Chudai Kahani मेरी कमसिन जवानी की आग
09-05-2019, 02:19 PM,
#41
RE: Chudai Kahani मेरी कमसिन जवानी की आग
तभी मनोहर बोला- ओह मेरी रंडी संध्या, मेरे लंड का काम तमाम होने वाला है.
इतना बोला ही था कि मनोहर के लंड से गरम गरम पिचकारी लंड रस की निकलना शुरू हो गई. मेरी चूत में बहुत गरम गरम लंड रस अन्दर घुसने लगा. मैंने मनोहर को कस के पकड़ लिया. उसने भी मुझे पूरी ताकत से बांहों में अपने जकड़ लिया और मेरे दूध को भी अपने मुँह में भर लिया.
वो बोला- तुम संध्या बहुत मस्त माल हो, आज से संध्या, तू मेरी बीवी हो गई हो है. ऐसा लगता है मुझे कि मैं एक दिन भी बिना तुझे चोदे अब नहीं रह पाऊंगा. मैं सब छोड़ दूंगा, पर तुझे नहीं छोड़ूंगा, क्या गजब चुदवाती है तू, तेरी चूत में लंड लगाते ही ऐसा लगता है, जैसे पागल हो जाऊंगा.. ऐसी सेक्स की मदहोशी आती है. तेरे जैसी चुदाई कोई नहीं करवाती साली संध्या.. तू लाजवाब है.
मनोहर ने बहुत जोर जोर से पूरा अन्दर चूत में घुसा के अपने लंड रस का लावा भर दिया. इस तरह पूरा खाली होकर मेरे ऊपर मनोहर बेहोश की तरह लेट गया, जैसे उसे कुछ होश ही ना हो.
दो पल बाद उसने मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए और मुझे बांहों में भर कर बोला- तू बहुत कमाल की है, आज तक संध्या तेरे जैसी लड़की के बारे में सुना भी नहीं.. देखा भी नहीं.. तू बहुत ही मस्त एकदम अलमस्त माल है.. दुनिया की सबसे सेक्सी और हॉट लड़की है तू संध्या, तुझे एक बार जो देख लेगा उसे बस जिंदगी में सिर्फ तुम मिल जाओ, उसकी यही ख्वाहिश होगी और जिसने तुझे चोद लिया.. समझो उसका जीवन सफल हो गया. हम तीनों बहुत किस्मत वाले हैं, जो इस तरह तुझे देखा और सबसे बड़ी बात कि हम तीनों ने तुझे चोदा.. आज का दिन हम तीनों का सबसे अच्छा दिन है. संध्या अब तू बता तुझे कैसा लगा?
मैं हांफते हुए बोली- मुझे अभी भी कुछ होश नहीं, बिल्कुल पता नहीं कि क्या कहूं कैसे बताऊं? बस आज का ये दिन ये पल कभी नहीं भूलूंगी, बहुत ही मस्त बहुत ही सेक्सी टाइम रहा, मुझे बेइंतहा मजा आया. अभी ऐसा लग रहा है जैसे मेरे बदन की पूरी गर्मी उतर गई, मेरे जिस्म की हर ख्वाहिश पूरी हो गई, मैं बहुत ही कम उम्र की लड़की हूं. अभी स्कूल में पढ़ती हूं, पर अभी से मेरे जिस्म को मर्दों की जरूरत होने लगी है. ये सभी लड़कियों के साथ होता है या मुझमें कुछ स्पेशल है.. मुझे नहीं मालूम.
चाचा बोले- देखो संध्या तुम्हारा फिगर एक नंबर का है, भले ही उम्र कम है तो क्या हुआ, एज से कुछ नहीं होता अभी तुमने एक साथ तीन तीन वो भी बड़े बड़े लंड अपने तीनों होल में डलवाये और पूरी संतुष्ट भी हुईं. तुमने हम तीनों को भी पूरी तरह से संतुष्ट किया है. तुम बहुत स्पेशल हो.मैं बोली- चाचा अब मैं बहुत थक गई हूं और बिल्कुल शांत होकर लेटे रहना चाहती हूं.
तब चाचा अपने चेलों से बोले कि उठो जल्दी और यहां से निकल लो, अपना काम हो गया और संध्या भी तृप्त हो गई. अब जल्दी उठो कपड़े पहनो और निकलो, कहीं कोई आ गया तो दिक्कत न हो जाए.तीनों जल्दी जल्दी उठे और कपड़े पहन कर मुझसे बोले- चलो संध्या फिर मौका मिलते ही तुझे मिलेंगे.
मैं बोली- चाचा, बाहर वह मेरा भाई लालजी और बहन का बेटा होगा, उसे अन्दर भेज देना, पता नहीं वो दोनों बेवकूफ कहां हैं?चाचा बोले- ठीक है.. तू भी संध्या उठकर यहां सब साफ कर ले और जो रजाई में थोड़े खून के धब्बे हैं, इनको धो दे और अपने बदन को साफ कर जल्दी, कहीं कोई तेरे घर के ना आ जाएं.मैं बोली- ठीक है.
यह कहकर चाचा, दिनेश और मनोहर तीनों लोग घर से निकल गए. मैं उठी और रजाई में लगे खून के धब्बे पानी से साफ किए. मैंने एक गीले कपड़े से पूरी चूत को साफ किया और पीछे गांड को भी अच्छे से साफ कर लिया. मैंने एक स्कर्ट और टॉप पहन लिया. अब मैं तखत पर लेट गई.
तभी मेरी बहन का बेटा पीयूष और मौसी का लड़का लालजी अन्दर आ गए.अन्दर आते ही लालजी बोला- संध्या बता क्या हुआ तेरे साथ सच सच बता?
मैं बोली कि तुम दोनों बेवकूफों की बेवकूफी के कारण आज मुझे बहुत बहुत मजा आया, आज पहली बार मैंने अपने सारे अरमान जो अन्दर आ रहे थे, वह अरमान पूरे कर लिए.लालजी बोला- क्यों क्या हुआ ऐसा संध्या?मैं बोली- उन तीनों ने मुझे आज जम के चोदा है. अब तुमसे क्या छुपाना. लालजी उन तीनों ने इतना चोदा और ऐसे चोदा कि मुझसे सच में चलते नहीं बन रहा है.
ये कह कर जैसे ही मैं खड़ी हुई पानी पीने के लिए और चलने की कोशिश की तो मेरी चूत में बहुत जलन और दर्द होने लगा. चलते भी नहीं बन रहा था, ऐसे ही तेज़ दर्द गांड में हुआ तो मैं बोली कि कुत्तों ने कैसे चोदा कि उस समय बहुत मजा आया और अब दर्द हो रहा है.
लालजी बोला- अब हम लोगों के लिए तुम क्या बोल रही हो संध्या?तो मैं बोली- अभी कुछ नहीं… मुझे चुपचाप लेटे रहने दो और पीयूष, तुम अपने दोस्त को मना कर दो कि वो नहीं आए. अभी मेरे होश नहीं बहुत दर्द हो रहा है, फिर कभी देखूंगी.. शायद कल परसों में यह गुड्डा गुड्डी की शादी का खेल खेलूंगी. अभी आज बिल्कुल होश नहीं है.
तब लालजी और पीयूष बोले- ठीक है, ऐसा ही ठीक है.. आज तुम आराम कर लो.. पर यह बता दो कि तुम्हें मजा आया कि नहीं?तो मैं बोली- तुम दोनों को थैंक्स तुम दोनों की वजह से मुझे बहुत मजा मिला.. न तुम लोगों के साथ नंगे लेटे पाते.. न वो लोग मुझे चोदते. परंतु जितना मजा मिला, उतना ही दर्द भी हो रहा है. पर कोई बात नहीं जो एंजॉयमेंट मेरा हुआ, उसके लिए इससे ज्यादा भी दर्द मुझे हो तो भी कोई फर्क नहीं पड़ता है.
वो दोनों बोले- ठीक है संध्या तुम्हें तो मजा मिल गया.. अब हम लोग फिर अपना लंड हिला कर ही काम चला लेते हैं.इतना कहकर वह दोनों चले गए और मैं लेटी रही.
थोड़ी देर में मम्मी और मेरा भाई घर आ गए. मुझे लेटा देखकर मम्मी पूछने लगीं कि संध्या तुझे क्या हुआ.. क्यों लेटी है… खाना नहीं बनाएगी क्या?मैं बोली- मम्मी मैं पानी भरने गई तो फिसल गई थी, मुझे हल्की चोट लगी है. मम्मी ऐसा लगता है कि कमर के पास हल्का मोच आ गई है, मुझे दर्द हो रहा है इसलिए लेटी हूं.मम्मी बोलीं- ठीक है ज्यादा तो नहीं लगी?मैं बोली- नहीं, पर अभी नॉर्मल नहीं हूं.मम्मी बोलीं- तू आराम कर ले संध्या.. कोई बात नहीं.. खाना मैं बना लूँगी.
