Incest Kahani उस प्यार की तलाश में
02-28-2019, 12:12 PM,
#71
RE: Incest Kahani उस प्यार की तलाश में
मैं मम्मी के सवालों का कोई जवाब ना दे सकी और उसी तरह अपनी गर्देन उनके सामने नीचे झुकाए रही........अब मम्मी के आवाज़ में गुस्सा सॉफ जाहिर हो रहा था......

स्वेता- तू चुप क्यों है अदिति.......मैं जो तुझसे पूछ रही हूँ तू उसका जवाब क्यों नहीं देती.........क्या तू प्रेगञेन्ट है.......

अदिति- मम्मी......वो.....बात.....

मैं इसी पहले आगे अपनी बात कुछ कह पाती तभी मम्मी का एक ज़ोरदार थप्पड़ मेरे गालों पर पड़ता है और मेरी आँखों से आँसू छलक पड़ते है.....थप्पड़ की गूँज इतनी तेज़ थी की उसकी आवाज़ दूसरे कमरों में भी आसानी से सुनाई ज़रूर दी होगी.........

स्वेता- तू इतना नीचे गिर जाएगी ये मैने कभी सपने में भी नहीं सोचा था.......कौन है वो.......और कब से तेरा उसके साथ संबंध है.......

अदिति- मम्मी....प्लीज़ धीरे बोलिए.......अगर पापा को ये बात पापा लग गयी तो......

तभी मम्मी का एक और करारा थप्पड़ मेरे दूसरे गाल पर पड़ता है- ज़रा उन्हें भी तो पता चले कि उनकी लाडली उनके पीठ पीछे क्या गुल खिला रही है.........मैं पूछती हूँ कौन है वो.........इस बार मम्मी की आवाज़ पहले से ज़्यादा तेज़ थी.........मेरी नज़रें बार बार सामने के दरवाज़े के तरफ जा रही थी......मैं . से बार बार यही दुवा कर रही थी कि पापा को इस बारे में कुछ पता ना चले......मगर ऐसा भला कैसे हो सकता था.......पापा थोड़ी देर बाद अंदर आते हुए मुझे दिखे और इधेर एक बार फिर से डर से मेरा जिस्म थर थर काँपने लगा..........

पापा जब अंदर आए तो वो आकर मेरे सामने खड़े हो गये.....वही थोड़े दूर पर विशाल भी आकर खड़ा हो गया....उसकी भी पूरी तरह से फट गयी थी.......

मोहन- क्या बात है स्वेता......सब ठीक तो है ना.......ऐसा क्या किया है अदिति ने जो तुम इसपर अपना हाथ उठा रही हो..........

स्वेता- खुद ही पूछ लीजिए अपने इस लाडली से..............इसने हमारे खानदान की इज़्ज़त मिट्टी में मिला दी है.........ना जाने किससे अपना मूह काला करवाई है ये........ये अब प्रेगञेन्ट हो गयी है पता नहीं किसका पाप इसके पेट में पल रहा है.........पापा तो जैसे मम्मी की बातों को सुनकर शॉक हो गये थे........उन्हें कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि वो क्या बोले......मगर मैने उनके चेहरे पर गुस्सा सॉफ देख लिया था......अब जो होना था वो किसी तूफान से कम नहीं था........

पापा मेरे करीब आए और आकर मीरे पास खड़े हो गये.....वही मेरा डर और भी बढ़ चुका था- जो मैं सुन रहा हूँ क्या वो सच है अदिति......मैं बस तेरे मूह से सच सुनना चाहता हूँ........मुझे जवाब चाहिए अभी......
-  - 
Reply

02-28-2019, 12:12 PM,
#72
RE: Incest Kahani उस प्यार की तलाश में
मैं बहुत मुश्किल से अपने आप को संभाल पा रही थी......कहना तो बहुत कुछ चाहती थी मगर मेरी ज़ुबान मेरा साथ नहीं दे रही थी........

अदिति- वो पापा......मम्मी जो कह रही है वो सच है........आइ आम प्रेगञेन्ट.......मैं अपने बात पूरे कह पति तभी पापा का एक करारा थप्पड़ मेरे गालों पर पड़ा.....मुझे एक पल तो ऐसा लगा जैसे मैं वही चाकर खाकर गिर पड़ूँगी........जैसे तैसे मैने अपने आप को संभाला........

मोहन- कौन है वो हरामी........मुझे उसका नाम बता..........पापा के अंदर का गुस्से अब पूरी तरह से फुट पड़ा था.......

अदिति- नहीं पापा.......चाहे तो मेरी जान ले लो मगर मैं उसका नाम नहीं बता सकती.........

तभी पापा का एक और करारा थप्पड़ मेरे गालों पर पड़ता है.......थप्पड़ इतना तेज़ था कि मेरे होंठ फट गये थे और मेरे मूह से खून धीरे धीरे बाहर की ओर बहने लगा था........मेरे गाल पर पापा के पाँचों उंगलियाँ छप से गये थे..............

मोहन- तू इतना नीचे गिर जाएगी ये मैने कभी नहीं सोचा था........तुमने एक पल के लिए ये भी नहीं सोचा कि ये सब सुनकर हमारे दिल पर क्या गुज़ेरेगी.....अगर बगल के लोग हमारे बारे में कैसी कैसी बातें करेंगे.......हमारी इज़्ज़त का क्या होगा........क्यों किया तुमने ऐसा अदिति.

तभी विशाल वही सामने आ जाता है और पापा के सामने आकर खड़ा हो जाता है........शायद उसे मेरा मार खाना नहीं देखा जा रहा था- पापा मैं बताता हूँ आपको कि वो कौन है.......पापा मम्मी सवाल भरी नज़रो से विशाल के चेहरे की ओर एक टक देखने लगे......वही मैं अपनी गर्देन ना में हिलाकर विशाल को बताने से मना किया......क्यों कि मैं अच्छे से जानती थी कि अगर मैं बाय्फ्रेंड के साथ ये सब की होती तो पापा मम्मी अपनी इज़्ज़त के खातिर उस लड़के से मेरी शादी करवा सकते थे........

