Hindi Sex Kahani नशे की सज़ा
09-02-2018, 11:48 AM,
#51
RE: Hindi Sex Kahani नशे की सज़ा
रंजन सोफे पर रिलॅक्स होकर अपनी दोनो टाँगे फैलाए हुए बैठा था –जैसे ही मैं उसके पास जाकर खड़ी हुई उसने एक बार अपनी पॅंट के अंदर बने हुए टेंट पर हाथ फिराया और बोला-“चलो पहले अपने उपर के कपड़े उतारो.” मुझे मालूम था कि मेरे पास कोई दूसरा रास्ता नही था –मैने चुपचाप अपने दोनो हाथ उपर उठकर अपनी टी-शर्ट
उतार दी –अब मेरे बदन पर वाइट रंग की ब्रा रह गयी थी-इससे पहले की मैं उसे भी उतारती,रंजन बोला-“गुड….अपने हाथ उपर ही रखो….और ज़रा मेरे और नज़दीक आकर खड़ी हो जाओ !”

मैं उसके बिल्कुल नज़दीक जाकर खड़ी हो गयी-मैने लो वेस्ट जीन्स पहन रखी थी और उसके उपर से मेरी नाभि सॉफ सॉफ नज़र आ रही थी-रंजन के होंठ एकदम मेरी नाभि के नज़दीक आकर ठहर गये थे-मेरी पतली कमर को रंजन ने सहलाते हुए पकड़ा और मेरे नाभि प्रदेश को अपने होंठों से चूमना चाटना शुरू कर दिया-बीच बीच मे उसके हाथ मेरे सीने के उन्नत उभारों को भी सहला रहे थे.कुछ देर तक रंजन इसी तरह मेरे बदन से खेलता रहा-फिर उसने अचानक ही अपना हाथ मेरी लो वेस्ट जीन्स के अंदर डाल दिया और बोला-“चलो इसे भी नीचे खिस्काओ “

मैने अपने हाथ नीचे किए और अपनी जीन्स का बटन खोलकर उसकी ज़िप सरकाने लगी-मेरी वाइट कलर की पॅंटी अंदर से अपनी झलक दिखाने लगी.रंजन ने मेरे बदन से अपने हाथ हटा लिए और मुझे अपने बदन से अपनी जीन्स उतारते हुए देखने लगा-उसके लिए शायद यह नया नया अनुभव था-उसने शायद पहली बार किसी लड़की को इस तरह अपनी जीन्स उतारते हुए देखा था.जब मैने जीन्स उतारकर एक तरफ रख दी और मेरे बदन पर सिर्फ़ पॅंटी ही रह गयी तो मैं फिर खड़ी हो गयी-मुझे मालूम था कि वो मेरी पॅंटी भी ज़रूर उतरवाएगा लेकिन जब तक उसका हुक्म ना हो मैं यह करना नही चाहती थी.

रंजन ने अपने हाथ को मेरी पॅंटी के उपर से ही मेरी योनि के उपर फिराया और बोला-“चलो इसे भी अलग करो”. मैने अगले ही पल पॅंटी को भी उतार दिया.

“अब ज़रा अपने दोनो हाथ उपर उठाओ और पीछे घूम जाओ” रंजन का लिंग एकदम उसकी पॅंट से निकलने को बेकाबू हुए जा रहा था जिसे वो अपने हाथ से सहला सहलकर किसी तरह शांत कर रहा था.

मैं पीछे घूम गयी.उसने मेरे नितंबों पर अपना हाथ फिराया और उसे स्लॅप करते हुए बोला-“फिर से घूम जाओ !”
और मैं फिर से घूम गयी-शायद वो यह देखना चाहता था कि मैं कितनी जल्दी से उसके हुक्म का पालन कर सकती थी.रंजन फिर से बोला-“ऐसा करो मेरे अगले हुक्म तक तुम ऐसे ही अपने दोनो हाथ उपर किए हुए घूमती रहो.”

कुछ देर के इस मोस्ट ह्युमिलियेटिंग बॉडी शो के बाद उसने मुझे रोका और मेरी शेव की हुई चिकनी योनि पर अपना हाथ फिराने लगा.
-  - 
Reply
09-02-2018, 11:48 AM,
#52
RE: Hindi Sex Kahani नशे की सज़ा
“चलो घुटनो के बल नीचे बैठ जाओ ! “ रंजन ने कहा तो मुझे कोई हैरानी नही हुई क्यूंकी अब उसका लिंग उसके अपने काबू से भी बाहर हो चुक्का था और उसने उसे अपनी पॅंट की ज़िप से बाहर निकाल लिया था.
मैं घुटनो के बल बैठ गयी तो वो फिर बोला-“चल इसे अपने मूह के अंदर लेकर इसकी जी भरकर खातिर कर.”

और मैने उसके लिंग को अपने मूह मे ले लिया और उस पर अपनी जीभ फिरा फिरकर उसे मज़ा देने की कोशिश करने लगी.

उधर मैने देखा कि बॉब्बी ने सलोनी को पूरी तरह नंगा कर दिया था और वो शायद किसी वजह से उसके गुस्से का शिकार होकर उत्थक बैठक लगाने पर मजबूर थी-बॉब्बी ने अपने हाथ मे अपनी पॅंट मे से निकली हुई लेदर की बेल्ट ले रखी थी जिसे वो सलोनी के नंगे बदन पर बीच बीच मे लगाता जा रहा था .मैने देखा की सलोनी अपनी उत्थक बैठक की काउंटिंग भी करती जा रही थी और इस समय वो 87 के काउंट पर पहुँच चुकी थी-शायद उसे 100 उत्तक बैठक लगाने का हुक्म बॉब्बी ने दिया होगा. जब 100 की गिनती पूरी होने पर सलोनी रुक गयी और बॉब्बी की तरफ देखने लगी तो मुझे बॉब्बी की बात से मालूम पड़ा की सलोनी को किस बात की सज़ा मिली थी.

बॉब्बी उससे बोला-“अब भी मेरी बात तेरी समझ मे आई या फिर तुझे कुछ और मज़ेदार सज़ा दी जाए……”

और सलोनी भीगी बिल्ली की तरह बॉब्बी की तरफ आती हुई बोली-“नही सर मैं समझ गयी हूँ कि आप क्या चाहते हैं-अब आपको किसी तरह की शिकायत का मौका नही मिलेगा” कहने के साथ ही सलोनी बॉब्बी की दोनो टॅंगो के बीच मे अपने घुटनो के बल बैठ गयी. सलोनी ने बॉब्बी की पॅंट की ज़िप की तरफ हाथ बढ़कर उसे खोला और उसमे से उसके खड़े लिंग को बाहर निकालकर उस पर अपनी उंगलियाँ फिराने लगी-कुछ देर तक बॉब्बी उसकी उंगलिओं के स्पर्श का मज़ा लेता रहा फिर कुछ देर बाद डपटकर बोला-“ इसे अपनी उंगलिओं से नही, अपनी जीभ से सहला…….समझी.” कहने के साथ ही बॉब्बी ने उसके दोनो गालों पर हल्की सी चपत भी लगा दी.