मैं आराम करने लगी, मुझसे 3 दिन तक ठीक से चलते नहीं बना था और हल्का हल्का दर्द भी हो रहा था. फिर 3 दिन बाद मैं ठीक हुई थी.
यह बात जो मैंने लिखी है, इसमें एक भी शब्द झूठ नहीं है.. पूरा का पूरा एक-एक शब्द बिल्कुल सही लिखा है. मुझे अपनी कसम है और मम्मी की कसम है अगर इसमें से लिखा एक शब्द भी झूठ हो. ऐसा सभी कहते हैं कि एक बार मुझे जो भी मर्द देख लेगा वह बिना मुझसे मिले रह नहीं पायेगा. जब तक मुझसे वो मिल नहीं लेगा, उसको कहीं सुकून नहीं मिलेगा. उसकी हर ख्वाइश और हर सपने में सिर्फ मैं ही रहूंगी, ऐसा सभी कहते हैं.
अब मुझ में ऐसी क्या बात है, मैं खुद भी नहीं जानती!
यह बात पूरी तरह से सच है कि जितने भी मर्द मुझे देखते हैं, वो चाहे कितने भी क्लोज रिलेटिव हों, चाहे जितने बूढ़े हों सभी के सभी.. बस मुझे पाना चाहते हैं, मेरे साथ सोना चाहते हैं.
यही सच्चाई है. मेरी यह सच्ची कहानी आपको कैसी लगी.
कमेन्ट जरूर करे
-  - 
Reply

09-05-2019, 02:19 PM,
#42
RE: Chudai Kahani मेरी कमसिन जवानी की आग
बात उस समय की है जब नवंबर महीने में मेरी मौसी की बेटी की शादी होने वाली थी, मेरी मौसी मम्मी को हर दिन चार बार फोन लगाया करती थी, कि जल्दी से जल्दी मेरे पास आ जाओ यहां कोई काम करने वाला नहीं है.तभी मम्मी मुझे लेकर शादी के 15 दिन पहले मौसी के गांव मनका चली गई, वहां शादी का माहौल था पर मेरे लिए वहां कई लोग अजनबी थे जिन्हें पहली बार देख रही थी.
परंतु सभी लोग मेरी मम्मी को बहुत अच्छे से जानते थे, मुझे देखकर बोलते थे कि यह तुम्हारी बेटी बड़ी हो गई.तब मम्मी कहती- यह अभी तो छोटी है. बस यह बड़ी दिखने लगी है.
मौसी के घर में जितने मर्द थे, सभी मेरी तरफ एकटक देखते रहते, कोई मेरा नाम पूछता, कोई मुझे बस घूरकर देखता ही रहता, वहां बूढ़े या जवान सब … पता नहीं क्यों मेरी तरफ एक अजीब सी नजर से मुझे देखते थे, मैं भी सोचूं कि पता नहीं ऐसी क्या बात है मुझमें जो सभी बस घूरे ही जाते हैं जैसे कभी लड़की ही ना देखी हो.पर फिर मैंने सोचा कि जाने दो जैसे भी हैं.
वहां मेरे मौसी का बेटा था उसका नाम लालजी और उसके सगे ताऊ जी का बेटा अंकित था, वे दोनों घर का पूरा काम किया करते थे, दोनों ही मेरे रिश्ते में भाई लगते थे, अंकित मुझसे दो-तीन साल उम्र में बड़ा था, जबकि लालजी मुझ से 1 साल छोटा था, मैं लालजी से बहुत घुली मिली थी और अंकित से बस एक दो बार छोटे में मिली थी, इसलिए उससे ज्यादा बात नहीं करती थी.
दो दिन बाद मम्मी ने कहा- सोनू, खाना तू परोसा कर आज से!तो मैं खाना परोस रही थी, जैसे ही झुक के खाना देने लगी तब मैंने देखा कि वहां बैठे सभी मर्द, एक दो को छोड़कर, सब मेरी तरफ घूरे जा रहे थे.
जब मैंने इसका कारण देखा तो समझ आया कि मैंने जो टॉप पहना था वह झुकने पर गले से बिल्कुल नीचे तरफ पूरा खुल जाता था जिससे मेरे पूरे बूब्स सीधे नजर आते थे.
मैं अंकित को जब दोबारा दाल देने गई तो वह बोला- बहुत मस्त हैं!मैं देखने लगी तो पाया कि वह एकदम मेरे बूब्स तरफ देखे जा रहा था. तो मैं शरमा कर खड़ी हो गई पर उसकी नजरें अब बिल्कुल अलग ही तरह से मेरे बदन पर थी.
उसके बाद मुझे उसी दिन शाम को दरवाजे पर मैं खड़ी थी, अंकित कहीं बाहर से आया, आस पास कोई नहीं था तो वो वहीं खड़ा हो गया और इतनी बदतमीजी से बात की कि मैं बता नहीं सकती.वो बोला- संध्या तू बहुत ही खूबसूरत है. बहुत हाट एन्ड सेक्सी लुक है तेरा! तुझे सोच कर ही मेरा लौड़ा खड़ा हो जाता है और तुझे देख लेता हूं तो कन्ट्रोल ही नहीं होता. लगता है तुझे सीधे चोद दूं, और कोई भी मर्द जाति का तुझे देख लेगा उसका तुझे चोदने का मन करेगा ही! संध्या चल दे ही दे … बुरा मत मानना जब से तू आई है मेरा बुरा हाल है!
मैं बोली- तुम बहुत कमीने हो! मैं तुम्हारी मम्मी और पापा मतलब मौसी और मौसा को यह सब बता दूंगी कि तू ऐसी गन्दी बात मुझसे करता है. मैं तेरी छोटी बहन लगती हूं रिश्ते में, तू मेरे बारे में ऐसा सोचता है.अंकित बोला- तू जा अभी बता दे सबसे कि मैं तुमसे चोदने को मांगता हूं, जा अभी बता संध्या!मैं बोली- बताऊंगी ही!और वहां से चली गई.
उस समय उसके पापा मम्मी नहीं मिले, एक घंटे के बाद लगभग जब अंकित के पापा मम्मी मुझे दिखे, मैंने सोचा कि बता दूं अंकित की बदतमीजी!लेकिन उनके सामने जैसे ही गई, मेरी हिम्मत टूट गई, सोचने लगी कि क्या बताऊं कि मुझे अंकित चोदने को बोलता है?मैं टाल गयी.
उसकी मम्मी मुझे बोली- सोनू तू तो बड़ी दिखने लगी है पढ़ाई ठीक चल रही है तेरी?मैं बोली- जी मौसी जी!और चली गई.
वो फिर रात के भोजन के समय एक मिनट के लिए सामने आया. वहीं पास में कुछ लोग और खड़े थे, फिर भी अंकित पास आकर बोला- संध्या मान जा और चुदाई करवा ले! मुझसे अच्छा लन्ड और कहीं नहीं पायेगी.फिर मुझे गुस्सा आया पर कुछ नहीं बोली.वो बोला- तू किसी से कुछ नहीं बतायेगी क्योंकि तू अंदर से चुदासी है, मैं तुझे चोदूंगा जरूर संध्या … चाहे कुछ भी हो जाये!इतना बोल कर चला गया.
मैं एकदम उसी की बात सोच रही थी बिस्तर पर लेट कर कि क्या क्या बोल रहा था और उसकी बात सोचकर सच में जाने कैसे गर्म हो गई और मेरा मन करने लगा कि काश अभी आकर अंकित मुझे मसल दे; मुझे अपनी बांहों में भर कर रगड़ डाले!ऐसा सोचते सोचते मेरी पैंटी गीली हो गई.
सुबह सुबह करीब 5:00 बजे मैं मूतने के लिए टॉयलेट गई, जैसे ही मैं अंदर घुसी और टायलेट का दरवाजा बंद करने लगी कि थोड़ा धक्का सा लगा और बाथरूम के अन्दर अंकित घुस गया और बोला- मुझे बहुत जोर से लगी है, पहले मैं करूंगा!और दरवाजा अंदर से बंद कर दिया और खिटकिल्ली लगा कर बंद कर दिया.
-  - 
Reply
09-05-2019, 02:19 PM,
#43
RE: Chudai Kahani मेरी कमसिन जवानी की आग
मैं बोली- मुझे बाहर जाने दो, तुम्हीं कर लो पहले! गेट खोलो!और मैं गेट खोलने को बढ़ी तो अंकित ने मेरा हाथ पकड़ा और बोला- मरवायेगी क्या? बाहर दो तीन लोग खड़े हैं लाइन में और आवाज भी जोर से मत कर! वरना लोग तो यही सोचेंगे कि तू मुझसे बाथरूम में चुदवा रही थी, कुछ अभी करवायी भी नहीं और सूखा इल्ज़ाम लगवा देगी.
