Bhai Behen Chudai मैं ,दीदी और दोस्त
08-22-2018, 10:52 PM,
#1
Star  Bhai Behen Chudai मैं ,दीदी और दोस्त
मैं ,दीदी और दोस्त

मित्रो आपके लिए एक और सेक्सी कहानी पेश कर रहा हूँ और उम्मीद करता हूँ आपको पसंद आएगी . 

परिचय
बचपन से मुझे प्यार करने वाले कम थे,लेकिन जो मिले वो बेपनाह प्यार करने वाले थे,मैं आकाश एक सीधा साधा सा बन्दा हु मेरी लाइफ भी बड़ी ही साधारण सी है लेकिन साधारण सी चीजो का अपना ही महत्व होता है मेरी सादगी ने मुझे बहुत दिया जो दिया वो थे प्यार करने वाला परिवार और दोस्त,परिवार में माँ बाप थे और एक बड़ी दीदी थी जो मुझसे एक ही साल की बड़ी थी और दोस्तों की बाते मैं आगे बताऊंगा,
मैं बचपन से ही शर्मीले किस्म का लड़का था,और दीदी बड़ी ही तेज और लड़ाकू थी ,सुन्दरता और आत्मविश्वास के कारण और भी खिल जाती थी,जो पहनती पुरे विस्वास से किसी की नहीं सुनती,घर में भी उनका ही हुक्म चलता,अपनी बात मनवाना उन्हें आता था या तो प्यार से ना मने तो मार से, पूरा स्कूल.टीचर और परिवार की चहेती और मेरी पहचान उनके भाई के नाम से ही होती थी,लोग मुझे आकाश कम और नेहा के भाई की तरह ज्यादा जानते थे,मेरी दीदी की एक ही कमजोरी रही वो था मैं,और मेरी कमजोरी भी मैं खुद ही था मेरा स्वभाव ही मेरी कमजोरी रहा,
मेरे बचपन के दोस्तों में एक राहुल ही था जिसे मैं दोस्त कह सकू मुझसे बिलकुल विपरीत था शायद इसलिए मेरा सबसे अच्छा दोस्त बना,राहुल और मैं एक ही क्लास में थे और दीदी हमसे एक क्लास की सीनियर,राहुल की कोई बहन नहीं थी इसलिए वो नेहा दी को ही अपनी बहन मानता था और दीदी भी उसे मेरी तरह ही मानती थी,उनका मानना था की मुझे तो दुनिया दारी की समझ नहीं है पर जब तक राहुल मेरे साथ है मुझे डरने की कोई जरुरत नहीं होगी,राहुल उनके लिए एक ऐसा भाई था जो उनके जान से प्यारे भाई की हिफाजत करता था.
स्कूल के दिनों में दीदी के नाम से राहुल मनमाने काम लोगो से करा लेता था ,जब कोई उसकी बात न मानता तो सीधे दीदी के पास पहुच जाता दीदी के काम निकलने के ढंग भी निराले थे टीचर से प्यार से,लडको को दुसरे लडको का डर दिखा कर और बच्चो को डरा कर या प्यार से काम निकल ही लेती थी,टीचर हमेशा से उनके ही थे,चपरासी से लेकर लेब वाले भईया तक उनकी बात कोई नहीं कटता था,बड़ी गजब का व्यक्तित्व है उनका,कुछ लडको से उनकी दोस्ती थी कुछ स्कूल के उनके क्लास के थे कुछ उनसे बहुत बड़े तो कुछ दुसरे स्कूल के,कुछ गुंडों जैसे भी थे तो कुछ बहुत ही पढ़ाकू जैसे भी थे,समझिये जिनसे वो मिली उससे दोस्ती कर ली....
राहुल भी कुछ ऐसा ही था,पर दोनों की एक ही समानता थी वो था मैं,मेरे लिए दोनों एक ही थे अपनी जान छिडकने वाले..
कहानी तब से सुरु करता हु जब दीदी का स्कूल खत्म हो गया और वो कॉलेज में चली गयी हम उस समय 12 में थे,इंजीनियरिंग कॉलेज था जहा हमारा भी जाना तय ही था उसके बाद मनेजमेंट में जाना और फिर बापू का बिजनेस करना ही हमारी नियति थी..खैर दीदी के जाने के बाद स्कूल में मेरा धयान राहुल ही रखता था,
-  - 
Reply
08-22-2018, 10:52 PM,
#2
RE: Bhai Behen Chudai मैं ,दीदी और दोस्त
'दी पराठे बहुत बढ़िया है,आज तो कॉलेज का पहला दिन है आपका जादा मत खा लेना वरना'हा हा हा राहुल की हसी हमारे डाइनिंग रूम में गूंजी 
'मार खाना चाहता है क्या,आज शुभ दिन है तो बच गया तू'दीदी ने हसते हुए कहा,
'आप अब नहीं रहोगे तो स्कूल में मजा नहीं आएगा'मैं थोडा उदास था,मेरा इतना बोलने पर दीदी ने बड़े प्यार से मुझे देखा पर राहुल के होठो में हसी थी 
'साले तू कोन सा मजा करता है,सोच मेरा क्या होगा साला अब तो क्लास भी अटेंड करनी पड़ेगी पूरी मिश्रा मेम की बोरिंग क्लास भी,'दीदी फिर मुस्कुरा के अपने भाइयो को देखने लगी
'कोई बात नहीं कोई प्रोब्लम होगी तो बोल देना मैं देख लुंगी,'
'अरे दी आप हमारी चिंता छोडो और अपनी देखो अभी तो कॉलेज की हवा लगेगी फिर कहा भाई,और अभी तो आपकी रेकिंग भी होनी है,मैं तो छुपके देखूंगा हमारी शेरनी दीदी कैसे बिल्ली की तरह दिखाती है,'हा हा हा राहुल फिर हस पड़ा दीदी भी उसके बातो का कुछ बुरा नहीं मानती थी पर रेकिंग के नाम से मेरी हालत ख़राब हो गयी 
'दीदी सच में रेकिंग होगी कुछ प्रोब्लम होगी क्या हम भी चले क्या साथ में,'मैंने घबराते हुए कहा पर दीदी ने बड़े प्यार से मुझे देखा 
'अरे पागल तेरी दीदी कोई गुडिया नहीं है,तू फिकर क्यों कर रहा है,कुछ नहीं होगा और थोडा जो होगा उसे मैं भी एन्जॉय करुँगी ये दिन फिर थोड़ी आयेंगे,हा अगर कोई हद से बड़ा तो उसकी खैर नहीं,'
'दीदी कुछ भी प्रोब्लम हो या कोई बदतमीजी करे तो एक कॉल कर देना मैं विक्की और नानू को ले के आ जाऊंगा,'विक्की और नानू दीदी के सीनियर थे और राहुल के अच्छे दोस्त भी थे सुना था उनकी कॉलेज में चलती है,थोड़े दबंग किस्म के थे दोनों,मैं भी सीधा था पर मेरी पहचान एक बॉडी बिल्डर की भी थी,ये दोनों मेरे जिम में ही जाते थे उनसे मेरी दोस्ती तो ना हो पाई पर राहुल जो सिर्फ लडकिया ताड़ने जिम जाता था उनसे घुल मिल गया था,
'अरे तू फिकर मत कर मैं सम्हाल लुंगी और उन गुंडों से थोडा दूर ही रहा कर तू मैं नहीं चाहती उनके कारन मेरे भाइयो को कोई प्रोब्लम हो समझा,'दीदी ने समझाईस दे डी 
'अरे दी हम तो सिर्फ उनसे ऐसे ही बातचीत कर लेते है,'राहुल ने सफाई डी,
'तू तो रहने दे बेटा सब जानती हु,उनके साथ मिलकर तू जिम में लडकिया ताड़ता है तेरी कम्पलेन मिली है बहुत कुछ एक्सरसाईंस भी कर लिया कर 2 सालो में जैसा का तैसा है आकाश को देख कितना मस्त डोले सोले बना लिया है,लडकिया तो ऐसे भी मर जाये इसपर छेड़ने की क्या जरूरत है,'
'अरे दीदी आप नहीं समझोगे ताड़ने का मजा क्या है,ऐसे आपको जिम में जब कोई ताड़ता है तो आपको भी तो अच्छा लगता होगा ना,आखिर इतना कर्व भी किस काम का जब कोई देखे ही नहीं,'राहुल ने मुझे आँख मारते हुए कहा,दीदी उठ के उसके पीछे भागी और मैं वही हँसता रह गया,राहुल और दीदी की मस्ती तो यु ही चलती रहती थी मेरे लिए ये कोई नयी बात तो नहीं थी...