नेहा उधर सलीम और परवेज़ की दुर्गति करते हुए मेरा और सलोनी का सेक्सप्लाय्टेशन देख देख कर उततेज़ीत हुई जा रही थी.

क्रमशः..................
-  - 
Reply
09-02-2018, 11:48 AM,
#53
RE: Hindi Sex Kahani नशे की सज़ा
नशे की सज़ा पार्ट--12

गतान्क से आगे......

जैसे ही बॉब्बी ने सलोनी के गालों पर स्लॅप किया, उसने तुरंत ही अपनी जीभ उसके लिंग पर फिरानी शुरू कर दी और बॉब्बी मस्ती मे डूबकर सलोनी के मुख मैथुन का आनंद लेने लगा. इस समय चल रहे इस सारे नाटक की वीडियो रेकॉर्डिंग लगातार चल रही थी ताकि इसको दिखाकर ना सिर्फ़ मुझे और सलोनी को वरन सलीम और परवेज़ को भी ब्लॅकमेल किया जा सके.

नेहा जब सलीम और परवेज़ की काफ़ी दुर्गति कर चुकी तो उसने रंजन की तरफ देखकर कहा-“ रंजन, इन दोनो का क्या करें ?”

रंजन ने नेहा से हंसकर कहा-“अब यह चारों लोग हमारे लाइफ-टाइम स्लेव्स बन गये हैं-निशा और सलोनी हमारे लिए सेक्स स्लेव्स का काम करेंगी और यह दोनो हमारे गुलाम बनकर रहेंगे-सबसे पहले तो इन दोनो से कहो की टेबल पर रखे पेपर्स पर फटाफट सिग्नेचर करें ताकि इनके रेज़िग्नेशन्स इनके हॉस्टिल मे दिए जा सकें-उसके बाद यह दोनो हमारे स्टूडियो मे सदा स्वीपर का काम करेंगे और वो सभी काम करेंगे जो हम सब इनसे करने के लिए कहेंगे-इन लोगों को सिर्फ़ खाना और ज़रूरी कपड़े पहनने के लिए दिए जाएँगे-और कुछ नही.”

बॉब्बी ने भी उसकी हां मे हां मिलाते हुए कहा-“बिल्कुल ठीक…….आज से यह दोनो नामुराद हमारे लिए बिना मोल के गुलाम हैं-इससे ज़्यादा कुछ नही……….इनसे सारे पेपर्स पर साइन करवा लो.”

नेहा ने दोनो को फटकार्टे हुए कहा-“चलो दोनो खड़े हो जाओ और जैसे साहब लोग कह रहे हैं-सभी पेपर्स पर चुपचाप साइन कर दो.”

सलीम और परवेज़ उठकर खड़े हुए और पेपर्स पर साइन करने लगे-वो दोनो हम लोगों के हाथों की कठपुतली बन गये थे,यह वो अब भली भाँति समझ चुके थे.

इधर रंजन ने अपना सारा वीर्य रस मेरे मूह मे भर दिया और बोला-“इस सारे रस को पी जाओ……गिरना नही चाहिए एक बूँद भी…………” मैं उसके सारे के सारे वीर्य रस को फटाफट पी गयी और फिर उसके लिंग पर अपनी जीभ फिरा फिरा कर उसे सॉफ करने लगी. मेरी इस बात से रंजन बहुर खुश हो गया और नेहा से बोला-“ यार यह तो बहुत बढ़िया सेक्स स्लेव है…….अपने आप ही सब कुछ किए जा रही है-कुछ भी कहने की ज़रूरत नही पड़ रही है…….”

उधर बॉब्बी ने सलोनी को अपनी दोनो टाँगों पर उल्टा करके लिटा लिया था और उसके चिकने गोल नितंबो पर अपने हाथ को फिरा फिरा कर मस्ती ले रहा था. मैं जब रंजन के लिंग को सॉफ कर चुक्की तो नेहा ने मुझे ऑर्डर दिया-“निशा तुम ज़रा इधर आकर मेरी कुछ खातिर करो.”

मैं नेहा के पास चली गयी-इस बीच नेहा ने बॉब्बी से लेदर बेल्ट ले ली और मेरे नंगे बदन पर ज़ोर से एक स्ट्रोक लगाते हुए बोली-“फटाफट शुरू हो जाओ….मुझे कुछ कहने की ज़रूरत नही पड़नी चाहिए,,,,,,,,मेरी कब क्या ज़रूरत है…… मेरे सेक्स स्लेव को यह बात हमेशा मालूम होनी चाहिए.” यह कहने के साथ ही नेहा ने अपना भीगा हुआ योनि प्रदेश मेरे मूह के सामने कर दिया-मेरे पास उसके योनि प्रदेश को अपनी जीभ से चाटने के अलावा और कोई रास्ता नही था.बीच बीच मे नेहा मेरे गालों पर थप्पड़ भी लगाती जा रही थी-“ठीक से चाट चिकनी…….मज़ा नही आ रहा है………” उसका स्लॅप खाने के बाद मैं फिर से उसे खुश करने मे लग जाती.

हम सब के सेक्सप्लाय्टेशन का यह सिलसिला रुकने का नाम ही नही ले रहा था-रंजन,बॉब्बी और नेहा-तीनो ही हम चारों की हर संभव तरीके से दुर्गति कर रहे थे-इस सारी रास लीला मे रात के 2 बज गये इसका पता तब चला जब रंजन ने कहा-“नेहा मुझे अभी कुछ ही देर मे एक वी आइपी गेस्ट को रिसीव करने एरपोर्ट पहुँचना है-फ्लाइट 3 बजे आएगी…ऐसा करो इन सब गुलामो को तुम अपने तरीके से मॅनेज कर लो……..और मैं एरपोर्ट के लिए निकल रहा हूँ.”

बॉब्बी ने रंजन की तरफ देखकर कहा-“तुम चलो….हम इन सब को मॅनेज कर लेंगे-अभी तो मौज़ मस्ती शुरू हुई है………अभी तो निशा का टॅलेंट भी टेस्ट करना है..”

इसके बाद रंजन तो वहाँ से चला गया और बॉब्बी ने सलीम और परवेज़ को ऑर्डर देते हुए कहा-“ऐसा करो तुम लोग तो अपने काम पर अभी से लग जाओ……..सारे स्टूडियो की और सारे ऑफीस की पूरी सफाई तुम दोनो की ज़िम्मेदारी है आज से-मैने यहाँ के सारे स्वीपर्स की पहले से ही छुट्टी कर दी है………कहीं भी कोई गंदगी नज़र नही आनी चाहिए और पूरा स्टूडियो और ऑफीस चकाचक चमकता रहना चाहिए-कुछ कमी पाई गयी तो भारी सज़ा मिलेगी……….समझ गये……….”

“जी साब……….समझ गये……….आपको शिकायत का कोई मौका नही मिलेगा.” सलीम और परवेज़ दोनो एक साथ बोले और अपने अपने काम पर लग गये.
-  - 
Reply
09-02-2018, 11:48 AM,
#54
RE: Hindi Sex Kahani नशे की सज़ा
इसके बाद बॉब्बी ने सलोनी के नितंबों पर जोरदार स्लॅप मारते हुए कहा-“चल चिकनी……उठ जा और अब सलोनी मेडम की खिदमत मे लग जा………नेहा ज़रा इस चिकनी को मेरे हवाले करना-रंजन इसकी बड़ी तारीफ कर रहा था-ज़रा मैं भी तो इसका टॅलेंट टेस्ट करके देखूं.”

