमला के शरीर मे आग लग गई गरम लॉडा टच होते ही. जीतू ने गिरने का बहाने करते हुए कमला के पेट पर हाथ रख दिया. जब जीतू को लगा कि उसकी मा उसके लंड से कंफर्टबल है तो उसने अपना हाथ उठा कर उसके कंधे पर रख दिया. इस तरह कमला का एक वक्ष उसके हाथ के नीचे दब गया. जीतू थोड़ा और चिपक गया उसके शरीर से.कमला अपनी हालत से परेशान थी. मन तो कर रहा था जीतू का लंड पकड़ ले पर
दिमाग़ ने रोक लिया. धीरे से उसने गाउन हटा कर अलग कर दिया? बड़ी गर्मी है?. अब बातें करते करते जीतू का हाथ कभी लेफ्ट तो कभी राइट बूब पर चला जाता. एक दो बार उसने धीरे से दबा भी दिया?..जब कमला उठी तो वो पेट के बल लेटी हुई थी और उसने अपनी ब्रा का हुक खुला
पाया. समझ गई उसकी नंगी पीठ सहलाई होगी जीतू ने और शायद उसकी गांद भी दबाई होगी?.. उसका मन खुशी से झूम रहा था. उसने हल्के से अपने सोए हुए बेटे का लंड सहलाया और उठ गई.

शाम को जीतू किचन मे आया. नीता के किचन से बाहर जाते ही पीछे से कमला को
पकड़ लिया. उसने बेफिकर हो कर अपना लंड उसकी गांद पर टीका दिया और उसके
बूबे पकड़ लिए. कमला की चूत से गरम लहर छूट गयी, लेकिन उसने अपने आप को
संभाला और जीतू को अलग किया. ?ये क्या कर रहा है?? वो गुस्सा दिखाते हुए
बोली. जीतू घबरा गया, हकलाते हुए बोला ?लेकिन आज दोपहर को तो आपने कुच्छ
नही कहा था?.?

?तो क्या दिन भर यही करेगा? और अपनी बहेन के सामने तो खबरदार !? उसने
आँखें फाड़ कर कहा तो जीतू समझ गया. ?ठीक है मम्मी? कहते हुए चला गया. मन
ही मन जीतू खुशी से पागल हो गया. उसे कमला की चूत का रास्ता दोपहर को सॉफ
दिखने लगा.

लेकिन इंतेजार किसे सहन होना था. रात को जीतू मा के कमरे मे पहुँच गया.
?मुझे नींद नही आ रही?. ?आजा इधर सो जा? कहते हुए कमला ने उसे जगह दी और
मूड कर लेट गई. जीतू ने अपना लंड उसकी गांद से टीकाया और हाथ डाल कर उसके
गाउन के उपर से ही मम्मे पकड़ लिए. धीरे धीरे आगे पिछचे करते हुए उसने
अपने लंड का पानी निकाला और कमला ने उसके टाइट लंड का लुत्फ़ उठाते हुए
अपनी चूत गीली की.

सुबह जल्दी उठ कर कमला ने जीतू को जगाया और उसके कमरे मे भेज दिया. जीतू
समझ गया और चुपचाप चला गया.

सुबह कमला ने ब्रा नही पहनी. सिर्फ़ ब्लाउस पहना और सारी टाइट बाँध ली.
इस तरह उसकी गांद उभार कर दिख रहा था. मौका मिलते ही सारी का पल्लू गिरा
कर अपने लटकते हुए आम दिखा दिखा कर जीतू के लंड को गरम सेक देती. जीतू का हाल बुरा था. पता नही कितनी बार उसने अपनी मा की उभरी हुई गांद देख कर अपना लंड दबा दबा कर मूठ मारी.

जैसे ही नीता अपने कमरे मे गई जीतू ने उसका दरवाजा बाहर से बंद कर दिया और कमला के कमरे मे घुस गया. कमला भी तय्यार बैठी थी. अपना पल्लू गिरा कर उसने अपने ब्लाउस के चार बटन खोल दिए थे. बेड पर बैठ कर अपनी सारी जाँघो तक उठा रखी थी और अपने घुटने सहलाने की आक्टिंग कर रही थी. अपनी मा की आधी से ज़्यादा नंगी चुचियाँ देख कर जीतू का लॉडा टाइट हो गया.उसके पास जा कर कमला के घुटनों पे हाथ फेरने लेगा.?दर्द हो रहा है?? कहतेहुए उसने कमला के ब्लाउस मे झाँका और धीरे से हाथ उसकी जाँघ पे ले गया.हां, ज़रा दबा दे? कहते हुए कमला बिस्तर पर लेट गई. उसकी नंगी थाइस देखकर जीतू के होश उड़ गये. फिर उसका ध्यान उसके ब्लाउस मे से बाहर निकालते हुए उसके मम्मो पर गया. उसके पतले से ब्लाउस से उसकी निपल साफ दिख रही थी. जीतू सोच मे पड़ गया किधर दबाए.?आ लेट जा और दबा? कमला ने उसके पैर खींचे.जीतू उसके बगल मे लेट गया और उसके घुटनों को सहलाने लगा. उसका मुँह कमला के पैरों की तरफ था. कमला ने अपना हाथ धीरे से उसकी जाँघ पर रख दिया.जैसे जैसे उसका हाथ उपर आता गया वो सारी उपर करता गया. खुद भी धीरे धीरेउपर खिसकता गया. अब कमला की चूत पनिया रही थी. वो धीरे से मूडी और अपना हाथ उसकी जांघों के बीच डाल दिया और सहलाने लगी. उसका हाथ बार बार जीतू
के लंड से टकरा जाता. पहले तो धीरे धीरे और फिर दबाव बढ़ने लगा.
-  - 
Reply
09-02-2018, 11:54 AM,
#3
RE: Mastram Story प्यार की खुजली
जीतू का हाथ भी उसकी चूत की फाँक तक पहुँच गया था. दोनो चुपचाप मज़े ले रहे थे. जब जीतू से सहन नही हुआ तो उसने मुँह उठा कर एक चुम्मि ले ली.


कमला का शरीर सिहर उठा. ?ये क्या कर रहा है?? वो बोली और जीतू घबरा कर
बैठ गया. ?पप्पी ले रहा था? वो शरमाते हुए बोला. कमला की सहन शक्ति के
बाहर हो चुकी थी उसकी चूत की गर्मी. उसने अपने घुटने मोड़ लिए जिस कारण
उसकी सारी कमर पे आ गयी. एक हाथ से उसका लंड दबाते हुए उसने दूसरे हाथ से
अपनी चूत को खोला. ?ऐसे खोल के पप्पी करते हैं. बुढ़ू? वो बोली और ललचाई नज़रों से उसकी ओर देखा.जीतू भी कम नही था. एक पैर उसके पेट पे रख दिया और सीधा मुँह उसकी चूत मे घुसा दिया. कमला ने भी उसका पाजामा खींच लिया धीरे धीरे और उसके गरम हथोदे को अपने हाथ मे ले कर निहारने लगी. उसकी लाल टोपी को देख कर उसका दिल सब कुच्छ भूल गया और उसने उसे चूम लिया.काफ़ी देर तक जीतू चाट ता रहा और कमला उसके लॉड को बार बार चूमती रही. जब उसका मुँह दुखने लगा तो वो उलट गया और कमला की टाँगों के बीच मे लेट गया.उसका लंड कमला की चूत पर टिका था. कमला ने हाथ नीचे किया और उसके लॉड को पकड़ कर अपनी चूत का दरवाज़ा दिखाया. धीरे धीरे जीतू उसे चोदने लगा और वो मज़े ले ले कर उसका लंड खाती रही.अचानक उसने रफ़्तार बढ़ा दी और पानी छूट ते ही अपनी मा पर निढाल हो कर
लेट गया. कमला ने उसे चूम लिया. वो तो पहले ही कई बार पानी छ्चोड़ चुकी थी