अंकित का इतना कहना हुआ कि किसी ने बाहर से दरवाजा खटखटाया और बोला- कौन है जरा जल्दी करो?अंदर से अंकित ने बोला- मैं अंकित हूं! अभी अभी अंदर आया हूं मुझे समय लगता है, या तो इंतजार करिए नहीं तो डब्बा लेकर मैदान चले जाओ!इतना कहकर अंकित धीमे से बोला- मेरे पीछे ही एक दो लोग आ रहे थे. अगर बाहर गयी तो आज तू खुद भी फंसेगी और मुझे भी फंसायेगी. इसलिए तू मेरी बात मान और कुछ करके ही बदनाम होते हैं.
बहुत ही जोर से सू-सू लगी थी मुझे और बहुत तेजी से प्रेशर बना था. मुझे अंकित बोला- शरमा मत, तू अपना काम कर ले, मैं पीछे घूम जाता हूं.मुझे शर्म आ रही थी तो अंकित बोला- मजबूरी में सब करना पड़ता है, ये एक ऐसी चीज है कि संध्या इसे तुम रोक नहीं सकती.सच बोला ये बात अंकित ने!
और वहीं टायलेट में वो पीछे घूम गया, मैंने हिम्मत की और तब तक अपना लोवर नीचे खिसका कर उतार दी. अब पैंटी बस बची थी उसे भी खिसका कर नीचे घुटनों तक कर दी, अंकित एकदम मेरी तरफ घूमा, मुझे उसी हालत में देखा और बिल्कुल पकड़ के लिपट गया मुझसे और बोला- बहुत मस्त हो संध्या!मैंने जोर से उसे एक थप्पड़ मार दिया, थप्पड़ पड़ते ही वह वहीं टॉयलेट में में पूरी ताकत से मुझसे लिपट गया और मेरे होठों को चूम लिया, फिर मेरी तरफ घूम गया और मुझे अपनी बाहों में जकड़ लिया.
मैं पता नहीं क्यों … पर चिल्लाई नहीं, ना आवाज की.उसका फायदा वह उठाने लगा और सीधे मेरी चूत में अपना हाथ रख कर मेरी चूत में अपनी उंगली जल्दी-जल्दी डालने लगा, निकालने लगा और ऐसे जकड़ लिया था कि मैं कुछ कर नहीं सकती थी, और जोर दो-तीन मिनट ऐसे रगड़ा मेरी चूत को कि जो मुझे गुस्सा आ रहा था जिसके कारण मैंने उसके कंधे पर अपने दांतों से काट भी दी थी, वह गुस्सा अब मेरा न जाने कहां गायब होने लगा, मुझे इस खेल में मजा सा आने लगा.
इतने में फिर से किसी ने दरवाजा खटखटाया तो अंकित अंदर से बोला- मैं लेट्रिन कर रहा हूं 15 मिनट बाद आना!मैं बिल्कुल डर गई कि अब क्या होगा? अंदर हम दोनों को कोई देख लेगा तो मैं तो किसी को मुंह दिखाने लायक नहीं बचूंगी.मैं बिल्कुल घबराकर चुप हो गई.
तभी बाहर से आवाज आई, वो भी किसी पुरुष की- जल्दी फ्री हो जाओ, मुझे भी जोर से लगी है!इतने में अंकित धीरे से मुझसे बोला- अब अगर तुमने कोई हरकत की तो मैं सबको बोल दूंगा कि तुमने मुझे यहां बुलाया है और मेरा तुम्हारा पहले से ही सब होता है.
मैं कुछ नहीं बोली और एकदम शांत हो गई जिससे अंकित मेरी पैंटी को नीचे खिसका कर सीधे मेरे पैर से उतारने लगा मैं उसे मना करने लगी पर नहीं माना और पैंटी उतार करके वहीं रख दी. अब मेरी टांग खोल कर मुझे बोला- झुक जाओ!मैं नहीं झुकी तो पकड़ के झुका दिया और सीधे मेरी दोनों टांगों के बीच बैठकर मेरी चूत को चाटने लगा और जोर से जीभ चलाने लगा.
इतने में अब मुझे कुछ कुछ होने लगा.तभी वह बोला- अब शोर नहीं मचाना संध्या, तुम क्या मस्त माल हो! जब से आई हो, मेरे ही नहीं यहां सभी मर्दों के होश उड़े हुए हैं, तुम तो मुझसे छोटी हो पर मुझसे बहुत बड़ी लगने लगी हो, यह जादू तभी होता है लड़कियों में जब वो जमकर चुदाई करवाती हैं. कितनी भी छोटी उम्र की लड़की हो, उसकी शादी कर दो, फिर देखो वह पांच छः महीने में पूरी औरत बन जाती है. सिर्फ इस कारण कि वो हर दिन में हर रात में दो तीन राउंड चुदाई करवाती है. वैसे ही संध्या तुम भी इतनी उम्र में बिल्कुल मस्त माल बन गई हो, हर औरत तेरे सामने फेल है. सच बता कितने लोगों से अब तक में चुदवा चुकी हो? कितने लन्ड ले चुकी हो संध्या? बताओ संध्या?
-  - 
Reply
09-05-2019, 02:19 PM,
#44
RE: Chudai Kahani मेरी कमसिन जवानी की आग
यह कहते हुए अंकित जोर-जोर से मेरी चूत को चाटने लगा.अब मेरी हालत खराब होने लगी, मुझे कुछ भी समझ नहीं आ रहा था कि मैं क्या करूं?
मुझसे अंकित ने एक अजीब सा सवाल किया जो सुनकर मैं सन्न रह गई, वो बोला- संध्या, मैं बहुत अच्छे से जान गया हूं कि तुम बहुत चुदाई करवा चुकी हो. पर एक सवाल का जवाब इमानदारी से देना, क्या तुम कभी पैसे लेकर चुदी हो? या किसी मर्द ने तुम्हें पैसे दिया है चोदने के बाद? अगर सच बोलेगी तो मैं तुझे बहुत पैसे दिला दूंगा अपने ही गांव में!फिर बोला- चल अच्छा एक बात बता खुल कर संकोच मत करना; अगर मैं तुझे पैसे दिलवाऊं तो तू चुदवायेगी? मेरे दो अंकल हैं, एक नेता हैं, दूसरे रिटायर इंजीनियर; दोनों बहुत पैसे वाले हैं, उन्हें नया नया माल चाहिए. दोनों एक साथ करते हैं, और लड़की पसंद आयी तो बहुत पैसे देते हैं. बता संध्या, सच बोल दे … तेरा ही फायदा है, यहाँ से बीस किलोमीटर दूर मानिकपुर शहर है, वहां ले चलकर शापिंग वो लोग करवा देंगे, तेरी ऐश हो जायेगी. सच सच बता दे संध्या, बात कर लूं?
मैं बोली- तू बहुत कमीना है! मैं इस तरह की लड़की नहीं हूं, समझे और न मैं करती हूं न करूंगी!मुझे जोर से सू-सू आ रही थी, मैं बोली- छोड़ मुझे … बहुत सू सू आ रही है.पर इतना गन्दा था अंकित, बोला- कर दे … मुझे तेरी सेक्सी टेस्टी सू-सू पीनी है.
अंकित नहीं हटा और मेरी सू-सू छूट गई, अंकित बिल्कुल मुंह नहीं हटाया मेरी चूत से और पूरी मेरी सू-सू गटक गया. वो इतना गन्दा होगा, मैं सोच नहीं सकती थी. अजीब ही लड़का है, पर उसकी यह हरकत मुझे उत्तेजित कर गयी और जाने मुझे क्या अजीब सी फीलिंग हुई.
इतने में अंकित बोला- संध्या, तेरी पेशाब बहुत टेस्टी है, पीके मजा आ गया! संध्या अब तू सीधे घूम जा!और कमर पकड़ के मेरी मुझे सीधे घुमा दिया.
मैंने सोची जाने क्या करेगा यह! मुझे नहीं पता था.इसके बाद जैसे ही मैं सामने हुई तो मेरी पूरी चूत खुल गई, मेरी खुली चूत अंकित के आंखों के सामने थी, वह खा जाने वाली नजरों से उसे देख रहा था.
उसके बाद अपनी हथेली से मेरी चूत को रगड़ने लगा और बोला- संध्या, तू बहुत गजब की माल है, क्या मस्त तेरी चूत है बिल्कुल लाल सुर्ख पड़ी हुई है, बहुत मजा आएगा! मैं तुझे जो बोला हूं, सोच ले. तुझे यहां दस से पंद्रह दिन रहना है मैं तुझे मालामाल करवा दूंगा. तू किसी ना किसी से तो चुदवाएगी ही और पहले भी चुदाई करवाती ही रही होगी, पर मेरी एक बात मान ले तू कभी भी किसी से फ्री में मत चुदवाना, सब करना पर उसके लिए कुछ पैसे बोल दिया कर, तुझे मजा भी मिलेगा और कुछ पैसे भी आ जाएंगे. आज कल सभी लड़कियां यही करती हैं, इसमें कोई बुराई नहीं … जो चीज करना ही है उसमें कुछ पैसे मिल जाएं तो क्या बुरी बात है.