इसके बाद नेहा ने मुझे अपनी गिरफ़्त से आज़ाद करते हुए कहा-“चल चिकनी,खड़ी हो जा….तेरी खबर अब बॉब्बी साहब लेंगे………जा उनको जी भारकर खुश कर……..कोई शिकायत नही चाहिए मुझे…….समझी….?”

“जी मॅम, समझ गयी…….मैं बॉब्बी सर को पूरी तरह से खुश करने की कोशिश करूँगी.” मैने नेहा से कहा और बॉब्बी के सामने आकर खड़ी हो गयी.

नेहा अब सलोनी से अपने योनि प्रदेश को चटवा चटवा कर मौज़ मस्ती मे डूबी हुई थी और उसे बॉब्बी और मेरे बीच क्या हो रहा था इसकी शायद कोई भी खबर नही थी.

बॉब्बी कुछ देर तक मुझे देखता रहा-मैं पूरी तरह से नंगी थी.

“अपने हाथ उपर उठाओ ! “ काफ़ी देर बाद बॉब्बी की आवाज़ सुनाई दी और मैने ओबीडियेंट स्लेव की तरह अपने हाथ उपर उठा लिए.

“अपनी जंघें थोड़ी फैलाओ ! “ बॉब्बी का अगला हुक्म जारी हुआ और मैने अपनी टाँगे फैलाकर खड़ी हो गयी-अब मेरे योनि प्रदेश को काफ़ी अच्छी तरह देखा जा सकता था.

कुछ देर तक बॉब्बी मुझे इसी पोज़िशन मे देख देख कर अपना लिंग सहलाता रहा-उसके लिए यह बेहद एरॉटिक सीन था जो उसने कभी सपने मे भी नही सोचा होगा कि कभी कोई जवान खूबसूरत लड़की अपने सारे कपड़े उतार कर उसके सामने अपने हाथ उपर उठाकर और जंघे फैलाकर खड़ी होगी.

बॉब्बी अब सोफे से उठा और उसने कमेरे का रुख़ मेरी तरफ कर दिया-ज़ाहिर था की अब कमेरे मे सिर्फ़ मेरी ही रेकॉर्डिंग हो रही थी-नेहा और सलोनी की नही-बॉब्बी की भी नही.बॉब्बी बोला-“अब ज़रा अपने कान पकड़कर 100 बार उत्थक बैठक लगाते हुए यह बोलो कि –“मैं बॉब्बी सर की यौन गुलाम हूँ.”

मैने कान पकड़ लिए और हर उत्तक बैठक के साथ यह दोहराने लगी-“मैं बॉब्बी सर की यौन गुलाम हूँ.”

बॉब्बी दुबारा से सोफे पर बैठ गया था और मुझे देखकर अपने लिंग को सहलाता जा रहा था.

नेहा जो अब तक सलोनी की चूमा चाती की मस्ती मे डूबी हुई थी,उसने अचानक अपनी आँखें खोली तो मुझे उत्थक बैठक लगाते हुए पाया.उसने सलोनी से कहा-“चलो,,,तुम अब ज़रा बॉब्बी के लिंग को रिलीफ पहुँचाओ.मैं इसको देखती हूँ.” कहते हुए नेहा मेरे पास आकर पास रखी कुर्सी पर इस तरह से बैठ गयी ताकि मेरा गोरा चिकना और मखमली बदन उसकी पकड़ मे रहे.

बॉब्बी की तरफ देखकर नेहा बोली-“बॉब्बी अब मैं तुम्हे एक ऐसा गेम शो दिखाने जा रही हूँ-जिसमे मैं इस चीक्कनी के मखमली बदन के जिस किसी भाग पर अपना हाथ रखूँगी, यह उस भाग का नाम हमे हिन्दी मे बताएगी------है ना मज़ेदार गेम…….?”

बॉब्बी के लिंग को सलोनी ने अपने मूह मे ले रखा था-वो और भी अधिक बौरता हुआ बोला-“ हां हां शुरू करो यह गेम…….काफ़ी मज़ेदार लग रहा है सुनने मे तो. इस गेम को मैं भी आगे बढ़ाना चाहूँगा”

यह कहने के बाद नेहा ने अपना हाथ मेरे नितंबो पर ज़ोर से लगाया और बोली-“ठीक है उत्थक बैठक बहुत हो गयी……..अब रुक जाओ…….और जो मैं कहती हूँ उसे सुनो………समझ गयी कि फिर से समझाना पड़ेगा………?”

“जी मॅम मैं समझ गयी……….” मैने नेहा से कहा

“क्या समझ गयी ?” नेहा कहाँ छोड़ने वाली थी.

“यही कि आप मेरे बदन पर जहाँ कहीं भी अपना हाथ रखेंगी,मुझे उस जगह का नाम हिन्दी मे बताना है…….और अगर नाम नही बता पे या नाम बताने मे देरी की तो बॉब्बी सर अपनी लेदर बेल्ट से मेरे नितंबों को स्पॅंक कर सकते हैं.” मेरे अंतिम वाक्य को सुनकर बॉब्बी का मन बाग बाग हो उठा था-क्यूंकी उसने लेदर बेल्ट को एकदम कसकर पकड़ लिया था जैसे की अगले ही पल उसका इस्तेमाल करने जा रहा हो.

सुबह के 10 बज चूक्के थे -इससे पहले की यह सेक्सप्लाय्टेशन का गेम और आगे बढ़ता, रंजन अचानक ही वहाँ पर पहुँचा और बॉब्बी की तरफ देखकर घबराता हुआ बोला-“हम लोग बुरी तरह फँस चुके हैं-सब कुछ छोड़कर भागने मे ही ख़ैरियत है-डीआरआइ की रेड होने की खबर मुझे अभी अभी लगी है”
-  - 
Reply
09-02-2018, 11:48 AM,
#55
RE: Hindi Sex Kahani नशे की सज़ा
बॉब्बी ने भी घबराहट मे पहले तो अपने कपड़े संभाले,फिर रंजन से बोला-“ डीआरआइ की रेड किस चक्कर मे पड़ रही है ? “

इस अफ़रा तफ़री का फ़ायदा उठाकर मैने और सलोनी भी अपने अपने कपड़े उठाकर उन्हे पहनने लगी.नेहा ने भी अपने आपको संभाला और घबराकर रंजन से बोली-“ यार.यह डीआरआइ की रेड का क्या चक्कर है ?”

रंजन के चेहरे पर घबराहट बढ़ती जा रही थी-“ यह वक़्त बातों मे पड़कर समय बर्बाद करने का नही है-हमारे चॅनेल के उपर कुछ फॉरिन एक्सचेंज वाइयोलेशन के सीरीयस चार्जस की डीटेल डीआरई वालों के हाथ लग गयी है-मैने सारा इंटेज़ाम कर रखा है-फटाफट यहाँ से सिंगापोर निकल लेते हैं-आज किसी भी समय यह रेड हो सकती है…….”

