Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
08-27-2019, 01:44 PM,
RE: Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
उस समय आरती सिर्फ़ ब्लाऊज़ और पेटीकोट में थीं और कहने के बाद पेट के बल हो कर उल्टी लेट गई। आरति ने अपने ब्लाऊज़ का सिर्फ़ एक हुक छोड़ कर सारे हुक खोले हुए थे और अपना पेटीकोट भी कुछ
ज्यादा ही नीचे कर के बाँधा हुआ था जिस से उनकी गाँड की दरार साफ नज़र आ रही थी। कमल के सामने वो चूतड़ थे जिसे सिर्फ़ देख कर ही उसका लंड खड़ा हो जाता था और आरती तो अपना पूरा बदन उस को दिखाते हुए मसलने को कह रही थी। कमल बिना देर करे चुपचाप आरती के साईड में बैठ कर धीरे-धीरे उनका बदन दबाने लगा, उनके चिकने बदन को छूते ही उसका लंड तन कर खड़ा हो गया। जब पेटीकोट के ऊपर से आरती के चूतड़ दबाये तो लंड एक दम मस्त हो गया। पेटीकोट के ऊपर से ही आरती के चूतड़
दबा कर मालूम पड़ गया था कि गाँड वाकय में बहुत गदरायी हुई और ठोस है।
थोड़ी देर बाद आरती बोली, अरे कमल,
जरा तेल लगा कर जोर से जरा अच्छी तरह से मालिश कर।
कमल ने कहा, चाची तेल से आपका ब्लाऊज़
खराब हो जायेगा, आप अपना ब्लाऊज़ खोल दो।
आरती बोली, कमल मैं तो लेटी हूँ,
तू मेरे पीछे से ब्लाऊज के हुक खोल के साईड में
कर दे।
कमल बड़े धीरे-धीरे से उनके ब्लाऊज के हुक खोले और अब आरती की नंगी पीठ पर सिर्फ़ काली ब्रा के स्ट्रैप दिख रहे थे। कमल ने थोड़ा सा तेल अपने हाथों पर लेकर आरती की पीठ पर मलना चालू किया पर बार-बार आरती की काली ब्रा के स्ट्रैप दिक्कत दे रहे थे। कमल ने आरती को बोला कि चाची आपकी पूरी ब्रा खराब हो रही है और मालिश करने में भी दिक्कत हो रही है।
तब आरती बोली कि तू मेरे ब्रा के स्ट्रैप खोल दे।
आरती के मुँह से यह सुन कर उसका लंड तो झटके लेने लगा। उसने भी बड़े ही प्यार से ब्रा के हुक खोल दिये। कमल उस नंगी पीठ पर धीरे-धीरे तेल से
मालिश करने लगा।
थोड़ी देर बाद आरति बोली,कमल जरा मेरे नीचे भी मालिश कर दे।
कमल ने कहा, चाची कहाँ करूँ?
तो आरती बिना किसी शरम के बोलीं की
मेरे चुतड़ों की और किसकी।
कमल ने कहा, पर उसके लिए तो आपका पेटीकोट उतारना पड़ेगा।
तब आरती बोली, जा कर अच्छे से पहले दरवाजा बंद कर आ।
कमल जल्दी से जाके दरवाजा बंद कर के आया तो देखा आरती पहले से ही अपना पेटीकोट उतार कर पिंक पैंटी और काली ब्रा को अपने हाथों से दबाय, पेट के बल उल्टी बिस्तर पर लेटी हुई थीं। कमल तेल लेकर धीरे-धीरे आरती की मस्त टाँगों की और उन मस्ताने गदराये चूतड़ों की मालिश चालू कर दी।
मालिश करते-करते जब कमल आरती की जाँघों पर पहुँचा तो उसके हाथ बार-बार पैंटी के ऊपर से आरती की कसी हुई चूत की मछलियों से टच हो रहे थे जो उसे एक अजीब तरह का आनन्द दे रहे थे। कमल को पता नहीं क्या सूझा, उसने आरती की पैंटी के साइड से अपनी एक उंगली धीरे-धीरे अंदर डाली और आरती की चूत पर उंगली फेरने लगा। आरती की चूत एक दम बिना बाल की थी और उसकी साफ़्टनैस से मालूम हो रहा था की आरती शेव नहीं बल्कि हेयर रिमूवर से अपनी चूत के बाल साफ़ करी थीं।

तभी अचानक आरती सीधी हुई और अपनी काली ब्रा को छोड़ के एक चाँटा कमल के गाल पर मार दिया और बोली, मादरचोद, तुझे शरम नहीं आती मेरी चूत में उंगली डालते हुए।
कमल समझ गया कि आरती अपनी कोई फैंटेसी पूरी कर रही है तो उसने भी वैसे ही नाटक करते हुए साथ देने की सोची।

जब आरती उठी उस समय उसे अपनी काली ब्रा का ध्यान नहीं रहा और ब्रा के हुक पहले से ही खुले होने के कारण आरती की वो मस्त गोरी-गोरी चूचीयाँ जिसपे भूरे रंग के बड़े से निप्पल थे, कमल के सामने पूरी नंगी हो गई और कमल चाँटे की परवाह किये बिना आरती की मस्त चूचीयाँ देखता रहा। आरती ने भी उन्हें छुपाने की कोई कोशिश नहीं की, बल्कि एक और चाँटा मारते हुए बोलीं, मादरचोद, बहन के लौड़े,
तू मुझे क्या चूतिया समझता है, कल रात को
मेरी पैंटी और ब्रा तेरे तकिये पर कैसे पहुँच गई,
बता सच-सच मदरचोद, मैने मना किया था ना कि कुछ दिन रुक जा फिर मेरी पैंटी और ब्रा के साथ क्या कर रहा था?
आरती इस तरह की भाषा में उसके साथ बात करेगी ये उम्मीद कमल ने नही की थी और इस वक्त उनका गुस्सा देख कर उसने डरते-डरते बताया कि, कल रात को जब चाचा आपको प्यार कर रहे थे, उस समय मैंने आपको देखा था और पता नहीं, आप उस समय
इतनी सुंदर लग रही थीं कि बाथरूम में जा कर आपकी पैंटी और ब्रा लेकर अपने बिस्तर पर आ गया और आपकी पैंटी और ब्रा को सूँघते हुए और चाटते हुए अपने हाथ से मैंने खूब मुठ मारी।
इस पर आरती ने एक चाँटा और मारा और बोलीं, बहनचोद मुझे तो तूने नंगा देख लिया चुदवाते हुए अब तू अपने कपड़े उतार के मेरे समने पूर नंगा हो के दिखा,मैं देखूँ तो सही आखिर कितनी आग लगी है तेरे लंड में!
उस समय आरती की चूचियाँ देख कर कमल का लंड पूरा तना हुआ था। आरती ने आगे बढ़ कर अपने लिये एक सिगरेट जलाई और कमल का
पायजामा खोल दिया और उसका सढ़े आठ इंच लम्बा और ढाई इंच मोट लौड़ा आरती की आँखों के सामने झूलने लगा। आरती की आँखें फैल गयीं और वोह बस इतना ही बोली, मादरचोद! इंसान का लंड है की घोड़े का,अभी तक छुपा के क्यो रखा था, पहले क्यों नहीं दिखाया, इस लंड को देख कर तो कोई भी औरत नंगी हो कर अपनी चूत उछाल- उछाल कर चुदवायेगी!

ये बोलते-बालते उसके लंड को आरती ने अपने हाथ में ले लिया और बड़े प्यार से अपना हाथ आगे-पीछे करते हुए उसे देखने लगी।।
इस से पहले कि कमल कुछ बोल पाता, उसके लंड से पिचकारी निकली और आरती के होंठों और नंगी चूचियों पर जा कर पसर गयी।
मीना चाची अब बड़े प्यार से बोलीं, माँ के लौड़े! बहनचोद! तू तो एकदम चूतिया
निकला,मैं तो समझ रही थी की मेरी ब्रा खोल कर और मुझे पैंटी में देख कर शायद तू मेरे साथ जबर्दस्ती करके मेरी चुदाई करेगा। पर मुझे तू माफ कर दे, जब तूने मुझे अपनी बाहों में लेकर चोदा नहीं तो मैंने गुस्से में तेरी पिटाई कर दी, पर क्या करूँ इतने साल से मेरी ख्वाइस थी कि मेरी चुदाई फोर्सली होती, असली मर्द से चुदने की ख्वाहिश मन में ही रह जाती है! आज जब मैं सुबह तेरे कमरे में गयी और अपनी पैंटी और ब्रा से तेरा मुँह ढका पाया तो मैं समझ गयी की तू मेरे सपने देख कर मुठ मारता है, तेरा घोड़े जैसा लंड देख कर तो मैं पागल हो गयी हूँ, तू भी अब चूत लेने के लिये तैयार है,चल और बता अपनी चाची की चूत चोदेगा?

कमल की तो जैसे मन की मुराद पूरी हो गयी। कमल पहले तो हक्का बक्का खड़ा रहा और बाद में उसने कुछ झिझकते हुए उन ही के अंदाज़ में रोल प्ले करते हुए कहा, चाची! जब से मै इस घर मे आया हु हमेशा आपको चोदने की सोचता हूं, मैं हमेशा ही आपको सपने में बिना कपड़ों के नंगी, सिर्फ़ ऊँची हील्स वाली सैंडल पहने हुए इमैजिन करता था और आपके मोटे चूतड़ और चूचीयों को इमैजिन करता
था, मैंने मुठ तो बहुत मारी है पर मुझे चोदना नहीं आता, तुम बताओगी तो मैं बहुत प्यार से मन लगा कर तुमको चोदूँगा!
आरती बोलीं, कमल अब तेरा लंड देखने के बाद ही मैं तो तेरी हो गयी और चुदाई तो मैं खूब सीखा दूँगी
पर तुझे मेरी हर बात माननी होगी और अगर तूने मुझे मस्त कर दिया तो मैं तुझे जो तू इनाम माँगेगा तुझे दूँगी और ध्यान रहे ये बात किसी को मालूम नहीं होनी चाहिए!
अब हम दोनों के बीच कोई शरम या पर्दा नहीं रह गया था।
आरती ने कहा, आज से तू
और मैं जब भी अकेले होंगे, तू मुझे सिर्फ़ आरती बुलाना और अब मुझे अपनी बाहों में भर कर मेरे होंठ चूसते हुए मेरे चूतड़ मसल!
-  - 
Reply

08-27-2019, 01:44 PM,
RE: Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
कमल ने भी इतने दिनों की मुठ मारने के बाद मिला आरती का नंगा बदन अपनी बाहों में पकड़ कर उठा लिया और नंगी आरती को अपनी बाहों में भर कर उनके नरम-नरम होंठों को अपने मुँह से चूसने लगा। और अपने हाथ पीछे ले जा कर उनकी पैंटी में डाल कर उन मतवाले चूतड़ों को दबाने लगा। जब कमल पेटीकोट के उपर से दबा रहा था, उसे उस समय ही मालूम हो गया था की आरती के चूतड़ बहुत ही तगड़े और मस्त हैं, और अब जब उनके नंगे चूतड़ पकड़े तो हाथों में कुछ ज्यादा ही जान आ गयी और कमल कस-कस कर मसलने लगा।
आरती ने भी उसे अपनी बाहों में कस कर पकड़ रखा था जिस से उनकी माँसल
चूचियाँ कमल के सीने से लग कर उसे गुदगुदा रही थी। थोड़ी देर एक दूसरे को चूसने के बाद आरती उस से अलग हुई और अपनी अलमारी खोल कर व्हिस्की की बोतल निकाल कर बोली, जब तक सोनल वापस नहीं आती तेरी चुदाई की क्लासिज़ चालू और अब तू हफते भर मेरी क्लास अटेंड
करेगा!
इतना कह कर मीना चाची ने दो ग्लास में शराब डाली और दो सिगरेट जला लीं और एक मुझे देते हुए कहा, जो मैं बताऊँ वैसे ही करना!
लेकिन चाची मैंने कभी स्मोक या ड्रिंक नहीं की है! कमल थोड़ा हैरान होते हुए बोला।
मादरचोद... नहीं की है तो आज कर ले... चुदाई भी तो तूने पहले कभी नहीं की है... मज़ा आयेगा.. बिलीव मी! आरती बोली।
उसके बाद आरती एक हाथ में व्हिस्की का ग्लास और एक में सिगरेट पकड़
कर उसके सामने आई और बोली, बहन के लौड़े!
तू मुझे हाई हील के सैंडलों में इमैजिन करता है ना, चल अब अपने हाथों से मेरे पैरों में सैंडल
पहना और फिर मेरा पेट चूमते हुए मेरी पैंटी उतार और पीछे से मेरी गाँड के छेद में उंगली डाल और धीरे-धीरे से अपने मुँह से मेरे पेट को चूमते हुए मेरी बूर के ऊपर ला कर मेरी चूत को अभी सिर्फ़ ऊपर से ही चूस। मैं तुझ से नाचते हुए अपनी चूत चुसवाँऊगी, बाद में जब तू अपनी ड्रिंक और सिगरेट खतम कर लेगा तब तुझे बताऊँगी की औरतें अपनी चूत का पानी
मर्दों को कैसे पिलाती हैं।
कमल तो उस समय कुछ बोलने की हालत में ही नहीं था। कमल तो बार-बार यही सोच रहा था की वो कोई सपना तो नहीं देख रहा है। खैर, कमल ने आरती के आदेश अनुसार उनके गोरे-गोरे नरम पैरों को चूम कर उनको चार इंच ऊँची पेन्सिल हील्स वाले सैण्डल पहनाये।

फिर कमल आरती के बताय तरीके से उनको अपनी बाहों में भर कर चूमने और पैंटी उतारने लगा। आरती अपने चूतड़ हिला-हिला कर अपनी ड्रिंक और सिगरेट पी रही थी और जब कमल के होंठ आरती की चूत के उभार पर टच हुए तो आरती ने कस कर उसका सर पकड़ा और चूत के उभार पर दबा दीया। वो मीठी-मीठी सितकारियाँ भरने लगी और बोली,
कमल तुझे मैं ज़िंदगी का इतना प्यार दूँगी की जब तू अपनी बीवी को चोदेगा तो
हमेशा मेरी ही चूत याद करेगा!
कमल भी मन लगा कर आरती की चूत की दरार पर और उभार पर जीभ फेरने लगा। थोड़ी देर बाद आरती के चूतड़ों में एक कंपन आया और कमल का सर जोर से दबाते हुए अपनी चूत का पानी बहार छोड़ दिया। उसके बाद कमल के बगल में बैठ गयी और बोली,
कमल! आज पहली बार ऐसा हुआ है की मैं अपनी चूत चुसवाते हुए झड़ी हूँ!
आरती की आँखें शराब और ओरगैज़्म के कारण नशीली हो रही थी। आरती ने कमल का लंड पकड़ लिया और चोंकते हुए बोली,
हाय-हाय कमल! यह क्या हाल कर रखा है तूने अपने लंड का, तन कर एक दम फटने को हो रहा है मेरे प्यारे कमल! लंड को इतना नहीं अकड़ाते की लंड फट ही जाये और वैसे भी आज से यह लंड अब सिर्फ़ मेरा है, चल थोड़ा तेरे लंड को ढीला कर दूँ,फिर तुझे आराम से अपनी चूत का पानी पिलाऊँगी!
इसके बाद आरती ने उसे एक छोटा सा पैग और दिया और एक-एक सिगरेट जला कर उसके बदन से चिपट गयी, और उसे खींच कर बिस्तर पर टाँगें सीधी कर के पीठ के सहारे
बिठा दिया और बोली, चल अब तू आराम से अपनी ड्रिंक और सिगरेट पी! और फिर कमल का लंड पकड़ कर कहा, मैं लंड की ड्रिंक और सिगरेट बना कर पीयुँगीऔर तेरी मस्ती निकले तो निकाल दियो मेरे मुँह में,लंड चूसना किसे कहते हैं अब मैं तुझे वो बताऊँगी!

