kamukta Sex kahaaniya किरण की कहानी
07-12-2017, 12:27 PM,
#1
kamukta Sex kahaaniya किरण की कहानी
हाई फ्रेंड्स मैं भी इक कहानी इस फोरम मे पोस्ट कर रहा हूँ दोस्तो मैं कोई राईटर नही हूँ मैं तो बस कॉपी पेस्ट कर रहा हूँ 
कहानी अच्छी है या बुरी इसका क्रेडिट इस कहानी के लेखक को देना 

किरण की कहानी 

लेखक-- दा ग्रेट वोरिअर

हिंदी फॉण्ट बाय राज शर्मा

हेलो दोस्तो. एक नई कहानी लिखी है पढ़ के बताइए के कैसी लगी. कहानी कुछ ज़ियादा ही लंबी हो गई है पर आइ एम शुवर के आप को पसंद आएगी. मुझे मैल करना के कहानी कैसी लगी. थॅंक्स इन अड्वान्स.

मेरी एक नेट फ्रेंड है किरण. किरण एक शादी शुदा लड़की (औरत) है. लड़की इस लिए के अभी उसकी एज छोटी ही है और औरत इस लिए के उसकी शादी हो चुकी है और उसकी चुदाई भी हो चुकी है. किरण एक बोहोत ही अछी लड़की है यह मैं इस लिए जानता हू के मैं उस से चॅट करता रहता हू और मैं किरण से इंट्रोडक्षन करवाने के लिए अपनी एक और फ्रेंड ईशा जो कहने को तो शिकागो, अमेरिका मे रहती है पर सच तो यह है के ईशा मेरे दिल मे रहती है और मेरा दिल ईशा के नाम से ही धड़कता है मैं उसको अपनी जान से ज़ियादा प्यार करता हू और अपनी इशू जान का शुक्रिया अदा करना चाहता हू. ईशा मेरी जान थॅंक्स फॉर दा इंट्रोडक्षन. आइ लव यू बोथ.

किरण की शादी को लग भाग 7 – 8 महीने हुए हैं. इंडिया के ही एक बड़े मेट्रोपोलिटन सिटी मे रहती है. उस ने मुझे अपनी जीवन की बोहोत सारी घटनाएँ बताई है जो उसके साथ घटी है और वो चाहती है के मैं उसकी ज़िंदगी के बारे मे एक कहानी लिखू. उसने मेरी लिखी हुई कहानिया पढ़ी हैं और मेरी स्टोरी राइटिंग की स्किल से इंप्रेस हो के उसने मुझ से रिक्वेस्ट की है तो इसी लिए मैं लिख रहा हू. मेरी उस से चॅट होती रहती है और चॅट करते समय उसने अपने बारे मे सब कुछ बता दिया जिसको मैं ने नोट कर लिया और एक कहानी की तरह से लिख दिया. सब से पहले यह कहानी उसके पास फॉर्वर्ड की उसके अप्रूवल के लिए और फिर कुछ चेंजस अडिशन्स के साथ और उसकी इजाज़त से ही यह आप सब लोगो के लिए भेज रहा हू. होप के आप को भी पसंद आएगी. मुझे ज़रूर मैल करना के आप सब को यह कहानी कैसी लगी. आपको बता दू के यह कहानी हंड्रेड पर्सेंट सच है.

अब आगे की कहानी किरण की ज़ुबानी सुनिए :

मेरा नाम किरण है. मेरी एज 27 साल की है. गोरा चिटा रंग. 5’ 6” की नॉर्मल हाइट. चेहरा बदन 36 द – 32 – 36 का मेरा फिगर है. लोग और मेरी सहेलिया कहती है के मैं खूबसूरत हू. मेरी शादी को तकरीबन 8 महीने हुए हैं. पति के साथ

सुहाग रात और बाकी की सेक्स लाइफ कैसे गुज़र रही है वो तो मैं आप को बताउन्गि ही लैकिन मैं आपको उस से पहले के कुछ और घटनाए सुना ने जा रही हू.

मैं उस समय इंटर के 2न्ड एअर (+2 ) के एग्ज़ॅम दे रही थी. उमर होगी कोई 16 साल के लग भग. मेरे फाइनल एग्ज़ॅम से पहले प्रिपॅरेटरी एग्ज़ॅम होने वाले थे. जन्वरी का महीना था बे इंतेहा सर्दी पड़ रही थी. मैं दो दो रज़ाई ( ब्लंकेट टाइप ऑफ कवर विथ कॉटन स्टफ्ड इनसाइड ) ओढ़ के पढ़ रही थी.

उन्न दीनो मेरे एक कज़िन सुनील जिनकी एज होगी कोई 29 – 30 साल की. उन्हो ने अपने सिटी मे कोई नया नया बिज़्नेस स्टार्ट किया हुआ था तो वो कुछ खरीदारी के लिए यहा आए हुए थे और हमारे घर मे ही ठहरे थे. हमारा घर एक डबल स्टोरी घर है ऊपेर सिर्फ़ एक मेरा रूम और दूसरा स्टोर रूम है जिस्मै हमारे घर के स्पेर बेड्स, ब्लॅंकेट्स, बेडशीट्स वाघहैरा रखे रहते हैं. जब उनकी ज़रूरत होती है तो निकाले जाते है मौसम के हिसाब से. और एक दूसरा रूम जिस्मै मैं अकेली रहती हू और अपनी पढ़ाई किया करती हू. मेरा रूम बोहोत बड़ा भी नही और बिल्कुल छोटा भी नही बॅस मीडियम साइज़ का रूम थे जिस्मै मेरा एक बेड पड़ा हुआ था. वो डबल बेड भी नही और सिंगल बेड भी नही बलके डबल से थोडा छोटा और सिंगल से थोड़ा बड़ा बेड था. इतना बड़ा के कभी कभी मेरी फ्रेंड रात मे मेरे साथ पढ़ने के लिए आती और रात मे रुक जाती तो हम दोनो इतमीनान से सो सकते थे. और रूम मे एक पढ़ाई की टेबल और कुर्सी रखी है. एक मेरी कपबोर्ड और एक मीडियम साइज़ का अटॅच्ड बाथरूम है जिस्मै वॉशिंग मशीन भी रखी हुई थी. घर मे नीचे तीन कमरे थे. एक मम्मी और डॅडी का बड़ा सा बेडरूम, दूसरा एक बड़ा हॉल जैसा ड्रॉयिंग रूम जिसके एक कॉर्नर मे डाइनिंग टेबल भी पड़ी हुई थी यह ड्रॉयिंग कम डाइनिंग रूम था और एक स्पेर रूम किसी भी गेस्ट्स वाघहैरा के लिए था जिस्मै सुनील को ठहराया गया था.

हा तो मैं पढ़ाई मे बिज़ी थी. सर्दी जम्म के पड़ रही थी. मैं अपना लहाफ़ ओढ़े बेड पे बैठे पढ़ रही थी. बाइयालजी का सब्जेक्ट था और मैं एक ज़ुवालजी की बुक पढ़ रही थी. इत्तेफ़ाक़ से मैं रिप्रोडक्टिव सिस्टम ही पढ़ रही थी. जिस्मै मेल और फीमेल ऑर्गन्स की डीटेल्स के साथ ट्रॅन्सवर्स सेक्षन की फिगर बनी हुई थी. रात काफ़ी हो चुकी थी मैं अपने पढ़ाई को फाइनल टचस दे रही थी. कुछ फिगर्स देख के बनाए हुए थे नोट्स के लिए उस मैं ही कोलौरिंग कर रही थी और साथ मे लेबलिंग कर रही थी.

रात के शाएद 11 बजे होंगे पर सर्दी होने की वजह से सब जल्दी ही सो गये थे जिस से लगता था के पता न्ही कितनी रात बीत चुकी हो. घर मे मेरी मम्मी और डॅडी नीचे ही रहते थे और डिन्नर के बाद अपनी दवाइयाँ खा के अपने रूम मे जा के सो चुके थे. अचानक सुनील मेरे कमरे मे अंदर आ गये. मैं देख के हैरान रह गई और पूछा के क्या बात है तो उस ने बताया के नींद नही आ रही थी और तुम्हारे रूम की लाइट्स जलती देखी तो ऐसे ही चला आया के देखु तो सही के तुम सच मे अपनी पढ़ाई कर रही हो ( एक आँख बंद कर के ) या कुछ और.

मैं ने कहा के देख लो अपने कोर्स का ही पढ़ रही हू मेरे एग्ज़ॅम्स हैं मैं कोई खेल तमाशा नही कर रही हू. उस ने कहा के लाओ देखु तो सही के तुम क्या पढ़ रही हो और मेरे नोट्स और रेकॉर्ड बुक अपने हाथ मे ले के देखने लगा. सर्दी के मारे उसका भी बुरा हाल हो गया तो वो भी मेरे साथ ही लहाफ़ के अंदर घुस आया और मेरे बाज़ू मे बैठ गया.

रेकॉर्ड बुक के स्टार्टिंग मे तो माइक्रोस्कोप की फिगर थी और फिर सेल का डाइयग्रॅम था उसके बाद ऐसे हो छोटे मोटे डाइयग्रॅम्स फिर फाइनली उसने वो पेज खोल लिया जिस्मै मैं ने मेल और फीमेल के रिप्रोडक्टिव सिस्टम का डाइयग्रॅम बनाया हुआ था. मेरी तरफ मुस्कुरा के देखा और बोला के क्या यह भी तुम्हारे कोर्स मे है. मैं ने कहा हा तो उस ने कहा के अछा मुझे भी तो समझाओ के यह सिस्टम कैसे वर्क करता है. मैं शरम से पानी पानी हुई जा रही थी. मैं ने कहा मुझे नही पता तुम खुद भी तो साइन्स के स्टूडेंट थे अपने आप ही पढ़ लो और समझ लो. उस ने फिर से पूछा के तुम्है समझ मे नही आया क्या यह सिस्टम तो मैं ने कहा के नही तो उसने फिर पूछा के मैं समझा दू तो मेरे मूह से अंजाने मे “हूँ” निकल गया. उसने कहा थे ठीक है मैं समझाता हू और मेरी बुक और मेरी रेकॉर्ड बुक को खोल के पकड़ लिया.
-  - 
Reply
07-12-2017, 12:27 PM,
#2
RE: kamukta Sex kahaaniya किरण की कहानी
हम दोनो बाज़ू बाज़ू मे बैठे थे. मैं घुटने मोड़ के बैठी थी और वो पलटी (क्रॉस लेगेड) मार के बैठा था. अब उसने मुझे समझाना शुरू क्या के यह है फीमेल का रिप्रोडक्टिव ऑर्गन इसे इंग्लीश मैं वेजाइना, पुसी या कंट कहते है और हिन्दी मे योनि या चूत कहते हैं. मैं शरम के मारे एक दम से लाल हो गई पर कुछ कहा नही. फिर उसने डीटेल बताना शुरू किया के यह है लेबिया मेजॉरा जिसे पुसी के लिप्स कहते है और यह उसके अंदर लेबिया मिनोरा यह डार्क पिंक कलर का या लाल कलर का होता है और यह उसके ऊपेर जो छोटा सा बटन जैसा बना हुआ है वो क्लाइटॉरिस या हिन्दी मे घुंडी या चूत का दाना भी कहते हैं और जब इसको धीरे धीरे से रगड़ा जाता है या मसाज किया जाता है तो यह जो चूत का सुराख नज़र आ रहा

है इस मे से पानी निकलना शुरू हो जाता है. या फिर अगर लड़की बोहोत ही एग्ज़ाइटेड हो जाती है तो ये निकलने वाले जुजिसे से चूत गीली हो जाती है जो के रिप्रोडक्षन के इनिशियल काम को आसान बना देती है. इतना सुनना था के मेरी चूत मे से समंदर जितना जूस निकलने लगा और चूत भर गई.