यह सब बातचीत अभी चल ही रही थी कि उसी वक़्त 6 लोगों की टीम वहाँ पर यकायक पहुँच गयी और उन लोगों मे उनका टीम लीडर टाइप आदमी कड़क आवाज़ मे बोला-“कोई होशियारी दिखाने की जुर्रत ना करे……..तुम सब लोग डीआरआइ की टीम की कस्टडी मे हो और जब तक हम लोगों की तसल्ली नही हो जाती, कोई भी यहाँ से हिलेगा भी नही.” मैने देखा की उन 6 लोगों की टीम मे 2 पोलीस ऑफीसर भी थे और उनमे एसीपी अमित भी था- अमित एसीपीराज शर्मा का दोस्त था अमित को देखकर मेरी जान मे जान वापस आई. मैने और सलोनी ने एक दूसरे की तरफ देखा और हमारे चेहरे खुशी से खिल उठे. नेहा ,बॉब्बी और रंजन के चेहरे पर घबराहट सॉफ दिख रही थी-सलीम और परवेज़ सारा मज़रा समझकर, टीम के वहाँ पहुँचने से पहले ही काट लिए थे.

एसीपी अमित ने मेरी और सलोनी की तरफ देखते हुए अपनी टीम के बाकी लोगों से कहा-“यह दोनो लड़कियाँ हमारे साथ हैं-बाकी के तीन लोगों से पूछताछ की जाएगी.”

नेहा कुछ बोलना चाहती थी,लेकिन इससे पहले की वो कुछ बोल पाए,अमित के साथ आए दूसरे पोलीस ऑफीसर इनस्पेक्टर विवेक ने उसके दोनो हाथ पीछे की तरफ बँधकर हथकड़ी लगा दी और बोला-“जब तक बोलने के लिए नही कहा जाए कोई नही बोलेगा.”

अमित मुझे बता चुक्का था कि पोलीस वाले इस तरह की बातें सिर्फ़ अपना रौब जमाने और ख़ौफ़ पैदा करने के लिए करते हैं-इनका कोई और मतलब नही होता.
क्रमशः.......
-  - 
Reply
09-02-2018, 11:48 AM,
#56
RE: Hindi Sex Kahani नशे की सज़ा
नशे की सज़ा पार्ट--13

गतान्क से आगे......

नेहा को हथकड़ी लगते देख रंजन बोल उठा-“इनस्पेक्टर साहिब,हम लोग को-ऑपरेट करने को तैइय्यार हैं,फिर हथकड़ी वग़ैरा की क्या ज़रूरत है.”

यह सुनते ही इनस्पेक्टर विवेक ने एक थप्पड़ कस्के रंजन के मूह पे लगाया और बोला-“अब तू हमे बताएगा कि हम अपना काम कैसे करें ?” कहने के साथ ही उसने रंजन और बॉब्बी दोनो के हथकड़ी लगा दी.
ड्री टीम के चार लोगों मे टीम लीडर लखटकिया के अलावा उनके डिपार्टमेंट के तीन और जूनियर ऑफीसर रोहित,नवीन और विशाल थे.


जब नेहा,बॉब्बी और रंजन तीनो को हथकड़ी लग गयी,तो अमित ने ड्री टीम के बाकी के चार लोगों की तरफ देखा और बोला-“लीजिए लखटकिया साहिब,आपके तीनो मुजरिम आपके हवाले कर दिए गये हैं-आप इनकी खूब इनटेरगेशन कीजिए.” यह कहने के बाद, अमित मुझे और सलोनी को लेकर दूसरे कमरे मे आ गया.

मैने और सलोनी ने अमित को अपनी आपबीती बताई और यह भी बताया-“ सर, इन लोगों के पास वो सारी ड्व्ड्स भी हैं जिन मे आप और कमिशनर साहब भी हैं.”

अमित ने यह सुनकर कहा-“अब तक ड्री की टीम ने इनका सारा समान अपनी कस्टडी मे ले लिया होगा.” इसके बाद अमित ने फोन करके इनस्पेक्टर विवेक से कह भी दिया-“इन लोगों के पास कुछ ड्व्ड्स भी हैं जिन में कुछ सेन्सिटिव डीटेल्स हैं-उन्हे इनके लोगों से लेकर तुरंत मेरे पास भेजो.”

कुछ ही देर मे इनस्पेक्टर विवेक सारी ड्व्ड्स वहाँ लेकर हाजिर हो गया-“ सर यह रहीं आपकी ड्व्ड्स.लखटकिया साहिब पूछ रहे हैं कि इन लोगों का इनटेरगेशन यहा पर ही करना है या फिर इनको ड्री हेडक्वॉर्टर ले चलें ?”

“मैं अभी लखटकिया साहिब से बात कर लेता हूँ-तुम तब तक ऐसा करो कि निशा और सलोनी को पोलीस गेस्ट हाउस मे पोलीस की जीप से ड्रॉप करवा दो. वहाँ यह कुछ देर आराम कर लेंगी.”

इनस्पेक्टर विवेक ने पहले तो कहा-“ यस सर…….”, फिर कुछ रुककर बोला-“ सर मैं इन दोनो को खुद ही ड्रॉप कर देता हूँ और अगर आप पर्मिशन दें तो उस लौंडिया को थाने ले जाकर उसका इनटेरगेशन कर लूँ ? “

अमित के चेहरे पर मुस्कान आ गयी-“हां, उस लौंडिया नेहा का वैसे भी इस ड्री के केस से सीधे तौर पर कोई लेना देना नही है-लेकिन उसे थाने मत ले जाओ-उसका जो भी करना है पोलीस गेस्ट हाउस मे ही करो.निशा और सलोनी भी तुम्हारी मदद कर सकती हैं इनटेरगेशन करने मे-तुम्हारा काम कुछ आसान हो जाएगा.”

विवेक को तो मानो मूह माँगी मुराद मिल गयी.वो “ठीक है सर,जैसा आपका हुक्म” कहकर, मुझे और सलोनी को लेकर फटाफट वहाँ से निकल आया और पोलीस जीप मे बैठकर,ड्राइवर से बोला-“अपने गेस्ट हाउस चलो”.

विवेक की जल्दबाज़ी देखकर मुझे हँसी आ गयी-“ सर आप जल्दबाज़ी मे कुछ भूल रहे हैं …”

“वो क्या…?” विवेक के मूह से निकला

“आपकी मुजरिम नेहा…..उसे तो आपने यहीं छोड़ दिया…इनटेरगेशन किसका करेंगे?”

“ओह सॉरी आंड थॅंक्स !” कहता हुआ विवेक अंदर की तरफ तेज कदमो से गया और अगले ही पल वो नेहा को लेकर वापस आ गया. नेहा के हाथ अभी भी पीछे की तरफ बँधे हुए थे और हथकड़ी लगी हुई थी.

हम सब जीप मे पीछे की सीट्स पर बैठ गये.जीप मे कपड़े के पर्दे का पेर्षन होने की वजह से पीछे क्या कुछ हो राहा है, इसका ड्राइवर को कुछ भी अंदाज़ा नही हो सकता था.