इतना कह कर आरती ने अपने रसीले होंठ कमल के लंड के सुपाड़े पर रख दिए जो कि तन कर एक दम लाल टमाटर की तरह हो रहा था और फिर धीरे-धीरे उसके लंड को अपने मुँह के अंदर जीभ फिराते हुए सरकाने लगी। उसे
नहीं मालूम औरतों को लंड चूसते हुए कैसा लगता है पर वो इतना बता सकता था की कोई भी मर्द मादरचोद अपना लंड चुसवाने के बाद बिना चूत लिये रह नहीं सकता, चाहे उसे उसके लिये कुछ भी क्यों ना करना पड़े। कमल के उपर तो उस समय आरती के नंगे बदन का नशा, व्हिस्की का नशा, सिगरेट का नशा और आरती से लंड चुसवाने का नशा ऐसा छाया हुआ था की जैसे वो किसी और दूसरी दुनिया में है।
-  - 
Reply
08-27-2019, 01:44 PM,
RE: Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
पहले तो आरती बड़े प्यार से अपना मुँह उपर नीचे सरका-सरका कर उसे लंड चुसाई का मज़ा देने लगी। कमल का पूरा लंड आरती के मुँह में समा नहीं पा रहा था पर वो बहुत तबियत से कमल की आँखों में आँखें डाल कर चूस रही थी। कमल का तो मस्ती के मारे बुरा हाल था। उसने आरती का सिर कस कर अपने हाथों में पकड़ लिया और हाथ से उनका सिर उपर नीचे करने लगा और नीचे से अपने चूतड़ उछाल- उछाल कर आरती के मुँह में ही शाट देने लगा और जब कमल झड़ा तो उसने कस कर आरती का सिर पकड़ कर नीचे से एक शाट लगाया जिस से उसका लंड सीधा
आरती के गले में जा कर फँस गया और उस समय उसका पूरा साढ़े आठ इंच और ढाई इंच मोटा लौड़ा जड़ तक आरती के मुँह में घुसा हुआ था और उसकी झाँट के बाल आरती की नाक में घुस रहे थे। जब कमल शाट लगा कर आरती के गले में अपना लंड फँसाकर झड़ रहा था उस समय आरती बूरी तरह छटपटा रही थी और कमल से दूर जाने की कोशीश कर रही थी पर उसने भी कस कर उन का सिर पकड़ा हुआ था और जब तक उसके पानी की आखिरी बूँद नहीं निकली, उसने आरती का सिर नहीं छोड़ा।
आरती वाकय में बहुत चूदास औरत थी। इतनी तक्लीफ होने के बाद भी उसने कमल के लंड का सारा पानी चाट-चाट कर पी गयी और एक भी बूँद बाहर नहीं गिरने दी। आरती ने उसका झड़ा हुआ लंड अपने मुँह से बाहर करा तो कमल बोला, चाची आई एम सारी! मैं अपने आप को कंट्रोल नही कर पाया!
आरती ने उसके होंठ चूमते हुए कहा,
डार्लिंग तू सिर्फ़ मुझे आरती बोल और मादरचोद मैं इसी तरह तो अपन बदन रगड़वाना चाहती हूँ, कसम से आज पहली बार लंड चूसने का असली मज़ा मिला है। ऐसा प्यारा और तगड़ा लंड हो तो मैं ज़िंदगी भर चूसती रहूँ!
लंड चुसवाने के बाद कमल भी थोड़ा सा मस्त हो चूका था। मैंने कहा, क्यों आरती चा...
मेरा मतलब सिर्फ़ आरती... तुम्हारा इतना चुदास बदन है, तुमने शादी से पहले किसी से
चुदवाया या नहीं?
आरती बड़े दुख से बोली ,अरे नहीं रे,
मेरे पास अपनी चूत फड़वाने के और नए-नए लंड लेने के मोके तो बहुत थे पर मैंने सोचा हुआ था के मैं अपनी चूत सुहाग रात वाले दिन ही अपने हसबैंड को दूँगी। पर मुझे क्या पता था की मेरी किस्मत में ऐसा गांडू लिखा हुआ है। अगर मुझे पता होता तो मैं शादी से पहले जम
कर अपनी चूत का मज़ा उठाती। तेरे चाचा का सिर्फ़ पाँच इंच लम्बा और एक इंच मोटा
है और बस पाँच-छ: धक्के में ही झड़ जाता है और गांडू की तरह मेरी चूचियों पर उल्टा लेट कर सो जाता है!
तेरे चाचा को छोड़ अब से मैं अपना नंगा बदन तुझसे चुदवाऊँगी, बस तू मेरा साथ मत अलग
करना!
आरती कहते-कहते बहुत भावुक हो गयी थीं। कमक ने आरती को अपनी बाहों में भर लिया और एक दम फ़िल्मी डाय़लोग मारते हुए बोला, आरती
डार्लिंग आज से मैं तुम्हारे जिस्म की भूख को शाँत करूँगा और जब तुम कहोगी उसी समय अपना लंड तुम्हारी सेवा में हाज़िर कर दूँगा! आज से तुम्हारे दुख के दिन बीत गये। आज से तुम सिर्फ़ इस असली लंड का मज़ा लो और इतना कह कर आरती को दबा दबा कर उसके रसीले होंठ चूसने लगा।
आरती की चूचियों का दबाव पाकर और उनकी मस्त मोटी-मोटी जवानी सीने से लगा कर कमल का लंड फिर से पूरा तन गया था। आरती बोली, भोसड़ी के! तेरा लंड है की मस्त गन्ना, देख तो सही कैसे खड़ा हो कर लहरा रहा है!
कमल ने कहा, आरती यह तो फिर से तुम्हारे होंठों को ढूँढ रहा है चुसाने के लिये।
आरती बोली, कमल! गन्ना तो मैं अबकी बार अपनी चूत में ही चूसूँगी, पहले तो मुझे अपनी सिगरेट और ड्रिंक आराम से पीने दे और तू अपनी ड्रिंक मेरी चूत से निकाल कर पी, आ जा कमल आज तुझे औरतों की चूत पीना सिखा दूँ!
इतना कह कर आरती अपने चूतड़ आराम से बिस्तर पर टिका कर बैठ गयी और अपनी दोनों टाँगें खोल कर पैंटी में कसी हुई चूत की मछलियों को दिखाने लगी।
इतने में आरती बोलीं, चल मादरचोद! मेरी टाँगें और जाँघें चूमते हुए मेरी पैंटी उतार और मेरी चूत में अपना मुँह लगा कर ऐसे चूस जैसे आइसक्रीम चूसता है और फिर अपनी जीभ को मेरी दरार के अंदर डाल और खूब घुमा-घुमा कर मेरी चूत को अंदर तक चाट,
याद रहे चूसाई और चटाई तब तक चलती रहे जब तक मैं तुझे मना नहीं करूँ और इस दौरान अगर मेरी चूत से मेरी मस्ती निकले तो उसे अपनी ड्रिंक समझ कर चाट कर पी जाना!
बड़ा ही सैक्सी सीन था। आरती बिल्कूल नंगी, सिर्फ़ पैंटी और सैक्सी सैंडल
पहने, एक हाथ में ड्रिंक और एक हाथ में सिगरेट लेकर स्मोक कर रही थीं। उनके मस्त मम्मों पर उनके भूरे-भूरे निप्पल ऐसे दिख रहे थे कि जैसे कह रहे हों कि आजा आज जी भर के मज़ा ले ले,बहुत मुठ मार ली तू ने और फिर आरती ने अपनी चिकनी मस्त टाँगों को फैला दिया। कमल ने भी झुकते हुए आरती की मस्त जाँघों को बारी-बारी चूमते हुए खूब चाटा, और फिर मस्ती में आरती की पैंटी के उपर से ही उनकी चूत की दरार को चाटने लगा। उसके होंठ आरती की चूत पर लगते ही
आरती मस्ती में आ गयी और बोली,
कमल अब जल्दी से मेरी पैंटी उतार के
मेरी मस्त जवानी चूस ले, मदरचोद इतना मज़ा दूँगी कि किसी औरत ने आज तक किसी मर्द को नहीं दिया होगा!
कमल बड़े प्यार से आरती की पैंटी धीरे-धीरे उनकी चूत से सरकाते हुए उतारने लगा। आरती ने अपने चूतड़ हवा में उठा दिये थे ताकि कमल जल्दी से उनकी पैंटी उतार कर चूसना चालू करे। आरती शायद यह नहीं जानती थी कि यह कमल के लिए किसी सुहाग रात से कम नहीं थी, और अपनी
प्यारी दुल्हन का मुखड़ा, जिसके कारण ना जाने उसने कितनी बार अपने हाथ से अपने लंड का पानी गिराया था, आराम से पैंटी उतार कर इत्मीनान से देखना चहता था।

आरती बोली, देख ले कमल! जी भर के देख मेरी चिकनी चूत को, पता है मैं
अपनी चूत शेव नहीं करती क्योंकि उस से चूत थोड़ी सी खुरदरी हो जाती है बल्कि
हेयर रिमुवर से बाल साफ़ करती हूँ ताकि मेरी चूत हमेशा मुलायम और चिकनी रहे।
कमल देर तक आरती की चूत को देखता रहा और अपनी हथेली फेरता रहा। कुछ देर
बाद आरती बोली, देख कमल इतना नहीं तरसाते, मेरे भोसड़े में आग लग रही है। जल्दी से चूसके ठंडी कर दे।
कमल ने भी अब ज्यादा रुकना मुनासिब नहीं समझा और अपने होंठ आरती की चूत के गुलाबी होंठों पर रख दिये। आरती ने एक गहरी सितकारी लेते हुए उसके सर को अपनी चूत पे दबा लिया। कमल का मुँह दबने से उसकी नाक में आरती की चूत की खुशबू उतरती चली गयी और उस पर ना जाने क्या
नशा चढ़ा उसने अपने होंठों से उनकी चूत दबाकर चूसनी चालू कर दी और अपनी जीभ अंदर-बाहर करते हुए आरती की चूत के अंदर करने लगा। इस समय आरती ने उसका सर अपनी पूरी ताकत से अपनी चूत पर दबाया हुआ था और अपनी मस्त चिकनी जाँघों से उसका सर जकड़ा हुआ था, जिसके कारण आरती की सितकारियाँ और गालियाँ उसके कानों तक नहीं पहूँच पा रही थीं। आरती के मस्त चूतड़ अब उछलने चालू हो गये थे, और उन्होंने उसके हाथ अपनी चूचियों पर से हटा कर अपने दोनों चूतड़ों के नीचे कर दिये थे।
कमल भी इशारा पा कर उन मस्त चूतड़ों को दबा-दबा कर मसलते हुए आरती की चूत चूसता रहा। अचानक आरती ने अपने चूतड़ों का एक जोरदार झटका मारा और उसका सर दबा कर उसके मुँह में अपनी चूत का पानी निकालने लगी। कमल को पानी इतना टेस्टी लगा कि कमल
दोबारा उनकी चूत में जीभ घुसेड़ कर उनकी चूत की दीवारों पर लगा हुआ उनकी चूत का पानी चाटने लगा। आरती शायद इस दोबारा चुसाई के लिये तैयार नहीं थीं और अचानक चालू हुई दोबारा चुसाई ने आरती को पागल बना दिया और उसने
अपनी जाँघें जोर से कस कर झड़ना चालू किया। उसने अपनी जाँघें इतनी जोर से
दबा ली थी कि अगर कमल अपने दोनों हाथों से उन्हें अलग नहीं करता तो शायद उसका सर चकनाचूर हो जाता। कमल ने जब मुँह उठा कर देखा तो आरती के चेहरे पर भरपूर ठंडक दिखायी पड़ रही थी।
आरती ने कमल की आँखों में आँखें डालते हुए कहा,पता है कमल, मैंने आज तक सिर्फ़ किताबों में पढ़ा था या ब्लू-फिल्मों में देखा था कि औरतों को अपनी चूत मर्दों से चुसवाने से चूत को वो सुख मिलता है जो उसको लंड से चुदवाकर भी नहीं मिलता। वाकय में कमल आज तूने मेरी चूत चूसकर वो सुख दिया है जो मुझे आज तक नसीब नहीं हुआ था, थैंक यू!
-  - 
Reply
08-27-2019, 01:44 PM,
RE: Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
कमल ने भी कहा, चाची... सारी... आरती... मुझे नहीं मालूम तुम्हें कितना मज़ा आया पर मुझे तो तुम्हारी चूत का पानी पी कर और चूत चूस कर मज़ा आ गया, आज के बाद जब भी तुम मिलोगी, मैं सबसे पहले तुम्हारी चूत चूसुँगा और चाटुँगा।
कमल का लंड इतनी सारी मस्ती एक साथ मिल जाने पर लोहे की रॉड की तरह हो रहा था।
आरती ने बड़े प्यार से अपने होंठों को चौड़ा करके उसके लंड का सुपाड़ा अपने होंठों में भर लिया और फिर एक मिनट तक उसके ऊपर अपनी जीभ फिराती रही जिससे कमल अपना कँट्रोल खो बैठा और आरती की गर्दन पकड़ कर उनका मुँह अपने लंड पर दबाने लगा। आरती ने झट से अपना मुँह ऊपर खींच लिया और प्यार से बोली, कमल मैं तो तेरे लंड को बता रही थी की अपनी दुल्हन से मिलने के लिये तैयार हो जा, आज तेरी दुल्हन जी भर के तेरे धक्के लेगी और बाद में तेरी आखिरी बूँद तक चूसेगी। अब बस आजा कमल तुझे आगे का लेसन पढ़ा दूँ। अब मुझसे सहन नहीं हो पा रहा है।
आरती ने एक तकिया अपने चूतड़ों के नीचे लगाया और एक अपने सर के नीचे और पीठ के बल लेट गयीं। बड़े प्यार से बोली,
चल आज तू अपनी आरती की सवारी कर ले, चढ़ जा अपनी आरति पर, और तू बहुत तरसा है ना तू मेरी चूत के लिए, चल आज के बाद नहीं तरसेगा, चल आजा बना ले अपनी चाची से संबंध, बना दे अपनी चाची को रंडी।
कमल को आरती ने अपनी टाँगें फैला कर टाँगों के बीच में कर लिया और तकिया लगा होने के कारण आरती की चूत एकदम फूल कर उठी हुई थी। आरती बोली, देख कमल मैं अपने हाथ से अपनी चूत के लिप्स खोलुँगी, तू बस अपने हाथ से
अपना लंड पकड़ कर मेरा जो गुलाबी छेद दिखेगा, उस पर अपने लंड का सुपाड़ा रगड़,
और जब तक मैं ना कहूँ लंड मेरे अंदर मत उतारना।

आरती ने एक सिगरेट जलाई और दूसरे हाथ से अपनी उंगली से अपनी चूत के लिप्स खोल कर दिखाने लगी, और बोली, आजा बेटा! चल रगड़ अपना लंड।
कमल ने भी अपनी मस्ती में डूबे हुए लंड को आरती की फैली हुई चूत पर रगड़ना चालू कर दिया। पहली बार में उसे आरती की चूत की गरमी महसूस हुई। आरती सितकारी लेते हुए बोली, देख ले बहनचोद! जैसे तूने मुझे बाहों में लेकर किस करा था उसी तरह मैं तेरे लंड को अपने चूत के लिप्स के बीच में लेकर किस कर रही हूँ,मज़ा आ रहा है कि नहीं?
कमल के दोनों कान लाल हो गये थे, उसने कहा, आरती मेरे बदन में यह कैसी आग लग रही है?
आरती बोली, बस मेरी जान थोड़ा सा और फिर तू मेरी आग बुझा और मैं तेरी आग बुझाऊँगी।
एक मिनट और लंड घिसने से कमल का बदन मारे मस्ती के कांपने लगा। आरती समझ गयी कि ये अब कंट्रोल के बाहर है। उसने बड़े प्यार से अपना हाथ आगे बढ़ा कर अपनी चूत के छेद पर टिका दिया और बोलीं, देख कमल! तेरा लंड बहुत मोटा लम्बा और तगड़ा है, मेरी चूत में इसकी जगह धीरे-धीरे ही बनेगी, इसलिये तू धीरे-धीरे अपना लंड मेरी चूत में उतार और अपने चूतड़ के धक्के दे और लंड
आगे पीछे कर, चल अब चालू हो जा,तू भी सीख ले चुदाई क्या होती है, चोद ले
अपनी चाची को जी भर के, पर मादरचोद अगर तू अपने चाचा की तरह जल्दी झड़ा तो बैंगन से तेरी गाँड मारूँगी वो भी बिना क्रीम के!
कमल ने पहले तो एक हल्का सा शॉट लगाया जिस से उसका दो इंच लंड आरती की
चूत में सरक गया और उनकी चूत के गुलाबी लिप्स ने उसका लंड जकड़ लिया। आरती की चूत अंदर से सुलग रही थी जिसकी असली गरमी उसने अब महसूस करी।
आरती बोली, आआहहहहहहहहहहहा मेरे राजा शाबाश मेरे शेर, अब धीरे-धीरे
अपना लंड पेल मेरे अंदर!
कमल ने भी एक-दो धक्के तो दिये पर इतना ताव आ गया की उसने एक जोर का झटका मारा और उसका छः इंच लंड आरती की चूत में समा गया। आरती ने अपने चूतड़ ऐसे उछाले जैसे उन्हें बिजली का करँट लग गया हो और बोली, बहन के लौड़े! चोदना सीखा नहीं और मेरी चूत फाड़ने पर उतर आया ज़रा आहिस्ता-आहिस्ता चोद अपनी चूत रानी को!
आरती बोलती रहीं और कमल ने आरती को उनकी कमर के नीचे से उभरे हुए मोटे चूतड़ों से पकड़ा और अपने चूतड़ों का पूरा दम लगा कर जबरदस्त शॉट मारा जिस से उसका पूर लंड आरती की चूत में समा गया और आरती के बदन पर लेट गया और अपनी बाहों में कस के पकड़ लिया जिस से आरती की निप्पल कमल के निप्पल से लग गयी और आरती के माँसल जोबन कमल की छाती के नीचे दब गये।
आरती ने दर्द के मारे करीब एक फुट अपनी गांड हवा में उछाली और गालियाँ देती हुई बोली, माँ के लौड़े! क्या कर दिया तूने, माँ चोद कर रख दी मेरी चूत की अरे भोसड़ी वाले ऐसे थोड़ी मैंने चूत की माँ चोदने को कहा था,तेरा साला लंड है कि मूसल मेरी तो मदरचोद चूत फट गयी आज, चोद दे मादरचोद� हाय हाय बड़ा दर्द हो रहा है! पर कमल ने आरती को पूरी तरह से दबोच रखा था और उनकी टाँगें अपनी टाँगों में फसायी हुई थीं।
अब धीरे-धीरे अपना लंड आगे पीछे करना चालू किया और उसके होंठों पर अपने होंठ रख कर बड़े प्यार से उसके मुँह को और उसकी जीभ को चूसते हुए शॉट लगाने लगा। जब कमल ने देखा की आरती का तड़पना कुछ कम हो गया तो कमल ने आरती से पूछा कि डार्लिंग दर्द हो रहा है तो थोड़ा सा बाहर निकाल लूँ?
आरती एकदम शेरनी की तरह बोली,
मादरचोद इतने साल मैं इसके लिये तो तड़पी हूँ की कोई तो मेरी चूत फाडे और चोद-चोद कर उसका भोंसड़ा बना दे और तू कह रहा है की बाहर निकालू।
इसके लिए तो मैं रण्डी बनि हु,चोद मेरे राजा मेरी टाँगें उठ-उठा के जितना चोदना है चोद ले, मेरे सनम मेरी तो चूत अब
तेरी हो गयी!
आरती इस समय पूरी मस्ती में थीं। कमल भी पूरी तरह से मसताया
हुआ था और कमल ने एक किताब में देखे हुए पोज़ को आज़माते हुए आरती की दोनों टाँगें अपने कंधे पर रखीं और उनके मस्त मम्मे अपने हाथों में कस कर पकड़ लिये और उछल-उछल कर आरती की चूत में पेलने लगा जिस से उसका लंड पूरा जड़ तक आरती की चूत में उतर रहा था। इतना प्यारा सीन था की जब कमल कस कर शॉट लगाता था उस समय आरती के चूतड़ पूरे फैल जाते और चौड़े हो कर दब जाते और कमल का पूरा लंड आरती की चूत में समा जाता और फिर जब आरती नीचे से अपने चूतड़ों का धक्का देती तो उसका लंड थोड़ा सा बाहर आता और आरती की वो मस्त गाँड फिर गोल और मस्त हो जाती। अब दोनों की चुदाई की लय सैट हो चुकी थी और आरती तो मानो जन्नत की सैर कर रही थी, और बारबार यही बोल रही थी कि आज जैसी चुदाई का सुख मुझे कभी नहीं मिला, मुझे मालूम था की चुदाई में मज़ा आता है पर इतना मज़ा आता है मुझे नहीं मालूम था! ले मेरे बलम, चोद अपनी चाची को, जी भर के अपनी चाची की जवानी का मज़ा लूट ले! कहाँ था बहन चोद, क्यो ऐसे हरकत करता है कि मेरी चुत से दूर जाता है, अब तो खूब चुदवाऊँगी मेरे राजा, मेरे दिलबर, आज से तो तू मेरा असली हसबैंड है!
करीब पन्द्रह बीस मिनट तक जम कर टाँगें उठा कर चोदने के बाद कमल का पानी निकलने वाला था। उसने आरती की दोनों टाँगें छोड़ कर उन्हें अपनी बाहों में भर लिया और बोला, मेरी रानी! ले मेरा पानी अपनी मस्त चूत में, कर ले ठंडा अपनी चूत को मेरे लंड के पानी से।
आरती भी बोलीं कि राजा मैं भी बस झड़ने की कगार पर हूँ जरा दो तीन धक्के करारे-करारे जमा दे मेरी चूत में।
कमल ने आरति को कस के अपने चूत्तड़ हिला-हिला कर जबरदस्त शॉट देने चालू कर दिये।
आरती तो दो धक्कों बाद ही
किलकारी मारते हुए झड़ने लगी। उसका पानी सीधा कमल के लंड के लाल हुए सुपाड़े पर
गिर रहा था जिसे कमल पूरी तरह से महसूस कर रहा था। कमल ने भी दो-तीन धक्के और मारे और आरती के होंठों पे अपने होंठ चिपका दिये और उनकी जीभ चूसते हुए अपने लंड का पानी आरती की चूत में निकाल दिया। आरती की चूत के अंदर झड़ने में जो स्वर्ग का आनन्द प्राप्त हो रहा था उसके कारण कमल क्षण भर के लिये अपने होश हवास खो बैठा।
जब कमल को होश आया तो देखा आरती उसके लंड पर झुकी हुई थी और बड़ी बेसब्री से उसका लंड चूस रही थी। कमल को होश में आया देख आरती ने कमल का लंड छोड़ कर दो सिगरेट जलाईं और उसे अपनी बाहों में लेकर उसके सीने पर अपना सर रख कर स्मोक करने लगी और बोली, कमल मैं किस ज़ुबाँ से तेरा शुक्रिया अदा करूँ, मेरी समझ में नहीं आ रहा है। मैं तो आज से तेरी हो गयी! तू आज से सही मायने में मेरा हसबैंड है और मैं तेरी वाईफ! तुझे चूत का इतना सुख दूँगी की तू हमेशा मुझे याद करेगा! तूने मुझे बताया है कि असली चुदाई क्या होती है! आज पहली बार है कि चुदवाकर मेरी चूत को पसीना आ गया। मैं तो बस आज से तेरी गुलाम हो गयी। बस मेरे प्यारे कमल,मुझे चोदना मत बँद करना, तेरे लिये तो मैं चूत खोले पड़ी रहूगी, बस तू दोबारा गलती से भी हमारे बीच किसी को मत लाना,हम ऐसे ही मस्ती करेंगे,
कमल ने भी आरती को अपनी बाहों में कस कर कहा कि आरती आज से तुम भी मेरी हो गयी। अब से दोबारा तुम्है अपने अलग नही होने दूँगा
आरती तुम नहीं, मैं तुम्हारा गुलाम हूँ और जब तक चाचा नहीं आते, तुम मेरी वाईफ बन
जाओ और मुझे जम कर अपने शरीर की शराब पिलाओ।
अपने सपनों की रानी के साथ चुदाई करके कमल तो अपने आप को बड़ा ही भाग्यशाली समझ रहा था। चुदाई करने के बाद कमल और आरती एक स्मोक करते हुए एक दूसरे से लिपट कर पड़े हुए थे। आरती अपना सिर कमल की छाती पर रख कर स्मोक कर रही थी और कमल धीरे-धीरे उनके मस्त मोटे चूत्तड़ों पर हाथ फेर रहा था। कमक ने कहा,
आरती डार्लिंग क्या हुआ, तुम तो एकदम ही शाँत हो कर लेट गयी हो।
तो आरती ने शर्माते हुए उसके होंठों का किस लिया और बड़े प्यार से लंड हाथ में लेकर बोली, कमल मुझे लग रहा है कि मेरी असली शादी तो आज हुई है और सुहाग रात मनी है और जैसे कोई लड़की पहली बार अपने मर्द से चुदवाकर मस्त हो कर शर्माती है बिल्कुल मुझे वैसा ही लग रहा है। कमल मेरे सरताज, मेरी चूत के मालिक!
तू जो बोलेगा मैं सब करूँगी पर तू मुझे आज कसम दे कि तू हर रोज़ मुझे चोदेगा। लेकिन दोबारा से वो गलती नही करेगा, तेरे चाचा आ जायेगा तब भी मैं मौका निकाल कर तुझसे अपनी चूत ठंडी करवाऊँगी।
कमल तो चुदाई कर के मस्त पड़ा हुआ था।