अब यह देखो दूसरी फिगर यह मेल रिप्रोडक्टिव ऑर्गन है. इसे इंग्लीश मे पेनिस या कॉक कहते है और हिन्दी मे लंड या लौदा कहते हैं. यह नॉर्मल हालत मे ऐसे ही ढीला पड़ा रहता है जैसे के पहली पिक्चर मे है ( दो डाइयग्रॅम्स थे. एक मे नों एरेक्टेड पेनिस था दूसरे मे फुल्ली एरेक्टेड पेनिस था ) . और जब यह बोहोत एग्ज़ाइटेड हो जाता है तो यह दूसरी फिगर की तरह खड़ा हो जाता है. यह पेनिस के अंदर जो ब्लड वेसल्स है इन्न मे डॉरॅन खून (ब्लड सर्क्युलेशन) बढ़ जाता है और उसकी वजह से मसल्स अकड़ के लंड लंबा मोटा और सख़्त हो जाता है और मेरा हाथ पकड़ के अपने आकड़े हुए लंड पे रख दिया और कहा ऐसे .

अब मेरी साँसें तेज़ी से चलने लगी थी बदन मे इतनी गर्मी आ गई थी के मुझे लग रहा था मानो मेरा बदन किसी आग मे जल रहा हो. और यह देखो उसने मेरा हाथ लंड के नीचे किया और कहा इसके नीचे जो यह दो बॉल्स दिखाई दे रहे हैं इन्है इंग्लीश मे टेस्टिकल्स या स्क्रोटम और हिन्दी मे अंडे भी कहते हैं. यह आक्च्युयली स्पर्म प्रोड्यूसिंग फॅक्टरी है जहा स्पर्म बनते हैं. यह स्पर्म जब मेल के ऑर्गन से ट्रान्स्फर हो के फीमेल के ऑर्गन मे जाता है तो बचा पैदा होता है. मेरा मानो बुरा हाल हो गया था कुछ समझ मे नही आ रहा था के क्या कहु और सुनील था के बॅस एक प्रोफेसर की तरह से लेक्चर दिए जा रहा था. मैं अंजाने मे उसका तना हुआ लंड अपने हाथ मे पकड़े बैठी थी मुझे इतना होश भी नही था के मैं अपना हाथ उसके लंड पे से हटा लू.

जब मेल का यह एरेक्ट लंड फीमेल की चूत के अंदर जाता है और चुदाई करते करते जब एग्ज़ाइट्मेंट और मज़ा बढ़ जाता है तो अपना स्पर्म चूत के अंदर यह जो बचे दानी दिख रही है उसके मूह पे छोड़ देता है जिस से स्पर्म बचे दानी के खुले मूह के अंदर चला जाता है और बचा पैदा होता है. मुझे पता ही नही चला के उसका एक हाथ तो मेरी चूत पे है जिसका वो मसाज कर रहा है और मेरा हाथ उसके लंड को पकड़े हुए था और मैं अंजाने मे उसके मोटे लंड को दबा रही थी. यह पहला मोका था के मैं ने किसी के लंड को अपने हाथो मे पकड़ा हो. उसने फिर कहा के देखो कैसी गीली हो गई है तुम्हारी चूत ऐसे ही हो जाती है एग्ज़ाइट्मेंट के टाइम पे. तब मुझे एहसास हुआ के यह मैं क्या कर रही हू और एक दम से

अपना हाथ उसके लंड पे से खेच लिया लैकिन उसने अपने हाथ मेरी चूत पे से नही हटाया. मेरी नाइटी मे हाथ डाले हुए ही था और मेरी चूत का मसाज करता ही जा रहा था जिस से मेरी चूत बोहोत गीली हो चुकी थी,

सुनील हस्ने लगा और बोला के डरती कियों हो मैं तो तुम्है थियरी के साथ प्रॅक्टिकल भी बता रहा था ताके तुम अछी तरह से समझ सको. बॅस इतना कहा उसने और एलेक्ट्रिसिटी चली गई और बल्ब बुझ गया और कमरे मे अंधेरा छा गया. मैं तो बे तहाशा गरम और गीली हो चुकी थी साँसें तेज़ी से चल रही थी दिमाग़ और बदन मे सन सनाहट दौड़ रही थी ब्लड सर्क्युलेशन हंड्रेड टाइम्स बढ़ चुका था चेहरा लाल हो गया था गहरी गहरी सांस ले रही थी. उसने मुझे धीरे से पुश किया और मैं बेड पे सीधे लेट गई. वो मेरी साइड मे था उसका हाथ अभी भी चूत पे था मुझे इतना होश भी नही था के मैं उसका हाथ पकड़ के हटा दूं.

बॅस ऐसे ही चित्त लेटी रही और अंजाने मे मेरी टाँगे भी खुल गई थी और वो मेरी चूत का अछी तरह से मसाज कर रहा था. मुझे बोहोत ही मज़ा आ रहा था. अब उसने फिर मेरा हाथ पकड़ के अपने आकड़े हुए लंड पे रख दिया और मेरे हाथ को अपने हाथो से ऐसे दबाया जैसे मैं उसका लंड दबा रही हू. बहुत मोटा, सख़्त और गरम था उसका लंड. उसन्ने एलास्टिक वाला जॉगिंग पॅंट पहना था जिसको उसने अपने घुटनो तक खिसका दिया था और मेरे हाथ मे अपना लंड थमा दिया था और मैं हमेशा की तरह बिना पॅंटी और बिना ब्रस्सिएर के नाइटी पहनी थी मुझे क्या मालूम था के ऐसे होने वाला है. मैं तो रोज़ रात को सोने के टाइम पे अपनी पॅंटी और ब्रस्सिएर निकल के ही सोती थी.
-  - 
Reply
07-12-2017, 12:27 PM,
#3
RE: kamukta Sex kahaaniya किरण की कहानी
उसका हाथ मेरे सर के नीचे था उसने दूसरे हाथ से मुझे अपनी तरफ करवट दिला दी अब हम दोनो एक दूसरे की तरफ मूह करके करवट से लेटे थे. उसने मुझे किस करना शुरू किया तो मेरा मूह बे-इख्तेयार ऑटोमॅटिकली खुल गया और उसकी ज़बान मेरी मूह के अंदर घुस चुकी थी और मैं उसकी ज़बान को ऐसे एक्षपेरेट की तरह चूस रही थी जैसे मैं फ्रेंच किस्सिंग मैं कोई एक्सपर्ट हू हालाँके यह मेरी ज़िंदगी का पहला टंग सकिंग फ्रेंच किस था. मेरे बदन मे जैसे हल्के हल्के एलेक्ट्रिक शॉक्स जैसे लग रहे थे.

मैं सुनील के राइट साइड पे थी और वो मेरे लेफ्ट साइड पे. अब उस ने अपने पैरो को चलाते हुए अपनी जॉगिंग पॅंट भी निकाल दी और अपनी टी-शर्ट भी वो पूरे का पूरा नंगा हो गया था उसके सीने के बॉल मेरे नाइटी के ऊपेर से ही मेरे बूब्स पे लग रहे थे और मेरे निपल्स खड़े हो गये थे. सुनील ने मेरी

राइट लेग को उठा के अपने लेफ्ट थाइ पे रख लिया ऐसा करने से मेरी नाइटी थोड़ी सी ऊपेर उठ गई तो उसने मेरे थाइस पे हाथ फेरते फेरते नाइटी को ऊपेर उठाना शुरू किया और मेरे सहयोग से पूरी नाइटी निकाल दी. मैं एक दम से अपने होश ओ हवास खो चुकी थी और ऑटोमॅटिकली वो जैसे कर रहा था करने दे रही थी और पूरा मज़ा ले रही थी.