अगले दिन जीतू नीता का कमरा बंद करना भूल गया. नीता पानी पीने बाहर आई तो मा के कमरे से आवाज़ आई. वो परेशान हो गई. कीहोल से देखा तो उसका दिल बैठ गया. जीतू खड़ा था और कमला बिस्तर पर बैठ कर उसका लंड लॉलिपोप की तरह चूस रही थी. उसकी चूत तब गीली हो गई जब उसकी मा टाँगें फैला कर लेट गई और जीतू का लंड उसकी चूत की गहराई मे खो गया.अंदर बाहर होते हुए लॉड को देख कर उसका शरीर उत्तेजना से काँप उठा. जब दोनो चुदाई के बाद एक दूसरे से लिपट कर सो गये तो नीता अपने कमरे मे चली गई. बहुत सोचने पर वो इस नतीजे पर पहुँची कि उसे तो कुच्छ दिन बाद जाना है. क्यों मा बेटे के बीच आए. लेकिन सेक्स देखने की आतूरता वो रोक ना पाई.उसने मौका देख कर खिड़की खुली छ्चोड़ दी.फिर हर दोपहर और कभी कभी रात को वो उनका नंगा खेल देखती. कमला जीतू से तरह तरह से चुदवाती और चुस्वाति. लगता था मानो कमला ने काम शास्त्र मे पीएचडी करी हो. कभी वो घोड़ी बन जाती और जीतू उसके मम्मे पकड़ कर मसल्ते हुए उसको चोद्ता. कभी वो एक टाँग टेबल पर रख कर खड़ी रहती और जीतू खड़े खड़े उसको चोद्ता.कभी कभी वो शहद लगा लेती अपनी चूत और मम्मो पर और जीतू उनको घंटों चाटता. कभी वो उसकी गर्दन पर अपनी टाँगें रख कर चुदवाती और कभी उसकी कमर पकड़ के.नीता को असली मज़ा तो तब आने लगा जब जीतू ने कमला की गांद मे अपना लंड पेल दिया. फिर तो वो कई बार अपनी गांद मर्वाति और फिर उसी लंड से अपनी चूत को शांत करवाती.

जीतू तो पूरा चुड़क्कड़ खिलाड़ी बन गया था.
-  - 
Reply
09-02-2018, 11:54 AM,
#4
RE: Mastram Story प्यार की खुजली
प्यार की खुजली-2

आख़िर शादी से कुच्छ दिन पहले अकेले मे नीता जीतू से बोली ?जीतू ! मेरी
शादी के बाद मा का ख़याल रखना?. जीतू बोला ?आप बिल्कुल्ल फिकर ना करो.
मैं मा का हर तरह से ख़याल रखूँगा?. ?सिर्फ़ वैसे ही नही, हर तरह से?कहते हुए नीता ने उसे आँख मारी. ?मतलब?? कहते हुए जीतू हड़बड़ाया. ?मुझे सब पता है. दोपहर और रात का खेल मैं देख चुकी हूँ. मा को मत बताना.? नीता की ये बात सुनते ही जीतू लाल लाल हो गया और शर्मा कर भाग गया.इसी तरह वक़्त बीत गया और नीता की एक दिन शादी हो गयी.शादी की रात उसके पति रमेश ने उसकी सील तोड़ी. नीता ने बहुत कुच्छ देख लिया था. उसकी चूत पूरी तरह तय्यार थी लंड खाने के लिए. उसका पति रमेश हर रोज रात को उसको दो तीन बार चोद लेता था. नीता भी गंद उच्छाल उच्छाल कर अब चुदवाती. मौका मिलता तो दिन मे भी रमेश उसकी ले लेता.लेकिन दो तीन महीने बाद नीता थोड़ी बोर होने लगी. रमेश वेराइटी वाली चुदाई नही करता था जो उसकी मा और भाई करते थे. कभी कभी उसका मन करता अपने भाई के पास जा कर चुदवा ले?..

घर मे नौकरानी लता के होने के कारण उस को ज़्यादा काम नही करना पड़ता था इसलिए अपने कमरे मे ही ज़्यादा रहती थी. एक दिन जब उसकी सास मंदिर गई तो वो बाहर कमरे मे आ गई. ?लता ! पानी देना? उसने आवाज़ लगाई. लेकिन लता का कोई जवाब नही आया. वो किचन मे गई देखने पर उसे वहाँ कोई नही मिला. वो जैसे ही वापस मूडी लता अंदर आ गई. ?कहाँ थी?? नीता ने पुछा तो वो बोली ?टेरेस पे गई थी.?

कुच्छ दिन बाद फिर ऐसा ही हुआ. तब नीता को शॅक हुआ. वो एक दिन अपने कमरे का दरवाजा थोड़ा खोल कर इंतेजार करने लगी. लता किचन से निकली और उसके दरवाजे की तरफ देखने लगी. थोड़ा खुला देख कर वो दूसरी तरफ गई और कुच्छ सेकेंड बाद वापस किचन मे चली गई.

अगले दिन नीता ने दरवाजा बंद रखा पर कीहोल से देखती रही. लता धीरे से निकली और चली गई. नीता कुच्छ मिनिट के बाद धीरे से बाहर आई. धीरे धीरे घर मे उसे ढूँडने लगी. अचानक उसे कुच्छ आवाज़ आई अपने ससुर के कमरे से. वो डरते डरते गई और कीहोले से देखने लगी. अंदर का द्रश्य देख कर उसके होश उड़ गये. उसके ससुर खड़े थे और लता उनका लंड चूस रही थी.

फिर जब उनका लंड पूरी तरह तय्यार हो गया लता ने अपनी सारी उपर की और टेबल
का सहारा ले कर खड़ी हो गई. ससुर ने अपना मोटा लॉडा उसकी चूत मे पेल दिया
और धक्के मारने लगे. वो काफ़ी देर तक देखती रही और कब उसकी चूत से पानी टपकने लगा उसे पता ही नही चला. इतना तो उसे समझ आ गया था कि उसके ससुर
बड़ी देर तक चोद्ते थे. शायद तब तक जब तक लड़की दो तीन बार पनिया ना जाए?.फिर तो रोज वो चुपके चुपके उनकी चुदाई का खेल देखने लगी. सासूमा मंदिर जाती और लता ससुर के कमरे मे?..अब उसको अपनी चुदाई से बोरियत और बढ़ने लगी. कई बार कोशिश की पर रमेश सीधी चुदाई से ही खुश था.

अब वो अपने ससुर के लौदे को अलग नज़रों से देखती थी. जब चान्स मिलता पाजामा मे क़ैद उनके लंड को ध्यान से देखती और समझने की कोशिश करती कि वो टाइट है या सोया हुआ है.

उसकी वासना अब चरम सीमा पर आ रही थी. एक दिन जब वो अपने कमरे से निकली लता ससुर के कमरे से वापस आ गई और दोनो एक दूसरे को देख कर हड़बड़ा गये.नीता ने कुच्छ नही कहा इसलिए लता भी चुपचाप किचन मे चली गई. फिर कई बार इसी तरह लता ससुर के कमरे से निकलते हुए उसके सामने आ गई. शायद लता भी समझ गई कि नीता को पता चल गया है. उसने ससुर को एक दिन अपना शक़ बता दिया. ससुर सोच मे पड़ गये. सेक्स तो उन्हे चाहिए था पर बहू से बचना ज़रूरी था.

उनके शातिर दिमाग़ ने एक तरक़ीब ढूंड ली. वो अगले कुच्छ दिन तक दरवाज़ा थोडा सा खुला रख कर लता की लेने लेगे. लता डरती थी पर बाद मे उससे भी मज़ा आने लगा. अगले दो तीन दिन लता को सिर्फ़ ब्लाउस और पेटिकोट मे बाहर भेज देते ससुर.वो हाथ मे सारी लिए किचन मे भाग जाती. नीता ने एक दो बार देखा पर कुच्छ बोल ना पाई. अब उसके ससुर की समझ मे बात आ गई थी?..फिर उन्होने अपने प्लान का दूसरा आक्ट शुरू किया. अब वो नीता के कमरे मे जा कर उससे बातें करने लगे. नीता को भी समझ रहा था. उसने भी सोचा खेल बुरा नही है. अब वो भी अपने कपड़े उल्टे सीधे पहेन कर घूमती. जब ससुर कमरे मे आने वाले होते तो वो पतले से सी थ्रू कपड़े वाले सलवार कमीज़ पेहेन्ति और बिना ब्रा के अपनी चुचियों का प्रदर्शन करती. ससुर भी अब उसके आगे पिछे हाथ फेरने लगे. लता ने ये सब नोटीस किया पर चुप रही.

