Chodan Kahani मेरी चाची की कहानी
07-22-2018, 12:28 PM,
#11
RE: Chodan Kahani मेरी चाची की कहानी
फूफा: "इतनी सी बात बोलने के लिए इतना वक़्त लगाया"

चाची: "आपके लिए इतनी सी बात होगी...पता है मे कितना डर गयी थी, अगर उस दिन कोई देख लेता तो?

फूफा: "अर्रे उस भीड़ मे कॉन देखता"

चाची: "फिर भी..पता है राज वही खड़ा था"

फूफा: "अच्छा एक बात बताओ क्या तुम्हे वो सब ज़रा भी अच्छा नही लगा?"

चाची: "नही..मुझे अच्छा नही लगा..ये सब मेरे साथ पहली बार हुआ है"

फूफा: "शायद पहली बार था इसीलये तुम्हे अच्छा नही लगा वरना औरते तो ऐसे मौके की तलाश मे रहती है"

चाची: "अच्छा अब तो हाथ निकालिए"

फूफा: "कोमल जी तुम्हारी चूतर बड़ी प्यारी है"

चाची: "छी कैसी गंदी बाते कर रहे है आप"

फूफा: "गंदी बात..तो तुम्ही बता दो इसे क्या कहते है"

चाची: "मुझे नही पता"

फूफा "फिर तो मे हाथ नही निकालने वाला"

चाची: "राजेश कोई आ जाएगा"

फूफा: "अर्रे क्यूँ घबराती हो कोई नही आएगा"

चाची: "नही मुझे डर लग रहा है.. बच्चे देख लेंगे"

फूफा: "एक शरत पर तुम्हे मेरे थाइस पर मालिश करनी होगी"

चाची: "ठीक है कर देती हूँ"

फूफा ने फिर लुगी के अंदर हाथ डाल कर अपना अंडरवेर निकाल दिया, चाची की तो आँखे बड़ी हो गई, उन्हे कुछ समझ नही आ रहा था वो तुरंत बोली "अर्रे ये क्या कर रहे है आप"

फूफा: "कुछ नही..इसे निकालने से थोड़ा आराम हो जाएगा"

चाची: "तो मे मालिश कैसे करूँगी?"

फूफा: "क्यूँ तुम मेरे अंडरवेर की मालिश करने वाली हो"

चाची: "पर...!!!"

फूफा: "कुछ नही तुम मालिश सुरू करो"

चाची तो बुरी तरह से फँस गयी थी पर करती भी क्या और फिर चुप चाप जाँघो की मालिश करने लगी पर नज़र तो उनके खड़े लंड पर थी शायद चाची को भी इतने मोटे लंड को देखने मे मज़ा आ रहा था. मे समझ गया था आज कुछ ना कुछ तो होने वाला है. फूफा ने अपने पैरो को फैलाया जिस से उनकी लूँगी पैरो से हट कर नीचे आ गयी और खड़ा लंड साफ दिखने लगा. चाची ने अपना मूह घुमा लिया पर फूफा कहाँ रुकने वाले थे चाची की जाँघो पर हाथ फिराने लगे. चाची भी अब अपने रंग मे आ गयी थी वो बेझिझक फूफा के लंड को देख रही थी और मुस्कुरा रही थी.
-  - 
Reply
07-22-2018, 12:28 PM,
#12
RE: Chodan Kahani मेरी चाची की कहानी
फूफा: "क्या हुआ?.. हंस क्यूँ रही हो"

चाची: "हंसु नही तो क्या करूँ...बेशार्मो की तरह नंगे लेटे हैं"

फूफा: "तो तुम भी लेट जाओ ना!!"

इतना कहते ही फूफा ने चाची के हाथ को पकड़ कर अपनी तरफ खींचा और चाची उनके सीने पर गिर गयी और फूफा ने उन्हे अपनी बाँहों मे जाकड़ लिया. चाची को तो जैसे साँप सूंघ गया था, वो तो आराम से फूफा के सीने पर लेटी हुई थी और फूफा चाची के चूतर दबा रहे थे और उनको किस करने की कोशिस कर रहे थे, चाची अपना सर यहाँ वहाँ घुमा रही थी पर फूफा ने चाची को और नज़दीक किया, अब तो चाची ने भी अपने हथियार डाल दिए और फूफा बड़े मज़े से उनके लिप्स को किस करने लगे और धीरे धीरे सारी को उपर करने लगे और फिर काफ़ी उपर कर दिया और अपने दोनो हाथों से चूतर को दबाने लगे, चाची ने अंदर पॅंटी नही पहनी थी उनके गोरे गोरे चूतर मुझे भी साफ दिख रहे थे. चाची भी बड़े मज़े से अपने चूतर दबवा रही थी और फिर फूफा ने चाची को अपने उपर लिटा दिया अब चाची भी बिना बोले फूफा का हर हूकम मान रही थी. फूफा चाची की ब्लाउस को खोलने लगे पर चाची ने उनका हाथ पकड़ लिया और बोली "थोड़ा सबर करो..मे ज़रा देख कर आती हूँ सब सो गये है या नही". फिर उठी और सीढ़ियो (स्टेर केस) के पास गयी और नीचे देखने लगी फिर वहाँसे वो हुमारे बिस्तर पर आई, मुझे और विकी को सोता देख कर वो वापस फूफा के बिस्तर पर पास गयी और उनके लेफ्ट साइड मे लेट गयी, फिर क्या था फूफा ने अपना काम सुरू किया और ब्लाउज खोलने लगे पर चाची ने ब्लाउज खोला नही बस उपर उठा लिया जिसे उनकी मोटी और बड़ी बड़ी चुचियाँ बाहर आ गयी, चाची ने ब्रा भी नही पहनी हुई थी उन्होने अपनी लेफ्ट चूंची को फूफा के मूह मे दे दिया, फूफा तो छोटे बच्चे की तरफ उस चूसने लगे. चाची ने अपने राइट हॅंड से फूफा के लंड को पकड़ लिया और हिलाने लगी. फूफा ने चुचियों को चूस्ते हुए अपना लेफ्ट हॅंड से सारी को कमर के उपर कर दिया और सीधा चूत पर हाथ रखा और उसे सहलाने लगे इस दौरान फूफा ने अपनी एक उंगली चूत के अंदर डाल दी. चाची के मूह से सिसकारियाँ निकालने लगी, फूफा बोले "कोमल तुम्हारी चूत तो इतने मे ही गीली हो गयी है"