दीदी के कॉलेज का पहला दिन था,आज वो बड़े ही सज धज कर पर बट सिम्पल सी तैयार हुई जो की उनकी विशेषता तो बिलकुल नहीं थी,वो सलवार कामिज पहने हुई थी बहुत सिम्पल मेक उप था पर इतनी सुंदर वो कभी नहीं लगी थी मैं तो बस देखता रह गया,क्योकि मैंने उन्हें जादातर जीन्स वगेरह में देखा था या फिर स्कूल के यूनिफार्म में,मेरी तन्द्रा तब टूटी जब राहुल ने थोड़ी देर की खामोशी के बाद सिटी बजायी 'वाह मान गए दि आप तो पूरी क़यामत लग रही हो'
'थैंक्स भाई,क्यों जनाब आप क्या देख रहे हो'दि ने मुझे घूरते हुए कहा
'सच में दि इतनी सुंदर तो आप कभी नहीं लगी आप ऐसे ही सिंपल ड्रेस पहना करो,आपकी सादगी बड़ी ख़ूबसूरत है,'मेरे आँखों में अनायास ही पानी आ गया जिसे देख दि ने मुझे अपने गले लगा लिया,राहुल थोड़ी देर तो खड़ा देख रहा था वो जल्दी सेंटी भी नहीं होता था पर उससे रहा नहीं गया और वो भी हमसे लिपट गया जब हम अलग हुए तो हमारे आँखों में आंसू था,
'आप लोग भी ना बिना बात सेंटी करते रहते हो,'राहुल ने हस्ते हुए पर अपने आँखों में आया पानी पोछते कहा
'चलो भाई मुझे मुझे लेट हो जायेगा ',
'दि हम लोग छोड़ दे क्या आपको,'
'नहीं मनीष आ रहा है मुझे लेने,'मनीष दीदी के क्लास का लड़का था जिसने दि के साथ ही एडमिशन लिया था,दि के बहुत दोस्त थे जिनमे वो भी एक था,मनीष ने बहार से ही हॉर्न बजाया और दि हमें बाय कह चले गयी,हमारा भी स्कूल का टाइम हो गया था पर आज मन बिलकुल नहीं था,मैंने राहुल से कहा आज कही घुमाने चलते है,वो तो एक पैर में तैयार मिला,हम दोनों बाइक पर घुमाने निकले,घूमते घूमते हम दी के कॉलेज पहुच गए,कॉलेज बहुत बड़े यूनिवर्सिटी केम्पस में था और बहुत दूर दूर से लोग वह पड़ने आते थे इसलिए केम्पस में ही होस्टल बने हुए थे,होस्टल के लडको की और लोकल लडको की लडाईया अकसर होते रहती थी,दबदबा दोनों का था पर जादातर होस्टल के बन्दे ही बाजी मार जाते थे ऐसा नहीं था की सभी लड़ाई करते थे पर कुछ ग्रुप्स का काम ही था लड़ाईयां करना और राजनीती करना,जब बात राजनीती की आये और नेहा दि पीछे रह जाय ये तो हो ही नहीं सकता था,और मुझे यही डर था की वो किसी मुसीबत में ना फस जाय,कैम्पस में पहुच के ही राहुल की आँखे बड़ी हो गयी कारन थी लडकिया ,वो देखता हुआ और कुछ जगहों पर सिटी बजता हुआ मेरे पीछे बैठा था,ये बात शायद होस्टल के कुछ लडको ने नोटिस कर ली,और हमें रुकुवा दिया,
'क्यों बे कोन से डिपार्ट से हो,'एक काले से पतले लड़के ने कहा,
'तुझे कोई मतलब रास्ता छोड़ 'राहुल ने अकड़ दिखाई 
'सालो होस्टल की लडकियों को छेड़ोगे,'उसने इतने जोर से ये कहा की मेरी भी फट गयी मैंने आसपास देखा कुछ और लड़के हमारे तरफ आ रहे थे,
'सॉरी यार हम नए है गलती हो गयी 'मैंने बात की नजाकत को समझते हुए कहा,पर साला राहुल उनसे पंगा लेने में तुला था,लडको की संख्या लगभग 15-20 हो गयी और माहोल गर्म हो गया ऐसा लग रहा था जैसे अब तब हम मार खाने वाले ही है,उन्होंने राहुल की कॉलर पकड़ ली थी पर राहुल सीधे मुह उनसे बात ही नहीं कर रहा था,मैं भी मजबूर सा राहुल को ही समझा रहा था यार छोड़ चलते है माफ़ी मांग ले ,तभी कुछ लड़के गाडियो के झुण्ड में वह पहुचे लगभग 10-15 गाडियों में 20-25 की संख्या में लड़के और लडकिया थी,
'क्या हो रहा है यहाँ,'उन्ही लडको में एक ने कहा जिसे देख कर राहुल के होंठो में मुस्कान सी आ गयी,वो विक्की था उसके पीछे ही नानू भी बैठा था,
'ये तुम्हारा मामला नहीं है विक्की 'उस काले से दुबले पतले लड़के ने कहा 
'जिसे तू पकड़ा है ना वो मेरा दोस्त है,तुझे पता नहीं था इसलिए छोड़ देता हु कान्हे आईंदा से धयान रखना,'
'ये लडकियों को छेड़ रहा था,'
'साले तेरी बहने है क्या वो,साले जब उन्ही लडकियों की मटकती गांड देखकर रात को मुठियाता है और ज्ञान चोद रहा है,'नानू की इस बात पर सभी हस पड़े और कान्हे ने आखिर राहुल की कालर छोड़ दि मैंने भी चैन की साँस ली,मुझे लड़ाई झगडे बिलकुल पसंद नहीं थे जब तक बात बिगड़ ना जाये हा ये बात अलग है की जब मैं गुस्से में आता तो अच्छे अच्छो की हवा निकाल देता था,
'सालो तुम यहाँ क्या कर रहे हो 'हम युनिवर्सिटी के कैंटीन में बैठे थे,हमारे साथ विक्की नानू थे बाकि लोग अलग अलग सीटो पे बैठ चुके थे,
-  - 
Reply
08-22-2018, 10:53 PM,
#3
RE: Bhai Behen Chudai मैं ,दीदी और दोस्त
'वो सब छोड़ साले ये बता तुम लोगो के साथ ये जो ताजा ताजा माले है वो सब कोन है,'राहुल ने उनके साथ बाइक के झुण्ड की लडकियों को देखते हुए कहा जो अभी वही अलग अलग लडको के साथ बैठी थी,
'साले ठरकी कही के,और इनसे मिल के क्या करेगा ये सब बासी हो गयी है,अभी कैम्पस में नया बैच आया है ताज़ी माल तो वह मिलेगी नयी नयी स्कूल से निकली हुई,' मुझे दीदी की याद आ गयी उन्हें भी कोई इसी नजरो से देख रहा होगा मेरा तो जेहन ही सिहर उठा,और गुस्से से भर गया 
'मादरचोदो तुम्हे इसके अलावा कोई काम धंधा नहीं है क्या जब देखो लडकिया,सालो वो भी किसी की बहने होगी,'मुझे धयान ना रहा की मेरी आवाज थोड़ी उच्ची हो गयी थी आसपास वाले हमें देखने लगे पर थोड़ी देर में सब नार्मल हो गया,
'भाई ये तो तूने सही कहा की वो किसी की बहाने होंगी पर भाई हमारी तो नहीं है ना,'और तीनो हस पड़े मैंने माथा पकड़ लिया,तभी नेहा दि वहा आ गयी और हमें वहा देख हमारे पास आ गयी उन्हें देख मैं खुश हो गया,उन्होंने सबको हाय कहा और हमारे साथ बैठ गयी.
'यार तुम लोग यहाँ क्या कर रहे हो,'
'बस दि लडकिया ताड़ने आये थे,'दि ने राहुल को आँख दिखाई पर मुस्कुराके
'यार नेहा कैसा रहा तेरा पहला दिन 'नानू ने कहा,'कोई प्रोब्लम हो तो हमें बताना नंबर तो है ना हमारा,'
'हा है ना,ऐसे यार यहाँ तो सब अच्छे ही है सिनिएर ने थोड़ी इंट्रोडक्शन लिया थोड़ी छेड़ खानी बस इतना तो चलता है,'
'तुम्हारे लिए चलता है यार यहाँ तो इतने में भी लोग रो देते है ,या शिकायत कर देते है,'
'हां मेरे ही क्लास के कुछ लड़के रो पड़े,'और दीदी के साथ नानू भी हस पड़ा 'ऐसे कमाल की लग रही हो तुम,'विक्की ने बड़े प्यार से कहा,
'थैंक्स यार 'दीदी ने भी बड़े प्यार से जवाब दे दिया,मैंने विक्की के नजरो का पीछा किया वो सीधे दीदी के उजोरो पर जा रहे थे मुझे ये देख थोडा गुस्सा आया,उनके ताने उजोर कुर्ती में बहुत ही कसे और मोहक लग रहे थे,दीदी को शायद इसका अहसास हो गया ,उन्होंने मुस्कान के साथ और जवाब देते हुए अपना पल्लू ठीक किया इसपर विक्की भी थोडा झेप गया..मुझे पता था की मेरे दोस्त हो या राहुल के या दीदी के सभी दीदी को लाइन मरते थे वो थी ही इतनी सुंदर ये बात दीदी और राहुल भी जानते थे पर मेरे सामने किसी ने दीदी को घूरने की हिम्मत नहीं की थी,चाहे वो कितने बड़े कमीने ही क्यों ना हो,एक दो बार मेरी और राहुल की कुछ लडको से इस बात पर लड़ाई हो चुकी थी पर दीदी ने ही बीच बचाव किया था उन्होंने हमें समझाया था की जैसे तुम लोग किसी लड़की को देखकर आकर्षित हो जाते हो वैसे ही बाकि लड़के मुझे देख कर हो जाते है उसमे बुरा कुछ भी नहीं है,मैं भी लडको से आकर्षित हो जाती हु तो इसके कारन लड़ाई मत करना हां अगर कोई मुझे तकलीफ पहुचाये या मुझे छेड़े तो तुम लोगो को मेरी तरह से कुछ भी करने की आजादी है,छोटी छोटी बातो पे लड़ोगे तो सब से लड़ना पड़ेगा,
'शायद दि ने भी मुझे नानू की हरकत को पकड़ते देख लिया,जब मैंने दि को देखा तो वो मुझे मुस्कुरा के शांत रहने को कहा,थोड़ी देर बाद ही दि का कॉलेज का ग्रुप वह पंहुचा ,दीदी ने हमें सबसे मिलवाया,ये मेरे भाई है और ये हमारे सीनियर है और ये है मनीष इसे तो तुम लोग जानते ही हो और ये है भावना,शिल्पा ये दोनों होस्टल में रहते है और ये है जगदीश ये भी होस्टल में रह रहा है ,मनीष तो नार्मल था पर बाकि तीनो डरे हुए लगे विक्की और नानू को देखकर उन्होने पूरा 90 एंगल में झुकते हुए उन्हें विश किया की सभी हस पड़े,
'हम इन लोगो को जानते है,कल रात इनकी होस्टल में इनकी खूब रैकिंग की थी,'नानू ने हस्ते हुए कहा ,
'छोडो यार तुम नेहा मनीष के दोस्त हो तो हमारे भी दोस्त हुए 'विक्की ने समझाते हुए कहा 
पर राहुल की नजर भावाना पर गड गयी थी जो मैंने और दीदी ने भी देख लिया दीदी ने मुझे सर हिला कर इशारा किया ये नहीं सुधरेगा,
-  - 
Reply
08-22-2018, 10:54 PM,
#4
RE: Bhai Behen Chudai मैं ,दीदी और दोस्त
मैं अपने कमरे में लेपी लिए मशगूल था,तभी दीदी वहा आई,उन्होंने मेरे बिस्तर पर अपने को फैलाते हुए अपना मोबाईल निकला और मैसेज पड़ने लगी कभी कभी उनकी हसी मुझे सुनाई देती थी मैंने भी मुड कर उन्हें देखा ,
'क्या हुआ दि किससे बाते हो रही है,'
'कुछ नहीं यार मेरे कॉलेज वाला ग्रुप है,साले सभी पागल हो गए है,जिसे देखो प्यार मोहोब्बत आशिकी किये जा रहा है,पढाई की तो कोई बात ही नहीं करता,'मैं दि की बात सुनकर हस पड़ा,