?चलो बाहर बैठ कर टीवी देखते हैं? ये कहते हुए उसके कुल्हों को सहलाते और उसे बाहर ले आते. नीता भी भोली बनते हुए उनका साथ देती.

अब जब उसकी सास मंदिर जाती तो ससुर लता को समान लाने भेज देते और नीता को पास बिठा कर बातें करते. बातें तो कम करते थे पर उसके शरीर को ज़्यादा सहलाते थे. नीता भी अब उनसे बेझिझक चिपक कर बैठ जाती. वो उसके कंधों पे हाथ रख कर उसे अपनी छाती पर दबोचते और वो भी सीधी बिल्ली की तरह उनकी छाती पर सर रख कर बात करती रहती. धीरे धीरे बात आगे बढ़ने लगी? एक दिन ससुर का हाथ फिसल कर उसकी पीठ पे आ गया और कमर पे चला गया. नीता की चूत अब रोज़ ससुर के स्पर्श के इंतेजार मे दाहाकति थी?.धीरे धीरे उसके कूल्हे दबाना आम बात हो गई. अब पास बैठने पर नीता का हाथ उनकी जाँघ पर चला जाता और उनका हाथ उसके मम्मो को साइड से दबाने लगता.नीता चुदाई की आग मे जल रही थी. एक दिन उसने बेशर्मी से अपने शरीर को टर्न कर दिया ताकि ससुर का हाथ उसके बूब्स को पकड़ सके?..ससुर को तो इसी लड्डू की चाह थी? उन्होने मौके का फयडा उठाया और उसके बूबे सहलाने लगे?..अगले दिन से तो मौका मिलते ही ससुर उसके बूब पकड़ लेते और वो शर्मा करअपना मुँह उनकी छाती पे रख देती?.. लेकिन चुदाई अभी बाकी थी?..
-  - 
Reply
09-02-2018, 11:54 AM,
#5
RE: Mastram Story प्यार की खुजली
ससुर समझ तो गये थे पर जल्दबाज़ी नही करना चाहते थे. अब उन्होने उसके
कूल्हे दबाते दबाते उसकी गांद के छेद मे उंगली रगड़ना शुरू कर दिया. नीता
गरम हो जाती पर शरमाने की आक्टिंग करते हुए उनके हाथ को हटा देती?.

एक दिन मौका देख कर ससुर उसके पीछे किचन मे चले गये. उसकी कमर मे हाथ डाल
कर बातें करने लगे. नीता इंतजार करने लगी कब उनका हाथ उपर जाकर उसके
मम्मे पकड़ेगा. पर ससुर ने हाथ उपर की बदले नीचे कर लिया और उसकी गांद
सहलाने लगे. जब नीता कुच्छ ना बोली तो उन्होने उसकी गांद की दर्रार मे एक
उंगली डाल दी. नीता ने आदत के मुताबिक उनका हाथ हटाना चाहा पर आज ससुर का
लंड पूरी गर्मी मे था. उन्होने उसके आगे आकर दूसरे हाथ से उसका हाथ पकड़
लिया.

धीरे से मुस्कुराते हुए उन्होने उसका हाथ दबाया और अपना शरीर उसके शरीर
से चिपका दिया. ?ऐसे मत किया कर? कहते हुए उन्होने अपनी उंगली उसकी गांद
की दरार मे और अच्छी तरह फिट कर दी और घिसने लगे. नीता अपने शरीर की
गर्मी से बहाल थी. कुच्छ ना बोली और चुपचाप खड़ी एंजाय करने लगी. ससुर ने
उसके गाल पे किस किया और उसे दबोच लिया. उनका टाइट लॉडा उसकी चूत से टकरा
गया. वो बिना सोचे थोड़ी उँची हुई और उनके लंड से अपनी चूत को भिड़ा
दिया.इतने मे आवाज़ आई और दोनो अलग हो गये. लेकिन लता की समझ मे आ गया कि
कुच्छ हो रहा था. वो स्माइल करते हुए ससुर को आँख मार कर चली गई.अब ससुर ने पक्का इरादा कर लिया था नीता को चोदने का.


लेकिन भगवान को ये मंजूर नही था.

उसी रात रमेश का छ्होटा भाई नितिन आ गया. ऑफीस के काम के सिलसिले मे वो
आया था और चार दिन रुकने वाला था. खाना खाने के बाद जब हाथ धोने गया तब
उसने नोटीस किया किस तरह उसके पिता ने नीता की गांद पर चालाकी से हाथ
फेरा था. वैसे तो वो नीता की सेक्सी बॉडी पे पहले से ही फिदा था और ये
देख कर तो उसका लंड तन तना गया.

अगले दिन सुबह बोला ?भाभी मुझे अपनी वाइफ रीना के लिए शॉपिंग करनी है. आप
साथ चलो.? नीता की चूत आज ससुर के लंड के लिए बेताब थी पर ना करना
मुश्किल हो गया जब रमेश ने भी उससे जाने को कहा.

शॉपिंग करते हुए नितिन ने अपना हाथ साफ करना शुरू कर दिया. नीता के
कुल्हों पर और कभी कमर पे हाथ रख देता. नीता तो वैसे ही तड़प रही थी
सेक्स के लिए और नितिन का हाथ उसे और गरम करने लगा.

ऑटो मे आते वक़्त नितिन ने सामान एक तरफ रख दिया और नीता के साथ चिपक कर
बैठ गया. नीता कुच्छ ना बोली. फिर क्या था, नितिन ने उसके कंधे पर हाथ रख
दिया और बातें करने लगा? आप खुश तो हो ना हमारे घर मे??. ?हां खुश तो
हूँ. तकलीफ़ किस बात की? सभी अच्छे हैं.? नीता बोली और एक प्यारी सी
मुस्कान दे दी. ?भैया कैसे हैं?? नितिन ने पुछा. ?वो भी अच्छे हैं. सीधे
साधे हैं. आपकी तरह शैतान नही हैं? नीता मुस्कुराते हुए बोली.

झट से नितिन ने अपना हाथ नीचे किया और उसकी बाँह और उरोजो के बीच डाल कर
उसे अपनी ओर दबोच लिया ?मैं शैतान हूँ?? . नीता को उसके शरीर की गर्मी ने
निढाल कर दिया. ?ऐसे क्या कर रहे हो, ड्राइवर देख रहा है.? वो धीरे से
फुसफुसा कर बोली. ?उसे थोड़े ही पता है कि हम हज़्बेंड वाइफ नही हैं.? ये
कहते हुए नितिन ने दूसरे हाथ से उसका एक बूब पकड़ लिया और उसके होठों पे
लंबी किस दे दी.

नीता का हाथ अपने आप उसके लंड पे चला गया. ?रमेश के साथ मज़ा नही आता लगता
है?? नितिन ने उसकी चूत को सहलाते हुए पूछा. ?मज़ा तो आता है पर हमारी
सेक्स लाइफ मे वेराइटी नही है.? शरमाते हुए नीता बोली और उसका लंड दबा
दिया.

?आज रात को एक बजे के करीब मेरे कमरे मे आना? नितिन ऑटो से उतरते हुए
बोला. नीता ने गर्देन हिला के हां कर दी पर बोली ?देखती हूँ, डर लगता
है???

खाना खाने के बाद सब बैठ कर बातें करने लगे. नितिन और नीता एक दूसरे को
आँखों ही आँखों मे इशारे करते रहे. ससुर को महसूस हुआ कुच्छ गड़बड़ है पर
क्या करता?

रात डेढ़ बजे तक जब नीता नही आई तो नितिन बेताब हो गया. वो दबे पाँव नीता
के कमरे के पास गया. जैसे ही दरवाजा धकेला नीता सामने खड़ी थी. दोनो
चुपचाप नितिन के कमरे की ओर चले गये.