मगर जब उन्हें ये पता चलेगा कि मेरा विशाल से नाजायज़ संबंध है तो पता नहीं उनके दिल पर क्या बीतेगी........वो इस कड़वे सच को सुनकर पता नहीं हमारा क्या हाल करेंगे......

अदिति- तुम्हें मेरी कसम विशाल........पापा मम्मी को कुछ मत बताना.........

विशाल- नहीं अदिति.......अब और नहीं......अब जब सब कुछ पता चल ही गया है तो अब इनसे क्या छुपाना........मैं बताता हूँ पापा कि वो शख्श कौन है और अदिति का किसके साथ संबंध है.........

मोहन- ओह......तो तू भी जानता है सब कुछ........मुझे हैरानी हो रही है कि अदिति ने तुझे ये सब कुछ बताया और तू फिर भी चुप है.........कैसा भाई है तू......
-  - 
Reply
02-28-2019, 12:12 PM,
#73
RE: Incest Kahani उस प्यार की तलाश में
विशाल- पापा ये सच है कि मैं अदिति की हर बात जानता हूँ......और ये सब जानते हुए भी मैं अब तक चुप था........सच तो ये है कि अदिति का कोई बाय्फ्रेंड नहीं है.........और आपको जिसकी तलाश है वो आपके सामने खड़ा है.....अदिति के पेट में पल रहा बच्चा मेरा है.........मैने अदिति के साथ सेक्स संबंध बनाया था........विशाल की ये बात पूरी भी नहीं हुई थी कि तभी पापा का एक करारा थप्पड़ उसके गालों पर पड़ता है और उसके गालों पर पापा के पाँचों उंगलियाँ छप जाती है...........

मम्मी तो ये सब सुनकर वही सामने फर्श पर धम्म से बैठ गयी.......शायद उन्हें बहुत बड़ा सदमा लगा था.....पापा के भी होश उड़ गये थे.........उनका गुस्सा अब अपने चरम पर था..........वो फ़ौरन तेज़ी से दूसरे कमरे में गये और कुछ देर बाद जब वो लौटे तो उनके हाथ में एक गन थी........मेरा तो डर से जिस्म तर तर काँप रहा था.......वही मम्मी बेसूध रोए जा रही थी.........

पापा फ़ौरन अपनी गन विशाल के सीने की तरफ तान दिए और धीरे धीरे उनकी एक उंगली ट्रिग्गर के तरफ बढ़ने लगी..........आज ऐसे हालत बन गये थे कि एक बाप अपने बेटे के सीने पर बंदूक ताने खड़ा था.......शायद आज पापा का गुस्सा इस कदर फुट पड़ा था कि आज उनके सामने रिश्तों की कोई अहमियत नहीं थी.........जिन हाथों से उन्होने हम दोनो को पाला पोशा था आज वही हाथ हमारे खून के प्यासे हो गये थे.........

मुझसे अब नहीं देखा गया और मैं फ़ौरन विशाल के सामने जाकर खड़ी हो गयी.....पापा के हाथ अब तक ट्रिग्गर पर थे मेरे सामने आते ही वो अपनी उंगली ट्रिग्गर से तुरंत हटा दिए........

मोहन- मैं कहता हूँ अदिति हट जा सामने से........मैं भूल चुका हूँ कि सामने खड़ा शख्स अब मेरा कोई लगता है.........कहीं ऐसा ना हो कि ये गोली तेरा सीना चीरते हुए पार हो जाए......हट जा मेरे सामने से.........

अदिति- पापा मैं मानती हूँ कि जो गुनाह हम से हुआ है वो माफी के काबिल नहीं है.....मगर इसमें विशाल का कोई दोष नहीं.......इन सब की ज़िम्मेदार मैं हूँ.......मैं ही विशाल के पीछे गयी थी.......अगर मारना ही है तो मेरी जान ले लो मगर विशाल को कुछ मत करो...........मैं विशाल की ज़िंदगी की आपसे भीख माँगी हूँ......

मोहन- तब तो मुझे तुम दोनो को मारने में बिल्कुल अफ़सोस नहीं होगा.........और मोहन फिर से ट्रिग्गर की तरफ अपनी उंगली धीरे से बढ़ाता है......मैं नहीं जानती थी कि उस वक़्त क्या सही है और क्या ग़लत है मगर सच तो ये था कि मुझे उस वक़्त अपनी मौत से भी डर नहीं लग रहा था.....चन्द फासलों की देरी थी कि उस घर में दो लाशे बिछ जानी थी.....एक मेरी और दूसरी विशाल की.......मगर ऐन मौके पर मम्मी ने आकर पापा का हाथ थाम लिया........

स्वेता- रुक जाइए.......क्यों आप अपने हाथ इनके खून से गंदे कर रहें है ......अगर इसने किसी और के साथ अपना मूह काला करवाया होता तो बात समझ में आती....मगर इसने तो रिश्तों की गरिमा ही गिरा दी.......अपनी भाई के साथ इसने वो सब किया......छी........शरम आती है मुझे तुम जैसे औलादों पर....काश इससे अच्छा होता कि तुम दोनो पैदा होने से पहले मर गये होते........कम से कम आज ये दिन तो नहीं देखना पड़ता.........

अब मुझे समझ में आया कि उस दिन तू विशाल के साथ कहाँ गयी थी......क्यों तू इसके इतने करीब रहती........क्यों अब तुम दोनो के बीच झगड़ा नहीं होता था.......
-  - 
Reply
02-28-2019, 12:12 PM,
#74
RE: Incest Kahani उस प्यार की तलाश में
जा अदिति जिस तरह से तुमने हमारा दिल को दुखाया है उसी तरह तू भी कभी खुस नहीं रहेगी........तेरी ज़िंदगी मौत से बदतर बन जाएगी......यू समझ लेना कि आज के बाद तेरे मा बाप हमेशा के लिए मर चुके है........अब तेरा आज के बाद हम से कोई रिस्ता नहीं.........अब तुम दोनो अपनी ये मनहूस शकल कभी आज के बाद हमे मत दिखना.......चले जाओ हमारी नज़रो से दूर..........मर चुके हो तुम दोनो हमारे लिए......