मुझे अंकित की यह बात सच में पसंद आई और अच्छी लगी पर मैं उसे अभी कुछ नहीं बोली.इतने में अंकित मुझे बोला- संध्या, तू अपनी टॉप थोड़ा ऊपर कर ले! तेरे दूध भी देख लूं!
उस टॉयलेट में जहां हम दोनों घुसे थे, उसमें बिल्कुल जगह नहीं थी. छोटे से गांव का टॉयलेट था, तो मैं सिर्फ खड़ी रह सकती थी, उसमें लेटने की जगह नहीं थी, इतने में अंकित ने खुद मेरे टॉप को अपने हाथों से चढ़ा के गर्दन तक किया और नीचे जो समीज पहनी थी, उसे भी ऊपर किया, अब अंकित को जैसे ही मेरे बूब्स दिखे तो बिल्कुल पागल सा हो गया और अंकित ने अपने एक हाथ से मेरे नंगे दूध पर अपना हाथ लगाया और जोर से दबा दिया. और फिर दोनों बूब्स को बारी-बारी से जमकर दबाने लगा.
फिर अचानक उसने इतने जोर से दूध को कस कर दबाया कि मेरी चीख निकल गई.वो मेरी चुची मसलते हुए बोला- संध्या, तू कब से चुदवाना शुरू करवा चुकी है, इतने मस्त तेरे फीचर्स हैं इतना जबरदस्त फिगर है वो भी इतनी छोटी उम्र में! संध्या तू लाजवाब है, इतनी छोटी उम्र में किसी भी लड़की का इतना मस्त फिगर नहीं होता है, तुम संध्या बहुत ज्यादा चुदाई करवा चुकी हो, सच बता मुझे भी!
परन्तु मैं आज सच में कुछ नहीं बोल रही थी.
-  - 
Reply
09-05-2019, 02:20 PM,
#45
RE: Chudai Kahani मेरी कमसिन जवानी की आग
तभी उसने मेरे एक दूध को पकड़ के मुंह में भर लिया, और जैसे ही चूसना शुरू किया, जाने मुझे क्या होने लगा, मैं बहुत जोर से सांस लेने लगी.इतने में उसने अपना लोअर और अपनी अंडर वियर को खींचकर एक हाथ से नीचे कर दिया और मेरी जांघों पर अपने लन्ड को मेरी चूत के पास रगड़ने लगा, चूत के अगल बगल और ऊपर नीचे लन्ड टच करता रहा और मैं मदहोश होती चली गई.
अंकित की इस अजीब सी हरकत से मेरी हालत लगातार खराब होती जा रही थी.
तभी उसने अपने लन्ड को पकड़ कर वहीं खड़े खड़े मेरी चूत में फिट करने लगा, पर अंकित से नहीं बन रहा था, बस चूत के उपर ही उसका लन्ड मेरी जांघों में रगड़ने लगा.
अब वो मेरे बूब्स को पीने लगा, साथ ही अपनी उंगली एक ले जाकर मेरी चूत में जोर से घुसा दी और उंगली को जैसे अंदर घुसाई, अपने आप मैंने उसे कस के पकड़ लिया और बोली- मार डालेगा अंकित क्या? अब मुझसे नहीं रहा जा रहा, तुझे अभी जो करना है कर ले … क्योंकि मैं अब अपने बस में नहीं हूं.
मेरे मुंह से कुछ भी अपने आप निकल रहा था- अंकित, तू बहुत मस्त लड़का है, चल जो तेरा मन है अभी कर ले!तब अंकित बोला- संध्या तू बहुत मस्त है, बहुत सेक्सी है और तू सच में बहुत गर्म चुदासी लड़की है, लाखों करोड़ों में कोई एक तेरे जैसी होती है, तू इसका फायदा उठा, मैं तुझे उन दोनों अंकल से मिलाना चाहता हूं, तुझे उन दोनों से चुदवाना चाहता हूं, बस तू मान जा संध्या … तू बहुत फायदे में रहेगी और बहुत मजा आयेगा.
ऐसा कह कर अंकित ने पूरी जीभ मेरी चूत में घुसा दी और इतना ज़ोर ज़ोर से मेरी चूत को चाटने लगा कि मैं अंकित का सर पकड़ के अपनी चूत में दबाने लगी और अब मैं जाने किस नशे में हो गई थी, मैं बोली- अगर हिम्मत है अंकित तो अभी बुलवा दे अपने दोनों अंकल को … अभी जो करना है कर ले! मेरी हालत बहुत खराब हो चुकी है, जल्दी बुला अपने अंकलों को!मैं ऊंहहह आहहहह करने लगी.
अंकित बोला- तू साली बहुत मस्त चीज़ है संध्या … अब रूक जा, तुझे अभी तो नहीं पर दो दिन के अंदर इतने अमीर बड़े लोगों के साथ सुलवाऊंगा कि तेरी लाइफ बन जाएगी.और अंकित बोला- संध्या ले मेरा लौड़ा जमकर चूस!और अंकित खड़ा हो गया, अपने लन्ड को अपने हाथ से पकड़ा और मेरे सर को झुका कर मेरे मुंह में लन्ड अपना रख दिया.
जैसे ही मेरे होंठों में लन्ड छुआ, उसकी एक अजीब सी महक मेरे नाक में समा गई, इतना गर्म था अंकित का लन्ड कि लगा जैसे मेरे होंठ जल जायेंगे.तभी अंकित ने मेरी चूत में एक साथ दो उंगलियां डाल दी.मैं तड़प उठी और सीधे अंकित का लन्ड कस कर पकड़ लिया और मुंह में डालने लगी. पर उसका लौड़ा आठ इंच से भी बड़ा और बहुत मोटा था इसलिए मेरे मुंह में घुस नहीं रहा था, नार्मल लड़कों से बहुत बड़ा था, मैं अपने जीभ से अंकित का लन्ड चाटने लगी और चूसने लगी.
उधर नीचे मेरे चूत में अंकित अपनी दो उंगलियां घुसाये हुआ था और उन्हें चूत में अंदर बाहर करने लगा.अब मैं बिल्कुल मदहोश हो गई थी, मैं अपनी कमर उठा उठा कर उंगलियां और अंदर बाहर करवाने लगी.
अब पूरा का पूरा मुंह खोला तो अंकित ने अपना लन्ड मेरे मुंह में घुसा दिया और बोला- संध्या, तू साली कुतिया … तुझे जो चोदेगा वो दुनिया का सबसे लकी इंसान होगा. क्या मस्त लन्ड चूसती है रे ! इतनी कम उम्र में तूने एक नंबर की रंडियों को भी फेल कर दिया. गजब है तू … और चूस ले मेरा लौड़ा … आहहहह वोहहहह मेरी डार्लिंग ऊंहहह उंहहह!
सिसकारियों की आवाज लगातार अंकित के मुंह से निकल रही थी कि तभी अचानक जोर से टायलेट का दरवाजा किसी ने खटखटाया और बोला- अंकित, निकल जल्दी … तू वहीं सो गया क्या?जो आवाज आई, उसे सुनते ही अंकित ने जल्दी से अपना लन्ड मेरे मुंह से बाहर निकाला, मुझे छोड़ा, अपने कपड़े पहन कर बोला- लगता है पिटूंगा आज! ये मेरे पापा हैं.
इतना सुनते ही मैं बहुत डर गई और घबराने लगी, मैंने भी जल्दी से अपने कपड़े पहने और खड़ी हुई, अंकित से बोली- प्लीज़ मुझे बचा लो! ऐसे हम दोनों को टायलेट में अंदर देख लेंगे तो मैं किसी को मुंह दिखाने लायक नहीं बचूंगी.अंकित बोला- तू डर मत, कुछ नहीं होगा बस अंदर रहना, जब मैं बोलूं तभी बाहर आना! पहले मैं बाहर जाता हूं!मैं बहुत डर रही थी.
-  - 
Reply
09-05-2019, 02:20 PM,
#46
RE: Chudai Kahani मेरी कमसिन जवानी की आग
मैं बहुत डर गई और घबराने लगी, मैंने भी जल्दी से अपने कपड़े पहने और खड़ी हुई, अंकित से बोली- प्लीज़ मुझे बचा लो! ऐसे हम दोनों को टायलेट में अंदर देख लेंगे तो मैं किसी को मुंह दिखाने लायक नहीं बचूंगी.अंकित बोला- तू डर मत, कुछ नहीं होगा बस अंदर रहना, जब मैं बोलूं तभी बाहर आना! पहले मैं बाहर जाता हूं!मैं बहुत डर रही थी.
तभी अंकित ने दरवाजा खोला और बाहर गया.बाहर उसके पापा थे, उसने पापा से बोला- अंदर पानी नहीं है, मुझे भी बाल्टी चाहिए, अंदर पानी डालूंगा टायलेट में, तब आपके जाने लायक होगा.उसके पापा जैसे ही वहाँ से हटे, अंकित ने जल्दी से गेट खोला और मुझे बोला- जल्दी बाहर आ संध्या!मेरे बाहर आते ही मुझे अंकित बोला- यहीं खड़ी रह और बोलना मुझे जाना है अंदर!