हम दोनो एक दूसरे की तरफ करवट लिए लेटे थे और मेरी एक टांग उसके थाइ पे थी और अब उसने मेरे बूब्स को मसलना शुरू कर दिया और फिर उन्है मूह मे ले के चूसने लगा. बूब्स को मूह मे लेते ही मेरे बदन मे एलेक्ट्रिक करेंट दौड़ गया तो मैं ने उसका लंड छोड़ के उसका सर पकड़ के अपने सीने मे घुसा दिया वो ज़ोर ज़ोर से मेरी चूचिओ को चूस रहा था और उसका लंड जोश मे हिल रहा था. लंड का सूपड़ा मेरी चूत के लिप्स को टच कर रहा था. लंड के सुराख मे से प्री कम भी निकल रहा था. उसने मेरा हाथ अपने सर से हटाया और फिर से अपने लंड पे रख दिया और मैं ऑटोमॅटिकली उसको दबाने लगी और वो मेरी चूत का मसाज करने लगा ऊपेर से नीचे कभी चूत के सुराख मे धीरे से उंगली डाल देता कभी चूत के लिप्स के अंदर ही ऊपेर से नीचे और कभी मेरी क्लाइटॉरिस को मसल देता तो मैं जोश मे पागल हो जाती. मेरी एक टंग उसकी थाइस पे रखे रहने की वजह से मेरी चूत थोड़ी सी खुल गई थी और लंड का सूपड़ा चूत से टच हो रहा था तो मैं ने उसके लंड को पकड़े पकड़े अपनी चूत के अंदर रगड़ना शुरू कर दिया. मैं मस्ती से पागल हुई जा रही थी. मुझे लग रहा था जैसे मेरे अंदर कोई लावा उबल रहा है जो बहेर आने को बेचैन है. इसी तरह से मैं उसके लंड को अपनी चूत मे रगड़ती रही और लंड मे से निकला हुआ प्री कम और मेरी चूत का बहता हुआ जूस मिल के चूत को और ज़ियादा स्लिपरी बना रहे थे और मेरे मस्ती के मारे बुरा हाल हो चुका था अब मे चाह रही थी के यह लंड मेरी चूत के अंदर घुस जाए और मुझे चोद डाले.
-  - 
Reply
07-12-2017, 12:28 PM,
#4
RE: kamukta Sex kahaaniya किरण की कहानी
Kiran Ki Kahani part--1

Hello Dosto. Ek Nai kahani likhi hai padh ke bataiye ke kaisi lagi. Kahani kuch ziada hi lambi ho gai hai par I am sure ke aap ko pasand ayegi. Mujhe mail karna ke kahani kaisi lagi. Thanks in advance.

Meri Ek net friend hai Kiran. Kiran ek shadi shuda ladki (aurat) hai. Ladki is liye ke abhi uski age choti hi hai aur Aurat is liye ke uski shadi ho chuki hai aur uski chudai bhi ho chuki hai. Kiran ek bohot hi achi ladki hai yeh mai iss liye janta hu ke mai us se chat karta rehta hu aur mai Kiran se Introduction karwane ke liye apni ek aur friend Isha jo kehne ko to Chicago, America mai rehti hai par sach to yeh hai ke Isha mere dil mai rehti hai aur mera dil Isha ke naam se hi dhadakta hai mai usko apni jaan se ziada pyar karta hu aur apni Ishu Jaan ka shukria ada karna chahta hu. Isha meri jaaanu thanks for the the introduction. I Love you both.

Kiran ki Shadi ko lag bhag 7 – 8 mahine hue hain. India ke hi ek bade metropolitan city mai rehti hai. Us ne mujhe apni jeevan ki bohot sari ghatnayen batai hai jo uske sath ghati hai aur woh chahti hai ke mai uski zindagi ke bare me ek kahani likhu. Usne meri likhi hui kahaniya padhi hain aur meri story writing ki skill se impress ho ke usne mujh se request ki hai to isi liye mai likh raha hu. Meri us se chat hoti rehti hai aur chat karte samaye usne apne bare mai sab kuch bata dia jisko mai ne note kar lia aur ek kahani ki tarah se likh dia. Sab se pehle yeh kahani uske pas forward ki uske approval ke liye aur phir kuch changes additions ke sath aur uski ijazat se hi yah aap sab logo ke liye bhej raha hu. Hope ke aap ko bhi pasand ayegi. Mujhe zaroor mail karna ke aap sab ko yah kahani kaisi lagi. Aapko bata du ke yeh Kahani hundred percent sach hai.

Ab Aage ki kahani Kiran ki Zubani suniye :

Mera Naam Kiran hai. Meri age 27 saal ki hai. Gora Chitta rang. 5’ 6” ki normal height. Chahrera badan 36 D – 32 – 36 ka mera figure hai. Log aur meri saheliya kehti hai ke mai khubsurat hu. Meri shadi ko takreeban 8 mahine hue hain. Pati ke sath

Suhaag Raat aur baki ki sex life kaise guzar rahi hai woh to mai ap ko bataugi hi laikin mai aapko us se pehle ke kuch aur ghatnaye suna ne ja rahi hu.

Mai us samay Inter ke 2nd year (+2 ) ke exam de rahi thi. Umar hogi koi 16 saal ke lag bhag. Mere final exam se pehle preparatory exam hone wale the. January ka mahina tha be inteha sardi pad rahi thi. Mai do do razaiye ( blanket type of cover with cotton stuffed inside ) odh ke padh rahi thi.

Unn dino mere ek cousin Sunil jinki age hogi koi 29 – 30 saal ki. Unho ne apne city mai koi naya naya business start kia hua tha to woh kuch kharidari ke liye yaha aye hue the aur hamare ghar mai hi thehre the. Hamara ghar ek double story ghar hai ooper sirf ek mera room aur doosra store room hai jismai hamare ghar ke spare beds, blankets, bedsheets waghaira rakhe rehte hain. Jab unki zaroorat hoti hai to nikale jate hai mousam ke hisaab se. Aur ek doosra room jismai mai akeli rehti hu aur apni padhai kia karti hu. Mera room bohot bada bhi nahi aur bilkul chota bhi nahi bass medium size ka room the jismai mera ek bed pada hua the. Woh double bed bhi nahi aur single bed bhi nahi balke double se thoda chota aur single se thoda bada bed the. Itna bada ke kabhi kabhi meri friend raat mai mere sath padhne ke liye aati aur raat mai ruk jati to ham dono itmenan se so sakte the. Aur room mai ek padhai ki table aur chiar rakhi hai. Ek meri cupboard aur ek medium size ka attached bathroom hai jismai washing machine bhi rakhi hui thi. Ghar mai neeche teen kamre the. Ek Mummy aur Daddy ka bada sa bedroom, doosra ek bada hall jaisa drawing room jiske ek corner mai dining table bhi padi hui thi yeh drawing cum dining room tha aur ek spare room kisi bhi guests waghaira ke liye tha jismai sunil ko thairaya gaya tha.

Haa to mai padhai mai busy thi. Sardi jamm ke pad rahi thi. Mai apna lehaf odhe bed pe baithe padh rahi thi. Biology ka subject that aur mai ek Zoology ki book padh rahi thi. Ittefaq se mai Reproductive System hi padh rahi thi. Jismai Male aur Female organs ki details ke sath Transverse Section ki figure bani hui thi. Raat kaafi ho chuki thi mai apne padhai ko final touches de rahi thi. Kuch figures dekh ke banaye hue the notes ke liye us mai hi colouring kar rahi thi aur sath mai labelling kar rahi thi.

Raat ke shaed 11 baje honge par sardi hone ki wajah se sab jaldi hi so gaye the jis se lagta tha ke pata nhi kitni raat beet chuki ho. Ghar mai meri Mummy aur Daddy neeche hi rehte the aur dinner ke bad apni dawaiyan kha ke apne room mai ja ke so chuke the. Achanak Sunil mere kamre mai ander aa gaye. Mai dekh ke hairan reh gai aur pucha ke kia bat hai to us ne bataya ke neend nahi aa rahi thi aur tumhare room ki lights jalti dekhi to aise hi chala aaya ke dekhu to sahi ke tum sach mai apni padhai kar rahi ho ( Ek aankh band kar ke ) ya kuch aur.

Mai ne kaha ke dekh lo apne course ka hi padh rahi hu mere exams hain mai koi khel tamasha nahi kar rahi hu. Us ne kaha ke lao dekhu to sahi ke tum kia pad rahi ho aur mere notes aur record book apne hath me le ke dekhne laga. Sardi ke mare uska bhi bura hal ho gaya to woh bhi mere sath hi lehaf ke ander ghus aaya aur mere bazu mai baith gaya.

Record book ke starting mei to Microscope ki figure thi aur phir Cell ka diagram tha uske bad aise ho chote mote diagrams phir finally usne wo page khol lia jismai mai ne male aur female ke reproductive system ka diagram banaya hua tha. Meri taraf muskura ke Dekha aur bola ke kia yah bhi tumhare course mai hai. Mai ne kaha haa to us ne kaha ke acha mujhe bhi to samjhao ke yeh system kaise work karta hai. Mai sharam se pani pani hui ja rahi thi. Mai ne kaha mujhe nahi pata tum khud bhi to science ke student the apne ap hi padh lo aur samajh lo. Us ne phir se pucha ke tumhai samajh mai nahi aaya kia yeh system to mai ne kaha ke nahi to usne phir pucha ke mai samjha du to mere muh se anjaane mai “HOON” nikal gaya. Usne kaha the theek hai mai samjhata hu aur meri book aur meri record book ko khol ke pakad liya.

Ham dono bazu bazu mai baithe the. Mai ghutne mod ke baithi thi aur woh palti (Cross legged) mar ke baitha tha. Ab usne mujhe samjhana shuru kia ke yah hai Female ka reproductive organ ise English mai Vagina, Pussy ya Cunt kehte hai aur Hindi mai Yoni ya Choot kehte hain. Mai sharam ke mare ek dum se laal ho gai par kuch kaha nahi. Phir usne detail batana shuru kia ke yah hai Labia Majora jise Pussy ke lips kehte hai aur yeh uske ander Labia Minora yeh dark pink colour ka ya laal colour ka hota hai aur yeh uske ooper jo chota sa button jaisa bana hua hai woh Clitoris ya hindi mai Ghundi ya choot ka dana bhi kehte hain aur jab isko dheere dheere se ragda jata hai ya massage kia jata hai to yeh jo choot ka surakh nazar aa raha

hai iss mai se pani nikalna shuru ho jata hai. Ya phir agar ladki bohot hi excited ho jati hai to ye nikalne wale jujice se choot geeli ho jati hai jo ke reproduction ke initial kaam ko asaan bana deti hai. Itna sunna tha ke meri choot mai se samandar jitna juice nikalne laga aur choot bhar gai.

Ab yeh dekho doosri figure yeh Male Reproductive Organ hai. Ise English mai Penis ya Cock kehte hai aur Hindi mai Lund ya Louda kehte hain. Yeh normal halat mai aise hi dheela pada rehta hai jaise ke pehli picture mai hai ( do diagrams the. Ek mai non erected penis tha doosre mai fully erected penis tha ) . Aur jab yeh bohot excited ho jata hai to yeh doosri figure ki tarah khada ho jata hai. Yeh penis ke ander jo blood vessels hai inn mai doran khoon (blood circulation) badh jata hai aur uski wajah se muscles akad ke lund lamba mota aur sakht ho jata hai aur mera hath pakad ke apne akde hue lund pe rakh dia aur kaha aise .