जब हम सब बैठ गये तो विवेक ने जीप का पिछला दरवाज़ा भी बंद कर दिया और जीप चल पड़ी.

मैं और सलोनी जीप मे एक तरफ की सीट पर बैठे हुए थे.दूसरी तरफ की सीट पर विवेक बैठा हुआ था और उसने नेहा को भी अपने साथ ही बिठाया हुआ था.
-  - 
Reply
09-02-2018, 11:48 AM,
#57
RE: Hindi Sex Kahani नशे की सज़ा
मेरे और सलोनी के मन मे उत्सुकता हो रही थी कि अब विवेक नेहा के साथ क्या करने वाला है और वो शुरुआत यहीं से करेगा या फिर गेस्ट हाउस पहुँचने के बाद करेगा-नेहा के मन मे भी यह सब ख़याल उमड़ रहे होंगे. इसी बीच ड्राइवर ने बहुत ज़ोर से ब्रेक लगाया जिसकी वजह से और उसके हाथ बँधे होने की वजह से नेहा एकदम अपनी सीट से नीचे की तरफ खिसक गयी-विवेक ने इसी बहाने से अपनी झिझक छोड़ दी और नेहा को उठाकर सीट पर बिठाने के वजाय उसे अपनी गोद मे बिठा लिया-क्यूंकी नेहा के हाथ पीछे की तरफ बँधे हुए थे, इसलिए विवेक ने नेहा का चेहरा अपनी तरफ करके उसे अपनी गोद मे बिठाया. नेहा ने ब्लू कलर की जीन्स और रेड कलर का टॉप पहन रखा था-कपड़े उसने जल्दबाज़ी मे पहने थे-इसकी वजह से उसने अंदर के कपड़े पॅंटी और ब्रा दोनो ही नही पहने थे-यह बात अभी तक विवेक को नही मालूम थी.

पोलीस गेस्ट हाउस यहाँ से लगभग 30 किलोमेटेर दूर था और ट्रॅफिक की वजह से वहाँ पहुँचने मे कम से कम एक घंटे का समय ज़रूर लगना था-विवेक ने भी शायद यही सब सोचकर नेहा को अपनी गोद मे बिठाया था कि 1 घंटे का वक़्त भी बर्बाद क्यूँ किया जाए और रास्ते मे भी जीतने हो सकते हैं मज़े ले लिए जाएँ.

हम दोनो भी इस इंतेज़ार मे थे कि कब कुछ मज़ेदार हरकत विवेक और नेहा के बीच मे शुरू हो ताकि मेरा और सलोनी का समय भी उसे देखकर कट जाए-इसके लिए हमे ज़्यादा इंतेज़ार नही करना पड़ा.

हमने देखा की विवेक ने नेहा के गाल पर हल्की सी चपत लगाई और बोला-“तेरा क्या चक्कर है इस चॅनेल से ?”

नेहा को इस पहले पहले लगने वाले थप्पड़ की ज़रा भी उम्मीद नही थी.वो एकदम सकपकाकर बोली-“सर, मेरा कोई चक्कर वॅकर नही है.”

विवेक ने इस बार नेहा के दूसरे गाल पर हल्के से चपत लगाया और बोला-“ फिर तू यहाँ क्या कर रही थी ?”

“सर कुछ नही..मैं तो बस रंजन से मिलने आई थी.” नेहा ने झूठ बोल कर अपनी जान छुड़ाने की कोशिश की.

“कौन रंजन ?” विवेक ने फिर एक हल्का सा चपत नेहा के गाल पर लगाते हुए पूछा.

मुझे लग रहा था कि विवेक सिर्फ़ टाइम पास करने के लिए ही नेहा का इनटेरगेशन कर रहा था और जान बूझकर सवाल करने के बहाने नेहा के गालों पर हल्के हल्के चपत लगाकर मज़े ले रहा था.

“सर रंजन और बॉब्बी ही इस चॅनेल का सारा काम काज देखते हैं.” नेहा ने विवेक के सवाल का जबाब देने की कोशिश की.

“ कौन बॉब्बी ?” विवेक ने नेहा के दूसरे गाल पर फिर से हल्का सा चपत लगाया.

ऐसा लग रहा था कि ज़्यादा से ज़्यादा चपत लगाने के लिए विवेक छोटे छोटे सवाल कर रहा था-उसका मकसद सवाल पूछना कम,नेहा के मखमली गालो पर चपत लगाना ज़्यादा लग रहा था.

“सर, बॉब्बी मेरा दोस्त है.” नेहा का चेहरा इस अजीब तरह के ह्युमाइलियेशन से एकदम लाल हो गया था.

“बॉब्बी तेरा दोस्त है यह पहले ही बता देती तो इतने थप्पड़ तो नही खाने पड़ते-पोलीस से बात छिपाने की कोशिश करती है ?” कहकर विवेक ने फिर एक हल्का सा चपत नेहा के गाल पर लगाया.

विवेक जिस अंदाज़ से नेहा के गालों पर अपने हाथ सॉफ कर रहा था, उसे इस बात का अंदाज़ा तो सॉफ हो गया था कि गेस्ट हाउस मे पहुँचने के बाद यह सेक्सप्लाय्टेशन का खेल और भी अधिक रोचक होने वाला था.

नेहा इस बीच चुप हो गयी थी-उसे लग रहा था की बात फिलहाल ख़तम हो गयी है.लेकिन विवेक को तो शायद अपना वक़्त मज़े लेते हुए बिताना था सो उसने फिर से नेहा के गालों पर एक हल्का सा चपत रसीद किया और बोला-“चुप कैसे हो गयी ? मैने क्या पूछा था ?”

‘सर मुझे कुछ याद नही कि अपने क्या पूछा था.” नेहा को शायद समझ मे नही आया कि विवेक को क्या जबाब दे.
-  - 
Reply
09-02-2018, 11:49 AM,
#58
RE: Hindi Sex Kahani नशे की सज़ा
विवेक ने फिर एक सेन्ल्युवस थप्पर नेहा के गाल पर लगाया और बोला-“अब तुझे भूलने की आदत भी हो गयी-तुझे याद दिलाने के लिए भी कुछ मेडिसिन खिलानी पड़ेगी ? “

“नही सर “ नेहा बोली

“तो फिर ?” विवेक ने फिर एक चपत नेहा के गाल पर लगा दी.

मैं और सलोनी दोनो ही विवेक द्वारा नेहा के इस अद्भुत ह्युमाइलियेशन शो को देखकर काफ़ी उत्तेजित महसूस कर रही थे. खुद विवेक की पॅंट मे भी जबरदस्त टेंट बन गया था और उसका लिंग उसकी ज़िप से बाहर निकलने तो बेताब हो रहा था. विवेक की उमर लगभग 24 साल की ही थी क्यूंकी वो काफ़ी यंग लग रहा था और उसका किसी लड़की के साथ यह पहला एक्सपीरियेन्स लग रहा था-अभी तक विवेक ने जो कुछ भी नेहा के साथ किया था, वो सब किसी इंग्लीश फिल्म मे दिखाए गये सीन जैसा लग रहा था.