कमरे में चारों तरफ खामोशी छाई रही......उधेर मम्मी बेसूध रोए जा रही थी तो इधेर मेरे आँखों से भी आँसू नहीं रुक रहे थे........आख़िर कार विशाल ने आगे बढ़कर मेरा हाथ थाम लिया और मुझे चलने को कहा........मेरे पास अब कोई लबज़ नहीं थे कि मैं मम्मी पापा से कुछ कह सकूँ......मैने फ़ौरन अपना कुछ समान रखा और साथ में वो डायरी भी रख ली.......कुछ देर बाद हम दोनो एक बॅग लेकर उस घर की चौखट हमेशा हमेशा लाघ कर उससे दूर निकल गये.........

हमारे बाहर आते ही पापा ने फ़ौरन मेन दरवाज़ा बंद कर दिया........मैं जानती थी कि जो हुआ वो अच्छा नहीं हुआ.......उस वक़्त मेरे दिल पर क्या बीत रही थी उसे मैं शब्दों में बयान नहीं कर सकती थी......बस दिल कर रहा था कि जी भर कर आज रोऊँ.......मगर इसका ऐसा ही कुछ अंजाम तो होना ही था......थोड़ी देर बाद हम एक बस में बैठ कर दूसरे अंजान राहों पर हमेशा हमेशा के लिए निकल पड़े......हम दोनो ये भी नहीं जानते थे कि हमारी मंज़िल कहाँ है और हमें जाना कहाँ है.......मेरे आँखों से आँसू अभी भी नहीं थम रहे थे........

हम फिर दूसरे सहर में गये और एक किराए का मकान ले लिया....वहाँ हमने मकान मलिक को ये बताया कि हम पति पत्नी है...........सहर में आसानी से रूम मिल जाता है कपल को........एक छोटा सा कमरा था और उससे अटेच एक किचन था.........आज हमारी इस तपिश ने हमे कौन से मोड़ पर लाकर खड़ा किया था........विशाल अब तक खामोश था......मुझे भी अच्छा नहीं लग रहा था.......मगर जीना तो पड़ता है चाहे जो हो .........

वक़्त गुज़रता गया और विशाल मेरे बारे में सोच सोच कर परेशान हो जाता..........मेरे अंदर भी परिवर्तन आ चुका था......उस दिन के बाद से मैं हँसना लगभग भूल चुकी थी......विशाल ने फिर मेरे सामने एक प्रपोज़ल रखा जिससे में कुछ बोल ना सकी.......

विशाल- अदिति.....कब तक यू ही खामोश रहोगी......हम दोनो जानते है कि हम भाई बेहन है.....मगर इस दुनिया वालों को नहीं पता की हमारा रिस्ता क्या है........मैं अब इस रिश्ते को नया नाम देना चाहता हूँ......मैं तुम्हें अपनी बीवी बनाना चाहता हूँ..........मैं तुम्हारे साथ शादी करना चाहता हूँ...........शादी करोगी अदिति क्या तुम मुझसे.......

मैं विशाल के चेहरे को बड़े गौर से देखने लगी......अजीब तो मुझे भी लग रहा था मगर मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि मैं विशाल की बातों का क्या जवाब दूं......शायद विशाल ने मेरी इस खामोशी को हां समझ लिया था और उसने फिर वही पास के मंदिर में एक पुजारी से कहकर हमारी शादी के कुछ ज़रूरी समान इंतेज़ाम करवाने लगा..........मैं अंदर ही अंदर पूरी तरह से टूट चुकी थी.......और मैं नहीं चाहती थी कि अब विशाल को मुझसे किसी बात की तकलीफ़ हो.......

कुछ देर बाद मैं एक शादी की लाल जोड़ा पहन कर मंदिर में गयी और वहाँ हम ने शादी कर ली........मेरे दिल में उस वक़्त कैसी फीलिंग हो रही थी ये मैं ही जानती थी.......कहाँ हम भाई बेहन और अब पति पत्नी......मुझे तो एक पल ऐसा लगा कि कहीं जाकर मैं डूब मरूं.......मगर इन हालातों में मैं विशाल का दामन नहीं छोड़ना चाहती थी...........
-  - 
Reply
02-28-2019, 12:13 PM,
#75
RE: Incest Kahani उस प्यार की तलाश में
शाम हुई और शाम से रात हुई......विशाल ने हमारी सुहाग रात की पूरी तैयारी कर रखी थी.......मैं बस उसकी खुशी के लिए चुप चाप उसका साथ दे रही थी.......रात के करीब 8 बजे विशाल मेरे कमरे में आया.....पूरा कमरा फूलों से सज़ा हुआ था.......मेरा दिल फिर से ज़ोरों से धड़क रहा था.....विशाल मेरे करीब आया तो उसके हाथ में खाना था.....

विशाल- खाना खा लो अदिति.......तुम्हें भूक लगी होगी.........

मैं विशाल के चेहरे की तरफ बड़े ग्वार से देखने लगी......मुझे बिल्कुल समझ में नहीं आ रहा था कि मैं विशाल से कैसे बर्ताव करूँ........

मैं चुप चाप खामोश रही तो विशाल ने अपनी बात आगे कही- मैं जानता हूँ अदिति की तुम मम्मी पापा की बातों को लेकर दुखी हो.......हां ग़लती हम से हुई है और्र मुझ पूरा यकीन है कि देर सबेर उनका गुस्सा हमारे प्रति कम हो जाएगा......सब ठीक हो जाएगा एक दिन अदिति.......

अदिति- कुछ ठीक नहीं होगा विशाल.......इस वक़्त मुझे तुम्हारे प्यार की ज़रूरत है...मुझे तुम्हारे सहारे की ज़रूरत है......मैं फिर विशाल के सीने से लिपटती चली गयी......आज भी मेरी आँखों में आँसू आ गये थे.......

विशाल- मैं तुम्हें वो प्यार दूँगा अदिति.....इतना प्यार कि आज के बाद तुम सब कुछ बीती बातों को भूल जाओगी........