कमल ने भी कहा, आरती फिर से वो गलती करके मैं तुम्हे नही खो सकता, मैं बेवक़ूफ़ था जो तुम्हे दुसरो के हाथों में सोपने चला था, अब बस तुम मेरी हो, और मैं चाहता हु की जिंगदी भर मेरे साथ रहो तूम। बस मेरा एक ही सपना है।
आरती बड़े प्यार से बोली, अब क्या जरूरत है सपने देखने की,तू बोल तो सही,मैं तेरे लिये अब कुछ भी करूँगी।
कमल ने कहा, आरती मैं हमेशा ही यह सोचता हु कि तुम्हारी शादी मुझ से हुई है और अपनी सुहाग रात वाले दिन तुम शर्माती हुई दुल्हन की तरह सज-धज के मेरे लिये पलंग पर बैठी हो और फिर मैं तुम्हें जी भर के चोदता हूँ।
आरती ने कमल के होंठों का एक लम्बा सा किस लिया और करीब पाँच मिनट तक उसके
होंठ चूसने के बाद बोली, मेरे राजा! बस अब तुझे मेरी चूत और नहीं मिलेगी और ना ही तू मुठ मारेगा।
कमल के उपर तो जैसे पहाड़ गिर पड़ा।
उसने कहा,
आरती ये तुम क्या कह रही हो?
आरती बड़े ही मादक अँदाज़ में बोली, मादरचोद! आज तेरी और मेरी,
रात को सुहाग-रात मनेगी और मैं चाहती हूँ कि तू अब दिन भर मुझे नंगा देखे और अपना
मूसल जैसा लौड़ा मसले ताकि जब रात को मेरे साथ सुहाग-रात मनाये तो मुझे कड़-कड़ाते हुए चोदे जिससे मेरी चूत का एक-एक पोर खुल जाये।
कमल ने भी कहा, आरती पर मैं रात तक कैसे दोबारा इंतज़ार करूँगा, इतनी नशीली शराब पीने का!
आरती ने उसकी छाती को चूमते हुए कहा, बहनचोद तू मेरे बारे में सोच कि मैं कैसे रहुँगी रात तक तेरा मस्त मादरचोद लंड लिये बिना। मेरी चूत खुली हुई तो क्या हुआ पर मैं भी अपनी ज़िंदगी में वो सुख भोगना चाहती हूँ जिस की कभी मैंने कल्पना भी नही करी थी।
इसके बाद आरती उठी और अपनी पिंक ब्रा और पिंक पैंटी पहन ली। आरती दिन भर सिर्फ़ ब्रा-पैंटी और कमल की पसंद के चार इंच ऊँची एड़ी के सैण्डलों में ही घूमती और घर के काम करती रही और बीच-
बीच में अपने हाथ या सैण्डल से कमल के लंड को सहला कर या कभी एक चूँची बाहर कर के उसके होंठों के पास ला कर भाग जाती। कभी दूर खड़े हो कर अपनी पैंटी धीरे से नीचे खिसका कर अपनी चूत का उभार दिखाती, और कभी कमल के चेहरे के सामने अपने चूत्तड़ ला कर पैंटी सरकाती और अपनी गाँड दोनो हाथों से पकड़ कर चौड़ा कर के दिखाती। जब कमल पकड़ने को जाता तो कहती ,मेरे मादरचोद डार्लिंग! ये सब माल जी भर के भोगना रात को।
कमल के लंड का तो बुरा हाल था। बेचारा दिन भर आरती का बदन देख-देख कर अटैंशन
में खड़ा रहा। शायद वो भी सोच रहा था की छिनाल जितना तरसाना है तरसा ले,
रात को तेरे भोसड़ी को भोंसड़ा नहीं बनाया तो मेरा नाम नहीं। आरती ने शाम को कमल को एक घंटे के लिये घर के बाहर भेज दिया और बोली कि डार्लिंग! इंतज़ार के सारी घड़ियाँ खतम और वापस आ कर नहा धो कर एक दम दुल्हा बन कर अपनी दुल्हन की सुहाग-रात मना! आज तेरी शादी मुझ से हुई है और मैं तेरी दुल्हन और तेरी पत्नी हूँ और तू मेरा हसबैंड। जल्दी से आ मेरी जान! मेरी चूत में शोले भड़क रहे हैं। दिन भर तो मैंने बर्दाश्त कर लिया पर अब बर्दाश्त नहीं कर पा रही हूँ!
कमल भी एक घंटे के लिये बड़े बेमन से बाज़ार घूमता रहा और वापस आ कर अपने कमरे में जा
कर नहाने चला गया। रेज़र से अपनी सारी झँटें साफ़ करी और लंड पर खूब तेल की
मालिश करी और अपने बदन को रगड़-रगड़ के साफ़ किया। तैयार होते वक्त अपने बदन पर खूब क्रीम मली और सैंट छिड़का। अपने सबसे स्मार्ट कपड़े पहने और शीशे में अपने को देख कर अपनी सुहाग-रात मनाने के लिये आरती के कमरे की तरफ़ चल पड़ा। आरती वाकय में एक बहुत ही स्टॉयलिश और मस्त औरत थी। जब कमल ने आरती के कमरे को खट- खटाया तो वो अंदर से बोली,
बस दो मिनट में अंदर आ जाना।
कमल ने जब दो मिनट बाद दरवाज़ा खोला तो दँग रह गया कि आरती ने घंटे भर में अपने कमरे की काया ही पलट दी थी। पूरा कमरा गुलाब से सज़ा हुआ था और भीनी-भीनी
उत्तेजित करने वाले इम्पोर्टेड सैंट की खुशबू हवा में फैली हुई थी। आरती अपनी
सबसे सैक्सी दिखने वली साड़ी पहन कर और अपने चेहरे पर एक लम्बा सा घूँघट डाल कर पलँग के बीचों-बीच बैठी हुई थी, और पलँग के साईड टबल पर एक पूरी व्हिस्की की बोत्तल और सिगरेट का पैकेट रखा हुआ था।
उन दोनों के जिस्म में उस समय एक लावा फूट
रहा था एक दूसरे को बुरी तरह चोदने के लिये, और आरति ने सब इंतज़ाम करा हुआ था कि आज जम कर रात भर चुदाई हो।
कमल ने धीरे से पलँग पर बैठ कर आरती को अपनी और खिसकाया और बड़े धीरे से उनका घूँघट ऊपर उठा दिया। आरती ने आज कुछ ज्यादा ही सैक्सी मेक-अप करा हुआ था। उसने अपने होंठों पर लाल चमकने वाली लिपस्टिक लगायी हुई थी और पूरे मुखड़े पर बहुत ही सुंदर तरीके से मेक-अप करा हुआ था। ब्लाऊज़ उसने बहुत ही लो कट पहना था और अगर ब्लाऊज़ को ब्रा बोला जाये तो ज्यादा मुनासिब होगा और अंदर उसने ब्रा शायद बहुत ही छोटी साइज़ की पहनी हुई थी क्योंकि उसमें से आरती कि मस्तानी जवानी छलक-छलक के बाहर आने को मचल रही थी। उसने अपने घने-घने बालों को खुला रखा था जो किसी झरने की तरह उसकी कमर तक लहरा रहे थे। आरति ने अपने हाथों और पैरों के नाखुनों पर लाल नेल पॉलिश लगा रखी थी। साथ ही उसने कमल को और भी उत्तेजित करने के लिये काले रंग की बहुत ही ऊँची (लगभग पाँच इंच) पेन्सिल हील की सैण्डल पहनी हुई थी। उसके गोरे-गोरे पैरों को उन सैण्डलों में देख कर कमल का लंड उसकी पैंट के अंदर साँप की तरह फुँफकारने लगा।
कमल ने बड़े ही प्यार से आरती का चेहरा अपने हाथों में ले कर उसके गुलाबी होंठों पर अपने होंठ रख दिये और तबियत से उसके होंठ और जीभ चूसने लगा और फिर आरती की कमर में हाथ डाल कर उसकी नंगी पीठ पर फेरने लगा। आरती ने भी उसे अपनी बाहों में ले लिया और अपनी चूचियों का दबाव देते हुए उसके होंठ और जीभ चूसने लगी। उन्हें होश नहीं वो कब तक एक दूसरे को यूँ ही चूसते रहे। जब दोनो अलग हुए तो कमल ने कहा,
आरती डार्लिंग तुम तो वाकय में बहुत खूबसुरत हो। मैं तुमको अपनी वाईफ बना कर धन्य हो गया। तुम्हारा बदन लगता है जैसे भगवान ने तुम्हें खुद अपने हाथों से बनाया है। तुम्हें देख लेने के बाद कैसे कोई इंसान कैसे अपने
ऊपर काबू रख सकता है!

आरती बोली, मॉय डार्लिंग! मैं बहुत खुश किस्मत हूँ कि तुम मेरे हसबैंड हो और आशा करती हूँ कि तुम मेरी बूर को चूत और चूत को भोंसड़ा बना दोगे!
-  - 
Reply
08-27-2019, 01:45 PM,
RE: Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
इतना कह कर वो दोनों पलंग से उठे और एक दूसरे को बाहों में भर कर डाँस करने लगे। डाँस करते- करते कमल ने आरती की साड़ी पीछे से उठायी और उसकी पैंटी में हाथ डाल के उसके चूत्तड़ मसलने लगा। इधर आरति भी उसकी शर्ट के बटन खोलने लगी और खोल कर उसकी शर्ट को फेंक दिया। कमल ने भी आरती की साड़ी का एक छोर पकड़ कर खींचना चालू कर दिया और आरती ने भी अपना पूरा मस्त शरीर घूम-घूम कर दिखाते हुए साड़ी को उतरवाया। अब आरती सिर्फ़ ब्रा-कट ब्लाऊज़ और एक बहुत ही झीने पेटीकोट में थीं, जिसमें से अंदर का सब कुछ दिख रहा था। आरती ने आज ब्लैक कलर की जी-स्ट्रिंग पैंटी पहनी हुई थी जिस से सिर्फ़ उनकी चूत ढकी हुई थी और उनके गोरे-गोरे और मोटे-मोटे माँसल चूत्तड़ एक दम नंगे हो कर गज़ब ढा रहे थे। आरती एक दम नयी नवेली दुल्हन कि तरह शरमाने लगी तो कमल ने आगे बढ़ कर उन्हें अपनी बाहों में ले लिया और पेटीकोट के ऊपर से उनके गुदाज़ चूतड़ों को दबाने लगा। आरती ने भी अपने हाथ आगे करे और उसकी पैंट को खोल कर उतार दिया। इधर कमल ने भी आरती के झीने से पेटीकोट का नाड़ा खोल कर नीचे गिरा दिया और अपने हाथ पीछे ले जा कर उनके ब्रा-नुमा ब्लाऊज़ के हुक खोल दिये और उनका ब्लाऊज़ धीरे से उनकी बाहों पर से सरकाते हुए उतारने लगा। आरती ने आज बहुत ही छोटी (माइक्रो) ब्रा पहनी हुई थी। कमल साफ़-साफ़ देख रहा था कि ब्रा के कप बडी ही मुशकिल से आरती के निप्पलों को ढक पा रहे थे और साथ ही ब्रा
काफी टाइट भी होने के कारण आरती के मम्मे उबाल खा कर बाहर आने को मचल रहे थे।
आरती अब सिर्फ़ पैंटी-ब्रा और हाई हील सैण्डलों मे थी और कमल भी अब सिर्फ़ अंडरवीयर में था। दोनो ने एक दूसरे को फिर से बाहों में जकड़ लिया और एक दूसरे को मसलते हुए नाचने लगे। थोड़ी देर बाद कमल कुर्सी पर बैठ गया और आरती को बोला,
डार्लिंग तुम आज अपनी गाँड हिलाते हुए दो पैग बनाओ और अपने हाथों से मुझे पिलाओ।
आरती भी बड़े ही मादक अंदाज़ में अपने भारी-भारी चूत्तड़ उसके चेहरे के सामने ला कर टेबल पर झुक कर दो पैग बनाने लग गयी। जी-स्ट्रिंग पैंटी पहने होने के कारण आरती की चूत तो पूरी ढकी थी और स्ट्रिंग का स्ट्राप पूरा आरती की गाँड की दरार के अंदर घुस कर उनकी गाँड के भूरे रंग के छेद को छिपाये हुए था। आरती के मस्त फूले हुए चूत्तड़ अपनी आँखों के सामने पा कर कमल मदहोश हो गया और अपने होंठ आरती के चूत्तड़ों पर लगा कर उनकी गाँड की दरार में अपनी जीभ घुसाड़ने लगा। आरती एकदम सितकार उठी और बोली, डार्लिंग! ये क्या कर रहे हो, बड़ी
गुद-गुदी हो रही है!
कमल ने कोई ध्यान ना देते हुए अपनी जीभ आरती की गाँड के भूरे छेद पर फेरनी चालू रखी और हाथ बड़ा कर उनकी झुकी हुई मस्तानी छातियों को पकड़ लिया और दबाने लगा। आरती तो मस्ती के मारे अपने चूत्तड़ गोल-गोल हिलाने लगी। पैग बनाने के बाद उसने आरती को खींच के अपनी गोदी में बैठा लिया और बोला, आरती क्या बात है, मैंने ऐसी पैंटी तो आज तक नहीं देखी जिसमे चूत तो ढकी रहती है पर गाँड पूरी नंगी रहती है।
आरती बड़ी मस्ती में बोली,
डार्लिंग इसे जी-स्ट्रिंग कहते हैं और ये खास कर चुदास औरतों के लिये ही बनाई गयी है। जिनकी चूत में ज्यादा खुजली होती है और जो पब्लिक में अपने चूतड़ों का जलवा दिखाना चाहती हैं वो ऐसी पैंटियाँ और हाई हील सैंडल खूब पहनती हैं। हाई हील
सैंडलों से चाल और भी मस्तानी हो जाती है और पीछे से गाँड और सामने से छातियाँ सैक्सी तरह से उघड़ जाती हैं। मैंने आज खास तेरे लिये पहनी है।