नेहा को फिर से चुप देख विवेक ने उसके दोनो गालों पर बारी बारी से हल्के हल्के चपत लगाने शुरू कर दिए…….ऐसा लग रहा था कि चपत लगाने का यह सिलसिला कभी थामेगा ही नही-“तुम जब तक मुझे जबाब नही दोगि, तब तक ऐसे ही थप्पड़ लगते रहेंगे.” मानो विवेक उसे कम,हम लोगों को इस बात की सफाई ज़्यादा दे रहा था कि वो इस तरह से नेहा की सेन्ल्युवस फेस स्लॅपिंग क्यूँ कर रहा था.

“जी सर.” नेहा को कुछ समझ नही आया कि वो क्या बोले.

इस बीच मैने ही विवेक की तरफ देखा और कहा-“सर, आपको रिलॅक्स करने की ज़रूरत है-अभी तो कम से कम 30 मिनिट्स और लग जाएँगे हमे गेस्ट हाउस पहुँचने मे.”

इससे पहले की विवेक मेरी बात को समझ पाता, मैने नेहा को हुक्म दिया-,”चल चीक्कनी,घुटनो के बल बैठ जा और साहब को रिलॅक्स करने दे.”

विवेक शायद अभी भी मेरी बात का पूरा मतलब नही समझा था लेकिन नेहा मेरा इशारा समझ गयी थी और फटाफट विवेक के सामने घुटनो के बल बैठ गयी.उसके हाथ हथकड़ी से पीछे की तरफ बँधे हुए थे इसलिए उसे समझ नही आ रहा था कि शुरुआत कैसे की जाए

इस बार नेहा को सलोनी ने हुक्म दिया-“चल चिकनी शुरू हो जा ! “

नेहा ने लाचारी भरी नज़रों से पहले मेरी तरफ फिर सलोनी की तरफ देखा और बोली-“ मॅम, मेरे हाथ बँधे हुए हैं.”
विवेक को शायद अभी भी कुछ समझ मे नही आया था कि क्या होने वाला है.

“हाथों से नही, अपने मूह का इस्तेमाल करो…..तुम्हे कितनी बार यह बात समझानी पड़ेगी.” मैने नेहा को लगभग फटकारते हुए हुक्म दिया और वो अपने होठों को विवेक की पॅंट की ज़िप के पास ले गयी और उसे किसी तरह खोलने की कोशिश करने लगी.
क्रमशः.......
-  - 
Reply
09-02-2018, 11:49 AM,
#59
RE: Hindi Sex Kahani नशे की सज़ा
नशे की सज़ा पार्ट--14

गतान्क से आगे......
अब जाकर विवेक को समझ मे आया कि हम लोग क्या गेम खेल रहे हैं. नेहा के होंठों का उसकी पॅंट के ज़िप पर स्पर्श होते ही उसका टेंट और बुरी तरह तन गया-काफ़ी कोशिशों के बाद आख़िरकार नेहा विवेक की पॅंट की ज़िप खोलने मे कामयाब हो गयी-लेकिन अभी भी विवेक का लिंग उसके वाइट अंडरवेर के अंदर ही फड़फदा रहा था. कुछ देर तक नेहा अपने होंठों को उसके अंडरवेर मे क़ैद लिंग पर फिरा फिरा कर उसे बाहर निकालने की नाकाम कोशिश करती रही.

नेहा की इस जबरदस्त एरॉटिक हरकत से विवेक बेकाबू हुआ जा रहा था-उसने अपने लिंग को एक ही झटके मे खुद ही अंडरवेर से बाहर निकाल दिया. नेहा ने बिना किसी देरी के विवेक के लिंग को अपने मूह के अंदर ले लिया और उस पर अपनी जीभ फिराने लगी.

मैने विवेक की तरफ देखकर कहा-“ सर यह बहुत एक्सपर्ट है.अब आप रिलॅक्स कर सकते हैं-जब तक हम लोग गेस्ट हाउस नही पहुँच जाते,आप जी भरकर इस मुख मैथुन का आनंद लीजिए.” विवेक ने अपनी आँखें बंद कर ली थी और वो मानो किसी दूसरी दुनिया मे पहुँच चुका था.

कुछ ही देर मे विवेक ने अपने लिंग की पिचकारी नेहा के मूह मे छोड़ दी और वो उसे किसी एक्सपर्ट कॉक सकर की तरह पीने की कोशिश भी करने लगी.

इसके बाद नेहाने बिना किसी के कहे खुद ही विवेक के लिंग पर जीभ फिराते हुए उसकी सफाई कर डाली.

“यह तो बहुत ही मज़ेदार माल है ! “ विवेक ने मेरी और सलोनी की तरफ देखकर खुश होते हुए कहा.

जाहिर था की नेहा ने जिस तरह से उसके लिंग पर अपनी एक्सपर्ट जीभ से मसाज की थी, उसकी मस्ती विवेक पर छाई हुई थी.

पोलीस गेस्ट हाउस लगभग आने ही वाला था.नेहा ने विवेक के लिंग की सफाई कर दी थी और वो उस पर अपनी उंगलियाँ फिरा रही थी-शायद नेहा के मन मे यह चल रहा था कि गर वो विवेक को अपने आप से ही खुश रखेगी तो उस पर पोलीस की सख्ती कुछ कम होगी-इसीलिए वो विवेक को बिना कहे ही ज़्यादा से ज़्यादा मस्ती देने की कोशिश कर रही थी.

“ठीक है, बहुत हो गया-अब इसे अंदर करके पॅंट की ज़िप बंद कर दो”, सलोनी ने अचानक ही नेहा को हुक्म दे डाला और नेहा ने बिना किसी ना नुकुर किए विवेक के लिंग तो अपने हाथों से अंडरवेर के अंदर पॅक करते हुए उसकी पॅंट की ज़िप बंद करने लगी.

“जब तक गेस्ट हाउस नही आ जाता, तुम ऐसे ही नीचे बैठी रहो और अपने हाथ से इसे सहलाती रहो !” इस बार मैने नेहा को हुक्म दिया और वो अपने हाथ को विवेक के पॅंट मे पॅक्ड लिंग के उपर फिरा फिरा कर विवेक को मस्ती पहुँचने मे लग गयी.



कुछ ही देर बाद जीप पोलीस गेस्ट हाउस के गेट मे घुस गयी और पार्किंग मे जाकर रुक गयी.विवेक ने दरवाज़ा खोलने से पहले नेहा से कहा-“तुम्हारी बाकी की इनटेरगेशन तो अंदर गेस्ट हाउस मे जाकर ही होगी लेकिन तुमने जिस तरह से को-ऑपरेट किया है, उसके रिवॉर्ड के तौर पर मैं तुम्हारी हथकड़ी खोलता हूँ.” यह कहने के बाद विवेक ने अपनी पॉकेट मे से की निकाली और नेहा की हथकड़ी खोल दी. हम सब जीप मे से बाहर आ गये और विवेक के पीछे पीछे गेस्ट हाउस के एंट्रेन्स की तरफ बढ़ने लगे.गेस्ट हाउस के रिसेप्षन पर बैठे एक कॉन्स्टेबल ने विवेक को सलाम ठोंका तो विवेक ने कहा-“यह सब एसीपी साहिब के गेस्ट हैं-रूम नंबर. 510 खुलवा दो.”