'क्या दी आप तो ऐसे बोल रही हो जैसे आप पढाई की बाते पसंद करती हो,'दि भी हस पड़ी,
'फिर भी यार ,और बहुत सी चीजे है दुनिया में,अच्छा एक बात बता अगर मेरा कोई बॉयफ्रेंड हो तो तुझे कोई प्रोब्लम तो नहीं होगी,'मैं आश्चर्य से दी को देखा उनके होठो में एक शरारती मुस्कान थी पर मैं थोडा सीरियस था,
'दी आप की जो खुसी हो वो करो इसमें मुझे कोई प्रोब्लम तो नहीं है,पर आप तो जानती हो ना आजकल के लड़के कैसे है,'दीदी ने मुझे अपने पास बुलाया और अपनी गोद में सोने का इशारा किया मैं उनकी गोद में सर रख लेट गया,वो मेरे बालो को सहलाने लगी,
'हा भाई जानती हु पर मेरे भाई जैसे लड़के भी तो है ना,देख अभी तो मेरा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है पर मनीष मुझे पसंद करता है,और उसने मुझे आज ही प्रपोस किया है ,तुम्हे क्या लगता है मनीष के बारे में ,' मनीष का नाम सुन मैंने राहत की साँस ली,मैं जनता था वो बहुत सी सीधा साधा लड़का है और सालो से दीदी का दोस्त भी है,
'मनीष गुड चॉइस दि पर उस डरपोक को इतनी हिम्मत कैसे आ गयी की आपको प्रपोस कर दे,'दीदी खिलखिला के हस पड़ी 
'अरे सब हमारे राहुल का कारनामा है उसी ने उकसाया है उसे,नहीं तो वो बेचारा सालो से बस दिल में रखे था,' 'साला राहुल इतना बड़ा कांड कर दिया और मुझे बताया भी नहीं साले को आने दो कल उसकी खबर लेता हु,'दीदी और मैं हस पड़े और दी ने मुझे एक प्यारी सी पप्पी गालो में रसीद की,
'आकाश एक बात बोलू,राहुल का स्वभाव कैसा भी हो पर वो हमें बहुत प्यार करता है,'
'जनता हु दी,मुझे दुःख है की जो काम आपके लिए मुझे करना था उसे उसने कर दिया,शायद मुझे पहले मनीष को हिम्मत देनी थी पर मैं आपके दिल का हाल ना समझ पाया और राहुल ने समझ लिया,'दी बड़े प्यार से मुझे देखे जा रही थी,
'नहीं बही तेरी कोई गलती नहीं है असल में मुझे भी ये कन्फर्म नहीं था की मैं उसे प्यार करती हु की नहीं अभी भी नहीं हु बस हम अच्छे दोस्त है,और मैं अभी भी आगे नहीं बदना चाहती अभी मैंने उसे हां नहीं कहा है पर मुझे ख़ुशी है की उसने कम से कम अपने दिल की बात तो कह दि,'
तभी दि के मोबाईल में एक मेसेज आया और दीदी के चहरे के भाव में बदलाव सा महसूस किया, 'क्या हुआ आप गुस्से में क्यों लग रही हो ' 
'कुछ नहीं बस ऐसे ही,'और दीदी ने जल्दी से मोबाईल पे उंगली चलाये,सायद वो मेसेज को मिटा रही थी,मेरी दीदी ने आजतक कोई बात मुझसे नहीं छिपाई थी यहाँ तक की कोन उन्हें परेशां करता है से कोई छेड़ दे तो भी वो हमें इसे मजे लेकर बताती थी पर आज क्या हुआ,
'दि आप मुझसे कुछ छिपा रही है,'दि थोडी हडबडा सी गयी जैसे सभी सच बोलने वालो के साथ झूठ बोलने पर होता है, 'नहीं भाई कुछ भी तो नहीं ' तू सोजा भाई'
'ठीक है पर आज आप मेरे साथ ही सोना' दीदी के चहरे में डर साफ़ दिखाई दे रहा था,
'नहीं भाई आज थोडा काम है कॉलेज का कर के ही सो पाऊँगी ,तू सो जा मैं आकर फिर यही सो जाउंगी ,'दीदी ने कभी मुझे मना नहीं किया था साफ़ था की दाल में कुछ काला है,
'तो यही आके करो काम मैं कुछ नहीं जनता आप मेरे पास की रहोगी,'दीदी के चहरे पे मजबूरी के भाव आ गए वो मेरी बात को टाल नहीं सकती थी कभी टाला ही नहीं था,
'ठीक है मैं अपना लेपी ले के आती हु,'थोड़ी देर बाद वो लेपी ले कर आई और अपना काम करने लगी,मैं उनको पकड़ के उनके बाजु में सो गया और सोचने लगा आखिर बात क्या होगी की दीदी मुझसे झूट बोलने लगी....
-  - 
Reply
08-22-2018, 10:54 PM,
#5
RE: Bhai Behen Chudai मैं ,दीदी और दोस्त
रात मेरी नींद टूटी जब मैंने दीदी के रोने की आवाज सुनी,मैं पहले तो सोचा की मैं उठ कर उसका कारन पुछू पर कुछ सोचकर मैं चुप चाप लेटा रहा,दीदी किसी से बात कर रही थी,वो विडिओ चैट कर रही थी,
'तुम मुझे यु जलील नही कर सकते मैं ये नहीं करुँगी,'दि ने सुबकते हुए कहा,शायद सामने वाले बन्दे ने भी कुछ कहा हो मुझे सुनाई नहीं दिया,'भाग जा मादरचोद बहुत देखे तेरे जैसे,और मेरे भाइयो की बात कर रहा है तू ,तेरी हिम्मत कैसे हुई रुक साले बहुत झेल लिया तुझे अब तो तेरा लंड काट के तेरे मुह में ठुसुंगी,'और दि ने लेपी बंद कर दि पर कुछ अपसेट लग रही थी,मुझे समझ नहीं आ रहा था की अभी तो ये सुबक रही थी अभी इतनी हिम्मत कहा से आ गयी मुझसे ये देखा ना गया और मैं उठ कर दि के सामने बैठ गया,
'ये क्या है दि आप किसको धमकी दे रहे हो आप रो क्यों रहे हो,'दीदी मेरे अचानक जग जाने से थोड़ी डर सी गयी पर थोड़ी देर में रिलेक्स हो गयी 'भाई कुछ भी तो नहीं '
'दि आप प्रोब्लम में है और मुझे नहीं बता रही मतलब कुछ तो बहुत ही गलत है,मुझे तो उसी समय समझ आ गया था जब आप ने मेरे साथ सोने से इंकार कर दिया था ,अब आप चुपचाप बताओगी या मुझे अपनी कसम देनी पड़ेगी,'
'भाई प्लीज 'दीदी ने अपना सर पकड़ते हुए कहा 'दीदी प्लीज ' मैंने भी उनके गालो को चुमते हुए कहा,और दीदी जो अभी तक इतने टेंशन में थी वो हसने लगी,
'ओके तो सुन पर पहले ये वादा कर की इसे सुनने के बाद तू कुछ भी उल्टा सीधा नहीं करेगा मैं ही पूरा मसला सम्हाल्लुंगी ,तू कुछ भी नहीं करेगा,तुझे मेरी कसम है,कसम खा मेरी दीदी ने मेरा हाथ अपने सर पे रख दिया,'
'ओके अब बताओ'
'तो सुन बात ऐसी है की हमारा एक सीनियर है परमिंदर नाम से यही होस्टल में रहता है और विक्की नानू का दोस्त भी है,उसकी बड़ी चलती है कॉलेज में इसलिए विक्की मुझे उससे मिलवाया मैं उससे देखा के ही इम्प्रेस हो गयी साले की क्या मस्त बॉडी है और बहुत अच्छा दिखता है,पर साला कमीना निकला,पहले दिन से लाइन मारने लगा मुझे भी लगा की ऐसा बंदा तो अपने लिए ही है,कुछ दिन साथ घूमना फिरना चला पर सब ही नार्मल था बट याद है जब मैं कॉलेज के एक दोस्त की बर्थ डे पार्टी में गयी थी,'
मुझे याद आया ये कुछ दस दिन पहले की बात थी,'हा दि याद है,'मैं चिंतित सा सुन रहा था,
'बस उसी दिन हम ड्रिंक किये हुए थे और उसने मुझे अपने ग्रुप से अलग एक रूम में ले गया और मुझे प्रपोस कर दिया,मैं ड्रिंक के नशे में थी मुझे कुछ समझ नहीं आया और उसने मुझे किस कर लिया ,'दीदी रोने लगी और मैं स्तब्ध सा सुन रहा था,
'मैं पूरी तरह मदहोश थी भाई,उसने मेरे....दीदी थोड़ी ठिठक गयी,वो मेरी कुछ पिक्चर ले लिया जो मुझे किस करते हुए और थोड़ी हरकत की उसने बट मैं समय पर सम्हल गयी और वहा से भाग गयी,उस समय तो मैं वापस आ गयी पर उसके बाद से वो मुझसे बड़ी रोमांटिक बाते करने लगा मुझे लगा वो मुझसे प्यार करता है पर मैं गलत थी मुझे कुछ दिन पहले पता लगा की वो तो कई लडकियों की साथ ...छि और उसके कारन कई लडकिया कॉलेज तक छोड़ने को मजबूर हो गयी,मैंने उससे रिश्ता तोडना चाहा तो उसने वो सारी पिक्स मुझे भेजी जो उसने उस दिन ली थी और मुझसे गन्दी गन्दी बाते करने लगा,और वो मुझे अपने रूम बुलाना चाहता था,ताकि मेरे साथ भी...'दीदी का रोना बड गया था और मेरा चहरा लाल टमाटर जैसा हो चूका था,मैं इतने गुस्से में था की मेरा सारा शारीर काप रहा था दीदी को शायद इस बात की भनक लग गयी वो मेरे सीने से चिपक गयी मैंने अपना हाथ उनके सर पर रखा ,
'आज तो उसने हद ही कर दि भाई,उसने मुझे अपनी बिना कपड़ो की पिक मांगने लगा,मैंने मन किया तो उसने धमकी दि की वो मेरी पिक्स को कॉलेज में फैला देगा,मैं डर के रोने लगी लेकिन उस बहन के लवडे ने एक गलती कर दि ,दीदी मेरे सीने से निकल चुकी थी उनके भाव पूरी तरह से बदले हुए लग रहे थे,वो अब गुस्से में दिखाई दे रही थी,
'उसने मेरे भाइयो को गाली दे दि,अब तो गया काम से '
'दि प्लीज मुझे एक बार मौका दो मै मेरी भुजाये उसे मसलने के लिए तड़फ रही है,'
दीदी को मेरे गुस्से का अंदाजा हो चला था,उन्होंने मुझे एक हग दिया और मेरे चहरे हो अपने चुम्मन के पूरा गिला कर दिया,
'भाई तूने मेरी कसम खायी है ना तू फिकर मत कर मैं उसे ऐसा सबक सिखौंगी की वो मुझे क्या किसी भी लड़की को धोखा देने की नहीं सोचेगा,चल अब सो जा,पता नहीं तुझे ये बता के मेरा मन बहुत हल्का हो गया है,अब तो मैं आराम से सो जाउंगी और मेरा प्यारा भाई रात भर गुस्से में जागेगा,'दीदी खिलखिला के हस पड़ी,दीदी की बेफिक्री देख कर मैं भी थोडा सा हल्का हो गया,मुझे पता था दीदी जो करेगी ठीक ही होगा उनके पास मुझसे जादा दिमाग है ये तो सब जानते है,मैं भी अब दीदी से लिपट कर सोना ही बेहतर समझा,दीदी तो थोड़ी देर में ही सो गयी पर मैं ना सो पाया,
दीदी की लेपी अभी भी बंद नहीं थी मैंने उससे खोला और हिस्टरी देखने लगा पहले हिडन फाइल को खोजा थोड़ी देर में एक हिडन फोल्डर मुझे मिला जिसमे कुछ फोटोज थे मैं समझ गया ये यही फोटोज है,मैंने उसे अपने मोबाईल में डाला लेपी बंद की और सो गया,लेटे लेटे मैं उन फोटोज को देखने लगा.