चाची: "हां..काफ़ी दिनो से चुदी नही है ना इसीलिए...और आपने तो मुझे उस दिन भी गीला कर दिया था...उूउउ आआ धीरे"

फूफा: "लेकिन उस दिन तो तुम्हे ये सब अच्छा नही लगा था"

चाची: "नही मुझे बहुत अच्छा लगा ...अगर कोई नही होता तो वही तुमसे चुदवा लेती"

फूफा: "मेरा लंड भी उस दिन से तुम्हारी चूतर का दीवाना हो गया है"

चाची: "आपका भी तो काफ़ी मोटा है"

फूफा: "क्यूँ प्रकाश का कितना बड़ा है?"

चाची: "लंबा तो इतना ही है पर इतना मोटा नही है...ये तो बहुत मोटा है मेरी तो जान ही निकाल दोगे तुम..बहुत दर्द होगा "

फूफा: "कोमल डरो मत एक बार अंदर जाएगा तो सब दर्द निकल जाएगा"

चाची: "जल्दी चोदो ना...मुझे नीचे भी जाना है, वरण दीदी उपर आ जाएगी मुझे ढूँढते हुए"

क्रमशः.............
-  - 
Reply
07-22-2018, 12:29 PM,
#13
RE: Chodan Kahani मेरी चाची की कहानी
मेरी चाची की कहानी--5

गतान्क से आगे..............

चाची की बात सुनते ही फूफा ने चाची को लिटा दिया और उनके पैर को फैला दिया और अपने लंड को चाची की चूत पर रगड़ने लगे, चाची तो पागल हो गयी थी, कस कर बिस्तर को पकड़ लिया, फूफा तो बड़े मज़े से चाची की चूत को अपने लंड से मार रहे थे, चाची बोली "उउउम्म्म्म उूउउंम्म राजेश अब तरसाओ मत जल्दी अंदर डाल दो...कई दिनो से चुदी नही है, डालो ना अंडाअरररर". जैसे ही फूफा ने लंड को अंदर डालना चाहा चाची उछल कर एक तरफ घूम गयी "आआअहह उूउउफफफ्फ़ राजेश रूको बहुत दर्द हो रहा है...मे अभी इसे नही ले सकती" फूफा बोले "कोमल मे थोड़ा तैल लगा लेता हूँ जिससे आसानी से तुम्हारी चूत मे घुस जाएगा" और फिर थोडा टेल (आयिल) लिया और अपने लंड और चाची की चूत पर लगाया और चूत के उपर रखा और फिर एक ज़ोर का धक्का मारा, पूरा लंड चूत को चीरता हुआ अंदर चला गया पर चाची इस बार दर्द सहन कर गयी, क्यूँ तैल के कारण लंड एक दम चिकना हो गया था और अंदर भी जा चुका था, फूफा धीरे उनके उपर लेट गये और चुचि को चूस्ते हुए एक जोरदार दखा मारा "उूउउइइ माआ राजेश...धीरे धीरे चोदो, आवाज़ नीचे तक चले जाएगी..ऊऊहह एयाया". फिर फूफा ने भी अपना स्पीड थोड़ा स्लो किया पर पुच पच की आवाज़ मेरे कानो मे सीधी आ रही थी मेरा लंड पहली बार खड़ा हुआ था ये सब देख कर मुझे तो पसीने आने लगे.

चाची अब बड़े मज़े से चुदवा रही थी और फूफा के हर धक्के का जवाब दे रही थी और फूफा के चूतर को पकड़ कर अंदर की तरफ दबा रही थी और एक अजीब सी सिसकारी चाची के मूह से निकल रही थी, फूफा ने भी अपनी स्पीड तेज़ करदी थी और चाची की चूंची को बेदर्दी से दबा रहे थे. चाची के मूह "आआअहह उूुउउ" की आवाज़ निकल रही थी, फूफा के हर धक्के पर चाची का पूरा जिस्म हिल जाता, अब चाची फूफा को और ज़ोर्से चोदने के लिए कह रही थी, इतने मे चाची ने फूफा को अपने पैरों और हाथो से जाकड़ लिया और उनके मुहसे "आआआआआआआआआअ" की एक तेज आवाज़ निकली और शांत पढ़ने लगी. चाची अब फूफा को किस करने लगी शायद चाची अब झाड़ चुकी थी, पर फूफा तो बड़े जोश मे लंड अंदर बाहर करे जा रहे थे तभी उन्होने पूछा "कोमल मुझसे फिर कब चुदवा-ओगि" चाची बोली "अब तो आपसे ही चुदवाउंगी बड़ा मोटा लंड है आप का मज़ा आ गया...वादा कीजिए जब तक आप यहाँ है मुझे ऐसे ही चोदा करेंगे,... मे अब रोज रात को सोने से पहले एक बार आपसे ज़रूर चुदवाउंगी"