मैं फिर इतने दिनों बाद आज पहली बार मुस्कुराइ थी.....मैं फिर विशाल से दूर हुई तो मुझे सवाल भरी नज़रो से देखने लगा.......

विशाल- अब कहाँ जा रही हो अदिति......

अदिति- आज हमारी सुहाग रात है ना विशाल......कुछ तैयारी करनी है मुझे.........और आज मैं तुम्हें कुछ नायाब तोहफा देना चाहती हूँ.......विशाल मेरे चेहरे को बड़े गौर से देखने लगा......उसे मेरी बातें ज़्यादा समझ में नहीं आई थी.......फिर मैं फ़ौरन बाथरूम में चली गयी.........मैं अच्छे से जानती थी कि आज मुझे विशाल को क्या देना है........अब तक विशाल मेरे जिस्म को कितने बार भोग चुका था मगर आज मैं उसे वो सुख देना चाहती थी जिसको मैं ख़ास तौर पर उसके लिए अब तक बचा कर रखी थी........वो तोहफा उसे जल्द पता चलने वाला था........

अब वो समय आ चुका था देखना ये था कि आने वाले वक़्त में ज़िंदगी हमे कौन से मोड़ पर ले जाती है.

मैं बाथरूम में गयी और जाकर नहाने लगी........मैने अपनी चूत के बाल अच्छे से सॉफ किए.......फिर मैं शादी का वही लाल जोड़ा पहन कर बाहर आई.......अभी भी मेरे जिस्म से सोप और शॅमपू की भीनी भीनी खुसबू आ रही थी.......मैं फिर जाकर अपने कमरे में विशाल के लिए सजने सँवरने लगी........माथे पर उसकी रंग की मॅचिंग बिंदिया और जो कुछ था मेरे पास ज्वेल्लेरी वो सब मैने अपने जिस्म पर लगा लिए.........

करीब एक घंटे बाद मैं पूरी तैयार होकर बाहर आई और चुप चाप सुहाग सेज पर जाकर बैठ गयी और विशाल के आने का इंतेज़ार करने लगी........पता नही क्यों आज मेरा दिल बहुत ज़ोरों से धड़क रहा था.......आज मेरी खुबुसरती में और भी इज़ाफ़ा हो गया था.......वजह थी मेरी माँग में विशाल के नाम का सिंदूर था........

थोड़े देर बाद विशाल घर आया .......उसके हाथ में कुछ खाने पीने का समान था.......उसके चेहरे पर खुशी सॉफ झलक रही थी जो मेरे दिल को पल पल सुकून पहुँचा रही थी.....विशाल मेरे करीब आकर मेरे बाजू में आकर बैठ गया......इस वक़्त मैं घूँघट में थी........उसने मेरा घूँघट धीरे से हटाया और मेरे चेहरे की तरफ बड़े गौर से देखने लगा.......उसकी नज़रें एक पल के लिए भी मेरे चेहरे से नहीं हट रही थी.........

और ऐसा होता भी क्यों ना......मैं आज पूरी क़यामत लग रही थी.......विशाल के चेहरे पर एक प्यारी सी मुस्कान थी........उसने मेरे होंटो पर अपने होंठ रख दिए.......मैने भी एक पल के देर किए बिना उसके होंटो को धीरे धीरे अपने मूह में लेकर चूसने लगी......मैं अब बहुत गरम हो चुकी थी.......मेरी चूत से पानी लगातार बहता जा रहा था........

विशाल- क्या बात है अदिति.......इससे पहले मैने तुम्हारा ये रूप कभी नहीं देखा.......सच कहूँ तो तुम आज बिल्कुल परी सी लग रही हो.........तुम बहुत खूबसूरत हो अदिति.......काश तुम मेरी बेहन ना होती तो मुझे इस बात का कभी पछतावा नहीं होता.......
-  - 
Reply
02-28-2019, 12:13 PM,
#76
RE: Incest Kahani उस प्यार की तलाश में
मैने फ़ौरन विशाल के लबों पर अपने हाथ रख दिए- जो बीत गया उसे भूल जाओ विशाल......अब बातें भी करोगे या कुछ आगे भी करोगे........

विशाल- क्या करूँ अदिति.......तुम ही बताओ मुझे.......

अदिति- सब जानते हो फिर भी अंजान बने रहते हो.......वही जो मेरी इतने दिनों से अब तक करते आए हो.......मेरी चुदाई......विशाल आज मुझे इतना रगडो की मेरे अंदर कि ये तपीश हमेशा हमेशा के लिए शांत हो जाए........मुझे प्यार करो विशाल.......इतना कहकर मैं विशाल के सीने से लग गयी.......फिर विशाल मेरी साड़ी को धीरे धीरे उतारने लगा.........

विशाल- वैसे अदिति एक बात पूच्छू.......आज हमारी सुहागरात है तो तुम मुझे ऐसा कौन सा तोहफा देना चाहती हो.......

मैं विशाल के चेहरे की तरफ बड़े गौर से देखने लगी.......मुझे समझ में नहीं आ रहा था कि मैं विशाल से ये बात कैसे कहूँ......फिर मैने विशाल का एक हाथ धीरे से पकड़ा और उसे सरकाते हुए अपनी साड़ी के अंदर ले गयी......मेरी चूत की तरफ .......और फिर कुछ देर बाद जब मैं विशाल के हाथ को अपनी गान्ड के छेद पर रखा तब वो मुझे सवाल भरी नज़रो से देखने लगा........

अदिति- यहाँ ........मैं तुम्हें आज इसका सुख देना चाहती हूँ.......

विशाल जब मेरा इशारा समझ गया तो उसका चेहरे खुशी से खिल उठा.......

विसल- तुम नहीं जानती अदिति कि ये अरमान ना जाने कब से मेरे दिल में था कि मैं अपना लंड तुम्हारी गान्ड में डालूं.......मगर डरता था कि तुम कहीं नाराज़ हो जाओगी......या तुम्हें बुरा लगेगा........मगर मैं आज बता नहीं सकता कि मैं आज कितना खुस हूँ.....देखो मेरा लंड ये सोचकर अभी से खड़ा हो गया.......