अंदर आते ही दरवाज़ा बूँद करके एक दूसरे से लिपट गये. जब शोला आग मे बदल
गया तो नितिन ने अपना पाजामा उतार दिया और अपना लंड नीता के हाथ मे दे
दिया. नीता उत्तेजना से काँप रही थी. नितिन समझ गया कि वो समझ नही पा रही
क्या करे.
-  - 
Reply
09-02-2018, 11:54 AM,
#6
RE: Mastram Story प्यार की खुजली
प्यार की खुजली-3

नितिन ने हल्का दबाव डाल कर उसे बिठा दिया और अपना लंड उसके मुँह मे डाल
दिया. नीता को यही चाहिए था. उसने उसके लंड को मज़े ले कर चूसना शुरू कर
दिया. अपनी मा की हर हरकत याद कर रखी थी उसने. नितिन के आनंद का कोई एंड
नही था. वो ये सोच कर हैरान था की इतनी सेक्सी औरत को रमेश क्यों नही समझ
पाया.

जब उसका लंड लॉडा हो गया नितिन ने उसे उठाया और बिस्तर पर लिटा दिया.
उसको नंगा करते हुए पुछा ?कैसे करना है??. नीता शर्मा गई ?कुच्छ नया करो?
कहते हुए अपनी आँखें बूँद कर ली. नितिन ने उसे उल्टा किया और उसकी गांद
पकड़ कर उसे उठाया ताकि उसका लंड उसकी चूत मे पेल सके.

फिर जो चुदाई उसने की और जो मीठा दर्द नीता को मिला वो बहुत कम लोगों को
नसीब होता है. नितिन कभी धीमा तो कभी तेज शॉट मारता और नीता कभी उसका लंड
लेने के लिए पीछे जाती तो कभी इंतजार करती?.

दो बार उसकी चूत से पानी निकल गया था पर नितिन ख़तम नही हुआ था. इतनी
बढ़िया गांद देख कर उसका लंड हार मानने से मना कर रहा था. आख़िर नीता थक
गई और नितिन भी. फिर नितिन बैठ गया और नीता उसके उपर चढ़ गई. नीता ने
अपनी मर्ज़ी मुताबिक कूद कूद कर हिला हिला कर नितिन के लंड के मज़े लिए.


नितिन ने उसके मम्मे चूस चूस कर सूखा दिए. उसकी निपल तो मानो उसके होंठ
छ्चोड़ना ही नही चाहते थे.
?आज मेरे काफ़ी सपने पूरे हो गये, लो इसको भी चूसो? कहते हुए नीता ने
अपना दूसरा निपल उसके मुँह मे थेल दिया.

उसी वक़्त ससुर अपने कमरे से बाहर आ गये क्योंकि उन्हे नींद नही आ रही
थी. नीता की गांद की याद कर कर के उनका हाल खराब था. उन्हे नितिन के कमरे
से कुच्छ आवाज़ आई. जब कीहोल से देखा तो उनका दिमाग़ खराब हो गया. उनकी
बहू नितिन के लंड पे सवारी कर रही थी. अंदर बाहर होते नितिन का लंड देख
कर उनको रोना आ गया?. मुर्गी पकाई किसने और खा रहा था कोई और??..

करीब एक घंटे तक वो चुदाई करते रहे और ससुर परेशान अपने कमरे मे सोचता रहा?

नितिन इसको सॉफ नही करोगे क्या?? नीता ने अपनी चूत दिखाते हुए नितिन से
कहा. नितिन स्माइल करते हुए उसकी लाल चूत पे अपनी जीभ चलाने लगा. जब तक
नीता थॅकी नही नितिन उसको ऑर्गॅज़म देता रहा.

अगले दिन भी दोनो साथ चले गये शॉपिंग के बहाने. बाहर होटेल मे जा कर तीन घंटे तक नितिन ने उसे ठोका. नीता ने भी अपनी हर तमन्ना पूरी की. सिर्फ़ अपनी गांद नही मरवाई?..आखरी दिन नितिन अपने काम से बाहर चला गया और घर मे कोई नही था तब ससुर नीता के कमरे मे पहुँच गया. नीता नितिन की याद मे अपने मम्मे सहला रही थी.आजकल हमारी बेटी हमसे बात ही नही करती? कहते हुए ससुर अंदर आए. नीता समझ
गई वो क्या कहना चाहते थे. वो जा कर उनके गले से लिपट गयी ?पापा ! ऐसा कुच्छ नही है. नितिन के साथ बाहर जाना पड़ा. आपको तो पता ही है.?.?बहुत मज़े किए नितिन के साथ लगता है.? कहते हुए ससुर ने उसके कूल्हे दबा दिए और अपने शरीर से चिपका दिया. ?बस शॉपिंग की उनके लिए? कहते हुए नीता ने अपनी एडी उपर उठाई और उनके लंड का एहसास अपनी चूत को दिया.

?रात को मेरी नींद खुली थी तब मैने कुच्छ देखा था...? कहते हुए ससुर ने
उसका एक गरम चुम्मा ले लिया.

यह सुनते ही नीता शर्मा और घबरा गई. वो भाग कर बिस्तर पर मुँह छुपा कर
लेट गई. ससुर भी उसके पिछे गये और उसकी गांद दबाते हुए बोले ?शरमाती
क्यूँ है? मुझे तो मालूम है सब.? और ससुर ने उसकी सलवार के उपर से उसकी
गांद की दरार मे उंगली घिसनी शुरू कर दी.

यह सुनते ही नीता शर्मा और घबरा गई. वो भाग कर बिस्तर पर मुँह च्छूपा कर
लेट गई. ससुर भी उसके पिछे गये और उसकी गांद दबाते हुए बोले ?शरमाती
क्यूँ है? मुझे तो मालूम है सब.? और ससुर ने उसकी सलवार के उपर से उसकी
गांद की दरार मे उंगली घिसनी शुरू कर दी.

?उन्न्ह..? के अलावा नीता के मुँह से कुच्छ नही निकला. ससुर ने धीरे से
उंगली उसकी चूत तक पहुँचाई और बोले ? नितिन के साथ कई बार किया लगता है.
-  - 
Reply
09-02-2018, 11:55 AM,
#7
RE: Mastram Story प्यार की खुजली
बहुत देर अंदर थी तू?. ?नही पापा, थोड़ी देर सिर्फ़? कहते हुए उसने अपनी
टाँग फैला दी ताकि ससुर उसकी फूली हुई चूत को ठीक से दबा सके. ससुर उसकी
चूत को अपने पंजों मे पकड़ कर मसल्ने लगे.

?कितने तरीके से उसने तुझे ठोका?? कहते हुए ससुर ने उसकी चूत को मसलना जारी रखा.
?आप को तो सब पता है.? नीता ने बिना हीले कहा. ससुर ने अब अपना डाइरेक्षन
बदला और दूसरे हाथ के पंजों मे उसकी चूत ले ली. दूसरे हाथ उसके शरीर के
नीचे डालते हुए उसका एक मम्मा पकड़ लिया.

?सिर्फ़ यहीं पे डाला या इधर भी?? कहते हुए ससुर ने उसकी गांद के छेद मे
उंगली डाल दी. ?अनन्न.. नही इधर नही? कहते हुए उसने अपनी गांद हिलाई.

?थोड़ा उपर हो, नाडा खोलने दे? कहते हुए ससुर ने हाथ उसके पेट के नीचे
रखा. ?एलास्टिक है? कहते हुए नीता थोड़ी उपर उठी और ससुर ने उसकी पनटी
समेत उसकी सलवार घुटनों तक उतार दी.

बोल ना कैसे पेला तुझको?? ये कहते हुए ससुर ने उसकी चूत पकड़ ली और उसे
थोड़ा उपर उठाया. नीता ने अपने घुटनों को थोडा मोड़ा और उपर उठ गयी. ससुर
उसके पीछे आ गये और उसकी गांद को चूमने लगे.

?बहुत अच्छी तरह से चोद्ते हैं नितिन्जि? कहते हुए नीता ने अपनी गांद
थोड़ी और उठाई ताकि उसके ससुर उसकी चूत की खुश्बू ले सकें. ससुर भी समझ
गये और उसकी चूत को चूसने और चाटने लगे.

?उसने तुझे घोड़ी बना कर चोदा था?? ससुर ने पुछा. ?हर तरह से चोदा था, जो
आप और लता करते हैं.? कहते हुए नीता ने अपनी गांद उनके मुँह पे दबाई.