फूफा शायद अब पूरे जोश मे थे और तेज़ी से छोड़ने लगे, फिर 5, 6 धक्कों मे वो भी झाड़ गये और चाची पर लेट गये, चाची उनके पीठ (बॅक) को कस कर जाकड़ लिया और उनसे चिपक गयी, खुच देर बाद उन्होने फूफा को अपने से अलग किया और कपड़े ठीक करने लगी, तभी फूफा ने चाची को अपनी तरफ खींचा और किस कर लिया चाची शरमाते हुए उठी और सीधा नीचे चली गई. मेरी भी हालत कुछ अच्छी नही थी मे अभी भी अपने छोटेसे लंड को तना हुआ महसूस कर रहा था शायद यही मेरा सेक्स का पहल अनुभव था जिसे मैने अपनी आँखों के सामने देखा था, अब मुझे भी ये सब देखना अच्छा लगने लगा था.

दूसरे दिन मे जब सुबह 7 बजे उठा तो देखा फूफा बिस्तर पर नही थे विकाश अभी भी मेरे ही सोया था, मे उठा और अपने कमरे मे जा कर टूतपेस्ट और ब्रश लिया और छत की सीढ़ियों पर बैठ गया था भी देखा चाची चाइ (टी) लेकर फूफा के कमरे मे जा रही है, मे भी सीधे नीचे उतरा और खिड़की के पास जा कर खड़ा होगया अंदर से फूफा और चाची की आवाज़ आ रही थी.

चाची: "क्या बात आज तो बड़े फ्रेश लग रहे है"

फूफा: "हां...कल रात पहली बार इतनी अच्छी नींद आई"

चाची: "हमारी तो नींद ही उड़ा दी आपने"

फूफा: "क्यूँ क्या हुआ?"

चाची: "कल रात भर मे ठीक से नींद नही आई..पूरे बदन मे दर्द सा है"

फूफा:" क्यूँ कल रात तुम्हे मज़ा नही आया क्या?"

क़हचही:" हाए राम...कितना मोटा है आपका अभी तक दर्द हो रहा है...लग रहा है अभी भी अंदर है"

फूफा: "रात को तो बड़े मज़े से ले रही थी...अब कह रही हो दर्द हो रहा है"

चाची: "मना कर देती तो अच्छा होता.. ये दर्द तो नही होता"

फूफा: "बड़ी नाज़ुक हो..एक ही बार मे डर गयी...अब तो रोज करना है"

चाची: "ना बाबा...अभी 2, 3 दिन नही"

फूफा: "2, 3 दिन!!....अर्रे मेरा तो अभी भी खड़ा है तुम्हारी चूंची और चूतर देख कर..क्यूँ ना हम अभी !!"

चाची: "आआहह राजेश क्या कर रहे है आप, दरवाज़ा खुला है कमल आ जाएगी, आआअहह मत दबाओ दर्द हो रहा है"

फूफा: “उपरवालेने बड़े फुरशत मे बनाया है आपको”

चाची: “छोड़िए ना कोई आ जाएगा”

फूफा: "अर्रे 2 मिनट. मे हो जाएगा...सारी उपर करो ना!!"

चाची: "राजेश अभी नही, दोपहर मे कर लेना उूउउइ ऊओ नही"

फूफा: "अर्रे दोपहर मे भी कर लेंगे..अभी तो लंड खड़ा होगया है, तुम्हारी चूत लिए बिना मानेगा नही, तुम घूम के टेबल के सहारे झुक जाओ"

च्कही: "ऊफ़्फूओ नही"

फूफा: "अर्रे घुमो ना...जल्दी से कर लूँगा"

क़हचही: "आप तो दीवाने हो गये हो..मुझे बदनाम कर के ही छोड़ेंगे"

फूफा: “जल्दी उठाओ ना!!”

चाची: “नही छोड़िए मे जा रही हूँ..”

फूफा: “अर्रे सुनो ना जल्दी कर लूँगा”

चाची: “नही दोपहर मे कर लेना”

फूफा: “अर्रे रूको !!”