Ab meri saansein tezi se chalne lagi thi badan mai itni garmi aa gai thi ke mujhe lag raha tha mano mera badan kisi aag mai jal raha ho. Aur yeh dekho usne mera hath lund ke neeche kia aur kaha iske neeche jo yeh do balls dikhai de rahe hain inhain English mai Testicles ya Scrotum aur Hindi mai Ande bhi kehte hain. Yeh actually sperm producing factory hai jaha sperm bante hain. Yeh sperm jab male ke organ se transfer ho ke female ke organ mai jata hai to bacha paida hota hai. Mera mano bura haal ho gaya tha kuch samajh mai nahi aa raha tha ke kia kahu aur sunil tha ke bass ek professor ki tarah se lecture diye ja raha tha. Mai anjaane mai uska tana hua Lund apne hath mai pakde baithi thi mujhe itna hosh bhi nahi tha ke mai apna hath uske Lund pe se hata lu.

Jab Male ka yeh erect Lund Female ki Choot ke ander jata hai aur chudai karte karte jab excitement aur maza badh jata hai to apna sperm choot ke ander yeh jo bache dani dikh rahi hai uske muh pe chod deta hai jis se sperm bache dani ke khule muh ke ander chala jata hai aur bacha paida hota hai. Mujhe pata hi nahi chala ke uska ek hath to meri choot pe hai jiska woh massage kar raha hai aur Mera hath uske lund ko pakde hue tha aur mai anjaane mai uske mote lund ko daba rahi thi. Yeh pehla moka tha ke mai ne kisi ke Lund ko apne hatho mai pakda ho. Usne phir kaha ke dekho kaisi geeli ho gai hai tumhari choot aise hi ho jati hai excitement ke time pe. Tabb mujhe ehsaas hua ke yeh mai kia kar rahi hu aur ek dum se

apna hath uske lund pe se khech lia laikin usne apne hath meri choot pe se nahi hataya. Meri nighty mai hath dale hue hi tha aur meri choot ka massage karta hi ja raha tha jis se meri choot bohot geeli ho chuki thi,

Sunil hasne laga aur bola ke darti kiyon ho mai to tumhai theory ke sath practical bhi bata raha tha taake tum achi tarah se samajh sako. Bass itna kaha usne aur electricity chali gai aur bulb bujh gaya aur kamre mai andhera chaa gaya. Mati to be tahasha garam aur geeli ho chuki thi saansein tezi se chal rahi thi dimagh aur badan mai san sanaahat doud rahi thi blood circulation hundred times badh chuka tha chehra laal ho gaya tha gehri gehri sans le rahi thi. Usne mujhe dheere se push kia aur mai bed pe seedhe let gai. Woh meri side mai tha uska hath abhi bhi choot pe tha mujhe itna hosh bhi nahi tha ke mai uska hath pakad ke hata dun.

Bass aise hi chitt leti rahi aur anjaane mai meri tange bhi khul gai thi aur woh meri choot ka achi tarah se massage kar raha tha. Mujhe bohot hi maza aa raha tha. Ab usne phir mera hath pakad ke apne akde hue Lund pe rakh dia aur mere hath ko apne hatho se aise dabaya jaise mai uska lund daba rahi hu. Bohot mota, sakht aur garam tha uska Lund. Usnne elastic wala jogging pant pehna tha jisko usne apne ghutno tak khiska dia tha aur mere hath mai apna Lund thama dia tha aur mai hamesha ki tarah bina panty aur bina brassier ke nighty pehni thi mujhe kia malum tha ke aise hone wala hai. mai to roz raat ko sone ke time pe apni panty aur brassier nikal ke hi soti thi.

Uska hath mere sar ke neeche tha usne doosre hath se mujhe apni taraf karwat dila di ab ham dono ek doosre ki taraf muh karke karwat se lete the. Usne mujhe kiss karna shuru kia to mera muh be-ikhteyaar automatically khul gaya aur uski zaban meri muh ke ander ghus chuki thi aur mai uski zaban ko aise experet ki tarah choos rahi thia jaise mai French kissing mai koi expert hu halaanke yah meri zindagi ka pehla tongue sucking French kiss tha. Mere badan mai jaise halke halke electric shocks jaise lag rahe the.

Mai sunil ke right side pe thi aur woh mere left side pe. Ab us ne apne pairo ko chalate hue apni jogging pant bhi nikal di aur apni t-shirt bhi woh poore ka poora nanga ho gaya tha uske seene ke baal mere nighty ke ooper se hi mere boobs pe lag rahe the aur mere nipples khade ho gaye the. Sunil ne meri

right leg ko utha ke apne left thigh pe rakh lia aisa karne se meri nighty thodi si ooper uth gai to usne mere thighs pe hath pherte pherte nighty ko ooper uthana shuru kia aur mere sahyog se poori nighty nikal di. Mei ek dum se apne hosh o hawas kho chuki thi aur automatically woh jaise kar raha tha karne de rahi thi aur poora maza le rahi thi.

Ham dono ek doosre ki taraf karwat liye lete the aur meri ek tang uske thigh pe thi aur ab usne mere boobs ko msasalna shuru kar dia aur phir unhai muh me le ke choosne laga. Boobs ko muh mai lete hi mere badan mai electric current doud gaya to mai ne uska Lund chor ke uska sar pakad ke apne seene mai ghusa dia woh zor zor se meri choochion ko choos raha tha aur uska Lund josh mai hil raha tha. Lund ka supada meri choot ke lips ko touch kar raha tha. Lund ke surakh mai se pre cum bhi nikal raha tha. Usne mera hath apne sar se hataya aur phir se apne Lund pe rakh dia aur mai automatically usko dabane lagi aur woh meri choot ka massage karne laga ooper se neeche kabhi choot ke surakh mai dheere se ungli dal deta kabhi choot ke lips ke ander hi ooper se neeche aur kabhi meri clitoris ko masal deta to mai josh mai pagal ho jati. Meri ek tang uski thighs pe rakhe rehne ki wajah se meri choot thodi si khul gai thi aur Lund ka supada choot se touch ho raha tha to mai ne uske Lund ko pakde pakde apni choot ke ander ragadna shuru kar dia. Mai masti se pagal hui ja rahi thi. Mujhe lag raha tha jaise mere ander koi lawa ubal raha hai jo baher aane ko bechain hai. Isi tarah se mai uske Lund ko apni choot mai ragadti rahi aur Lund mai se nikla hua pre cum aur meri choot ka behta hua juice mil ke choot ko aur ziada slippery bana rahe the aur mere masti ke mare bura haal ho chuka tha ab mai chah rahi thi ke yeh lund meri choot ke ander ghuss jaye aur mujhe chod dale.
-  - 
Reply
07-12-2017, 12:28 PM,
#5
RE: kamukta Sex kahaaniya किरण की कहानी
किरण की कहानी पार्ट--2

लेखक-- दा ग्रेट वोरिअर

हिंदी फॉण्ट बाय राज शर्मा

गतांक से आगे........................

सुनील ने मुझे फिर से चित्त लिटा दिया और मेरी टांगो को खोल के बीच मे आ गया और मेरी बे इंतेहा गीली चूत का किस किया तो मैं ने अपने चूतड़ उठा के उसके मूह मे अपनी चूत को घुसेड़ना शुरू कर्दिआ मेरी आँखें बंद हो गई थी और मज़े का आलम तो बस ना पूछो इतना मज़ा आ रहा था जिसको लिखना मुश्किल है.

उसका मूह मेरे चूत पे लगते ही मेरी टाँगें ऑटोमॅटिकली ऊपेर उठ गई और उसके नेक पे कैंची की तरह लिपट गई और मैं उसके सर को अपनी टांगो से अपनी चूत के अंदर घुसेड रही थी और मुझे ऐसे लग रहा था जैसे मेरे अंदर उबलता हुआ लावा

अब बहेर निकलने को बेचैन है. मेरी आँखें बंद हो गई और उसकी ज़बान मेरी क्लाइटॉरिस को लगते ही मेरे बदन मे सन सनी सी फैल गई और मेरे मूह से एक ज़ोर की सिसकारी निकली आआआआआआअहह सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स और मेरी चूत मे से गरम गरम लावा निकलने लगा और पता नही कितनी देर तक निकलता रहा जब मेरा दिमाग़ ठिकाने पे आया तब देखा के सुनील अभी भी मेरी चूत मे अपनी ज़बान घुसेड के चाट रहा है और पूरी चूत को अपने मूह मे ले के दांतो से काट रहा है और मेरी चूत मे फिर से आग लगने लगी.

मैं सोच रही थी के बस अब सुनील मेरी चुदाई कर दे लैकिन उस से बोलने मे शरम भी आ रही थी बॅस इंतेज़ार ही करती रही के कब यह मुझे चोदेगा.

सुनील के हाथ मेरी गंद के नीचे थे और वो मेरी चूतदों को उठा के चूत को चूस रहा था. मैं अपनी चूतदो को उछाल उछाल के अपनी चूत सुनील के मूह से रगड़ रही थी चूत मे फिर से गुदगुदी शुरू हो गई थी चूत बे इंतेहा गीली हो चुकी थी और मस्ती मे मेरी आँखें बंद थी और मैं सुनील का सर पकड़े हुए अपनी चूत मे घुसेड रही थी. अब शाएद सुनील से भी बर्दाश्त नही हो रहा था तो वो अपनी जगह से उठा और मेरे टाँगों के बीच मे बैठ गया और अपने लोड्‍े को अपने हाथ से पकड़ केउसके सूपदे को मेरी गीली और गरम जलती हुई चूत के अंदर ऊपेर से नीचे कर रहा था. मेरी टाँगें मूडी हुई थी. मुझ से भी अब सहन नही हो रहा था तो मैं ने अपना हाथ बढ़ा के सुनील का लोहे जैसा सख़्त और मोटा तगड़ा लंड अपने हाथो से पकड़ के अपनी ही चूत मे घिसना शुरू कर दिया. उसके लंड मे से निकलता हुआ प्री कम से उसका लंड चूत के अंदर स्लिप हो रहा था और जब उसके लंड का सूपड़ा मेरी चूत के सुराख पे लगता तो मेरे मूह से मज़े की एक सिसकारी निकल जाती.