?सच बता उसका लंड चूसने मे ज़्यादा मज़ा आया या चूत चुसवाने मे? ससुर ने
एक उंगली करीब एक इंच उसकी गांद मे धीरे धीरे डाल दी. ?दोनो मे मज़ा आता
है. चुसवाने मे ज़्यादा? नीता बोली.

नीता अब तक अपना चेहरा अपने हाथों मे च्छुपाए हुए थी. ससुर की गीली जीभ
चूत पर लगते ही उसकी गर्मी बढ़ गयी. ?यहाँ भी चॅटो ना..? कहते हुए उसका
एक हाथ अपनी गांद पर चला गया. ससुर तो सब कुच्छ करने को तय्यार थे अपनी
बहू की चूत मे अपना लॉडा पेलने के लिए. वो मज़े ले लेकर उसकी चूत और गांद
के छेद को गीला करने लगे. नीता भी अपनी गांद आगे पीछे करने लगी उनकी जीभ
पाने के लिए.

अब ससुर ने अपना एक हाथ उसके बूबे पर दे दिया और मसल्ने लगे. फिर जब उनकी
बर्दाश्त से बाहर हो गया तो उन्होने अपना पाजामा उतारा और उसकी चूत पे
अपना लंड टीका दिया. धीरे धीरे उसकी चूत मे अपना लंड पेलने लगे.

नीता भी
उस लंड का आनंद लेने लगी जिस का इंतजार कई दिनो से उसको था.

पापा ! ज़ोर से करो ना !? नीता चुलबुलाई?.

ससुर ने उसकी कमर कस के पकड़ ली ओर अपनी रफ़्तार बढ़ाई. काफ़ी देर मज़े
लेने के बाद और दो बार पानी निकालने के बाद नीता तक गई. ससुर तो अभी भी
ज़ोर मे थे. नीता नीचे हो गई और उनका लंड बाहर आ गया. ससुर से रहा नही
गया. उन्होने उसको टेढ़ा किया और उसकी एक टाँग अपने कंधे पे रख दी और
अपना लंड अंदर पेल दिया. नीता उनकी काम क्रिया से खुशी से फूल गई. वो
अपनी थकान भूल कर मज़े लेकर धक्के का जवाब देने लेगी.

ससुर ने एक उंगली उसकी गांद के छेद मे डाल दी और लंड के बहाव के साथ
उंगली अंदर बाहर करने लगे.?पापा ! उंगली पूरी अंदर डालो? कहते हुए नीता
ने ससुर को उकसाया. ससुर अब उंगली से उसकी गांद सेक रहे थे और लंड से
उसकी चूत.....नीता अपने माममे सहलाते हुए उनके हर धक्के का जवाब देती गई.

तभी कोई आवाज़ आई. ससुर ओर नीता कुछ सेकेंड के लिए रुक गये. पर जब कोई और
आवाज़ ना आई तो ससुर और नीता ने अपनी काम क्रिया चालू रखी. जैसे ही ससुर
झाड़ गये और नीता पर लुढ़क गये नीता बिस्तर से उतर गई. अपने कपड़े पहेन
कर उसने ससुर के लंड को प्यार से पाजामे मे डाला और नटखट मुस्कान देती
हुई बोली ?आपका ये सबसे प्यारा है.?. ससुर अपने लंड की तारीफ सुन कर खुशी
से फूल गया ?ये? मतलब?? उन्होने जान बूझ कर पुछा. नीता तो बेशर्मी की सब
हद पार कर चुकी थी, बोली ?आपका लॉडा अपने बेटों के लंड पे काफ़ी भारी
है.? ये सुन कर ससुर खुश हो गये और अपने कमरे मे जा कर फिर एक बार मूठ
मारी.

जब आवाज़ आई थी तब नितिन घर मे आया था. किसिको बाहर ना देख कर वो अपने
कमरे मे चला गया था. नीता जब बाहर आई और नितिन का कमरा खुला देखा तो झट
अंदर चली गई. नितिन को देखते ही उसका हाथ अपनी जांघों पर चला गया और
चेहरे पर नटखट मुस्कान आ गई.
-  - 
Reply
09-02-2018, 11:55 AM,
#8
RE: Mastram Story प्यार की खुजली
आओ भाभी !? कहते हुए नितिन ने उसे बिस्तर पर लिटा दिया. वो दो दिनो मे
समझ गया था नीता को क्या चाहिए था. बिना कोई और बात किए उसने नीता की
सलवार खींच ली और उसकी चिकनी गुलाबी चूत मे मुँह डाल दिया.

नीता तब तक मज़े लेती रही जब तक उसे याद नही आया कि रमेश के आने का वक़्त
हो गया है. वो उठ कर खड़ी हो गयी और नितिन से लिपट गई. ?तुम जैसा किसिका
नही? कहते हुए उसने नितिन का लंड अपने पंजों मे दबोचा और चली गई. नितिन
खुशी से झूम उठा. लेकिन उसे आज ही वापस जाना था. अगली बार के सपने देखते
हुए वो लौट गया.

रात को गरम हुई पड़ी नीता ने रमेश के लंड को पकड़ लिया और तब तक उस लंड
से खेलती रही जब तक रमेश ने उसकी चूत पूरी गीली नही कर दी. आज उसने
हिम्मत कर के रमेश के लंड को मुँह मे डाल ही दिया जब वो चुदाई करके निढाल
बिस्तर पर लेटा था. रमेश को यह कुच्छ अजीब लगा पर मज़ा आया इसलिए चुप
रहा. ?आपका ये कितना प्यारा है जानू !? कहते हुए नीता ने उसके टटटे
सहलाए.

रमेश ये सुन कर जोश मे आ गया और फिर नीता को चूमने लगा. नीता धीरे से
बोली ?क्या आप को मेरी ये अच्छि नही लगती?? और उसने अपना हाथ अपनी छूट पे
रख दिया. ?तुम्हारी तो बहुत प्यारी है.? कहते हुए रमेश ने पाने पंजों मे
उसकी चूत दबोच ली. ?तो आप इसको चुम्मि क्यों नही देते?? नीता शरमाने की
आक्टिंग करते हुए बोली और उसका लंड कस के पकड़ लिया. लंड पे दबाव और नीता
कि सेक्सी बात सुन कर रमेश उल्टा हो गया और उसकी चूत मे मुँह डाल दिया.
नीता निब ही उसके लंड को मुँह मे डाल कर ऐसा दबाया कि रमेश अगले आधे घंटे
तक उत्तेजित हो कर उसकी चूत चाटने मे मस्त रहा. तब तक नीता ने उसके लंड
को चूस चूस कर निढाल कर दिया?..

रात भर नीता सोई नही. आज उसने अपने ससुर से चुदवाया, फिर नितिन से
चुस्वाया, और आख़िर रमेश को चूसा. उसका मान खुशी से बाग बाग हो रहा था और
उसकी चूत पानी पानी?

अब तो उसकी हिम्मत जैसे खुल गई थी.उसके सब्र का बाँध अब टूट गया था. उसके
सामने अब एक अनंत समुंदर था काम वासना का.

सुबह उठ कर रमेश का लंड चूस्ति और जब वो तय्यार हो जाता तब उस पर सवारी
करती. जब तृप्त हो जाती रमेश से चुस्वाती और तभी उसको अपने हिसाब से
चोदने देती.

नाश्ता देने के बहाने ससुर के कमरे मे जाती और उनसे अपने शारीर का भोग
लगवाती. 

वो चोद तो नही पाते थे पर उसके शरीर के हर अंग को दबाते और चूमते
ज़रूर थे. दोपहर मे जब सास नही होती तब नीता को अपनी जांघों पर बिठा कर
उसकी चूत की आग ठंडी करते. लता को काम से अब हटा दिया गया था ताकि नीता
और ससुर मज़े कर सके.

कुच्छ महीनों बाद नीता को मायके जाने की इच्च्छा हुई. रमेश उसे छ्चोड़ने
गया.ट्रेन मे पता नही कितने लोगों ने नीता के कूल्हे पे हाथ फेरा और
कितनों ने उसकी गांद पे अपना लंड सेका. नीता की नाभि से नीचे गिरती सारी
और उसका उभरा वक्ष देख कर हर मर्द तन जाता था.