पहला फोटो दीदी को एक लड़का किस कर रहा था देखने से ही पता लग रहा था की दीदी भी उसके सरूर में है,उनकी आँखे बंद थी,दीदी ने एक वाइट् कलर की फ्रोक पहने हुई थी,
दुसरे फोटो को थोडा निचे से खीचा गया था जिसमे वो दीदी के बूब्स दबा रहा था,तीसरे में उसके हाथ फ्रोक के अंदर थे ,चोथे में दीदी के सफ़ेद पेंटी के अंदर,पांचवे में उसने दि के बूब्स को बहार ही कर दिया और छटवे में उन्हें चूसने भी लगा,उसके बाद की कोई पिक नहीं थी शायद इतना होने के बाद दि को होश आया हो और वो उसे छोड़ कर भागी हो,
फोटोज देख के मेरा दिमाग तो घूम ही गया मेरा धयान दीदी पर गया वो इतने चैन से सो रही थी,वो एक ढीली सी टी शर्ट और छोटी निकर पहने हुई थी जाने क्यों मेरा हाथ उनके बूब्स पर चला गया मैं उन्हें महसूस करने लगा उन्होंने कोई ब्रा नहीं पहने थी उनकी पूरी गोलाई और नरमी के अहसास ने मुझे झकझोर सा दिया मैं ये क्या कर रहा हु ,पर मैं रुका नहीं मैंने उन्हें सीधा लिटाया और उनके ऊपर चढ़ गया,मेरे तने लिंग को अहसास होते देर ना लगी की उनकी निकर के निचे भी कोई अन्तः वस्त्र नहीं है मैं उनके ऊपर चढ़ तो गया पर उनके मासूम से चहरे को देखकर मेरा तना लिंग शांत हो गया मैं उनके प्यार में डूब सा गया मैंने अपने हाथो से उनका चहरा पकड़ा और उनके चहरे चूमना चालू किया धीरे धीरे मेरे लार से उनका चहरा गिला हो गया और दीदी कसमसाई ,
'भाई क्या कर रहा है,'मैंने उनके नाजुक होठो पर अपनी उंगली रख दि ,'दि कुछ मत बोलो'
दि ने अधखुली आँखों से मुझको देखा और अपने होठो पर मुस्कान ला कर मुझे अपने बांहों में लपेट लिया अब मैं और भी तीव्रता से उनका गाल चुसे जा रहा था अनजाने ही मेरा हाथ उनके उजोरो पर चला गया और मैंने उन्हें हलके से मसल दिया दीदी के आँख अब पुरे खुल चुके थे वो मेरी इस हरकत पे आश्चर्य से भर गयी थी,
-  - 
Reply
08-22-2018, 10:54 PM,
#6
RE: Bhai Behen Chudai मैं ,दीदी और दोस्त
'क्या कर रहा है,हट यहाँ से पागल हो गया है क्या,'अचानक मुझे मेरी स्थिति का आभास हुआ मैंने अपना हाथ तो हटा लिया पर हटा नहीं 'दि प्यार करने दो ना प्लीज
'क्या मतलब प्यार करने दो ऐसे प्यार करते है क्या पागल मेरे बूब्स दबा रहा है तू शर्म है की नहीं कुछ मैं तेरी दीदी हु गर्ल फ्रेंड नहीं,'दीदी ने मेरा चहरा अपने हाथ में ले रखा था और मुझे पुरे आश्चर्य से देखे जा रही थी मेरे चहरे पर सिर्फ मुस्कान थी,
'सॉरी दीदी,'मैंने पुरे मासूमियत से अपने कान पकड़ लिए,दीदी अभी भी आश्चर्य में डूबी हुई थी पर मेरे कान पकड़ने पर उन्होंने मुझे मरना शुरू कर दिया और साथ में हसने भी लगी..थोड़ी देर में ही शांत हो गयी और मुझे अपने ऊपर खीच लिया और खुद मेरे ऊपर आ गयी,मेरे बालो को सहलाने लगी,
'भाई जनता है तूने क्या किया,मैं जानती हु तेरा इरादा गलत नहीं था मेरा भाई तो मेरे बारे में गलत सोच भी नहीं सकता पर क्या हुआ था तुझे,'
'मैंने आपकी और परमिंदर की पिक्स देखी,पता नहीं क्यों पर आपके बूब्स देख के मुझे उसे महसूस करने का मन किया इसलिए मैं उन्हें दबा रहा था,फिर आप पर इतना प्यार आया की आपको किस करने लगा,बस सॉरी डी शायद मैंने सीमाए लाँघ दि'पहली बार मुझे थोडा दुःख हुआ और मेरे आँखों से आंसू की बुँदे निकल पड़ी.दीदी ने फोरन वो आंसू पि लिया 
'तू पागल हो गया है,इसी लिए तुझे राहुल और मैं कहते है तुझे एक गर्ल फ्रेंड की जरूरत है,अब आंसू बहाना बंद कर,यार मैं जानती हु तू अब बड़ा हो गया है और ओपोजीट सेक्स के प्रति आकर्षण तो स्वाभाविक है,और उनके अंगो के बारे में जानने की उत्सुकता भी स्वाभाविक है लेकिन इसका ये मतलब ये नहीं तू अपने दीदी के ही पर्सनल पार्ट को टच करने लगे,'दीदी बड़ी स्वाभाविक थी और चहरे पर मुस्कान लाये हुए थी,
'लग रहा है राहुल से बात करके तेरे लिए बंदी ढूँढनी पड़ेगी ,राहुल को बताउंगी तू क्या कर रहा था,'मेरी तो फट के चार हो गयी 
'डी प्लीज ऐसा मत करना वो क्या सोचेगा,मुझे मर डालेगा'
'क्यों तूने कुछ पाप किया है क्या,' 'नहीं'
'तो डर क्यों रहा है,' 'दि वो क्या सोचेगा ' दि हसने लगी 
'मेरे पागल भाई मैं किसी को नहीं बताउंगी तुझे पागल दिखाती हु क्या,और अब भी तुझे प्यार करना है या सो जाये 4 बज चुके है,'
'दि पता नहीं आपको देखता हु तो लगता है बात चूमता ही रहू,'मैंने बड़ी मासूमियत से कहा 
'इसीलिए तो तू मेरा प्यारा भाई है,जो दिल में आया बोल दिया ,अभी तक बच्चा ही है,,मेरा प्यारा बच्चा',अब दीदी मेरे ऊपर झपट पड़ी और चूम चूम के मुझे लाल कर दिया थकने के बाद ही हम सो पाए.....




कॉलेज होस्टल का कमरा लगभग दोपहर के 2 बज रहे थे,परमिंदर अपने कमरे में किसी लड़की के साथ था,लड़की सकुचाई सी एक कोने में बैठी थी पूरा होस्टल खाली था सायद सभी क्लास गए हुए थे,लड़की ने सलवार कुर्ती पहनी थी जो पिंक कलर की थी,परमिंदर अपने पायजामे में था जिससे उसका ताना लिंग साफ़ दिखाई दे रहा था,पास में पड़ी बियर की खाली बाटल रखो थी,परमिंदर की विशाल छाती बालो से ढकी थी और उसका लम्बा चौड़ा कद किसी दानव की याद दिलाता था,लड़की ने नजर उठा के एक बार उससे देखा पर फिर वो मासूम सी लड़की घबराके अपना सर झुका ली,परमिंदर उसके पास जाकर सीधे उसके ताने और कठोर उजोरो पे अपना हाथ फेरने लगा,उन्हें हाथ लगाते ही उसके चहरे पे खुसी और आँखों में चमक आ गयी उसे अहसास हुआ की लड़की ने कोई अन्तःवस्त्र नहीं पहने है,उसने निचे भी जाचने के इरादे से हाथ बढाया,और उसकी योनी का आभास पाकर खुस हो गया लेकिन लड़की के आँखों में आंसू आ गए,
'गुड आयशा जैसे मैंने कहा था तुमने मेरी बात मानी मैं खुश हुआ.'लड़की ने लगभग सुबकने लगी,
'प्लीज आप मेरी फोटोज मुझे वापस कर दीजिये,मैं अच्छे घर की लड़की हु ,मुझे बर्बाद मत करो,'लड़की जोर से रो ही पड़ी,परमिंदर को उसका रोना बहुत भाया उसने उसके उजोरो को खूब ताकत से मसला लड़की के मुह से चीख सी निकल पड़ी,और उसका रोना और बड गया,
'रो मेरी जान रो जितना चीखना है चीख,अभी तो तू शरीफ घर की लड़की है ना,फिकर मत कर अभी तो तू नयी आई है,अभी तो तुझे यहाँ 4 साल रहना है,तेरी जवानी के खूब मजे लेने है हमें तुझे भी रंडी बना ही दूंगा मैं,पहले मैं फिर जो मुझे पैसा दे दे उसकी प्यास बुझाएगी तू,रो रो रो और रो ,'परमिंदर ने उसके उजोरो को कपडे के उपर से ही काटने मसलने और चूसने लगा ,लड़की असहाय सी रोये जा रही थी वो छटपटा तो रही थी पर अपने मजबूरी और उसके ताकत के सामने पूरी तरह लाचार थी,परमिंदर की बातो को सुनकर उसका दिल दहल गया वो चिल्ला चिल्ला के रोने लगी अपने भाग्य को कोसने लगी .एक गलती की इतनी बड़ी सजा वो भी वो लड़का जिसे वो इतना प्यार करती थी,,