चाची की आने की आहट सुन कर मैं छत (टेरेसए) की सीढ़ियों (स्टेर केस) के पीछे चुप गया, चाची कपड़े ठीक करते हुए नीचे चली गयी. मैने उनकी पूरी बाते सुनली थी और सोच रहा था कि आज फिर दोपहर मे चाची की चुदाई होगी पर कहाँ होगी ये तो पता नही था, क्यूँ ना आज फिर चाची पर नज़र रखी जाए.
-  - 
Reply
07-22-2018, 12:29 PM,
#14
RE: Chodan Kahani मेरी चाची की कहानी
मैं फ्रेश हुआ और ब्रेकफ़स्ट के लिए किचन मे गया देखा मा और बुआ किचन मे खाना बना रहे थे मुझे देख कर बुआ ने पूछा "राज आज तो बड़ी जल्दी उठ गया नाश्ता किया?" मैने सर हिलाते हुए ना कहा बुआ बोली "जा फूफा को भी बुला लेआ, दो साथ मे ही नाश्ता कर्लो" मैं उन्हे बुलाने उपर की तरफ जाने लगा तभी देखा भूरा चुप चाप बाथरूम के पास खड़ा है मैने सोचा वो भी नाश्ते के लिए आया होगा पर वो अजीब सी हरकत कर रहा था बार बार बाथरूम की तरफ देखता और फिर तुरंत पीछे देखने लगता. मुझे देख कर वो थोड़ा घबराया और वही चुप चाप खड़ा हो गया पर मैं बिना रुके उपर चला गया और फूफा को नाश्ते के लिए नीचे आने के लिए कहा. फिर मैं दबे पैर बिना आवाज़ किए नीचे आया और छुप कर भूरा को देखने लगा वो बाथरूम की दरार से अंदर की तरफ देख रहा था मैं सोच मे पड़ गया कि ये क्या देख रहा है वैसे भी सुबह का समय था शायद उस भी नहाना हो पर वो तो डेली दालान मे हॅंडपंप पर नहाता है मे वहाँ से निकला और किचन की तरफ जाने लगा भूरा ने मुझे देखा और फिर वहाँ से चला गया.

कुछ देर बाद मैने देखा चाची बाथरूम से बाहर निकल रही है, उन्होने सिर्फ़ वाइट कलौर की ब्लाउज और पेटिकोट ही पहने हुई थी और उनके हाथ मे टवल था, मुझे देखते ही पूछी "राज..विकी उठ गया?" मैने कहा "वो अभी तक सो रहा है" ये कहती हुई प्रेम चाच्चा के कमरे मे चली गयी और फिर सारी पहन कर निकली और उपर छत (टेरेसए) की तरफ चली गयी. मैं किचन मे गया और कुछ देर बाद फूफा, प्रकाश और प्रेम चाच्चा भी आ गये थे हम सब बैठ कर नाश्ता करने लगे तभी चाची किचन मे आई और चाइ पीने लगी, फूफा तिरछी नज़र्से चाची को देख रहे थे चाची भी देख रही थी दोनो मुस्कुरा रहे थे. मैं और प्रकाश चाच्चा हाथ ढोने के लिए बाहर आए तभी मैने देखा फूफा कुछ चाची को इशारा कर रहे है पर चाची कुछ समझ नही पा रही थी फिर फूफा भी बाहर आए, चाच्चा और फूफा कुछ बाते कर रहे थे. तभी चाची वहाँ आई और चाच्चा से कहने लगी "आप शाम मे कब तक आज़ाओगे?"

प्रकाश चाच्चा: "कुछ ठीक नही है..रात हो जाएगी, क्यूँ कुछ काम था"

चाची: "नही...कुछ बाज़ार से समान मंगाना था"

प्रकाश चाच्चा: "तो ठीक है देदो मे आते वक़्त ले आउन्गा"

चाची: "रहने दीजिए मे किसी और से मॅंगा लूँगी"

फूफा: "क्या लाना है मुझे बता दीजिए मे ले आता हूँ"

प्रकाश चाच्चा: "हाँ...राजेश जी भी बाज़ार जाने वाले है, इन्हे देदो ये ले आएँगे"

फिर प्रकाश चाच्चा और फूफा दालान मे चले गये, मैं समझ गया आज दोपहर मे चाच्चा नही है, फिर तो फूफा आज ज़रूर मज़े करेंगे. उनके जाते ही भूरा आया और चाची को नाश्ते के लिए बोला.

चाची:" भूरा नाश्ता करके ज़रा ये चावल की बोरी छत पर पहुँचा दे!"

भूरा:" जी मालकिन"

चाची: "और हां...अभी तू कहीं जाना मत थोड़ा छत पर काम है, कपड़े सुखाने है और थोड़ा कमरे की सफाई करनी है"

भूरा: "ठीक है मालकिन मे कर दूँगा"

इतना बोलते हुए चाची नाश्ता लाने अंदर चली गयी, भूरा वही आँगन मे बैठ गया जब चाची नाश्ता देने के लिए झुकी उनकी चूंचिया नीचे लटक गयी ये देख कर भूरा की आँखे बड़ी हो गयी. नाश्ता करने के बाद भूरा ने चाची को आवाज़ दी "छोटी मालकिन ये बोरी कहाँ रख ना है?" चाची: "कमाल के कमरे मे रखना". भूरा ने बोरी उठाई और उपर ले गया चाची भी कपड़े की बाल्टी लिए उपर आ गयी, ये देखते ही भूरा ने बाल्टी चाची के हाथ से ली और छत पर चला गया. चाची कपड़े सुखाने लगी, भूरा वही खड़ा था और चाची के बदन को घूर रहा था, चाची ने सारी थोड़ी उपर चढ़ा रखा था जिनसे उनके गोरे गोरे पैर साफ दिख रहे थे चाची जब जब कपड़े लेने के लिए नीचे झुकती भूरा अपना लंड सहलाने लगता, पानी लगने की वजह से चाची की ब्लाउज थोड़ी गीली हो गयी और निपल दिख रहे थे. भूरा बड़े मज़े से ये सब देख रहा था तभी चाची बोली "भूरा जाके नीचे के दोनो कमरे साफ कर्दे" भूरा बोला "और कुछ काम है मालकिन" चाची बोली " नही तू जा मैं ये कपड़े सूखा लूँगी".