बस थोड़ी तकलीफ़ होगी तुम्हें........मेरे लिए तुम इतना बर्दास्त कर लेना......फिर वहाँ भी ऐसे ही तुम्हें मज़ा मिलेगा जैसे चूत में मिलता है........

मैं विशाल के लबों को धीरे से चूम ली- तुम्हारे खातिर मुझे सब मंज़ूर है विशाल.......मैं तुम्हारी हूँ तुम्हारा जैसा जी में आए वैसा करो......मैं उफ्फ तक नहीं करूँगी.......

विशाल फिर अपने दोनो हाथों से मेरे सीने पर ले गया और फिर से मेरी दोनो निपल्स को अपनी उंगलिओ के बीच फँसाकर उन्हें ज़ोरों से मसल्ने लगा.......आज वो बहुत ज़्यादा बेचैन दिखाई दे रहा था.........उसने फ़ौरन मेरी साड़ी अलग की और अब मैं पेटिकोट और ब्लाउस में उसके सामने थी.........धीरे धीरे उसने मेरी ब्लाउस भी उतार दी और और पेटिकोट भी........एक बार फिर से मैं ब्रा और पैंटी में विशाल के सामने थी........
-  - 
Reply
02-28-2019, 12:13 PM,
#77
RE: Incest Kahani उस प्यार की तलाश में
मैने फ़ौरन विशाल के लबों पर अपने हाथ रख दिए- जो बीत गया उसे भूल जाओ विशाल......अब बातें भी करोगे या कुछ आगे भी करोगे........

विशाल- क्या करूँ अदिति.......तुम ही बताओ मुझे.......

अदिति- सब जानते हो फिर भी अंजान बने रहते हो.......वही जो मेरी इतने दिनों से अब तक करते आए हो.......मेरी चुदाई......विशाल आज मुझे इतना रगडो की मेरे अंदर कि ये तपीश हमेशा हमेशा के लिए शांत हो जाए........मुझे प्यार करो विशाल.......इतना कहकर मैं विशाल के सीने से लग गयी.......फिर विशाल मेरी साड़ी को धीरे धीरे उतारने लगा.........

विशाल- वैसे अदिति एक बात पूच्छू.......आज हमारी सुहागरात है तो तुम मुझे ऐसा कौन सा तोहफा देना चाहती हो.......

मैं विशाल के चेहरे की तरफ बड़े गौर से देखने लगी.......मुझे समझ में नहीं आ रहा था कि मैं विशाल से ये बात कैसे कहूँ......फिर मैने विशाल का एक हाथ धीरे से पकड़ा और उसे सरकाते हुए अपनी साड़ी के अंदर ले गयी......मेरी चूत की तरफ .......और फिर कुछ देर बाद जब मैं विशाल के हाथ को अपनी गान्ड के छेद पर रखा तब वो मुझे सवाल भरी नज़रो से देखने लगा........

अदिति- यहाँ ........मैं तुम्हें आज इसका सुख देना चाहती हूँ.......

विशाल जब मेरा इशारा समझ गया तो उसका चेहरे खुशी से खिल उठा.......

विसल- तुम नहीं जानती अदिति कि ये अरमान ना जाने कब से मेरे दिल में था कि मैं अपना लंड तुम्हारी गान्ड में डालूं.......मगर डरता था कि तुम कहीं नाराज़ हो जाओगी......या तुम्हें बुरा लगेगा........मगर मैं आज बता नहीं सकता कि मैं आज कितना खुस हूँ.....देखो मेरा लंड ये सोचकर अभी से खड़ा हो गया.......

बस थोड़ी तकलीफ़ होगी तुम्हें........मेरे लिए तुम इतना बर्दास्त कर लेना......फिर वहाँ भी ऐसे ही तुम्हें मज़ा मिलेगा जैसे चूत में मिलता है........

मैं विशाल के लबों को धीरे से चूम ली- तुम्हारे खातिर मुझे सब मंज़ूर है विशाल.......मैं तुम्हारी हूँ तुम्हारा जैसा जी में आए वैसा करो......मैं उफ्फ तक नहीं करूँगी.......

विशाल फिर अपने दोनो हाथों से मेरे सीने पर ले गया और फिर से मेरी दोनो निपल्स को अपनी उंगलिओ के बीच फँसाकर उन्हें ज़ोरों से मसल्ने लगा.......आज वो बहुत ज़्यादा बेचैन दिखाई दे रहा था.........उसने फ़ौरन मेरी साड़ी अलग की और अब मैं पेटिकोट और ब्लाउस में उसके सामने थी.........धीरे धीरे उसने मेरी ब्लाउस भी उतार दी और और पेटिकोट भी........एक बार फिर से मैं ब्रा और पैंटी में विशाल के सामने थी........
-  - 
Reply
02-28-2019, 12:13 PM,
#78
RE: Incest Kahani उस प्यार की तलाश में
विशाल को ज़रा भी सब्र नहीं हुआ और उसने मेरी ब्रा और पैंटी दोनो एक ही झटने में मेरे बदन से अलग कर दी....अब मैं पूरी नंगी हालत में उसके सामने बैठी थी.........विशाल फिर अपने कपड़े भी उतारने लगा और कुछ देर बाद उसका फनफनाता हुआ लंड मेरी आँखों के सामने झूलने लगा.........मैं फिर आगे बढ़कर विशाल के लंड को अपने मूह में लेकर उसे धीरे धीरे चूसने लगी.
विशाल की सिसकारी अब बढ़ती जा रही थी वो मज़े से अपनी आँखें बंद किए बिस्तेर पर लेटा हुआ था........मैं भी विशाल के लंड से पूरा पानी निकालना चाहती थी........धीरे धीरे मेरे चूसने की रफ़्तार बढ़ती गयी और वही विशाल की हालत खराब होने लगी.......उसके दोनो हाथ इस वक़्त मेरे सिर पर थे....एक हाथ से वो मेरे बालों से खेल रहा था वही दूसरे हाथ से वो मेरे सिर को धीरे धीरे अपने लंड पर दबाव भी डाल रहा था.......आख़िरकार विशाल का सब्र पूरी तरह से टूट गया और वो वही ज़ोरों से चीखते हुए अपना कम मेरे मूह में उतारने लगा......