कमल ने आरती की फूली हुई चूचियों की घाटी में अपना मुँह लगा दिया और पसीने और सैंट की
महक सूँघते हुए उसकी चूचियों कि घाटी चूसने लगा। आरती ने भी उसका सर पकड़ कर अपनी चूचियों पर दबा लिया। थोड़ी देर आरती की चूचियों कि घाटी चूसने के बाद कमल ने आरती को कहा कि अब वो उसे ड्रिंक पिलायें। आरती ने टेबल पर से ग्लास उठा कर उसके होंठों से लगा दिया और बोली, डार्लिंग एक घूँट में खतम करना।
कमल ने भी दूसरा ग्लास उठा कर आरती के होंठों से लगा दिया। आरती बड़ी ही मादरचोद थी। उसने ड्रिंक पूरी नीट बनाई थी, बिना सोडे और पानी के। आरती तो अब रोज़ जम कर पीती थी पर कमल तो अभी नौसिखिया ही था। पर हिम्मत कर के कमल ने भी एक घूँट में खाली कर दी और आरती ने भी पूरी ड्रिंक एक घूँट में खाली कर दी। कमल ने कस कर आरती की कमर में बाहें डाल कर अपनी और खींच लिया और उसकी उठी हुई मदमस्त चूचियों को दबाने लगा और आरती को बोला, मेरी जान एक सिगरेट पिला दो!
आरती बोली, डार्लिंग! सिगरेट मैं अपने स्टाइल से पिलाऊँगी।
इतना कह कर आरती ने सिगरेट जलायी और एक कश ले कर अपने होंठ उसके होंठों से लगा दिये और सारा धुआँ उसके मुँह में छोड़ दिया।
कमल ने कस कर आरती की एक चूँची जो उसकी हथेली में थी बहुत ही बे-दर्दी से मसल दिया। आरती भी चिहुँक उठी, और बोली, तुम बड़े वोह हो जी, मेरी मस्त जवानी इतनी बुरी तरह से मसल कर रख दी।
कमल ने भी कहा, मीना रानी आज तुम्हारी चूचियाँ कुछ ज्यादा ही उभार लिये हुए हैं,
तुमने क्या जादू करा है कि सुबह से लेकर शाम तक तुम्हारी चूँची एक दम इतनी बड़ी हो गयी।
आरती शर्माते हुए बोली कि मैं आज तुमको उन चूचियों का मज़ा देना चाहती हूँ जो मेरी शादी के समय थी। इसी लिये मैंने आज इस टाइट माइक्रो ब्रा में अपनी चूचियाँ कसी है ताकि मेरी चूचियाँ उसमें समायें नहीं और फूट-फूट के बाहर निकल आने को तरसें।
मेरी चूचियाँ कब से तड़प रही हैं तुम्हारे होंठों से चुसाने के लिये।
कमल ने भी बिना देर करे हुए अपने हाथ पीछे ले जा कर आरती की माइक्रो ब्रा के हुक खोल दिये। ब्रा के हुक खुलते ही आरति कि चूचियाँ एक दम स्प्रिंग की तरह उछली और मचल कर ब्रा की कैद से बाहर आ गयी। आरती ने अपने भूरे रंग के निप्पलों को आज रूज़ लगा कर एक दम गुलाबी बनाया हुआ था और कमल ने बेसब्री से उन पिंक निप्पलों को अपने मुँह में ले लिया और लम्बे-लम्बे चुस्से मारने लगा। रूज़ लगे होने के कारण आरती के निप्पल एक दम चैरी की तरह मीठे थे। आरती की तो सितकारी ही निकली जा रही थी और कमल की तो ऐसी इच्छा हो रही थी कि आरति की चूत का जूस इन निप्पलों से निकले और वो पी जाये।
आरती उसके सिर को अपनी चूचियों पर दबाती हुई सितकारियाँ भर रही थी और बोल रही थी कि डार्लिंग! पी ले मेरे जिस्म का नशा। आज तो जी खोल के अपनी जवानी का नशा पिलाऊँगी तुझे। अरे मादरचोद चूस ले मेरे निप्पलों को! और आरति ने अपने हाथों से उसकी अंडरवियर उतार दी जिससे उसका लौड़ा आरती के पेट पर टक्कर मारने लगा।
आरती लंड को कस कर अपने हाथों से दबा रही थी और बोली, वाह मेरे बहन के लौड़े! अपनी दुल्हन से मिलने के लिये चिकना बन कर आया है। आज देखती हूँ कि किसकी माँ चुदती है, मेरी चूत की या तेरी। आरती ने कमल के बाल पकड़ कर अपनी चूचियों पर से उसका सर उठाया और बोलीं, डार्लिंग पहले एक मीठा सा चोदा लगा दे, मेरी चूत इस समय धड़क रही है, नहीं तो जल कर खाक हो जायगी। बाद में आराम से चूसाते हुए और चाटते हुए एक दूसरे को चोदेंगे।
कमल का भी बुरा हाल था। सुबह की चुदाई के बाद तो कमल भी तड़प रहा था आरती को चोदने के लिये। कमल ने उनको अपनी गोदी में उठा कर बिस्तर पर लिटा दिया और आरती की टाँगें फैला कर जी-स्ट्रिंग उतारी। वाह क्या नज़ारा था! आरती ने अपनी चूत के लिप्स भी रूज़ लगा कर गुलाबी करे हुए थे। कमल ने कहा, आरती थोड़ा सा और तड़प ले मेरी जान, अभी तो तेरी बूर के लिप्स मुझे इनवाइट कर रहे हैं चूसने
के लिये और बोलते हुए कमल ने अपने होंठ आरति की बूर के होंठों से चिपका कर जीभ चूत में घूसेड़ दी।
आरती बोलती रहीं कि, डार्लिंग मैं अपनी चूत का पहला पानी तेरे लंड पर झाड़ना चाहती हूँ। मादरचोद बाद में चाट लियो मेरी बूर। अभी तो अपने गन्ने से मेरी चूत को चोद दे। जालिम कितना और तड़पायेगा अपनी आरति को।
कमल ने देखा की आरती की चूत से उसका थोड़ा-थोड़ा मदन रस रिसना चालू हो गया था और अगर कमल ज्यादा उसकी चूत चूसता तो वो वहीं पर अपना सारा माल निकाल देतीं। कमल ने उसकी चूत पर से मुँह हटा लिया और आरती के ऊपर चढ़ कर उसकी मोटी-मोटी चूचियों पर अपने चूतड़ रखे और अपना लंड आरती के सामने लहराते हुए बोला, मेरी जान! जरा अपनी चूँची के निप्पल से मेरी गाँड मारो और मेरे लंड को अपने होंठों का प्यार दो। फिर देखो आज तुम्हारी चूत की क्या भजिया बनाता हूँ!
आरती ने झट से उसका लौड़ा अपने होंठों में ले लिया और दोनो हाथों से अपनी चूँची पकड़ कर कभी एक निप्पल तो कभी दूसरा निप्पल उसकी गाँड के छेद पर रगड़ने लगी और कमल धीरे-धीरे आरती का मुँह चोद रहा था और बोला, मेरी जान! आज तो लंड की पहली धार तुम्हारे मुँह में ही उतारूँगा। ज़रा तबियत से चूस। मेरी प्यारी जान, झड़ने के बाद तू लंड के खड़े होने की चिंता मत कर,आज तो जम के तेरे साथ सुहाग रात मनानी है। मैं तो आज पूरी रात चोदूँगा।
फिर धीरे से कमल ने अपने शॉट की स्पीड बढ़ा दी और हुमच-हुमच के आरती के मुँह में लंड पेलने लगा। एक शॉट में पूरा जड़ तक उनके गले तक उतार देता और उसी क्षण खींच के बाहर निकाल लेता और इस से पहले कि आरती सम्भलें, दोबारा लंड उनके गले तक उतार देता। आरती भी पीछे नहीं थी। वाकय में ऐसे चूस रही थी जैसे सदियों से लंड चूसने के लिये तरस रही हों। कमल पाँच मिनट तक उनके मुँह को ऐसे ही चोदता रहा और आखिर में अपना पूरा लंड उनके गले में फंसा कर बलबला कर झड़ गया। आरती के गले में पूर लंड फंसा होने के कारण उसकी पूरी धार सीधी उनके गले में उतर रही थी और वोह हरामजादी आरती भी बिना नुकुर-पुकुर किये उसका रस पी रही थीं।
पूरा रस निकलने के बाद जब कमल ने अपना लंड उनके मुँह से निकालना चाहा तो आरति ने उसके चूत्तड़ पकड़ कर अपने मुँह पर दबा लिये और उसके झड़े हुए लंड की दोबारा से चूसाई चालू कर दी। कमल तो इस नशीली चूसाई से पागल हो गया। झड़ कर दोबारा चुसवाने में जो मज़ा कमल को आ रहा था उसका वर्णन करना बड़ा मुश्किल है। साला उसका लंड भी मादरचोद हो गया था। पाँच मिनट की चूसाई में ही साला फिर से तैयार हो गया था। कमल ने कहा,
आरती आ जाओ, अब तुम्हारी चूत रानी बजाता हूँ!
वो थोड़ा सा लंड अपने मुँह से निकाल के बोली, थोड़ा सा और ठहर डार्लिंग,
अभी थोड़ा और चूस के लोहे की तरह बना दूँ,
फिर जम के मेरी चूत बजाना!
ये बोलकर उन्होंने उसका पूरा लंड मुँह के बाहर निकाला और सिर्फ़ उसके लंड के सुपाड़े को और मूतने वाले छेद को अपनी जीभ में लपेट-लपेट कर जो मज़ा देना चालू किया वो अभी तक का सबसे गुदगुदाने वाला मज़ा था। कमल मस्ती में आ के अपने चूत्तड़ों के नीचे दबी हुई उनकी मोटी-मोटी चूचियों को बड़ी बुरी तरह से मसलने लगा। करीब दो तीन मिनट ऐसे करने के बाद उसका लंड वाकय में दोबारा फटने की कगार पे आ गया था। आरती इसे भाँप चूकी थीं। इसी लिये उन्होंने जीभ फेरना बंद करा और बोली,
अब आजा डार्लिंग! अब मेरी चूत खोल दे इस लौड़े से!
कमल आरति के उपर से हट कर उनकी जाँघों के बीच आ गया और उन्होंने भी अपनी जाँघें पूरी खोल दीं थी और अपनी उंगली से अपनी चूत के लिप्स खोल दिये थे जिससे उनका रस में डूबा हुआ गुलाबी छेद दिख रहा था। आरती बोलीं, देख ले डार्लिंग! अपनी पूरी खोल के दे रही हूँ,
बाद में मत कहना कि आरती ने खोल के चुदवाई नहीं!
कमल ने आगे बढ़ कर अपने लंड का सुपाड़ा आरती की चूत के खुले हुए लिप्स के बीच में रख दिया और हाथ से पकड़ कर आराम से उनके गुलाबी छेद पर अपना सुपाड़ा रगड़ने लगा और आरती से पूछा कि आज तुम्हारी चूत हलाल करूँ कि झटका चोदूँ?
आरती बोलीं, हलाल तो बहुत हो चुकी डार्लिंग! आज तो झटका चुदाई कर दो और माँ चोद दो मेरी चूत की!
कमल ने घुटने के बल हो कर आरती की दोनों टाँगें अपने कँधे पर रख कर उन्हें फैला दिया और अपनी गाँड का पूरा जोर लगा कर एक करारा सा झटका मारा जिससे मेरा पूरा साढ़े आठ इंच लम्बा लौड़ा आरती की चूत में समा गया। आरती क्षण भर के लिये तो चीखीं और फिर बड़बड़ाने लगीं, मादरचोद! आखिर तूने मेरी चूत की माँ चोद ही डाली। अरे भोसड़ी वाले मैंने यह थोड़ी बोला था कि अपना पूरा गन्ना मेरी चूत में एक झटके से उतार देना। बहन के लौड़े! आज मुझे वाकय में लग रहा है के मेरी असली सुहाग रात तो आज है। इतना दर्द तो मुझे पहली सुहाग रात को भी नहीं हुआ था। डार्लिंग क्या लौड़ा दिया है! मेरी तो चूत आज वाकय में चूत बन गयी। डार्लिंग तूने आज मुझे धन्य कर दिया। मैं तो तेरी गुलाम हो गयी। मादरचोद! तू मेरा हसबैंड बन जा आज से। ले मेरी चूत चोद ले, जितनी चोदनी है!
कमल तो बस लगातार दनादन उनकी चूत में अपने लौड़े के धक्के दिये जा रहा था। जब भी उसका धक्का लगता तो उसकी जाँघें आरती के चूत्तड़ों और जाँघों से लग कर थप-थप की आवाज़ पैदा कर रही थीं। करीब आठ-दस मिनट के ज़ोरदार धक्कों के बाद आरती ने किलकारी मारते हुए उसके लंड पर अपना पानी फेंक दिया। कमल ने भी आरती की टाँगें अपने कँधों से उतार कर नीचे कर दीं और उन्हें चौड़ा कर के आरती के ऊपर लेट कर कसके उनको अपनी बाहों में भर लिया और अपने होंठ उन के रसीले होंठों पर एक बार फिर से जमा कर उनकी जीभ को चूसने लगा। बड़े आराम से कमल अपने चूत्तड़ उछाल-उछाल के आरती की चूत में अपना लौड़ा पेल रहा था। डार्लिंग आरती ने भी अपने दोनों हाथ कस कर उसके चूत्तड़ों पर दबाय हुए थे और जब कमल अपना लंड बाहर खींचता तब वोह अपने दोनों हाथों से उसके चूत्तड़ दबा देती जिससे कि जल्दी से फिर उसका लंड उनकी चूत में समा जाये।

आरती ने कमल को अपने ऊपर से उतरने के लिये कहा और उसके समने घुटने के बल एक कुत्तिया की तरह हो कर अपने चूत्तड़ उसकी तरफ कर दिये और बोली, ले बहन के लौड़े! अब तू कुत्ता बन। मैं अपनी चूत उभार के देती हूँ और तू उसमें अपना मस्त गन्ना उतार और फिर कस-कस कर मेरे चूत्तड़ों पर धक्के मारते हुए तबला बजा!
इतना कह कर आरती ने अपनी गाँड उपर की और उठा दी और चूचियों को बिस्तर पर टिका दिया और अपना पेट नीचे करके अपनी जाँघों के बीच में से मुस्कुराती हुई चूत खोल दी। आरती के चूत्तड़ चौड़े होने के कारण उनका मस्त भूरे रंग का गाँड का छेद दिख रहा था जिसको देख कर अन्दाज़ा हो रहा था कि आरती ने अभी तक गांड चुदाई का लुत्फ ज्यादा नहीं उठाया है। इस समय वो नज़ारा दिख रहा था कि कमल अपने आप को रोकने में नाकाम था। कमल ने आरती की रिस रही बूर में लंड थोड़ा सा घिसा और धक्का मार कर पूरा लंड उनकी चूत में झटके से उतार दिया। वाह क्या मज़ा आया! जैसे ही उसने अपनी जाँघों से आरती के फूली हुई चूत्तड़ों पर जम के धका दिया तो मक्खन की तरह उसका लंड आरती की उभरी हुई चूत में घुसा और उसके धक्के के दबाव से आरति के चूत्तड़ स्पंज की तरह दब कर फैल गये और फैल कर और चौड़े हो गये और बाद में स्पंज की ही तरह फिर से फूल कर अपनी शेप में आ गये जिससे कमल को आरती के चूत्तड़ों का धक्का महसूस हुआ। कमल को इस आसन में आरती की चूत लेने में बहुत मज़ा आ रहा था और कमल और जोश के साथ चूत बजाने लगा। जोश में आकर कमल ने अपनी एक उँगली अपने थूक से गीली की और इससे पहले कि आरती कुछ समझ पातीं, कमल ने अपनी उँगली आरती की गाँड में घुसा दी।
वो एक दम चिहुँक उठी और बड़-बड़ाई,
क्या कर रहा है मादरचोद! मेरी चूत तो अपने लंड से भर दी अब क्या मेरी गाँड अपनी उँगली से भरेगा क्या? आज बहुत दिन बाद किसी मर्द ने मेरी गाँड का छेद छेड़ा है। चल थोड़ा मेरी गाँड में अपनी उँगली चला दे!

वाकय में बहुत ही टाइट गाँड का छेद था। उँगली गीली होने के बावजूद बड़ी कसी-कसी उनकी गाँड में घुस रही थी। करीब आठ-दस मिनट तक कुत्ता चुदाई में आरती दो बार अपनी चूत का पानी निकाल चूकी थी और कमल के हर शॉट का जम कर जवाब अपने चूत्तड़ों के धक्के से दे रही थी और बड़-बड़ाते हुए कह रही थी की, मेरे जानू आज तो ज़िंदगी का असली मज़ा आ गया। बहन के लौड़े जब तेरा मूसल जैसा लंड पूरा मेरे अंदर घुस कर मेरी बच्चेदानी पर लगता है तो मैं तो बस गनगना जाती हूँ। बहनचोद! तू मेरा हसबैंड क्यों नहीं बना?
तुझसे तो इतना चुदवाती कि तू हमेशा मस्त रहता। मादरचोद तेरे से चुदवाकर मेरी चूत को पसीना आ जाता है। तेरी तो जिस से शादी होगी उसकी तो सुहाग रात वाले दिन माँ चुद जायेगी। ज़िन्दगी भर चुदना भूल जायेगी। चोद मेरे लंड, चोद, बहनचोद!
-  - 
Reply
08-27-2019, 01:45 PM,
RE: Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
आरती बड़बड़ाती रही और कमल ने अपने धक्के चलू रखे। कुछ देर बाद उसके लंड का पानी बहुत उबाल खा चुका था और आरती की मस्त चूत में अपनी मस्ती निकालने के लिये बेकरार था। कमल ने आरती को कहा कि रानी अब तुम सीधी हो, मैं तुम्हारी चूचियों पर पसर कर तुम्हारा मुँह चूसते हुए झड़ना चाहता हूँ!

आरती उसका लंड निकाल के बाद फोरन सीधी हो गयी और कमल ने भी बिना वक्त गवाये अपना लंड पूरा चूत में घुसेड़ कर उनके ऊपर लेट गया और आरती की दोनों चूचियाँ अपने हाथों में पकड़ कर अपने होंठ उनके रसीले होंठों पर रख कर और चूसते हुए दनादन उनकी चूत में शॉट लगाये और जब उसका लंड झड़ा, उस समय तो कमल ने इतनी जोर की शॉट मारा कि आरती ने भी दर्द के मारे अपनी गाँड एक फुट हवा में उछाल दी,
जैसे कह रही हो ले मादरचोद! भर मेरी चूत को! आरती ने उसका पूरा माल अपनी चूत में सोख लिया और कसके उसे अपने बदन से चिपका लिया और बुरी तरह उसका मुँह चूसने लगी। कमल को तो इस चुदाई में सुबह से ज्यादा मज़ा आया था और इतनी देर चोदने के बाद आरती के गुदाज़ बदन पर लेटना बहुत ही अच्छा लग रहा था। थोड़ी देर बाद कमल ने उनकी चूत से अपना लंड निकाला तो आरती टपाक से उठ बैठीं और उसका लंड चूसने लगी और अच्छी तरह से चूस कर पूरा लंड साफ कर दिया।
आरती ने आगे बढ़कर दो सिगरेट जलाईं और बोली, सुनील डार्लिंग! आज से तू सिर्फ मेरा हसबैंड है। तेरा चाचा तो बस नाम का मेरा हसबैंड है। मैं सिर्फ तेरी गुलाम बन कर रहुँगी। तूने मुझे जीवन का वो सुख दिया है जिसके लिये मैं पिछले इक्कीस साल से तरसी हूँ। बस मुझे दिन में एक बार जरूर चोद दिया कर। देख मेरी चूत अभी तक तेरे धक्कों से हिली हुई है। आज मुझे मालूम पड़ा असली मर्द क्या होता है। डार्लिंग देख तो सही मैं तेरे लंड को कैसे कैसे खुश करती हूँ!

कमल ने भी सोचा आरती इस समय चुदवा कर पूरी तरह मस्त है, क्यों ना अपने दिल की बात कह दूँ। के ने बड़े प्यार से आरती का चेहरा अपने हाथ से अपनी तरफ घुमाया और हिम्मत करके बोल डाला कि आरती देखो आज के बाद तुम हमेशा मेरी रहोगी। मैं हर रोज़ तुम्हारी चूत की ऐसी चुदाई करूँगा कि तुम्हें रात में चाचा से चुदवाने कि इच्छा ही नहीं होगी पर तुम मेरा एक काम करवा दो डार्लिंग! ज़िंदगी भर तुम्हारा गुलाम बन कर रहूँगा!
आरती बोलीं, बोल शरमाता क्यों है? अब तो मैं तेरी पत्नी हो गयी, अब तो तू दिल खोल के बोल जो भी बोलना है। अगर तू मेरी गाँड मारना चाहता है तो डार्लिंग मैं उसके लिये भी तैयार हूँ। अपने इस प्यारे लवर को नहीं दूँगी तो और किस को दूँगी। अगर कुँवारी चूत ना दे सकी तो क्या,
अपनी गाँड तो दे ही सकती हूँ!
कमल ने कहा, नहीं आरती बात असल में ये है कि कल मैं तुम्हारी चुदाई देखने के बाद अँजाने में ही सोनल दीदी के कमरे में चला गया था और वहाँ पर उनके बदन को मैंने खूब चूसा और चाटा था और बाद में उनकी गाँड खूब सूँघी और चाटी थी। मीना! जो उनकी ताज़ी चूत की खुशबू आ रही थी वो मैं बता नहीं सकता। मैं सोनल दीदी के साथ फिर से चुदाई करना चाहता हूँ!
आरती थोड़ी सी संजिदा हो गयी और बोली, कमल तू क्या कह रहा है? अगर सोनल को मालूम चल गया तो वो हमारी चुदाई भी बन्ध कर देगा, मैं नही कर सकती तू खुद try कर ले लेकिन देख लेना कि मामला बिगड़ा तो मैं तुम्हारी मदद नही कर पाओगी।
कमल ने कहा, चाची तुम ही ने तो कहा था कि अगर तुम्हें मालूम होता कि तुम्हारी शादी ऐसे गाँडू से होगी तो तुम शादी से पहले जम कर चुदवाती। क्या मालूम सोनल दीदी को भी तुम्हारी तरह इस आग में ना जलना पड़े। घर की बात है, घर में ही रहेगी और अगर सोनल दीदी से मेरे शारिरिक संबंध फिर से बन जाते है तो हम तीनों दिन भर चुदाई का मज़ा उठा सकते है। घर की बात घर में ही रहेगी और किसी को मालूम भी नहीं पड़ेगा। चाचा तो सुबह आफिस चले जाते हैं और रात को नौ-दस बजे आते हैं और एक बार सोनल दीदी ने मुझ से फिर से चुदवा लिया तो वो भी ठंडी रहेगी क्योंकि उनकी चूत में भी कीड़े रेंगने तो चालू हो ही गये है, तो क्या पता किससे जा कर चुदवा ले!