इतने में तुंरत अंकित के पापा आ गए बाल्टी लेकर … मुझे खड़े देखे तो बोले- सोनू तू कब आ गई?मैं बोली- अभी आई हूं मौसा!अंकित के पापा बोले- ठीक है, पहले तू चली जा, बाद में मैं जाऊंगा.

अब मेरी जान में जान आई, मैं अंदर जाकर पांच मिनट बाद निकली और वहाँ से चली गई. पर अब मेरी हालत बहुत खराब थी, मुझे अंकित प्यासा छोड़ गया था, मेरा पूरा जिस्म अकड़ रहा था, पूरा बदन टूट रहा था, कभी भी लड़की को ऐसे नहीं छोड़ना चाहिए.मैं बता नहीं सकती कि मुझे क्या फील हो रहा था.
सुबह ग्यारह बजे तक मैं तीन पैंटी बदल चुकी थी, इतनी गीली हो जा रही थी, कोई मर्द जात दिखे तो उसकी जिप के पास मेरी निगाह चली जा रही थी.मैं बस यही सोचती कि काश कैसे भी आकर मुझे कोई अपनी बांहों में भर ले, और मेरे जिस्म को मसल दे … आज मेरी तमन्ना पूरी कर दे … मेरी प्यास बुझा दे, मेरे साथ जमकर सब वो करे जो मेरे गर्मी को शांत कर सके.परंतु ऐसा कोई नहीं मिला, कैसे मिलता जब तक कि कोई बातचीत ना हुई हो.
ऐसे ही तड़पते हुए रात हो गई. खाना खाने के बाद अब मैं सोने के लिए गई तो हालत और खराब हो गई. पहले तो यह बता दूं कि मौसी के यहाँ उनके परिवार और रिश्तेदार सबका बिस्तर एक हॉल में लगा करता है. मौसी के यहाँ ज्यादा बड़ा घर नहीं है, एक कमरे में सब सामान था और एक कमरा छोटा था इसलिए हाल के फर्श में ही 15-16 लोग एक साथ नीचे बिछा के लेटते थे. करीब 6-7 लेडीज थी और 10-12 जेन्ट्स!
जब मैं लेटी तो करीब 10:30 बजे रात का समय हो चुका था पर मुझे बिल्कुल नींद नहीं आ रही थी, मेरे को सुबह के बाद अंकित भी नहीं दिखा, पता नहीं कहाँ चला गया था. मेरे बगल में बिस्तर खाली पड़ा था पर बिछा हुआ था उस बिस्तर में तीन जेन्ट्स आ गए. उनमें से एक अंकल को पहचानती थी, वो मेरी मौसी की ननद के पति थे, वो आर्मी से रिटायर्ड हो चुके हैं.और दो कौन है नहीं जानती थी, पर थे मौसी के रिलेटिव ही.मेरी दूसरी तरफ मौसी की सास लेटी थी.
रात को करीब एक बजे लगभग सब सो गए थे तब अचानक मेरे कंधे को पकड़ कर किसी ने दबाया. आंख खोली तो पूरा अंधेरा था, हाल में कुछ भी नहीं दिख रहा था.तभी धीरे से अंकित की आवाज मेरे कानों में आई, वह बोला- मैं हूं, घबराओ नहीं, अंकित हूं, थोड़ा इधर खिसको, मुझे भी बगल से लिटा लो.
मैं जैसे ही अंकित की आवाज सुनी, मुझे लगा जैसे कोई अपना हो, मैं बहुत धीरे से बोली- यहाँ जगह नहीं है, कहाँ लेटोगे? जहाँ रोज लेटते हो, वहीं जाओ, यहाँ जगह नहीं है.अंकित बोला- मुझे यहीं तुम्हारे बगल से लेटना है, थोड़ा खिसको, तुमसे बहुत जरूरी बात करनी है, यहाँ बन जाएगा थोड़ा और खिसको!मैं बोली- उधर, अंकल लोग लेटे हैं.तो अंकित बोला- अंकल की तरफ खिसको, इधर दादी हैं, इस तरफ मैं लेट जाऊंगा, तुम्हें बहुत जरूरी बात बताने आया हूं प्लीज खिसको.और मैं पता नहीं क्यों … पर खिसक गई.
जैसे ही उधर खिसकी तो देखा कि अंकल को मैं टच हो गई क्योंकि जगह बिल्कुल कम थी पर थोड़ी जगह निकल आई और अंकित लेट गया.अब जिधर दादी लेटी थी, उधर अंकित हो गया और दूसरे साइट में अंकल लोग लेटे थे, बीच में मैं हो गई. अंकित और मेरे बीच में पांच अंगुल का फासला था उधर दूसरे बगल अंकल से तो सिर्फ दो ही अंगुल का फासला बचा बस अगर मैं करवट लूं तो अंकल को टच कर जाती, मैं अंकल की तरफ अपना चेहरा कर ली थी और अंकित की तरफ पीठ इस तरह लेटी हुई थी.
करीब तीस मिनट तक अंकित चुपचाप लेटा रहा, उसके बाद बहुत धीरे से अंकित ने कान में आवाज दी- संध्या सुनो, सुन रही हो संध्या?मैं सुन रही थी, जग भी रही थी पर कुछ नहीं बोली, सोई हुई बन गई.चार पांच बार और आवाज लगाई अंकित ने, फिर बोला- बड़ी जल्दी तुझे नींद आ गई? मैं तुझसे मिलने आया हूं, और तुझे कुछ बताने भी आया हूं और तू कुंभकरण की तरह सो गयी.
-  - 
Reply
09-05-2019, 02:20 PM,
#47
RE: Chudai Kahani मेरी कमसिन जवानी की आग
करीब 15 मिनट और बिल्कुल किसी बिना हरकत के अंकित लेटा रहा मुझे भी नींद आने लगी थी, मैं सोची शायद अंकित सो गया, अचानक पीछे तरफ से अंकित ने अपना हाथ मेरे सीने में रख दिया और वैसे ही हालत में तीन चार मिनट रखे रहा तो मुझे लगा कि नींद में आ गया होगा.परन्तु पांच मिनट बाद मेरे पिछवाड़े में कुछ लम्बी सख्त चीज चुभने लगी और तुंरत जो पांच अंगुल का फासला मेरे और अंकित के बीच था वह खत्म हो गया और अंकित मेरी तरफ थोड़ा खिसक के आया और मेरी पीठ तरफ चिपक गया, मैं नीचे स्कर्ट पहने हुई थी और ऊपर टाप, टाप ढीली थी टाप के नीचे समीज पहनी थी, दिन में मेरी 2 पैंटी खराब हो चुकी थी इस लिए धोकर सुखाने डाल दी थी, मेरे पास अब पैंटी नहीं बची थी इसलिए सिर्फ स्कर्ट पहनी थी, स्कर्ट के नीचे पैंटी नहीं थी.
जैसे अंकित मेरी पीठ से चिपका, उसका जो मेरे पीछे चुभ रहा था, मैं समझ गई कि अंकित का लन्ड है और अंकित सो नहीं रहा क्योंकि उसका लन्ड खड़ा हुआ था. अब मेरे मन के अंदर कौतूहल शुरू हो गया. तभी अंकित मेरे बूब्स को धीरे धीरे दबाने लगा वो भी टॉप के ऊपर से ही, अंदर ही अंदर मेरे अजीब सी हरकत शुरू हो गई, पर मुझे डर भी लगा कि कहीं कोई जग ना जाए पर मैं पता नहीं क्यों अंकित को मना नहीं कर पायी और उसे यह भी नहीं लगने दिया कि मैं जग रही हूं, मैं सोई ही बनी रही.
वो थोड़ी देर टॉप के ऊपर से धीरे-धीरे से मेरे बूब्स दबाता रहा, अचानक उसने मेरे पीछे जो मेरी गांड में उसका लन्ड टच हो रहा था, उसे स्कर्ट के ऊपर से ही दबाना रगड़ना शुरू कर दिया, उसकी इन हरकतों से मुझे अजीब सा लगने लगा और वही सुबह बाली फीलिंग मेरे अंदर बढ़ने लगी.
मेरे चुप रहने से अंकित की हिम्मत बढ़ने लगी और अब वो मेरे बूब्ज़ जोर से दबाने लगा. जैसे ही मेरे बूब्स दबे, मुझे कुछ-कुछ होने लगा और मेरे को आप बहुत समय नहीं लगा और मैं भूलने लगी कि मैं कहाँ लेटी हूं और सच कहूं तो भूल ही गई की यहाँ 15-20 लोग इस हाल में लेटे हैं.