मैं भी उसका कम अपने गले के नीचे धीरे धीरे उतारने लगी......कुछ देर बाद विशाल वही हाम्फते हुए बिस्तेर पर बिल्कुल ढीला पड़ गया........मैं फिर उसके लबों को धीरे धीरे चूसने लगी.......फिर उसने मुझे बिस्तेर पर सुलाया और मेरे होंटो को फिर से चूसने लगा........विशाल अब धीरे धीरे नीचे की तरफ अपना जीभ फेरने लगा.......मेरी बूब्स से होते हुए मेरी चूत तक......उसकी इस हरकत पर मैं एक बार फिर से उछल सी पड़ी थी..........

जैसे ही उसने अपने होंटो से मेरी चूत को छुआ ना चाहते हुए भी मैं ज़ोरों से सिसक पड़ी.......विशाल कुछ देर तक मेरी चूत का रस ऐसे ही पीता रहा फिर वो अपनी जीभ धीरे से सरकाते हुए मेरी गान्ड की तरफ ले जाने लगा......मेरी लज़्जत से आँखें बार बार बंद हो रही थी........विशाल मेरी गान्ड के दोनो फांकों को अलग करके अपनी जीभ से मेरी गान्ड को धीरे धीरे चाटने लगा......

मेरा इस वक़्त मज़े से बुरा हाल था........ऐसा लग रहा था कि मैं अभी झड जाउन्गि......कुछ देर तक विशाल अपनी जीभ ऐसे ही फेरता रहा फिर उसने धीरे से एक उंगली मेरी गान्ड के छेद पर रख दी और अपनी उंगली को मेरी गान्ड की छेद पर दबाव डालने लगा.....पहले तो मुझे बहुत ज़ोरों से दर्द हुआ मैं ना चाहते हुए भी ज़ोरों से सिसक पड़ी........मगर विशाल अपनी उंगलियों को अभी भी मेरी गान्ड के अंदर पुश कर रहा था........

उसके चाटने से मेरी गान्ड का छेद काफ़ी गीला हो चुका था......इस वाज से विशाल की उंगली सरकते हुए आसानी से अंदर चली गयी........अब विशाल की एक उंगली मेरी गान्ड में थी और वो उसे धीरे धीरे मेरी गान्ड में अंदर बाहर कर रहा था........थोड़े दर्द के बाद मुझे भी अब मज़ा आने लगा......मैं भी अपनी एक उंगली अपनी चूत पर ले गयी और उसे हौले हौले सहलाने लगी........
-  - 
Reply
02-28-2019, 12:13 PM,
#79
RE: Incest Kahani उस प्यार की तलाश में
तभी विशाल ने फ़ौरन अपनी वही उंगली मेरी गान्ड से बाहर निकली और इस बार अपनी दो उंगली एक साथ मेरी गान्ड में धीरे धीरे पुश करने लगा......एक बार फिर से दर्द की तेज़ लहर मेरे जिस्म में दौड़ गयी........उधेर विशाल अपने हाथों से बार बार मेरी निपल्स को भी मसल रहा था.......और इधेर दोनो उंगलियों को तेज़ी से मेरी गान्ड के अंदर पेलते जा रहा था........

कुछ दर्द के बाद उसकी अब दोनो उंगलियाँ मेरी गान्ड की गहराई में पूरी उतर चुकी थी........मुझे मीठा मीठा सा दर्द हो रहा था.......मगर दिल में बार बार यही डर लग रहा था कि जब विशाल का लंड मेरे उस छोटे से छेद में जाएगा तो मेरा क्या हाल होगा......मगर अब मुझे विशाल का लंड अपनी गान्ड में लेना था तो बस लेना था........चाहे जो हो.......

कुछ देर बाद विशाल मुझसे दूर हुआ और सामने रखी एक तेल की शीशी अपने हाथ में लेकर मेरे सामने आकर बैठ गया........अब तक विशाल का लंड फिर से पूरे उफान पर था.........वो शीशी में रखी तेल धीरे धीरे अपने लंड पर गिराने लगा और कुछ ही पलों में उसका लंड तेल से पूरी तरह भीग गया......फिर उसने मुझे घोड़ी पोज़िशन में आने को कहा........

मैं जैसे ही उस पोज़िशन में आई मेरे गान्ड की सोराख विशाल के सामने पूरा खुल गया.......गुलाबी छेद और उपर से विशाल के थूक के पानी से मेरी गान्ड चमक रही थी.......विशाल फिर कुछ तेल अपने हाथों में लेकर मेरी गान्ड के छेद पर उसे अच्छे से गिराने लगा.....कभी कभी तो वो अपनी एक उंगली पूरी तेल में डाल कर मेरी गान्ड के छेद के अंदर डाल देता जिसे में ज़ोरों से उछल पड़ती........

करीब 10 मिनट तक मेरी गान्ड से खेलने के बाद विशाल मेरे उपर आया.......अब मेरी गान्ड काफ़ी लूज हो गयी थी.......और साथ में काफ़ी चिकनी भी........जैसे ही उसने अपना लंड मेरे उस छोटे से सूराख पर रखा मेरी तो मानो डर से हालत खराब होने लगी........उस वक़्त मेरा दिल बहुत ज़ोरों से धड़क रहा था.....मैं उस होने वेल दर्द का सामना करने को अब तैयार थी........

विशाल फिर अपने लंड पर धीरे धीरे दबाव डालने लगा......इस वक़्त उसके दोनो हाथ मेरी चुचियो पर थे........वो मेरी निपल्स को हौले हौले मसल रहा था वही दूसरी तरफ अपना लंड मेरी गान्ड के अंदर उतारता जा रहा था......जैसे ही उसका लंड का सुपाडा मेरी गान्ड के अंदर गया मेरी तो चीख निकल पड़ी........

