Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
10-04-2018, 11:37 AM,
#21
RE: Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
'आप कौन हैं मिस?' जयसिंह ने अचँभे से कहा.

'हीहीहाहाहा...पापा! क्या है आपको...इट्स मी ना...’ मनिका ने कुछ हँसते कुछ लजाते हुए कहा.

जयसिंह वैसे तो अपने ज्यादातर इमोशन मनिका से दिखावे के लिए ही व्यक्त करते थे पर अपने सामने खड़ी खूबसूरत लड़की को देख वे आश्चर्यचकित रह गए थे. मनिका की खूबसूरती के कायल जयसिंह ने देखा कि ब्यूटी-सैलून जाने के बाद तो उसका काया-पलट ही हो गया था. मनिका ने बालों में स्टेप-कट करवाया था जिससे उसके बाल किसी मॉडल से प्रतीत हो रहे थे. उसका चेहरा भी मेकअप से दमक रहा था और गोरे-गोरे गालों पर लालिमा फैली थी. मनिका की आँखों को काले मस्कारा ने और अधिक मनमोहक बना दिया था व उसके होंठों पर एक गाजरी रंग की स्पार्कल-लिपस्टिक लगी थी जिससे वे काम-रस से भरे हुए जान पड़ रहे थे, जब वे उसे तकते रहे और कुछ नहीं बोले तो मनिका ने खीखियाते हुए फिर से कहा,

'पापा! स्टॉप इट ना...’ वह तो बस मस्ती-मस्ती में हल्का सा मेकअप करवा आई थी और जयसिंह का रिएक्शन देख उसे लग रहा था कि वे उसकी टाँग खींच उसे सताने के लिए ऐसा कर रहे थे.

'पहले यह तो बता दो कि आप हैं कौन?' जयसिंह ने भी जरा मुस्कुरा कर मजाक करने के अंदाज़ से कहा.

कुछ देर तक यूँ ही उन दोनों के बीच खींच-तान चलती रही, उसकी खूबसूरती को निहारने के मारे जयसिंह रह-रह कर उसे देख मुस्काए जा रहे थे और उसके उनकी तरफ देखने पर कोई कमेंट कर उसे चिढ़ा रहे थे. आखिर मनिका को भी थोड़ी लाज आने लगी और वह बाथरूम में जा कर अपना मुहँ धो कर मेकअप साफ़ कर आई.

'अरे वो लड़की कहाँ गई जो अभी यहाँ बैठी थी?' जयसिंह ने मनिका को मेकअप उतारने के बाद देखते हुए पूछा.

'पापा आप फिर चालू हो गए...' मनिका हँसते हुए बोली.

'अरे भई इतनी सुन्दर लड़की के साथ बैठा था अभी मैं कि क्या बताऊँ?' जयसिंह ने उसे देखते हुए मुस्का कर कहा, 'पर पता नहीं कहाँ गई उठ कर अभी तुम्हारे आने से पहले...'

'हाहाहा पापा...भाग गई वो मुझे देख...' मनिका हँसते हुए बोली.

'ओह...मेरा तो दिल ही टूट गया फिर...' जयसिंह ने झूठा दुःख प्रकट किया.

'ऊऊऊ...क्यों पापा आपकी गर्लफ्रेंड थी क्या वो?' मनिका मजाक करते हुए बोली, जयसिंह को एक बार फिर मौके पर चौका मारने का चाँस मिल गया था.

'मेरी किस्मत में कहाँ ऐसी गर्लफ्रेंड...' जयसिंह ने मगर के आँसू बहाए.

'हाहाहा पापा...गर्लफ्रेंड चाहिए आपको? मम्मी को बता दूँ? बहुत पिटोगे देखना...’मनिका ने ठहाका लगाते हुए कहा था. उसे भी जयसिंह की टांग खिंचाई का मौका जो मिला था.

पर जयसिंह भी उसके पिता यूँ ही नहीं थे, 'बता दो भई...मेरा क्या है तुम ही फँसोगी.' जयसिंह ने शरारत से कहा.

'हैं? वो कैसे?' मनिका ने अचरज जताया.

'तुम ही तो कह रहीं थी उस दिन कि तुम्हारी सहेलियाँ मुझे तुम्हारा बॉयफ्रेंड कहती हैं.' जयसिंह बोले.

'हाँ...ओ शिट...पापा! कितने खराब हो आप...हमेशा मुझे हरा देते हो...’ मनिका ने मुहँ बनाकर पाँव पटकते हुए नखरा किया.

'हाहाहा...' जयसिंह हँसते हुए बैठे रहे.

'और वो तो मेरी फ्रेंड्स कहतीं है मैं कोई सच्ची में आपकी गर्लफ्रेंड थोड़े ही ना हूँ...' मनिका ने नाराजगी दिखाते हुए उनके पास बैठते हुए कहा.

जयसिंह बस मुस्का दिए और उसकी तरफ हाथ बढ़ा दूसरे से अपनी जांघ थपथपा उसे गोद में आने का इशारा किया.

'जाओ मैं नहीं आती...गंदे हो आप...' मनिका नखरे कर ही थी.

'अरे भई सॉरी अब नहीं हँसता तुम पर...बस...' जयसिंह के चेहरे पर अभी भी शरारत थी.

'आप हँसोगे देख लेना...मुझे पता है ना...' मनिका ने उन्हें अविश्वास से देखते हुए कहा.

'अरे भई अभी तो नहीं हँस रहा ना...' जयसिंह भी कहाँ मानने वाले थे, 'सो अभी तो आ जाओ...' उन्होंने फिर अपनी जांघ पर हाथ रखते हुए उसे अपनी गोद में बुलाया.

'देख लेना पापा अगर आपने मुझे फिर तंग किया तो आपसे कभी बात नहीं करुँगी...' मनिका ने शिकायत भरे लहजे से कहा था पर उठ कर उनकी गोद में आ गई थी.

'लेकिन तुमने तो मुझसे नाराज ना होने का प्रॉमिस किया था न?' जयसिंह ने उसका मुहँ अपनी तरफ करते हुए पूछा.

'वो...वो तो मैंने ऐसे ही आपको उल्लू बनाने के लिए कर दिया था.' मनिका के चेहरे पर भी शरारती मुस्कान लौट आई थी.

'अच्छा ये बात थी...' जयसिंह ने मुस्का कर कहा और अपने दोनों हाथ मनिका के पेट पर ले जा उसे गुदगुदा दिया.

'आह क्या कच्चा बदन है...कुतिया हर वक़्त महकती भी रहती है...आह...' उन्होंने मनिका के जवान जिस्म पर इस तरह हाथ सेंकते हुए सोचा था, मनिका भी हिल-डुल रही थी सो उनका चेहरा उसके बालों में आ गया था.

'ईईईईईई...हाहाहा...पापाआआअ...नहीं नाराज होती...ईई...' मनिका उनकी गोद में उछलती हुई हँस रही थी.

जयसिंह ने उसे एक दो बार और गुदगुदा कर छोड़ दिया था क्यूंकि उसके इस तरह हिलने से उनकी पैंट में भी तूफ़ान उठने लगा था. मनिका अब खिलखिलाती हुई उनके साथ लग बैठी थी, उसकी साँस जरा फूली हुई थी. पहली बार उसका पूरा भार जयसिंह के शरीर पर था. जयसिंह अपने बदन पर इस तरह उसके यौवन भरे जिस्म का एहसास पाकर अपनी उत्तेजना को बड़ी मुस्किल से कंट्रोल कर पा रहे थे.

कुछ देर बाद जयसिंह की मुश्किल मनिका ने हल कर दी जब उसने उनकी गोद से उठते हुए उनसे भूख लगी होने का कहा था. सो आज एक बार फिर से वे नीचे रेस्टोरेंट में खाना खाने को चले गए थे.

खाना खाने के बाद मनिका और जयसिंह वापस अपने कमरे में न आ हॉटेल गेस्ट-एक्टिविटीज एरिया में गए. दोपहर का वक्त होने की वजह से वहाँ ज्यादा जने नहीं थे. जयसिंह मनिका को ले पूल टेबल के पास पहुँचे, वहाँ दो कपल मस्ती करते हुए पूल खेल रहे थे. जयसिंह ने जा कर एक क्यू-स्टिक (जिससे पूल-स्नूकर खेलते हैं) उठा ली थी पर दूसरों को खेलते देख थोड़े अचकचाकर खड़े हो गए थे. लेकिन वे लोग काफी फ्रेंडली थे और उन्हें देख उनसे भी ज्वाइन करने को कहा और बताया कि वे तो बस लेडीज को खुश करने के लिए वहाँ मसखरी कर रहे थे और अगर वे चाहें तो सीरियसली गेम लगा लेते हैं. इस पर जयसिंह ने भी हाँ कह दिया.

उन्होंने अपने-आप को इंट्रोड्यूस किया था तो जयसिंह ने भी अपना परिचय दिया 'आई एम जयसिंह एंड दिस इस मनिका..’ और हाथ मिलाया था. उन्होंने यह नहीं बताया था कि मनिका उनकी बेटी है.

वे लोग वेजर (शर्त) लगा कर खेलने लगे. तीनों को उनके साथ आईं लडकियाँ सपोर्ट कर रही थी और वहाँ हँसी और मस्ती का माहौल बन गया था.

सामने वाले लौंडे खेलने में माहिर थे और जल्द ही जयसिंह ने अपने-आप को हारते हुए पाया, लेकिन जयसिंह ने भी हार नहीं मानी थी और शर्त की बाजी बढ़ाते चले जा रहे थे, आखिर एक वक्त आया जब जयसिंह ने ५०००० रूपए का दाँव लगाने का चैलेंज कर डाला. सामने वाले कपल्स के चेहरे पर हैरानी का भाव आ गया था. पर आपस में सलाह कर वे उनकी बात मान गए और खेलने लगे. इस बार गेम की इंटेंसिटी बढ़ी हुई थी और हर स्ट्राइक (चाल) के बाद चिल्लम-चिल्ली मची हुई थी. देखनेवाले कुछ और लोग भी पूल-टेबल के आस-पास आ जमे थे. पर अंत में जयसिंह वह बाजी भी हार गए, माहौल थोड़ा शांत हुआ, जयसिंह ने भी हँस कर अपनी हार स्वीकार कर ली थी.

अब दूसरों ने उन्हें ड्रिंक्स का ऑफर किया जिसे उन्होंने मान लिया. तीनों लड़कियों को वहीँ छोड़ वे लोग बार से ड्रिंक्स लेने चले गए थे, लड़कियों ने अपने लिए मोक्टेल्स (बिना शराब की ड्रिंक्स) मंगवाई थी.

मर्दों के चले जाने के बाद तीनों लडकियाँ बतियाने लगीं, बातों-बातों में सामनेवाली लड़कियों ने मनिका से कहा था,
'ऑब्वियस्ली यू गायस हैव अ लॉट ऑफ़ मनी...'
-  - 
Reply
10-04-2018, 11:37 AM,
#22
RE: Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
जब मनिका ने उनसे ऐसा कहने की वजह पूछी तो उन्होंने बताया कि जिस तरह से वे लोग शर्त का अमाउंट बढ़ाते जा रहे थे उस से उन्हें ऐसा लगा था और जब जयसिंह ने आखिरी बार पचास हजार का दाँव खेला था तो उन्होंने सिर्फ इसीलिए हाँ भरी थी के वे लोग ऑलरेडी सेवेंटी थाउजेंड जीत कर प्लस में चल रहे थे. वे लोग तो वहाँ एक कंपनी स्पॉन्सर्ड वेकेशन आउटिंग पर आए हुए थे. मनिका ने भी उन्हें बताया कि वह भी पहली बार दिल्ली आई थी और एक-दो दिन में उसका इंटरव्यू था व उसके पापा उसके साथ आए थे. इस पर दोनों ही लड़कियाँ चौंक गई थीं,

'यू मीन टू से यू आर हेयर विद योर डैड?' एक ने पूछा.

'येस...वाय?' मनिका ने उनकी उलझन देख जानना चाहा.

'ओह वेल वी थॉट दैट ही वास् योर...आई मीन हमने नहीं सोचा था कि ही इज़ योर फादर...’

'ओह...हाहाहा...सो यू पीपल थॉट ही इस माय बॉयफ्रेंड ऑर समथिंग..?' मनिका ने हँस कर पूछा था. जिस पर उन दोनों ने भी झेंप भरी स्माइल दे हाँ में सिर हिला दिया.

'इट्स ओके...आई गेट दैट अ लॉट...मेरी सब फ्रेंड्स भी ऐसा ही बोलती हैं...बिकॉज़ वी आर वैरी क्लोज़ टू ईच-अदर...’ मनिका ने उन्हें रिलैक्स होने को कहते हुए बताया था.

फिर जयसिंह और वो दोनों बन्दे वापस आ गए थे, उन लोगों ने घुलते-मिलते ड्रिंक्स ख़त्म कीं थी जिसके बाद जयसिंह और मनिका उनसे विदा हो अपने रूम में आ गए थे. आने से पहले जयसिंह ने उनसे उनका रूम नंबर ले लिया था और कमरे में पहुँचते ही रूम-सर्विस से किसी के हाथ एन्वेलोप (लिफाफा) भिजवाने को कहा. जब एक स्टाफ़ का बन्दा एन्वेलोप देने आया तो उन्होंने उसे रुकने को कहा और एन्वेलोप में एक लाख बीस हजार की राशि का चेक डाल कर उसे दिया व उन लोगों के बताए रूम नंबर पे दे आने को भेज दिया. कुछ देर बाद उनके साथ पूल खेल रहे जनों में से एक का उन्हें थैंक्यू कहने को फोन (रिसेप्शन के थ्रू कॉल कनेक्ट करा) भी आया था.

जयसिंह कमरे में आ कर बेड पर लेटे हुए थे और मनिका भी दूसरी तरफ बैठी हुई अपने फोन में कुछ कर रही थी. जयसिंह ने आँखें बंद करी ही थी कि मनिका उनसे बोली,

'पापा...जोश-जोश में वन लैख ट्वेंटी थाउजेंड उड़ा दिए हैं आज आपने...'

'हम्म कोई बात नहीं क्या हो गया तो...पैसे तो आते-जाते रहते हैं.' जयसिंह ने बेफिक्री से कहा.

'इससे अच्छा तो मैं शॉपिंग ही कर लेती...’ मनिका ने ठंडी आह भरी.

'हे भगवान्! कितनी शॉपिंग करनी है इस लड़की को?' जयसिंह ने झूठ-मूठ का अचरज दिखाया.

'आपको क्या पता पापा...शॉपिंग तो हर लड़की का सबसे बड़ा सपना होता है...' मनिका ने इठला कर कहा.

'और उस दिन जो पूरा मॉल खरीद कर लाईं थी उसका क्या?' जयसिंह ने याद दिलाया.

'हाँ तो थोड़ी सी और कर लेती...' मनिका मुस्काई.

'उस दिन जो इतनी ड्रेसेज़ लेकर आईं थी वो तो दिखाईं नहीं अभी तक तुमने..?' जयसिंह ने ताना दिया.

'अरे भई पापा दिखा दूँगी तो...अभी मुझे नींद आ रही है...' मनिका ने अंगड़ाई लेते हुए कहा और वह भी लेट गई.

जयसिंह और मनिका दो घंटे सोने के बाद उठे थे. उन्होंने इवनिंग-टी (चाय) का ऑर्डर किया था और बैठ कर टी.वी. देखने लगे. एक हिन्दी फ़िल्म चल रही थी; रेस. फ़िल्म अभी कुछ महीने पहले ही रिलीज़ हुई थी सो मनिका ने लगा ली थी.

जयसिंह के साथ इतने दिनों से रह रही मनिका उनके स्वभाव में आने वाले परिवर्तनों को भाँपने लगी थी, उसने देखा क़ि जयसिंह वैसे तो फ़िल्म में कम ही इंटरेस्ट ले रहे थे पर जब कोई हीरोइन या आईटम सॉन्ग स्क्रीन पर दिखाते थे तो उनकी नज़र जरा पैनी हो जाती थी. मनिका मन ही मन मुस्का उठी थी, 'देखो कैसे भाती हैं बिपाशा और कैटरीना इन्हें...' 

कुछ देर बाद फ़िल्म खत्म हो गई, उनकी चाय और स्नैक्स भी डिलीवर हो गए थे सो वे बैठे हुए खाना-पीना कर रहे थे और टेलीविज़न से उनका ध्यान थोड़ा हट गया था. तभी टी.वी. पर 'एनैमोर', जो एक लॉनजुरे बनाने वाली कंपनी है, का एडवर्टिसमेंट (विज्ञापन) आया, अब स्क्रीन पर चल रही इमेज पर दोनों का ही ध्यान चला गया था. कुछ मॉडल्स को ब्रा-पैंटीज़ में अठखेलियाँ करते दिखाया गया था, ऐड कुछ ही सेकंड चला था पर दोनों बाप-बेटी के मनों में अलग-अलग विचार उठा गया था. एक तरफ मनिका को सुबह वाली बात याद आ गई और वह शरमा गई थी व दूसरी तरफ जयसिंह का दिल खुश हो गया था, उन्होंने हल्का सा मुस्काते हुए मनिका की ओर देखा था. मनिका थोड़ी तन के सीधी बैठी थी और अपनी नज़रें टेबल पर रखे स्नैक्स पर गड़ाए थी उसे कनखियों से जयसिंह की नज़र और शरारती मुस्कान का आभास हो गया था, एक-दो पल बाद उससे भी रुका नहीं गया और उसके चेहरे पर भी शर्मीली मुस्कान तैर गई, जयसिंह फिर भी उसे देखते रहे,

'पापा स्टॉप इट ना...?' मनिका ने उनकी तरफ बिना देखे कहा.

'अरे मैंने तो कुछ कहा ही नहीं...' जयसिंह ने मुस्काते हुए कहा.

'पापा! याद है ना मैंने कहा था आपसे कभी बात नहीं करुँगी मुझे छेड़ोगे तो...’मनिका ने उनकी तरफ एक नज़र देख अपनी धमकी दोहराई.

'अच्छा भई मैं दूसरी तरफ मुहँ करके बैठ जाता हूँ अगर तुम कहती हो तो...' जयसिंह ने मुहँ दीवार की तरफ घुमाते हुए कहा.

अब तक मनिका की शरम कुछ कम हो गई थी और उसे जयसिंह की नौटंकी पर हँसी आने लगी थी. उधर जयसिंह चुप-चाप मुहँ फेरे बैठे थे. मनिका को समझ नहीं आ रहा था कि वह अब क्या कहे?

'कपड़े ही तो हैं...' जयसिंह की आवाज़ आई.

'हाहाहाहाहाहा... हेहेहे...हीहीहीही... पापाआआ!' मनिका को उनकी बात ने गुदगुदा कर लोटपोट कर दिया था 'यू आर सो नॉटी पापा...!' वह हँसते हुए बोली थी.

जयसिंह भी हँसते हुए उसकी तरफ घूमे और पास सरक आए. मनिका को अभी भी हँसी छिड़ी हुई थी जब जयसिंह ने पहली बार खुद अपने हाथों से पकड़ कर उसे अपनी गोद में खींच लिया. वह हँसते-हँसते अपने आप को छुड़ाने के प्रयास कर रही थी और साथ ही बोल रही थी कि उन्होंने उसे चिढ़ाया है इसलिए वह उनके पास नहीं आएगी लेकिन असल में वहीं बैठी रही. जयसिंह ने उसे थोड़ा कसकर अपने से लगा लिया था. उधर उनके लंड ने भी उत्साह से सिर उठा रखा था.

'वैसे आप भी कम नहीं हो...पता चल गया मुझे ठीक है ना...' मनिका ने उलाहना देते हुए कहा.

'मैंने क्या किया..?' जयसिंह ने अनजान बनते हुए कहा, उन्हें लग रहा था कि वह उनकी कही बात के लिए ही कह रही है.

'जो आँखें फ़ाड़-फाड़ कर देख रहे थे ना अभी मूवी में बिपाशा-कैटरीना को और डांस करती फिरंगनों को...सब देखा मैंने...' मनिका ने उनकी गोद में बैठे-बैठे उन्हें हल्का सा धक्का दे कर कहा.

जयसिंह मनिका के इस खुलासे से सच में निरुत्तर हो गए थे. मनिका को उनके इस तरह झेंप जाने पर बहुत मजा आ रहा था, उसने खनकती हुई आवाज में आगे कहा,

'अब क्या हुआ...बोलो ना पापा? बढ़ा छेड़ रहे थे मुझे..!'

'अब मूवी भी ना देखूं क्या?' जयसिंह ने कहा था पर उनकी आवाज़ से साफ़ पता चल रहा था कि उनकी चोरी पकड़ी गई थी.

'हाहाहाहा... कैसे भोले बन रहे हो देखो तो...बता दो बता दो...नहीं कहूँगी मम्मी से आई प्रॉमिस..' पहली बार लगाम मनिका के हाथ में आई थी (मतलब उसे तो ऐसा ही लग रहा था) सो वह और जोर से हँसते हुए बोली थी.

'हाँ तो...क्या हो गया देख लिया तो...’ जयसिंह ने भी हौले से अपना जुर्म कबूल कर लिया था.