'मैं जनता हु तुझे अभी तक किसी ने हाथ नहीं नहीं लगाया है पर मेरा यकीं मान जब तू बासी हो जाएगी तो इसी होस्टल के ग्राउंड में तुझे लड़के 100 रूपये दे कर भी चोदना पसंद नहीं करेंगे,' परमिंदर दरिंदो की तरह हसने लगा और वो मासूम सी जान डर से कपने लगी उसे अपने भविष्य की ऐसी स्तिथि का बोध हुआ की उसे लगा की इससे तो मर जाना ही अच्छा होगा,वो सब सोचकर स्तब्ध हो गयी उसे दर्द का अहसास होना ही खत्म हो गया वो जिन्दा लाश सी अपनी मजबूर शारीर को उसे सौप दि ,लेकिन थोडा खेलने के बाद परमिंदर हो आभास हो गया की शायद उसने जादा ही बोल दिया कही ये चिड़िया भी उड़ ना जाये ,ऐसे भी लड़की के रोना बंद करने पर उसे मजा आना बंद हो गया था,उसे लगा था जैसे वो बाकि लडकियों जैसी होगी हो उसके मसलने पर थोड़ी देर में गर्म हो जाएगी पर ये तो बहुत ही सीधी निकली,खैर जो भी हो मुझे क्या पहले इसकी सील तोड़ कर अपना पानी निकल लू,परमिंदर ने मन में सोचा और उसके सलवार ना नाडा खोलने लगा लड़की का रोना बंद था जैसे वो किसी गहन चिंतन में डूबी हो और उसने कोई भी विरोध नहीं किया,,परमिन्दर बड़ी जल्दी में था और उसने उसका सलवार निकल फेका लड़की अभी भी ऊपर से ढकी हुई थी,परमिन्द्र को उसकी चिकनी योनी दिखाई दि पर उसे अब लड़की की हलत देख कुछ करने का मन ही नहीं कर रहा था,उसने ही उसे बालो को साफ़ करने को कहा था,वो उसे चाटना चाहता था,पहले अपनी छोटी उंगली को थूक से गिला कर उसने उसकी योनी में डाला,
'बाह या चुद है साली तेरी छोटी उंगली भी नहीं जा रही है,जब मेरा घुसेगा तो तेरी चीख सुनने में मजा आयेगा मुझे,'लड़की कुछ भी ना कही उसकी योनी सुखी थी पर उसे दर्द का अहसास भी नहीं हो रहा था,उसकी पवित्रता के तेज से चमकता चहरा गुस्से में लाल हो गया था.उसकी आँखों से बेखबर परमिंदर उसकी योनी को चुसे जा रहा था,पर लड़की के चहरे पे एक मुस्कान फ़ैल गयी उसके आँख जलते अंगारों से धधकने लगे और परमिंदर ने जैसे ही अपने मन भरने पर अपना सर उठाया उसकी आँखे देख कर वो डर ही गया,
'क्या क्या हुआ तुझे ,'लड़की हसने लगी इस हसी में खुसी नहीं व्यंग था,परमिंदर को कुछ भी समझ ना आया उसने अपने को उठाने का प्रयत्न किया पर,खाचक खाचक खाचक तीन वार परमिंदर के पीठ पर कर दिए गए थे ,मदेरचोद ये क्या है,
'परमिंदर उठ खड़ा हुआ और उससे दूर हुआ तो देखा की लड़की के हाथो में एक लम्बा पेंच कस था जो उसने पास ही के टेबल से उठाया था,लड़की की ताकत परमिंदर के सामने कुछ भी ना थी पर उस नाजुक बाला ने अपने जिस्म से नहीं अपनी रूह तक की ताकत इन वारो में लगा थी,परमिंदर बुरी तरह जखमी था पर वो ताकती भी था उसने देर ना लगायी और लड़की की तरफ झपटा,लड़की को अपने नीची दबा लिया और उसके हाथो हो दबाकर उसको हथियार छोड़ने पर मजबूर कर दिया ,
'मदेरचोद मैं तो सोचा था की तुझे आराम से खाऊंगा पर अब तो तू आज ही नीलम होगी तुझे कोठे पर बिठाऊंगा साली मुझसे होसियारी करती है,'लड़की ऐसे तो उसके निचे पूरी तरह दबी थी और अपना शारीर भी नहीं हिला पा रही थी पर उसने अपना सर उठाया और परमिंदर के चहरे हो अपने दांतों में जकड लिया और पूरी ताकत से उसे काटने लगी,अपने दांत गड़ाने के लिए उसने पूरी ताकत लगा दि,परमिंदर के चहरे से दर्द भरी चीख निकली पर वो भी जीवट आदमी था,उसने पूरी ताकत से उसका पैर फैलाया और अपना चहरा छुड़ाने की कोसिस की पर नाकाम रहा उसने पास पड़ा वही पेचकर उठा कर उसकी योनी में दे मारा ,पर छटपटाहट की वजह से वो उसकी जंघा पर जा घुसी लड़की दर्द से कहार उठी पर उसने अपना मुह नहीं खोला उसके दांत अब पूरी तरह से धस चुके थे और उनसे खून भी रिसने लगे थे,,
परमिंदर से अब ना रहा गया उसने पास पड़ा पेन उठाया और उसके चहरे पे मरने को आतुर हुआ लेकिन तभी.....
दरवाजा को किसी नि बड़ी जोर से मारा और दरवाजा खुल गया,इसे देख परमिंदर के हाथ रुक गए वहा बहुत भीड़ हो चली थी कुछ 10-15 लड़के और एक लड़की कमरे में दाखिल हुए माजरा साफ था उन्होंने ने लड़की को उससे अलग किया और लडको ने परमिंदर की पिटाई करनी शुरू कर दि,लड़की ने आयशा को सम्हाला आयशा ने लडकी को देखते ही उसे अपने बांहों में भर लिया और फूट फूट कर रोने लगी,
'नेहा देख इस दरिन्दे ने मेरी क्या हालत कर दि ,'
नेहा को आभास हुआ की आयशा ने निचे कुछ नहीं पहना है और उसके जंघा से खून भी बह रहा है ,उसने पास रखा एक टाबेल उठा उसे ढाका और राहुल को इशारा किया,रहुल तुरंत ही आयशा के कपड़ो को कलेक्ट कर नेहा और उसे ले बहार आया और बाजु वाले रूम का ताला तोडा और उन्हें वह बिठा दिया,उसने कही से फर्स्ट एड किड भी जुगाड़ लिया,
'राहुल तुझे पता है ना क्या करना है ,अब बहार जा,'
'ओके दीदी,'राहुल कमरे से बहार निकला नेहा ने कमरा बंद किया लड़के परमिंदर को मारते मारते बहार ग्राउंड तक ले जा चुके थे ,राहुल परमिंदर के रूम में जाता है और उसका लेपी और मोबाईल अपने बेग में डाल वहा से निकल जाता है,
-  - 
Reply
08-22-2018, 10:54 PM,
#7
RE: Bhai Behen Chudai मैं ,दीदी और दोस्त
आयशा और नेहा के साथ एक और लड़का कमरे में था,बहार ग्राउंड में परमिंदर अधमरा पड़ा था और पोलिस आने वाली थी नेहा ने आयशा से कुछ बाते अकेले में की थी आयशा अब थोड़ी शांत दिखाई दे रही थी,
'आयशा तुम जानती हो ना इसका मतलब क्या होगा,तुम एक मुसलमान लड़की हो और पोलिस केस का मतलब क्या होगा तुम्हे पता है ना,'
'अविनाश सर ये कहोगे आपसे मुझे ये उम्मीद नहीं थी,क्या मुस्लिम लड़की की कोई इज्जत नहीं होती,'नेहा के स्वर में गुस्सा था ,
'मेरा मतलब वो नहीं है नेहा पर क्या इसके घर वाले मानेंगे,मैं और मेरी पूरी पार्टी तुम्हारे साथ है,और दूसरी पार्टीया भी हमारा सपोर्ट करेंगी पर तुम अगर थोड़ी भी कमजोर हुई तो हम कुछ नहीं कर पाएंगे और वो साफ़ साफ़ बच जायेगा,'
'सर मैं तैयार हु ,आप नहीं जानते वो कितना बड़ा दरिंदा है अगर बात सिर्फ मेरे जिस्म के इस्तमाल की होती तो शायद मैं उससे नहीं लडती,मेरी जैसी सीधी साधी लड़की अपना जिस्म उसे सौप देती पर वो दरिंदा तो मेरी पूरी जिन्दगी ही नारख बनाने वाला था ,मुझे बिकाऊ बनाने वाला था ,पता नहीं मुझ जैसी कितनी लडकिया इसका शिकार हुई होंगी ,(नेहा को अपनी याद आ गयी पर उसने कुछ भी एक्सप्रेस नहीं किया,)मुझे उन सब के लिए लड़ना है चाहे मेरे घर वाले माने या नहीं पर मैं इस दरिन्दे को सजा दिलवा के रहूंगी,'आयशा के चहरे पर दृढ़ता के भाव थे ,
'भगवान तुम्हारे साथ है मेरी बहन,तुम बहुत बहुद्दुर हो मैं तुम्हे न्याय दिलाने के लिए अपनी पूरी ताकत लगा दूंगा,पुलिस आती ही होगी ,जल्द से जल्द तुम्हारा मेडिकल टेस्ट भी कराना होगा,आज देखो तो भगवान की लीला की नेहा ने हमें परमिंदर के बारे में बताया की वो लडकियों को गन्दी गन्दी मेसेज करता है और हम उसे सबक सिखाने यहाँ पहुच गए ,(नेहा ने आयशा को आँखों से इशारा किया)और लड़ाई की आवाजे सुन दवाजा तोड़ दिया,'
अविनाश ने अपना हाथ प्यार से आयशा के सर पर और वहा से निकल गया,
अविनाश तिवारी ,यूनिवर्सिटी का प्रेसिडेंट है,अपनी राजनीती,अच्छाई ,समाजसेवा और कर्मठता के कारन प्रसिद्द था,और अपने इन्ही गुणों के कारन कॉलेज की ही नहीं जिले की राजनीती में अच्छी पहुच रखता था,बड़े बड़े नेताओ से उसकी पहचान थी और इसी कारन नेहा को उसके स्कूल के दिनों से वो आकर्षित करता रहा वो नेहा का पहला क्रास था,और उसके ही कहने पर नेहा ने स्कूल चुनाव लड़े थे और अपनी सफलता दर्ज करायी थी ,उसे इस यूनिवर्सिटी का सबसे पावरफुल व्यक्ति कहे तो अतिशोक्ति नहीं होगी,उसने नेहा से कई बार कहा था की वो उसे भाई बोले पर नेहा उसे सर कहती थी और उसके सभी कार्यक्रमों में बढचढ के हिस्सा लेती थी,अविनाश 6'2" की हाईट वाला चौड़ा लड़का था,माथे पर लम्बा लाल टिका और सफ़ेद कुरता जींस उसकी पहचान थी,ऐसे तो लडकिय उसपर लट्टू थी पर उसे समाज सेवा का ही नशा था,उसके साथ होने से नेहा और आयशा निश्चिंत थे क्योकि वो सच के लिए किसी से भी भीड़ जाने से परहेज नहीं करता था,...