अचानक अंकित अपना एक हाथ नीचे ले गया और मेरी स्कर्ट उठाने लगा. जैसे ही स्कर्ट के अंदर हाथ डाला, सीधे उसकी हथेली मेरी पिछवाड़े गांड में टच हो गई और पूरी नंगी मेरे गांड में अपनी हथेली चलाने लगा. उसकी इस हरकत से मेरी हालत और तेजी से खराब होने लगी.
तभी वो अपनी दो उंगलियां मेरी पीछे तरफ मेरी जांघों को थोड़ा फैला कर जहाँ सुराख था, उसमें डालने लगा तो मुझे गुदगुदी सी हुई. और वो मेरी स्कर्ट उतारने लगा और धीरे-धीरे खिसका कर उतार भी दी. फिर मेरे कान में बोला- संध्या तू जाग रही है क्या?मैं कुछ नहीं बोली और सोई ही बनी रही. मेरे नीचे कुछ भी नहीं बचा, मैं पूरी नंगी हो गई क्योंकि स्कर्ट के अलावा और कुछ भी नहीं पहनी थी नीचे … ऊपर टॉप और समीज पहनी हुई थी. मैं सोने का नाटक करती ही रही.
इतने में अंकित ने अपना हाथ मेरी समीज के अंदर घुसा दिया और मेरे पेट मेरी नाभि को हाथ से रगड़ने लगा, मेरी नाभि में उंगली भी डाल कर घुमाने लगा, मुझे अजीब सा कुछ होना शुरू हो गया.इसके बाद सीधे अंकित अपना लोवर और अंडरवियर उतारने लगा. जैसे ही उसका लोवर और अंडरवियर उतरा, उसने अपना नंगा सख्त लन्ड मेरी गांड में टच करा दिया और उसे धीरे-धीरे मेरे कूल्हों में घुमाने लगा.
उसकी इस हरकत से मेरे अंदर बिल्कुल आग सी लग गई. इसके बाद उसने मेरे टाप और समीज को ऊपर करना शुरू कर दिया, दोनों को ऊपर सीने के ऊपर गर्दन के पास कर दिया. अब मेरे बूब्स बिल्कुल खुले नंगे हो गए तो गर्दन के नीचे से पूरा का पूरा मेरा जिस्म बिना कपड़ों के हो गया, मतलब पूरी नंगी हो चुकी थी.
अंकित अपने हथेली से मेरे बूब्स को दबाने लगा सहलाने लगा, थोड़ी देर बाद अब अंकित मेरे बूब्स जोर जोर से दबाने लगा और मेरी गांड के छेद के पास अपना लन्ड रगड़ने लगा. मेरी हालत बहुत नाजुक स्थिति में पहुंच गई, मैं अब बर्दाश्त कर पाने की स्थिति में नहीं बची थी.
तभी वह एक हाथ नीचे लाकर मेरी नाभि से कमल पर हाथ चलाता हुआ नीचे की तरफ लाया और अपनी हथेली मेरी चूत में रख दी और अपनी हथेली से हल्के हल्के चूत के बालों को सहलाने लगा. थोड़ी देर तक उसकी यह हरकत चलती रही और फिर अचानक मेरी चूत में अपनी उंगली डाल दी.
जैसे ही उंगली मेरी चूत में गई, मैं बिल्कुल तड़प उठी, मुझे कुछ समझ नहीं आया कि मैं क्या करूं. मुझे पहले लगा कि मैं घूम के लिपट जाऊं अंकित से और उसको गले लगा कर उससे जमके चोदन करवा लूं. पर मैंने पता नहीं क्यों इतना धैर्य दिखाया और अभी भी सोने का नाटक ही करती रही.
-  - 
Reply
09-05-2019, 02:20 PM,
#48
RE: Chudai Kahani मेरी कमसिन जवानी की आग
तभी अचानक अंकित मेरे चूत में उंगली पूरी घुसा दी और उसे अंदर बाहर करने लगा, और मेरे कान में बिल्कुल पास आकर धीरे-धीरे बोलने भी लगा- संध्या तू बहुत मस्त माल है तेरी चूत इतनी गर्म है कि लग रहा है कि मेरी उंगली जल जाएगी, आज मैं तुझे जन्नत की सैर कराऊंगा, तू बहुत मस्त है. जब से तुझे सुबह से टच किया और तेरी चूत को चाटा था, वही तेरे चूत की महक मेरे जिस्म में समा गई है मैं सुबह से तीन चार बार मुट्ठ मार चुका हूं तुझे सोच सोच कर!
और इतना कहते ही अंकित जोर-जोर से अपनी उंगली मेरी चूत में अंदर बाहर करने लगा. मेरी चूत पूरी गीली हो चुकी और बहने लगी तो अब वही चूत का रस अंकित निकाल कर मेरे पिछवाड़े में मेरी गांड में लगाने लगा मेरे कूल्हे फैलाकर मेरी गांड के सुराख में जहाँ छेद था वहाँ एक उंगली हल्के से डालने लगा.मैं अब बर्दाश्त नहीं कर पा रही थी पूरी पागल सी हो रही थी.
इतने में अंकित ने अपना लन्ड मेरे गान्ड के छेद में टिका दिया और अपने मुंह से ढेर सारा थूक निकालकर लंड पर लगाया. अंकित ने मेरे कूल्हों को अपने हाथ से फैलाया और थोड़ा सा मेरे पैर को और किनारे किया, वो भी अपने हाथ से … अब उसका लौड़ा पूरी तरह मेरी गान्ड में सेट हो चुका था.अंकित बोला- संध्या, अब तू तैयार हो जा … मैं तुझे आज बहुत चोदने वाला हूं, मैं और मेरा लन्ड बहुत तड़प रहे हैं, मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा. मैं तेरी मस्त गांड का दीवाना हूं.
और इस तरह से अचानक, मुझे अंदाजा नहीं था, उसने पूरा जोर लगाकर मेरी गांड में अपना लन्ड इतनी जोर से घुसा दिया कि मुझे लगा कि मैं दर्द के मारे मर गई. मुझे कुछ होश नहीं रहा दर्द के कारण अब मुझे कुछ समझ नहीं आया और मेरे मुंह से चीख निकल गई. ऐसा लगा कि मेरी गान्ड फट गई, मेरे बगल से चार अंगुल के अंतर में जो अंकल लेटे थे, मेरी मौसी के ननद के पति, उनसे लिपट गई दर्द के मारे, और इतनी जोर से पकड़ा उनको कि अंकल की नींद खुल गई. वो अंकल आर्मी में थे तो चौकन्ने रहना उनकी आदत में है. वो तुरंत उठ कर बैठ गए और सीधे अपने मोबाइल की लाइट जला कर देखा. कुछ बोले बिना उन्होंने अपने मोबाइल की लाइट से सब देख लिया और अपने मोबाइल से विडियो रिकार्डिंग भी कर ली अंकित जब लन्ड मेरी गान्ड में डाले था.
मैं उनसे लिपटी ही हुई थी, उन्होंने चुदाई की हालत में मुझे और अंकित को देखा तो अंकित घबरा गया, उसने जल्दी से अपना लन्ड मेरी गांड में से निकाला तो भी मुझे बहुत दर्द हुआ.
अंकल के बगल में दो अंकल और लेटे हुए थे, उनमें से तुरंत एक अंकल को उन अंकल ने उठाया, बोले- मुन्ना भाई उठो!वो भी उठ के बैठ गये, पर अंकित तब तक अपनी अंडरवियर और लोवर पहनकर चुपचाप लेट चुका था.
पर मैं वैसी ही हालत में आंख बंद किए लेटी हुई थी, सोई बनी हुई थी परन्तु मुझे इतना डर लग रहा था इतनी घबराहट कि लगता था धरती फट जाए और मैं उसमें समा जाऊं. डर के मारे मेरी हालत बहुत खराब हो गई, मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि मैं क्या करूं, मैं अपने कपड़े पहन लूं इतनी हिम्मत और इतनी समझ नहीं आई, बस वैसी ही हालत में आंख बंद करके लेटी रही. तभी आर्मी वाले अंकल बोले- देखो मुन्ना भाई, ये लड़की और ये जो बगल में लड़का लेटा है, दोनों चुदाई कर रहे थे. ये देख, छोटी सी विडियो क्लिप बनाई है दस पन्द्रह सेकंड की!और उन अंकल को दिखाई.
दूसरे अंकल का पहला रिएक्शन यही था- राज भाई, ये लड़की बहुत मस्त माल है, ये तो हिरोइनों की तरह दिखती है, किसकी लड़की है तुम पहचानते हो?आर्मी वाले अंकल का नाम राजधर त्रिपाठी है, उनको सब राज ही कहते हैं, राज अंकल ने कहा- हाँ मुन्ना भाई, ये मेरे साले की साली जो तपा में ब्याही है, उसकी सबसे छोटी बेटी है इसका नाम संध्या है पर घर में सब लोग इसे सोनू कहते हैं, मैं भी सोनू ही कहता हूं. और इस लड़के को तो मुन्ना भाई तुम पहचान ही गये होगे?