'हाहाहा...' मनिका ने अपनी बात के साबित हो जाने पर ठहाका लगाया, उसे आज कुछ ज्यादा ही हँसी आ रही थी. इसी तरह हँसी-मजाक चलता रहा और रात ढल आई. जयसिंह और मनिका डिनर करने को भी रेस्टॉरेंट में ही गए क्योंकि रूम-सर्विस के विपरीत वहाँ वेटर खाना परोसने के लिए पास में तत्पर रहता है. लेकिन जयसिंह के लंड ने उस रात उन्हें ढंग से खाना भी नहीं खाने दिया.

हुआ ये कि जब जयसिंह और मनिका नीचे रेस्टॉरेंट में जाने के लिए कमरे से निकलने लगे थे तब मनिका ने अपने सूटकेस से लिप-ग्लॉस निकाल कर अपने होंठों पर लगाया था. यह देखना था कि बस जयसिंह का तो काम तमाम हो गया था, बड़ी मुश्किल से एलीवेटर से निकल कर वे रेस्टॉरेंट में कुर्सी तक पहुँचे थे. सामने बैठी मनिका उनसे हँस-मुस्कुरा कर बातें कर रही थी और वे उसके होंठों पर लगे अपने लंड के पानी मिले लिप-ग्लॉस की चमक देख-देख प्रताड़ित हो रहे थे. उन्हें लग रहा था जैसे उनका शरीर दीमाग की बजाय लंड के कंट्रोल में आ गया था और उनके पूरे जिस्म में हवस के मरोड़े उठ रहे थे. वे थोड़ा सा ही खाना खा सके थे और पूरा समय टेबल के नीचे अपने लेफ्ट हाथ से लंड को जकड़े हुए बैठे रहे थे.

उनकी कारस्तानी से अनजान मनिका ने खाना खाने के बाद मंगवाई आइसक्रीम खा कर जब अपने होंठों पर जीभ फिराई तो जयसिंह को हार्ट-अटैक आते-आते बचा था. इस बार वे अपने चेहरे के भावों पर काबू नहीं रख सके थे और मनिका को उनकी बेचैनी का आभास हो गया था.

'क्या बात है पापा?' मनिका के चेहरे पर चिंता झलक आई 'आप ठीक तो हैं?' उसने पूछा.

'ह्म्म्म...कुछ नहीं बस थोड़ा सिर में दर्द है. ‘जयसिंह को समझ नहीं आया कि क्या कहें सो उनके जो मुहँ में आया वही बोल गए थे 'साली क्या बताऊँ तू जो मेरे लंड का रस चाट रही है जीभ फिरा-फिरा कर और पूछ रही है क्या हुआ...उससे सिर में नहीं लंड में दर्द है...' जयसिंह ने आँखें मींचते हुए सोचा था.

डिनर के बाद जब वे अपने कमरे में आए तो मनिका ने जयसिंह को जल्दी सो जाने को कहा और उनका सिर दबाने को भी पूछा था. लेकिन इतने दिन की उत्तेजना ने आज भयंकर रूप धारण कर लिया था और जयसिंह को डर था कि मनिका का स्पर्श कहीं उन्हें अपना आपा खोने पर मजबूर न कर दे, सो उन्होंने उसे मना कर दिया था. वे कंबल ओढ़ लेट गए थे ताकि अंदर अपने उफनते लंड को पकड़ कर काबू में रख सकें, उनके रोम-रोम में मनिका ने आग लगा दी थी और उन्होंने सुलगते हुए सोचा था 'इस हरामजादी मनिका को तो तरसा-तरसा कर इससे भीख मंगवाऊंगा मेरे लंड की एक दिन मनिका ने देखा कि जयसिंह कपड़े बदले बिना ही सो गए थे. मनिका के पास भी करने को कोई काम न था सो वह भी नहाकर आई और सोने की तैयारी करने लगी. उसके बिस्तर में घुसने से पहले ही रूम का डोर क्नॉक हुआ, लॉन्ड्री वाला उनके कपड़े ले कर आया था. मनिका ने कपड़े रखवा कर उसे कुछ टिप (जयसिंह के पर्स से निकाल) दी थी और वह चला गया. मनिका भी जयसिंह के बगल में लेट गई और सोने की कोशिश करने लगी लेकिन वह दिन में भी एक बार नींद ले चुकी थी इसलिए उसे अभी इतनी जल्दी नींद नहीं आ रही थी पर उसने जयसिंह का ख्याल करके उन्हें कह दिया था कि उसे भी रेस्ट करना था.

वह लेटी-लेटी उस दिन की घटनाओं के बारे में सोचने लगी, कि कैसे दिन की शुरुआत में उसे उसके अंडर-गारमेंट्स शावर में पड़े मिले थे और जयसिंह ने उसका कितना मजाक बनाया था उस बात पर और फिर जब वह सैलून से वापस आई थी तब भी उसके पापा ने कितना स्वीटली रियेक्ट किया था, उसे एहसास हुआ था कि जयसिंह भले ही मजाक कर रहे थे पर उसमें उनकी तारीफ भी छुपी हुई थी और इसीलिए मनिका को लाज आने लगी थी और वह मेकअप उतार आई थी और आज एक बार फिर से लोगों ने उसे जयसिंह की गर्लफ्रेंड समझ लिया था. 'कितना सरप्राइजड थीं वे लड़कियाँ जब मैंने कहा कि वे मेरे पापा हैं...लोग भी न पता नहीं क्या-क्या सोचते रहते हैं.' मनिका ने थोड़ा तुनक कर सोचा था पर फिर उसका ध्यान जयसिंह की फीसिकेलिटी (शारीरिक बनावट) पर चला गया था. वह सोचने लगी कि ४७ साल की उम्र में भी जयसिंह उसके चाचा और ताऊजी की तरह मोटे व बेडौल नहीं थे और उन्होंने अपनी बॉडी को फिट रखा हुआ था 'मे-बी इसी वजह से उन लोगों ने पापा और मुझे कपल इमेजिन कर लिया था...पापा हैस मेंटेंड हिज़ बॉडी सो वैल के कोई सोचता ही नहीं कि वो मेरे पापा हैं.'

मनिका ने जयसिंह की तरफ देखा, कुछ ही पल पहले वे हिले थे और करवट बदल उसकी तरफ मुहँ किया था, उन्हें सोता पा मनिका धीरे से उठ कर अधलेटी हुई व अपने हाथ पीछे से टी-शर्ट में डाल अपनी ब्रा का हुक खोला और वापिस लेट गई.
-  - 
Reply
10-04-2018, 11:37 AM,
#23
RE: Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
इतने दिनों से मनिका और जयसिंह रोज बाहर घूम कर आते थे तो थके हुए होते थे और रूम में आ कर उन्हें जल्दी ही नींद आ जाया करती थी (जयसिंह को कभी-कभी नहीं भी आती थी) और उनकी अनबन हो जाने के बाद वे अपने ख्यालों में डूबे ही बैठे या सोए रहा करते थे. लेकिन उनके बीच के गिले-शिकवे मिट चुकने और आज का अपना पूरा दिन हॉटेल में ही रहने के बाद मनिका अच्छे से रेस्टेड थी. सो जब मनिका, जिसे रात को सोते वक़्त ब्रा पहनने की आदत नहीं थी, को कुछ देर तक नींद नहीं आई थी तो उसे अपनी पहनी ब्रा का कसाव खटकने लगा था और इसी वजह से उसने जयसिंह को सोते पा अपनी ब्रा का हुक खोल लिया था.

आग में घी डालना किसे कहते हैं जयसिंह को आज समझ आया था.

खाना खा कर लौटने के बाद जयसिंह मनिका के कहने पर लेट कर रेस्ट करने लगे थे, उन्हें पता था कि अगर वे रोजमर्रा की तरह नहाने घुसे तो शायद अपनी हवस की आँधी को रोक नहीं पाएंगे और मुठ मार बैठेंगे. अपने लिए हुए इस अजीबोगरीब वचन को निभाने के मारे वे बिस्तर पर जा लेटे थे. साथ ही वे इस ताक में भी थे कि क्या पता उनके सो जाने पर मनिका को भी जल्दी नींद आ जाए और वे कुछ छेड़-छाड़ कर अपनी प्यास कुछ शाँत करने में सफल हो सकें और इसी के चलते मनिका के बिस्तर में आ जाने के बाद उन्होंने करवट बदली थी. पर मनिका ने तो उनके मन की आँधी को भूचाल में तब्दील कर दिया था.

जब मनिका ने अपनी ब्रा का हुक खोला था तो उसकी टी-शर्ट पीछे से ऊपर हो गई थी और कमरे की हल्की रौशनी में उसकी नंगी कमर और पीठ का दूधिया रंग जयसिंह ने एक छोटे से पल के लिए अध्-मिंची आँखों से देखा था.

'उह्ह्ह...उम्म्म...' आखिर जयसिंह के मुहँ से दबी हुई आह निकल ही गई थी, शुक्र इस बात का था कि उसके वापस लेट जाने तक वे किसी तरह रुके रहे थे. मनिका ने चौंक कर उनकी तरफ देखा, उनके माथे पर पसीने की बूँदें छलक आईं थी.

'पापा?' मनिका उठ बैठी थी और एक पल के लिए उसका हाथ जल्दी से उसकी पीठ पर चला गया था. 'पापा उठे हुए हैं..?' उसने धड़कते दिल से सोचा. पर जयसिंह पहले की भाँती जड़ पड़े रहे.

'पापा आप जाग रहे हो क्या?' मनिका ने फिर से पूछा लेकिन कोई जवाब नहीं मिला परंतु इस बार जयसिंह ने फिर से एक आह भरी थी जैसे बहुत अनकम्फ़र्टेबल हों. मनिका ने अब बेड-साईड से लाइट ऑन की और उन्हें ध्यान से देखा. उनके चेहरे पर पसीना आ रखा था.

'पापा! आर यू ऑलराइट?' मनिका ने थोड़ा घबराकर उन्हें हिलाया और उठाने लगी. जयसिंह ने भी एक-दो पल बाद हड़बड़ाने का नाटक कर आँखें खोल दीं और गहरी साँसें भरने लगे.

'पापा यू आर सिक!' मनिका ने उनके तपते माथे पर हाथ रखते हुए कहा. वह उनके ऊपर झुकी हुई थी और उसकी खुली ब्रा में झूलते उरोज जयसिंह के चेहरे के सामने थे.

'हम्म्प्...' उनका पारा और बढ़ गया था.

जयसिंह उठ कर बैठ गए थे, आशँकाओ से भरी मनिका बार-बार उनसे पूछ रही थी कि वे कैसा फील कर रहे हैं और जयसिंह कम्बल के अंदर अपने लंड का गला दबाते हुए उसे आश्वस्त करने की कोशिश कर रहे थे कि वे ठीक हैं बस उन्हें माइनर सा माइग्रेन (तेज़ सिरदर्द) का अटैक आया था. उन्होंने कहा कि वे नहा कर आते हैं ताकि थोड़ा रिफ्रेश हो जाएं.

'साला अब तो रेसोल्युशन गया भाड़ में...लगता है मुठ मारना ही पड़ेगा वरना आज तो लंड और आँड दोनों की एक्सपायरी डेट आ जाएगी.' सोच कर जयसिंह ने कम्बल के अंदर अपने लंड का मुहँ ऊपर की तरफ कर उसे अपने अंडरवियर के एलास्टिक में कैद किया ताकि उठ खड़े होने पर उनकी पैंट में कहीं तम्बू न बना हो. जब वे उठे थे तब लंड का मुहाना अंडरवियर से दो इंच बाहर निकल झाँक रहा था पर उनकी शर्ट से ढँका होने के कारण मनिका को दिखाई नहीं पड़ सकता था. वे भारी क़दमों से चलते हुए बाथरूम में घुस गए.

बेड पर बैठी मनिका के चेहरे पर चिंता के भाव थे, उसने हाथ पीछे ले जा कर अपनी ब्रा का हुक फिर से लगाया और जयसिंह के बाहर आने का इंतजार करने लगी.

बाथरूम में जा कर जयसिंह ने बाथटब में ठंडा पानी भरा और उसमें अपना बदन डुबो कर लेट गए. अंदर आते-आते एक बार फिर वे अपनी प्रतिज्ञा के प्रति थोड़ा सीरियस हो गए थे. ठंडे पानी से भरे टब में डूबे वे अपने लंड और टट्टों को रगड़ रहे थे ताकि अपनी गर्मी कुछ शांत कर सकें, 'ये अचानक मुझे क्या हो गया है...बिल्कुल भी काबू नहीं कर पा रहा हूँ अपने-आप को...कुतिया की जवानी ने आखिर मेरे दीमाग का फ्यूज उड़ा ही दिया है लगता है...क्या होंठ है रांड के, मेरे लंड-रस का स्वाद तो आया ही होगा उसे...आह्ह...’जयसिंह का लंड उनके हाथ की कैद से बाहर निकलने को फड़फड़ा उठा था. 'भड़वी ने ब्रा का हुक और खोल लिया ऊपर से...क्या झूल रहे थे साली के बोबे...ओहोहो...मसल-मसल कर लाल कर दूँगा...' इसी तरह के गंदे-गंदे विचारों से अपनी बेटी का बलात्कार करते वे आधे घंटे तक पानी में पड़े रहे थे. पर फिर धीरे-धीरे ठंडे पानी का असर होने लगा था, उनके बदन की गर्मी रिलीज़ होने लगी और बदन सुन्न होने लगा. लंड और आँड भी अब शांत पड़ने लगे थे जिससे जयसिंह के दीमाग ने एक बार फिर काम करना शुरू कर दिया था.

'अगर ये हाल रहा तो फिर तो मनिका की झाँट भी हाथ नहीं लगेगी...मुझे अपने बस में रहना ही होगा! लेकिन साली हर वक्त जिस्म की नुमाईश करती रहेगी तो दीमाग तो ख़राब होगा ही...पर उसकी लिप-ग्लॉस तो मैंने ही ख़राब की थी...हाँ तो मुझे क्या पता था ऐसे सामने बैठ कर होंठ चाटेगी रांड..? जो भी हो आज इतना समझ आ गया है कि लंड के आगे दीमाग की एक नहीं चलती है...हाहाहाहा...’ जयसिंह मन ही मन हँसे थे. अब वे राहत महसूस करने लगे थे.

उनका इरेक्शन भी अब मामूली सा रह गया था. उन्होंने मन ही मन तय कर लिया था कि जल्द ही उन्हें कोई अहम कदम उठाना होगा, मनिका के इंटरव्यू को सिर्फ दो दिन बचे थे और अब वे अपनी मंज़िल से भटकने का खतरा मोल नहीं ले सकते थे, यह विचार आते ही उनके लंड का रहा-सहा विरोध भी खत्म हो गया था. जयसिंह ने कामना की के उनकी किस्मत, जिसने अब तक उनका साथ इतना अच्छे से निभाया था, शायद आगे का रास्ता भी दिखा दे और इस तरह एक नए जोश के साथ वे बाथटब से बाहर निकल आए और तौलिए से बदन पोंछ कर अपना पायजामा-कुरता पहन लिया.
जब वे बाहर निकल कर आए तो मनिका बेड से उतरकर उनके पास आई और उनकी ख़ैरियत जाननी चाही. जयसिंह ने मुस्कुरा कर कहा,

'डोंट वरी मनिका...अब सब ठीक है...' और उसका हाथ पकड़ उसे वापस बिस्तर में ले गए थे.

बीती रात के बाद जयसिंह को एक बात का भान अच्छी तरह से हो गया था, वो यह कि मनिका का हुस्न भी उनकी मँजिल पर लगा एक ऐसा गुलाब था जिसमे काँटे ही काँटे थे क्यूँकि उसके हुस्न में उनके लिंग को बेबस करने वाला जादू था और उनके लिंग में उनके दीमाग को बेबस करने की शक्ति. अगर उन्हें फूल तोड़ना है तो काँटों से बचते रहना होगा और उसके लिए एक बार गुलाब से नज़र हटानी जरूरी थी.

सवेरे उठ कर जयसिंह ने आत्मचिंतन किया था और पाया कि उन्हें अभी के लिए अपनी काम-वासना को न जागने देते हुए मनिका के मन में काम-क्रीड़ा के प्रति उत्सुकता के बीज बोने पर ध्यान देना होगा. परन्तु वे नहीं जानते थे कि इस बार जयसिंह का साथ उनकी किस्मत नहीं बल्कि उनकी बीवी और मनिका की माँ मधु देने वाली थी.

दरअसल जब से वे दोनों दिल्ली आए थे मनिका की अपनी माँ से एक बार भी बात नहीं हुई थी. जब भी घर से कॉल आता था जयसिंह के पास ही आता था और वे सब ठीक बता कर फोन रख दिया करते थे. उस दिन उठने के बाद जब जयसिंह और मनिका ने ब्रेकफास्ट कर लिया उसके बाद जयसिंह नहाने चले गए थे.

मनिका बैठी यूँही अखबार के पन्ने पलट रही थी तभी पास पड़े जयसिंह के फोन पर रिंग आने लगी, उसकी माँ का फोन था.

'हैल्लो?' मनिका ने फोन उठाया. उसे अपनी माँ से हुई अपनी आखिरी बातें याद आन पड़ी थी.

'हैल्लो मणि?' उसकी माँ ने पूछा 'कैसे चल रहे हैं इंटरव्यू?' मधु को उन्होंने झूठ जो कह रखा था कि इंटरव्यू तीन स्टेज में होंगे.

'इंटरव्यू..? ओह हाँ अच्छे हुए मम्मी...परसों लास्ट राउंड है.' मनिका एक पल के लिए समझी नहीं थी पर फिर उसे भी याद आया कि उन्होंने घर पर क्या बोल रखा था, उसने माथे पर हाथ रख सोचा, 'बाप रे अभी पोल खोल देती मैं पापा के इतना समझाने के बाद भी...'

'पापा कहाँ है तुम्हारे?' मधु ने पूछा.

'नहाने गए है...' मनिका ने बता दिया.

'इतनी लेट..?' मधु ने एक और सवाल किया.

'ओहो मम्मी...अब यहाँ रूम पर ही रहते हैं तो आराम से उठना-नहाना होता रहता है...' मनिका ने मधु के सवालों से झुँझला कर कहा. उसे बुरा इस बात से भी लगा था कि उसकी माँ ने एक बार भी उससे उसकी खैरियत नहीं पूछी थी.

जब जयसिंह नहा कर बाहर आए थे तब तक उन्हें आभास हो चुका था क़ि कमरे में मनिका किसी से ऊँची आवाज़ में बाते कर रही थी लेकिन शावर के पानी की आवाज़ में उन्हें उसके कहे बोल साफ़ सुनाई नहीं दिए थे और जब तक उन्होंने शावर ऑफ किया था मनिका की आवाज़ आनी बंद हो चुकी थी. बाहर निकल कर मनिका के तेवर देख उन्होंने पूछा,

'क्या हुआ मनिका? किस से बात कर रहीं थी?'

'आपकी बीवी से और किस से...?' मनिका ने गुस्से से तमतमाते हुए कहा.

मनिका के अपनी माँ को थोड़ी तल्खी से जवाब देने के बाद उसकी माँ भी छिड़ गईं थी. मधु ने फिर से वही पुराना राग आलापना शुरू कर दिया था कि कैसे वह हाथ से निकलती ही जा रही है और कितनी बद्तमीज़ भी हो गई है इत्यादि. मनिका के भी दिल्ली आ कर कुछ पर निकल चुके थे वह भी अब वो मनिका नहीं रही थी जो चुपचाप सुन लेती थी...उसने भी अपनी माँ के सामने बोलना शुरू कर दिया कि कैसे वे हमेशां उस पर लगती रहती हैं जबकि उसकी कोई गलती ही नहीं होती, जिस पर मधु ने हमेशा की तरह उसके पापा पर उसे शह देने का आरोप मढ़ा था. जयसिंह की बात आने पर मनिका अब उनका भी पक्ष लेने लगी और आखिर गुस्से में आ फोन ही डिसकनेक्ट कर दिया था, उसने फोन रखने से पहले अपनी माँ से कहा था,

'आपसे तो सौ गुना अच्छे हैं पापा...मेरा इतना ख्याल रखते हैं...बेचारे पता नहीं इतने साल से उन्होंने आपको कैसे झेला है..?' (मधु उसके मुहँ से ऐसी बात सुन स्तब्द्ध रह गई थी)

जयसिंह के बाहर आ जाने के बाद मनिका ने शिकायत पर शिकायत करते हुए उन्हें बताना चालू किया कि कैसे उसको मम्मी ने फिर से डाँट दिया था, 'और बस एक बार जब वो शुरू हो जातीं है तो फिर पूरी दुनियां की कमियाँ मुझ में ही नज़र आने लगती है उनको...मणि ऐसी मणि वैसी...ढंग से बाहर निकलो, ढंग से कपड़े पहनो, ढंग से ये करना ढंग से वो करना...और जब कुछ नहीं बचता तो फिर आप का नाम लेकर ताने...पापा की शह है तुम्हें...पापा बिगाड़ रहे हैं तुम्हें...हद होती है मतलब...!’मनिका का गुस्सा उसकी माँ की कही बातों को याद कर बार-बार फूट रहा था.

'मैं तो मर जाऊं तो ही चैन आएगा उनको...' मनिका रुआँसी हो बोली.

जयसिंह उसके पास गए और उसके कंधे पर हाथ रख उसे ढाँढस बँधाते हुए बोले,

'तुम दोनों का भी हर बार का यही झगड़ा है...फिर भी हर बार तुम अपसेट हो जाती हो, कितनी बार कहा है बोलने दिया करो उसे...'