इधर राहुल होस्टल के पास बने गार्डन में बेचैन सा अपने एक दोस्त के साथ बैठा था उसका दोस्त अपने चश्मे को बार बार सीधा कर रहा था और सोच रहा था की ये साला कहा फस गया पर राहुल की बात ना मानने का नतीजा है बहुत बड़ी सजा ,
'चल बेटा काम पर लग जा और इस मोबाईल और लेपी के पासवर्ड जल्दी खोल दे,मुझे पूरा डाटा इस हार्ड ड्राइव में चाहिए ,'
'राहुल भाई तू मुझसे गलत काम तो नहीं करवा रहा है ना,सुबह से यहाँ बैठा रखा है और अन आ रहा है,'
'साले चूतिये जो बोल रहा हु वो कर ना,नेहा दि को बताऊँ क्या की तू होसियारी मार रहा है,'
'कर रहा हु ना भाई नेहा को बीच में क्यों ला रहा है,'
उस लड़के ने अपनी उंगलिया चलानी शुरू की और अपने बैग से ना जाने कितने टूल्स निकले,ये हमारे कंप्यूटर जीनियस देबुजीत बाबू थे प्यार से लोग इन्हें बाबु ही कहते थे बाबु इसलिए क्योकि ये बंगाली थे और नेहा के क्लास में पड़ते थे,नेहा पर बड़ा क्रश था बन्दे को पर था एक नम्बर का फत्तू अभी कंप्यूटर साइंस में ही इंजीनियरिंग का स्टूडेंट था,
'अबे बंगाली जल्दी कर ना,टाइम नहीं है मेरे पास ये सब वापस रख के आना है मुझे,'
'कर रहा हु ना भाई,हा हो गया ,पूरा डेटा चाहिए क्या,'
'हा कुछ भी रह गया तो तेरी खाल खिचवा दूंगा ,'देबू ने गुस्से से राहुल को देखा,
'अरे मेरे प्यारे बाबु,इस काम के बदले तेरी नेहा दि से डेट फिक्स करा दूंगा,लेकिन किसी को कुछ बताना मत 'देबू का चहरा डेट सुनकर ही शर्म से लाल हो गया,
'सच्ची भाई,' 'अरे हा रे मेरे कंप्यूटर जीनियस ' देबू ने उंगली और तेजी से चलानी सुरु की 
राहुल और नेहा दीदी अगर टीम की तरह कम करे तो कमल कर देते थे ,मैं किसी से ऐसी बाते नहीं कर पता था और मेरे सामने कोई नेहा दि का नाम भी लेने से पहले सोचता था,राहुल फुल मस्ती में नेहा दि के नाम पर लोगो से काम निकलवाता था और दीदी भी उसका सपोर्ट करती थी,
'ले भाई हो गया तेरा काम,'देबू ने खुश होते हुए कहा 
'गुड अब इसका सारा डेटा उड़ा दे,और इस ड्राइव का सारा डेटा मेरे लेपी में कॉपी कर दे ,'
'यार सब मैं ही करू क्या ,मैं इसे फार्मेट करता हु तू अपने में कॉपी कर ले ,' 'ओके बाबु 'राहुल ने शरारत से देबू के गालो में हाथ मार दिया और देबू भी हस पड़ा,
सारा कम हो चूका था ,राहुल ने देबू को फोन करने बोल भागता होस्टल पहुचा वो परमिंदर के रूम पहुच लेपी और मोबाईल रख दिया और दुसरे रूम में अविनाश था उसने उसके बहार निकलने का इंतजार किया ,राहुल को देख नेहा खुश हो गयी 
'भाई काम हो गया ना ,'राहुल ने ड्राइव नेहा को पकड़ा दि नेहा ने उसे अपने बैग में रख लिया,
'गुड भाई,आयशा अब तुम्हे डरने की कोई जरूरत नहीं है सभी लडकियों की जिंदगी अब सेफ है मैं इससे चेक करके सब फोर्मेट कर दूंगी,अगर इसमें सभी फोटोज नहीं हुई तब शायद प्रोब्लम होगी,'
'नेहा अब मुझे किसी बदनामी का दर नहीं है,चाहे वो मेरी फोटोज इन्टरनेट में ही क्यों ना डाल दे,'
'नहीं दि इसके अलावा उसके पास कोई और डिवाइस नहीं है जिसमे हो सेव करके रख सके मैंने पूरा रूम चेक कर लिया है,'
'गुड और इसके अलावा और कही कॉपी तो नहीं किया ना,और देबू को कोई शक तो नहीं हुआ ना ,'
'नहीं दि यही सिंगल कॉपी है,(झूट बोल दिया)और देबू के साथ एक चाय पि लेना मैं आपकी डेट फिक्स कर के आया हु उसके साथ,'नेहा के चहरे में स्माइल आ गयी 
'सही किया मैं उसे सम्हाल लुंगी,चलो आयशा बहार चलते है,'

राहुल अपने कमरे में बैठा है और अपनी लेपी सुबह की डाली गयी हर फोल्डर को चेक कर रहा है अभी तक उसे कुछ हाथ नहीं लगा फालतू चीजो को कटता जा रहा है,अचानक उसकी आंखे चमकी उसे एक हिडन फोल्डर दिखाई दिया,उसे खोलते ही वो दंग रह गया करीब 15 लडकियों के नाम के फोल्डर बने हुए थे,उसे तो लगा साला अब तो उन मजा आ जायेगा,पर एक फोल्डर को देखते ही उसकी सांसे रुक गयी नाम था नेहा,,नेहा ने राहुल को परमिंदर के बारे कुछ नहीं बताया था,उसे बार इतना पता था की दीदी की सहेलियों को परेशान करता था,उसने कापते हाथो से उस फोल्डर को खोला तो उसे और बड़ा साक लगा इसमें बहुत से फोटोज थे और ना सिर्फ फोटोज विडिओ भी थे,उसने डूबे हुए दिल से एक विडिओ ऑन किया विडिओ ने दीदी स्कूल की यूनिफार्म में थी उसे फिर बड़ा साक लगा यानि दि परमिंदर को स्कूल से जानती थी हमें पता कैसे नहीं लगा,दीदी बड़े ही इठलाते हुए एक रूम में उछल खुद कर रही थी ये कमरा तो होस्टल का नहीं है ,डेट भी विडिओ के साथ छपे हुए थे यानि एक साल लगभग पुरानी है,दीदी 12th में रही होगी,तभी दीदी एक बड़े डबल बेड में बैठ जाती है और परमिंदर अपना केमरा एक जगह सेट कर देता है दीदी और वो बेड उसमे साफ साफ दिखाई दे रहे थे,वो उनकी स्कर्ट के अंदर हाथ घुसता है,
'नहीं ना अभी नहीं शादी के बाद करना,'पर परमिंदर रुकता नहीं और उनकी जन्घो को सहलाता हुआ उन्हें किस करने लगता है,
'जान मैंने तुम्हे बिना पेंटी के आने को कहा था ना तुम पहन के क्यों आई .'शायद उसके हाथ पेंटी तक पहुच चुके थे दीदी की आंखे बंद थी पर वो एक हाथ से उसके हाथो को अपने योनी को मसलने से रोक रही थी इसी खीचातानी में स्कर्ट पूरा ऊपर उठ जाता है और नेहा की जंघे साफ दिखने लगती है उसकी मदहोश आवाज परमिंदर के होठो में दबी है पर वो अब भी अपना हाथ नहीं हटा रही थी ,परमिंदर उनकी पिंक पेंटी के उपर से योनी को मसल रहा था,जिससे काम रस से पेंटी भीग चुकी थी पर वो दीदी के विरोध के कारन हाथ अंदर नहीं ले जा पा रहा था,
'तुम्हारे बोलने से मैं बिना पेंटी के घुमुंगी क्या ,'दीदी दूर भागती हुई बोली और बाथरूम में चली गयी, तभी परमिंदर का फोन बज उठता है ,परमिंदर लेट जाता है पर केमरा के पास ही उसका चेहरा दिखता है साइड से,
'कमाल की लड़की दिलाया है साले,अभी तक अनछुई है पर जल्द्दी ही सील तोडूंगा फिर मिल के खायेंगे साली को ,'थोड़ी देर रूककर,'तू फिकर मत कर चिड़िया नयी है उछालेगी ही पर वादा है मेरा तुम दोनो ने मुझसे इसकी दोस्ती करायी है तो तुम दोनों को जरुर भोग लगवाऊंगा,साली कॉलेज आने दे इसे फिर दौड़ा दौड़ा के होस्टल में पेलेंगे,'एक गन्दी हसी उसके चहरे पर आ जाती है,राहुल कपने लगता है दोनों ने दोस्ती करायी इसका मतलब क्या हुआ,उसका मन घबराने लगता है,तभी नेहा बहार आती है परमिंदर फिर से उसपर टूट पड़ता है,
और इस बार वो उसके उपर लेता हुआ होता है,उसे किस कर रहा होता है,दीदी उसे किस तो कर रही है अपने निचे उनके हाथो का संघर्ष जारी है,उनका स्कर्ट पूरी तरह ऊपर था और जंघे चमक रही थी आखिर परमिंदर अपना हाथ अंदर घुसाने में कामियाब हो जाता है और ये क्या दीदी टूट सी जाती है अपना हाथ निचे से हटाकर परमिंदर के सर पर ले आती है ,वो सर को सहलाने लगती है दोनों की जीभे एक दुसरे में मिली हुई है और दीदी की आंखे बंद है,परमिंदर अपना खेल जरी रखता है और पेंटी पकड़कर निचे खीच देता है ये अचानक हुआ झटका दीदी को समझ आय तब तक देर हो चुकी थी और उनकी पेंटी कमर से नीची और जन्घो के अंत तक आ गयी वो कसमसाकर अपने हाथो को निचे लाती है पर कोई फायदा नहीं होने वाला था,थोड़ी देर के लिए किस टूटती है नेहा गुस्से से देखती है पर परमिंदर फिर से उसे प्यार से किस करने लगता है ,और एक उंगली उनकी योनी में घुसा देता है ,दीदी थोड़ी देर छटपटाती है पर उनका हाथ फी उसके सर में जादा जोर से पकड़ लेती है ,ये पूरा दृश्य राहुल को उत्तेजित करने को काफी था उसने अपने लिंग को बहार निकल लिया दीदी की बिना बालो की योनी को देख और उसमे घुसते एक उंगली को देख राहुल का लिंग फटने को हो गया उसने अपने हाथ से इसे पकड़ा,इधर परमिंदर अपना पायजामा निचे करता है उसने अंदर कुछ पहना ही नहीं होता,पायजामा के निचे होने के आभास से नेहा बहुत जोरदार विरोध दिखाती है पर परमिंदर दोनों हाथो से उसका सर पकड़ा है और उसके मुह में अपनी जीभ घुसाई है,नेहा इतना विरोध कर रही थी की परमिंदर को अपना हाथ निचे ले जाने का मौका ही नहीं मिल रहा था और उसका लिंग बार बार फिसल जाता था वो अपना हाथ निचे लाकर सेट करता तो नेहा कमर हिलाकर और दोनों हाथो को निचे लाकर उसे रोकती वो उसके हाथो को ऊपर एक हाथ से पकडे हुए था पर फिर भी वो कामियाब ना हो पाया,आखिर तंग आकर उसने अपने दोनों हाथो से फिर कोसीसी की पर इस बार नेहा का हाथ आजाद हो गया और उसने एक जोरदार धक्का परमिंदर को मर दिया,परमिंदर गुस्से में अपना हाथ उठाया पर ना जाने क्या सोचकर रुक गया ,