आरती कमल के होंठों को प्यार से चूमते हुए बोली, कमल तूने बात तो बहुत सही कही है और मैं नहीं चाहती कि सोनल भी मेरी तरह इसी आग में जले। चल तू चिंता मत कर उसे वापस आने दे। मैं मौका देख कर उसे तैयार कर लुँगी!
बातें करते और सिगरेट पीते हुए काफी देर हो चुकी थी और इस दौरान आरती बारबार अपने हाथ से कमल का लंड रगड़ते हुए अपनी चूचियाँ उसके ऊपर घिस रही थीं और सोनल की चूत मिलने की खबर से कमल का लंड फिर से तन कर मैदान में आ गया था। आरती ने तो सोचा भी नहीं था कि इतनी जल्दी उसका लंड फिर से तैयार हो जायेगा। इस बार आरती ने कहा कि वो अपने तरीके से उसे चोदेंगी, और आराम से एक सिगरेट जला कर उसे नीचे लिटा कर अपनी दोनो टाँगें चौड़ी कर के उसके लंड के उपर खड़ी हो गयीं और धीरे-धीरे अपने घुटनों के बल बैठने लगीं। जब उसकी चूत कमल के लंड तक पहुँची तब उन्होंने एक हाथ बड़ा कर उसका लंड पकड़ा और चूत के मुँहाने पर घिसने लगी, और थोड़ी देर घिसने के बाद गपाक से अपनी जाँघें चौड़ी कर के उसके लंड पर बैठ गयीं और उछल-उछल कर कमल को चोदने लगीं। कमल को तो इस आसन में बहुत मज़ा आ रहा था। कमल ने लेटे हुए अपने हाथ आगे बढ़ा कर उनके फूले हुए मस्त गुबारे जो मदमस्त हो कर झूल रहे थे, पकड़ कर मसलने चलू कर दिये। आरती ने उसे करीब आधा घँटा तक इस आसन में चोदा और खूब अपनी चूत का पानी निकाला।
उन दोनों ने उस रात दो बार और संभोग करा और पस्त हो कर एक दूसरे की बाहों में सो गये। 15 दिन तक, जब तक सोनल वापस नहीं आयी वो लोग दिन भर नंगे पड़े रहते थे और एक दूसरे को जी भर के भोगते थे। वे ब्लू फ़िल्म भी देखते और उसमें देख-देख कर उनकी नकल करते हुए एक दूसरे को चोदते थे।

इधर सोनल रश्मि के पास आकर बहुत खुश थी, दोनो का प्यार दिन ब दिन बढ़ता जा रहा था, जब भी मौका मिलता दोनो एक हो जाती,
दोनो शारीरिक से ज्यादा मानसिक रूप से जूड चुकी थी, अगर मुमकिन होता तो दोनो अब तक शादी कर चुकी होती, लेकिन पॉसिबल नही था तो दोनो ने ऐसे ही मिलकर जिन्गदी गुजारने का फैसला किया, आज सोनल को वापिश लौटना था घर तो उन्होंने सारी रात मौज मस्ती की थी, उनके रिस्ते से विशाल को भी आपत्ति नही थी,उसकी नजर में ये ननद भाभी का प्यार था, विशाल खुश था कि उसकी पत्नी को सोनल जैसी सहेली मिल गयी,
विशाल सुबह का अखबार पढ़ रहे थे, सामने मेज़ पर गर्म चाय की प्याली रखी हुई थी, व चाय की चुस्की के साथ-साथ अखबार भी पढ़ रहे थे । तभी उनके कानों में आवाज आई-
“सर, आपका फोन !”
उन्होंने अखबार से नजर उठाई, सामने सफेद शर्ट, काली पैन्ट में उनका नौकर खड़ा था ।
“किसका फोन है सोहन?”
“सर, सक्सेना सर का फोन है ।”
“इस वक्त? इतनी सुबह?… हैलो, हां सक्सेना ! बोलो, इतनी सुबह-सुबह? क्या हो गया भई ?”
विशाल बात करते हुए-
“अच्छा अच्छा ! हम्म ! यह कब की बात है? … फिर तुमने क्या किया? … चलो अभी कुछ भी करने की जरुरत नहीं है, मैं आता हूं थोड़ी देर में और जब तक मैं न पहुंचु, तुम लोग कुछ मत करना ! समझे न?” यह कह कर विशाल ने फोन रख दिया और वहीं मेज़ पर अखबार रखते हुए उठ खड़ा हुआ और सोहन से पूछा-
“मेमसाब कहां हैं?”
सोहन ने जवाब दिया-
“सर, व मार्निंग-वॉक के लिए गई हैं ।”
विशाल ने कहा-
“ठीक है, व आ जाएं तो उन्हें बता देना कि मैं किसी जरूरी काम से जा रहा हूं, लौटने में थोड़ी देर हो जाएगी। वो सोनल को बस में बैठा आये। यह कह कर विकाश अपने कमरे की ओर चले गए और तैयार होने लगे ।
सोहन ने पूछा-
“साहब, नाश्ता लगाऊं?”
विकाश ने जवाब दिया-
“नहीं, मैं बाहर ही कर लूंगा, तुम गाड़ी निकलवाओ ।”
रश्मी घर लौटती है-
“सोहन ! सोहन ! विकास कहां हैं?”
सोहन तेज कदमों के साथ आता है और अदब के साथ खड़ा होकर जवाब देता है-
“मैडम, साहब के पास सक्सेना साहब का जरूरी फोन आया था तो वो ऑफिस चले गए हैं ।”
“साहब ने कुछ खाया या नहीं?” रश्मी ने पुछा ।
“नहीं मैडम, साहब ने कहा कि व बाहर ही खा लेंगे ।”
“अच्छा, ऐसी भी क्या एमरजेंसी थी उन्हें? … साहब से बात करवाना मेरी !”
“जी मैडम, अभी फ़ोन लगाता हूं ।” कह कर सोहन ने फोन लगाकर मैडम को दिया ।
“संजीव, तुम कहां हो यार? इतनी सुबह ऑफिस में क्या कर रहे हो?”
अचानक रश्मी चिन्तित दिखने लगी और कहा-
“ठीक है, लेकिन ज्यादा परेशान मत होना तुम ।”
रश्मी अपने कमरे में चली गई । अपने कमरे में पहुंचकर उसने सोहन को आवाज लगाई। सोहन अब अंजलि के कमरे में था । अंजलि ने कहा-
“सोनल को बोलो कि अपनी तैयारी कर ले मैं उसे बस स्टैंड छोड़ आऊँगी , मैं आती हूं अभी कपड़े बदल कर !”
सोहन दूसरे कमरे में जाकर सोनल को ये बता दिया जो कमरे में अपने बेग पैक कर रहि थी । सोहन की बातें सुनकर सोनल तुरंत सारा सामान लेकर बगल के कमरे मेँ पहुंच गई । थोड़ी देर में वहां रश्मी भी पहुंच गई,
उसने गाउन पहन रखा था।
रश्मी--सोनल, क्या जाने से पहले अपनी भाभी को प्यार करके नही जाएगी
सोनल--भाभी मैं तो जाऊ ही ना, हर समय आपसे प्यार करती रहू।
रश्मी--हाय मेरी जान तेरी इसी अदा पर तो मैं मर मिटी। आ जा आज जाते जाते मेरी अच्छी सी मालिश कर जा, बहुत बदन टूट रहा है, फिर पता नही तेरे हाथो का जादू मीले मेरे शरिर को।
सोनल-- भाभी, भैया आ गए तो।
रश्मी---अरे तेरे भैया तो गए बाहर सुबह ही, अब तो मैं और तुम बस, आजा जल्दी कर फिर तुझे जाना भी है, उससे पहले मजे लेले ।
रश्मी ने देर न करते हुए सोनल को अपनी बाहों में खींच लिया और उसके होंठो पर कस कर एक चुम्बन ले लिया।
रश्मी ने अपने गाउन की नॉट को खोल दिया । उसने सिर्फ काले रंग की पैंटी पहन रखी थी । बहुत ही सेक्सी बदन था रश्मी का । बडी-बडी चुचियां, पतली कमर और चौडी उभरी चुतड, बदन थोडी सी गदराई हुई थी। रश्मी ने अपनी शरीर को सुडौल रखा था । रश्मी रोज पुरुषोँ के तरह जिम में कसरत करती थी । जिसकी वजह से रश्मी की जांघ और वाकी अंगोँ के मॅसल्स बढने लगे थे । इसलीए रोज सुबह को जिम के बाद अपनी पुरी बदन की मालिस करवाती थी ।
फिर रश्मी ने सिर्फ पैँटी मेँ ही वहां से मेज़ की ओर बढ़ गई और बोली-
“सोनल, पूरा बदन टूट रहा है ! आज जरा बढ़िया मालिश करना मेरी !” रश्मी का कातिलाना जिस्म
“जी भाभी… इससे पहले कभी शिकायत का मौका दिया है कभी आपको? आप बिल्कुल बेफिक्र रहें ! एन्ड जस्ट रिलेक्स ।” सोनल हंसती हुई बोली ।
रश्मी पेट के बल लेट गई..बगल से उसकी चूची साफ झलक रही थी और गोरे जिस्म पर उसकी काली पैंटी बहुत सेक्सी लग रही थी। गांड काफी चौडी और उभरी हुई थी । सोनल ने अपने हथेली में थोडा ऑलिव-आयल लिया और हल्के-हल्के कंधों की मालिश करने लगी । मालिश करते करते रश्मी की पीठ पर पहुंच गयी और बडे प्यार से पूरी पीठ की मालिश करने लगी । मालिश करते करते उसकी उंगलियां बगल से रश्मी की चूचियों को स्पर्श करने लगी । जैसे ही बगल से सोनल ने चूचियों को छुआ, मस्ती से रश्मी की आंखें बंद होने लगी । सोनल समझ गयी थी कि रश्मी अब मस्त हो रही हैं ! व धीरे-धीरे नीचे की ओर बढ़ने लगी ।
अब वह रश्मी की कमर की मालिश कर रही थी, कभी कभी उसके हाथ रश्मी की पैंटी की इलास्टिक को भी छू जाते थे । सोनल ने धीरे से मालिश करते करते रश्मी की पैंटी को थोड़ा नीचे सरका दिया । अब उसकी आंखों के सामने रश्मी की गांड की दरार साफ दिखाई दे रही थी व गांड की दरारों पर खूब अच्छी तरह से तेल की मालिश करने लगी । सोनल धीरे-धीरे मालीश करते करते रश्मी की गांड की छेद को भी मलने लगी । रश्मी अब सांसें तेजी से लेने लगी थी।
सोनल ने आगे बढ़कर पूछा-
“भाभी, आपकी पैंटी खराब हो जाएगी, इसमें तेल लग जाएगा, आप कहें तो उतार दूं पैंटी को?”
रश्मी पूरी मस्ती में थी और उसने सिसियाते स्वर में कहा-
“हां, उतार दे !”
सोनल ने धीरे से रश्मी की काली पैंटी बड़े प्यार से गांड से अलग कर दी । अब रश्मी पूरी तरह से नंगी लेटी हुई थी । सोनल की चुत मेँ भी खुजली होने लगी । सोनल के हाथ फिर से चलने लगे, वह अब अपने अंगूठे को रश्मी की गांड के छेद को मसलने लगी । रश्मी एकदम मस्ती में आ गई और पलट गई । अब उसकी बड़ी-बड़ी चूचियां सोनल की आंखों के सामने थी । रश्मी ने अपनी टांगें भी खोल दी थी और उसका मोटा तगडा लंड टांगो के बीच लहरा रहा था । रश्मी की नारी शरीर पर हल्के रेशमी झांटोँ से भरी लंड और बडे बडे अंडकोष किसी अजुबे से कम नहीँ लग रहा था । खैर, सोनल पर अब इसका कोई असर नहीँ था । तभी सोनल की नजर रश्मी के तन रहे लंड पर पड़ी । सोनल ने अपनी एक हाथ से रश्मी के लंड को पकड़ लिया और उसे सहलाने लगी । रसमी को भी काफ़ी मजा आ रहा था ।
“सोनल, इसे उतार दे ! मेरी मालिश के लिए इसका भी इस्तेमाल कर ना ! कितना तगड़ा हो चुका है मेरी लंड । तेरी चुत के दर्शन तो करा इसे ।” रश्मी ने सोनल की चुत को स्कर्ट के उपर से मसलती हुई बोली ।
सोनल ने बिना किसी देरी के अपनी स्कर्ट को अपने से अलग कर दिया । अब उसका गदराया मस्त बदन रश्मी के सामने था । रश्मी उसकी मस्त चुचियां और चुत को अपने हाथों में लेकर सहलाने लगी ।
रश्मी थोड़ी देर यूं हीं सोनल की बदन को मसलती हुई मजा लेती रही, और उठ कर सोनल को टेबल पर लिटा दिया । फिर वहीं पास के मेज़ पर रखी शहद की शीशी को लेकर सोनल की चूत के पास पहुंच गयी । उसने बहुत सारा शहद सोनल की चूत पर टपका दिया । रश्मि ने अपने हाथोँ से सोनल की चुत के झांटें साफ कर रखी थी, ताकि चुत चाटने मेँ मस्ती आ जाए । शहद सीधे चूत की दरार में जाता दिखने लगा । रश्मी वहीं अपनी लंड को मुठ्ठी मेँ सहलाती हुई पैरों पर झुक गयी और अपनी जीभ से सोनल की चुत के दरार को चाटने लगी । रश्मि को सोनल की चूत का स्वाद काफी अच्छा लग रहा था और सोनल भी पूरी मस्ती में आ चुकी थी । रश्मि अपनी जीभ चुत के छेद मेँ घुसाने का प्रयास कर रही थी और साथ ही अपनी मूषल लंड को मुठिया रही थी ।
“चाटो चाटो भाभी ! ऐसे ही चाटो ! बड़ा मजा आ रहा है … वाह, क्या चाटती है आप ! हां हां ! ऐसे ही ! ऐसे ही! और अन्दर तक ! बहुत अच्छा लग रहा है ।” सोनल मस्ती मे बडबडा रही थी ।
रश्मि चुत चाटती ही जा रही थी । अचानक सोनल कांपने लगी, उसका बदन झटके खाने लगा और उसने हाथ बढ़ाकर अपनी भाभी के सर को पकड़ लिया और जोर से अपनी चूत पर दबाने लगी ।
“भाभी, ऐसे ही चाटो ! मैं झड़ रही हूं ! हां हां ! चाटती रहो ! रुकना मत ! हां हां ! बड़ा अच्छा लग रहा है !” सोनल उत्तेजना मेँ कराहने लगी और फिर व पूरी तरह से झड़ चुकी थी ।
रष्मि सारे चुत रस को चाट गई । कुछ देर पडे रहने के बाद सोनल ने अपनी आंखें खोल कर अपनी रश्मि भाभी की तरफ देखा । रश्मी का 8 इंच का लंड लोहे की तरह खड़ा था, सोनल ने उसे बड़े प्यार से अपने हाथ में थाम लिया और हिलाने लगी । सोनल की आंखों में मस्ती साफ दिखने लगी थी ।
“भाभी, बड़ा प्यारा लंड है आपका ।” सोनल लंड के सुपाडी को बाहर निकालते हुए बोली । यह कह कर सोनल ने रश्मि को अपनी ओर खींच लिया और अपने मुंह के करीब ले गई । उसने जबान निकालकर रश्मि के लंड को चाटना शुरु कर दिया । फिर धीरे से पूरा लंड अपने मुंह में ले लिया और उसे चुसने लगी । रश्मी अपनी उभरी गांड हिलाए जा रही थी और सोनल के मुंह में अपना लंड पेले जा रही थी ।
“भाभी, आप बहुत अच्छी हैं ! कितना ख्याल रखती हैं मेरा, पता नही कैसे मन लगेगा आपके बिना ” सोनल लंड को मुंह से बाहर निकाल कर रश्मी की और देखते हुए बोली ।
“अरे पगली ! मैं तुम्हारा ख्याल नहीं रखूंगी तो कौन रखेगा? बता ! तेरे बिना तो मेरा मन भी नही लगता,तेरे भइया के साथ भी मुझे वो आनंद नही मिलता जो तेरे साथ मिलता है, देख, मेरा लंड कितना गरम हो चला है ? कितनी झटके ले रहा है यह !” अपने लंड को सोनल के होँठोँ पर रगडते हुए रश्मी बोली ।
“जी भाभी, मैं अभी आपकी लंड से गरमी निकालती हूं । पर भाभी जरा प्यार से ! आपका लंड काफी बड़ा और मोटा हो गया है ।” सोनल अपनी चुत को चोडी कर लेटते हुए बोली ।
“तु चिन्ता मत कर सोनल ! मैँ ज्यादा जोर नहीँ लगाउंगी ।” सोनल की चिकनी पतली जांघोँ को फैलाते हुए रश्मी बोली ।
रश्मी सोनल की चूत के पास जाकर अपना लंड उस पर घिसने लगी । पानी से उसकी चूत एकदम लथपथ थी । फिर रश्मी अपने लंड को अपने हाथ में लेकर चूत के छेद पर भिड़ा कर अन्दर डालने लगी और अन्दर-बाहर करने लगी । सोनल की चुत के कसाव से रश्मी एकदम से मस्ती में आ गई ।
अब रश्मी ने अपना पूरा लंड बाहर निकाला और उसकी चूत के पास झुककर उसे चाटने लगी । कुछ देर तक चाटने के बाद रश्मी उठी और अपना लंड सोनल की चूत में फ़िर से पेल दी । इस बार रश्मी का पूरा का पूरा लंड सोनल की चूत के अन्दर जा चुका था, अब रश्मी अपने लंड को अन्दर-बाहर करते हुए सोनल को चोदने लगी ।
-  - 
Reply
08-27-2019, 01:45 PM,
RE: Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
“भाभी, क्यो तड़पा रही हैं ! जम कर चुदाई करो न ! और जोर से पेलो ! हां हां ! ऐसे ही … वाह क्या लंड पाई है भाभी आप ने ! इतना बड़ा ! बड़ा मजा आ रहा है ! करो करो ! और जोर से करो न ।” सोनल निचे से गांड उछालते हुए बडबडाने लगी ।
रश्मी भी अब पूरी रफ़्तार से लंड पेले जा रही थी । सोनल निचे से रश्मि की चुचियोँ को मुंह मेँ भर कर चुसने लगी और दोनोँ हाथोँ से भाभी की भारी चुतड को अपनी चुत पर दबाने लगी । इससे रश्मी की मुंह से सिसकारीयां निकलने लगी और व जोर से चिल्लाए जा रही थी । तभी अचानक सोनल का बदन काम्पने लगा और व झड़ गई ।
रश्मि वैसे ही अपना लंड चुत मेँ पेलती रही, चोदती रही … फ़िर उसने अपना लंड सोनल की चुत से बाहर निकाल लिया । रश्मी का लंड अब भी वैसे ही तन कर खड़ा था । पुरे 8 इंच का तगडा लंड था रश्मी का, सोनल की चुत रस से लपलपा गया था ।
“सोनल, चल अपना गांड इधर कर, बहुत मस्त गांड है तेरी ! चाट खा जाने को मन करता है ।” रष्मि सोनल की उभरी हुई मस्त चुतडोँ को सहलाते हुए बोली ।
“मैँने कभी मना किया है आपको भाभी? पर पहले तेल लगा लेना अच्छी तरीके से और धीरे धीरे घुसाना ! आपका बहुत बड़ा मूसल जैसे लंड है ।”
“तु बस देखती जा !” कह कर रश्मी ने सोनल को बांई और लेट जाने को कहा और व भी उसिके पिछे उसी पोजिसन पे लेट कर अपने लंड को सोनल की गांड के दरार मेँ रगडने लगी । तभी रश्मि ने अपने दांए हाथ के एक उंगली को सोनल के मुंह मेँ घुसा दिया, सोनल ने उंगली को चाट चाट कर गिला कर दिया । अब रश्मि ने गिली उंगली को मुंह से सिधे सोनल की गांड के छेद मेँ अंदर पेल कर घुमाने लगी।
फिर रश्मी अपनी दोनों उंगली एक साथ उसकी गांड में अंदर-बाहर करने लगी । थोड़ी देर तक अंदर-बाहर करने के बाद रश्मी ने उसी अवस्था में पर्स से एक कंडोम निकाल कर अपने लंड पे चढा लिया और थोडा ऑलिव-ऑयल लंड पर डाल दिया । फिर रश्मि अपने लंड को उसकी गांड के छेद पर टिका दिया और सोनल के होँठ को एक बार फिर चुमते हुए हल्के से धक्का दिया । रश्मी के लंड का सुपाडा सोनल की गांड में अंदर चला गया । सोनल ने अपने होंठ भींच लिये, उसे थोड़ा दर्द हो रहा था । रश्मी ने फिर से एक हल्का सा धक्का दिया तो उसका पुरा लंड अब सोनल की गांड मेँ चला गया । रश्मि वैसे ही अपने लंड को सोनल की गांड में घुसाए रखा । और धिरे से लंड को पुरा बाहर निकाल कर फिर से जड तक पेल दिया । अब रश्मि कोई दस-ग्यारह बार इस प्रकार लंड को अंदर-बाहर करने लगी । फिर उसने हाथ बढ़ाकर सोनल की चूचियों को मसलना शुरु कर दिया । थोड़ी देर तक यही सब चलता रहा, फिर रश्मी ने अपने लंड को हौले-हौले अन्दर-बाहर करने लगी । अब रश्मी ने सोनल की गाण्ड मारनी शुरु की और धीरे धीरे रफ़्तार पकड़ती चली गयी । अब सोनल भी मजा लेने लगी थी, उसकी गांड की कसावट से रश्मि को भी मजा आने लगा था। रश्मी अब अपनी पूरी रफ़्तार में आ चुकि थी और वो सोनल की गांड जोरदार तरीके से चोद रही थी । थोड़ी देर तक चुदाई करने के बाद रश्मी का शरीऱ अकड़ने लगा और वो सोनल के गांड में तेज धक्के लगाती हुई झड़ गई । सोनल ने अब अपनी आंखें खोली और देखा कि रश्मी बुरी तरह से हांफ रही है । रश्मि ने अपना लंड उसकी गांड से बाहर निकाला । कंडोम में रश्मि के लंड से निकले ढेर सारे सफेद वीर्य दिख रहे थे । फिर रश्मि और सोनल एक-दुसरे को बाहोँ मेँ भर कर चुमती रहीँ । थोड़ी देर वैसे ही चुम्मा-चाटी के बाद सोनल ने रश्मि के लंड से कंडोम निकाल दिया और अपने जीभ से उसकी लंड को अच्छी तरह से चाट कर साफ किया । फिर रश्मि ने भी एक भिगे हुए तौलिए से सोनल की गांड की सफाई की । रश्मि अब उठने लगी और वहीं पड़े गाउन को पहन लिया फिर पास खड़ी सोनल के सर पर हाथ फेरते हुए वहां से अपने कमरे की ओर चली गई । सोनल सीधे बाथरूम में घुस गई और भीतर से अपने आपको अच्छी तरह साफ करके कपड़े पहनकर बाहर आ गयी थी । रश्मि जब बाहर निकली तो उसके चेहरे पर एक अजीब सी चमक थी,
लेकिन मन उदास था क्योंकि अब उसे सोनल को बस स्टैंड छोड़कर आना था, रश्मी और सोनल ने एक दूसरे को उदासी भरी नजरों से देखा और एक दूसरे से लिपट गयी, रश्मी ने सोनल को किसी तरह अपने से दूर किया और उसका एक बैग उठा कर गाड़ी की तरफ चल पड़ी, सोनल ने भी दूसरा बेग उठाया और रश्मी के पीछे पीछे गाड़ी तक आ गयी और पीछे बेग रख कर आगे रश्मि के पास बैठ गयी।
भारी मन से रश्मी ने सोनल को बस स्टंड ड्राप किया और घर वापिश आ गयी।