-  - 
Reply
09-05-2019, 02:20 PM,
#49
RE: Chudai Kahani मेरी कमसिन जवानी की आग
तब वो अंकल बोले- बिल्कुल सही, ये तो अपना अंकित है.वो दूसरे जो मुन्ना अंकल थे, वो बोले- राज भाई, अंकित की कोई गलती नहीं, वो तो अभी नया लड़का है, यह लड़की इतनी सेक्सी मस्त पटाखा माल है कि इस हालत में जैसे अभी नंगी लेटी है ऐसे किसी मुर्दा के सामने आ जाये तो वह मुर्दा भी जिन्दा होकर इसे चोदेगा, राज भाई तुम्हें इन दोनों का खेल नहीं बिगाड़ना चाहिए था, सारी गलती तुम्हारी है, अब राज भाई तुम इसकी भरपाई करो.
मुन्ना अंकल बोले- हम लोग तो 50 साल के ऊपर हैं, तब भी देखो अपनी हालत … तुम्हारा भी लन्ड खड़ा हो चुका है, और मेरी हालत तो इस आइटम को देखकर बिगड़ती ही जा रही है, क्या गजब की माल है, देखो नंगी लेटी हुई एक कयामत लग रही है, ऐसा लग रहा है कि हुस्न का समंदर है. चलो राज भाई, यह अधूरी प्यासी है बेचारी … अपन दोनों मिलकर इसको आज तृप्त कर देते हैं.राज अंकल बोले- यार रिश्तेदारी में आती है, कहीं कुछ गड़बड़ ना हो जाए, किसी को पता चल गया तो बहुत बदनामी होगी.मुन्ना अंकल बोले- अरे किसी को कुछ नहीं पता चलने वाला है, तुम इतना क्यों डर रहे हो, कौन सी तुम्हारी सगी है? आजकल तो अपनी बहन बेटी से तक से संबंध बना लेते हैं. यह तो तुम्हारे साले की साली की बेटी है, वैसे भी इसकी मां से तुम्हारे सेक्सी मजाक का रिश्ता कहलाएगा, फिर ये संध्या उसकी बेटी है तो इसे आराम से चोद सकते हो!
राज अंकल बोले- यार, हालत तो मेरी भी बहुत खराब हो रही है. यह ऐसी माल है, ऐसी मस्त आइटम है कि लगता है कि बस इसको चोद दिया जाए.तो मुन्ना अंकल बोले- राज भाई, सोचो नहीं, बस शुरू करते हैं. संध्या को थोड़ा इधर खिसका के जगह बना कर मस्त जमकर इसकी चुदाई करते हैं.मुन्ना अंकल ने मेरे पास आकर सीधे मेरे पिछवाड़े में अपना हाथ रख दिया और जैसे ही हाथ मेरी गांड में छुआ, उन्हें चिपचिपा सा लगा तो बोले- यह तो चुदाई करवा चुकी है, लगता है उसके लन्ड का रस निकल चुका होगा.
मुन्ना अंकल ने मेरे चूतड़ों को फैलाकर देखा, फिर बोले- नहीं, यह लंड का रस नहीं है, कुछ और रहा होगा.राज अंकल बोले- यार इसे उधर कहीं ले चलें? क्या है कि यहाँ बहुत लोग सो रहे हैं, किसी ने देख लिया तो गड़बड़ हो जाएगी, इसलिए यहाँ ठीक नहीं है.
राज अंकल ने अंकित को उठाया, धीरे से बोले- अंकित उठ … उठ जा!जैसे ही अंकित उठा तो अंकल बोले- तू घबरा नहीं, डर नहीं, हमारी सारी बातें तो तूने सुन ही ली होंगी, अब तुझे डरने की जरूरत नहीं, तूने कुछ गलत नहीं किया, ना इस सोनू की गलती है, यह जवान है, सेक्सी है, इस उम्र में सबका मन करता है. संध्या इतनी मस्त लड़की है, कोई कैसे कंट्रोल कर सकता है, इसलिए इस संध्या को चोदकर तो तूने कोई गलती नहीं की, तूने इसे ठीक चोदा है, पर तेरा काम पूरा नहीं हुआ अंकित, पहले थोड़ी हम लोगों की भी मदद कर दे तो तेरी बात किसी को नहीं बताएंगे. बस हम दोनों और तू भी साथ में आ जा … संध्या की जवानी का मजा लेते हैं, और इसको जमके चोदते हैं. बहुत मस्त माल है, देखो कैसे लेटी है नंगी और ऐसे नंगी कितनी मस्त लग रही है. हम तो संध्या के लिए दीवाने हुए जा रहे हैं.
राज अंकल अंकित के सगे फूफा हैं, अंकित राज अंकल से बोला- फूफा जी, किसी को मत बताना, मैं संध्या की चुदाई आप लोगों से अच्छे से करवा दूंगा, कोई दिक्कत नहीं है, यह बहुत सेक्सी लड़की है, बहुत चुदाती है और इसका कोई जवाब भी नहीं.तभी मुन्ना अंकल ने कहा- इसको कहाँ करेंगे? तू जगह देख फिर इसे उठाकर ले चलेंगे.
-  - 
Reply

09-05-2019, 02:20 PM,
#50
RE: Chudai Kahani मेरी कमसिन जवानी की आग
राज अंकल अंकित के सगे फूफा हैं, अंकित राज अंकल से बोला- फूफा जी, किसी को मत बताना, मैं संध्या की चुदाई आप लोगों से अच्छे से करवा दूंगा, कोई दिक्कत नहीं है, यह बहुत सेक्सी लड़की है, बहुत चुदाती है और इसका कोई जवाब भी नहीं.तभी मुन्ना अंकल ने कहा- इसको कहाँ करेंगे? तू जगह देख फिर इसे उठाकर ले चलेंगे.
अंकित वहाँ से उठा और जो बाकी के दो कमरे थे, दोनों में गया, देखा पर जब वहाँ दोनों कमरों में कोई ना कोई एक या दो लोग सोए हुए थे तो लौट के आ गया और बोला कि कमरे में तो जगह नहीं है, इसे यहीं कर लीजिए मैं देखता रहूंगा. सब गहरी नींद में सो रहे हैं और किसी को कुछ पता नहीं चलेगा. आप लोग आराम से संध्या को यही चोद दीजिए.
यह बात अंकित ने जैसे ही बोली, तुरंत मुन्ना अंकल धीरे से बोले- अंकित तू सम्हालना, हम दोनों संध्या को चोद के मस्त कर देंगे. यह तो बहुत मस्त है.राज अंकल अपनी टोर्च की लाइट जलते रहने दी, मैं आंखें बंद की हुई थी पर पूरी नंगी थी.

इतने में राज अंकल मेरी कमर में हाथ डाला और मुझे खिसका कर थोड़ा अपनी तरफ करके सीधे मेरे होठों को चूम लिया और अंकित को बोले- तू चाहे तो अपना लन्ड डाल दे अंकित, मेरी वजह से तेरा काम अधूरा रह गया था. हम दोनों तब तक सोनू के एक एक अंग का दीदार करेंगे, उन्हें चूमेंगे और चाटेंगे.और राज अंकल मेरे दूध दबाने लगे और बोले- सोनू तू ऐसी है कि बस तुझे कोई देख ले तो उसकी जिंदगी बन जायेगी, तू तो पागलपन है, क्या मस्त आइटम हो गई है और गजब की है.
इतने में अंकित राज अंकल से बोला- फूफा जी सॉरी, मुझे माफ करना, किसी से बताना नहीं!उन्होंने कहा- नहीं बताऊंगा, तू चिंता मत कर! और यह सोनू तो खुद बहुत बड़ी वाली है. अब ऐसी लड़की होगी तो मन तो फिसल ही जाता है, अब इसको अधूरा मत छोड़, तू शुरू हो जा! हम दोनों भी हेल्प कर देते हैं.अंकित बोला- थैंक्यू फूफाजी, यह बहुत मस्त माल है, आप दोनों भी इसके साथ कर लो.
मुन्ना अंकल बोले- ठीक है अंकित, हम तो संध्या को बेहद चोदेंगे. मैं तो आ रहा हूं मैदान में!कहते हुए मुन्ना अंकल ने अपना लोवर और अंडरवियर उतार दिए और मेरी चूत को अपने हाथों से रगड़ने लगे.जैसे ही मेरी चूत में हाथ रखा तो वहाँ चूतरस बह रहा था तो बहुत धीरे से बोले- यह संध्या की चूत तो पूरी बह रही है, यह बहुत चुदासी है.और मेरे नंगे बूब्स को अपने मुंह में लेकर चूसने लगे.
मैं कुछ बोल नहीं सकती थी इसलिए बिल्कुल सोई बनी रही.
तब अंकित बोला- संध्या तू उठ जा, आंखें खोल, तुझे बहुत मजा आएगा.मैंने आंखें नहीं खोली तो अंकित मेरी आंखों को चूमने लगा और बोला- मुझे पता है कि तू जग रही है मेरी डार्लिंग, बस आंखें खोल, तू भी अपने मन की बातें बोल!और मुझे हिलाने लगा.