मैं ये सब दालान से देख रहा था फिर मैं भी उपर अपने कमरे मे चला गया और भूरा को देखने लगा, भूरा सब से पहले चाची के कमरे मे गया और सफाई करने लगा तभी उसकी नज़र टेबल पर रखे हुए कपड़े पर पड़ी वो उन्हे उठा कर एक तरफ रखने लगा तभी उसने देखा उन कपड़ो मे चाची की ब्रा और पॅंटी थी ये देख कर उसके चेहरे पर चमक आ गयी उसने यहाँ वहाँ देखा और ब्रा और पॅंटी को अपने नाक से लगा कर सूंघने (स्मेल) लगा. मुझे ये सब बड़ा अजीब लग रहा था की ये भूरा क्या कर रहा है, फिर अच्छाणक उसने अपने हाथ अपने लंड पर रखा और उस दबाने लगा कुछ देर ऐसा करने के बाद उसने अपना लंड बाहर निकाला और ज़ोर ज़ोर से हिलाने लगा मे उस का लंड देख कर डर गया, उसका लंड एक दम कला और तकरीबन 8इंच. लंबा और 2इंच मोटा होगा, मुझे लगा ये इंसान का लंड है या जानवर का. तभी मुझे सीढ़ियों से नीचे आने की आवाज़ आई मे अपने कमरे मे चला गया (आप लोगो को बता दूं कि मेरा कमरा चाची के कमरे के एक दम पास मे है और सीढ़ियों से उतरते ही राइट हॅंड साइड मे चाची के कमरे की खिड़की है जो सीढ़ियों से साफ दिखती). नीचे उतरते वक़्त चाची की नज़र उनकी खिड़की की तरफ पड़ी और वो वही रुक गयी और छुप कर अंदर देखने लगी, मुझे पता था चाची अंदर भूरा का लंड देख रही है, उनके चेहरे से साफ दिख रहा था कि उन्होने भी इतना मोटा लंड पहली बार देखा है, चाची की आँखे बड़ी हो गयी थी और चेहर लाल पड़ रहा था, अपने एक हाथ से चूंचियों को दबा रही थी. चाची वहाँ काफ़ी देर तक खड़ी रही शायद उन्हे भी ये नज़ारा अच्छा लग रहा था. कुछ देर बाद भूरा मेरे कमरे मे आया मैं उसे बिना देखे कमरे से बाहर निकल गया, चाची भी नीचे जा चुकी थी.

मैने अब दोपहर का इंतज़ार करने लगा, उस दिन मे बाहर खेलने नही गया और और चाची पे नज़र रखने लगा की चाची कहाँ जा रही है, क्या कर रही है. दोपहर के 1 बाज गये थे सब खाने के लिए बैठ थे, पर फूफा की नज़र तो चाची को ही ढूंड रही थी. सबने खाना खा और दोपहर की नींद की तैयारी मे लग गये पर फूफा तो बड़ी बेचैन नज़रों से चाची को ढूँढ रहे थे पर चाची दिखी नही. फूफा उपर अपने कमरे की तरफ जा रहे थे मे भी मौका देख कर उनके पीछे चल दिया पर वो तो सीधे चाची के कमरे मे घुस गये, मे भी दबे पैर अपने कमरे मे चला गया और वहाँ से सुनने की कोशिस करने लगा, चाची अपने कमरे मे थी.

क्रमशः.............
-  - 
Reply
07-22-2018, 12:29 PM,
#15
RE: Chodan Kahani मेरी चाची की कहानी
मेरी चाची की कहानी--6

गतान्क से आगे..............

फूफा: “अर्रे हमने तो सारा घर ढूँढ लिया और आप यहाँ बैठी हैं”

चाची: “क्यूँ ऐसा भी क्या ज़रूरी काम आ गया था कि हमे ढूंड रहे थे”

फूफा: “यही बताउ या फिर कहीं और चलें?”

चाची: “यहीं बता दीजिए”

फूफा: “ठीक है”

चाची: “उ माआ..... क्या कर रहे है आप, कोई ऐसे दबाता है, मेरी तो जान ही निकाल देते हो...जाइए मे आपसे बात नही करती”

फूफा: “तुम तो बहुत जल्दी नाराज़ हो जाती हो, अच्छा बताओ दोपहर मे कहाँ मिलॉगी”

चाची: “नही...मुझे आज बहुत काम है”

फूफा: “ठीक है जैसी तुम्हारी मर्ज़ी”

चाची: “आअहह...ये क्या कर रहे हो... कोई आ जाएगा दरवाज़ा खुला है....आअहह अऔच दर्द हो रहा है छोड़ो ना!”

फूफा: “पहले वादा करो दोपहर मे आओगी”

चाची: “नही..”

फूफा: “ठीक है..”

मैने सोचा क्यूँ ना थोड़ा देखा जाए क्या हो रहा है पर डर भी लग रहा था. मे दीवार से चिपकते हुए दरवाज़े के अंदर देखने लगा. चाची बिस्तर पर लेटी हुई थी और फूफा एक हाथ से चाची के चूंचियों को दबा रहे थे और दूसरे हाथ से सारी उपर कर रहे थे. चाची तुरंत खड़ी हो गयी और कपड़े ठीक करने लगी, फूफा ने चाची को पीछे से पकड़ा और उनके गालो पर किस करने लगे, तभी चाची बोली “छोड़िए ना...ठीक है मे दोपहर मे आ जायूंगी, अब तो छोड़िए”

फूफा: “ये हुई ना बात..”