स्टेशन पर जब वो उतरे तो जीतू अपनी बहेन तो देख कार दंग रह गया. उसके
छ्होटे छ्होटे वक्ष अब पूरी तरह उभर गये थे. सारी से बाहर झाकती उसकी
नाभि ने जीतू को हिला दिया.

घर पहुँच कर इधर उधर की बातें हुई और रात को दोनो नीता के कमरे मे सोने
चले गये. जीतू से रहा नही गया. वो कीहोल से उनकी काम क्रिया देखने लगा.
जिस तरह नीता ने रमेश को अपना पेटिकोट उठा कर ललचाया और जिस तरह रमेश ने
उसकी फुददी मे मुँह घुसाया जीतू फिर हिल गया. वो अपना लंड पकड़ कर दबाने
लगा. तभी कमला ने उसे देख लिया और उसके कान पकड़ कर अपने कमरे मे ले गई
?शरम नही आती, अपनी बहेन को देखता है?. ?क्या करूँ मा ! दीदी आज इतनी गरम
दिख रही थी कि सहेन नही हुआ.? जीतू बोला और अपनी मा से चिपेट गया.


?खबरदार जो कभी उसकी तरफ ग़लत नज़रों से देखा? कहते हुए कमला ने ब्लाउस
खोल कर अपना एक निपल उसके मुँह मे दे दिया?..

अगले दिन रमेश सुबह चला गया. नीता नहा कर जब बाहर आई तब उसने सिर्फ़
पेटिकोट और ब्रा पहना. उपर टवल लप्पेट कर वो बाहर आ गई. उसके टवल और
पेटिकोट मे से झाँकती उसकी नाभि को देख कर जीतू का लंड डोलने लगा. नीता
ने नोटीस किया उसे और धीमी मुस्कुराहट देती हुई अपने कमरे मे चली गई.

जीतू चुपके से अपनी बहेन के कमरे की तरफ गया. देखा दरवाज़ा खुला था. अंदर
देखा तो उसका दिल धक धक करने लगा. नीता ब्लाउस और पेटिकोट पहने काँच के
सामने खड़ी थी. काँच मे उसे देखते ही बोली ?जीतू ज़रा ये हुक्स खोल दे
ना, दूसरा ब्लाउस पहेनना है.?

जीतू को और क्या चाहिए था. वो उसके पिछे जा कर खड़ा हो गया और उसके हुक्स
खोलने लगा. ?दीदी आप तो अब बहुत सेक्सी दिखने लगी हो.जीजाजी बहुत खुश हैं
लगता है? जीतू बोला. नीता बोली ?मा जैसी खूबसूरत कहाँ हूँ मैं. वैसे तेरे
जीजाजी मुझे आछे लगते हैं? कहते हुए वो कुसकुराइ.

जीतू ने ब्लाउस के साथ साथ उसकी ब्रा के हुक्स भी खोल दिए और धीरे से हाथ
आगे डाल कर उसके बूबे पकड़ लिए ?आपके पहले कितने छ्होटे थे, अब तो आपके
भी बहुत बड़े हो गये हैं.?. उसके हाथ मे अपने बूबे देख कर नीता का शरीर
कांप उठा, उसने उन्हे अलग करने की कोई कोशिश नही की, ?शरम नही आती अपनी
बहेन के दबाता है.? और बड़ी आसानी से अपना ब्लाउज उतार दिया.

?क्या करूँ आप तो जानती हो सब कुच्छ, आदत हो गई है? ये कहते हुए उसने
अपना कड़क होता हुआ लंड नीता की गांद से चिपका दिया. ?ये क्या कर रहा है?
कहते हुए नीता ने अपना एक हाथ पिछे डाल कर उसके लंड को दबाया.

?दीदी रोको मत, प्लीज़ !? कहते हुए उसने ब्रा को उपर धकेल दिया और उसके
नंगे बूबे पकड़ लिए. एक हाथ से ब्रा को अलग करते हुए नीता बोली ? नही
जीतू, तू मुझसे दूर ही रह?.
-  - 
Reply
09-02-2018, 11:55 AM,
#9
RE: Mastram Story प्यार की खुजली
प्यार की खुजली-4

जीतू ने उसके निपल्स अपनी उंगलियों मे पकड़ लिए और बोला ?दीदी देखो ना
कितने कड़क हैं.? नीता के शरीर मे हवस की ल़हेर दौड़ गई लेकिन उसे पता
नही क्यूँ किसी चीज़ ने रोक दिया. उसने उसका हाथ अलग किया और ?तू जा?


कहते हुए वो अपना काम करने लगी. जीतू बेमन से चला गया.

वहाँ जब बस मे रमेश और कमला गये तो भीड़ के कारण दोनो के शरीर चिपक गये.
रमेश को पता ही नही चला कब उसका लंड कमला की गांद से चिपक गया. उससे
कुच्छ समझ आता तब तक तो उसका लंड कड़क हो चुक्का था. कमला उसके लंड को
महसूस कर रही थी अपनी गांद पर और मन ही मन मुस्कुराते हुए एंजाय कर रही
थी. रमेश भी कुच्छ देर बाद एंजाय करने लगा अपनी सास की गांद का कोमल
स्पर्श. जब जब बस हिलती वो लंड उसकी गांद की दरार मे दबा देता. कमला की
तरफ से भी कोई ऑब्जेक्षन या मूव्मेंट ना देख कर रमेश ने धीरे से अपना हाथ
उसकी कमर पे रख दिया और धीरे धीरे उपर ले गया. अपनी उंगलियों से उसके
मम्मो पर दबाव डाल कर एंजाय करते हुए उसने अपना लंड बुरी तरह कमला की
गांद पे टेक दिया और अपना पानी निकाल दिया. कमला ने भी पूरा साथ दिया और
पिछे गांद दबा कर उसके लंड को पूरा मज़ा दिया. तभी स्टॉप आ गया और दोनो
उतर गये.

स्टेशन पर दोनो थोड़ी देर बेंच पर एक दूसरे के करीब बैठ गये. लेकिन ट्रेन
जब लेट आने की अनाउन्स्मेंट हुई तो कमला आ गई. दोनो मन ही मन कुच्छ चाहते
थे पर कह ना पाए....

जब उनकी मा वापस आई और नीता के कमरे मे गई तो देखा नीता सिर्फ़ पेटिकोट
पहेन कर सो रही थी. उसके उभारों को देख कर कमला हैरान रह गई. कुच्छ ही
महीनों मे उसकी बेटी लड़की से औरत बन गयी थी. उसके उपर नीचे होते हुए
वक्ष और खड़े हुए निपल्स देख कर उसे हैरानी भी हुई और खुशी भी. वो समझती
थी कि ऐसी भरी हुई औरत ही अपने पति को खुश रख सकती है.उससे क्या पता था
कि उसकी लड़की पूरी फॅमिली को खुश कर रही थी?.

शाम को नीता सिर्फ़ ब्लाउस पहेन कर बाहर आ गई. उसके पतले ब्लाउस मे से
उसके निपल्स झाँक रहे थे. उसका पेटिकोट नाभि से एक इंच नीचे था. उसका पेट
सपाट और चिकना चमक रहा था. उसकी मा उसे देख कर खुश हो गई. ?आप इतनी गर्मी
मे ये सारी क्यूँ पेहेन्ति हो.? नीता ने पुछा. ?आदत हो गयी है, तू कहती
है तो उतार देती हूँ? ये कह कर कमला ने अपनी सारी उतार दी. नीता ने अपनी
मा के वक्ष और नाभि को गौर से देखा. उसकी मा के अंदर का सेक्स छलक रहा था
उसके छ्होटे ब्लाउस मे से.

तभी जीतू आ गया. उन दोनो को इस अवस्था मे देख कर उसका लंड खलबली करने
लगा. जब वो खाना खाने बैठा तो नीता के लटकते हुए आम देखने के लिए बार बार
कुच्छ माँग लेता. नीता समझ रही थी और जानबूझ कर उसके सामने झुकती. उससे
जीतू को तड़पाने मे मज़ा आ रहा था.