सोनल के वापस आने के एक दिन पहले आरती को अपने भाई के घर जाना पड़ा।
जाने से पहले कमल को समझा के गयीं कि देख कल सुबह सोनल आ जायेगी और मैं परसों से पहले नहीं आ पाऊँगी। अपने मस्ताने पर काबू रखना और यह मत सोचना कि मैंने सोनल को चोदने कि इजाज़त दे दी है तो तू उसे अकेले में पा कर चोद लेगा। मैं बड़े तरीके से उसे समझा कर तेरे साथ चुदवाऊँगी। डार्लिंग मज़ा चुदाई में तब आता है जब मर्द और औरत मिल के संभोग करें!
इतना समझा कर आरती चली गयीं। अगले दिन सुबह ही सोनल को आना था। कमल ड्राइवर के साथ कार में उसे कॉलेज से चार बजे जाकर ले आया। अबकी बार सोनल को देखने का कमल का नज़रिया ही कुछ और था। कमल रास्ते भर उसे अपनी आँखों से नंगा करता रहा, और सोनल उसे भाव नही दे रही थी। उसे क्या मालूम था कि उसकी मम्मी और कमल में फिर से क्या संबंध बन चूके थे जिस के कारण कमल को उसके बदन की नशीली शराब पीने को मिलने वाली थी।
घर आ कर सोनल बोली, कमल मैं तो नहा धो कर एक कोक पीयूँगी और सोऊँगी। मैं इतने नहा कर आती हूँ, तुम मेरे लिये एक गिलास में कोक और बर्फ निकाल दो!
कमल ने कहा, कोई बात नहीं सोनल आराम से नहा लो!

कमल के दिमाग में तो सिर्फ़ सोनल को चोदने का नज़ारा घूम रहा था। एका एक उसे एक आइडिया सुझा जो उसने एक किताब में पढ़ा था। सोचा क्यों ना ट्राई मार के देखे।
यही सोच के कमल चुप-चाप आरती के कमरे में गया और नींद की चार-पाँच टेबलेट ला कर सोनल की कोक में मिला दी। कमल को आरती ने कल ही बताया था कि जब कईं बार वो रात को चुदाई के लिये बहुत परेशान हो जाती थीं और सो नहीं पाती थीं तो वो नींद की गोली लेकर सो जाती थीं।
इतने में सोनल भी नहा-धो कर बाहर आ गयी थी। कमल को आज तक पता नहीं चल पाया है कि लड़कियाँ और औरतें,
बहन की लौड़ियाँ इतने सैक्सी कपड़े क्यों पहनती हैं कि जिससे मर्द बे-काबू हो जाये। क्या हर औरत मन ही मन यह चाहती है कि कोई उसे चोदे?
सोनल ने भी ऐसी नाइटी पहनी हुई थी जो फ़्रंट ओपेन थी और जिस से सिर्फ उसके चूत्तड़ और आधी जाँघें छिप रही थी और स्लीवलेस होने के कारण उसकी साफ चिकनी बगलें दिख रही थीं।
नाइटी का कपड़ा इतना मोटा नहीं था,
जिसके कारण उसकी छाती पर उठ रही नोकों से मालूम पड़ रहा था कि उसने अंदर ब्रा नहीं पहनी, और जब वोह चौंकड़ी मार कर कमल के सामने पलंग पर बैठी तो उसका तो बुरा हाल हो गया। उसकी चिकनी जाँघें और पैंटी में कसे हुए उसके चूत्तड़ और चूत की मछलियों को देख कर उसका लंड तन गया। कमल ने बड़ी मुश्किल से अपने ऊपर चद्दर डाल कर खुद को शरमिन्दा होने से बचाया। कोक पीते समय सोनल ने बताया कि अबकी बार उसे चाचा के घर में बहुत मज़ा आया और उसने अपनी भाभी के साथ खूब मस्ती करी।
थोड़ी देर में वो बोली, कमल मुझे बहुत जोर से नींद आ रही है, मैं तो अपने कमरे में सोने जा रही हूँ!

कमल ने करीब आधा घंटा वेट करा और अपने कमरे में बिस्तर पर लेट कर अपने लंड को आरती के हाई हील के सैंडल से सहलाता रहा। उसके बाद कमल उठा और सोनल के कमरे कि तरफ गया। सोनल ए.सी. चला के आराम से दरवाज़ा बंद करके सो रही थी। कमल ने चुप-चाप दरवाज़ा खोला और कमरे में घुस गया। सोनल बड़े आराम से बिस्तर पे पीठ के बल सो रही थी और उसकी नाइटी जो पहले से ही छोटी थी, और उठ कर उसकी नाभी तक चढ़ गयी थी, जिससे कमर के नीचे का सब कुछ दिख रहा था। उसकी पैंटी में छुपी हुई चूत के उभार साफ-साफ दिखाई दे रहे थे। उसका मादरचोद लंड साला हरामी ये देख कर ही खड़ा हो गया।
कमल सोनल के पास जा कर उसके कँधे पकड़ कर थोड़ा जोर से हिलाया और बोला,
सोनल देखो आपकी सहेली का फोन आया है!
सोनल को कुछ फरक नहीं पड़ा। वो तो बस बे-खबर हो कर सोती रही। कमल ने फिर भी अपने को पक्का करने के लिये फिर से उसे जोर से आवाज़ दी और हिलाया पर उसको नींद की गोली के कारण कोई असर नहीं हुआ। कमल ने सबसे पहले अपने कपड़े उतारे और पूरा नंगा हो कर सोनल की नाइटी के आगे के बटन खोलने लगा और एक-एक करके सारे बटन खोल दिये। उस समय उसके हाथ काँप रहे थे क्योंकि आज कमल इतनी हिम्मत करके सोनल का सावला बदन फिर से देखने जा रहा था जिसकी पैंटी और ब्रा सूंघ-सूंघ कर खूब याद करके मुठ मारा करता था। सोनल एक दम मस्त बदन की मालकिन थी और आज से पहले कमल बहुत तड़पा था उसका नंगा बदन देखने के लिये।
नाइटी के सारे बटन खुलते ही उसके मस्त खिलौने नंगे हो गये और कमल ने देखा कि सोनल के निप्पल पिंक नहीं बल्कि भूरे से थे। सोनल अब सिर्फ उसके सामने एक पैंटी में लेट कर बे-खबर सो रही थी। कमल ने झुक के अपने होंठ खोल के सोनल के भूरे निप्पल अपने होंठों में दबा लिये और उसकी जवान, मस्त बत्तीस साईज़ की चूँची अपने हाथ में भर ली। आरती की बड़ी-बड़ी गदरायी हुई चूचियों को दबाने के बाद जब उसने सोनल की चूचियाँ दबाईं,
तब मालूम पड़ा कि साली लौंडिया कि चूँची क्या चीज़ होती है। ऐसा लग रहा था जैसे किसी सख्त अनार को पकड़ लिया हो। दूसरा हाथ कमल ने सोनल की पैंटी में डाल दिया और उसकी चुत को अपने हाथों से फील करने लगा। सोनल की चूत पर मेरा हाथ टच होते ही मैं तो ऐसा गनगनाया कि उसने सोनल के मस्त अनार छोड़ कर दोनों हाथों से उसकी पैंटी उतारने लगा।
क्या साली सावली चूत थी उसकी आँखों के सामने। कमल की
इच्छा तो यह करी कि उसकी टाँगें खोल के अपना लौड़ा सरका दे उसकी कसी चूत में,
पर आरती की इन्सट्रक्शन याद आ गयी। सोनल की चूत ज्यादा चुदी न होने के कारण उसकी चुत के लिप्स अभी तक ज्यादा खुले नहीं थे, बल्कि बड़े कायदे से एक लाईन में थे और उसने भी आरती की तरह अपनी चूत से झाँटें साफ कर रखी थीं। कमल का तो लौड़ा बुरी तरह से अकड़ गया था। कमल भी बिना समय गँवाये मौके का पूरा लाभ उठाना चाहता था और कमल पूरा नंगा सोनल के ऊपर चढ़ गया। उसका लंड एकदम सोनल की चिकनी मखमली चूत पर लग गया था। कमल ने मारे मस्ती के सोनल के पूरे नंगे बदन को अपनी बाहों में कस कर भर लिया और उसके नरम रस भरे होंठों पर अपने होंठ रख दिये और तबियत से उन्हें चूसने लगा। सोनल की चूचियाँ इतनी सख्त थीं कि उसकी छाती में उसके निप्पल चुभ रहे थे और वो कसे हुए अनार जो उसके सीने से लग कर थोड़े से दब गये थे, बहुत ही प्यारा सुख दे रहे थे। कमल का बदन तो मारे मस्ती के काँप रहा था, और कमल ने अपने आप को थोड़ा सम्भालने के लिये एक सिगरेट जलाई और उसके ऊपर अपना लंड घिसने लगा।
-  - 
Reply
08-27-2019, 01:45 PM,
RE: Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
शुरू में तो उसकी यह हालत थी कि बस अभी रस निकला, पर बड़ा कँट्रोल करने के बाद कमल अब बड़े आराम से उसकी चिकनी मखमली चूत पर अपना लंड घिस रहा था। उसे इतना मज़ा आ रहा था कि कलपना करना भी मुशकिल है। सिगरेट खतम होने के बाद कमल ने अपने मुँह में उसकी चूँची भर ली और जोर-जोर से चूसना चालू कर दिया। चूचियों का टेस्ट इतना नशीला था कि इतनी देर से रोका हुआ उसके लंड का लावा पूरा सोनल के पेट पर निकल गया और कमल भी परवाह किये बिना सोनल कि तन्नाई हुई चूचियाँ चुसने में लगा रहा। कमल ने किताबों में सिर्फ पढ़ा था कि जवान चूँची चूसने से लंड तन्ना जाता है पर उसने तो उस समय खुद अनुभव किया कि मादरचोद मुश्किल से तीन या चार मिनट में फिर से गन्ना बन गया। कमल ने उठ कर कपड़े से सोनिया का पेट साफ करा और एक हाथ से अपना लंड पकड़ कर सोनल के होंठों पर घिसने लगा। क्या सनसनाहट हो रही थी कि उसका लंड और कस गया।
करीब पाँच-दस मिनट बाद उसने सोनल कि टाँगें खोलीं और उसकी जाँघों को चूसता हुआ अपनी जीभ उसकी चुत पर ले गया। कमल ने भी अपनी जीभ की धार सोनल के चुत की दरार पर खूब घीसी। बाद में जब मस्ती बढ़ गयी तब उसने अपने होंठ पूरे चौड़े किये और सोनल की मस्तानी चूत अपने मुँह में भर ली और चूसाई चालू कर दी। क्या मादक सुगँध आ रही थी। कमल तो जन्नत में था। करीब आधा घंटा चुत का मज़ा अपनी ज़ुबां से लूटने के बाद कमल उसकी खुली टाँगों के बीच बैठ गया और अपने लंड को एक हाथ से पकड़ कर दूसरे हाथ से अपना सुपाड़ा सोनल की चूत के लिप्स खोल कर घिसने लगा। थोड़ी ही देर में लौड़ा इतना उबाल खा गया कि इससे पहले कमल रोक पाता सोनल के खुले लिप्स के उपर ही उसका लंड झड़ गया। कमल ने करीब दो घँटे सोनल के शरीर के साथ जी भर के खेला, और बाद में फिर से उसे पैंटी पहना कर और नाइटी ढँग से बंद कर के कमल बाहर आ गया और टी.वी. देखने लग गया।
सोनल करीब शाम को 7 बजे उठी और उन ही कपड़ों में उसके पास आ कर बैठ गयी और बोली कमल शरीर बहुत दुख रहा है!
कमल ने कहा, कोई नहीं सोनल थोड़ा सा सुस्ता लो अभी आप बस से आयी हो इसके लिये थकान ज्यादा हो गयी है!
सोनल वहीं पर उसकी जाँघों का सहारा ले कर लेट गयी और सुस्ताने लगी। थोड़ी देर बाद वो उठी और फ़्रैश होने के लिये चली गयी। शाम के साढ़े सात बज चुके थे। कमल आरती के कमरे से व्हिस्की की बोत्तल ले आया और अपने लिये एक पैग बनाया और टी. वी. देखने लगा। इतने में सोनल बाहर आयी और उसे व्हिस्की पीते देख बोली, कमल तुम कब से पीने लग गये, मैं अंकल से तुम्हारी शिकायत कर दूँगी।
कमल ने कहा, सोनल जी आपकी मम्मी को मालूम है। मैं कभी-कभी उनके साथ छुप कर पी लेता हूँ।
कमल ने सोनल को नहीं बताया कि उसकी मम्मी ने ही उसे हफ़ते भर पहले पीना सिखाया है। और मेरी प्यारी सोनल आप क्या मेरी शिकायत करोगी!
सच में? रियली? तब सोनल बड़े ही शरारती मूड में उससे बोली, एक शर्त है! तुम्हें मुझे भी टेस्ट करानी पड़ेगी।
कमल को तो जैसे मन माँगी मुराद मिल गयी। उसने कहा चलो आप बैठो। मैं आपके लिये एक पैग बना कर लाता हूँ।
कमल ने अंदर जा कर तीन पैग के बराबर एक पैग बनाया और बाहर आ कर सोनल को दे दिया। सोनल एक दम कमल के बगल में बैठी और पहला घूँट उसने ऐसे पीया जैसे कोई कोका कोला हो। पूरा आधा ग्लास एक झटके में पी गयी। फिर बोली, क्या कमल यह तो बहुत स्ट्राँग है!
कमल ने कहा, कोई नहीं, आराम से एक-एक घूँट भर के पियो, तब आपको मज़ा आयेगा!
टी.वी. पर रोमाँटिक फिल्म चल रही थी। कमल आरती के रूम से जा कर सिगरेट ले कर आ गया। सोनल पर अब खुमारी चढ़नी चालू हो गयी थी। कमल ने जब अपने लिये एक सिगरेट जलाई तो वो बोली, कमल ये तुम्हें को क्या हो गया है, पहले शराब, फिर सिगरेट!
कमल ने कहा, सोनल शराब का मज़ा दुगना हो जाता है स्मोक करने से!
सोनल ने कमल के हाथों से सिगरेट छीन कर एक जोरदार कश लगाया। पहली बार पीने के कारण उसको खाँसी लग गयी। कमल एकदम घबरा उठा और उसकी पीठ सहलाने लगा और पेट के ऊपर हाथ ले जा कर उसे पीछे आराम से सोफे पर बैठाने की कोशिश करने लगा। नाइटी का कपड़ा चिकना होने के कारण उसके हाथ फिसल गये और उसकी पूरी लैफ्ट साइड की चूँची कमल के हाथ में आ गयी। सोनल ने उसका कुछ बूरा नहीं माना और कमल भी उसकी चूँची दबाये हुए सोफे पर पीछे खींच लाया और बोला, सोनल!
ऐसे थोड़ी पी जाती है! देखो मैं बताता हूँ कि कश लिया जाता है!
सोनल शायद खाँसी से थोड़ा घबरा गयी थी। इस कारण वो कमल की बाहों का सहारा ले कर उसके आगोश में बैठ गयी। पहले तो कमक ने उसे उसका पैग दिया और बोला,
लो एक घूँट लगा लो, थोड़ा सा आराम मिलेगा और फिर एक कश लगाओ।
दो-तीन बार कश लगाने के बाद सोनल को मज़ा आने लगा और बोली, कमल मुझे एक पैग और दो मुझे बहुत अच्छा लग रहा है!
कमल ने फिर से पहले जैसा पैग बना कर सोनल को दे दिया। अब वो पैग और सिगरेट तो ऐसे पी रही थी जैसे कब से उसकी आदत हो और अब वो थोड़ा मस्ती में भी आ गयी थी। अचानक उसने कमल से पूछा, कमल! क्या तुम्है मेरी चुत की याद नही आई, मेरी चुत इतनी बुरी थी कि तुमने उसकी कदर नही करी और छोड़ कर चले गए थे ?
कमल तो सोनल के मुँह से यह सुन कर हक्का बक्का रह गया। उसे उम्मीद ही नही थी कि सोनल खुद उसके लिए इतना सोच रही है।
कमल ने कहा, नही सोनल मैं बेवकूफ था जो तुमसे दूर चला गया, यहा से जाने के बाद तुम्हारी कीमत मालूम चली, प्लीज् मुझे माफ़ कर दो। लेकिन अभी अचानक ये सब क्यो पूछ रही हो।
सोनल बोली, इसलिये पूछ रही हूँ कि मुझे पता है! कि तुम और मम्मी फिर से साथ हो और मुझे शामिल नही किया अभी तक। मुझे अपनी चुत में लण्ड लेने में बड़ा मज़ा आता है। बताओ ना कमल ये लंड फिर दोगे मुझे?
कमल को सोनल के इस बात पर हँसी आ गयी।

कमल ने भी सोचा कि मौका अच्छा है और सोनल को बोला कि, मैं आपको अपना लंड दूँगा लेकिन आरती चाची को अभी मालूम नही चलना चाइए?