अदिति-आआआआआआआ.................हह...........ईईईईईईईईईईईईईई............म्म्म्म.मम.उूुुुुउउ..एम्म्म..नमम्ममम.....यययययययययययी
विशाल बाहर निकालो इसे मैं मर जाऊंगी......मुझे बर्दास्त नही हो रहा प्लीज़.......मेरी पूरी तरह फुर्र जाएगी.......प्प....ल्ल्ल्ल......ईयीई....एयेए...सस्स...ए.ए.ए.ए.....
-  - 
Reply

02-28-2019, 12:13 PM,
#80
RE: Incest Kahani उस प्यार की तलाश में
विशाल मेरी तरफ ध्यान ना देते हुए कुछ देर तक वो उसी पोज़ीशन में मेरी गान्ड में अपना लंड पेले रहा.......फिर उसने एक झटके में अपना लंड बाहर निकाल लिया........एक पल तो मुझे ऐसा लगा कि मुझे काफ़ी राहत महसूस हुई मगर अगले ही पल मैं फिर से ज़ोरों से चिल्ला पड़ी.......मेरी आँखों से आँसू बाहर फुट पड़े.......

विशाल ने इस बार अपना लंड जितना तेज़ी से बाहर निकाला था उतनी ही तेज़ी से मेरी गान्ड में पूरा उतारता चला गया.......अब तक उसका लंड मेरी गान्ड में 4 इंच तक समा चुका था........मुझे ऐसा लग रहा था कि जैसे किसी ने मेरी गान्ड में छुरा डाल दिया हो.......इतना दर्द हो रहा था मुझे उस वक़्त कि मुझ पर चुदाई का नशा पूरा तरह से उतर चुका था.....मैं वही बिस्तेर पर पड़ी सिसक रही थी और विशाल मेरे चुचियों को लगातार मसले जा रहा था.......

कुछ देर तक विशाल ऐसे ही रुका रहा फिर थोड़े देर बाद उसने अपना लंड बाहर निकाला और इस बार उतनी ही तेज़ी से अपना पूरा लंड मेरी गान्ड की गहराई में उतारता चला गया.......मैं इस बार फिर से ज़ोरों से चीख पड़ी......मगर मैं चीखती इसी पहले विशाल अपने होंठ मेरे होंटो पर रख चुका था........मैं अपने नखुनो से लगतार बिस्तेर को मसल रही थी......और अपने दोनो हाथों को भी बिस्तेर पर पटक रही थी.......मेरी बेचैनी मेरी हर्कतो से सॉफ ज़ाहिर हो रही थी.......मैं विशाल को अपने उपर से हटाने की नाकाम कोशिश कर रही थी........उस वक़्त मुझे दर्द के सिवा और कुछ एहसास नहीं हो रहा था.........

विशाल ने इस बार कोई हरकत नहीं की और उसी पोज़िशन में मेरे उपर कुछ देर तक लेटा रहा......

अदिति- आआआआ...........हह........मम्मी......बाहर निकालो ना विशाल इसे.......मैं मर जाऊंगी.......क्या तुम आज मेरी जान लोगे........ऐसा लग रहा है जैसे किसी ने छुरा डाल दिया हो मेरे अंदर......प्लीज़ बाहर निकालो ना विशाल........

विशाल- बस कुछ देर और अदिति......फिर तुम्हारी ये तकलीफ़ दूर हो जाएगी........करीब 5 मिनट बाद विशाल उसी पोज़ीशन में मेरे उपर लेटा रहा.....अब तक मेरी गान्ड पूरी तरह से खुल चुकी थी......अभी भी हल्का हल्का मीठा सा दर्द हो रहा था........विशाल फिर इस बार नहीं रुका और अपना लंड पूरा बाहर निकालकर तेज़ी से मेरी गान्ड की चुदाई करने लगा.......मेरे मूह से चीखें फिर से तेज़ हो चुकी थी मगर अब मैं विशाल का विरोध नहीं कर रही थी.......कमरे में फंच फंच की आवाज़ें लगातार गूँज रही थी........

अब मेरे मूह से चीखें निकलने के बजाए अब सिसकारी निकल रही थी.....पहली दफ़ा मैं अपनी गान्ड मरवा रही थी......मेरे लिए ये एहसास बिल्कुल नया था.......मेरी चूत लगातार अब पानी छोड़ रही थी.........करीब 10 मिनट तक विशाल मेरी गान्ड में ऐसे ही लंड पेलता रहा और आख़िरकार वो भी अपने चरम पर पहुँच गया.

उस वक़्त विशाल ने मुझे इतने कसकर जकड़ा हुआ था की मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मेरी हड्डियाँ टूट जाएगी........जब तक उसका सारा कम मेरी गान्ड के अंदर नहीं निकल गया उसने मुझपर ऐसे ही दबाव बनाए रखा......मेरी भी चूत अब जवाब दे चुकी थी और मैं भी वही हान्फते हुए बिस्तेर पर किसी लाश की तरह बिल्कुल ठंडी पड़ गयी........उधेर विशाल का कम मेरी गान्ड से धीरे धीरे बाहर की ओर बह रहा था वही मेरी चूत से बहता पानी अब बिस्तेर को धीरे धीरे भिगो रहा था.......
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Incest Porn Kahani एक फॅमिली की 155 25,188 06-19-2020, 02:16 PM
Last Post:
Thumbs Up Bhabhi ki Chudai लाड़ला देवर पार्ट -2 147 191,243 06-18-2020, 05:29 PM
Last Post:
  mastram kahani प्यार - ( गम या खुशी ) 61 205,387 06-18-2020, 05:28 PM
Last Post:
Thumbs Up Desi Sex Kahani रंगीला लाला और ठरकी सेवक 182 521,357 06-18-2020, 05:27 PM
Last Post:
Star Bollywood Sex बॉलीवुड में घरेलू चुदाई फैंटेसी 12 13,559 06-18-2020, 05:24 PM
Last Post:
Star bahan sex kahani बहना का ख्याल मैं रखूँगा 81 13,520 06-18-2020, 01:15 PM
Last Post:
  Chodan Kahani कल्पना की उड़ान 14 5,122 06-18-2020, 12:28 PM
Last Post:
Star Maa Sex Kahani माँ का मायका 32 40,595 06-16-2020, 01:28 PM
Last Post:
Star FreeSexkahani नसीब मेरा दुश्मन 55 24,651 06-13-2020, 01:10 PM
Last Post:
Star non veg kahani कभी गुस्सा तो कभी प्यार 113 63,060 06-11-2020, 05:08 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.