“ जी सर.” कहकर कॉन्स्टेबल ने रूम नो.510 की की विवेक के हाथ मे पकड़ा दी और विवेक गेस्ट हाउस की लिफ्ट की तरफ बढ़ने लगा-लिफ्ट से 5थ फ्लोर पर हम लग आ गये थे-रूम नो.510,गेस्ट हाउस की टॉप फ्लोर का बिल्कुल आख़िरी कमरा था-बिल्कुल आख़िर मे होने की वजह से वहाँ किसी तरह का कोई डिस्टर्बेन्स भी नही था. कमरा खुला तो हम सबने देखा कि वो किसी फाइव स्टार होटेल के सुइट से कम नही था-घुसते ही एक ड्रॉयिंग एरिया था जहाँ एक सोफा सेट और सेंटर टेबल पड़ी हुई थी और उसे लगा हुए बड़े से कमरे मे किग्साइज़ डबल बेड .अटॅच्ड बाथरूम और टीवी/म्यूज़िक सिस्टम वग़ैरा सब कुछ था. कमरे मे एक साइड की पूरी दीवार ग्लास की बनी हुई थी जिसमे से सड़क का पूरा व्यू देखा जा सकता था. विवेक ने रूम को अंदर से लॉक कर लिया और बिस्तर पर पैर फैलाकर लेट गया और मुझसे बोला-“निशा, एसीपी साहिब कह रहे थे कि तुम दोनो इस लौंडिया का इनटेरगेशन करने मे मेरी मदद कर सकती हो ?”
-  - 
Reply
09-02-2018, 11:49 AM,
#60
RE: Hindi Sex Kahani नशे की सज़ा
हम दोनो तो खुद ही इसी मौके की तलाश मे देन.मैने विवेक की तरफ देखा-“सर आप बिल्कुल टेन्षन ना लें-आगे का सारा इनटेरगेशन हम दोनो पर छोड़ दें-आप सिर्फ़ इस इनटेरगेशन का लुत्फ़ उठाते रहें.”

सलोनी कमरे मे रखे सोफे पर बैठ गयी थी और उसने नेहा को ऑर्डर देते हुए कहा-“ इधर आजा चीक्कनी-अब तेरा असली इनटेरगेशन शुरू होगा.”

नेहा सलोनी के पास जाकर खड़ी हो गयी-मैं भी सलोनी के पास ही सोफे पर बैठी हुई थी-विवेक बड़ी उत्सुकता से इस सारे तमाशे को देख रहा था.

मैने अचनाक की नेहा को हुक्म दिया-“अपना टॉप उतारो”
मुझे मालूम था कि नेहा ने टॉप के अंदर कुछ भी नही पहना हुआ था.उसने कोई और रास्ता ना देख अपना टॉप उतार दिया और उसका उपर का भाग पूरी तरह नंगा हो गया-इसके साथ ही वो अपने दोनो हाथों से अपने सीने के उभारों को छुपाने की नाकाम कोशिश करने लगी. मैने विवेक की तरफ देखा जो अपने पॅंट मे बंद लिंग को लगातार सहला सहला कर इस जबरदस्त हॉट सीन को एक टक देख रहा था.

मैने विवेक की तरफ देखकर पूछा-“ सर, यहाँ सीक्रेट कॅमरा तो लगा हुआ है ना ? जिसमे इस इनटेरगेशन की वीडियो रेकॉर्डिंग हो सके?”

विवेक ने जबाब देते हुए कहा-“ यहाँ होने वाली हर आक्टिविटी की वीडियो रेकॉर्डिंग होती है और उसकी डVड डेली बेसिस पर तैय्यार की जाती है ताकि रेकॉर्ड मे रखा जा सके.”

सलोनी ने अब नेहा की जीन्स की तरफ इशारा करते हुए उसे अगला हुक्म दिया-“ चल इसे भी अपने खूबसूरत बदन से अलग कर दे और पूरी तरह से नंगी हो जा !”

नेहा ने विवश होकर अपने हाथों को सीने के उभारों से हटाया और धीरे धीरे जीन्स को उतारने लगी- जीन्स के अंदर भी उसने कुछ भी नही पहने हुआ था और जीन्स उतरते ही वो पूरी तरह नंगी हो गयी-उसका एक हाथ अपने सीने के उभारों पर चला गया और दूसरे हाथ से वो अपने योनि प्रदेश को छुपाने की नाकाम कोशिश करने लगी.

सलोनी ने नेहा के नितंबों पर जोरदार स्लॅप लगाते हुए उसे ऑर्डर दिया-“ चलो अपने दोनो हाथ उपर उठाओ और विवेक सर के सामने जाकर अपने बदन को गोल गोल घूमकर दिखाओ.”

नेहा ने वोही किया सो सलोनी ना कहा था और विवेक तो मानो किसी दूसरी दुनिया मे ही पहुँच चुका था- नेहा उसके सामने अपने नंगे बदन को घुमा घुमा कर उसकी नुमाइश कर रही थी.उसके दोनो हाथ उपर होने की वज़ह से उसके सीने के उभार और भी अधिक तनकर खड़े हो गये थे- विवेक का लिंग एकदम खड़ा हो चुका था और उसने उसे अपनी पॅंट के बाहर निकाल लिया था और उस पर लगातार अपने हाथ को फिरा रहा था.

मैने सोफे से उठकर कमरे मे रखे म्यूज़िक सिस्टम को ऑन कर दिया और उस पर एक लेटेस्ट आइटम सॉंग लगाकर नेहा से कहा-“ ज़रा इस सॉंग के उपर बढ़िया डॅन्स करके विवेक सर को खुश करो.”

इधर बॉलीवुड सॉंग बजना शुरू हुआ और उधर नेहा की धमाकेदार डॅन्स पर्फॉर्मेन्स शुरू हो गयी.

डॅन्स शुरू होते ही विवेक ने अपने लिंग को फिर से सहलाना शुरू कर दिया-उसके लिए शायद यह अनुभव एकदम नया और अद्भुत था- पोलीस वाले आम तौर पर रफ सेक्स या रेप जैसा करके लड़कियों को चोद देते हैं लेकिन यहाँ तो मैने और सलोनी ने विवेक के लिए एकदम होल्सम एंटरटेनमेंट के पॅकेज का इंटेज़ाम कर रखा था.

मैं यह अच्छी तरह समझ चुकी थी की पोलीस वालों को यह पता नही है कि लड़कियो से मज़े कैसे लिए जा सकते हैं- जैसे एसीपी राज शर्मा को मैने अपना दोस्त बना लिया था और उसका फायडा मुझे आज मिल रहा था वैसे ही मैं चाहती थी की इनस्पेक्टर विवेक को भी मैं इतना खुश करके भेजू कि वो भी मुझसे दोस्ती कर ले क्यूंकी पोलीस वालों से दोस्ती रहेगी तो इस तरह के मज़ेदार मौके अक्सर हाथ मे आते रहेंगे.