'हाँ पापा...बट मुझे बुरा नहीं लगता क्या...आप ही बताओ?' मनिका ने उनका सपोर्ट पा कर कहा 'मैंने भी कह दिया आज तो कि आपसे तो पापा अच्छे हैं और वो पता नहीं कैसे झेलते हैं आपको...’ और उन्हें बताया.

'हैं..?' जयसिंह की आँखें आश्चर्य से बड़ी हो गईं थी 'सचमुच ऐसा बोल दिया तुमने अपनी माँ से..?' उन्होंने पूछा.

'हाँ...' मनिका को भी अब लगा कि वह कुछ ज्यादा ही बोल गई थी.

'हाहाहा...मधु की तो धज्जियाँ उड़ा दीं तुमने...' जयसिंह हँसते हुए बोले.

'और क्या तो पापा मुझे गुस्सा आ गया था तेज़ वाला...’ मनिका ने धीरे से कहा 'पर ज्यादा ही बोल दिया कुछ...' और अपनी गलती स्वीकारी.

'हेहे...अरे तुम चिंता मत करो मैं सँभाल लूँगा उसे...' जयसिंह ने प्यार से मनिका का गाल खींच दिया था. मनिका भी अपनी मुस्कान रोक न सकी.

'ओह पापा काश मम्मी भी आप के जैसी ही कूल और प्यार करने वाली होती...' मनिका ने आह भर कहा.

'अब होतीं तो बात अलग थी मगर अब तो तुम्हें जो है उसी से काम चलाना पड़ेगा...' जयसिंह ने मुस्का कर खुद की तरफ इशारा किया था. 'मम्मी भी मेरी तरह हो सकती थी अगर उसके लंड होता तो...हहा' जयसिंह ने मन में सोचा था और उनकी मुस्कान और बड़ी हो गई थी.

कुछ देर समझाने-बुझाने पर मनिका का मूड कुछ ठीक हो गया था. जयसिंह ने उसके सामने ही अपनी बीवी को फोन लगा कर उससे हर वक़्त टोका-टोकी न करने की अपनी हिदायत दोहरा दी थी. जिस से वह थोड़ी और बहल गई थी. वे बैठ कर उस दिन के लिए कुछ प्लान करते उससे पहले ही जयसिंह के फ़ोन पर फिर से रिंग आने लगी. इस बार जयसिंह ने ही फोन उठाया, उनके ऑफिस से कॉल आया था. इतने दिन ऑफिस से नदारद रहने की वजह से उनके वहाँ अब काम अटकने लगा था. सो जयसिंह फोन पर अपने काम से जुड़ी अपडेटस् लेने में लग गए थे.

जब मनिका ने देखा कि जयसिंह लम्बी बातचीत करेंगे तो वह इधर-उधर पड़ा उनका छोटा-मोटा सामान व्यवस्थित करने लगी. फिर उसने बेड के पास रखा अपना सूटकेस खोला और लॉन्ड्री से वापस आए अपने कपड़े जँचाने लगी.
-  - 
Reply
10-04-2018, 11:37 AM,
#24
RE: Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
जयसिंह और मनिका ने अपना लगेज बेड की एक तरफ बनी एक अलमारी के पास नीचे रखा हुआ था. पहले तो वे सिर्फ दो ही दिन रुकने के इरादे से आए थे, सो उन्होंने अपना सामान ज्यादा खोला नहीं था. फिर जब उनका रुकने का पक्का हो गया तो मनिका को लगा था कि शायद उसके पिता अपना सामान उसमें रखें और जयसिंह, जिनके पास ज्यादा सामान नहीं था, ने मनिका उसे यूज़ कर लेगी (और वे उसका सामान छेड़ लेंगे) करके अलमारी खाली छोड़ दी थी. मनिका ने अपना सामान सेट् करने के बाद भी जब पाया कि जयसिंह फोन पर ही लगे हुए थे तो उसने वैसे ही देखने के लिए अलमारी खोल ली थी.

अलमारी में कुछ एक्स्ट्रा लिनन (चादर तौलिए इत्यादि) था और एक ओर उसके शॉपिंग बैग्स रखे हुए थे.

जयसिंह से लड़ाई हो जाने के बाद मनिका ने अपना खरीदा हुआ सामान यह कर के नहीं खोला था कि वो सब उन्होंने उसे दिलाया था. फिर जब उनके बीच सुलह हो गई थी तो ख़ुशी के मारे उसके दीमाग से यह बात निकल गई थी जबकि जयसिंह ने बीच में एक बार उसकी शॉपिंग को ले कर उसे कुछ कहा भी था. जयसिंह ने वह बैग्स लाकर उनके लगेज के पास ही रखे थे लेकिन शायद हाउस-कीपिंग (कमरे की साफ़ सफाई करने वाले) में से किसी ने उठाकर उन्हें अलमारी में रख दिया था. मनिका ने सारे बैग्स निकाले और उत्साह से बेड पर बैठ एक-एक कर उनमें से अपनी लाई चीज़ें निकालने लगी. जयसिंह की पीठ उसकी तरफ थी और वे कुर्सी पर बैठे अभी भी फोन पर लगे थे.

अपने नए कपड़े देख-देख मनिका खुश होती बैठी रही, 'ओह वाओ...मेरे वार्डरॉब में कितनी सारी नई ड्रेसेस आ गईं हैं...सबको दिखाने में कितना मजा आएगा...हहा...’अपनी सहेलियों की प्रतिक्रियाएँ सोच वह आनंदित हो रही थी. 'पर...मम्मी देखेंगी जब..? फिर से वही लड़ाई होगी...खर्चा कम...ढंग के कपड़े...और तेरे पापा...ले-देके यही चार बातें हैं उनके पास...’मधु से लड़ाई अभी भी उसके जेहन में ताज़ी थी और उसके विचार घूम-फिर के फिर उन्हीं बातों पर लौट आए थे. 'बट पापा ने कहा कि वे सँभाल लेंगे...हाह... पापा के सामने फ़ुस्स हो जातीं है मम्मी की तोप भी...हीहाहा...अरे कल पापा ने कहा था कि उन्हें तो दिखाया ही नहीं कि क्या कुछ शॉप कर के लाई हूँ..?' मनिका ने अपने सामने फैली पोशाकों पर एक नज़र घुमाते हुए सोचा और मुस्काते हुए एक ड्रेस उठा ली थी.

कुर्सी पर बैठे हुए जयसिंह को बाथरूम का दरवाज़ा बंद होने की आवाज़ तो आई थी पर उन्होंने ध्यान नहीं दिया था और अपने असिस्टेंट को ऑफिस में आ रही दिक्कतों को हैंडल करने के इंस्ट्रक्शन देते रहे,

'पापा...’ बाथरूम का दरवाज़ा खुला और आवाज़ आई.

जयसिंह ने कुर्सी पर बैठे हुए ही मुड़ कर पीछे देखा और फोन में बोले, 'हाँ माथुर, जो मैंने कहा है वो कैरी आउट करो और कोई दिक्कत हो तो कल मुझे कॉल कर लेना, अभी थोड़ा बिजी हूँ...’ माथुर ने उधर से कुछ कहा था लेकिन जयसिंह फोन काट चुके थे.

'औकात में रहना है.' उनके दीमाग ने लंड को संदेश भेज चेताया था.

मनिका ने बाथरूम में जा कर अपने नए लिए कपड़ों को पहना था, वह एक पल के लिए नर्वस हुई तो थी के 'पता नहीं पापा क्या सोचेंगे?' पर फिर उसे अपनी माँ की समझाइशें याद आ गईं और अपनी माँ को चिढ़ाने (जबकि वे वहाँ नहीं थीं) के चक्कर में उसने कपड़े बदल लिए थे. बाथरूम के शीशे में उसने अपने-आप को निहारा था और अपनी चटख लाल स्लीवलेस टी-शर्ट और काली शार्ट स्कर्ट को देख उसके संकोच ने फिर एक बार उसे आगाह किया था, लेकिन उसे जयसिंह की बात याद आ गई थी 'कपड़े ही तो हैं...’ और वह मुस्कुराती हुई बाहर निकल आई थी. उसने यह नहीं सोचा था कि कपड़ों के अंदर जिस्म भी तो होते हैं.

जयसिंह कुछ समझ पाते उससे पहले ही मनिका बाथरूम के दरवाज़े से बाहर निकल आई थी,

'तो पापा? कैसी लग रही हूँ मैं? ये ड्रेस ली थी मैंने...मतलब और भी हैं, पहन के दिखाती हूँ अभी...पहले ये बताओ कैसी है?' मनिका ने चहक कर पूछा.

'अच्छी है...' जयसिंह ऊपर से नीचे तक उसे देखते हुए बोले, मनिका को हल्की सी लाज भी आई पर वह खड़ी रही.

उसकी गोरी-गोरी बाँहें और जांघें देख जयसिंह को पहली रात याद आ गई थी 'ओह्ह मैं तो भूल ही गया था कि कितनी चिकनी है ये कमीनी...’ मनिका का स्कर्ट उसके घुटनों से थोड़ा ऊपर तक का था.

'पापा मेरी पिक्स तो क्लिक कर दो इन ड्रेसेस में प्लीज...फ्रेंड्स को भेजूंगी और जलाऊँगी... हीही...' मनिका ने अपना फोन उनकी तरफ बढ़ाया.

लेकिन जयसिंह ने उसके बोलते ही अपने फोन, जो अभी उनके हाथ में ही था, का कैमरा ऑन कर लिया था. मनिका ने अपना फोन पास रखे टेबल पर रख दिया और पोज़ बनाते हुए बोली,

'अच्छा फिर मुझे सेंड कर देना पिक्स बाद में...'

'हम्म...’ जयसिंह उसका फोटो खींचते हुए बोले. चिड़िया पिंजरे में आ बैठी थी.

अब मनिका बारी-बारी से कपड़े बदल-बदल उनके सामने आने लगी और जयसिंह उसके फोटो लेने लगे, मनिका ने स्कर्ट के बाद उनको अपनी नई जीन्स पहन कर दिखाईं थी और उसके बाद दो जोड़ी डेनिम हॉट-पैंट्स (डेनिम या कपड़े से बनी शॉर्ट्स) पहन कर आई थी, उसकी ज्यादातर नई टी-शर्ट्स स्लीव्लेस हीं थी. जयसिंह का लंड उनके हर एनकाउंटर पर उछाल मार रहा था लेकिन जयसिंह भी मनिका के बाथरूम में चेंज करने को घुसते ही लंड को शांत करने के प्रयास चालु कर देते थे ताकि बात हाथ से निकलने के पहले ही संभाली जा सके.

उसके बाद मनिका एक काली पार्टी-ड्रेस पहन कर बाहर निकली थी, ड्रेस का कपड़ा सिल्की सा था, जयसिंह देखते ही तड़प गए थे. ड्रेस में क्लीवेज थोड़ा सा गहरा था (इतना ज्यादा भी नहीं कि कुछ दिखे) जिससे मनिका की क्लीवेज-लाइन का थोड़ा सा आभास मिल रहा था और ड्रेस की लंबाई भी इस बार पहले वाले स्कर्ट और हॉट-पैंट्स के मुकाबले कम थी. पर सबसे ज्यादा उत्तेजक बात यह थी कि ड्रेस के चिकने कपड़े ने मनिका के बदन से चिपक कर उसके उभारों को तो निखार ही दिया था लेकिन साथ ही उसकी ब्रा-पैंटी की आउटलाइनस् भी साफ़ नज़र आ रहीं थी.

मनिका ने जब पहली कुछ ड्रेसेस पहन कर उन्हें दिखाईं थी तो पहले वह अपने-आप को शीशे में अच्छे से देख-भाल कर फिर बाहर आती थी लेकिन बार-बार कपड़े बदल कर आने के कारण हर बार उसका ध्यान जल्दी से बाहर आने की तरफ बढ़ता गया था और इस बार वह ड्रेस पहनते ही एक नज़र अपने आप को देख बाहर आ गई थी जबकि उसकी ड्रेस का कपड़ा उसके बाहर आते-आते ही उसके बदन से चिपकना शुरू हुआ था (क्योंकि चिकने मैटेरियल से बने कपड़े में बदन से होने वाले घर्षण से ऐसा होता है). फोटो खींचते वक्त जयसिंह का हाथ एकबारगी काँप गया था.

मनिका के पास दिखाने को अब और कोई ड्रेस नहीं बची थी सो वह खड़ी रही व इस बार जयसिंह ने उसके ज्यादा ही फोटो ले लिए थे.

'बस पापा इतनी ही थीं...’ मनिका ने उन्हें बताया.

'बस? इतने से कपड़ों का बिल था वो..?’जयसिंह ने हैरानी जताई.

'हाहाहा...मैंने कहा था ना पापा...क्या हुआ शॉक लग गया आपको?' मनिका ने हँसते हुए उनके थोड़ा करीब आते हुए कहा.

'नहीं-नहीं...पैसे की फ़िक्र थोड़े ही कर रहा हूँ. मुझे लगा और भी ड्रेस होंगी...’जयसिंह ने मुस्का कर कहा और उसे अपनी गोद में आने का इशारा किया. मनिका इतनी कातिल लग रही थी के लाख न चाहने के बाद भी वे अपने लंड की डिमांड को अनसुना नहीं कर सके थे. पर इस बार मनिका ने ही उन्हें बचा लिया,

'और तो पापा दो पर्स लिए थे मैंने और एक वॉच...एंड और क्या था..? हाँ बेल्ट और...सैंडिलस्...’ मनिका सोच-सोच कर गिनाने लगी, पर वह उनकी गोद में नहीं बैठी थी क्योंकि उसे एहसास हो गया था कि उसने अंदर पैंटी पहन रखी थी जबकि इन ड्रेसेस के अंदर नीचे अमूमन बॉय-शॉर्ट्स (शॉर्टसनुमा पैंटी) पहनी जातीं हैं. अगर वह जयसिंह की जांघ पर बैठ जाती तो नीचे से खुली ड्रेस ऊपर उठ जाती जिसमें उसके अंडरवियर के एक्सपोज़ हो जाने का खतरा था. मनिका को यह आभास अजीब सा लगा था पर इस बार उसने अपने चेहरे पर शरम की अभिव्यक्ति नहीं होने दी थी, आखिर बेटी तो वह भी जयसिंह की ही थी.

'अच्छा-अच्छा ठीक है.' जयसिंह ने अपनी शॉपिंग लिस्ट सुनाती मनिका को थमने के लिए कहा और एक बार फिर अपने पास बुलाया, पर मनिका ने पीछे हटते हुए कहा,

'पापा मैं चेंज कर के आती हूँ...फिर मुझे पिक्स दिखाना.'

जयसिंह ने भी फिर से उसे नहीं बुलाया और थोड़ी राहत महसूस की थी. फिर उन्हें याद आया,

'मनिका...!'

'जी पापा?' मनिका बाथरूम के दरवाजे पर पहुँच रुक गई थी.

'वो मेरी दिलाई चीज़ तो तुमने दिखाई ही नहीं पहन कर...’ जयसिंह ने मुस्कुराते हुए कहा.

'कौनसी चीज़...? ओह्ह...हाँ पापा...भूल गई मैं...रुको.' मनिका एक पल बाद समझ गई थी और बेड की तरफ जा कर झुक कर वहाँ रखे कपड़ों में लेग्गिंग्स की जोड़ी खोजने लगी. जयसिंह ने देखा कि उसने अपना एक घुटना मोड़ कर बेड पर रखा हुआ था और उसका दूसरा पैर नीचे फर्श पर था, वह आगे झुकी हुई थी सो उसकी कमर और नितम्ब ऊपर हो गए थे और साथ ही वह ड्रेस भी, जयसिंह का बदन एक बार फिर से गरमा गया था. उन्होंने अपने बचे-खुचे विवेक का इस्तेमाल कर कैमरा वीडियो मोड पर कर लिया था और उस मादक से पोज़ में झुकी अपनी बेटी की गांड का वीडियो बनाने लगे.

कुछ दस सेकंड यह वाकया चला जिसके बाद मनिका ने सीधी होकर मुस्कुराते हुए जयसिंह को अपने हाथ में ली हुई लेग्गिंग्स दिखाई थी और पहन कर आने का बोल बाथरूम में चली गई थी. जयसिंह ने फटाफट वीडियो बंद कर दिया था और उसके जाते ही जल्दी से अपने फोन की गैलरी में जा कर देखा क़ि वो सेव तो हुआ था के नहीं? वीडियो सेव हो गया था लेकिन गैलरी में उसकी थंबनेल (फोटो या वीडियो की झलक देता आइकॉन) देख मनिका को जयसिंह की कारस्तानी का साफ़ पता चल जाना था. जयसिंह ने जल्दी से वीडियो और साथ ही अभी ली हुई तस्वीरों का बैकअप ले उस वीडियो को वहाँ से डिलीट कर दिया था.

मनिका को लेग्गिंग पहन कर बाहर आने में थोड़ा वक्त लग गया था. खड़े-खड़े इतनी पतली पजामी पैरों में पहनने में उसे थोड़ी मशक्कत करनी पड़ी थी. तब तक जयसिंह ने भी अपनी सेफ साइड रख ली थी. मनिका ने ऊपर से एक टी-शर्ट डाली और इस बार बिना आईना देखे ही बाहर आ गई. जयसिंह, जो अभी उसकी गांड को अपने मन से निकालने की कोशिश करने में लगे ही थे, पर कहर बरप पड़ा था.

एक तो जयसिंह ने पहले ही लेग्गिंग दो साइज़ छोटी ले कर दी थी उस पर उसका कपड़ा बिल्कुल झीना था तिस पर उसका रंग भी लाइट-स्किन कलर जैसा था; और मनिका यह सब बिन देखे ही बाहर निकल आई थी.
-  - 
Reply
10-04-2018, 11:38 AM,
#25
RE: Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
मनिका को लेग्गिंग पहन कर बाहर आने में थोड़ा वक्त लग गया था. खड़े-खड़े इतनी पतली पजामी पैरों में पहनने में उसे थोड़ी मशक्कत करनी पड़ी थी. तब तक जयसिंह ने भी अपनी सेफ साइड रख ली थी. मनिका ने ऊपर से एक टी-शर्ट डाली और इस बार बिना आईना देखे ही बाहर आ गई. जयसिंह, जो अभी उसकी गांड को अपने मन से निकालने की कोशिश करने में लगे ही थे, पर कहर बरप पड़ा था.

एक तो जयसिंह ने पहले ही लेग्गिंग दो साइज़ छोटी ले कर दी थी उस पर उसका कपड़ा बिल्कुल झीना था तिस पर उसका रंग भी लाइट-स्किन कलर जैसा था; और मनिका यह सब बिन देखे ही बाहर निकल आई थी.

जयसिंह के बदन में करंट दौड़ने लगा था, लेग्गिंग्स के रंग की वजह से उसके कुछ भी न पहने हुए होने का आभास होता था व मनिका के अधो-भाग का एक-एक उभार नज़र आ रहा था. जयसिंह को अभी तक तो अपनी बेटी के कपड़ों में से उसकी जाँघों और नितम्बों का ही दीदार अच्छे से होता आया था लेकिन यह लेग्गिंग्स इतनी ज्यादा टाइट कसी हुई थी कि उसकी टांगों के बीच का फासला 'ᴨ' भी नज़र आने लगा था. कपड़ा पूरी तरह से उसकी जाँघों और योनि पर चिपक गया था और मनिका की योनि का उभार साफ़ दिख रहा था.

'कैसी लग रहीं है पापा?' मनिका चहकते हुए बाहर आई थी.

'उह्ह ह...’ जयसिंह ने कुछ शब्द निकालने का प्रयास किया था पर सिर्फ आह ही निकल सकी.

मनिका उनके पास आ पहुंची थी. जयसिंह को इस बार पहले से ही इल्म था की कहाँ-कहाँ ध्यान से देखने पर मनिका के जिस्मानी जादू का लुत्फ़ उठाया जा सकता है. उनकी नज़र सीधी उसके प्राइवेट पार्ट्स (गुप्तांग) पर जा टिकीं थी और उसके करीब आते-आते उन्हें उसकी पहनी हुई पैंटी के रंग और साइज़ का पता चल चुका था. उसने आज अपनी स्काई-ब्लू रंग वाली अंडरवियर पहन रखी थी. मनिका की उभरी हुई योनि देख जयसिंह वैसे ही आपा खो रहे थे जब मनिका उनके ठीक सामने आ कर खड़ी हो गई थी,

'बताओ न पापा?'

'बहुत...बहुत अच्छी ल...लग रही है...’ जयसिंह ने तरस कर कहा. अपने लंड को काबू करने की उनकी सारी कोशिशें बेकार जा चुकीं थी.

मनिका उनकी गोद में आ बैठी, जयसिंह को अपनी बेटी की कच्ची सी योनि अपनी जांघ पर टिकती हुई महसूस हुई थी, उनकी रूह कांप गई थी.

'ओह मनिका यू आर सो ब्यूटीफुल...' उनके मुहँ से निकला.

'इश्श पापा. यू आर मेकिंग मी शाय (शरम)...’मनिका ने मुस्काते हुए जवाब दिया 'इतनी भी सुन्दर नहीं हूँ मैं...मुझे बहलाओ मत...’