सोनल फट से बोल पड़ी, जो तुम कहो वैसा ही करुँगी।

कमल ने कहा, जो मैं बोलूँगा आपको मेरी बात माननी पड़ेगी और जैसे-जैसे मैं कहूँ वैसे ही आपको करना पड़ेगा। बोलो तैयार हो तो मैं अपना लंड दिखाऊँ।

सोनल तो एकदम उतावली हो रही थी। कमल
ने उसे अपने सामने खड़ा करा और अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिये और अपने दोनों हाथ उसकी पैंटी में डाल कर उसके मस्त चूत्तड़ों को दबाने लगा। सोनल ने भी अपना मुँह खोल दिया था और कमल बड़े आराम से उसकी जीभ चूसने लगा। थोड़ी देर बाद कमल ने अपने हाथ उसकी पैंटी पर से हटाये और उसकी नाइटी खोल दी और उसको सिर्फ पैंटी पहने रहने दिया। कमल ने भी उसको छोड़ के अपने बदन पर अंडरवीयर के अलावा सारे कपड़े उतार दिये।
सोनल को शराब के नशे में होश भी नहीं था कि कमल उसको नंगा कर चुका है। बाद में कमल ने उसकी पैंटी उतार दी और उसकी दरार पर अपना हाथ फेरने लगा। जैसे ही कमल ने उसकी दरार पर हाथ फेरा तो सोनल का थोड़ा सा नशा टूटा और वोह बोली, क्या कमल तुमने मुझे तो नंगा कर दिया पर अभी तक अपना लंड नहीं दिखाया। यह बात गलत है!
कमल ने जल्दी से अपना अंडरवीयर उतारा और अपना मोटा तगड़ा तंदुरूस्त लंड उसके हाथों में दे दिया। सोनल को तो मानो लकवा मार गया। वो बोली, कमल यह इतना सख्त बड़ा और मोटा कैसे हो गया!

तब कमल ने सोनल को बड़े प्यार से अपनी जाँघों पर बिठाया और उसकी पुश्त चूचियों को अपने हाथों में भर कर बोला,
मेरी प्यारी बहना! य़े तो आपको नंगा देख कर इतना बड़ा हो गया है। मर्दों को जब चूत नहीं मिलती और बहुत जोश में होते हैं
सोनल हंसते हुए बोली, कमल मैं बच्ची नहीं हूँ तुमसे पहले भी चुद चुकी हूँ और में जानती हूँ ये लण्ड ऐसे नही बड़ा हुआ है
कमल ने कहा, आप अभी यह मत सोचो, समय आने मालूम चल जाएगा पर आप अभी बड़े प्यार से अपने अंदर लो इसको, या अभी और तरसोगी। पर अभी आप वक्त मत खराब करो। अभी आप इसे लॉलीपॉप की तरह अपने मुँह में लेकर चूसो और जब तक मेरा जूस नहीं निकल जाता, आप इसे चूसती रहना और मेरा पूरा जूस पी जाना और मेरे मुँह पर अपनी चूत रख दो। मैं भी आपकी चूत का पानी पीना चाहता हूँ।

सोनल को मुँह में लेने में थोड़ी सी तकलीफ हुई क्योंकि उसका लंड मोटा था और अभी उसका मुँह छोटा था पर धीरे-धीरे सरकाने पर वो बड़े आराम से अपना मुँह ऊपर नीचे करते हुए चूसने लगी। कमल ने भी सोनल के दोनों चूत्तड़ अपने हाथों में ले लिये और उनको मसलते हुए उसकी ताज़ी जवान खुशबूदार चूत पर अपने होंठ चिपका दिये और सोनल की तरह कमल भी उसकी चूत तबियत से चूसने लगा। करीब आधा घँटा एक दूसरे की चूसाई के बाद कमल का लंड अपनी धार उसके ताजे मुँह में देने को तैयार था और इधर सोनल का भी मस्ती के मारे बुरा हाल था। वो अब आगे-पीछे होते हुए उसके मुँह पर अपनी बूर जोर से घिस रही थी। कमल ने उसका सिर अपने हाथ ले जा कर लंड पर दबा दिया और पिचकारी छोड़ दी। सोनल ने भी लंड बाहर नहीं निकाला और उसका पूरा जूस पी गयी। कमल ने भी अपनी जीभ की स्पीड और बूर की चूसाई तेज़ कर दी और तभी सोनल ने अपने मुँह से उसका लंड निकाला और जोर से किलकारी मारते हुए उसके मुँह में अपना जूस निकाल दिया। फिर दोनों थोड़ी देर इस अवस्था में पड़े रहे और फिर बाद में नंगे ही एक दूसरे की बाहों में सोफे पर बैठ गये और स्मोक करने लगे।
-  - 
Reply
08-27-2019, 01:46 PM,
RE: Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
कमल ने बड़े प्यार से सोनल का चेहरा उठा कर पूछा, कैसा लगा अपने भाई का लंड और चूसाई? मज़ा आया कि नहीं?
वोह शरमाते हुए बोली, कमल तुम बड़े बदमाश हो, पर सच में इतना आनंद तो मैंने आज तक महसूस ही नहीं किया। कमल मैं तो अब रोज़ चूसूँगी और अपनी तुमसे चुसवाऊँगी!
कमल ने भी अंजान बनते हुए कहा, क्या सोनल ?
तो वो बोली, धत्त कमल! तुम्हारा लंड और अपनी चूत!

सोनल कमल के आगोश में लेट कर बड़े ही प्यार से उसके लंड से खेल रही थी जो अब फिर से खड़ा हो गया था।
सोनल बोली,
कमल तुम मेरी चूत में नहीं डालोगे क्या...? मेरी बहुत इच्छा हो रही है काफी दिनों बाद तुम्हारा लेकर तो देखूँ कैसा लगता है।
कमल तुमने मम्मी को दोबारा चोद लिया है ना?�
तब कमक ने उसे सच-सच बताना ठीक समझा और बोला, �सोनल ! मैं मन ही मन में आपको और आपकी मम्मी से बहुत प्यार करता हूँ और रात को आप दोनो के ख्वाब देख कर मुठ मारा करता था...और फिर कमल ने उसे पूरी कहानी बता दी।
सोनल बड़े आश्चर्य के साथ बोली,
क्या??? कमल तुम मम्मी को चोदते हो?
मैं नहीं मानती कि मम्मी ने इतनी आसानी से तुम्हे माफ कर दिया और मेरे लिए भी तैयार हो गयी है।

तब कमल ने कहा, चलो ठीक है, कल जब आपकी मम्मी घर पर आयेंगी और मुझे जब अंदर बूलायेंगी तब आप बालकोनी से देखना... आपकी मम्मी कितने प्यार से मुझसे चुदवाती है। हमने तो प्लैन भी बनाया है कि आपकी मम्मी आपके साथ मेरी चुदाई करवायेंगी।

सोनल इतना सब सुन कर थोड़ी सी गरम हो गयी थी और अपनी चूत उसने कमल की टाँगों पर घिसनी चालू कर दी थी।
कमल ने कहा,
सोनल ! मैं आपको बड़े प्यार से चाची के प्लैन वाले दिन ही भोगना चाहता हूँ। इस लिये आज सिर्फ एक दूसरे की चूसाई करेंगे...और इतना कह कर फिर से दोनो लोग ६९ के आसन में हो कर एक दूसरे को चूसने लगे। उस रात उन दोनों एक ही कमरे में एक दूसरे को बाहों में भर कर सोये। अगली सुबह कमल को आरती को लेने जाना था तो कमल सोती हुई नंगी सोनल को प्यारी से पप्पी दे कर आरती को लाने के लिये एयरपोर्ट चला गया।

कार में बैठते ही आरती ने कमल को किस करा और बोली, कमल मैं तो बूरी तरह से मचल रही हूँ चुदाई के लिये। सोनल जब तक सो कर उठेगी तब तक तू मेरी जम कर चुदाई कर दे।
कमल ने कहा, आरती डार्लिंग! मैं भी तो तड़प रहा हूँ तुम्हें चोदने के लिये और तुम अब सोनल की चिंता छोड़ दो! और कमल ने आरती को सारी कहानी बता दी।
आरती ने आगे बढ़ कर उसे किस कर लिया और बोली, मैं तो सोनल के साथ तेरी चुदाई कल करवाऊँगी। आज तो तू दिन भर सिर्फ मुझे चोद कस कर। मेरा तो पूरा बदन तरस रहा है तेरे हाथों से मसलवाने के लिये।

दोनो जब घर पहुँचे तो सोनल उठ गयी थी। थोड़ी देर इधर-उधर की बातें करने के बाद आरती बोलीं, सोनल देख मैं सुनील के साथ सोने जा रही हूँ, तो कोई भी फोन या कोई घर पर आये तो उसे मना कर देना और मुझे डिस्टर्ब मत करना।
सोनल कमल की तरफ देख कर मुस्कराई और समझ गयी कि उसकी मम्मी कमरे में जा कर कमल से चुदवायेंगी।
आरती ने उसे देख लिया और बोली सोनल बेटा! मुझे कमल ने सब बता दिया है। तू घबरा मत... कल मैं तुझे ज़िंदगी का वो सुख दिलवाऊँगी जिसकी तूने कल्पना भी नहीं करी होगी।

इतना बोल कर आरती ने कमल को अपनी बाहों में ले लिया और कमल ने उनको। फिर वो दोनों कमरे में घुस गये और घुसते ही एक दूसरे पर ऐसे टूट पड़े जैसे कितने दिनों के भूखे हों। कमल आरती को अपनी बाहों में भर कर बुरी तरह से मसलते हुए चूस रहा था और आरती उसकी पैंट खोल रही थी। कमल ने देखा कि सोनल बालकोनी में खड़ी हो कर उन दोनों को देख रही थी। इस ख्याल से कि सोनल अपनी मम्मी को उस से चुदाते हुए देखेगी, उसका लंड कुछ ज्यादा ही अकड़ गया और उसने आरती के कँधे दबा कर उन्हें वहीं बिस्तर पर बिठा दिया और सिर को पकड़ कर अपना लंड आरति के मुँह में उतार दिया और सोनल को देखते हुए आरती का मुँह चोदने लगा और अपना पूरा लंड उनके मुँह में फँसा कर झड़ गया।
फिर कमल ने आरती कि साड़ी, ब्लाऊज़,
पेटीकोट उतारे और सोनल को दिखाते हुए उनकी चूचियाँ ब्रा के ऊपर से पहले खूब मसलीं और बाद में उनकी ब्रा उतार के उनके दोनों निप्पल अपनी उँगलियों के बीच में मसले। आरती तो सितकार उठी और बोली
मादरचोद इतना क्यों भड़का रहा है मेरी चूत की आग? पहले से ही चूत में आग भड़की हुई है।
कमल ने आरती को खड़ी कर के उनके चूत्तड़ बालकोनी की तरफ कर दिये ताकि सोनल आराम से देख सके। आरती के हाई हील सैण्डलों में कसे पैर जमीन पर थे और उसने उन्हें चूचियों के सहारे बिस्तर पर टिका दिया जिससे उनकी चूत और गाँड के छेद खुल कर सामने आ गये। कमल ने सोनल की तरफ़ देखते हुए आरती की चूत और गाँड के छेद पर उँगली फेरनी चालू कर दी और एक हाथ से अपना लंड सहलाने लगा। उसके बाद कमल ने झुक कर आरती के सैण्डलों में कसे पैर चाटने लगा और फिर धीरे-धीरे उनकी टाँगों और जाँघों को चाटते हुए ऊपर बढ़ा और फिर उनकी उभरी हुई चूत को अपनी जीभ से चटना शुरू कर दिया जिससे आरती की सितकारियाँ निकलनी चलू हो गयी और वोह अपनी गाँड के धक्के उसके मुँह पर देने लगी।
आरती की चूत अपने मुँह में झड़वाने के बाद कमल ने खड़े-खड़े ही अपना लंड सोनल को दिखाते हुए आरती की चूत पर रखा और झुक कर उनकी मदमस्त लटकती हुई चूचियों को पकड़ कर मसलते हुए जोर से धक्का मारा जिससे उसका पूरा लंड आरती की चूत में समा गया। आरती इस पोज़ में अपने चूत्तड़ मटकाती हुई उसका लंड ले रही थी और कमल भी पूरे जोश में उनकी चूत चोद रहा था। थोड़ी देर बाद कमल ने अपना लंड निकाल कर आरती की टाँगें फैला कर बिस्तर पर लिटा दिया और उनके ऊपर चढ़ कर दना-दन चोदने लगा। करीब आधा घँटा चुदाई के बाद वो दोनों एक साथ झड़े और आरती ने अपनी जाँघें बंद करके कमल का लंड अपनी चूत में ही रहने दिया और बोली, डार्लिंग! ऐसे ही मेरे ऊपर सो जा ताकि जब तेरा दोबारा खड़ा हो तो बिना वक्त गंवाये मुझे चोदना चलू कर देना। मेरी चूत को इतनी ठंडक मिली है कि मैं तो एक सिगरेट पी कर सोऊँगी।
कमल तो मस्ती में था और आरती कि गुदाज़ चूचियों पर लेट कर सुस्ताने लगा। दिन भर उन दोनों ने जी भर के एक दूसरे के साथ चुदाई की और अपने बदन की हवस को पूरा शाँत की।
शाम को आरती बिस्तर पर सिर्फ हाई हील वाले काले और चमचमाते सैण्डल पहने, नंगी पसरे हुए ड्रिंक पी रही थीं और कमल अपने होंठ और जीभ उनके सैण्डलों और पैरों पर फिरा रहा था। कमल को उनके सैण्डलों और पैरों की महक और टेस्ट बहुत अच्छा और उत्तेजक लग रहा था, जिसकी वजह से उसका लौड़ा तन कर सीधा खड़ा था।
आरती बोली, डार्लिंग अब और चूदाई नहीं करेंगे ताकि तेरा लंड कल सोनल की चूत के लिये एकदम तैयार और बे-करार रहे। मैं चाहती हूँ कि जब उसे तेरा लंड मिले तो एक दम ताज़ा और मस्त मिले। कल दिन में सोनल के साथ अपना हनीमून मना लेना।

कमल ने उनकी सैण्डल चाटते हुए कहा, चाची! दिदी मेरे लिये एकदम तैयार कर देना और हनीमून मैं उनके साथ मॉडर्न ड्रैस में मनाऊँगा।
आरती बोली, तू चिंता मत कर! मैं उसे कल सुबह बाज़ार से सैक्सी काली ब्रा-पैंटी, मॉडर्न ड्रैस और सैक्सी हाई हील सैंडल दिला कर लाऊँगी जिसे देख कर तेरा लंड और तन जाये। मैं उसे बिलकुल मॉडर्न तरह से तैयार करूँगी और ध्यान रहे कल बारह-एक बजे तक तू घर पर मत रहना। मैं अपनी बेटी को बड़े प्यार से तैयार करना चाहती हूँ ताकि उसे अपनी ये चूदाई हमेशा याद रहे!
कमल ने कहा, पर अभी अपने इस तने हुए लंड का क्या करूँ?
आरती बोलीं, तुझे मेरे सैंडल पहने हुए पैर बहुत सैक्सी लगते हैं ना! तो तू अभी अपना लंड इन्हीं पर घिस कर क्यों नहीं ठंडा कर लेता। सच, तुझे मेरे हाई हील सैंडल पहने पैरों को चोदने में जरूर मज़ा आयेगा।
आरती का यह आईडिया सुन कर उसका लंड और भी अकड़ गया। कमल ने झट से उनके सैंडल पहने पैरों को अपने दोनों हाथों में लिया और अपना लंड दोनों सैंडलों के बीच में आगे-पीछे करने लगा। सैंडल के तलुवों और लैदर का फील बहुत मस्त लग रहा था और चार-पाँच मिनट में ही उसकी पिचकारी आरती के सैंडल, पैरों और टखनों पर छूट गयी। उसके बाद आरती को नंगा बिस्तर पर छोड़ के बाहर आ गया और सीधा सोनल के कमरे में गया। सोनल सिगरेट पीते हुए पूरी नंगी हो कर अपनी चूत के दाने को घिस रही थी और मस्ती में अपने चूत्तड़ ऊपर नीचे उछाल रही थी। कमल को आया देख कर शरमा गयी और बोली, कमल ये क्या... तुम बिना नॉक करे ही आ गये।
कमल ने प्यार से उसका किस लिया और बोला,
मेरी प्यारी दीदी! बस आज-आज मुठ मार लो, कल के बाद तो आपकी जब भी इच्छा होगी, मैं आपको खूब चोदूँगा। बताओ आपको कैसा लगा अपनी मम्मी की चूदाई देख कर?
सोनल बोली, कमल! मम्मी बहुत ही सैक्सी दिखती है नंगी हो कर। मैंने तो मम्मी के साथ तुम्हें नंगा देख कर ही अपनी जाँघें कस ली थीं और जब तुम मम्मी के चूत्तड़ फैला कर उनकी चूत चाट रहे थे, मैंने अपना एक हाथ अपनी पैंटी में डाल कर अपने दाने को खुब घिसा था। कमल, इतने दिनों बाद मम्मी को चुदते देख मज़ा आ गया।
कमल बोला, बस मेरी डार्लिंग दीदी! कल के लिये आप तैयार हो जाओ। कल आपको दोबारा चोद कर पूरा फूल बना दूँगा। फ़िलहाल अभी थोड़ा मेरे लंड को चूसते हुए अपनी मुठ मारो। देखो कितना मज़ा आयेगा।
सोनल ने लपक के कमल का लौड़ा मुँह में ले लिया और अपनी चूत घिसते हुए सका-सक उसका लौड़ा चूसने लगी और पँद्रह-बीस मिनट बाद तबियत से चूसते हुए अपनी चूत का और उसके लंड का पानी निकाला। कमल ने भी झुक के उसकी चूत का पानी अपनी जीभ से चाट-चाट कर पीया।