सुनील अब मेरे ऊपेर बेंड हो गया और मेरे मूह मे अपनी ज़बान को घुसेड के फ्रेंच किस कर रहा था और मैं उसके लंड को अपनी चूत मे घिस्स रही थी. मेरी टाँगें सुनील के बॅक पे लपेटी हुई थी और सुनील का लंड मेरी चूत के लिप्स के बीचे मे सॅंडविच बना हुआ था. उसने अपने लंड को चूत के लिप्स के बीच मे से ऊपेर नीचे करना शुरू कर दिया. चूत बोहोत ही स्लिपरी हो गई थी और ऐसे ही ऊपेर नीचे करते करते उसके लंड का मोटा सूपड़ा मेरी छोटी सी चूत के सुराख मे अटक गया और मेरा मूह एग्ज़ाइट्मेंट मे खुला रह गया. उसने अपना लंड थोड़ा सा और पुश किया तो उसके लंड का सूपड़ा पूरा चूत के अंदर घुस गया और मुझे लगा जैसे मेरी अंदर की सांस अंदर और बहेर की सांस बहेर रह गई हो

मेरे मूह से हल्की सी चीख ऊऊऊीीईईईईईईईई निकल गई मैं ने अपने दाँत ज़ोर से बंद कर लिए.

उसने सूपदे को धीरे धीरे अंदर बहेर करना शुरू किया तो मेरी चूत मे एक अजीब सा मज़ा महसूस होने लगा और मैं ने अपने दोनो हाथ बढ़ा कर सुनील को अपने बाँहो मे ज़ोर से जाकड़ लिया. सुनील ने लंड को थोडा और अंदर घुसेड़ा तो मेरी चूत का सुराख जैसे बड़ा होने लगा और मुझे तकलीफ़ होने लगी. मैं ने कहा सुनील दरद हो रहा है अब और अंदर मत डालो प्लीज़ तो उस ने कहा अरे पगली अभी तो थोडा सा भी अंदर नही गया और कहा के अभी तुमको मज़ा आएगा थोडा वेट करो और फिर मेरे चुचिओ को चूसने लगा तो मेरे बदन मे फिर से सन सनी सी फैलनी शुरू हो गई और मैं उसके बॅक पे अपने हाथ फिराने लगी.

सुनील अपने लंड के सूपदे को मेरी छोटी सी टाइट चूत के अंदर बहेर करने लगा .मेरी चूत मे से जूस निकलने की वजह से उसके लंड का टोपा अब अंदर बहेर स्लिप हो रहा था ऐसे ही करते करते उसने अपने लंड को बहेर निकाला और एक झटका मारा तो उसका लोहे जैसा सख़्त लंड मेरे चूत के अंदर आधा घुस्स गया और मेरे मूह से चीख निकल गैइइ उउउउउउउउह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह सस्स्स्स्स्स्स्स्स्सिईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईई

लंड अब आधा अंदर घुस्स चुका था और मेरी चूत के अंदर जलन शुरू हो गई. मैं उस से ज़ोर से लिपट गई सारा बदन अकड़ गया तो सुनील ने धक्के मारना बंद कर दिया और मेरी चुचिओ को चूसने लगा. थोड़ी देर मे ही फिर से मुझे अछा लगने लगा और मेरी ग्रिप सुनील पे थोड़ी ढीली हो गई. उस ने अपना लंड मेरी चूत के अंदर ऐसे हो छोड़ दिया और चुचिओ को चूसने लगा. मुझे फिर से मज़ा आने लगा उसका आधा घुसा हुआ लंड अछा लगने लगा.

जब उसने देखा के मेरी चूत उसके मोटे लंड को अपनी छोटे से सुराख मे अड्जस्ट कर लिया है तो उसने अपना लंड धीरे धीरे अंदर बहेर करना शुरू कर दिया जिस से मुझे बोहोत मज़ा आने लगा और मेरी चूत मे से जूस कंटिन्यू निकलने लगा जिस से मेरी चूत बोहोत ही गीली हो चुकी थी. अब सुनील ने अपने हाथ मेरी बगल से निकाल के मेरे शोल्डर्स को पकड़ लिया और मुझे फ्रेंच किस करने लगा पोज़िशन ऐसी थी के दोनो के बदन के बीच मे मेरे बूब्स चिपक गये थे सुनील मुझ पे झुका हुआ था और उसका लंड मेरी चूत मे आधा घुसा हुआ था. सुनील ने धीरे धीरे लंड को अंदर बहेर कर के मेरी चुदाई शुरू की और मैं मज़े से पागल हो ने लगी.
-  - 
Reply
07-12-2017, 12:28 PM,
#6
RE: kamukta Sex kahaaniya किरण की कहानी
मेरी चूत मे उसका

मोटा लंड फँसा हुआ था और अंदर बहेर हो रहा था. मुझे फिर से लगने लगा के मेरे चूत के बोहोत अंदर कोई लावा जैसा उबल रहा है और बहेर निकल ने को बेचैन है उतने मे ही सुनील ने अपने लंड को मेरी चूत से पूरा बहेर निकाल लिया तो मुझे अपनी चूत खाली खाली (एंप्टी) लगने लगी और फिर देखते ही देखते उसने इतनी ज़ोर का झटका मारा और मेरे मूह से ऊऊऊऊऊऊओिईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईई म्‍म्म्मममममममममाआआआआआआअ ऊऊऊऊऊऊफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफ्फ़ निकाआआआआल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्ल्लूऊऊऊऊऊऊ बेयेयेयेयाहेयरर्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र माआआअरर्र्र्ररर ड्ड्डययेएयेएयीयायाऑल्ल्लायाआयायेयीययाया ऊवुवायीयीयियी माआआआआआआअ और मुझे लगा जैसे मेररे बदन को चीरता हुआ कोई मोटा सा लोहे का सख़्त डंडा मेरी चूत के रास्ते मेरी टाँगो के बीच मे घुस्स गया हो और मैं सुनील से ऐसे लिपट गई उसको ज़ोर से पकड़ लिया और एक दम से टोटल ब्लॅक आउट शाएद मैं एक लम्हे के लिए बे होश हो गई कमरे मे तो पहले से ही अंधेरा था मुझे कुछ नज़र ही नही आ रहा था और फिर सडेनली ऐसे चूत फाड़ झटके से तो मैं एक दम से बेहोश हो गई मुझे लगा जैसे सारा कमरा मेरे आगे घूम रहा हो मूह खुला का खुला रह गया था और आँखे बहेर निकल आई थी और आँखों मे से पानी निकल रहा था मेरा मूह तकलीफ़ के मारे खुल गया था लगता था बदन मेकई खून ही नही हो दिमाग़ काम नही कर रहा था..

पता नही मैं कितनी देर उसको ज़ोर से चिपकी रही और कितनी देर तक बेहोश रही जब होश आया तो देखा के वो अपने लंड से मेरी फटी चूत को चोद रहा है उसका लंड अंदर बहेर हो रहा है और मेरी चूत मे जलन से जैसे आग लगी हुई हो मेरी मूह से ऊऊऊऊऊऊऊईईईईईईईईईईईइ आआआआआआहह ऊऊऊऊऊऊऊऊन्न्‍नननननननननननननननननणणन् आआआआआआआऐययईईईईईईईईईईईईईईईईईईईई और सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सिईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईईई सस्स्स्स्स्स्स्स्सिईईईईईईईईईई जैसी आवाज़ें निकल रही थी लैकिन सुनील था के रुकने का नाम ही नही ले रहा था लगता था जैसे पागल हो गया हो ज़ोर ज़ोर से चुदाई कर रहा था और मेरी फटी चूत मे दरद हो रहा था. मेरा जो लावा निकालने को बेताब था पता नही वो कहा चला गया था और मुझे बे इंतेहा दरद हो रहा था लगता था जैसे कोई छुरी (नाइफ) से मेरी चूत को काट रहा हो चूत के अंदर बे इंतहा जलन और दरद हो रहा था.

सुनील मुझे चोदे ही जा रहा था अंधेरे मे उसे पता भी तो नही चल रहा था के मैं कितनी तकलीफ़ मे हू.
-  - 
Reply
07-12-2017, 12:28 PM,
#7
RE: kamukta Sex kahaaniya किरण की कहानी
मैं उसके बदन

से चिपकी हुई थी उसके झटको से मेरे बूब्स आगे पीछे हो रहे थे. थोड़ी ही देर मे जब मेरी चूत उसके मोटे लंड को अपने छोटे से सुराख मे अड्जस्ट कर चुकी तो अब मुझे भी मज़ा आने लगा और मेरी ग्रिप उस पे से ढीली पड़ गई और वो अब धना धन चोद रहा था लंड अंदर बहेर हो रहा था मुझे बोहोत ही मज़ा आ रहा था ऐसा मज़ा जो कभी सारी ज़िंदगी नही आया था. उसके हाथ अभी भी मेरे शोल्डर्स को पकड़े हुए था और वो अपनी गंद उठा उठा के लंड को पूरा हेड तक बहेर निकालता और ज़ोर के झटके से चूत के अंदर घुसे देता. उसके चोदने की स्पीड बढ़ गई थी और अब मेरा लावा जो पता नही कब से निकलने को बे ताब था मुझे लगा के अब वो फिर से बहेर आने वाला है और मुझे अपनी चूत के अंदर ही अंदर उसका लंड फूलता हुआ महसूस हुआ उसने बोहोत ज़ोर ज़ोर से चोदना शुरू किया और फाइनली लंड को पूरा चूत से बहेर निकाला और एक इतनी ज़ोर से झटका मारा के मेरा सारा बदन हिल गया और मेरे बदन मे जैसे बिजली की झटके लगने लगे सारा बदन काँपने लगा मैं ने फिर से सुनील को ज़ोर से अपनी बाँहो मे जाकड़ लिया उसके साथ ही उसके लोहे जैसे सख़्त लंड मे से गरम गरम मलाई के फव्वारे निकलने लगे मेरी चूत को भरने लगा और बस उसी टाइम पे मेरा लावा जो चूत के बोहोत अंदर उबाल रहा था बहेर निकलने लगा ऐसे जैसे बौंड्रीएस टूड के दरिया का पानी बहेर निकल जाता है. आआआआआआआअहह मुझे लगा जैसे सारी दुनिया मे अंधेरा छा गया हो बदन मे झटके लग रहे थे दिमाग़ मे सन सनाहट हो रही थी और बोहोत ही मज़ा आ रहा था सुनील अभी भी धीरे धीरे चुदाई कर रहा था जितनी देर तक उसकी मलाई निकलती रही उसके धक्के चलते रहे और फिर वो सडन्ली मेरे बदन पे गिर गया जिस से मेरे बूब्स हम दोनो के बदन के बीचे मे सॅंडविच बन गये. हम दोनो गहरी गहरी साँसें ले रहे थे मैं उसके बालों मे हाथ फिरा रही थी मेरी ग्रिप टोटली लूस पड़ गई थी टाँगें खुली पड़ी थी मैं चित्त लेटी रही सुनील का लंड अभी भी मेरी चूत के अंदर ही था पर अब वो धीर धीरे नरम होने लगा था और फिर एक प्लॉप की आवाज़ के साथ उसका लंड मेरी चूत के सुराख से बहेर निकल गया और मुझे लगा के उसकी और मेरी मलाई जो चूत के अंदर जमा हो चुकी थी वो बहेर निकल रही है और मेरी गंद के क्रॅक पे से होती हुई नीचे बेडशीट पे गिरने लगी.