'तुम्हें क्या पता?' जयसिंह ने उसकी पीठ सहलाते हुए कहा और उस दिन ट्रेन वाली तरह अपना दूसरा हाथ उसकी जांघ पर रख लिया. मनिका की योनि का आभास उन्हें पागल किए जा रहा था. 'आज तो रेप होगा मुझसे लग रहा है..!' जयसिंह ने मन ही मन अपनी लाचारी व्यक्त की थी.

असल में मनिका को भी जयसिंह की तारीफ़ बहुत भायी थी. एक बात और थी जिसने आज मनिका को अपनी ये फैशन परेड करने के लिए उकसाया था लेकिन जिसका भान अभी उसके चेतन मन को नहीं हुआ था; पिछली रोज जब जयसिंह टी.वी. में दिखाई जा रही लडकियाँ ताड़ रहे थे तो मनिका ने नोटिस कर लिया था व उन्हें छेड़ा था. उस बात ने भी उसके आज के फैसले में कहीं ना कहीं एक भूमिका निभाई थी.

जयसिंह उसकी जांघ सहलाना शुरू कर चुके थे.

'पापा फ़ोन दो ना. पिक्स देखते हैं..’मनिका बोली.

जयसिंह ने उसकी जांघ से हाथ हटा अपने बाजू में रखा फ़ोन उठा कर उसे पकड़ा दिया और फिर से उसकी जाँघों पर हाथ ले गए. मनिका फ़ोन की फोटो-गैलरी खोल जयसिंह की ली हुई तस्वीरें देखने लगी. शुरुआत की कुछ फोटो देख वह बोली,

'पापा! कितनी अच्छी पिक्स क्लिक की है आपने...एंड ये ड्रेसेस कितनी अमेजिंग लग रही है ना?' उसने जयसिंह और अपनी, दोनों की ही तारीफ़ करते हुए पूछा था. जयसिंह ने तो हाँ कहना ही था, उनका खड़ा हुआ लिंग भी उनके अंडरवियर में कसमसा कर हाँ कह रहा था.

फिर आगे मनिका की पार्टी-ड्रेस वाले फोटो आने शुरू हो गए, इस बार वह झेंप गई. जयसिंह ने फोटो भी ज्यादा ले रखे थे सो उन्हें आगे कर-कर देखते हुए उसकी झेंप शरम में तब्दील होती जा रही थी. उसने एक फोटो पर रुकते हुए डिलीट-बटन दबाया था, जयसिंह ने तपाक से पूछा कि वह क्या कर रही है? तो उसने थोड़ा सकुचा कर कहा कि वे फोटोज़ ज्यादा अच्छे नहीं आए थे, उसका मतलब था कि उनमें उसके पहने अंडर-गारमेंट्स का पता चल रहा था.

मनिका ने एक दो फोटो ही डिलीट किए थे कि जयसिंह के फ़ोन पर एक बार फिर से रिंग आने लगी, ऑफिस से माथुर का फ़ोन था.

'ओहो आज तो कुछ ज्यादा ही कॉल्स आ रहीं है आपको..!' मनिका ने झुंझला कर कहा.

'बजने दो...अभी तो बात की थी...’ जयसिंह ने कहा, उनका चेहरा अब मनिका के बालों के पास था और वे उनकी भीनी-भीनी खुशबू में खोए थे. मनिका ने फ़ोन के अपने आप डिसकनेक्ट हो जाने तक इंतज़ार किया और फिर से उन पिक्स को डिलीट करने लगी जो उसे ज्यादा ही रिवीलिंग लगीं थी. बैक-अप ले चुके जयसिंह बेफिक्र थे. फ़ोन एक बार फिर से बजने लगा.

'हाँ माथुर बोलो?' जयसिंह ने तल्खी से पूछा. उन्होंने मनिका को एक बार फिर से कॉल न उठाने को कहा था लेकिन फ़ोन डिसकनेक्ट होते ही वापस रिंग आने लग गई थी.

उनके सेक्रेटरी ने उन्हें बताया की उनका एक बहुत बड़ा क्लाइंट जो पिछले कुछ दिनों से उनसे बात करने के लिए रोज कॉल कर रहा था, वह भी अभी दिल्ली में था. उसने जब आज फिर से कॉल किया तो उनके सेक्रेटरी ने उसको जयसिंह के दिल्ली गए होने की सूचना दी थी, जिस पर उसने उससे मीटिंग फिक्स करने के लिए कहा था और इसी बाबत उनका सेक्रेटरी उन्हें कॉल पर कॉल कर रहा था.

जयसिंह सोच में पड़ गए. यह क्लाइंट बहुत बड़ी आसामी थी और उनकी कंपनी की बैलेंस-शीट में मौजूद बड़े नामों में से एक था, मीटिंग करनी जरूरी थी; उन्होंने सेक्रेटरी से मीटिंग फिक्स कर उन्हें कॉल करने को कहा. अचानक घटनाक्रम में हुए परिवर्तन ने एक बार फिर उनके हवस के मीटर की सुई को चरम पर पहुँच कर टूटने से बचा लिया था,

'कुछ करना पड़ेगा...जल्द.' जयसिंह ने सोचा और मनिका से बोले,

'जाना पड़ेगा मुझे...एक क्लाइंट यहाँ आया हुआ है.' जयसिंह ने मनिका से कहा.

'बट पापा! वी आर ऑन अ हॉलिडे ना?' मनिका ने बेमन से कहा.

'येस डार्लिंग आई क्नॉ बट ये काफी मालदार क्लाइंट है...इसी जैसों से तो तुम्हारी शॉपिंग पूरी होती है.' जयसिंह ने उसके गाल सहला उसे बहलाया 'चलो गेट उप नाओ, मुझे रेडी भी होना है.' जयसिंह ने आगे कहा था और अभी भी काम-वासना के वशीभूत अपने हाथ से, उनकी जांघ पर बैठी हुई मनिका को उठाने के लिए, उसके नितम्ब पर हल्की सी थपकी दे दी थी.

'आउच...ओके-ओके पापा.' मनिका को उनके इस स्पर्श का अंदेशा नहीं था और वह उचक कर खड़ी हो गई थी, जयसिंह ने बिल्कुल भी ऐसा नहीं दर्शाया कि उन्होंने कोई गलत या अजीब हरकत कर दी हो और उठ कर मीटिंग के लिए तैयार होने चल दिए.

मनिका को अपनी गांड में एक हल्की सी तरंग उठती महसूस हुई थी और वह कुछ पल वैसे ही खड़ी उनको जाते हुए देखती रही थी.

***

जयसिंह रात को लेट वापस आए थे. उन्होंने मनिका को कॉल करके बता दिया था कि आज उन्हें आने में देर हो जाएगी, उनके क्लाइंट ने उन्हें अपने एक-दो जानकार इन्वेस्टर्स से मिलवाया था और निकट भविष्य में जयसिंह को उनसे एक बड़ी डील होती नज़र आ रही थी. मीटिंग से निकल उन्होंने माथुर को फ़ोन कर आज की अपनी मीटिंग का ब्यौरा दिया था और जल्द से जल्द अपने नए क्लाइंट्स के लिए एक पोर्टफोलियो तैयार करने को कहा था.

'अब तो दिल्ली चक्कर लगते रहेंगे...’ वे फ़ोन रखते हुए बोले थे.

जब तक जयसिंह अपने हॉटेल रूम में पहुँचे थे मनिका सो चुकीं थी. जयसिंह ने भी बाथरूम में जा कर चेंज किया और आकर लेट गए, 'हे भगवान् ये डील फाइनल हो जाए तो मजा आ जाए.' उन्होंने प्रार्थना की, उनके दीमाग में आज की उनकी बिज़नस मीटिंग के विचार उठ रहे थे. काफी पैसा आने की सम्भावना ने मनिका पर उनका ध्यान अभी जाने नहीं दिया था, पर फिर उन्होंने करवट बदली और उनके विचार भी बदल गए 'और ये डील हो जाए तो डबल मजा आ जाए...’उन्होंने अपनी बेटी के जिस्म की तरफ हाथ बढ़ाते हुए सोचा.

जयसिंह ने शुक्र मनाया कि उन्होंने हाथ मनिका के गाल पर रख उसे सहलाया था. मनिका अभी पूरी तरह से नींद में नहीं थी और उनका स्पर्श पाते ही उसने आँखें खोल लीं थी.

'आह...पापा? आ गए आप?' उसने अंगडाई लेते हुए पूछा.

'हाँ...सोई नहीं अभी तक?' जयसिंह उसे जागती हुई पा कर थोड़ा घबरा गए थे.

'उहूँ...बस नींद आने ही लगी थी आपका वेट करते-करते...’ मनिका ने नींद भरी आवाज़ से कहा.

'ह्म्म्म...वो मीटिंग जरा देर तक चलती रही सो लेट हो गया.' जयसिंह ने बताया.

उनींदी हुई मनिका से कुछ देर बात करने के बाद जयसिंह ने उसे सो जाने को कह और एक बार फिर से लाइट ऑफ कर दी थी. मनिका अभी सोई नहीं थी और आज वे भी थक चुके थे, सो उन्होंने भी अपने सिर उठाते लंड को हल्का सा दबा कर शांत करने का प्रयास किया था और कुछ ही देर में उनकी आँख लग गई थी.

जयसिंह सपना देख रहे थे; सपने में वे एक बिज़नस मीटिंग में बैठे थे और एक बेहद बड़ी डील साईन करने के लिए निगोशिएट कर रहे थे. उन्हें आभास हो रहा था जैसे उनके साथ उनका सेक्रेटरी और ऑफिस के कर्मचारी कागजात लेकर बैठे हुए हैं और काफी गहमा-गहमी का माहौल है लेकिन जयसिंह किसी का भी चेहरा साफ-साफ़ नहीं देख पा रहे थे. कुछ देर इसी तरह सपना चलता रहा जब आखिर सामने बैठा क्लाइंट डील साईन करने को राजी हो गया और उसने उठते हुए उनसे हाथ मिलाया. जयसिंह ने भी उठ कर हाथ आगे बढाया था लेकिन अब उनके सामने क्लाइंट की जगह मनिका खड़ी थी और मुस्का रही थी, 'आई अग्री (मान जाना) पापा..!’सपने वाली मनिका ने कहा, उसने एक छोटी सी काली ड्रेस पहन रखी थी. जयसिंह ने नीचे देखा और पाया कि वे खुद नंगे खड़े थे और उनका लंड खड़ा हो कर हिलोरे ले रहा था, तभी मनिका ने हाथ बढ़ा कर उसे पकड़ लिया; जयसिंह की आँख खुल गई, उनका हाथ पजामे के अन्दर लंड को थामे हुए था और उनके दिल की धड़कनें बढ़ी हुईं थी.

जयसिंह ने खिड़की की तरफ देखा और पाया कि बाहर अभी भी अँधेरा था, उन्होंने सिरहाने रखे फ़ोन में वक्त देखा. सुबह के ४ बजने वाले थे. उन्होंने मनिका की तरफ देखा, वह पेट के बल लेटी सो रही थी. उनका लंड अभी भी उनके हाथ में था पर मनिका को सोते हुए पा कर भी उन्होंने उसे छूने की कोशिश नहीं की थी. वे लेटे-लेटे सोचने लगे,
'उफ़...अब तो साली के सपने भी आने लगे हैं. बड़ी जालिम है इसकी जवानी...पर कुछ होता दिखाई नहीं देता, इसके सिर पर तो दोस्ती का भूत सवार है और मेरे लंड पर इसकी ठुकाई का. दोनों के बीच मेरी बैंड बजी रहती है. क्या करूँ समझ नहीं आता...आज आखिरी दिन है, कल तो चिनाल का इंटरव्यू होगा.' जयसिंह अपनी लाचारगी पर तरस खाते हुए मनिका की उभरी हुई गांड देख रहे थे. 'हर तरह से इसे बहला चुका हूँ...पर आगे दीमाग में कोई तरकीब आ ही नहीं रही है...' कुछ पल इसी तरह फ्रस्टरेट होते रहने के बाद उनके लंड ने एक जोरदार हिचकोला खाया. यकायक जयसिंह के चेहरे पर मुस्कान तैरने लगी, 'आह ये मैंने पहले क्यूँ नहीं सोचा...दीमाग नहीं...अब लंड की बारी है...'

जयसिंह ख़ुशी-ख़ुशी सो गए, आर या पार की लड़ाई का वक्त आ चुका था.
-  - 
Reply
10-04-2018, 11:38 AM,
#26
RE: Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
सूरज निकल आने के साथ ही जयसिंह और मनिका भी उठ गए थे. उन्होंने अपनी दिनचर्या के काम निपटाए और मनिका के कहने पर नाश्ता कमरे में ही मंगवा लिया. मनिका को भी अगले दिन का अपना इंटरव्यू नज़र आने लगा था और जयसिंह को अपनी बुद्धिमता के लाख उदाहरण देने के बावजूद अब वह भी कुछ नर्वस हो गई थी. उसने अपने पिता से कहा कि आज वह इंटरव्यू के लिए पढ़ कर थोड़ा रिवीजन करने का सोच रही थी सो अगर उन्हें भी अपने बिज़नस का कोई जरूरी काम हो तो वे बेफिक्र कर सकते हैं. जयसिंह ने मुहँ-अँधेरे आँख खुलने पर जो तरकीब सोची थी उसे इस्तेमाल करने की हिम्मत अभी तक नहीं बाँध सके थे. उस वक्त तो नींद में उन्होंने फैसला कर लिया था लेकिन सुबह मनिका के उठ जाने के बाद उनका असमंजस और व्याकुलता बढ़ गए थे. एक मौका आ कर हाथ से निकल भी चुका था. उन्होंने मनिका की बात पर सहमत होते हुए कहा कि वैसे तो आज वे फ्री थे और रूम में ही रहेंगे बट अगर कोई काम आन पड़ता है तो शायद उन्हें जाना पड़ जाए.

नाश्ता करने के बाद मनिका अपनी किताबें ले कर बैठ गई और जयसिंह कुछ देर कमरे में इधर-उधर होने के बाद उस से पूल खेलने जाने का बोल कर नीचे चले गए. कुछ घंटों बाद उन्होंने रूम में कॉल कर के मनिका को नीचे लंच के लिए बुलाया, जब वे खाना खत्म कर चुके तो जयसिंह के आग्रह के बाद भी मनिका उनके साथ पूल एरिया में न जा कर पढ़ने के लिए रूम में लौट गई थी.

जयसिंह शाम हुए रूम में लौट कर आए. वे बहुत खुश नज़र आ रहे थे, उनको इस कदर मुस्काते देख बेड पर किताब लिए बैठी मनिका ने उन्हें छेड़ते हुए पूछा,

'क्या हुआ पापा? बड़ा मुस्कुरा रहे हो आज तो...कोई गर्लफ्रेंड बना आए हो क्या?'

'हाहाहा...नहीं-नहीं कहाँ गर्लफ्रेंड...पर हाँ अपनी एक गर्लफ्रेंड की शॉपिंग का जुगाड़ कर आया हूँ...' जयसिंह ने भी हँस कर उसे आँख मार दी थी, उनका इशारा मनिका की तरफ ही था.

'हाहाहा...ये बात है? मुझे भी बताओ फिर तो...’मनिका ने किताब एक तरफ रखते हुए पूछा.

जयसिंह ने उसे बताया कि आज वे पूल में जीत कर आए हैं और जीत की राशि उनके हारे हुए अमाउंट के दोगुने से भी ज्यादा थी व उसे चेक दिखाया. मनिका भी खुश हो गई थी. मनिका ने बताया कि उसने तो बस पढाई ही करी थी दिन भर और अब उसे नींद आ रही थी. जयसिंह ने डिनर भी रूम में ही मंगवा लेने का सुझाव दिया.

खाना खा लेने के बाद मनिका नहाने चली गई और जयसिंह बेड पर बैठ सोच में डूब गए, 'क्या वे यह कर सकेंगे?' कुछ पल बैठे रहने के बाद वे उठे और जा कर सूटकेस में रखे अपने शेविंग-किट में से एक छोटी सी बोतल निकाल लाए.

उनका दिल जोरों से धड़क रहा था.

मनिका नहाते वक्त अगले दिन की टेंशन में डूबी थी. उसके पापा आज पूल में जीत कर आए थे इस बात से वह खुश भी थी लेकिन इतने दिन दिल्ली की हवा लग जाने के बाद अब उसे यह डर सता रहा था कि अगर उसका सेलेक्शन नहीं हुआ तो उसे वापस बाड़मेर जाना पड़ सकता है 'अगर कल मेरा सेलेक्शन नहीं हुआ तो पापा से बोलूंगी कि यहीं किसी और कॉलेज में एडमिशन लेना है मुझे...वापस तो मैं भी नहीं जाने वाली.' उसने सोचा था और नहा कर बाथरूम से बाहर निकली. जयसिंह रोज की तरह सामने काउच पर ही बैठे थे. टी.वी चल रहा था.

मनिका को जैसे काटो तो खून नहीं, उसका दिल, दीमाग और तन तीनों चक्कर खा गए थे.

जयसिंह ने अपने किट से तेल की शीशी निकाली थी और बेड पर आ बैठे थे. फिर उन्होंने अपनी पेंट और अंडरवियर निकाल दिए व हाथों में तेल लेकर अपने काले लंड पर लगाने लगे, लंड तो पहले से ही खड़ा था, अब तेल की मालिश से चमकने लगा था. उस सुबह नहाते वक़्त जयसिंह ने अपने अंतरंग भाग पर से बाल भी साफ़ कर लिए थे, सो उनके लंड के नीचे उनके अंडकोष भी साफ नज़र आ रहे थे. कुछ देर अपने लंड को इसी तरह तेल पिलाने के बाद जयसिंह ने उठ कर अलमारी में रखे एक्स्ट्रा तौलियों में से एक निकाल कर लपेट लिया और अपनी उतारी हुई पेंट और चड्डी को सूटकेस में रख दिया. तेल की शीशी को भी यथास्थान रखने के बाद वे काउच पर जा जमे और मनिका के बाहर आने का इंतज़ार करने लगे थे.

मनिका जब नहा कर बाहर आई तो अपने पिता को काउच पर बैठ टी.वी देखते पाया. वे ऊपर तो शर्ट ही पहने हुए थे लेकिन नीचे उन्होंने एक टॉवल लपेट रखा था और पैर पर पैर रख कर बैठे थे. टॉवल बीच से ऊपर उठा हुआ था और उनकी टांगों के बीच उनका 'डिक!' नज़र आ रहा था. मनिका की आँखों के आगे अँधेरा छाने लगा.

मनिका ने अपनी सहेलियों के साथ गुपचुप खिखीयाते हुए एक दो पोर्न फ़िल्में देखीं हुई थी लेकिन असली लंड से उसका सामना पहली बार हुआ था और वह भी उसके पिता का था. जयसिंह के भीषण काले लंड को देख उसका बदन शरम और घबराहट से तपने लगा था.

'बस अभी नहाता हूँ...' जयसिंह ने मनिका की तरफ एक नज़र देख कर कहा. उनका हाल भी मनिका से कोई बेहतर नहीं था, दिल की धड़कने रेलगाड़ी सी दौड़ रहीं थी. लेकिन उन्होंने अपनी पूरी इछाश्क्ति से अपने चेहरे के भाव नॉर्मल बनाए रखे थे. मनिका के चेहरे का उड़ा रंग देख उन्होंने झूठी आशंका व्यक्त की, 'क्या हुआ मनिका?'

'क...क...कुछ...कुछ नहीं...पापा...’ मनिका ने हकलाते हुए कहा और पलट कर बेड की तरफ चल दी.

जयसिंह उसे जाते हुए देखते रहे, उसकी पीठ उनकी तरफ थी और उसने अपना सूटकेस खोल रखा था, जयसिंह ने अपनी नज़रें टी.वी पर गड़ा लीं, उसी वक्त मनिका ने एक बार फिर उन्हें पलट कर देखा. जयसिंह अपनी बेटी के सामने अपने आप को यूँ एक्सपोस (दिखाना) करने के बाद थोड़े और बोल्ड हो गए थे, हालाँकि डर उन्हें भी लग रहा था कि कहीं कुछ उल्टा रिएक्शन ना हो जाए उसकी तरफ से,

'मनिका!?' उन्होंने पुकारा.

'ज...जी पापा?' मनिका ने थोड़ा सा मुहँ पीछे कर के पूछा. उसकी आवाज़ भर्रा रही थी.

'ये मेरा फ़ोन चार्ज में लगा दो जरा...' जयसिंह ने अपना फ़ोन हाथ में ले उसकी तरफ बढ़ाया.

'जी...हाँ अभी...अभी लगाती हूँ...पापा...’ मनिका ने उनकी तरफ देखा और एक बार फिर से सिहर उठी.

थोड़ी हिम्मत कर मनिका पलटी और बिना जयसिंह की टांगों के बीच नज़र ले जाए उनके पास आने लगी, जयसिंह को हाथ में फ़ोन उठाए कुछ पल बीत चुके थे, जैसे ही उन्हें मनिका पास आती दिखी उन्होंने फ़ोन अपने आगे रखे एक छोटे टेबल पर रख दिया था. मनिका की नज़र भी उनके नीचे जाते हाथ के साथ नीची हो गईं, वह जयसिंह से चार फुट की दूरी पर खड़ी थी और उसने झुक कर फ़ोन उठाया, ना चाहते हुए भी उसकी नज़र एक बार फिर से जयसिंह के चमकते लंड और आंडों पर जा टिकी. जयसिंह भी उत्तेजित तो थे ही, मनिका की नज़र कहाँ है इसका आभास उन्हें कनखियों से हो गया था. उन्होंने अपने उत्तेजित हुए लंड की माश्पेशियाँ कसते हुए उसे एक हुलारा दिला दिया, मनिका झट से उछल कर सीधी हुई और लघभग भागती हुई बेड के पास जा कर उनका फ़ोन चार्जर में लगाने की कोशिश करने लगी, उसके हाथ कांप रहे थे.