रात को जब जीतू मा को चोद रहा था उसके मुँह से आख़िर निकल पड़ा ?मा दीदी
अब कितनी सेक्स से भरी हुई लगती है ना??. कमला बोली ?तुझे मना किया है ना
नीता के बारे मे ग़लत सोचने से, खबरदार!? और तब तक जीतू का वीर्य उसकी
चूत मे आ गया. वो कमला की बगल मे सो गया और उसके निपल से खेलते हुए बोला
?मा, दीदी को हमारे बारे मे सब पता है. शादी से पहले से ही. आज मैने उसके
मम्मे भी दबाए.लेकिन फिर उससने मुझे कुच्छ करने नही दिया. मा मुझे दीदी
के साथ करने दे ना? एक बार सिर्फ़?तू उससे मना ले प्लीज़??.

कमला परेशान हो गई ये सुन कर. फिर उससने सोचा कि अगर नीता को ये सब पता
है तो उसे भी जीतू से चुदवाने दे ताकि वो किसिके सामने मुँह ना
खोले.?लेकिन तू वही करना जो मैं कहूँगी, एक कदम भी नही, समझा??. ?बिल्कुल
समझा? कहते हुए खुशी से जीतू ने मा की पप्पी ले ली.

अगले दिन कमला नीता के कमरे मे गई और उसके साथ बात करने लगी. प्लान के
मुताबिक जीतू भी आ गया और मा की गोद मे सर रख कर लेट गया. उसने अपने पैर
नीता की जांघों पर रख दिए. कुच्छ देर बाद वो उल्टा हो गया और अपना सर
नीता की गोद मे रख दिया. नीता सोच मे पड़ गई क्या करे. चुपचाप बैठी रही.
जीतू धीरे से उसकी जांघों के बीच मे आ गया. अब धीरे से उसने करवट बदली और
नीता की चूत पे होंठ रख दिए. नीता की हालत खराब हो रही थी. एक तरफ वो
सेक्स के लिए गरम हो रही थी दूसरी तरफ मा के सामने कुच्छ कर भी नही पा
रही थी.

अचानक कमला उठ कर अपने कमरे मे चली गई. उसके जाते ही जीतू ने नीता का एक
आम पकड़ लिया. नीता ने उसका हाथ पकड़ लिया और धीरे से बोली ?मा देख लेती
तो??. जीतू समझ गया मामला गरम है. ?मा के सामने थोड़े ही पकड़ा था? ये
कहते हुए जीतू ने उसका ब्लाउस खोल दिया और उसकी एक निपल अपने होठों के
बीच डाल दी. नीता सिर्फ़ देखती ही रह गई. इतनी हिम्मत तो नितिन या उसके
ससुर ने भी नही की थी. ? रुक ज़रा? कहते हुए नीता गई और डोर बंद कर के
वापिस आई .

ले चूस? कहते हुए नीता ने अपना ब्लाउस उतार फेंका और निपल उसके सामने रख
दिया. जीतू ने उससे अपने उपर खींच लिया और उसका निपल चूसने लगा. नीता उस
पर लेटी हुई अपनी चूत को उसके पेट की गर्मी देती रही. जीतू उसकी गांद
दबाने और सहलाने लगा. ?दीदी आपकी गांद कितनी कड़क है? कहते हुए अपनी एक
उंगली से उसकी दरार मे घिसने लगा.नालयक कहीं का? कहते हुए नीता ने उसे चूम लिया. ?दीदी आप सिर्फ़ एक आदमी
से कैसे खुश रह सकती हो? आपका मन नही करता दूसरों से चुदवाने का?? जीतू
ने ये कहते हुए उसका नाडा खोल दिया और पेटिकोट नीचे खिसका दिया. ?तू भी
तो सिर्फ़ मा से खुश है?? नीता ने उल्टा सवाल किया. ?दीदी मा को पता नही
लेकिन मैं अपनी पड़ोसन रानी को भी चोद चुका हूँ. और आप??. नीता मुस्कुरा
उठी उसकी बात सुन कर. ?मैं तो अपने पति के साथ ही खुश हूँ? कहते हुए
उससने दूसरा निपल उसके होठों मे डाल दिया. जीतू को क्या पता था उसकी दीदी
ने अपने ससुर को भी नही छ्चोड़ा था.........जीतू उसके निपल को चूस्ते हुए उसकी गांद मे उंगली डालने लगा. नीता ने
धीरे से अपना पेटिकोट उतार दिया ओर अपनी टाँग फैला दी ताकि जीतू उसके छेद
को पूरा एंजाय कर सके.

जब जीतू का लंड नीता के लिए बेकरार हो गया तो उसने नीता को धीरे से हटाया
ओर बिस्तर से नीचे उतार कर नंगा हो गया. नीता उसके सामने टाँग चौड़ी कर
के अपनी चूत खोल कर बोली ?आज सिर्फ़ देख ले. इसका भोग कल लगाने को
मिलेगा?. जीतू सीधा उसकी टाँगों के बीच गिर गया और उसके होंठ चूसने लगा.
उसका लंड नीता की चूत से जैसे चिपक गया था.
-  - 
Reply
09-02-2018, 11:55 AM,
#10
RE: Mastram Story प्यार की खुजली
इतने मे दरवाज़े के बाहर से उनकी मा की आवाज़ आई ?नीता दरवाज़ा खोल.
रमेशजी आयें हैं. उनकी ट्रेन कॅन्सल हो गई है.? ये सुनते ही दोनो के होश
उड़ गये. जीतू ने झट से कपड़े पहन लिए और खिड़की से मा के कमरे मे कूद
गया. नीता ने अपना ब्लाउस और पेटिकोट पहना और दरवाज़ा खोला.

नीता को ऐसी सेक्सी स्तिति मे देख कर रमेश के पसीने छूट गये. उसकी पतली
कमर पे नाभि से कई इंच नीचे लटकता हुआ पेटिकोट और ब्लाउस मे से कड़क उभरे
हुए निपल देख कर रमेश सून्न हो गया. कमला भी नीता को इस हालत मे देख कर
मन ही मन मुस्कुरा उठी. वो समझ गई जीतू ने उसे पटा लिया था?.

जैसे ही कमरे के अंदर दोनो घुसे रमेश ने उसका पेटिकोट उपर किया और उसकी
चूत मे उंगली डाल दी. ?ये तो पहले से ही गीली है? कहते हुए रमेश ने उससे
बिस्तर पर लिटा दिया और उसकी चूत मे मुँह मार दिया. रमेश को क्या पता था
की चूत जीतू के लिए गीली हुई थी, नीता बोली ?आप की याद मे टपक रहा था ये
पानी?. रमेश ये सुन कर और उत्तेजित हो गया और पॅंट उतार कर सीधा उस पर
चढ़ गया. आज उससने इतनी देर तक उसे चोदा जितना पहले कभी नही. नीता भी
जीतू को याद करते हुए चुदवाती रही?.

खाना खाते समय महॉल गर्म हो गया था. रमेश कभी अपनी सेक्सी नीता को देखता
तो कभी अपनी सेक्सी सास को. कमला बस के हादसे के बाद समझ गई थी कि रमेश
उसके शरीर को चाहता है. लेकिन जमाई होने की वजह से उसस्पर कुच्छ बंदिश
हैं. पर रात भर कमला को नींद नही आई. वो आख़िर इस नतीजे पे पहुची की उसको
अपने जमाई को खुश रखना चाहिए ताकि उसकी बेटी खुश रहे.

अगले दिन नीता और जीतू को बेज़ार भेज दिया कमला ने और उन्हे कहा अपनी
चाची से भी मिल आयें. रमेश ने बोर होने का बहाना कर दिया और घर पर ही रुक
गया. कमला समझ गैट ही रमेश ने क्यों मना किया था.

?मैं कमरा ठीक कर दूं. आइए आप भी वहीं बैठिए.? कहते हुए कमला अपने कमरे
की और चल दी. रमेश कुत्ते की तरह दूम हिलाता हुआ उसके पिछे चल दिया. कमला
ने अपनी सारी का पल्लू खींच कर अपने ब्लाउस के बीच मे डाल दिया और कमर मे
बाँध लिया ताकि जमाई राजा उसके बड़े बड़े मम्मों को देख कर उत्तेजित हों
और उसकी नाभि के दर्शन कर सकें.