सुनील थोड़ी देर तक मेरे ऊपेर ऐसे ही पड़ा रहा जब दोनो को होश आया तो उसने मुझे एक फ्रेंच किस किया और बोला के कल रात फिर तुम्है रिप्रोडक्टिव सिस्टम का दूसरा भाग पढ़ाने आउन्गा. मैं ने मुस्कुराते हुए कहा शैतान चलो भागो यहा से
-  - 
Reply
07-12-2017, 12:28 PM,
#8
RE: kamukta Sex kahaaniya किरण की कहानी
तुम ने यह क्या कर डाला अगर कुछ हो गया तो क्या होगा. उसने कहा नही ऐसे नही होगा तुम फिकर ना करो. और वो अपने कपड़े पहेन के नीचे सोने चला गया.

मैं सुबह देर तक सोती रही नीचे से मम्मी आवाज़ें देती रही लैकिन मैं तो गहरी नींद सो रही थी तो मम्मी ने सुनील से कहा के जा बेटा ज़रा देख तो सही यह किरण की बच्ची अभी तक सोई पड़ी है. कॉलेज भी जाना है उसने. सुनील ऊपेर आया और मुझे जगाया. मैं जब जागी और अपने बेड से उठी तो देखा का वो तो ब्लड से भरी पड़ी है मैं तो एक दम से डर ही गई पर सुनील ने कहा डरने की कोई बात नही यह तुम्हारी हाइमेन थी जिसे हिन्दी मे झिल्ली भी कहते है वो फॅट गई और तुम्हारी चूत की सील टूट गई है. यह झिल्ली तो हर कंवारी लड़की को होती है और पहली चुदाई मे टूट जाती है और यह नॉर्मल है तो मैं ने इतमीनान का साँस लिया और बेडशीट को लपेट के वॉशिंग मशीन मे धोने के लिए डाल दिया और मैं जब नहा धो के नीचे उतर रही थी तो मुझ से ठीक से चला नही जा रहा था. मम्मी ने पूछा क्या हुआ ऐसे कियों चल रही है तेरी तबीयत तो ठीक हा ना तो मैं ने कहा पता नही मोम क्या हुआ तो सुनील ने शरारत से मुस्कुराते हुए बीच मे कहा के शाएद कोई चीज़ चुब्ब गई होगी तो मैं ने उसकी तरफ बनावटी घुस्से से देखा और मैं ने मा से कहा हा मा हो सकता है कोई चीज़ चुब्ब गई हो कल रात बिजली भी तो चली गई थी ना मोम और अंधेरा हो गया था तो हो सकता है कोई चीज़ सच मे चुब्ब गई हो तो मा ने इतमीनान का साँस लिया और कहा ठीक है अगर दवाई लगानी हो तो लगा लो तो सुनील ने मुस्कुराते हुए कहा आप फिकर ना करे आंटी मैं इसे आज दरद कम होने का इंजेक्षन लगा दूँगा जिसस से इसका दरद हमेशा के लिए ख़तम हो जाएगा. मा ने कहा हा यह ठीक है पर मा को क्या पता के सुनील कौन्से इंजेक्षन की बात कर रहा है और यह इंजेक्षन वो किरण को कहा लगाएगा यह तो बस मैं जानती थी या वो.

मैं ने नाश्ता किया और कॉलेज चली गई. कॉलेज तो चली गई पर कही दिल ही नही लग रहा था चूत मे मीठी मीठी खुजली हो रही थी बार बार मेरा हाथ मेरी चूत पे ही चला जाता था और सारे बदन मे मीठा मीठा सा दरद हो रहा था बार बार अंगड़ाई लेने का मन कर रहा था. आअज कॉलेज कुछ अजीब सा लग रहा था पता नही क्यों. खैर कॉलेज का टाइम ख़तम हुआ मैं घर आ गई और लंच के बाद अपने रूम मे जा के सो गई. बहुत देर तक सोती रही उठने का मंन ही नही कर रहा था सारे बदन मे एक अजीब सी मिठास लग रही थी. लेट ईव्निंग उठी और फ्रेश हो के नीचे आ गई और हम सब ने डिन्नर साथ किया. वही डिन्नर टेबल पे बैठ के हम सब बातें करने लगे

मगर मेरा मन तो कही और ही था मैं बातें सुन्न तो रही थी पर समझ मे कुछ भी नही आ रहा था. थोड़ी देर के बाद मैं ने कहा के अब मैं जाती हू मुझे पढ़ाई करनी है और मैं ऊपेर अपने कमरे मे चली गई.
-  - 
Reply
07-12-2017, 12:29 PM,
#9
RE: kamukta Sex kahaaniya किरण की कहानी
Sunil ne mujhe phir se chitt lita dia aur meri tango ko khol ke beech mai aa gaya aur meri be inteha geeli choot ka kiss kia to mai ne apne chootad utha ke uske muh mai apni choot ko ghusedna shuru kardia Meri aankhein band ho gai thi aur maze ka aalam to bas na pooch itna maza aa raha tha jiko likhna mushkil hai.

Uska muh mere choot pe lagte hi meri tangein automatically ooper uth gai aur uske neck pe kainchi ki tarah lipat gai aur mai uske sar ko apne tango se apni choot ke ander ghused rahi thi aur mujhe aise lag raha tha jaise mere ander ubalta hua lava

ab baher hikalne ko bechain hai. Meri aankhein band ho gai aur uski zaban meri clitoris ko lagte hi mere badan mai san sani si phail gai aur mere muh se ek zor ki siskari nikli aaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhhhhh sssssssssssssssssssss aur meri choot mai se garam garam lava nikalne laga aur pata nahi kitni der tak nikalta raha jab mera dimagh thikaane pe aaya tab dekha ke sunil abhi bhi meri choot mai apni zaban ghused ke chaat raha hai aur poori choot ko apne muh mai le ke daton se kaat raha hai aur meri choot mai phir se aag lagne lagi.

Mai soch rahi thi ke bas ab sunil meri chudai kar de laikin us se bolne mai sharam bhi aa rahi thi bass intezar hi karti rahi ke kab yeh mujhe chodega.

Sunil ke hath meri gand ke neeche the aur woh meri chootadon ko utha ke choot ko choos raha tha. Mai apni chootado ko uchal uchal ke apni choot sunil ke muh se ragad rahi thi choot mai phir se gudgudi shuru ho gai thi choot be inteha geeli ho chuki thi aur masti mai meri ankhein band thi aur mai sunil ka sar pakde hue apni choot mai ghused rahi thi. Ab shaed sunil se bhi bardasht nahi ho raha tha to woh apni jagah se utha aur mere tangon ke beech mai baith gaya aur apne lode ko apne hath se pakad keuske supade ko meri geeli aur garam jalti hui choot ke ander ooper se neeche kar raha tha. Meri tangein mudi hui thi. Mujh se bhi ab sehan nahi ho raha tha to mai ne apna hath badha ke sunil ka lohe jaisa sakht aur mota tagda Lund apne hatho se pakad ke apni hi choot mai ghisna shuru kar dia. Uske Lund mai se nikalta hua pre cum se uska Lund choot ke ander slip ho raha tha aur jab uske lund ka supada meri choot ke surakh pe lagta to mere muh se maze ki ek siskaari nikal jati.

Sunil ab mere ooper bend ho gaya aur mere muh mai apni zaban ko ghused ke French kiss kar raha tha aur main uske lund ko apni choot mai ghiss rahi thi. Meri tangein sunil ke back pe lapeti hui thi aur sunil ka Lund meri choot ke lips ke beeche mai sandwich bana hua tha. Usne apne Lund ko choot ke lips ke beech mai se ooper neeche karna shuru kar dia. Choot bohot hi slippery ho gai thi aur aise hi ooper neeche karte karte uske lund ka mota supada meri choti si choot ke surakh mai atak gaya aur mera muh excitement mai khula reh gaya. Usne apna Lund thoda sa aur push kia to uske Lund ka supada poora choot ke ander ghus gaya aur mujhe laga jaise meri ander ki sans ander aur baher ki sans baher reh gai ho

mere muh se halki si cheekh ooooooiiiiiiiiiii nikal gai mai ne apne dant zor se band kar liye.

Usne supade ko dheere dheere ander baher karna shuru kia to meri choot mai ek ajeeb sa maza mehsoos hone laga aur mai ne apne dono hath badha kar sunil ko apne baho mai zor se jakad lia. Sunil ne Lund ko thoda aur ander ghuseda to meri choot ka surakh jaise bada hone laga aur mujhe takleef hone lagi. Mai ne kaha sunil darad ho raha hai ab aur ander mat dalo please to us ne kaha arey pagli abhi to thoda sa bhi ander nahi gaya aur kaha ke abhi tumko maza ayega thoda wait karo aur phir mere chuchion ko choosne laga to mere badan mai phir se san sani si phailni shuru ho gai aur mai uske back pe apne hath phirane lagi.

Sunil apne lund ke supade ko meri choti si tight choot ke ander baher karne laga .Meri choot mai se juice nikalne ki wajah se uske Lund ka topa ab ander baher slip ho raha tha aise hi karte karte usne apne lund ko baher nikala aur ek jhatka mara to uska lohe jaisa sakht lund mere choot ke ander aadha ghuss gaya aur mere muh se cheekh nikal gaiii uuuuuuuuhhhhhhhhhhhhhhhh sssssssssssiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii

Lund ab aadha ander ghuss chuka tha aur meri choot ke ander jalan shuru ho gai. Mai us se zor se lipat gai sara badan akad gaya to sunil ne dhakke marna band kar dia aur meri chuchion ko choosne laga. Thodi der mai hi phir se mujhe acha lagne laga aur meri grip sunil pe thodi dheeli ho gai. Us ne apna Lund meri choot ke ander aise ho chor dia aur chuchion ko choosne laga. Mujhe phir se maza aane laga uska aadha ghusa hua Lund acha lagne laga.