जयसिंह के बाथरूम में जाने की आहट होते ही मनिका औंधे मुहँ बिस्तर पर जा गिरी. उसे बुखार सा हो आया था, 'ओह शिट ओह शिट ओह शिट!' मनिका ने अपने दोनों हाथों से मुहँ ढंकते हुए सोचा, 'आइ सॉ पापाज़...ओह गॉड!' अपने पिता के लंड की कल्पना करते ही मनिका का बदन कांप उठा था. 'पापा को रियलाईज़ भी नहीं हो रहा था कि...टॉवल ऊपर हो गया है...और उनका...हाय...ओह गॉड...हाओ कैन दिस हैपन?' मनिका के दीमाग में भूचाल उठ रहा था. वह सरक कर बिस्तर में अपनी साइड पर हुई और बेड के सिरहाने लगे स्विच से कमरे की लाइट बुझा दी व अपने पैर सिकोड़ कर कम्बल ओढ़ लेट गई. बार-बार उसके सामने जयसिंह के लंड और आंड आ-जा रहे थे और उसका जिस्म शरम और ग्लानी (हालाँकि उसकी कोई गलती नहीं थी) की आग में तप रहा था.

मनिका एक और खौफ यह भी सता रहा था कि वह अब जयसिंह से नज़र कैसे मिला पाएगी? इसी डर से उसने कमरे की लाइट बुझा दी थी और नाईट-लैंप भी नहीं जलाया था और जब एक बार फिर से बाथरूम के दरवाज़े के खुलने की आहट हुई थी तो उसका बेचैन दिल धौंकनी सा धड़कने लगा था.

जयसिंह बाहर निकले तो कमरे में घुप्प अँधेरा पा कर अचकचा गए.

नहाते हुए उनका भी मन अपने किए इस दुस्साहसी कृत्य से विचलित रहा था 'पता नहीं क्या सोच रही होगी...लंड ने तो खून जमा दिया उसका, कैसे उठ कर भागी थी साली...कहीं मैंने ज्यादा बड़ा कदम तो नहीं उठा लिया? अब तो पीछे हटने का भी कोई रास्ता नहीं है...कहीं उसे शक हो गया होगा तो..? की यह मैंने जान-बूझकर किया था...मारे जाएँगे फिर तो...’अब जयसिंह भी अपने दुस्साहस को लेकर असमंजस में फंसते जा रहे थे. लेकिन आखिर में उन्होंने सोचा कि 'अब जब ओखली में सिर दे ही दिया है तो मूसलों का क्या डर...देखा जाएगा जो होगा, जो योजना बनाई थी उसे तो अब पूरा अंजाम देना ही है...’और नहा कर बाहर निकले थे.

'मनिका?' जयसिंह ने कमरे के अँधेरे में आवाज़ दी. बाथरूम की लाइट जल रही थी और अब उनकी आँखें भी अँधेरे के अनुरूप ढलने लगी थी. 'सो गई?'

'ज...जी पापा.' बिस्तर में से दबी सी आवाज़ आई.

'नाईट-लैंप तो ऑन कर देती...कुछ दिखाई ही नहीं पड़ रहा.' जयसिंह ने कहा.

'ओह सॉरी पापा...’ मनिका ने माफ़ी मांगी और हाथ बढ़ा कर नाईट-लैंप का स्विच ऑन कर दिया.

कुछ ही देर में जयसिंह भी बिस्तर में आ पहुँचे, मनिका की करवट उनसे दूसरी तरफ थी. जयसिंह ने कुछ पल रुक कर सोचा और फिर अपने प्लान के मुताबिक ही चलने का फैसला करते हुए मनिका के कंधे पर हाथ रख उसे हौले से खींचा, मनिका ने उनके इस इशारे पर करवट बदल ली और उनकी तरफ मुहँ कर लिया, उसने एक पल के लिए उनसे नज़र मिलाई थी और फिर आँखें मींच लीं थी.

'क्या हुआ मनिका? आज इतना जल्दी सो गई?' जयसिंह ने छेड़ की.

'म्मम्म...वो पापा...आज पढ़ते-पढ़ते थक गई...और सुबह इंटरव्यू के लिए भी जाना है सो...' मनिका पहले से ही जानती थी कि उसके पापा यह सवाल पूछ सकते हैं और इसलिए उसने जवाब सोच कर रखा हुआ था. उसने एक पल जयसिंह की तरफ आँख खोल कर देखा था और उसकी आँखों में अचरज का भाव आ गया था.

'ह्म्म्म...चलो फिर सो जाओ.' जयसिंह ने हौले से उसका गाल थपथपा कर कहा.

'पापा? आपने बरमूडा-शॉर्ट्स कब ली?' मनिका ने पूछा. दरअसल जयसिंह आज पायजामा-कुरता नहीं बल्कि बरमूडा-शॉर्ट्स और टी-शर्ट पहन कर आए थे.

'अरे पहले से ही हैं मेरे पास यह तो...' जयसिंह ने बिल्कुल नॉर्मल एक्ट करते हुए कहा.

'पर पहले तो आपने नहीं पहना...' मनिका ने कहा था पर बात पूरी नहीं की थी.

'हाँ...वो बाथरूम के फर्श पर पानी होता है न तो पायजामा पहनते वक्त नीचे लग कर गीला हो जाता है रोज-रोज सो आज यह पहन लिया. वैसे भी पायजामा-कुरता लॉन्ड्री से धुल कर आया हुआ था तो सीधा सूटकेस में ही रख दिया, आज और कल की ही तो बात है अब...’ जयसिंह ने तर्क देते हुए सफाई पेश की थी. लेकिन उनके मन में तो लडडू फूट रहे थे.

आज मनिका की बेड-साइड वाला नाईट-लैंप जल रहा था सो रौशनी के दायरे में जयसिंह थे. बरमूडा-शॉर्ट्स का कपड़ा ज्यादा मोटा नहीं हुआ करता है और वे अंदर कुछ नहीं पहन कर आए थे सो उनके लंड का उठाव नज़र आ रहा था. उन्होंने देखा कि उनके बोलते-बोलते ही मनिका की नज़र दो-तीन बार उनकी टांगों के बीच चली गईं थी और हर नज़र के साथ वह सहम कर आँख बंद कर लेती थी.

जयसिंह अब सोने का नाटक करने लगे, उन दोनों की करवटें एक-दूसरे की ओर ही थी. मनिका को नींद नहीं आ रही थी व वह थोड़ी-थोड़ी देर में आँखें खोल जयसिंह को देख रही थी. जयसिंह भी आँखें मूंदे पड़े थे, वे भी कुछ-कुछ देर बाद हल्की सी आँख खोल अपनी पलकों के बीच से मनिका की बेचैनी देख कर मन ही मन मस्त हो रहे थे. उधर मनिका चाहकर भी अपना ध्यान अपने पिता के लंड पर से नहीं हटा पा रही थी, ऊपर से उनके पहने बरमूडा-शॉर्ट्स ने उसकी मुसीबत और ज्यादा बढ़ा दी थी.

'शिट पापा को कैसे एक्सपोस होता देख लिया मैंने...अगर उन्हें पता चल जाता तो...? गॉड इट्स सो एम्बैरेसिंग...और ये शॉर्ट्स जो पापा आज पहन आएं हैं..! इज़ दैट हिज़..? हाय ये मैं क्या सोच रही हूँ...' जयसिंह की शॉर्ट्स में बने उठाव को देख कर मनिका के मन में विचार उठने लगा था जब उसने झटपट अपनी सोच पर लगाम कसी और पलट कर करवट बदल ली, लेकिन बैरी मन था के थामे नहीं थम रहा था 'कितना बड़ा था...है...ओह नो नो नो ऐसा मत सोचो...एंड काला...शिट...पर वो ऐसे चमक क्यूँ रहा...इश्श...' मनिका ने शरम से अपने हाथों से अपने-आप को बाँहों में कसते हुए ऐसे विचारों को दूर झटकने की कोशिश की 'ब्लू फिल्म्स में जैसा दिखाते हैं...वैसा...नो...और पापा की बॉल्स (आंड)...गॉड नो...स्टॉप इट डैम इट...' मनिका ने अपने मन की निर्लज्जता पर गुस्सा होते हुए अपने आप को धिक्कारा.

मनिका की नींद उस रात बार-बार टूटती रही, जयसिंह के नंगेपन का ख्याल रह-रह कर उसके मन में कौंध जाता था और अब उसकी अपने इंटरव्यू को लेकर टेंशन भी बढ़ गई थी. उसे ऐसा लग रहा था कि वह सब पढ़ी हुई बातें भूल चुकी है. 'ओह गॉड अब क्या होगा...जब से पापा का...देखा है...गॉड...क्या प्रिपरेशन की थी सब भूल रही हूँ...शिट अब क्या करूँगी मैं कल..?' किसी तरह सुबह होते-होते मनिका की आँख लगी थी जबकि जयसिंह मनिका के उहापोह को ताड़ते हुए कब के मीठी नींद सो चुके थे.

अगली सुबह जब मनिका सो कर उठी तो उसका मन अजीब सा हो रखा था, उसे ऐसा लग रहा था मानो वह कोई बहुत बड़ी दुर्घटना घटने के बाद की पहली सुबह हो. फिर जैसे-जैसे उसकी नींद उड़ने लगी उसे पिछली रात देखा नज़ारा याद आने लगा. रात को तो अचानक इस तरह अपने पिता के गुप्तांग देख लेने ने से वह सन्न रह गई थी और उस वाकये के भुलाने की कोशिश करते-करते सो गई थी लेकिन अब सुबह को उसे वही बात हज़ार गुना ज्यादा झटके के साथ याद आ रही थी. जब तक वे दोनों उठ कर नहा-धो तैयार हुए और कैब बुक कराने के बाद नीचे रेस्टोरेंट में नाश्ते के लिए पहुँचे थे, मनिका अनगिनत बार हँसते-मुस्कुराते अपने पिता की तरफ देख कर शरम और अपराधबोध से भर चुकी थी.
-  - 
Reply
10-04-2018, 11:38 AM,
#27
RE: Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
उधर जयसिंह को अब पूरा विश्वास हो चुका था की उनकी हरमजदगी का भान मनिका को नहीं हुआ था और वे आज कुछ ज्यादा ही चहक रहे थे. वे लोग ब्रेक-फ़ास्ट करने के बाद कैब से कॉलेज पहुँचे, वहाँ काफी भीड़-भाड़ थी, जयसिंह ने गेट पर शीशा नीचे कर एम.बी.ए. इंटरव्यूज़ का वेन्यु (जगह) पता किया था और अन्दर पहुँच ड्राईवर को पार्किंग में वेट करने का बोल मनिका के साथ मेन-बिल्डिंग की तरफ चल दिए.

बिल्डिंग में बने कॉलेज के एडमिनिस्ट्रेटिव ब्लॉक से उन्होंने इंटरव्यू के लिए निर्धारित ऑफिस का पता किया और उनके बताए रास्ते के मुताबिक मैनेजमेंट ब्लॉक में जा पहुँचे, वहाँ बहुत से लड़के-लड़कियाँ अपने अभिभावकों के साथ आए हुए अपना नंबर आने का इंतजार कर रहे थे. जयसिंह और मनिका भी एक तरफ बने वेटिंग एरिया में बैठ गए और मनिका का नाम बुलाए जाने की प्रतीक्षा करने लगे.

'पापा आई एम् सो नर्वस..!' मनिका ने जयसिंह से अपना भय व्यक्त किया.

'अरे व्हाए? तुम्हें तो सब आता है. ऐसा मत सोचो बिल्कुल भी, तुम्हारा सेलेक्शन पक्का होगा, मुझे पूरा यकीन है अपनी...गर्लफ्रेंड पर...’ जयसिंह ने मुस्कुरा कर उसकी हिम्मत बँधाई. वे मनिका को अपनी बेटी कहते-कहते रुक गए थे.

'ओह पापा. हाहाहा...आप भी ना!' मनिका ने भी उनकी बात पर हँसते हुए उलाहना दिया और बोली 'आई क्नॉ की मेरी प्रिपरेशन अच्छी है बट कल से माइंड थोड़ा डाइवर्ट (ध्यान-भंग) हो रखा है...’ यह कहते हुए मनिका के मन में एक बार फिर जयसिंह के लिंग की आकृतियां बनने लगीं और उसकी नजर जयसिंह की पैंट की ज़िप पर चली गईं थी.

'कोई बात नहीं तुम टेंशन मत लो, जो होगा अच्छे के लिए ही होगा.' जयसिंह ने पास बैठी मनिका के कँधे पर हाथ रखते हुए कहा. मनिका भी थोड़ा मुस्का दी पर कुछ नहीं बोली 'पापा को क्या पता की मैंने इनका डिक देख लिया...गॉड फिर से वही गंदे ख्याल...’ उसके मन में उठा और वह भीतर ही भीतर शर्मसार हो गई. अब जयसिंह का हाथ उसके कँधे पर उसे एक तपिश सी देता हुआ महसूस हो रहा था.

कुछ वक्त बाद इंटरव्यू के लिए मनिका का नंबर भी आ गया. जयसिंह ने उसे मुस्का कर गुड-लक कहा और मनिका धड़कते दिल से अपना पहला इंटरव्यू देने के लिए चल दी. जयसिंह वहीं बैठे उसका इंतज़ार करने लगे.

'ह्म्म्म माइंड तो डाइवर्ट हुआ हरामज़ादी का चलो...बस अब माइंड डाइवर्ट ही रहना चाहिए...हाहाहा... क्या गांड है यार...' उन्होंने इंटरव्यू रूम में घुसती हुई मनिका को देखते हुए सोचा था.

मनिका का इंटरव्यू करीब २५ मिनट तक चला. अंदर पहुँच कर उसने देखा कि इंटरव्यू के लिए तीन जनों का पैनल बैठा था. उसके अभिवादन करने के बाद उसे बैठने को कहा गया और फिर एक-एक कर के तीनों इंटरव्यूअर उससे सवाल करने लगे. पहले सवाल पर मनिका एक क्षण के लिए तो सकपका गई थी लेकिन फिर उसके दीमाग ने धीरे-धीरे एक बार फिर सही दिशा में काम करना चालू कर दिया और जवाब उसकी जुबान पर आने लगे. हर सवाल के बाद उसका आत्मविश्वास लौटता जा रहा था.

जब मनिका इंटरव्यू देकर बाहर आई तो जयसिंह को जस के तस बैठे हुए पाया, उससे नज़र मिलते ही जयसिंह उठ खड़े हुए और उसकी तरफ आने लगे, उनके चेहरे पर एक सवालिया भाव था.

'कैसा हुआ?' जयसिंह ने करीब आ कर पूछा.

'अच्छा हुआ पापा...मतलब आई थिंक सो...पहले मैं थोड़ा नर्वस थी बट फिर आई गॉट कॉन्फिडेंट...' मनिका हल्की सी मुस्काई थी 'मे-बी मेरा हो जाएगा...ओह पापा मुझे फिर से डर लग रहा है अब..' उसने आगे कहा.

'कितनी देर में आएगा रिजल्ट?' जयसिंह ने पूछा.

'बस १०-१५ मिनट्स में ही, आई गैस अपना नंबर सबसे लास्ट में ही आया है...'

'ह्म्म्म...कोई बात नहीं घबराओ मत...' जयसिंह ने उसे फिर से ढांढस बँधाया.

कुछ देर बाद ही मनिका के कहे मुताबिक रिजल्ट डिक्लेअर हो गया. ऑफिस से एक इंटरव्यूअर बाहर आया था और उसने बाहर लगे सॉफ़्ट-बोर्ड पर एक कागज पिन कर दिया था जिसपर सेलेक्ट हुए लोगों के नाम थे. काँपते कदमों से मनिका अपना रिजल्ट देखने के लिए बढ़ी, बोर्ड के चारों तरफ जमघट लग गया था. कुछ पल बाद मनिका को कागज सही से दिखा, पर नर्वसनेस में एक पल के लिए उसे कुछ नज़र नहीं आया, फिर उसने अपने-आप को सँभालते हुए गौर से देखा तो पाया कि ऊपर से चौथे नंबर पर लिखा था 'मनिका सिंह'.

मनिका ख़ुशी से झूम उठी.

'पापाआआआ...आई गॉट सेलेक्टेड..!' उसने पीछे मुड़ते हुए जयसिंह को आवाज़ दी और खिलखिलाते हुए उनकी तरफ बढ़ी.

जयसिंह ने भी आगे बढ़ते हुए अपनी बाँहें खोल दीं व मनिका आ कर उनके आगोश में समा गई, उन्होंने मनिका को अपनी छाती पर भींच लिया था. मनिका का वक्ष अब उनकी छाती से लगा हुआ था और उनके हाथ उसकी पीठ और कमर पर कसे हुए थे. मनिका के जवान होने के बाद ये पहली बार थी जब उन्होंने उसे इस तरह गले लगाया था. उनके बदन में जैसै करन्ट दौड़ने लगा और उन्होंने अपनी बाँहें और ज्यादा कस लीं थी.

उधर कुछ एक क्षण के उन्माद के बाद मनिका को भी एक पुरुष के जिस्म की संरचना और ताकत का एहसास होने लगा, जयसिंह की छाती उसके स्तनों का मर्दन कर रही थी, उसका बदन उनकी बाजूओं में इस तरह जकड़ा हुआ था कि वह चाहकर भी उनसे अलग नहीं हो पा रही थी.

'पापा...!' जयसिंह की कसती चली जा रही पकड़ से आजाद होने की कोशिश करते हुए मनिका ने कहा.

'मैंने कहा था ना तुम सेलेक्ट हो जाओगी...' जयसिंह भी मनिका का प्रतिरोध भाँप गए थे और उन्होंने उसे अपनी गिरफ्त से थोड़ा आजाद करते हुए कहा.

'हाँ पापा...ओह गॉड. आई एम् सो हैप्पी!' मनिका ने कहा.

रिजल्ट वाले नोटिस में सेलेक्ट हुए कैंडिडेट्स को एडमिनिस्ट्रेटिव ब्लॉक में जा कर एडमिशन फॉर्म भरने के निर्देश दिए गए थे, सो जयसिंह और मनिका एक बार फिर से वहाँ गए और कॉलेज का फॉर्म और प्रॉस्पेक्टस ख़रीदा. वहाँ एक और खुशखबरी जयसिंह का इंतज़ार कर रही थी, कॉलेज की फीस अगले तीन दिनों में जमा कराने पर ही पहली कट-ऑफ लिस्ट में सेलेक्ट हुए लोगों का एडमिशन कन्फर्म हो सकता था वरना फिर कॉलेज से दूसरी लिस्ट जारी की जाती और क्रमवार अगले कैंडिडेट्स को मौका दिया जाता. जयसिंह ने बाहर आते ही पहला फोन अपने घर पर किया था और मनिका के सेलेक्ट हो जाने की खबर सुनाई थी और कहा था कि उनकी वापसी में एक-दो दिन और लगने वाले थे, उनकी बीवी मधु ने इस पर कोई खासी उत्साहजनक प्रतिक्रिया नहीं दी थी (क्योंकि अभी भी अपनी बेटी के बर्ताव व उससे हुई अनबन की गाँठ उसके मन में थी). उधर एडमिशन हो जाने की ख़ुशी के मारे मनिका भी अपने पिता के लिंग-दर्शन को भूल गई थी और वहाँ एक-दो दिन और बिताने के ख्याल ने उसे और ज्यादा उत्साहित कर दिया था.

जयसिंह ने मनिका से कहा कि वे अगले दिन आ कर उसके एडमिशन की फॉर्मलिटीज़ पूरी कर जाएँगे, मनिका को भला क्या एतराज़ हो सकता था, और वे दोनों वापिस अपने हॉटेल लौट आए.

अपने कमरे में आ कर मनिका ने एडमिशन-फॉर्म निकाला और उसे भरने बैठ गई. दोपहर के खाने का वक़्त भी हो चुका था और जयसिंह भी उसके पास ही बैठे मेन्यू देख रहे थे. आज जयसिंह ने अपनी मर्जी से ही खाना ऑर्डर कर दिया था क्यूँकि मनिका का पूरा ध्यान अपने फॉर्म में लगा हुआ था. जयसिंह के ऑर्डर कर के हटने की कुछ देर बाद मनिका ने भी फॉर्म पूरा भर लिया,

'ऑल डन पापा...' मनिका ने फॉर्म में लिखी सभी डिटेल्स को एक बार फिर चेक करते हुए कहा.

'हम्म चलो एक काम तो पूरा हुआ...अब तो खुश हो तुम?' जयसिंह ने पास बैठी मनिका को अपने पास खीँचते हुए कहा.

'हाँ पापा.' मनिका भी बिना प्रतिरोध के उनसे सटते हुए बोली.

'और बताओ फिर...दिल्ली भी देख ली, शॉपिंग भी हो गई और एडमिशन भी हो गया अब क्या करने का इरादा है?' जयसिंह ने मुस्कुराते हुए सवाल किया.