मैंने सोचा कि ये मानेगा नहीं इसलिए मैंने अपनी आंखें खोल दी. जैसे ही आंखें खोली, मेरे सामने राज अंकल थे, मुझे बहुत शर्म आई, मैं फिर आंखें बंद करने लगी तो राज अंकल ने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और बोले- सोनू डार्लिंग, तू मत शरमा, बहुत मस्त है तू, बहुत सेक्सी है, तुझे चोद चोद के आज मैं पागल कर दूंगा! क्या मस्त दूध हैं तेरे … तेरी नाभि पेट और चूत गजब की है. अब मत शरमा, देख मेरी तरफ!राज अंकल बोले- तेरी यह जो प्यारी सी सेक्सी नाभि है, ऎसी सेक्सी नाभि मैंने आज तक नहीं देखी!और मेरे होठों को चूमने लगे.
मैंने फिर से आंखें खोल दी और राज अंकल को एकटक देखने लगी तो अंकल बोले- क्या सेक्सी निगाहें हैं … तेरी आंखों में भी जादू है सोनू, तू बहुत चुदासी है ये तेरी आंखें बता रही है. तू सोनू बहुत प्यासी है.
और तुरंत राज अंकल अपने ऊपर का टी-शर्ट और नीचे का लोवर अंडरवियर उतार कर बिल्कुल नंगे हो गए, उन्होंने एक बार भी नहीं सोचा भी कि हम लोग हॉल में हैं.राज अंकल पूरे नंगे बदन मेरे सामने थे, क्या जबरदस्त बाडी थी उनकी … और लन्ड तो बहुत ही बड़ा था मेरे हाथ के बराबर मोटा और खूब लम्बा … फौजी जवान थे राज अंकल ऐसा मस्त शरीर मैंने नहीं देखा था किसी मर्द का जैसा राज अंकल का था.
मुन्ना अंकल राज अंकल से बोले- यार यह लड़की बहुत सेक्सी है, मैं एक पल भी नहीं रह पा रहा हूं.मुन्ना अंकल लोवर और अंडरवियर पहले ही उतार चुके थे, बाकी बची ऊपर की बनियान भी उतार फेंकी. उनका भी शरीर अच्छा था पर उम्र दिख रही थी, राज अंकल से थोड़ा छोटा लन्ड था उनका पर फिर भी बहुत बड़ा था, राज अंकल की उम्र लगभग 45 वर्ष की रही होगी लेकिन मुन्ना अंकल 50 के ऊपर थे.
दोनों अंकल मेरे आजू-बाजू हो लिए, राज अंकल मुझ से सामने से लिपट गए और मुझे अपनी बांहों में जकड़ लिया बोले- सोनू तुझे पाकर आज बहुत अच्छा लग रहा है. ऐसा लगता है कि सारी उम्र तुझसे लिपटा ही रहूं. ये तेरे जिस्म की खुशबू मुझे मदहोश कर रही है. सोनू क्या गजब की आइटम है तू इतनी सेक्सी इतनी चिकनी!मुन्ना अंकल मेरे पीठ से चिपक कर मेरी गान्ड में अपना लन्ड रगड़ने लगे.
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Desi Porn Kahani काँच की हवेली 73 7,312 Yesterday, 01:30 PM
Last Post:
Star Incest Porn Kahani चुदाई घर बार की 47 32,515 04-29-2020, 01:24 PM
Last Post:
Tongue Sex kahani किस्मत का फेर 20 26,435 04-26-2020, 02:16 PM
Last Post:
Lightbulb Kamukta kahani प्रेम की परीक्षा 49 42,878 04-24-2020, 12:52 PM
Last Post:
  पारिवारिक चुदाई की कहानी 17 70,523 04-22-2020, 03:40 PM
Last Post:
Thumbs Up xxx indian stories आखिरी शिकार 46 46,579 04-18-2020, 01:41 PM
Last Post:
Lightbulb non veg kahani एक नया संसार 253 523,784 04-16-2020, 03:51 PM
Last Post:
Thumbs Up dizelexpert.ru Hindi Kahani अमरबेल एक प्रेमकहानी 67 42,756 04-14-2020, 12:12 PM
Last Post:
Thumbs Up Antarvasna Sex चमत्कारी 152 102,402 04-09-2020, 03:59 PM
Last Post:
Star Sex kahani अधूरी हसरतें 272 466,814 04-06-2020, 11:46 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 2 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


जीजा की मर्ज़ी से बहन को चोदाChode ke bur phaar ke khoon nikaldewww sexbaba net Thread antarvasna E0 A4 AB E0 A5 81 E0 A4 A6 E0 A5 8D E0 A4 A6 E0 A4 BF E0 A4 B8 E0Dihati.hcuhce.dbane.vali.xnxx.सारा अली खान नँगीbhojpuri.actars.ki.chut.sexbaba.netBollywood desi nude actress ananya pandey and tara sutaria sex babapesha karti aur chodati huyi sex video deepshikha nude sex babaमाँ मेरी जिंदगी सेक्स कहानी सेक्सबाबाx videoलड़कियां मुखी मानती है सेक्सी वीडियोaunty ko chod chod ke chut suj gaya tavi pani nahi gira sex video downloadहिजड़ो का बीएफ वीडियो जो लिंग बनवाई हुई होती हैIndian desi nude image Imgfy.comjanbhujke land dikhayalaalji and maasex sotynivchoti ladki chodaividhwa mummy ki maang bhari-sexbaba .netLadkibikni.sexdhvani bhanushali sexy porn picture in sexbaba.comचाचीकि बदले मीली बेटीkitchen Mein badhta land full chudai sexy desi lugai ki desi auraton12 13 salki chot chot jhia chuaa mankr.sexxxxमेरा बेटा मुझे रोज चोदता हे उपाय बतायेsabse acchi BF full HD khoon nikalta hai Shilpi didimadhvi bhabhi of tmkoc ka chudai karyakarambahan bhai ki lov derti tolking hindi and bur chodaiखोटन घोङा सेकसीलड़का लड़की रोमेन्स xnxxKhole aam kai jhadai me dekho xxx videobig xxx hinda sex video chudai chut fhadnaदिपिका मामी का बुर कैसे फाडे उसका कहानी लडका लडकी को क्या लेता है तो लडकि ठँडा होजाती है इसका उत्तर क्या होगा लडका लडकि को पिछे से क्या लेता है इसका उतर क्या होगालङके ने लङकी की चुत की सिल तोङने की कहानीurine soodu pidika poguthu in englishma ki majburi 46sex storyxnxxxmhanonvegstory in adeoxxxसगी बहनको उसके पतीके कहनेपर चोदाra nanu de gu amma sex storiesxxnxxresaxxxxxi video बुर दीखाते हुए लड़कीMahdi lagi dulan ki chudaei xnxxapne chote beteko paisedekar chudiXnxmameepati se lekar bete tak chudbai gand me land guasata huaFUDI KI JHANTO KI SAFAI MOM BETI KI STORYbelaa phar bhabe ke khane sunabenआई मुलगा सेक्स कथा sexbabahttps/rajsharmastories com/view.heroine Niveda Thomas nude photoschunuchunu bhatiji ko chodaದುಂಡು ಮೊಲೆमॉ चोदना सिकायी/Thread-porn-kahani-%E0%A4%B8%E0%A5%80%E0%A4%A4%E0%A4%BE-%E0%A4%8F%E0%A4%95-%E0%A4%97%E0%A4%BE%E0%A4%81%E0%A4%B5-%E0%A4%95%E0%A5%80-%E0%A4%B2%E0%A4%A1%E0%A4%BC%E0%A4%95%E0%A5%80?pid=41115choti bachi ki sempu lagake chudai videoसेकसी कहानी मै शबाना पाकिस्तान से हूँ बहोत चोदवाती हूँ शोभा दीप्ति की चुदाई कहानीराजसथानी कुवारी लडकि चूत मरवातिauntiy xnxgand chodaihotAnju sexbaba.netajithpurasai xxxxxxxsexypriyankachopraboorkhe me matakti gaand Sex video bahanchod sali randi chinar hindi talkSwara bhaskar sex babaSeptikmontag.ru मां को नदी पर चोदाi gaon m badh aaya mastramफुफेरी बहन बोली थूक लगा लो भाई हिंदी सेक्सी कहानी फोटो सहितDesi sasur netxxnxXnxxn!पल रन्दिmom करत होती fuck मुलाने पाहीलेDidi ki jaberdast cudte dekha dardnaak rape hindi sex story/सैकस ससूर बहूकाशादी शूदा बहेन भाई की चोदई कहनिया 2019करवा चौथ वाली बीएफwww xxx con 2019kya wife ko chut may 2 pwnis lena chaeyavallama hindi oudio sex savita bhabhi suraj. tumara land to bahyt sakt hनेहा का बुर कैसे फाडे