Jab usne dekha ke meri choot uske mote Lund ko apni chote se surakh me adjust kar lia hai to usne apna lund dheere dheere ander baher karna shuru kar dia jis se mujhe bohot maza aane laga aur meri choot mai se juice continue nikalne laga jis se meri choot bohot hi geeli ho chuki thi. Ab sunil ne apne hath meri baghal se nikal ke mere shoulders ko pakad lia aur mujhe French kiss karne laga position aisi thi ke dono ke badan ke beech mai mere boobs chipak gaye the sunil mujh pe jhuka hua tha aur uska lund meri choot mai aadha ghusa hua tha. Sunil ne dheere dheere lund ko ander baher kar ke meri chudai shuru ki aur mai maze se pagal ho ne lagi. Meri choot mai uska

mota Lund phansa hua tha aur ander baher ho raha tha. Mujhe phir se lagne laga ke mere choot ke bohot ander koi lava jaisa ubal raha hai aur baher nikal ne ko bechain hai utne mai hi sunil ne apne lund ko meri choot se poora baher nikal lia to mujhe apni choot khaali khaali (empty) lagne lagi aur phir dekhte hi dekhte usne itni zor ka jhatka mara aur mere muh se oooooooooooooiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii mmmmmmmmmmmmaaaaaaaaaaaaaaa oooooooooooofffffffffffffffffffffffffffffffffff nikaaaaaaaaaallllllllllloooooooooooooo baaaaaaaahhheeerrrrrrrrrrrrrr maaaaaaarrrrrrr dddaaaaaaaaaaaalllllllllllllllllllllllllaaaaaaaaaaaaaaa ooooiiiiii maaaaaaaaaaaaaaa aur mujhe laga jaise merre badan ko cheerta hua koi mota sa lohe ka sakht danda meri choot ke raaste meri tango ke beech mai ghuss gaya ho aur mai sunil se aise lipat gai usko zor se pakad lia aur ek dum se total black out shaed mai ek lamhe ke liye be hosh ho gai kamre mai to pehle se hi andhera tha mujhe kuch nazar hi nahi aa raha tha aur phir sudden aise choot phaad jhatke se to mai ek dum se behosh ho gai mujhe laga jaise sara kamra mere aage ghoom raha ho muh khula ka khula reh gaya tha aur aankhei baher nikal aaii thi aur ankhon mai se pani nikal raha tha mera muh takleef ke marey khul gaya tha lagta tha badan kai khoon hi nahi ho dimagh kaam nahi kar raha tha..

Pata nahi mai kitni der usko zor se chipki rahi aur kitni der tak behosh rahi jab hosh aaya to dekha ke woh apne lund se meri phati choot ko chod raha hai uska lund ander baher ho raha hai aur meri choot mai jalan se jaise aag lagi hui ho meri muh se ooooooooooooooiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii aaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhhh oooooooooooooooonnnnnnnnnnnnnnnnnnnnnn aaaaaaaaaaaaaaaiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii aur sssssssssssssiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiiii ssssssssssiiiiiiiiiiii jaisi awazein nikal rahi thi laikin sunil tha ke rukne ka naam hi nahi le raha tha lagta tha jaise pagal ho gaya ho zor zor se chudai kar raha tha aur meri phati choot mai darad ho raha tha. Mera jo lava nikalne ko betaab tha pata nahi woh kaha chala gaya tha aur mujhe be inteha darad ho raha tha lagta tha jaise koi churi (knife) se meri choot ko kaat raha ho choot ke ander be intaha jalan aur darad ho raha tha.

Sunil mujhe chode hi ja raha tha andhere mei use pata bhi to nahi chal raha tha ke mai kitni takleef mai hu. Mai uske badan

se chipki hui thi uske jhatko se mere boobs aage peeche ho rahe the. Thodi hi der mai jab meri choot uske mote lund ko apne chote se surakh mai adjust kar chuki to ab mujhe bhi maza aane laga aur meri grip us pe se dheeli pad gai aur woh ab dhana dhan chod raha tha lund ander baher ho raha tha mujhe bohot hi maza aa raha tha aisa maza jo kabhi saari zindagi nahi aaya tha. Uske hath abhi bhi mere shoulders ko pakde hue tha aur woh apni gand utha utha ke lund ko poora head tak baher nikalta aur jor ke jhatke se choot ke ander ghuse deta. Uske chodne ki speed badh gai thi aur ab mera lava jo pata nahi kab se nikalne ko be taab tha mujhe laga ke ab woh phir se baher aane wala hai aur mujhe apni choot ke ander hi ander uska lund phoolta hua mehsoos hua usne bohot zor zor se chodna shuru kia aur finally lund ko poora choot se baher nikala aur ek itni zor se jhatka mara ke mera sara badan hil gaya aur mere badan mai jaise bijli ki jhatke lagne lage sara badan kaanpne laga mai ne phir se sunil ko zor se apni baho mai jakad lia uske sath hi uske lohe jaise sakht lund mai se garam garam malai ke fawware nikalne lage meri choot ko bharne laga aur bass usi time pe mera lava jo choot ke bohot ander ubal raha tha baher nikalne laga aise jaise boundries tood ke dariya ka pani baher nikal jata hai. aaaaaaaaaaaaaaahhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhhh mujhe laga jaise sari dunya mai andhera cha gaya ho badan mai jhatke lag rahe the dimagh mai san sanaahat ho rahi thi aur bohot hi maza aa raha tha sunil abhi bhi dheere dheere chudai kar raha tha jitni der tak uski malai nikalti rahi uske dhakke chalte rahe aur phir woh suddenly mere badan pe gir gaya jis se mere boobs ham dono ke badan ke beeche mai sandwich ban gaye. Ham dono gehri gehri sansein le rahe the mai uske balon mai hath phira rahi thi meri grip totally loose pad gai thia tangein khuli padi thi mai chitt leti rahi Sunil ka lund abhi bhi meri choot ke ander hi tha par ab wo dheer dheere naram hone laga tha aur phir ek plop ki awaz ke sath uska lund meri choot ke surakh se baher nikal gaya aur mujhe laga ke uski aur meri malai jo choot ke ander jama ho chuki thi woh baher nikal rahi hai aur meri gand ke crack pe se hoti hui neeche bedsheet pe girne lagi.

Sunil thodi der tak mere ooper aise hi pada raha jab dono ko hosh aaya to usne mujhe ek French kiss kia aur bola ke kal rat phir tumhai reproductive system ka doosra bhaag padhaane aunga. Mai ne muskurate hue kaha shaitan chalo bhago yaha se

tum ne yeh kia kar dala agar kuch ho gaya to kia hoga. Usne kaha nahi aise nahi hoga tum fikar na karo. Aur woh apne kapde pehen ke neeche sone chala gaya.

Mai subah der tak soti rahi neeche se mummy awazen deti rahi laikin mai to gehri neend so rahi thi to mummy ne sunil se kaha ke ja beta zara dekh to sahi yeh kiran ki bachi abhi tak soi padi hai. College bhi jana hai usne. Sunil ooper aaya aur mujhe jagaya. Mai jab jagi aur apne bed se uthi to dekha ka woh to blood se bhari padi hai mai to ek dum se darr hi gai par sunil ne kaha darne ki koi bat nahi yeh tumhari hymen thi jise Hindi mai jhilli bhi kehte hai woh phat gai aur tumhari choot ki seal toot gai hai. yeh jhilli to har kanwari ladki ko hoti hai aur pehli chudai mai toot jati hai aur yeh normal hai to mai ne itmenan ka saans lia aur bedsheet ko lapet ke washing machine mai dhone ke liye dal dia aur mai jab naha dho ke neeche utar rahi thi to mujh se theek se chala nahi ja raha tha. mummy ne poocha kia hua aise kiyon chal rahi hai teri tabiat to theek ha na to mai ne kaha pata nahi mom kia hua to sunil ne shararat se muskurate hue beech miai kaha ke shaed koi cheez chubb gai hogi to mai ne uski taraf banawati ghusse se dekha aur mai ne maa se kaha ha maa ho sakta hai koi cheez chubb gai ho kal raat bijli bhi to chali gai thi na mom aur andhera ho gaya tha to ho sakta hai koi cheez sach mai chubb gai ho to maa ne itmenaan ka saans lia aur kaha theek hai agar dawai lagani ho to laga lo to sunil ne muskurate hue kaha aap fikar na kare aunty mai ise aaj darad kam hone ka injection laga dunga jiss se iska darad hamesha ke liye khatam ho jayega. Maa ne kaha haa yeh theek hai par ma ko kia pata ke Sunil kounse injection ki baat kar raha hai aur yeh injection woh Kiran ko kaha lagaega yeh to bas mai jaanti thi ya woh.

Mai ne nashta kia aur college chali gai. College to chali gai par kahi dil hi nahi lag raha tha choot mai meethi meethi khujli ho rahi thi baar baar mera hath meri choot pe hi chala jata tha aur sare badan mai meetha meetha sa darad ho raha tha baar baar angdaai lene ka mann kar raha tha. Aaaj college kuch ajeeb sa lag raha tha pata nahi kyon. Khair college ka time khatam hua mai ghar aa gai aur lunch ke bad apne room mai ja ke so gai. Bohot der tak soti rahi uthne ka mann hi nahi kar raha tha saare badan mai ek ajeeb si mithaas lag rahi thi. Late evening uthi aur fresh ho ke neeche aa gai aur ham sab ne dinner sath kia. Wahi dinner table pe baith ke ham sab batein karne lage

magar mera mann to kahi aur hi tha mai batein sunn to rahi thi par samajh mai kuch bhi nahi aa raha tha. Thodi der ke bad mai ne kaha ke ab mai jati hu mujhe padhai karni hai aur mai ooper apne kamre mai chali gai.
-  - 
Reply
07-12-2017, 12:29 PM,
#10
RE: kamukta Sex kahaaniya किरण की कहानी
किरण की कहानी पार्ट--3


लेखक-- दा ग्रेट वोरिअर

हिंदी फॉण्ट बाय राज शर्मा

गतांक से आगे........................