'हाहाहाहा...बस पापा इतना बहुत है...अब आप जल्दी-जल्दी डेल्ही आते रहना.' मनिका ने हँसते हुए कहा.

'हाँ भई अब मेरी गर्लफ्रेंड यहाँ है तो आना ही पड़ेगा.' जयसिंह ने शरारत से कहा.

'हाहा…क्या बोलते रहते हो पापा.' मनिका बोली.

'वैसे कॉलेज में लड़के काफ़ी हैं...' जयसिंह की बात में कुछ अंदेशा था.

'तो..?' मनिका भी उनके कहने का मतलब समझ गई थी पर उसने अनजान बनते हुए पूछा.

'तो क्या? कल को कोई पसंद आ गया तुम्हें तो ये पुराना बॉयफ्रेंड थोड़े ही याद रहेगा...’ जयसिंह ने झूठी उदासी दिखाते हुए कहा.

'हेहेहे...पापा कुछ भी...' मनिका ने उनकी बात को मजाक में ही लिया था 'और वैसे भी मुझे कोई बॉयफ्रेंड नहीं चाहिए...' उसने कहा.

'हाहाहा...' जयसिंह ने भी दाँत दिखा दिए 'वैसे क्यों नहीं चाहिए तुम्हें बॉयफ्रेंड?' उन्होंने पूछा.

'अरे भई नहीं चाहिए तो नहीं चाहिए...क्या करना है बॉयफ्रेंड-वोयफ़्रेंड का...' मनिका अपने पिता से ऐसी बातें करने में झिझक रही थी.

'वैसे बॉयफ्रेंड तो होना ही चाहिए जो ख्याल रखे तुम्हारा...' जयसिंह भी कहाँ मानने वाले थे.

'अच्छा? तो आप बना लो...हीही.' मनिका ने कहा और अपने ही मजाक पर हँसी.

'तो मुझे तो गर्लफ्रेंड बनानी होगी ना..?' जयसिंह मुस्काए.

'हाँ तो बना लो न जा के...' मनिका भी अब उनके कहे को मजाक समझ बोली.

'हाहाहा...हाँ तो इसीलिए तो तुम्हारा एडमिशन यहाँ करवाया है, कोई सुंदर सी सहेली बना कर मुझसे दोस्ती करवा देना...' जयसिंह ने हँसते हुए उसे आँख मारी.

'हाआआ...! पापा कितने ख़राब निकले आप...बड़े आए, बूढ़े हो गए हो और अरमान तो देखो. मम्मी से बोलूंगी ना तो गर्लफ्रेंड का भूत एक मिनट में उतार जाएगा...हाहाहा.' मनिका ने उन्हें झूठ-मूठ धमकाया.

'इतना भी बूढ़ा नहीं हूँ...तुम्हें क्या पता? बस अपनी मम्मी के नाम से डराती हो मुझे...’ जयसिंह भी पीछे नहीं हटे थे.

'रहने दो आप...हाहाहा...मेरी फ्रेंड आपसे कितनी छोटी होगी पता है..? कुछ तो शरम करो...’ मनिका ने उन्हें उलाहना दिया.

'तो क्या हुआ...होगी तो लड़की ही ना और हम भी तो मर्द हैं...' जयसिंह ने उसे चिढ़ाया.

'हाहाहा...जाओ-जाओ रहन दो आप...' मनिका ने उनका मखौल उड़ाते हुए कहा.

'हंस लो हंस लो तुम भी कोई बात नहीं...लेकिन एक असली मर्द लड़की का जितना ख्याल रख सकता है उतना तुम्हारे ये नए-नवेले बॉयफ्रेंड कभी नहीं रख सकते...' जयसिंह ने मनिका की हंसी का जवाब देते हुए कहा.

'हाहाहा पापा बस भई मान लिया...और मेरे कोई नए-नवेले बॉयफ्रेंड है भी नहीं...हीहीही.' मनिका फिर भी हंसती रही.

थोड़ी देर में उनका लंच आ गया और वे दोनों खाना खाने लगे. आज एक बार फिर वही वेटर खाना दे गया था जिसने मनिका को एक बार अर्ध-नंग आवस्था में देख लिया था. पर आज जयसिंह वहीँ बैठे थे सो उसने कोई उद्दंडता नहीं दिखाई थी. खाना खाने के बाद जयसिंह बेड पर लेट सुस्ताने लगे और मनिका टी.वी. देखने लगी.

मनिका ने टेलीविजन में एम्. टी.वी. चैनल चला रखा था जिसमे बॉलीवुड के लेटेस्ट अपडेट्स आ रहे थे. कुछ देर देखते रहने के बाद मनिका का ध्यान टी.वी पर से हट गया. वह जो प्रोग्राम देख रही थी उसमे बॉलीवुड के स्टार्स की लव-लाइफ इत्यादि के बारे में भी कयास लगाए गए थे और मनिका ने रियलाईज़ किया कि ज्यादातर हीरो अधेड़ उम्र के थे और उनका नाम नई आई हीरोइनों के साथ जोड़ा जा रहा था. यह बात तो उसे पहले से भी पता थी कि अक्सर ४०-४५ पार के हीरो अपने से आधी उम्र की हिरोइन्स को डेट करते हैं लेकिन उसने इस बारे में कभी गहराई से नहीं सोचा था, 'बॉलीवुड में ऐसा ही चलता है' यह एक सामान्य सोच थी. पर अब उसे एहसास हुआ कि इस बात से उसके पिता के उस दावे को भी पुष्टि मिल रही थी के मर्द लड़कियों का ख्याल रखने में माहिर होते हैं, 'क्या सच में..?’ मनिका ने मन ही मन सोचा.

'पापा जो कह रहे थे क्या सच में वैसा ही है? पहले कभी सोचा ही नहीं बट ये हिरोइन्स को हमेशा बूढ़े-बूढ़े हीरो ही क्यों पसंद आते हैं..? पैसा होता है क्यूंकि उनके पास...पर पैसा तो वो भी कमाती ही हैं और नए हीरो भी तो कम पैसेवाले नहीं होते...?’ मनिका सोचती जा रही थी 'और बड़े-बड़े बिजनेसमैन भी तो कैसे रोज नई गर्लफ्रेंड घुमा रहे होते हैं...बात सिर्फ पैसे की तो नहीं हो सकती...ह्म्म्म. हाथ तो पापा का भी कितना खुल्ला है, खर्चा करते रुकते ही नहीं...पर उनकी तो कोई गर्लफ्रेंड नहीं है...' और फिर उसे अपनी सहेलियों की ठिठोली याद आई 'मणि तुम्हारे डैड तो हमारे बॉयफ्रेंडज़ से भी ज्यादा ख्याल रखते हैं तुम्हारा..!'

'ओह पागल लड़कियां हैं मेरी फ्रेंड्स भी.' मनिका सोचते हुए उठी व टी.वी. ऑफ कर और बिस्तर की तरफ चल दी. अब वह भी जा कर बेड के सिरहाने से टेक लगा कर बैठ गई और अपने सोते हुए पिता की तरफ देखा. 'पर पापा के साथ जब भी होती हूँ अक्सर लोग मुझे उनकी गर्लफ्रेंड ही मान बैठते हैं...बाड़मेर में तो फिर भी लोग हमें जानते हैं बट यहाँ तो कोई सोचता ही नहीं की हम बाप-बेटी हैं...कैसे लोग हैं पता नहीं..? पर हम दोनों भी तो एक-दूसरे से कुछ ज्यादा ही फ्रैंक हो गए हैं...तो क्या हुआ..? सो लोग तो उल्टा सोचेंगे ही न! आज भी पापा ने कैसे मुझे हग (गले लगाना) किया था सब के सामने...उह...कितने पावरफुल हैं पापा...मेरी तो जान ही निकाल देते अगर कुछ देर और नहीं छोड़ा होता तो...’ मनिका जयसिंह की बलिष्ठ पकड़ को याद कर मचल उठी और उसके बदन में एक अजीब सी कशिश दौड़ गई थी. अब उसकी नज़र जयसिंह की पैंट के अगले हिस्से पर चली गई 'पापा का डि...ओह शिट फिर से नहीं...’ मनिका ने अपने आप को संभाला, लेकिन वह विचार जो उसके मन में कौंध गया था उससे छुटकारा पाना इतना आसान भी नहीं था.
-  - 
Reply
10-04-2018, 11:38 AM,
#28
RE: Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
जब जयसिंह सो कर उठे तब तक शाम ढल आई थी, उन्होंने पाया कि मनिका भी सोई पड़ी थी. उन्होंने उठ कर रूम-सर्विस से चाय मंगवाई, इतने में मनिका भी आँखें मलती हुई उठ बैठी.

'पापा!' मनिका ने अपने हमेशा के अंदाज में जयसिंह को पुकारा.

'हेय मनिका! उठ गईं तुम? कब से सो रही हो..?’ जयसिंह ने उसकी ओर देखते हुए सवाल किया.

'बस पापा आपके सोने के कुछ देर बाद ही बेड पर आ गई थी...' मनिका ने कहा.

'हम्म...'

थोड़ी देर बाद उनकी चाय आ गई. मनिका भी बेड से उतर कर जयसिंह के पास आ गई. जब उन्होंने अपनी चाय ख़तम कर ली तो मनिका ने कहा,

'पापा चलो ना कहीं बाहर चलते हैं, कितने दिन से रूम में रुके हैं हम.'

जयसिंह भी राजी हो गए और वे दोनों कैब ले कर गुडगाँव के ही एक मॉल में घूमने जा पहुंचे. कुछ देर तक यूँही विन्डो-शॉपिंग करते घूमते रहने के बाद जयसिंह ने सुझाया,

'मनिका यहाँ भी मल्टीप्लेक्स-थिएटर है, क्यूँ ना कोई मूवी ही देख लें...?' मनिका झटपट मान गई.

वहां एक तो 'जाने तू या जाने ना' ही लगी थी, जो वे पहले देख आए थे और दूसरी फिल्म थी 'जन्नत'. जयसिंह जा कर उसी के टिकट्स ले कर आए थे. मनिका को इल्म था की उस फिल्म के हीरो को बॉलीवुड में 'सीरियल-किसर' के नाम से जाना जाता था और अब वह थोड़ी विचलित हो गई थी, 'ओह शिट ये तो इमरान की मूवी है...कुछ गलत-सलत ना हो भगवान इसमें...'

जयसिंह और मनिका मूवी हॉल में जा पहुंचे, वहां ज्यादातर क्राउड (भीड़) आदमियों का ही था. कुछ देर में फिल्म शुरू हो गई, फिल्म की कहानी में हीरो को एक बुकी (सट्टोरिया) के किरदार में दिखाया था जिसे एक लड़की से प्यार हो जाता है. इंटरवेल के बाद भी कुछ देर तक फिल्म में कोई आपतिजनक सीन नहीं आया था और मनिका भी अब सहज हो गई थी. उधर आज एक बार फिर जयसिंह मनिका के साथ कोल्ड-ड्रिंक शेयर कर के पी रहे थे. उनका एक हाथ भी कुर्सी के हैण्ड-रेस्ट पर रखे मनिका के हाथ पर था जब अचानक फिल्म में एक किसिंग-सीन आ ही गया. हीरो बहुत ही प्यार से हीरोइन के होंठों को चूम रहा था. अगले ही पल जयसिंह को अपने हाथ के नीचे मनिका के हाथ के अकड़ जाने का एहसास हो गया.

सीन कुछ ही सेकंड चला होगा लेकिन तब तक मनिका ने अपना हाथ हौले से खींच कर जयसिंह के हाथ से हटा लिया था. उधर पूरे थिएटर में ठहाके और गंदे कमेंट्स आने चालू हो गए. 'चूस ले चूस ले...ओओओओ...मसल-मसल...हाहाहा हाहाहा' 'वाह सीरियल किसर...आहाहाहा...' की आवाजें आने लगी, एक आदमी ने तो बेशर्मी की हद ही पार कर दी थी, 'डाल दे साली के..डाल डाल...’मनिका का सिर पास बैठे अपने पिता के सामने ऐसे कमेंट सुन शर्म से झुक गया था और उसका बदन गुस्से से तमतमा रहा था 'कैसे जाहिल लोग हैं यहाँ पर...बेशर्म...हुह.' बाकी की फिल्म कब ख़त्म हुई उसे आभास भी नहीं हुआ, उसका पूरा समय वहां आए मर्दों को कोसने में ही बीत गया था.

फिल्म देखने के बाद जयसिंह और मनिका ने वहीं मॉल के फ़ूड-कोर्ट में खाना खाया था और रात हुए वापस अपने हॉटेल पहुंचे थे. मनिका नहा कर बाहर निकली तो एक बार फिर जयसिंह को सामने काउच पर तौलिया लपेटे बैठे हुए पाया. आज उन्होंने ऊपर कुरता भी नहीं पहना हुआ था.

जयसिंह उसे देख कर मुस्कुराए और उठ खड़े हुए. मनिका बाथरूम से बाहर आ चुकी थी और उसने एक तरफ हट कर अपने पिता को बाथरूम में जाने के रास्ता दिया था. जयसिंह ने बाथरूम में घुस दरवाज़ा बंद कर लिया. उधर मनिका भी जा कर बेड पर बैठ गई थी.

बाथरूम से बाहर आने से पहले मनिका ने एकबारगी सोचा था कि अगर आज भी उसके पिता पिछली रात की भाँती सामने नंगे बैठे हुए तो वह क्या करेगी? पर फिर उसने यह सोचकर अपने मन से वह बात निकाल दी थी कि वो सिर्फ एक बार अनजाने में हुई घटना थी. लेकिन बाथरूम से बाहर निकलते ही जयसिंह से रूबरू हो जाने पर मनिका की नज़र सीधा उनकी टांगों के बीच गई थी. आज भी जयसिंह ने टांगें इस तरह खोल रखीं थी के उनके गुप्तांग प्रदर्शित हो रहे हों लेकिन आज जयसिंह ने एक सफ़ेद अंडरवियर पहन रखा था. मनिका की धड़कन बढ़ गई थी. अंडरवियर पहने होने के बावजूद जयसिंह के लंड का उठाव साफ़ नज़र आ रहा था. अंडरवियर में खड़े उनके लिंग ने उसके कपड़े को पूरा खींच कर ऊपर उठा दिया था, मनिका ने झट से अपनी नज़र ऊपर उठा कर अपने पिता की आँखों में देखा था, वे मुस्कुराते हुए उठे थे और बाथरूम में जाने लगे थे. उनके करीब आने पर मनिका की साँस जैसे रुक सी गई थी, बिना शर्ट के जयसिंह के बदन का ऊपरी भाग पूरी तरह से उघड़ा हुआ था, उन्होंने बनियान भी नहीं पहन रखी थी. जयसिंह का चौड़ा सीना और बलिष्ठ बाँहे देख हया से मनिका की नज़र नीचे हो गई थी और उसने एक तरफ हो उन्हें बाथरूम में जाने दिया व आ कर बेड पर बैठी थी,

'ओह्ह...थैंक गॉड आज पापा अंडरवियर पहने हुए थे...बट फिर से मैंने उनके प्राइवेट पार्ट्स को एक्सपोस होते देख लिया...मतलब अंडरवियर में से भी उनका बड़ा सा डिक...हे राम मैं फिर से ऐसा-वैसा सोचने लगी...' ब्लू-फिल्म में देखने से मनिका को यह तो पता था कि मर्द जब उत्तेजित होते हैं तो उनका लिंग सख्त हो जाता है पर उसने कभी बैठे हुए लिंग का दीदार तो किया नहीं था सो उसे उनके बीच के अंतर का पता नहीं था. एक बार फिर उसका बदन तमतमा गया था और वह सोचने लगी थी 'पता नहीं पापा कैसे इतना बड़ा...पैंट में डाल के रखते हैं? नहीं-नहीं...ऐसा मत सोच...अनकम्फर्टेबल फील नहीं होता क्या उन्हें..? हाय...ये मैं क्या-क्या सोच रही हूँ...पापा को पता चला तो क्या सोचेंगे?'

जब जयसिंह नहा कर बाहर आए तो मनिका को टी.वी देखते हुए पाया. मनिका ने ध्यान बंटाने के लिए टेलीविज़न चला रखा था. जयसिंह भी आकर उसके पास बैठ गए. मनिका ने कनखियों से उनकी तरफ देखा था वे आज भी बरमूडा और टी-शर्ट पहने हुए थे.

जयसिंह ने मनिका की बाँह पकड़ कर उसे अपनी तरफ खींचा, वह उनका इशारा समझ गई थी और उनकी तरफ देखा, जिस पर जयसिंह ने उसे उठ कर गोद में आने का इशारा किया. मनिका थोडा सकुचा गई थी पर फिर भी उठ कर उनकी गोद में आ बैठी. आज वह उनकी जाँघ पर बैठी थी.

'क्या कुछ चल रहा है टी.वी में..?' जयसिंह ने पूछा.

'कुछ नहीं पापा...वैसे ही चैनल चेंज कर रही थी बैठी हुई. आज दिन में सो लिए थे तो नींद भी कम आ रही है.' मनिका ने बताया.

'हम्म...' जयसिंह ने टी.वी की स्क्रीन पर देखते हुए कहा.

कुछ देर वे दोनों वैसे ही बैठे टेलीविज़न देखते रहे, मनिका थोड़ी-थोड़ी देर में चैनल बदल दे रही थी. कुछ पल बाद जब मनिका ने एक बार फिर चैनल चेंज किया तो 'ईटीसी' चल पड़ा और उस पर 'जन्नत' फिल्म का ही ट्रेलर आ रहा था. जयसिंह को बात छेड़ने का मौका मिल चुका था.

आज जयसिंह ने जानबूझकर अंडरवियर पहने रखा था ताकि मनिका को शक न हो जाए कि वे उसे अपना नंगापन इरादतन दिखा रहे थे. लेकिन फिर कुछ सोच कर उन्होंने अपन शर्ट और बनियान निकाल दिए थे, आखिर मनिका को सामान्य हो जाने का मौका देना भी तो खतरे से खाली नहीं था. बाथरूम से निकलते ही मनिका की प्रतिक्रिया को वे एक क्षण में ही ताड़ गए थे और मुस्कुराते हुए नहाने घुस गए थे. लेकिन नहाने के बाद उन्होंने अपना अंडरवियर धो कर सुखा दिया था और अब बरमूडे के अन्दर कुछ नहीं पहने हुए थे. उन्होंने बात शुरू की,

'अरे मनिका! बताया नहीं तुमने कि मूवी कैसी लगी तुम्हें? पिछली बार तो फिल्म की बातों का रट्टा लगा कर हॉल से बाहर निकली थी तुम...'

'हेहे...ठीक थी पापा...' मनिका ने फिल्म के दौरान हुई घटनाओं को याद किया तो और झेंप गई थी.

'हम्म...मतलब जंची नहीं फिल्म आज..?’जयसिंह ने मनिका से नजर मिलाई.

'हेह...नहीं पापा ऐसा नहीं है...बस वैसे ही, मूवी की कास्ट (हीरो-हीरोइन) कुछ खास नहीं थी...और क्राउड भी गंवार था एकदम...सो...आपको कैसी लगी?' मनिका ने धीरे-धीरे अपने मन की बात कही और पूछा.

'मुझे तो बिलकुल पसंद नहीं आई.' जयसिंह ने कहा.

'हैं? क्या सच में..?’मनिका ने आश्चर्य से पूछा.

'और क्या जो चीज़ तुम्हें नहीं पसंद वो मुझे भी नहीं पसंद...' जयसिंह ने डायलॉग मारा.

'हाहाहा पापा...कितने नौटंकी हो आप भी...बताओ ना सच-सच..?' मनिका हंस पड़ी.

'हाह...मुझे तो ठीक लगी...' जयसिंह ने कहा, 'और क्राउड तो अब हमारे देश का जैसा है वैसा है.'

'हुह...फिर भी बदतमीजी की कोई हद होती है. पब्लिक प्लेस का कुछ तो ख्याल होना चाहिए लोगों को...’मनिका ने नाखुशी जाहिर करते हुए कहा.

'हाहाहा...अरे भई तुम क्यूँ खून जला रही हो अपना?' जयसिंह ने मनिका की पीठ थपथपाते हुए कहा.

'और क्या तो पापा...गुस्सा नहीं आएगा क्या आप ही बताओ?' मनिका का आशय थिएटर में हुए अश्लील कमेंट्स से था.

'अरे अब क्या बताऊँ...हाहाहा.' जयसिंह बोले 'माना कि कुछ लोग ज्यादा ही एक्साइटेड हो जाते हैं...'

'एक्साइटेड? बेशर्म हो जाते हैं पापा...और सब के सब आदमी ही थे...आपने देखा किसी लड़की या लेडी को एक्साइटेड होते हुए?' मनिका ने जयसिंह के ढुल-मुल जवाब को काटते हुए कहा.

'हाहाहा भई तुम तो मेरे ही पीछे पड़ गई...मैं कहाँ कह रहा हूँ के लडकियाँ एक्साइटेड हो रहीं थी.' जयसिंह को एक सुनहरा मौका दिखाई देने लगा था और उन्होंने अब मनिका को उकसाना शुरू किया 'अब हो जाते हैं बेचारे मर्द थोड़ा उत्साहित क्या करें...'

'हाँ तो पापा और भी लोग होते है वहाँ जिनको बुरा लगता है...और ये वही मर्द हैं आपके जिनका आप कह रहे थे कि बड़ा ख्याल रखते हैं गर्ल्स का...' मनिका ने मर्द जात को लताड़ते हुए कहा.