चाची: “पर कहाँ?”

फूफा: “यही पर... तुम्हारे कमरे मे”

चाची: “नही नही दीदी (मेरी मा) दोपहर मे यही सोती है”

फूफा: “तो ठीक है मेरे कमरे मे आ जाना”

चाची: “नही नही वहाँ पर कोई ना कोई आता जाता रहता है”

फूफा: “फिर कहाँ?”

चाची: “एक काम करो मे जब मे जूटन (वेस्ट फुड) डालने दालान मे आउन्गि तो तुम मुझे वही मिलना”

फूफा: “दालान मे?”

चाची: “हां....वहाँ जो आखरी वाला कमरा है जिसमे जानवरों के लिए घास रखी है वही पर”

फूफा: “पर वहाँ तो भूरा होगा ना”

चाची: “नही होगा मे उस बाज़ार भेज रही हूँ, कुछ घर के लिए समान लाने के लिए”

फूफा: “तो कितने बजे आओगी”

चाची: “कुछ बोल नही सकती, पर तुम 2.30 बजे के करीब दालान मे ही रहना”

फूफा: “ठीक है”

मैं सोच मे पड़ गया, कि मे उस कमरे मे ये सब देखूँगा कैसे क्यूँ कि उस कमरे मे कोई खिड़की नही थी. काफ़ी देर सोचने के बाद मुझे याद आया कि उस कमरे मे उपर की तरफ एक जगह है जहा पर काफ़ी अंधेरा है और बहुत सारे वेस्ट समान पड़े है, मे वहाँ आराम से बैठ कर ये सब देख सकता हूँ वो जगह मैने छुपा छुपी (हाइड & सीक) खेलते वक़्त ढूंढी थी, पर उपर जाने की लिए मुझे सीढ़ी (स्टेर) की ज़रूरत थी मैं तुरंत गया और दालान मे रखी लकड़ी की सीढ़ी वहाँ लगा आया और पूरी तरह देख लिया कि मे वहाँ महफूज़ हूँ कि नही.

दोपहर का समय था इसीलिए घर मे काफ़ी सन्नाटा था, मे गेस्ट रूम मे जा कर बैठ गया, कुछ देर बात फूफा वहाँ आए और लेट गये ह्मने कुछ देर बाते की फिर फूफा सोने लगे मे वहाँ से उठा और दरवाज़े पर रखी चेर पर बैठ गया वहाँ से किचन और आँगन दिखता था. तकरीबन 3 बज गये थे तभी मे चाची को आते देखा उनके हाथ मे एक बाल्टी थी जिसमे झूतान भरा हुआ था, मे तुरंत दबे पैर वहाँ से निकला और दालान के आखरी वाले कमरे मे उपर जा कर छुप गया.
-  - 
Reply
07-22-2018, 12:29 PM,
#16
RE: Chodan Kahani मेरी चाची की कहानी
5मिनट. बाद चाची अंदर आई और बाल्टी नीचे रख कर यहाँ वहाँ देखने लगी तभी फूफा भी अंदर आ गये और दरवाज़ा बंद कर लिया और तुरंत एक दूसरे से लिपट गये और किस करने लगे ऐसा लग रहा था कि जैसे वो सालो के बाद मिल रहे है. फूफा ने चाची की सारी को उपर कर दिया और चूतर को मसल्ने लगे, चाची भी जोश मे किस करने लगी, 2, 3 मिनट. बाद फूफा बोले “कोमल लंड चुसोगी?”

चाची: “छीई... नही मैने कभी पहले नही लिया”

फूफा: “अर्रे एक बार लेके तो देखो बड़ा मज़ा आएगा”

चाची: “ना बाबा...मैं नही लेती मूह मे...कोई भला मूह मे भी लेता है”

फूफा: “अर्रे औरते तो को तो लंड चूसने मे बड़ा मज़ा आता है, कमल भी चुस्ती है...उसे तो चूत से ज़्यादा मूह मे लेना अच्छा लगता है, तुम भी एक बार ले के देखो...अगर अच्छा नही लगा तो दोबारा मत लेना”

चाची: “नही नही मुझे वॉमिट हो जाएगी”

फूफा: “अर्रे कुछ नही होगा”

इतना कहते हुए फूफा ने चाची को नीचे बिठा दिया, लंड चाची के मूह के पास लटक रहा था चाची ने तो पहले सिर्फ़ थोड़ा सा ही लंड अपने होंठो पर लगाया और किस करने लगी कुछ देर बाद चाची ने लंड के टॉप को मूह के अंदर लिया और चूसने लगी शायद चाची को अब अच्छा लग रहा था उन्होने थोड़ा और अंदर लिया और चूसने लगी, फूफा का लंड अब पूरी तरह से खड़ा हो गया था और चाची के मूह को चोद रहे थे चाची भी लंड को काफ़ी अंदर तक ले रही थी. अचानक फूफा ने लंड चाची के मूह से निकाला और चाची को खड़ा कर दिया और खुद नीचे बैठ गये और चाची के सारी उपर करने लगे चाची ने सारी अपने हाथ से उपर कर ली और फूफा ने चाची की पॅंटी उतार दी और थाइ पर हाथ फिराने लगे तभी अपनी एक उंगली उन्होने चूत के अंदर डाल दी और अंदर बाहर करनेलगे फिर अपनी ज़बान से चूत को चाटने लगे इतने मे चाची के मूह से सिसकारियाँ निकलने लगी, चाची अब पूरी तरह से गरम हो गयी थी और फूफा के सर को पकड़ कर अपनी चूत पे दबा रही थी. तभी फूफा ने एक तरफ थुका शायद ये चाची के चूत का पानी था.