?आप जैसा जमाई पा कर मैं धन्य हो गई. कितने अच्छे हैं आप.? कहते हुए कमला
ने अपनी सारी कमर से निकाली और पल्लू से मुँह पोंच्छने लगी. उसके ब्लाउस
मे कसे हुए बूबे देख कर रमेश मंत्रमुग्ध हो गया.

?मैं नहा कर आती हूँ? कहते हुए कमला ने धीरे से अपनी सारी खोलनी शुरू की.
उसकी कमर का कटाव देख कर राजेश तो जैसे पागल हो गया. जब उसने सारी पूरी
उतार ली और घूम कर कपबोर्ड की तरफ गई उसके पेटिकोट मे से छलक्ति उसकी
गांद की दरार देख कर वो अपने लंड को मसल बैठा.

?आप जैसे जमाई बहुत कम नसीब वालो को मिलते हैं.? मुस्कुराते हुए कमला
बोली और अपनी निकाली हुई पॅंटी को देखने लगी. राजेश अब पागल हुआ जा रहा
था. वो उठ कर उसके पीछे चला गया ?आप जैसी सास भी तो बहुत कम लोगों को
मिलती है? कहते हुए राजेश कमला से एक फुट दूर खड़ा हो गया.

कमला चाहती तो सब आज ही कर लेती पर फिर उसने अपने आप को समझाया. लेकिन
थोड़ा तो चलता है?. सोच कर उसने अपने ब्लाउस के बटन खोलने शुरू कर दिए.
?आप बहुत अच्छे हैं, नीता आपकी हमेशा तारीफ़ करती है? कहते हुए कमला पलट
गई और धीरे से अपना ब्लाउस उतारने लगी.


उसकी ब्रा से बाहर निकलने को बेचैन उसके वक्ष देख कर राजेश का लॉडा फूल
गया. लेकिन कमला ने जिस आसानी से उसके सामने अपना ब्लाउस उतारा था राजेश
सोच मे पड़ गया ?क्या ये मेरे लिए ब्लाउस उतार रही हैं या मुझे अपने
लड़के की तरह समझते हुए कर रही हैं??.

कमला थोड़ी देर ऐसे ही खड़ी रही ताकि रमेश उसके बूबे अच्छि तरह निहार
सके. ?ज़रा ये हुक खोल दीजिए? कहते हुए कमला मूड गई. राजेश तो यही चाहता
था. वो सीधा उसकी गांद से चिपक गया और हुक खोलने लगा.

?ये क्या कर रहे हैं? कहते हुए कमला ने अपनी गांद उसके गरम सख़्त लंड से
दूर करी. ?सॉरी !? रमेश इस के अलावा कुच्छ ना कह पाया. ?कल बस मे भी
आप?..? कहते हुए कमला मुस्कुराते हुए मूड गई क्योंकि हुक खुल गया था.
?माफ़ करना कल सब अंजाने मे हो गया? रमेश डर गया था. ?कोई बात नही, मुझे
बुरा नही लगा? कहते हुए कमला ने अपने कपड़े हाथ मे लिए और बाथरूम मे चली
गई.
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Sex kahani अधूरी हसरतें 272 251,036 04-06-2020, 11:46 PM
Last Post:
Lightbulb XXX kahani नाजायज़ रिश्ता : ज़रूरत या कमज़ोरी 117 101,375 04-05-2020, 02:36 PM
Last Post:
Star Antarvasna kahani अनौखा समागम अनोखा प्यार 102 276,861 03-31-2020, 12:03 PM
Last Post:
Big Grin Free Sex Kahani जालिम है बेटा तेरा 73 162,362 03-28-2020, 10:16 PM
Last Post:
Thumbs Up antervasna चीख उठा हिमालय 65 40,049 03-25-2020, 01:31 PM
Last Post:
Thumbs Up Adult Stories बेगुनाह ( एक थ्रिलर उपन्यास ) 105 58,766 03-24-2020, 09:17 AM
Last Post:
Thumbs Up kaamvasna साँझा बिस्तर साँझा बीबियाँ 50 84,430 03-22-2020, 01:45 PM
Last Post:
Lightbulb Hindi Kamuk Kahani जादू की लकड़ी 86 124,663 03-19-2020, 12:44 PM
Last Post:
Thumbs Up Hindi Porn Story चीखती रूहें 25 25,868 03-19-2020, 11:51 AM
Last Post:
Star Adult kahani पाप पुण्य 224 1,100,851 03-18-2020, 04:41 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


मॉ।बेटीxxxcomचढी खोलती हुई लडकी कि गाँड और बुरबडी भाभी को बडा और भोटा लनड दिखा के खूब चोदा सेकसी कहानियांManjari Mandira Bedi sexy chut ka photoसलवार समेत लङकी की जांघ ऊची चककर चोदाchut faadna videos nudebivine maako damadke pas chudvake maa banayaaai babane zavyla shikvle marathi sexy storiesEesha rebba sex baba nat image hdmastram ki kahaniGaddhe jaise mote lund se chut khulwaiकेवल दर्द भरी चुदाई की कहानियाँhath hatao andar jane do land ko x storyXxxmoyeeSxey kahneyahindiaashika bhatia nude images sex baba.comEtna choda ki bur phat gaimahamantri ke land Meri chut mein Dalo aur Dalo video BFdhavani bhanushali bilkul nange nude naked pussy sex sexy photowww.knlpana.xxx.comMa k bolnper bhan ko pregnent kya hindi sex story.inदेहाती देसी आंटी की चुदाई साड़ी पहने हुए मस्ती अभिलाषा पहने हुएचाचा से गांड मराकर गुलाम गान्डू बनाbehan ne maa ke sath bhai se chudai karwqi insects chudai kahanisexbaba- माँ की घमासान चुदाईpream गुरु की सेक्स कहानी sexbabaWwwhindisex story.sexbabaShubangi mavshi la zavleतबु गाँङ ईमेजBahabi ne dewar ko dood pelaya sexs qahani satoriChuma chatiसाया उघार के चोदा चोदी Xxxhd videodadi ke samane muthamara antarwasnapooja sharma mahabharat xxxrasmika bandan actr xxx photuलङकि कि भोस मे लँड डालता इमेजXxx hot sex videeo now desrmNew satori Bus me gand chodai Richa gongopadhyay sex baba net com sex gif images amma bra size chusanumaa beta aur sadisuda didi ki sexy kahaniya sex baba.comSexbaba.com bolly actress storieschacha be mameri Maa ki choda gandihindi batchit ke sathrajvanta sexy video.comSex blavuj phtohttps://septikmontag.ru/modelzone/Thread-raj-sharma-stories-%E0%A4%9A%E0%A5%82%E0%A4%A4%E0%A5%8B-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%B2%E0%A4%BE?pid=65532Papa, unke dost, beti ne khela Streep poker, hot kahaniyaDAKUO NE KHELI HOLI sex kahanipahale chote bahan ke sath sex chalu tha badme badi bahan ko b choda h d sex vidio daulodchapprhi chodachdi videoकिसी भी अंजान लडकी को मेले मे किसे पटायेwww.खूब श्रृंगार करके सेक्सी साड़ी पहनकर देवर को पटाया और चूत चुदवाने वाली कहानी.comचुत मे चुत रगरती Bbw xnxx.com.sasur se chudi bahu ahhhh unhhhmaaraate wwwxxxMonalisa sexbaba.com HD XXX फूल सैकसी बजे मूमेsneha ki nangi fake sexbabaXxx sex hot chupak se chudaiNaukar ka beej kokh me yum sex storyvadhu anna vinakunda ammanu sex chesina koduku sex storysचुचि दिखाकर भाई से चुदाई करवाईAnty jabajast xxx rep video भाई का लण्ड़ मेरी गांड़ पर चुभअन्तर्वसना स्कूटी सिखाते समय सौतेली माँ की गांड के स्पर्श से लन्ड खड़ा हो गयाmaaraate wwwxxxnude Jodha akbar xossipतुब हिरुई फोटोमराठी आंटी घुडी बनकर xnxxX vedio case bur vhidaemast rom malkin ki chudai ki kahanisex story gaaw me jakar ristedari me chudai