'अच्छा भई...ठीक है सॉरी सब मर्दों की तरफ से...अब तो गुस्सा छोड़ दो.' जयसिंह ने मामला सीरियस होते देख मजाक किया.

'हेहे...पापा आप क्यूँ सॉरी बोल रहे हो...आप उनकी तरह नहीं हो.' मनिका ने भी अपने आवेश को नियंत्रित करते हुए मुस्का कर कहा.

इस पर जयसिंह कुछ पल के लिए चुप हो गए. मनिका ने उनकी तरफ से कोई जवाब ना मिलने पर धीरे से कहा,
'पापा?'

'देखो मनिका ये बात तुम्हारे या मेरे सही-गलत होने की नहीं है. हमारे समाज में बहुत सी ऐसी पाबंदियां हैं जिनकी वजह से हम अपनी लाइफ के बहुत से आस्पेक्ट्स (पहलु) अपने हिसाब से ना जी कर सोसाइटी के नियम-कानूनों से बंध कर फॉलो करते हैं और यह भी उसी का एक एक्साम्प्ल (उदहारण) है.' जयसिंह ने कुछ गंभीरता अख्तियार कर समझाने के अंदाज़ में मनिका से कहा. चुप हो जाने की बारी अब मनिका की थी.

'पर पापा...ये आप कैसे कह सकते हो? दोज़ पीपल वर एब्यूजिंग सो बैडली...’मनिका ने कुछ पल जयसिंह की बात पर विचार करने के बाद कहा.

'हम्म...वेल लुक एट इट लाइक दिस...जिस तरह का सीन फिल्म में आ रहा था...' जयसिंह का मतलब फिल्म में आए उस किसिंग सीन से था, मनिका की नज़र झुक गई 'क्या वह हमारे समाज में एक्सेप्टेड है..? मेरा मतलब है कुछ साल पहले तक तो इस तरह की फिल्मों की कल्पना तक नहीं कर सकते थे.'
-  - 
Reply
10-04-2018, 11:38 AM,
#29
RE: Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
'हम्म...वेल लुक एट इट लाइक दिस...जिस तरह का सीन फिल्म में आ रहा था...' जयसिंह का मतलब फिल्म में आए उस किसिंग सीन से था, मनिका की नज़र झुक गई 'क्या वह हमारे समाज में एक्सेप्टेड है..? मेरा मतलब है कुछ साल पहले तक तो इस तरह की फिल्मों की कल्पना तक नहीं कर सकते थे.'

'इह...हाँ पापा बट इसका मतलब ये थोड़े ही है की आप ऐसा बिहेव करो सबके सामने...' मनिका ने तर्क रखा.

'नहीं इसका यह मतलब नहीं है...पर पता नहीं कितने ही हज़ार सालों से चली आ रही परम्परा के नाम पर जो दबी हुई इच्छाएँ...और मेरा मतलब सिर्फ लड़कों या मर्दों से नहीं है, औरत की इच्छाओं का दमन तो हमसे कहीं ज्यादा हुआ है...लेकिन जो मैं कहना चाह रहा हूँ वह यह है कि जब सोसाइटी के बनाए नियम टूटते हैं तो इंसान अपनी आज़ादी के जोश में कभी-कभी कुछ हदें पार कर ही जाता है.' जयसिंह ने ज्ञान की गगरी उड़ेलते हुए मनिका को निरुत्तर कर दिया था 'अब तुम ही सोचो अगर आज जब लड़कियों को सामाज में बराबर का दर्जा मिल रहा है तो भी क्या उन लड़कियों को बिगडैल और ख़राब नहीं कहा जाता जो अपनी आजादी का पूरा इस्तेमाल करना चाहती हैं...जिनके बॉयफ्रेंड होते हैं या जो शराब-सिगरेट पीती हैं..?'

'हाँ...बट...वो भी तो गलत है ना..? आई मीन अल्कोहोल पीना...’ मनिका ने तर्क से ज्यादा सवाल किया था.

'कौन कहता है?' जयसिंह ने पूछा.

'सभी कहते हैं पापा...सबको पता है इट्स हार्मफुल.' मनिका बोली.

'सभी कौन..? लोग-समाज-सोसाइटी यही सब ना? अब शराब अगर आपके लिए ख़राब है तो यह बात उनको भी तो पता है...अगर उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता तो समाज कौन होता है उनहें रोकनेवाला?' जयसिंह अब टॉप-गियर में आ चुके थे. 'अगर उन्हें अपने पसंद के लड़के के साथ रहना है तो तुम और मैं कौन होते हैं कुछ कहने वाले..? सोचो...सही और गलत की डेफिनिशन भी तो समाज ने ही बना कर हम पर थोपी है.'

'अब मैं क्या बोलूँ पापा..? आप के आइडियाज तो कुछ ज्यादा ही एडवांस्ड हैं.' मनिका ने हल्का सा मुस्का कर कहा. 'बट हमें रहना भी तो इसी सोसाइटी में है ना.' उसने एक और तर्क रखते हुए कहा.

'हाँ रहना है...' जयसिंह बोलने लगे.

'तो फिर हमें रूल्स भी तो फॉलो करने ही पड़ेंगे ना..?' अपना तर्क सिद्ध होते देख मनिका ने उनकी बात काटी.

'हाहाहा...कोई जरूरी तो नहीं है.' जयसिंह ने कहा.

'वो कैसे?' मनिका ने सवालिया निगाहें उनके चेहरे पर टिकाते हुए पूछा.

'वो ऐसे कि रूल्स को तो तोड़ा भी जा सकता है...बशर्ते यह समझदारी से किया जाए.' जयसिंह ने कहा.

'मुझे तो कुछ समझ नहीं आ रहा पापा...क्या कहना चाहते हो आप?' मनिका ने उलझन में पड़ते हुए सवाल किया.

'देखो...आज जब हॉल में वे लोग हूटिंग कर रहे थे तो कोई एक आदमी अकेला नहीं कर रहा था बल्कि चारों तरफ से आवाजें आ रही थी. अब सोचो अगर सिर्फ कोई एक अकेला होता तो तुम जैसे समाज के ठेकेदार उसे वहाँ से भगाने में देर नहीं लगाते पर क्यूंकि वे ज्यादा थे तो कोई कुछ नहीं बोला...अगर वे इतने ही ज्यादा गलत थे तो किसी ने आवाज़ क्यूँ नहीं उठाई?' जयसिंह का एक हाथ अब मनिका की कमर पर आ गया था 'मैं बताऊँ क्यूँ..? क्यूंकि असल में उस हॉल में ज्यादातर लोग उसी तरह के सीन देखने आए थे. पर बाकी सबने सभ्यता का नकाब ओढ़ रखा था और उन लोगों पर नाक-भौं सिकोड़ रहे थे जिन्होंने अपनी इच्छाओं को व्यक्त करने की हिम्मत दिखाई थी. सो एकजुट होकर अपनी इच्छा मुताबिक करना पहला तरीका है जिससे समाज के नियमों को तोड़ नहीं तो मोड़ तो सकते ही हैं.'

जयसिंह के तर्क मनिका के आज तक के आत्मसात किए सभी मूल्यों के इतर जा रहे थे लेकिन उनका प्रतिरोध करने के लिए भी उसे कोई जवाब नहीं सूझ रहा था.

'पर पापा वो इतना रुडली बोल रहे थे उसका क्या? किसी को तो उन्हें रोकना चाहिए था...और आपका पता नहीं मैं तो वहां कोई सीन देखने नहीं गई थी.' मनिका ने सफाई देते हुए कहा.

'हाँ जरूर समाज का तो काम ही है रोकना. पहले दिन से ही समाज रोकना ही तो सिखाता है कभी लड़का-लड़की के नाम पर तो कभी घर-परिवार के नाम पर तो कभी धर्म-आचरण के नाम पर...अब तुम बताओ क्या फिर भी तुम रुकी?' जयसिंह का बात की आखिर में किया सवाल मनिका के समझ नहीं आया.

'क्या मतलब पापा...मैंने क्या किया?' उसने हैरानी से पूछा.

'क्या मधु से तुम्हारी लड़ाई नहीं होती? वो तुम्हारी माँ है...क्या उनके सामने बोलना तुम्हें शोभा देता है? और फिर समाज भी यही कहता है कि अपने माता-पिता का आदर करो...नहीं कहता तो बताओ?' जयसिंह ने कहा.

'पर पापा मम्मी हमेशा बिना बात के मुझे डांट देती है तो गुस्सा नहीं आएगा क्या? मेरी कोई गलती भी नहीं होती...और मैं कोई हमेशा उनके सामने नहीं बोलती पर जब वो ओवर-रियेक्ट करने लगती है तो क्या करूँ..? अब आप भी मुझे ही दोष दे रहे हो.' मनिका जयसिंह की बात से आहत होते हुए बोली.

'अरे!' जयसिंह ने अब अपना हाथ मनिका की कमर से पीठ तक फिरा कर उसे बहलाया 'मैं तो हमेशा तुम्हारा साथ देता आया हूँ...'

'तो आप ऐसा क्यूँ कह रहे हो कि मैं मम्मी से बिना बात के लड़ती हूँ?' मनिका ने मुहं बनाते हुए अपना सिर उनके कंधे पर टिकाया.

'मैंने ऐसा कब कहा...मैं जो कह रहा हूँ वो तुम समझ नहीं रही हो. तुम मधु से लड़ाई इसीलिए तो करती हो ना क्यूंकि वो गलत होती है और तुम सही...फिर भी तुम्हे उसके ताने सहने पड़ते हैं क्यूंकि वो तुम्हारी माँ है. लेकिन इस बारे में अगर सोसाइटी में चार जानो के सामने तुम अपना पक्ष रखोगी तो वे तुम्हें ही गलत मानेंगे कि नहीं?' जयसिंह ने इस बार प्यार से उसे समझाया.

'हाँ पापा.' मनिका को भी उनका आशय समझ आ गया था.

'सो अब तुम अपनी माँ से हर बात शेयर नहीं करती क्यूंकि तुम्हें उसके एटीटयुड का पता है और यही तुम्हारी समझदारी है व वह दूसरा तरीका है जिस से समाज में रह कर भी हम अपनी इच्छा मुताबिक जी सकते हैं.'

'मतलब...पापा?' मनिका को उनकी बात कुछ-कुछ समझ आने लगी थी.

'मतलब समाज और लोगों को सिर्फ उतना ही दिखाओ जितना उनकी नज़र में ठीक हो, जैसे तुम अपनी माँ के साथ करती हो...लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि तुम गलत हो और तुम्हारी माँ या समाज के लोग सही हैं. कुछ समझी?'

'हेहे...हाँ पापा कुछ-कुछ...' मनिका अब मुस्का रही थी.

'और ये बात मैंने तुम्हें पहले भी समझाई थी के अगर मैं भी समाज के हिसाब से चलने लगता तो क्या हम यहाँ इतना वक्त बिताते? हम दोनों ही घर से झूठ बोल कर ही तो यहाँ रुके हुए हैं...’जयसिंह ने आगे कहा.

'हाँ पापा आई क्नॉ...आई थिंक आई एम् गेटिंग व्हाट यू आर ट्राइंग टू से...कि सोसाइटी इज नॉट ऑलवेज राईट...और ना ही हम हमेशा सही होते हैं...है ना?' मनिका ने जयसिंह की बात के बीच में ही कहा.

'हाँ...फाइनली.' जयसिंह बोले.

'हीहीही. इतनी भी बेवकूफ नहीं हूँ मैं पापा...’ मनिका हँसी.

'हाहाहा. बस समझाने वाला होना चाहिए.' जयसिंह ने हौले से मनिका को अपनी बाजू में भींच कर कहा.

'तो आप हो ना पापा...' मनिका भी उनसे करीबी जता कर बोली.

'हाहाहा...हाँ मैं तो हूँ ही पर मुझे लगा था तुम अपने आप ही समझ गई होगी दिल्ली आने के बाद.' जयसिंह ने बात ख़त्म नहीं होने दी थी.

'वो कैसे?' मनिका ने फिर से कौतुहलवश पूछा.

'अरे वही हमारी बात...कुछ नहीं चलो छोड़ो अब...' जयसिंह आधी सी बात कह रुक गए.

'बताओ ना पापा!? कौनसी बात..?’मनिका ने हठ किया.

'अरे कुछ नहीं...कब से बक-बक कर रहा हूँ मैं भी...' जयसिंह ने फिर से टाला.

'नहीं पापा बताओ ना...प्लीज.' मनिका ने भी जिद नहीं छोड़ी. सो जयसिंह ने एक पल उसकी नज़र से नज़र मिलाए रखी और फिर हौले से बोले,

'भूल गई जब तुम्हें ब्रा-पैंटी लेने के लिए कहा था?' मनिका के चेहरे पर लाली फ़ैल गई थी.

'क्या हुआ मनिका?' मनिका के चुप हो जाने पर जयसिंह ने पूछा था.

'कुछ नहीं पापा...' मनिका ने धीमी आवाज़ में कहा.

'बुरा मान गई क्या?' जयसिंह बोले 'मैंने तो पहले ही कहा था रहने दो...'

'उह...हाँ पापा. मुझे क्या पता था कि...आप उस बात का कह रहे हो.' मनिका ने संकोच के साथ कहा. इतने दिन बीत जाने के बाद उस घटना के जिक्र ने उसे फिर से शर्मिंदा कर दिया था.

'हाहा अरे तुम न कहती थीं के कपड़े ही तो हैं..?' जयसिंह ने मनिका की झेंप कम करने के उद्देश्य से हंस कर कहा.

'हेहे...हाँ पापा.' मनिका बोली 'बट पापा उस बात का हमारे डिस्कशन से क्या लेना-देना?' मनिका ने सवाल उठाया.

'लेना-देना क्यूँ नहीं है? तुमने उस दिन जब मुझसे माफ़ी मांगी थी तब तुम्हारे मन में यही बात तो थी ना कि तुमने ओवर-रियेक्ट कर दिया था और तुम्हारा वो बर्ताव इसीलिए तो रहा था कि तुमने सिर्फ हमारे सामाजिक रिश्ते के बारे में सोचा और आग-बबूला हो उठी थी.' जयसिंह ने उसे याद दिलाते हुए कहा 'अगर वही मेरी जगह तुम्हारा कोई मेल-फ्रेंड (लड़का) होता तो शायद तुम्हारी प्रतिक्रिया वह नहीं होती जो मेरे साथ तुमने की थी...और जब तुमने सॉरी बोला था तो मुझे लगा तुम्हें इस बात का एहसास हो गया है...अब तुमने क्या सोच कर माफ़ी मांगी थी यह तो तुम ही बता सकती हो...’ जयसिंह ने बात-बात में सवाल पूछ लिया था.

मनिका एक और दफा कुछ पल के लिए खामोश हो गई थी.

'वो पापा...आपसे बात नहीं हो रही थी और आप रूम में भी नहीं रुकते थे तब मैंने टी.वी पर एक इंग्लिश-मूवी देखी थी जिसमें...एक फैमिली को दिखाया था और उसमे जो लड़की थी वो बीच (समुद्र-किनारे) पर अपने घरवालों के सामने बिकिनी पहने हुए थी...सो आई थॉट कि उसके पेरेंट्स उसे एन्जॉय करने से नहीं रोक रहे तो आपने भी तो डेल्ही में मुझे इतना फन (मजा) करने दिया...एंड मैंने आपसे थोड़ी सी बात पर इतना झगडा कर लिया...' मनिका ने धीरे-धीरे कर अपने पिता को बताया.

'ह्म्म्म...मैंने कहा वो सच है ना फिर?' जयसिंह ने मुस्का कर मनिका से पूछा, उनके दिल में ख़ुशी की लहर दौड़ गई थी.

'हाँ पापा...' मनिका ने सहमति जताई.

'लेकिन एक बात और जो मैं पहले भी कह चुका हूँ, और जैसा की तुमने अभी कहा कि न ही सोसाइटी और न हम हमेशा सही होते हैं, उसका भी ध्यान तुम्हें रखना होगा.' जयसिंह ने कहा. अभी तक तो जयसिंह समाज और आदमी-औरत के उदाहरण देकर मनिका से बात कर रहे थे लेकिन इस बार जयसिंह ने सीधा मनिका को संबोधित करते हुए यह बात कही थी.

'वो क्या पापा..?' मनिका ने पूछा.

'वो यही कि हर वह बात जो हमारे लिए सही नहीं है और समाज के लिए सही है या समाज के लिए सही नहीं है पर हमारे लिए सही है उसे जग-जाहिर ना करना ही अच्छा रहता है. जैसे तुम अपनी मम्मी से झूठ बोलने लगी हो...उस बात का भी ध्यान रखना बहुत जरूरी है.' जयसिंह ने कहा.

'हाहाहा...हाँ पापा डोन्ट वरी (चिंता) इसका ध्यान तो मैं आपसे भी ज्यादा रखने लगी हूँ...' मनिका ने हंस कर कहा.

'वैरी-गुड गर्ल..!' जयसिंह ने मनिका का गाल थपथपाते हुए कहा. मनिका भी इठला कर मुस्कुरा दी थी. 'चलो अब सोयें रात काफी हो गई है. कल काफी काम बाकी पड़ा है तुम्हारे एडमिशन का...’कहते हुए जयसिंह ने अपना दूसरा हाथ, जो अभी तक मनिका की कमर पर था, और नीचे ले जा कर उसके नितम्बों पर दो हल्की-हल्की चपत लगा कर उसे उठने का इशारा किया था.

'बट पापा! नींद नहीं आ रही आज...कुछ देर और बैठते हैं ना?' मनिका बोली.

'ह्म्म्म...ठीक है, वैसे भी एक-दो दिन की ही बात और है फिर तो हम अलग-अलग हो जाएंगे.' जयसिंह ने कुछ सोच कर कहा.

'ओह पापा ऐसे तो मत कहा करो. हमने प्रॉमिस किया था ना कि नथिंग विल चेंज बिटवीन अस..?’मनिका ने उदासी से कहा.

'अरे हाँ भई मुझे याद है पर फिर भी घर जाने के बाद कहाँ हम इस तरह साथ रह पाएंगे? और फिर कुछ दिन बाद तुम्हें वापिस भी तो आना है यहाँ...’जयसिंह मनिका को भावुक करने में लग गए थे.

'हाँ पापा...वो भी है.' मनिका बोली 'कुछ और बात करते हैं ना पापा...ऐसी सैड बातें मत करो.'

'ह्म्म्म. मैं तो कबसे बातें कर रहा हूँ...अब बोलने की बारी तुम्हारी है.' जयसिंह ने पासा पलटते हुए कहा.

'मैं क्या बोलूँ..?' मनिका ने उलझते हुए कहा.

'कुछ भी...जो तुम्हारा मन हो...' जयसिंह बोले. तभी मनिका को एक और बात याद आ गई जो उसके पिता ने कही थी और जिसका सच उसने बाद में महसूस किया था.

'पापा! एक बात बोलूँ?' मनिका ने कहा 'आप सही थे आज...’ उसने उनके जवाब का इन्तजार किए बिना ही आगे कहा.

'किस बात के लिए?' जयसिंह ने कौतुहल से पूछा.

'वही जो आप कह रहे थे ना कि लड़कों से ज्यादा...वो मेन (आदमी)...मर्द या जो कुछ भी अपनी गर्लफ्रेंडस का ज्यादा ख्याल रख सकते हैं.' मनिका ने बताया.

'हाहाहा. हाँ पर ये तुमने कैसे जाना?' जयसिंह ने मजाक में पूछा था पर अपने दिल की हालत तो वे ही समझ सकते थे.

'फिर वही टी.वी. से पापा...हाहाहा!' मनिका ने हँसते हुए बताया 'आप सो गए थे तब टी.वी में देखा मैंने कि ज्यादातर हीरो-हिरोइन्स में ऐज डिफरेंस बहुत होता है फिर भी वे एक-दूसरे को डेट करते हैं. आई मीन कुछ तो लिटरली (ज्यों के त्यों) आपकी और मेरी ऐज के होते हैं. सो आई रियलाईज्ड कि मे-बी आप सही थे...'

'हाहाहा...धन्य है ये टी.वी. अगर इसके चरण होते तो अभी छू लेता...’जयसिंह ने मजाक किया.

'हहहहाहा...हेहेहे...' मनिका एक बार फिर से उनकी बात पर लोटपोट होते हुए हँस दी थी 'क्या पापा कितना ड्रामा करते हो आप हर वक्त…हाहाहा!'

'अरे भई मेरी कही हर बात टी.वी. पर दिखाते हैं तो मैं क्या करूँ..?’जयसिंह बोले.

'हाहाहा...तो आप भी किसी सेलेब्रिटी से कम थोड़े ही हो.' मनिका ने हँसते हुए कहा.

'हाहा...और मेरी गर्लफ्रेंड भी है किसी सेलेब्रिटी जैसी ही...' जयसिंह ने मौका न चूकते हुए कहा.

'हेहेहे...पापा आप फिर शुरू हो गए.' मनिका बोली.

'लो इसमें शुरू होने वाली क्या बात है?' जयसिंह बोले 'खूबसूरती की तारीफ़ भी ना करूँ..?'

'हाहा...पापा! इतनी भी कोई हूर नहीं हूँ मैं...’मनिका ने कहा. लेकिन मन ही मन उसे जयसिंह की तारीफ़ ने आनंदित कर दिया था और वह मंद-मंद मुस्का रही थी.