'जान प्लीज् तुम मुझसे प्यार नहीं करती क्या,'
'आप ये क्या कर रहो प्यार करती हु बहुत करती हु पर ये सब नहीं ,प्यार करती हु तभी सबसे झूठ बोलकर इस होटल में आपसे मिलने आ गयी ,और आप मेरे साथ छि ,'दि ने तुरंत अपने कपडे ठीक किये और बाथरूम में घुस गयी ,परमिंदर बहुत गुस्से में लग रहा था उनके अंदर जाने के बाद ,
'छि साली फिर बच गयी लगता है साली के साथ अब दूसरा रास्ता ही अपनाना पड़ेगा,'
तभी राहुल का फोन बजा,उसने स्क्रीन में देखा आकाश का फोन था वो ग्लानी से भर गया,उसने अपनी हालत देखि तो उसके आँखों में आंसू आ गए ,
'थैंक्स मेरे भाई तूने बड़ा कम कर दिया दीदी का ,'
'दीदी का ??,' राहुल के आवाज में आश्चर्य था की दीदी ने मुझे भी परमिंदर के बारे में बताया है क्या वो भूल ही गया की दीदी ने उसे भी अपने बारे में नहीं बताया है,
'हा कॉलेज की हर लडकिया तेरी दीदी ही तो है ,' दीदी की आवाज आई स्पीकर आन था 
'अच्छा आप भी है साथ,' 'क्या कर रहा है,'राहुल थोडा ठिठक गया 
'कुछ नहीं भाई बस तुम लोग क्या कर रहे हो ,आज तो दि ने उस बेचारी लड़की को बचा ही लिया,'
'कुछ नहीं बस सोने की तयारी,सोचा तुझे कॉल कर लू तू घर भी नहीं आया ,मैं तो दि को लपेट के पकड़ा हु तू अकेला सो बेटा ,मैंने दि को किस करते हुए कहा,'
'भाई मैं सो रहा हु थोडा थक सा गया हु,' 'तुझे क्या हुआ बे सब ठीक तो है ना यही आजा तू भी '
राहुल का गला भर रहा था ,उसने रखना ही ठीक समझा,'भाई कुछ नहीं हुआ मैं कल मिलता हु,'
राहुल स्क्रीन की तरफ देखता है पर उसे अब इतनी हिम्मत नहीं हुई की वो पूरा देखे उसने ये सभी फाइल डिलीट करने की सोची पर उसे आया वो दो लोग जिन्होंने दीदी को परमिन्दर से मिलवाया,उसके लिए ये ख़तम करना आसान नहीं था आखिर उसने निश्चय किया की वो सभी को देखेगा और सच का पता लगाएगा...पर अभी उसने सोना ही ठीक 
-  - 
Reply
08-22-2018, 10:54 PM,
#8
RE: Bhai Behen Chudai मैं ,दीदी और दोस्त
राहुल जिम में प्रवेश करता है,आज वो चौकन्ना सा है मैं आदतन सुबह जल्दी ही आ गया था,दीदी थोडा लेट से आती थी और आखिर में आता था राहुल .
'क्यों बे कल कैसे उदास था,'राहुल मेरी बात सुनकर चौक जाता है,
'कुछ नहीं भाई बस ऐसे ही थोडा थक गया था,दीदी कहा है,'उसने इधर उधर नजरे घुमाते हुए पूछा,
'अभी आई है ,एरोबिक कर रही होगी तू भी जा साले कुछ करेगा तो नहीं तू जाके लडकियों के पिछवाड़े देख ,'राहुल का व्यवहार कुछ बदला सा था मेरी बात सुन वो नजर झुकाके आगे बाद गया और एरोबिक रूम की तरफ जाने लगा,मुझे कुछ शक तो हुआ पर मैंने उतना गौर नहीं किया,राहुल जा के थोड़ी दूर खड़ा हो दीदी को देख रहा था वो दौड़ रही थी,पास ही उसने नानू और विक्की को देख लिया,उनको देखते ही राहुल की भव चढ़ गयी,दोनों नेहा के पिछवाड़े को ही घूरे जा रहे थे वह ऐसे तो और भी लडकिया थी,पर वो दोनों नेहा को देख कर ही लार टपका रहे थे ,,,राहुल को पास आता देख नानू ने विक्की को कोहनी से मारा और दोनों राहुल की तरफ मुखर हुए,
'क्या भाई आ गया,देख क्या मस्त गांड है साली के ,'नानू ने एक लड़की के तरफ इशारा करते हुए कहा,
राहुल अपने विचारो में ही खो गया,'साला आकाश सही कहता था,ये जब दीदी को देख रहे थे तो मुझे इनपर गुस्सा आ रहा था और मैं खुद कितनी लडकियों को घूरते रहता हु ,हे भगवन क्या मैं गलत था या ये सही है ,नहीं घुरना गालत तो नहीं हो सकता पर अगर इन्होने दीदी को परमिंदर के पास सौपा था तो मैं इन्हें नहीं छोडूंगा,अब मुझे ही ये पता लगाना है,और अब मुझे भी नार्मल रहना पड़ेगा ताकि किसी को शक ना हो जाए,'
आज पूरा दिन राहुल बस लोगो को देख रहा था,मैंने भी ये देखा और उससे बात करना ही ठीक समझा,
'क्या हुआ भाई,अब तो बता दे क्या हुआ है,'मैंने राहुल के पास जाते हुए कहा,नानू भी उसके साथ ही था,
'कुछ नहीं भाई,बस थोडा दिल भरा भरा लग रहा है उस लड़की को देखकर ,साले परमिंदर ने तो उसकी जिंदगी ही बिगड़ दि थी,'राहुल का चहरा मुरझा सा गया,नानू उसे आश्चर्य से देख रहा था,
'अरे यार मेरा भाई इतना सेंसेटिव है मुझे तो पता ही नहीं था,'मैंने राहुल को हलकी सी चपात लगाते हुए कहा,
'साला मुझे भी नहीं पता था की ये इतना दुखी भी हो सकता है,'नानू ने हलकी हसी हस दि ..राहुल नानू की तरफ देखते हुए कुछ अलग भाव ले आया,
'परमिंदर तो तुम्हारा दोस्त था ना तुम्हे नहीं पता था क्या की वो क्या करता है,'अब चौकाने की बरी नानू की थी,
'अरे भाई हमें तो पता था की ये लड़की बाज है,जैसे हम है पर ये नहीं पता था की ये इतना कमीना है की लडकियों को गंदे मैसेज करता है,और जबर्दस्ती भी करेगा,हमें तो लगता था की वो लडकिया पटाता है और उनसे खेलता है,और साला उनकी विडिओ भी निकलता है ये हमें कहा पता था,'उसकी बात सुनकर मैं और राहुल चौक गए 
'विडिओ बनता है ???तुझे किसने बताया उसके पास से तो कुछ नहीं मिला था ना,कोई फोटो या विडिओ,'मैंने प्रश्न दागा जिसे सुनकर वो थोडा सकुचा गया,
'भाई होस्टल के लड़के बता रहे थे और अब हमें उससे क्या मतलब है ,'नानू ने अपनी सफाई दि 
'साले जब तुझे पता था की वो अच्छा लड़का नहीं है तो तूने दीदी की दोस्ती उससे क्यों कराई ,'अब चौकाने की बरी राहुल की थी ,
'इसने दोस्ती करायी,कब'राहुल के चहरे पर गुस्सा साफ़ दिख रहा था जिसे देखकर नानू भी एक बारी डर गया,
'अरे दीदी ने ही तो बताया था मुझे ,करीब एक महीने पहले इन दोनों ने दोस्ती करायी थी,'
"एक महिना पहले यानि दीदी ने आकाश से झूट बोला है,कैसे पता करू की सच क्या है साला विडिओ भी देख नहीं पा रहा दीदी की ऐसी हालत देखि नहीं जाती अब क्या करू भगवान ,"राहुल ने मन में सोचा,
'भाई नेहा को तो जानते हो ना मैं और विक्की परमिन्दर से बात कर रहे थे और उसी समय नेहा आ गयी तो इंट्रो कराया था,पर नेहा तो बातूनी है उससे घुल मिल गयी और पता नहीं आगे क्या हुआ,मुझे बस इतना ही पता है,'मुझे बात नार्मल लगी पर राहुल की आँखों में अब भी शक था,
तभी विक्की और नेहा दीदी भी बात करते हुए वह पहुचे दोनों हस हस के बात कर रहे थे राहुल की भव फिर से चढ़ गयी,'क्यों क्या हो रहा है अरे आकाश आज तू भी इनके साथ मेरी बात को सीरियस ले लिया क्या 'दीदी ने हसकर कहा,
'कौन सी बात दि ,' 'अरे वही गर्ल फ्रेंड वाली 'दीदी ने आँख मारते हुए कहा ,
'क्या दि आप भी जब कोई लड़की पसंद आएगी तो सबसे पहले आप को ही बताऊंगा इन चिड़ीमारो के साथ मुझे लड़की नहीं देखनी साला मेरी ही बदनामी हो जाएगी,'मेरी बात पर दीदी हसने लगी और बाकियों का चहरा उतर गया,

राहुल अपने कमरे में बैठा है और अपनी लेपी सुबह की डाली गयी हर फोल्डर को चेक कर रहा है अभी तक उसे कुछ हाथ नहीं लगा फालतू चीजो को कटता जा रहा है,अचानक उसकी आंखे चमकी उसे एक हिडन फोल्डर दिखाई दिया,उसे खोलते ही वो दंग रह गया करीब 15 लडकियों के नाम के फोल्डर बने हुए थे,उसे तो लगा साला अब तो उन मजा आ जायेगा,पर एक फोल्डर को देखते ही उसकी सांसे रुक गयी नाम था नेहा,,नेहा ने राहुल को परमिंदर के बारे कुछ नहीं बताया था,उसे बार इतना पता था की दीदी की सहेलियों को परेशान करता था,उसने कापते हाथो से उस फोल्डर को खोला तो उसे और बड़ा साक लगा इसमें बहुत से फोटोज थे और ना सिर्फ फोटोज विडिओ भी थे,उसने डूबे हुए दिल से एक विडिओ ऑन किया विडिओ ने दीदी स्कूल की यूनिफार्म में थी उसे फिर बड़ा साक लगा यानि दि परमिंदर को स्कूल से जानती थी हमें पता कैसे नहीं लगा,दीदी बड़े ही इठलाते हुए एक रूम में उछल खुद कर रही थी ये कमरा तो होस्टल का नहीं है ,डेट भी विडिओ के साथ छपे हुए थे यानि एक साल लगभग पुरानी है,दीदी 12th में रही होगी,तभी दीदी एक बड़े डबल बेड में बैठ जाती है और परमिंदर अपना केमरा एक जगह सेट कर देता है दीदी और वो बेड उसमे साफ साफ दिखाई दे रहे थे,वो उनकी स्कर्ट के अंदर हाथ घुसता है,