चाची एक हाथ से सारी पकड़ी हुई थी और दूसरे हाथ से अपना ब्लाउज उपर किया और चूंची दबाने लगी मे पहली बार चाची की चूत और चूंची को उजाले मे देख रहा था मेरा भी लंड खड़ा हो गया था. तभी फूफा चाची को सीढ़ी के पास लाए और उन्हे झुका दिया जिसे उनके गोरी गोरी चूतर साफ दिख रही थी, चाची ने सीढ़ी पकड़ी हुई थी और चूतर काफ़ी पीछे किया हुआ था, ताकि फूफा को लंड डालने मे आसानी हो. फूफा चाची की गंद को घूर रहे थे उन्होने भी पहली बार चाची को उजाले मे नंगा देखा था फिर अपने लंड पर थोड़ा थूक लगाया और चाची के चूत पर रगड़ने लगे, तभी चाची बोली “राजेश अब डाल भी दो..ज़्यादा वक़्त नही कोई भी आ सकता है”

फूफा: “अर्रे इतनी जल्दी क्या है ज़रा जी भर के देख तो लेने दो तुम्हारी चूत और गंद को”

चाची: “अर्रे बाद मे जी भर के देखना अभी चोदो, कोई आ गया तो बड़ी मुस्किल हो जाएगी”

फूफा: “कोमल तुम्हारी गंद का होल तो काफ़ी टाइट है, क्या कभी तुमने गंद नही मरवाई”

चाची: “चईए.. कैसी बाते कर रहे है आप मे क्या रंडी हूँ, जो अपनी गंद मरवाती फिरू”

फूफा: “अर्रे तुम्हे नही पता औरते तो चूत से ज़्यादा गंद मरवाना पसंद करती है...अगर तुम कहो तो मैं!”

चाची “नही नही...चूत मे तो बड़ी मुस्किल से जाता है अगर गंद मे डालो गे तो मर ही जाउन्गि”

फूफा: “अर्रे एक बार डालके तो देखो”

चाची: “नही...चूत मे डालना है तो डालिए नही तो मैं जाती हूँ”

फूफा: “ठीक है तुम्हारी मर्ज़ी”

फिर फूफा लंड चूत के अंदर डालने लगे, तभी चाची बोली “ज़रा धीरे से डालिएगा, आज तेल नही लगा है दर्द होगा” पर फूफा कहाँ सुनने वाले थे एक ज़ोर का धक्का दिया आधा लंड अंदर चला गया चाची तो उछल गयी और उनके मूह से चीख निकल गयी, फूफा बोले “कोमल चिल्लाओ मत कोई आ जाएगा, अभी तो सिर्फ़ आधा ही गया है” चाची ने सारी को अपनी मूह मे दबा लिया और फूफा ने एक फिर ज़ोर का धक्का मारा पूरा लंड अंदर चला गया, चाची अपनी गंद घुमाने लगी पर फूफा ने चाची पर झुक कर उनकी कमर पकड़ ली और घोड़े की तरह चोदने लगे. अब चाची का दर्द शायद कम हो गया था इसीलिए उन्होने अपना पैर थोड़ा और फैला दिया था की लंड आसानी से जा सके, फूफा भी चाची की कमर को पकड़ कर ज़ोर ज़ोर के धक्के दे रहे थे, हर धक्के पर चाची की गंद थिरकने लगती. झुकने कारण उनकी चूंची और बड़ी लग रही थी और ज़ोर ज़ोर से आगे पीछे हिल रही थी, फूफा तो बड़े मज़े से चोद रहे थे पर पसीने से पूरे गीले हो गये थे.

समाप्त
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Lightbulb Hindi Kamuk Kahani जादू की लकड़ी 86 48,069 03-19-2020, 12:44 PM
Last Post:
Thumbs Up Hindi Porn Story चीखती रूहें 25 9,170 03-19-2020, 11:51 AM
Last Post:
Star Adult kahani पाप पुण्य 224 1,042,289 03-18-2020, 04:41 PM
Last Post:
Lightbulb Behan Sex Kahani मेरी प्यारी दीदी 44 80,309 03-11-2020, 10:43 AM
Last Post:
Star Incest Kahani पापा की दुलारी जवान बेटियाँ 226 691,540 03-09-2020, 05:23 PM
Last Post:
Thumbs Up XXX Sex Kahani रंडी की मुहब्बत 55 44,425 03-07-2020, 10:14 AM
Last Post:
Star Incest Sex Kahani रिश्तो पर कालिख 144 110,331 03-04-2020, 10:54 AM
Last Post:
Lightbulb Incest Kahani मेरी भुलक्कड़ चाची 27 60,126 02-27-2020, 12:29 PM
Last Post:
Thumbs Up bahan sex kahani बहना का ख्याल मैं रखूँगा 85 227,714 02-25-2020, 09:34 PM
Last Post:
Thumbs Up Indian Sex Kahani चुदाई का ज्ञान 119 156,575 02-19-2020, 01:59 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.