'अब तुम्हें क्या पता इस बात का के हूर हो की नहीं?' जयसिंह भी मुस्काते हुए बोले 'हीरे की कीमत का अंदाज़ा तो जौहरी को ही होता है...'

'हहहहाहा...क्या पापा..? क्या बोलते जा रहे हो...बड़े आए जौहरी...हीही!' मनिका ने मचल कर कहा 'क्या बात है आपने बड़े हीरे देख रखें हैं..हूँ?' और जयसिंह को छेड़ते हुए बोली.

'भई अपने टाइम में तो देखें ही हैं...' जयसिंह शरारत भरी आवाज़ में बोले.

'हा..!' मनिका ने झूठा अचरज जता कर कहा 'मतलब आपकी भी गर्लफ्रेंडस होती थी?'

'हाहाहा अरे ये गर्लफ्रेंड-बॉयफ्रेंड का चलन तो अब आया है. हमारे जमाने में तो कहाँ इतनी आजादी मिलती थी सब कुछ लुका-छिपा और ढंका-ढंका होता था.' जयसिंह ने बताया.

'हेहेहे! हाँ बेचारे आप...’मनिका ने मजाक करते हुए कहा 'तभी अब कसर पूरी कर रहे थे उस दिन टी.वी. में हीरोइनों को देख-देख कर...है ना?' उसने जयसिंह को याद कराया.

'हाहाहा..!' जयसिंह बस हंस कर रह गए.

'देखा उस दिन भी जब चोरी पकड़ी गई थी तो जवाब नहीं निकल रहा था मुहं से...बोलो-बोलो?' मनिका ने छेड़ की.
'अरे भई क्या बोलूँ अब...मैं भी इन्सान ही हूँ.' जयसिंह ने बनावटी लाचारी से कहा.

'हाहाहा!' मनिका हंस-हंस कर लोटपोट होती जा रही थी.
-  - 
Reply
10-04-2018, 11:38 AM,
#30
RE: Mastram Kahani बाप के रंग में रंग गई बेटी
उधर उसकी करीबी ने जयसिंह के लिंग को तान रखा था. जयसिंह को भी इस बात का एहसास नहीं हुआ था कि उनका लंड खड़ा है क्यूंकि दिल्ली आने के बाद से उनके लिए यह एक रोजमर्रा की बात हो गई थी. बरमूडे के आगे के हिस्से को उनके लंड ने पूरा ऊपर उठा दिया था.

'तो मतलब आप मेरी झूठी तारीफ़ कर रहे थे ना? आपको तो वो कटरीना-करीना ही पसंद आती है...जिनका सब कुछ ढंका-ढंका नहीं होता है!' मनिका ने आगे कहा. वह उत्साह के मारे कुछ ज्यादा ही खुल कर बोल गई थी.

जयसिंह ने मन ही मन विचार किया 'आज तो किस्मत कुछ ज्यादा ही तेज़ चल रही है...क्या करूँ? बोल दूँ के नहीं?' फिर उन्हें अपना निश्चय याद आया कि दीमाग से ज्यादा वे अपनी काम-इच्छा का पक्ष लेंगे और वे बोले,

'हाहाहा. कुछ भी कह लो मनिका पर तुम भी कोई कटरीना-करीना से कम तो नहीं हो..! फैशन में तो तुम भी काफी आगे हो...'

'हीहीही...क्या बोल रहे हो पापा? आपको क्या पता?' मनिका ने थोड़ा आश्चर्य से पूछा.

'पता तो मुझे दिल्ली आते ही लग गया था...' जयसिंह ने मनिका की आँखों में झांकते हुए कहा. उनकी आवाज़ में एक बात छिपी थी.

'हैं? वो कैसे पापा?' मनिका ने पहले की भाँती ही मुस्कुराते हुए पूछा. उसे अभी भी जयसिंह की बातें मजाक लग रहीं थी.

'याद करो वो नाईट-ड्रेस जो तुमने पहली रात को पहनी हुई थी...' जयसिंह ने मुस्कुरा कर कहा.

मनिका ने अभी भी उनसे नज़र मिला रखी थी. उनकी बात सुनते ही उसके चेहरे पर एक पल के लिए खौफ भरा भाव आ गया था और फिर उसकी नज़र नीची हो गई और चेहरे पर एक बार फिर से लाली आ गई.

'क्या हुआ?' जयसिंह ने मनिका का हाथ अपने हाथ में लेते हुए कहा.

'कुछ नहीं...' मनिका ने हौले से कहा. एक ही पल में पासा पलट गया था और उसकी सिट्टी-पिट्टी गुम हो गई थी.

'पापा ने सब नोटिस किया था मतलब..! ओह गॉड!' उसके मन में उथल-पुथल मच चुकी थी. आज यह दूसरी बार था जब जयसिंह ने मनिका को धर्म-संकट में डाल फिर से वही सवाल दोहराया था.

मनिका और जयसिंह के बीच चुप्पी छा गई थी.

कुछ पल बीतने के बाद मनिका रुक ना सकी और भर्राई आवाज में बोली,

'पापा? आई एम् सॉरी..!'

'अरे किस बात के लिए?' जयसिंह ने झूठी हैरानी व्यक्त की.

'वो...वो पापा उस रात है ना मुझे ध्यान नहीं रहा...वो मैं अपने घर वाले कपड़े ले कर बाथरूम में घुस गई थी और फिर...फिर पहले वाली ड्रेस शावर में भीग गई सो...आई हैड टू वियर दोज़ क्लॉथस एंड कम आउट...' उसने उन्हें बताया 'मैंने सोचा भी था की आप क्या सोचोगे मेरे बारे में कि कैसी बिगड़ैल हूँ मैं...बट आपने जैसे रियेक्ट किया उससे मुझे लगा कि आप भी एम्बैरेस हो तभी मुझे डांटा नहीं...आई एम् सो सॉरी...' मनिका ने एक्सप्लेनेशन दिया.

'अरे! पागल हो तुम...ऐसा क्यूँ सोच रही हो? मैं तो यहाँ तुम्हारी तारीफ़ कर रहा था और तुम कुछ भी सोचती चली जा रही हो..!’जयसिंह ने मनिका की ठुड्डी पकड़ उसका चेहरा ऊपर उठाते हुए कहा.

'पापा?' मनिका की नज़र में अचरज था. 'क्या कह रहे हैं पापा?' उसने सोचा. जयसिंह ने उसके चेहरे से उसके मन की बात पढ़ ली थी.

'और नहीं तो क्या...मैं तुम्हें डांटूंगा ऐसा क्यूँ लगा तुम्हें?' जयसिंह धीमे-धीमे बोलने लगे थे ताकि मनिका को पता रहे कि वे मजाक नहीं कर रहे थे और उनकी आवाज़ में एक अंतरंगता भी आ गई थी.

'वो मैं...' मनिका को कुछ नहीं सूझा था और वह फिर से चुप हो गई थी.

'तुम्हें लगा कि मैं तुम्हें इतना खूबसूरत लगने के लिए डांटने वाला हूँ?' मनिका की चुप्पी का फायदा उठा कर जयसिंह बोलते जा रहे थे 'भई मुझे तो इस बात का पता ही नहीं लगता कि तुम इतनी बड़ी हो गई हो अगर उस रात तुम कुछ और पहन कर आ जाती तो के जिसे मैं छोटी बच्ची समझता था वह इतनी बड़ी हो गई है. इन-फैक्ट (दरअसल) तुम्हें तो शुक्रगुजार होना चाहिए कि तुमने वो ड्रेस पहनी हुई थी...'

'क…क्या मतलब पापा?' मनिका के कानों में जयसिंह की आवाज़ गूँज सी रही थी.

'अरे भई तभी से तो मैंने तुम्हें एक एडल्ट-समझदार लड़की की तरह ट्रीट करना शुरू किया बिकॉज़ आई क्न्यु कि इंटरव्यू कैंसिल होने के बाद तुम इतना जल्दी वापस नहीं जाना चाहोगी और हम यहाँ रुके रहे.' जयसिंह ने शब्द-जाल बुनना शुरू कर दिया था.

'ओह...' मनिका ने हौले से कहा.

'क्या हुआ मनिका तुम कुछ बोल नहीं रही हो?' जयसिंह ने मनिका को कुरेदते हुए कहा.

'कुछ नहीं ना पापा. वो मैं थोडा एम्बैरेसड फील कर रही हूँ...आपके सामने ऐसे...आई मीन वो ड्रेस इनडिसेंट (अभद्र) सा था ना थोड़ा?' मनिका ने अंत में आते-आते अपने जवाब को सवाल बना दिया था और एक पल जयसिंह से नज़र मिलाई थी.

'ओहो...अभी दो घंटे के डिस्कशन के बाद हम फिर वहीँ आ खड़े हुए जहाँ से चले थे!' जयसिंह उत्साहविहीन आवाज़ में बोले 'मनिका डोन्ट फील एम्बैरेसड ओके? अब मैं तुम्हें कैसे समझाऊँ...लुक एट मी...’उन्होंने मनिका के एक बार फिर नज़र झुका लेने पर कहा.

'जी...' मनिका ने उन्हें देखते हुए कहा.

'देखो मनिका अभी हम क्या बातें कर रहे थे..? यही ना कि सोसाइटी के नॉर्म्स (नियम) एक हद तक ही फॉलो करने चाहिएं...अब देखो वही बात तो यहाँ अप्लाई हो रही है.' वे उसे समझाते हुए बोले 'तुम सिर्फ इसलिए एम्बैरेस हो रही हो कि मैं तुम्हारे साथ था. पर मैंने तो तुम्हें सपोर्ट ही किया था, डिड आई मेक यू फील अनकम्फ़र्टेबल?'

'नो पापा...बट...' मनिका एक-दो शब्दों में ही जवाब दिए जा रही थी.

'बट क्या मनिका?' जयसिंह बोले 'तुम इतनी खूबसूरत लग रही थी अब इज़ दैट ए क्राइम? नहीं ना...एंड आई एडमायरड (प्रशंशा) यू फॉर इट...एंड वो भी कोई जुर्म तो है नहीं. पर तुम ये सोच रही हो कि मैंने तुम्हें बिगड़ा हुआ समझ लिया और जाने क्या-क्या?'

'हूँ...आपने नहीं सोचा ऐसा?' मनिका ने हौले से उनसे पूछा.

'बिलकुल नहीं...क्या मैं तुम्हें जानता नहीं हूँ? यू आर इनसल्टिंग (अपमान) मी बाय सेयिंग दैट..?’ वे बोले.

'सॉरी पापा आई डिड नॉट मीन टू हर्ट यू..!' मनिका बोली.

'आई क्नॉ आई क्नॉ...अरे भई मुझे तो बहुत अच्छा लगा कि मेरी मनिका इतनी ब्यूटीफुल हो गई है...हम्म?' जयसिंह ने मनिका का गाल सहलाते हुए कहा.

जयसिंह ने देखा की मनिका के झेंप भरे चेहरे पर एक पल के लिए छोटी सी मुस्कान आई और चली गई थी.

'इतनी खूबसूरत तो मधु भी कभी नहीं थी...वो फ़िल्मी हिरोइन्स भी तुम्हारे सामने कुछ नहीं लगती सच कहूँ तो.' जयसिंह ने मख्खन लगाते हुए कहा.

'इश्श पापा...बस करो इतना भी हवा में मत उड़ाओ मुझे...' मनिका ने काफी देर बाद एक वाक्य पूरा किया था.

'सच कह रहा हूँ...हाहा.' जयसिंह ने टेंशन थोड़ी कम करने के उद्देश्य से हंस कर कहा.

'हीही पापा...' मनिका की झेंप कुछ मिटी थी.

अब जयसिंह ने मनिका को थोड़ा और करीब खींचा जिससे वह उनकी जाँघ पर खिसक कर उनसे सट गई, ऐसा करते ही उसकी एक जाँघ जयसिंह के खड़े लिंग से जा टकराई. मनिका को कुछ पल तो पता नहीं चला था, पर फिर उसे अपनी जाँघ के साथ लगे जयसिंह के ठोस लंड का आभास होने लगा और उसने नज़र नीचे घुमा जयसिंह की गोद में देखा था व मनिका एक बार फिर से होश खोने के कागार पर आ खड़ी हुई थी.

जयसिंह के बरमूडे के अन्दर से तन कर उनका लंड उनकी गोद में किसी डंडे सी आकृति बना रहा था और उसकी जाँघ से सटा हुआ था. यह देखते ही मनिका चिहुँक कर थोड़ा पीछे हट गई. उधर जयसिंह को भी मनिका की जाँघ के अपने लंड से हुए स्पर्श का पता चल चुका था और वे उसके चेहरे पर ही नज़र गड़ाए हुए थे जब उसने उनकी गोद में झाँक कर अनायास ही अपने-आप को पीछे हटाया था.

मनिका ने भी झट नज़र उठा कर जयसिंह की तरफ देखा था कि उनकी क्या प्रतिक्रिया होती है पर उन्हें बिल्कुल सामान्य पाया, उन्होंने उसका गाल फिर से थपथपाया और पूछा,

'नींद नहीं आ रही आज?'

'हाँ...हाँ पापा...स्स...सोते हैं चलो.' मनिका ने थर्राते हुए कहा.

जयसिंह के लंड का आभास होने के बाद से मनिका की इन्द्रियां जैसे पहली बार जाग उठी थी, उसे अब अपने पिता के बदन के हर स्पर्श का एहसास साफ़-साफ़ हो रहा था. उसके गाल पर रखा हाथ उन्होंने नीचे कर के उसकी गर्दन पर रखा हुआ था वहीं उनके दूसरे हाथ की पोजीशन ने उसकी हया को और ज्यादा बढ़ा दिया था, उसने पाया कि जब से जयसिंह ने उसकी बम्स (कूल्हे) पर थपकी दे कर उसे उठने को बोला था तब से उनका हाथ उन्होंने वहाँ से हटाया नहीं था. जयसिंह ने हाथ पूरी तरह से तो उसके अधो-भाग पर नहीं रखा हुआ था बल्कि उसे एक हल्के से टच (स्पर्श) की अनुभूति हो रही थी. अपने नीचे दबी जयसिंह की माँसल जाँघ की कसावट भी वह महसूस कर रही थी. उसे ऐसा लग रहा था जैसे उसके और उनके बीच हर पॉइंट ऑफ़ कांटेक्ट (मिलन-बिंदु) से एक गर्माहट सी प्रज्ज्वलित हो रही हो. वह सोने का बोल कर उनकी गोद से उठने लगी.

'पट्ट' की आवाज आई. जयसिंह ने हल्के से उसके कूल्हे पर एक और चपत लगा दी थी लेकिन इस बार मनिका को उनका ऐसा करना पहली-दूसरी बार से ज्यादा इंटेंसिटी (प्रवेग) से महसूस हुआ था व उसकी आवाज़ भी उसके कानों में आन पड़ी थी.

'चलो फिर सोते हैं...' वे भी मुस्काते हुए उठ गए थे.

बिस्तर की तरफ बढती हुई मनिका के क़दमों में एक तेज़ी थी. जयसिंह भी पीछे-पीछे ही आ रहे थे. बेड पर चढ़ कर मनिका ने दूसरी तरफ से बिस्तर पर चढ़ते हुए अपने पिता की तरफ देखा, उसको जैसे ताव आ गया था, पहली रात जब जयसिंह ने बरमूडा-शॉर्ट्स पहनी थी तो उनमें से उनके लिंग के उठाव का पता मनिका को इसलिए चला था कि वह पहले से ही उनकी नग्नता के दर्शन कर चुकी थी और उसकी नज़र सीधा वहीं गई थी. लेकिन आज तो जयसिंह का लंड पूरी तरह से तना हुआ था और शॉर्ट्स के आगे के भाग को पूरा ऊपर उठाए इस तरह खड़ा हुआ था की मनिका की नज़र ना चाहते हुए भी उस पर चली गई थी. जयसिंह मुस्कुराते हुए बिस्तर में घुस कर उसकी ओर करवट लिए लेट गए.
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Adult kahani पाप पुण्य 216 847,951 Yesterday, 05:55 PM
Last Post:
Star Kamvasna मजा पहली होली का, ससुराल में 42 87,692 01-29-2020, 10:17 PM
Last Post:
Star Hindi Porn Stories हाय रे ज़ालिम 929 586,228 01-29-2020, 12:36 PM
Last Post:
Star Antarvasna तूने मेरे जाना,कभी नही जाना 32 106,603 01-28-2020, 08:09 PM
Last Post:
Lightbulb Antarvasna kahani हर ख्वाहिश पूरी की भाभी ने 49 94,061 01-26-2020, 09:50 PM
Last Post:
Star Incest Kahani परिवार(दि फैमिली) 661 1,571,212 01-21-2020, 06:26 PM
Last Post:
Exclamation Maa Chudai Kahani आखिर मा चुद ही गई 38 185,884 01-20-2020, 09:50 PM
Last Post:
  चूतो का समुंदर 662 1,819,070 01-15-2020, 05:56 PM
Last Post:
Thumbs Up Indian Porn Kahani एक और घरेलू चुदाई 46 78,854 01-14-2020, 07:00 PM
Last Post:
Thumbs Up vasna story अंजाने में बहन ने ही चुदवाया पूरा परिवार 152 720,105 01-13-2020, 06:06 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 2 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.


Star sharbani mukherjee sex babaBap se anguli karwayi sex videoxxnxsaRlawaef dabal xxx sex in hindi maratiमोटी आंटी की रजाई मे बूब दबाये हिंदी सेक्स स्टोरीVahini sex katha in marathi aa aaaa a aaa aaaaa oooxxx fucking mami ne soya our betene chudasooihui, aantyxxnxXxx indien byabhi ko paise dekr hotel mai chodaहब्शियों ने बीवी की चूत का भोसड़ा बना दियाMastram net anterwasna tange wale ka mota loda मसत कामिनिWww.चिनाल.wallpap.comghamndi लड़की ko kutiya bna कर choda darty सेक्स कहानीXxxfotygirlBur pe kaise chdhege to mja aayegahindesexkhaniमाँ बेटे को रखैल बनाके चोदवाइबिटिया बुरचोद पेटीकोटराज शर्मा की रंगीन रातो कि कहानियाराज शर्मा अम्मा चुदाई बातचीत 2019चूत मे अगर लिगँ ढिला डालोगे तो चूत को कैसे मजा आयगासुहागरात शील तोडे दिहाती चुत लड घुस ती Karina kapur ki pahli rel yatra rajsharma storyBIG DOOD KAREENA KAPOOR PICK 2019baba kala land chusaMaa ka ghaghra unchakar ke gandmari gandi storyrandi bani sexbaba.netSeptikmontag.ru Maa Sex KahaniXxxxkadmचुत मे लोङा डालने से जलदी मजा आने कि बेमारी कया हेgirl or girls keise finger fukc karte hai kahani downlodmoti aurat Hothon per lipstick lagakar Ling ko Munh Mein chhutti Hai Unki sexy full Hindi mein sexynabina bole pics sexbaba.comकि जब किसी घोड़े का बड़ा सा लंड मेरी प्यासी चूत को फाड़ता हुआ अंदर घुसेगा और इसे भोसड़ा बना देगा?bhayankr sexy chodai kaise kre koi ladka btao apne experience se or meme ko kaise chuse ki ladki mere pe merne lge koi apni kahani btao?गुलाम बना क पुसी लीक करवाई सेक्स स्टोरीredimat land ke bahane sex videoभाभी गयी मायके भय्या का लंड चुशा हिंदी समलिंगी कहानियांsonarik gif porn imageswww.लडकी ने चोदवाई घोडा से बिता हूवा बात विडियो पिकचर चोदने वाहहBhos ka bhosda bana diya chudai karke esi kahaniअपना हाथ नीचे लेजाकर.. चंपा के बुर को सहलाने लगा llhindimasexyvideगांव की धन्नो कि चुदाईmastram net 2019new maa beta bur chodae kahniya hindiporn kajol in sexbabadidi ne apana pisab pilaya aur tatty khilae kahaniChut chut mein ungli daalte Honge chut dikhao HindiMonalisa sexbaba.com मेरी प्रियंका दीदी फस गई.. chudaisadi wali chahiexxxhindi ma ki fameli me beraham jabardasti chut chudai storiXxx nangi indian office women gand picमाँ ने कहा पापा सोनेपर चुदवाने आउंगीमस्तराम कि आई मुलगी काका चुदाई कहानियासविता भाबी नागडे सेकस फोटोभी न बहें का बोओब्स चुसा फीर के चुड़ै वेद्योमाँ की चूदा वीर्या पी गईXxx sex आठी साडी मूठ मारन बेटे को चुत दीखाकर मस्त कियाWww xxx garl hd bf phast bar chudai hindimekahaniHindisexstory chuddkar maa beta n bahusexhunger net video .com kajalvidhva shila or pandit ki xxx khani hindi me completeKuwari ladki k Mote choocho ka dudh antarwasna बङे लंड शे चोदवाते हुए फोटो उपायbadi bahan ne apne chote bhai ki lulli ko pakda aur sabun lagaya real sex stroypooja hegde nippalsMahima chaodhry pussy ass photo sexbabaमाँ और बेटे को दुध पिलाती कि नगी इमेज मै अचछी सी फोटोBhabhi ki gad mrali lamba land dala fuk videosbjaji se chut ki chudi