गाना ख़तम हो चुक्का था और उसके साथ ही नेहा की डॅन्स पर्फॉर्मेन्स भी रुक गयी थी. विवेक के लिए अब शायद अपने खड़े हुए लिंग को संभालना काफ़ी मुश्किल हो चला था.उसने नेहा को अपने नज़दीक बुलाते हुए कहा-“अब डॅन्स वॅन्स बहुत हो गया-इधर आजा और ज़रा इसको भी कुछ राहत पहुँचने का इंटेज़ाम कर.”
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Sex kahani अधूरी हसरतें 272 250,528 04-06-2020, 11:46 PM
Last Post:
Lightbulb XXX kahani नाजायज़ रिश्ता : ज़रूरत या कमज़ोरी 117 101,007 04-05-2020, 02:36 PM
Last Post:
Star Antarvasna kahani अनौखा समागम अनोखा प्यार 102 276,811 03-31-2020, 12:03 PM
Last Post:
Big Grin Free Sex Kahani जालिम है बेटा तेरा 73 162,212 03-28-2020, 10:16 PM
Last Post:
Thumbs Up antervasna चीख उठा हिमालय 65 40,035 03-25-2020, 01:31 PM
Last Post:
Thumbs Up Adult Stories बेगुनाह ( एक थ्रिलर उपन्यास ) 105 58,732 03-24-2020, 09:17 AM
Last Post:
Thumbs Up kaamvasna साँझा बिस्तर साँझा बीबियाँ 50 84,396 03-22-2020, 01:45 PM
Last Post:
Lightbulb Hindi Kamuk Kahani जादू की लकड़ी 86 124,613 03-19-2020, 12:44 PM
Last Post:
Thumbs Up Hindi Porn Story चीखती रूहें 25 25,863 03-19-2020, 11:51 AM
Last Post:
Star Adult kahani पाप पुण्य 224 1,100,736 03-18-2020, 04:41 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


antarvasna boliywoodदिलनशीन पेज एक्स एक्स एक्स ब्लूsaksiy kagniyaXnxchacha chachiHindi sex video Aurat log jaldi so rahe hain Unka Naam Maloom Pade Unka Chut video sex video xxxxxxआआआआआआह मेरी बुर कि सील तोड़ दो बेटा sexbaba.comduvadar desi babhi ka sexy videokareena kapoor massage sex storyईनडीयन मुसलीम लडकी की सेकसी विडीओbeba mms bheli nishas mms sex desiuncle aur aunty ki sexy Hindi ke men chudai karte hue Ghaghra lugadiभिभि नोकर बामाँ टट्टी करने खेत मे बणी गाणविधवा बहन को चोदा छत पर बहन बोली भाई मे पेगनट होना चाहतीgand Kaise Marte chut Kaise Marte Hai land ko kaise kamate Chupke Chupkeवरला की चूत चूदाईmaa ne apani beti ko bhai se garvati karaya antarvasana.comHot richa bhabhi ki kantinyu sexBete se Gand marwaungi xossiptamanna nude heroine bra e panty कैसे पहनती है video के साथ seachचेहरा छुपे होने से माँ चुद गई बिना storiesParoson ki chachi ki doodh ki kahani antervanaMana se chut mrai kahani handi Sexy story hawashi missXxx chudai storey jiji bhn ki jiji ji ki merne ne ki battSexihdphotochutCOTEBUR KESAKASE BFKamukta batrom sax satori mot paya baris ma mot kar deya मा को चोदा कार मे सूनसा न जगहन्यू गे सेक्स कहान रेल गाडी मै केसे गाड मारीsexbaba बहू के चूतड़ईसतन hd porn हिंदीfemale ka berya chuta videoxxxVijay tv Raksha holla nude fuckHindi sexy film pure kapde wali chut Patane wali Aurat badhiya badhiya jabardasti Alikhara hokarke choda xnxxकिस के दौरान उसके हाथ नेहा की पीठ से लेकर गाण्ड तक फेरते हुए मसलते गये।meri chut phat jayegi aaaaa...झवाझवि जोरतअब बस इन बच्चियों को चोदो, रात भर इनकी बुर मारो, आज बिल्कुल खुल जाना चाहिये क्योंकि कल से इनकी चुदाई जरा कम करनाmodel anjana sukhani sex babaDivyanka tripathi faking hard sex baba net com gifकचरा चुनते समय करवाई चुदाई कि विडिवोbjp neta ki xxxvediomain meri family mera gaon desibeesचढी खोलती हुई लडकी कि गाँड और बुरAntrvasana maa pegnetmote boobs ki chusai moaning storyburxxxcarहवेली में सामुहिक चुदाईಅಮ್ಮ xossipall sex hindi of dhanaxxx vidioMotya bahinibarobar sexइंडियन लडकी को शराब पिला के सेक्स केलेले व्हिडिओraat naghi coti camsin bur sardi hot sex male Hindi kahani rasele kamuk gandi hotChut ka pani mast big boobs bhabhi sari utari bhabhi ji ki sari Chu ka pani bhi nikala first time chut chdaiनागडे सेकसि बेटे ने सिखाया सास का दुध फोटोromash krte krte devrne bhabi ko sodaGav.ke.dase.ladhke.ka.sundre.esmart.dahate.photo.dekhaobathroom panty p naukar ka viry spam sungh jib sex storiesdidi ki salwar jungle mei pesabsamantha ki. chudai fotuमाँम डैड की झाँठ वाली चुत Sdxy storysauth inadiyan girl all picबैगन सेsex लड़की sexy bfayas aurat and mosaji ki sexy videomaa bete ki anokhi rasamSexbaba.net pics nagiबिबि को सेक्स बर्कर बनाया बाहर लेजाकर लंबी सेक्स चुदाई कहानी वोलने वाले नेती xxnx comasmanjas se manmanthan adults storiesबडी पीछवाडा वाली अंटीsafar me muta oar bhabhi ne bula kar cudai karwaehttps://septikmontag.ru/modelzone/Thread-chudai-story-%E0%A4%B9%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%AE%E0%A5%80-%E0%A4%AA%E0%A4%A1%E0%A4%BC%E0%A5%8B%E0%A4%B8%E0%A5%80?pid=70083छोटी लडकी जो 15साल कि हो उसकी योनी दिखयेBivi ki adla badli xxxtkahaniWww.xxx.hindi.sexi.kahaniya.dostke.maka.petikot.uthayaXxx sex साडी मूठ मारनrakhi sexbaba pic.commoni roy kapde nikalte huye chudai ki avajsoumya tandon nude porn anterwasna cudai khanididi miniskirt sexbabapaas m soi orat sex krna cahthi h kese pta kreDirksh dekar kiya rap videoBhikari Ma beta ki sexychodai jhopri me hindi kahanixxx garib ki jhopdi mechudiHindi viklang aurat ki choda chodisex video pyar ma pagal india xnxxtvPakistani chachi ne chut ko chatayaनई हिंदी माँ बेटा सेक्स चुनमुनिया कॉममैने मोटे लंड से चुदवाके मोटे लंड का बेटा पैदा कीया कहानीहब्शियों ने बीवी की चूत का भोसड़ा बना दिया