uncle aur aunty ki sexy Hindi ke men chudai karte hue Ghaghra lugadiखेत में सलवार खोलकर पेशाब टटी मुंह में करने की सेक्सी कहानियांJavni nasha 2yum sex stories Suhashini pussy fake sexybabanetpriyanka giving blowjob sexbabamulvi ki bibi ki chudai kahani Deepika padukone sex story sexbaba.comxxxEesha Rebba sexy faku photosshama ke parwane incest kahanxxx वीडियो पुत्र बहन अचानक आने वाले माँबच्चू का आपसी मूठ फोटो सेकसीकम उम कि लडकी योनी बिडियो मे दिखये sex ke liya good and mazadar fudhi koun se hoti hakavyamadavan.sexbabahavili saxbabaganne ki mithas Mastram netsaxy hot salwar kamech giral naked imageलहनगे मे चुदिसख्खी मोठी बहीण झवली मराठी सेक्स कथाwww.sax.gori.gori.ladki.black.nikar.black.bra.pahankar.videosघरमे च लगाया जुगाड़ सेक्स स्टोरीकहानीअंगप्रदर्शन बहुकीXXNX hatho me mehadi lagi hau phir bhi dulahn ko suhag rat ke din chudwana pda kajal agrwal xxxnanga chutkekon Sharma nude saxy boob photoBhen ko bicke chalana sikhai sex kahanikama nangaikal xossipatrvasna cute uncleमम्मी ने सिखाया लुली की मालिस करनाBigh gaandpornoxo xxxwwwबचपनzee tv.actres sexbabatelugu sexstories sexbaba amma kodukula dengulata in teluguपति चाहता हबशी से चुदुनग्गी छूटे की बड़ी फोटो वीडियो दिखाओchumma lena chuchi pine se pregnant hoti hai ya nahiचाचा ने मेरी रण्डी मां को भगा भगा कर चोदा सेक्स स्टोरीall sex hindi of dhanaxxx vidioXnxcomsasurjungle me maa ki gand fadkar khun nikalne ki sex storiesneha pant nude fuck sexbabaKahanizindigiमोनालिसा का बुर कैसा है खोलकर दिखाओ/Thread-maa-ki-chudai-%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%81-%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%A6%E0%A5%81%E0%A4%B2%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%BE?page=2Rahul neha priti aakash drchutiya incest sex storyvargin bhai ko chudai karney ke ley kaisex uttejit kya jaeyindian hichara ka bathroom me nahane ka photoheroin amy jaxan sex photos sex baba netVijay tv Raksha holla nude fucknorafatehisexphotoghodeke sat chudaikahani ladkiबहन का उफनता यौवन कहानी और खूब चूदाईXxx bf आकेली लाड़की फोटोBhabhi and devar hindi sex stories sexbaba.comrasmi aashram me nsngidumdarr khiladi sexy poto acters sexकच्ची कली सेक्सबाबशुभांगी अत्रे xxx xossip gif full hd photoxxxचोदने के बाद खुन निकलेDeshi coupal Ko gangl me pakde sabne choda sex hd ladkone milke chodaGand Me Mat Dal Fut jayegi [ Full Hindi Audio AwesomeRo ro kr chudbai chutवहन भीइ सोकसी वीडोवपापा कहते हैं चुदाईtuje sab k shamne ganda kaam karaugi xxopicrajsharma sex.chhote bahen ke kori choot ko choda Nandita sexbabaganne ki mithas Mastram netHindi six istri rajsarmaDriving ke bahane mze nadoi ke sath sex storybfxxxvidohindझाँटदार चुत कि सेक्सि बिडियोchodu nandoi au chinal alhaj ki chudai 2xxxxxviEDosBFमम्मी टाँगे खोल देतीभाभी ने ननद को भाई के लँड की दासी बनायाxxx video mather and pahli bar chudae k lay bata koforsh comमीनाक्षी GIF Baba Xossip Nudeबहेन ने साडी पहेनकर भाई को गाली देकर xxx Hindi story दीदी की कुवाँरी बुर फाड के भोँसडा बना दिया अँतरवासनाSex stories neha aur banarasi panwala againमी आईची मोठी पुची पाहुन तीला झवलो स्टोरी.काँमकुंवारी बुर और गाड़ बहुत बेदर्दी से फांड दिया बहन की भाई ने अपना लंड डाल कर musalim land Pragant sexy Kahani sexbaba netrat bhor choda batrum jake pesab pia chudai kahanibutipalar cloth pahane xnxxXxx sex viring sistsr fimli hd vedioगान्डु गे ने अपनी बहन को रंन्डी बनाया गे सेक्स कहानीkalki koechlin in nude fucking sexbaba Xxxमाँ बेटा चुदाई पिकचर हिदी जो डायरेकट डाउनलोड हो जाये साफ आवाज मै चलेSajeland xxxliyawwwxxxhd sex choout padi chaku ke satvideosexbina badanmangalsutra saree pehne wali Aurat school teacher HD videoantrwasna bibi smjh kr kisi or ko choda anjane meबेटे ने बेदर्दी से ठोका कामुक स्टोरीDhvani bhanushali fuking imageकैटरिना कैफ का चुत कहानी फोटो सहीतNude Paridhi sharma sex baba pics