थोड़ी देर बाद आरति नहा-धो कर सिर्फ़ पैंटी-ब्रा और सैण्डलों में ही अपने रूम से निकली और अपने मोटे-मोटे चूत्तड़ कमल की गोदी में रख कर बैठ गयी और तीनों ने एक साथ ड्रिंक की और स्मोक किया। आरती उसके बाद उठीं और सोफ़े पर बैठ कर सोनल को अपनी गोद में बिठाया और बोली, मॉय डीयर! तू तैयार है ना चुदने के लिये?
सोनल ने शरमा कर अपना मुँह आरती की ब्रा में कैद उन्नत चूचियों में छुपा लिया। आरती ने उसका सिर उठा कर कहा, सोनल तू बड़ी किस्मत वाली है जो तुझे घर बैठे इतना तगड़ा मर्द और मस्त लंड मिलेगा। मैं नहीं चाहती कि तू भी मेरी तरह चुदाई के लिये तड़पे और बाहर चुदे। तेरे पापा मुझे एक दम ठंडा नहीं कर पाते हैं, जिससे मेरा दिमाग खराब रहता था। पर अब मुझे कमल का लंड मिल गया है जो मुझे पोर-पोर तक चुदाई का सुख देता है। मेरी इच्छा यही है सोनल बेटी कि तू भी भरपूर चुदाई का मज़ा ले ले शादी से पहले। पता नहीं शादी के बाद ये सुख तुझे मिले ना मिले।
-  - 
Reply

08-27-2019, 01:46 PM,
RE: Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस.
उसके बाद उन्होंने खाना खाया और अपने-अपने कमरे में चले गये। अगले दिन कमल सुबह नहा-धो कर बाहर चला गया ऐसे ही घूमने के लिये और करीब साढ़े बारह बजे वापस आया। आरती ने कमल को पहले तो बाहों में लेकर किस करा और बोली, तेरी रानी अंदर बैठी है सज-सँवर के। जा पहले तू नहा-धो ले और फ़्रैश हो जा। अब कल सुबह तक तुझे उसकी जम कर चुदाई करनी है। मैं सब कुछ रूम में ही पहूँचा दूँगी।
कमल भी बेसब्री के साथ नहा-धो कर तैयार हुआ और सिर्फ़ अपनी सबसे सैक्सी दिखने वाली अंडरवियर पहनी और आरती का चुम्बन लेकर कमरे में घुस गया। मज़ा आ गया था। अंदर आरती ने पूरा डिस्को बनाया हुआ था और सोनल को बहुत ही सैक्सी टॉप-स्कर्ट में तैयार करा हुआ था।
सोनल की टॉप के उपर के चार बटन खोल कर नीचे से गाँठ बन्धी हुई थी और गज़ब का मेक-अप करा हुआ था। सोनल भी हाई हील्स पहन कर एक डाँस पर अपने चूत्तड़ थिरकाते हुए नाच रही थी। कमल ने चुपचाप पीछे से जा कर उसकी मचलती हुई चूचियों को पकड़ लिया और सोनल को हवा में घूमा दिया। फिर सीधा कर के दोनो ने एक दूसरे को बाहों में कस लिया और तड़ातड़ एक दूसरे को चूमने और चाटने लगे। आरती ने सही कहा था। वाकय में सोनल बहुत ही सैक्सी लग रही थी और अगर वोह ऐसे रूप में कहीं सड़क पर चली जाती तो जरूर उसकी चूत का आज भोंसड़ा बन जाता।
सोनल ने झूक कर ड्रिंक बनाना चालू किया तो कमल ने भी पीछे से उसकी स्कर्ट नीचे खिस्का दी और झुक कर कुत्ते कि तरह उसके चूत्तड़ों में अपना मुँह लगा दिया और चाटने लगा। आरती ने सोनल को काले रंग की नेट की बहुत ही टाईट रेशमी पैंटी पहनायी थी जिससे वो उसकी गाँड की दरार में घुस गयी थी और उसके गोरे फूले हुए छोटे-छोटे मस्त चूत्तड़ों को और मादक बना रही थी। क्या महक आ रही थी उसके पिछवाड़े से। कमल तो मस्ती के आलम में आ गया था।
सोनल ने उसे एक ड्रिंक दी और अपने लिये एक सिगरेट जलाई और कमल की गर्दन में अपनी बाहें डाल कर बोली, कमल... कमल... आज जी भर के अपनी चचेरी बहन को चोद लो!
और कमल को बिस्तर पर बिठाकर उसकी अंडरवियर में तन्नाए हुए लंड पर अपने चूत्तड़ घिसते हुए बैठ कर ड्रिंक और स्मोक करने लगी। कमल ने उसकी टॉप के बटन और बंधी हुई गाँठ को खोला और उसकी स्टॉप उतार दी। आरती ने सोनल को क्या मस्त काले रंग की रेशमी ब्रा पहनायी थी। एकदम पतले स्ट्रैप थे और ब्रा के कप सिर्फ़ उसके आधे निप्पल और नीचे की गोलाइयाँ छुपाये हुए थे। रेशमी नेट के अंदर से उसकी दूधिया चूचियों की बड़ी साफ झलक मिल रही थी। कमल ने उसे खड़ा होने को कहा और कुर्सी पर टाँगें फैला कर बैठ गया और सोनल को बोला कि वो अपनी टाँगें उसकी टाँगों के दोनों तरफ करके अपनी पैंटी में कसी हुई चुत उसके लंड पर रखे और आराम से बैठ कर ड्रिंक करे। तब तक कमल उसकी कसी हुई मस्त जवानी जम कर चूसना और दबाना चाहता था।
सोनल बड़े ही कायदे से उसके लंड के उठान पर बैठ गयी और बहुत हल्के-हल्के ढँग से अपनी पैंटी उसके लंड से उठी हुई उसकी अंडरवियर पर घिसते हुए कमल की गर्दन में बाहें डाल कर ड्रिंक और स्मोक करते हुए बोली, कमल डार्लिंग मसल डालो मेरी इन जवानियों को। देखो तो सही कैसे तन कर खड़ी है तुमसे चुसाने के लिये। मेरे मस्ताने सेबों का मज़ा ले लो मेरी जान।
कमल भी अपने हाथ उसकी पीठ पर ले गया और उसकी ब्रा के हूक खोल दिये और बड़े प्यार से उसकी चूचियाँ नंगी करी। उसकी बत्तीस साइज़ की कसी हुई मस्तियाँ उसके सामने तन कर खड़ी हुई थीं और कमल ने भी बिना वक्त गँवाये दोनों चूचियों पर अपना मुँह मारना शूरू कर दिया। कमल बहुत ही बेसब्रा हो कर उसकी चूचियाँ मसल और चूस रहा था जिससे उसको थोड़ा सा दर्द हो रहा था। पर फिर भी कमल के सिर को अपनी चूचियों पर दबाते हुए कह रही थी, डार्लिंग आराम से मज़ा लो,
इतने उतावले क्यों हो रहे हो। आज तो हमारा हनीमून है। कहीं भागी थोड़ी जा रही हूँ। जम के चूसवाऊँगी और मसलवाऊँगी। इनको इतना मसलो कि स्कूल में मेरी चूचियाँ सबसे बड़ी हो जायें।
करीब आधा घँटा इस चूसाई के बाद कमल ने कहा,
सोनल दीदी! अब तो आप तैयार हो जाओ चुदने के लिये।
कमल ने उसे अपनी बाहों में उठाया और फूलों से सजे पलंग पर लिटा दिया। लाल गुलाब से सजे पलंग पर काले रंग की पैंटी से ढका सोनल का गोरा बदन ऐसा लग रहा था जैसे कोई अपसरा अपने कपड़े उतार के सो रही हो और काला भँवरा उसकी ताज़ी चूत का रस चूस रहा हो। कमल करीब पाँच मिनट तक सोनल के नंगे बदन की शराब अपनी आँखों से पीता रहा, और फिर बिस्तर पर चढ़ कर कमल ने सोनल की कमर चूसनी चालू करी और चूसते हुए अपना मुँह उसकी पैंटी पर लाया और पैंटी का इलास्टिक अपने दाँतों में दबा कर अपने मुँह से उसकी पैंटी उतारने लगा। सोनल ने भी अपने चूत्तड़ हवा में उठा दिये थे ताकि पैंटी उतारने में परेशानी ना हो। पर आरति ने इतनी टाइट पैंटी पहनाई थी कि कमल को अपने हाथ भी लगाने ही पड़े उतारने में। पैंटी उतार के जो नज़ारा कमल के सामने था,
आरती ने बड़े ही प्यार से सोनल की चूत के बाल साफ़ करे थे। सोनल चूत चुदने के लिये इतनी बेकरार थी कि चूत के लिप्स गीले थे। सोनल बोली,
डार्लिंग! मम्मी ने मेरी पूसी क्रीम से साफ करी है और मुझे बोला है कि मैं कभी भी अपनी पूसी शेव नहीं करूँ नहीं तो खराब हो जायेगी।
कमल का लंड तो सोनल की चिकनी नंगी मस्ताई हुई, चुदने के लिये तैयार चूत को देख कर ही उसकी अंडरवियर को फाड़ कर बाहर आने के लिये बेकरार था और उछल-कूद मचा रहा था। कमल ने अपने दोनों हाथों से अपनी अंडरवियर उतार दी और अपना मुँह उसके सामने लेटी हुई नशे की बोतल के खज़ाने के मुँह पर लगा दिया। सोनल तो मस्त हो गयी और उसका सिर पकड़ कर अपनी चूत पर दबाने लगी। कमल भी चाहता था कि सोनल थोड़ा पानी छोद दे ताकि उसकी ताज़ी चूत थोड़ी चिकनी हो जाये और तकलीफ कम हो। कमल उसकी चूत का दाना चूसते हुए अपनी जीभ से उसकी चुदाई चालू कर दी और करीब पाँच मिनट बाद ही सोनल ने उसका सिर अपने दोनों हाथों से पकड़ लिया और कस कर अपनी पूरी ताकत से उसका मुँह अपनी चूत पर दबा लिया और जोश में काँपते हुए चूत्तड़ों के धक्के देती हुई कमल के मुँह में अपना रस देने लगी। कमल ने भी मन से उसकी जवान चूत चूसी और चूत के लाल होंठों को अपने होंठों से चूसा।
फिर कमल घूटने के बल सोनल के सामने बैठ गया और बूरी तरह अकड़ा हुआ अपना लंड उसके सामने कर दिया और सोनल की गर्दन में हाथ डाल कर उसका मुँह अपने लंड के पास लाया और बोला, मेरी प्यारी सोनल दीदी, मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर अपनी चूत बजाने के लिये तो इनवाइट करो।

सोनल ने तपाक से अपना मुँह खोला और उसका सुपाड़ा अपने होंठों के बीच ले लिया और जीभ फेरने लगी। कमल के लंड पर सोनल के जीभ फेरने ने वो काम किया जो आग में घी करता है। कमल से रहा नहीं गया और दोनों हाथों से सोनल का सर पकड़ कर उसके मुँह में ही उसने आठ-दस शॉट लगा दिये। लौड़े का तो मारे गुस्से के बूरा हाल था। एक तो उसे कल से चूत नहीं मिली थी और दूसरा उसके सामने ऐसी मलाईदार चूत थी और कमल चूतिया की तरह उसकी भूख मिटाने की बजाये चुम्मा चाटी कर रहा था।
अपना लंड सोनल के मुँह से बाहर निकाल
कर के कमल बिस्तर पर से उतरा औरआरति ने पहले से ही इम्पोर्टेड बड़ी ही खुशबू वाली चिकनाहट की क्रीम मेज पर रखी हुई थी। कमल ने उसे उठा कर थोड़ी ज्यादा ले कर सोनल की चूत पर और चूत के अंदर की दीवारों पर लगा दी और फिर अपने लंड पर लगाने लगा। सोनल बोली, ये तुम क्या कर रहे हो?
कमल ने उसे समझाया और बोला, आज मैं आपकी चूत को भोंसड़ा बनाने जा रहा हूँ तो मुझे अपना लंड आपकी चूत में घूसेड़ना पड़ेगा और आपको तकलीफ ना हो इस लिये मैं आपकी चूत को और अपने लंड को चिकना कर रहा हूँ।
कमल ने बिस्तर पर चढ़ कर सोनल की जाँघों को अपने हाथों से पूरा फैला दिया और एक हाथ से लंड पकड़ कर दूसरे हाथ से सोनल की चूत के लिप्स खोल कर अपना गुस्साया हुआ लाल सुपड़ा उसकी गुलाबी चूत से सटा दिया और बहुत हल्के-हल्के घिसते हुए बोला,
देख लो सोनल दीदी! अपने लंड की आपकी चूत से मुलाकात करा रहा हूँ।
सोनल को भी अपनी चूत पर लंड घिसाई बहुत अच्छी लग रही थी। वोह सिर्फ़ मस्ती में ऊँमम ऊँमम कर सकी। एक दो मिनट बाद कमल ने देखा कि सोनल पर मस्ती पूरी तरह से सवार हो चूकी है तो उसने अपने लंड का एक हल्का सा शॉट दिया जिससे उसका लंड सोनल की चूत बहुत ज्यादा कसी होने के कारण से फिसल कर बाहर आ गया। इससे पहले कि सोनल कुछ समझ पाती, उसने एक हाथ से अपना लंड सोनल के चूत के लिप्स खोल के उसके छेद पर रखा और अपने चूत्तड़ों से कस के धक्का दिया जिससे उसका मोटा तगड़ा लंड दो इंच सोनल की चूत में घुस गया। सोनिया की गाँड में तो जैसे भूचाल आ गया। वोह जोर से चीखी, कमल मार डाला! ये क्या डाला है मेरे अंदर। बहुत मजा आ रहा है। कमल प्लीज़ पूरा डालो।
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star XXX Hindi Kahani अलफांसे की शादी 72 17,275 05-22-2020, 03:19 PM
Last Post:
Star bahan sex kahani भैया का ख़याल मैं रखूँगी 260 548,365 05-20-2020, 07:28 AM
Last Post:
Star Desi Porn Kahani विधवा का पति 75 42,310 05-18-2020, 02:41 PM
Last Post:
  पारिवारिक चुदाई की कहानी 19 120,633 05-16-2020, 09:13 PM
Last Post:
Lightbulb Kamukta kahani मेरे हाथ मेरे हथियार 76 40,114 05-16-2020, 02:34 PM
Last Post:
Thumbs Up bahan sex kahani बहना का ख्याल मैं रखूँगा 86 384,716 05-09-2020, 04:35 PM
Last Post:
Thumbs Up Antarvasna Sex चमत्कारी 153 148,288 05-07-2020, 03:37 PM
Last Post:
Thumbs Up Incest Kahani एक अनोखा बंधन 62 41,406 05-07-2020, 02:46 PM
Last Post:
Star Desi Porn Kahani काँच की हवेली 73 61,063 05-02-2020, 01:30 PM
Last Post:
Star Incest Porn Kahani चुदाई घर बार की 47 116,416 04-29-2020, 01:24 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 3 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


मंजू आंटी का पालतू kutta bankar peshab पिया xx khne ke को हिस्साfamliy dengudu kathallu सेक्स बाबा शुद्ध bhano kee adala badaliNude Pranitha Subhaes sex baba picsचढी खोलती हुई लडकी कि गाँड और बुरBhatije ne dauda dauda kar choda sex kahaniDesi52com aapki Sapna bhabhiUrdu sexy story Mai Mera gaon aur family ponamdidi ki chudaiबीवी का mayka हिंदी sexbaba कहानीmarathi font sex story bathroom madhali pantysasur kamina Bahu Naginaजंगल मे साया उठा के Rap sxe vidoes hd 2019antarvasna audio maa beta ke real chudeye ke khahanechachi ne bhatije se ghi laga ke cudwaya sex store hindi khaneWww.maa bap ki sarif beti vyang bani randi.comमेरी बहन की मचलती जवानी मेरे लण्ड से काबू में आयीलेकिन माया की चुत में अभी भी आग लगी थी. माया नाहा के बाहर निकली और एक सेक्सी सी मैक्सी पहन केhorny bhosda and vade vade mummexxx khani hindi me padne bali rat me dhoke se anjane me majburi me bhen se sexसुन सासरा चुदाइ कहाणिmaadak mummy ka bhosda sex babababa sexgaon wali maa ka bhosra.comrinku ghosh ki boobs ki photo sex.baba.com.netमाँ का दुलारा sex stories/printthread.php?tid=4822ओरत ओरत का सैक्स कैसे करती है क्या नकली लँड पहती हैXxx hindi kahani piknik pe फुल हड देसी ४९ क्ष कॉमvidosxxxxxxxbfgandu hindi sexbabaसेकशी पॅजाबी लॅगी बीडीयोVpornhindisexvideoअसल चाळे मामी Budhiyon ki anterwasna sex story hindiबेटे ने शहर लाकर रखैल बनाया SexbabaShalini ajith sex babaE: Indian TV Actresses Nude Pictures More pics.....surbhi chandana....mansi srivastava..aalishan panwar..subhangi atre....shilpa shinde...anjali gndi cvrdha रादी खाना xxx चुदाईमोटा बॉदा क्सक्सक्स प्रों टीवी कॉमgulabihindisexलनड को भोसया को चोदते कि फोटो भेजेlatoxxxbfआवारा सांड़ sex kahaniभाभी टंटी छूटी लंडसेBhabhi bra pantyphoto sex baba netपापा माँ को अपने बेटे के सामने चोदायी कहानीहिंदी सेक्स स्टोरी फसल कटाई भाई को फ़ाति सलवार में से अपनी चूत दिखाईGundhava Shrir sexy videopetaje or bite ka xxxnxx videoBurchodne ke mjedar kahaneअहसान के बदले चूदाईभाई के 11इंच के लंड कि दिवानी Aami ne dood dilaya sex storyभाभी ने ननद को चुदाई की ट्रेनिंग दिलायाIndian sex stories ಮೊಲೆಗೆ ಬಾಯಿ ಹಾಕಿದkapde kharidne aai ladki se fuking sex videos jabardastishriya saran ki chudai photos saphबियफ बापने बेटे का गाड मारालौडाबीवीLavanya Tripathinangichudakkar mause ki jhantwale bur choda sto hindiपोट कोसो आता xxxदिपीका पादुकोन नगी जिस्म की चुदाईचुत मरना दिखौदेसी लडकी तेल लगाईXnxxDesi Palang par pelaixxxxkarjasex desi52.com Bahai behen sexघर की घोडिया yumstories.comSexy parivar chudai stories maa bahn bua sexbabafarnaz Shetty sexbaba.netramya nambeesan hot sexy fucking sex baba imagesman bete ki jabardasti ki chudai ki movieceजिन काली रात एक रूह की अंतर्वासना हिंदी छोड़ै कहानीismail chacha ne nilam ko choda sex storyमेरी मस्त जवानी सेक्स कथाtv serial pooja gaur fuck pics sex babanatko seriel ke actres ke xnxx pohtos