सारी पेटीकोट नाड़ा झांटे कहानीavika gor xxxvedoseपी आई सी एस साउथ ईडिया की झटके पे झटका की कैटरिना कँप का हाँट वोपन सेक्स फोटोसेकसी 1साथ 2लंड चूदाईbf sex kapta phna sexmast haues me karataxxxtaanusexma sa gand ke malash xxx kahani combus ki bheed me maje ki kahaniya antrvasna.comWww.chudai ki Sari rasme gali majak kahani. ComBahan ko heroin banane ke liye chudai kahaniSecx व्हीडिओ मोंमbaba ne kar liya xxx saxy sareeमै अपने भाई से चुदबाकर भाई के बच्चे की माँ बनी सेक्स स्टोरी पढ़ने के लिए twinkal khanna nude hd sex baba photoscomsexy sexy video Katrina Kaif Malish karne wali bade bade lund waliमाँ के बुर फेला चोद गाई कहनीकॉलेज वालि साली का सेक्सि क्सनक्स. ComXXX मम्मी की चौड़ी गांड़ मारी की कहानीगावं की अनपढ़ माँ को शहर लाया sex storiesडॉ,ने,ईलाज,करने,क़े,बाहाना,से,चोदाई,स,xx2xx,विडियोKatrina Kaif cries sexbaba.comantervasna formhouse par birju ne ma chudai hindi me/Thread-antarvasna-kahani-%E0%A4%9C%E0%A4%BC%E0%A4%BF%E0%A4%A8%E0%A5%8D%E0%A4%A6%E0%A4%97%E0%A5%80-%E0%A4%8F%E0%A4%95-%E0%A4%B8%E0%A4%AB%E0%A4%BC%E0%A4%B0-%E0%A4%B9%E0%A5%88-%E0%A4%AC%E0%A5%87%E0%A4%97%E0%A4%BE%E0%A4%A8%E0%A4%BE?pid=62841Sexy BF MP4 ghode ki ladki chudai ,30.50chudai ki bike par burmari ko didi ke sathसँतोष की चुत मे फस गया रोने लगीgande trike se chudwane saok ki antarvasna/modelzone/Thread-mastram-kahani-%E0%A4%AF%E0%A4%95%E0%A5%80%E0%A4%A8-%E0%A4%95%E0%A4%B0%E0%A4%A8%E0%A4%BE-%E0%A4%AE%E0%A5%81%E0%A4%B6%E0%A5%8D%E0%A4%95%E0%A4%BF%E0%A4%B2-%E0%A4%B9%E0%A5%88?page=7Sambhog Karte Tumhara chut mein Jalan Hoti Hai foki Meinsexbaba mehreengeeta kapoor Baba porn picsदिया मिर्जा हाट ब्रा निकर फोटोwww xxx com हिंदी सेनेमाsagi chhoti bahan ne rajae me ghuskar lund chus liya hindi latest romantic 2019सासू मा को चोदा स्टोरी बारीश मैxnxx keytharanBagiche ghumte hot rape scene downloadchuddkd gao m nngi hokr chut chudwaiहात से हालाने वाली xxxmamata mohandas nangi picture xxx picture sexbaba.communni or hariya ki chudae gnne ki mithasRaj sarmha saxsi Hindi Kahaniचूच मस्तनी लँड काला फोटू देसेकसि पिला साड पिचरMother yes son fuck pussy maa beta printthread.phpपोती की गान्ड में जबरदस्ती लन्ड घुसाया सील तोड़ी सेक्सी कहानीbhude ne meri chut chod chodkr bhosda bna diya phorn video sexy chodai ki kahani new Gf bfmote Land sesix chache ko chodbata dakh burGandit ghalne xxxvid shiraddha kapoor xnxxnudepic of vani kapoorwww.sexbaba.net/Thread-Ausharia Rai-nude-showing-her-boobs-n-pussy?page=4Rajsarma sex kattaricha gangopadhyay nude photo sexbabachodne ki mahiti chut me ghalne kipados wali didi sex story ahhh haaamreeth rndee ka bzarhindi xxx aaedio rikatrTamil athai nude photos.sexbaba.comसेक्स में लडकी के सीना कैसा होना और आदमी कैसे छुता हैbollywood shemale actress image sexbabaमा के दुधू ब्लाऊज के बाहर आने को तडप रहे थे स्टोरी maa beti ka najaej samad xxxDiana Khan sexbabaneayna ki chut sex photosचाची की भोसरी के Xxx photos page2chodnakatrikaमैं अंधेरे में आँखें फाड़े खाला के मोटे मम्में देख रहा था, जो मेरी नजरों के सामने थे। लण्ड झटके खा रहा था जो खाला को भी महसूस हो रहा था, क्योंकी खाला अपनी टाँग हिला रही थीPati namard nandooise chudai sex storymollika /khawaise hot photo downloadantervasnahindisexvideo.comnecked dada bara khichasex baba bhenbhabi kai cudaixnxxdesi bhabhi ko aapna land cusakar cut maribur gisame land dala jata hai photoअंकल सेपेपर के बहाने चुदाईwww xxx sexbaba.net/artiVandana ki ghapa ghap chudai hd videoघुत चाटते लडकाSasur Bahu Ki Kamvasna – Part 6 ससुर और बहू की कामवासना -6aartii naagpal sexbabasubscribe and get velamma free 18 xxxxx radपरिवार में माँ चची दीदी बहन बुआ की चुदाई सेक्सबाब नेटSex keise kiy jata hey lanakiy keise karati hey ke bareme panane wali batdGubara pehen k kese hoti sex