रात के ऑलमोस्ट 10:30 हो गये थे मुझे अभी भी नीचे से मम्मी डॅडी और सुनील की बातों की आवाज़ें आ रही थी. मैं आते ही अपने बेड पे लेट गई और मेरा हाथ ऑटोमॅटिकली मेरी सलवार के अंदर चूत पे चला गया और मैं अपनी चूत को सहलाने लगी चूत से खेलने लगी. जब देखा के मेरी चूत पे थोड़ी थोड़ी झातें उग आई है वैसे तो मैं एवेरी वीक अपनी झातें सॉफ करती हू अभी 3 ही दिन हुए थे मुझे झातें सॉफ किए हुए और अब हल्की हल्की सी महसूस हो रही थी तो मैं बाथरूम मे गई और क्रीम लगा के बची कूची झटों को सॉफ कर दिया अब मेरी चूत मक्खन जैसी चिकनी हो गई थी. मैं वापस बेड पे आके लेट गई कमरे की बिजली बंद करदी और अंधेरे मे ही एक बार फिर से अपनी चूत को सहलाने लगी अब चूत एक दम से मक्खन की तरह चिकनी हो चुकी थी. ठंड बढ़ चुकी थी और मैं ब्लंकेट तान कर लेट गई और अब अंधेरे मे मुझे मसाज करने मे बोहोत मज़ा आ रहा था. लड़कियाँ एस्पेशली कॉलेज जाने वाली लड़किया जानती हैं के सर्दी की रात हो और चूत मक्खन जैसी चिकनी हो तो चूत से खेलने मे और मसाज करने मे कितना मज़ा आता है और मैं भी अपनी चूत का मसाज करने लगी और मसाज करते करते मेरी उंगली तेज़ी से चलने लगी कभी उंगली चूत के सुराख मे अंदर डाल के और कभी क्लाइटॉरिस का मसाज कर रही थी और फिर सडन्ली मेरा हाथ तेज़ी से चलने लगा और बदन काँपने लगा और फिर मेरा लावा फिर से उबलने लगा और चूत मे से जूस निकलने लगा. मेरी आँखें बंद हो गई दिल ज़ोर ज़ोर से धड़क रहा था और दिमाग़ मे साय सायँ सी होने लगी और मस्ती मैं आ जाने मे कब सो गई.

मुझे अपनी चूत पे किसी का हाथ महसूस हुआ तो मेरी आँख खुल गई. पता नही कितनी रात हो गई थी मेरी आँख खुली और मुझे होश आया तो समझ मे आया के वो सुनील है. मैं उस से लिपट गई और हम दोनो फ्रेंच किस करने लगे एक दूसरे की ज़बान को चूस रहे थे उसका एक हाथ मेरी चूत पे आ गया और वो मेरी चूत का मसाज मेरी सलवार के ऊपेर से ही करने लगा. मुझे चूत मे गर्मी महसूस होने लगी और गीली भी होने लगी. मैं ने हाथ बढ़ा के उसके लंड को पकड़ा तो पता चला के वो तो पूरा का पूरा नंगा लेटा है मैं उसका नंगा पन महसूस कर के मुस्कुरा दी और उसके लंड को अपनी मुट्ठी मे पकड़ के दबाने लगी. हम दोनो चित्त लेटे थे. उसका हाथ

अब मेरी सलवार के अंदर घुस चुका था उसने सलवार का स्ट्रिंग खोल दिया था और चूत को मसाज कर रहा था मेरी चिकनी चूत पे उसका हाथ बोहोत अछा लग रहा था.

वो अपने जगह से उठा और मेरी शर्ट को मेरा हाथ उप्पेर कर के निकाल दिया और मेरी टाँगों को खोल के टाँगों के बीच मे आ के बैठ गया और मेरी सलवार को नीचे खीच के उतारने लगा तो मैं ने अपनी चूतड़ उठा दी और सलवार निकालने मे सहयोग किया. अब हम दोनो नंगे थे और कमरा अंधेरा था घर के सारे लोग सो चुके थे मैं ने पूछा क्या टाइम हुआ है तो उसने बताया के रात का 1 बज रहा है और सर्दी के मारे मेरे मम्मी डॅडी ब्लंकेट तान के अपने कमरे मे कब के सो चुके हैं. सुनील मेरे ऊपेर ऐसे ही लेट गया उसका आकड़ा हुआ लंड जिस्मै से प्री कम निकल रहा था मेरी चूत के ऊपेर था हम दोनो के बदन के बीच मे. उसका लंड और मेरी चुचियाँ दोनो सॅंडविच बन गई थी. हम दोनो किस्सिंग मे बिज़ी हो गये. मेरी चूत के ऊपेर उसका लंड लगने से चूत मे खुजली शुरू हो चुकी थी और गीली भी हो चुकी थी. वो मेरी चुचिओ को मसल रहा था और किस्सिंग कर रहा था. उसका लंड मेरे चूत के लिप्स के बीच मे “हॉट डॉग” के सॅंडविच की तरह से फँसा हुआ था. लंड के डंडे का लोवर पोर्षन मेरी चूत को खोल के लिप्स के बीच मे था. लंड के डंडे का निचला भाग क्लाइटॉरिस से टच कर रहा था तो और मज़ा आ रहा था. अब उसने मेरे चुचिओ को चूसना शुरू कर दिया जिस से मेरे बदन मे बिजली दौड़ना शुरू हो गई और मुझे लग रहा था के सारे बदन से बिजली दौड़ती हुई चूत मे आ रही है जैसे मेरी चूत बिजली का न्यूक्लियस हो या सेंट्रल पॉइंट हो
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Lightbulb Incest Kahani मेरी भुलक्कड़ चाची 27 28,892 02-27-2020, 12:29 PM
Last Post:
Thumbs Up bahan sex kahani बहना का ख्याल मैं रखूँगा 85 169,077 02-25-2020, 09:34 PM
Last Post:
Star Adult kahani पाप पुण्य 221 967,667 02-25-2020, 03:48 PM
Last Post:
Thumbs Up Indian Sex Kahani चुदाई का ज्ञान 119 105,622 02-19-2020, 01:59 PM
Last Post:
Star Kamukta Kahani अहसान 61 234,443 02-15-2020, 07:49 PM
Last Post:
  mastram kahani प्यार - ( गम या खुशी ) 60 153,865 02-15-2020, 12:08 PM
Last Post:
Lightbulb Maa Sex Kahani माँ की अधूरी इच्छा 228 809,123 02-09-2020, 11:42 PM
Last Post:
Thumbs Up Bhabhi ki Chudai लाड़ला देवर पार्ट -2 146 100,969 02-06-2020, 12:22 PM
Last Post:
Star Antarvasna kahani अनौखा समागम अनोखा प्यार 101 217,658 02-04-2020, 07:20 PM
Last Post:
Lightbulb kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत 56 33,956 02-04-2020, 12:28 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


बिहारी ने टॉयलेट लेजाकर चोदा सेक्सdost ki pyassi mauzse roj chudavtiboormelandpeloumardaraj nangi desi aaurat photo Bahan ki gand me lund tikaya achanak se sex storyनंगी होकर नाचे गाये और चुदाएavi Chachio and my family and mera gaon thakurain ko chodaMom me muta mere muh meMastram net anterwasna budhiyon ki kamukta storyलग्न झालेली मुलगी झोपलेली असताना जबरदस्त ी केलेला सेक्स विडीयो डाउनलोडghar ki kachi kali ki chudai ki kahani sexbaba.comjabardasti skirt utha ke xxx videochipaklii xnxrishtedaar ne meri panty me hath dala kahanigana bjakar chut marbaisexbaba aawara bahuसलवार खोलकर टटी खिलाने की कहानियांkajal potosxxnxu.p news potho k sath h.d. iemagसोतेली माॅ सेक्सकथा उर्वशी रोटेला सेक्स पॉर्नLachar ladkikesath xxx porn/Thread-teen-boy-fucked-with-auntydivyanka tripathi sex story wap in hindi sex babaWww.xxx.shilpa.saitthi.nangi.sex.comज़ायरा वसीम की बिलकुल ंगी फेक फोटो सेक्स बाबा कॉम क्सक्सक्स बफपैरोमे मोच के बहाणे मालीश करवाई और फिर चुदाईachi masti kepde Vali girl sunder xxxJijaji chhat par hai chameli ke wallpaper new sexrashmika mamdhana heroine xnxindiyn lokal anty sex muyisara khan fakes xxopicmoti aunty chot catai sex fuckउर्वशी रौतेला सेकसी हाँट नगी Sharmila tagore fake nude photoचाचा ने बनाया सैक्सी विड़ीयों xvidioगालिया दे दे चुदती hot mom hindi sex storyगुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे - Page 60 Bulane 10 .15 sa xxxx cm.vjfm.ok.ru.superass fuckxxxvrd getna pelo chut bhar jaye birya senakhre na Karo Bhabhi dedo bur kahani sexDesi52xxx anty villageChuddked bhabi dard porn tv netकाकीला गोट्यात झवझव झवलोहायवे पे रंडी SEXBABA.NET/DIRGH SEX KAHANI/MARATHIक्रीम रंग पंजाबी jutti 6numberbig xxx hinda sex video chudai chut fhadnasunhhik dena sexi vedioवैशाली को पुची palakar kadatana xxxx vidioनिग्रो लंड पोर्णपुची बुला Bp hd xnx 85माँ सेक्स स्टोरी गन्दी गली डकारअछरा हिरोइन का बुर कैसा है दिखाओबोर सरकारी बौडीर बफ वीडियो सेक्सीलड़के ने लड़की ककिया रेप सेक्स स्टोरीबहिणीचे पिळदार शरीर स्टोरीप्राची देसाई की चूत देखनी हैलड़की को सैलके छोड़नाtij parv me bhabhi ko...antarvasana ki khanijabardasti choda aur chochi piya stories sex picaklauta bhai kamuktaसोलहवां सावन hindi sex storyxnxx dehate aaort ke videoबिहरी साडी औरत पेटकोट वाली मे की चुतWww.pryankachopra saxbabaXxnx gjartea.मदरचोदी माँ रंडी की चोदाई कहानीगीताचाची की चुतDidi 52sex comkarja na chukane se bistar garam karna padabirazzaa tiecar sixe vidoas hd comGhar me family chodaisex bf videoसेकसी कहानी मै शबाना पाकिस्तान से हूँ बहोत चोदवाती हूँ xxxladkiyon ki body ki malishजोरजोरसे चोदो सेक्स वीडियो हिंदी मेंshiraddha kapoor xnxxsex baba kahaniyan