'नहीं ना अभी नहीं शादी के बाद करना,'पर परमिंदर रुकता नहीं और उनकी जन्घो को सहलाता हुआ उन्हें किस करने लगता है,
'जान मैंने तुम्हे बिना पेंटी के आने को कहा था ना तुम पहन के क्यों आई .'शायद उसके हाथ पेंटी तक पहुच चुके थे दीदी की आंखे बंद थी पर वो एक हाथ से उसके हाथो को अपने योनी को मसलने से रोक रही थी इसी खीचातानी में स्कर्ट पूरा ऊपर उठ जाता है और नेहा की जंघे साफ दिखने लगती है उसकी मदहोश आवाज परमिंदर के होठो में दबी है पर वो अब भी अपना हाथ नहीं हटा रही थी ,परमिंदर उनकी पिंक पेंटी के उपर से योनी को मसल रहा था,जिससे काम रस से पेंटी भीग चुकी थी पर वो दीदी के विरोध के कारन हाथ अंदर नहीं ले जा पा रहा था,
'तुम्हारे बोलने से मैं बिना पेंटी के घुमुंगी क्या ,'दीदी दूर भागती हुई बोली और बाथरूम में चली गयी, तभी परमिंदर का फोन बज उठता है ,परमिंदर लेट जाता है पर केमरा के पास ही उसका चेहरा दिखता है साइड से,
'कमाल की लड़की दिलाया है साले,अभी तक अनछुई है पर जल्द्दी ही सील तोडूंगा फिर मिल के खायेंगे साली को ,'थोड़ी देर रूककर,'तू फिकर मत कर चिड़िया नयी है उछालेगी ही पर वादा है मेरा तुम दोनो ने मुझसे इसकी दोस्ती करायी है तो तुम दोनों को जरुर भोग लगवाऊंगा,साली कॉलेज आने दे इसे फिर दौड़ा दौड़ा के होस्टल में पेलेंगे,'एक गन्दी हसी उसके चहरे पर आ जाती है,राहुल कपने लगता है दोनों ने दोस्ती करायी इसका मतलब क्या हुआ,उसका मन घबराने लगता है,तभी नेहा बहार आती है परमिंदर फिर से उसपर टूट पड़ता है,
और इस बार वो उसके उपर लेता हुआ होता है,उसे किस कर रहा होता है,दीदी उसे किस तो कर रही है अपने निचे उनके हाथो का संघर्ष जारी है,उनका स्कर्ट पूरी तरह ऊपर था और जंघे चमक रही थी आखिर परमिंदर अपना हाथ अंदर घुसाने में कामियाब हो जाता है और ये क्या दीदी टूट सी जाती है अपना हाथ निचे से हटाकर परमिंदर के सर पर ले आती है ,वो सर को सहलाने लगती है दोनों की जीभे एक दुसरे में मिली हुई है और दीदी की आंखे बंद है,परमिंदर अपना खेल जरी रखता है और पेंटी पकड़कर निचे खीच देता है ये अचानक हुआ झटका दीदी को समझ आय तब तक देर हो चुकी थी और उनकी पेंटी कमर से नीची और जन्घो के अंत तक आ गयी वो कसमसाकर अपने हाथो को निचे लाती है पर कोई फायदा नहीं होने वाला था,थोड़ी देर के लिए किस टूटती है नेहा गुस्से से देखती है पर परमिंदर फिर से उसे प्यार से किस करने लगता है ,और एक उंगली उनकी योनी में घुसा देता है ,दीदी थोड़ी देर छटपटाती है पर उनका हाथ फी उसके सर में जादा जोर से पकड़ लेती है ,ये पूरा दृश्य राहुल को उत्तेजित करने को काफी था उसने अपने लिंग को बहार निकल लिया दीदी की बिना बालो की योनी को देख और उसमे घुसते एक उंगली को देख राहुल का लिंग फटने को हो गया उसने अपने हाथ से इसे पकड़ा,इधर परमिंदर अपना पायजामा निचे करता है उसने अंदर कुछ पहना ही नहीं होता,पायजामा के निचे होने के आभास से नेहा बहुत जोरदार विरोध दिखाती है पर परमिंदर दोनों हाथो से उसका सर पकड़ा है और उसके मुह में अपनी जीभ घुसाई है,नेहा इतना विरोध कर रही थी की परमिंदर को अपना हाथ निचे ले जाने का मौका ही नहीं मिल रहा था और उसका लिंग बार बार फिसल जाता था वो अपना हाथ निचे लाकर सेट करता तो नेहा कमर हिलाकर और दोनों हाथो को निचे लाकर उसे रोकती वो उसके हाथो को ऊपर एक हाथ से पकडे हुए था पर फिर भी वो कामियाब ना हो पाया,आखिर तंग आकर उसने अपने दोनों हाथो से फिर कोसीसी की पर इस बार नेहा का हाथ आजाद हो गया और उसने एक जोरदार धक्का परमिंदर को मर दिया,परमिंदर गुस्से में अपना हाथ उठाया पर ना जाने क्या सोचकर रुक गया ,
'जान प्लीज् तुम मुझसे प्यार नहीं करती क्या,'
'आप ये क्या कर रहो प्यार करती हु बहुत करती हु पर ये सब नहीं ,प्यार करती हु तभी सबसे झूठ बोलकर इस होटल में आपसे मिलने आ गयी ,और आप मेरे साथ छि ,'दि ने तुरंत अपने कपडे ठीक किये और बाथरूम में घुस गयी ,परमिंदर बहुत गुस्से में लग रहा था उनके अंदर जाने के बाद ,
'छि साली फिर बच गयी लगता है साली के साथ अब दूसरा रास्ता ही अपनाना पड़ेगा,'
तभी राहुल का फोन बजा,उसने स्क्रीन में देखा आकाश का फोन था वो ग्लानी से भर गया,उसने अपनी हालत देखि तो उसके आँखों में आंसू आ गए ,
'थैंक्स मेरे भाई तूने बड़ा कम कर दिया दीदी का ,'
'दीदी का ??,' राहुल के आवाज में आश्चर्य था की दीदी ने मुझे भी परमिंदर के बारे में बताया है क्या वो भूल ही गया की दीदी ने उसे भी अपने बारे में नहीं बताया है,
'हा कॉलेज की हर लडकिया तेरी दीदी ही तो है ,' दीदी की आवाज आई स्पीकर आन था 
'अच्छा आप भी है साथ,' 'क्या कर रहा है,'राहुल थोडा ठिठक गया 
'कुछ नहीं भाई बस तुम लोग क्या कर रहे हो ,आज तो दि ने उस बेचारी लड़की को बचा ही लिया,'
'कुछ नहीं बस सोने की तयारी,सोचा तुझे कॉल कर लू तू घर भी नहीं आया ,मैं तो दि को लपेट के पकड़ा हु तू अकेला सो बेटा ,मैंने दि को किस करते हुए कहा,'
'भाई मैं सो रहा हु थोडा थक सा गया हु,' 'तुझे क्या हुआ बे सब ठीक तो है ना यही आजा तू भी '
राहुल का गला भर रहा था ,उसने रखना ही ठीक समझा,'भाई कुछ नहीं हुआ मैं कल मिलता हु,'
राहुल स्क्रीन की तरफ देखता है पर उसे अब इतनी हिम्मत नहीं हुई की वो पूरा देखे उसने ये सभी फाइल डिलीट करने की सोची पर उसे आया वो दो लोग जिन्होंने दीदी को परमिन्दर से मिलवाया,उसके लिए ये ख़तम करना आसान नहीं था आखिर उसने निश्चय किया की वो सभी को देखेगा और सच का पता लगाएगा...पर अभी उसने सोना ही ठीक समझा...
-  - 
Reply
08-22-2018, 10:54 PM,
#9
RE: Bhai Behen Chudai मैं ,दीदी और दोस्त
राहुल जिम में प्रवेश करता है,आज वो चौकन्ना सा है मैं आदतन सुबह जल्दी ही आ गया था,दीदी थोडा लेट से आती थी और आखिर में आता था राहुल .
'क्यों बे कल कैसे उदास था,'राहुल मेरी बात सुनकर चौक जाता है,
'कुछ नहीं भाई बस ऐसे ही थोडा थक गया था,दीदी कहा है,'उसने इधर उधर नजरे घुमाते हुए पूछा,
'अभी आई है ,एरोबिक कर रही होगी तू भी जा साले कुछ करेगा तो नहीं तू जाके लडकियों के पिछवाड़े देख ,'राहुल का व्यवहार कुछ बदला सा था मेरी बात सुन वो नजर झुकाके आगे बाद गया और एरोबिक रूम की तरफ जाने लगा,मुझे कुछ शक तो हुआ पर मैंने उतना गौर नहीं किया,राहुल जा के थोड़ी दूर खड़ा हो दीदी को देख रहा था वो दौड़ रही थी,पास ही उसने नानू और विक्की को देख लिया,उनको देखते ही राहुल की भव चढ़ गयी,दोनों नेहा के पिछवाड़े को ही घूरे जा रहे थे वह ऐसे तो और भी लडकिया थी,पर वो दोनों नेहा को देख कर ही लार टपका रहे थे ,,,राहुल को पास आता देख नानू ने विक्की को कोहनी से मारा और दोनों राहुल की तरफ मुखर हुए,
'क्या भाई आ गया,देख क्या मस्त गांड है साली के ,'नानू ने एक लड़की के तरफ इशारा करते हुए कहा,
राहुल अपने विचारो में ही खो गया,'साला आकाश सही कहता था,ये जब दीदी को देख रहे थे तो मुझे इनपर गुस्सा आ रहा था और मैं खुद कितनी लडकियों को घूरते रहता हु ,हे भगवन क्या मैं गलत था या ये सही है ,नहीं घुरना गालत तो नहीं हो सकता पर अगर इन्होने दीदी को परमिंदर के पास सौपा था तो मैं इन्हें नहीं छोडूंगा,अब मुझे ही ये पता लगाना है,और अब मुझे भी नार्मल रहना पड़ेगा ताकि किसी को शक ना हो जाए,'
आज पूरा दिन राहुल बस लोगो को देख रहा था,मैंने भी ये देखा और उससे बात करना ही ठीक समझा,
'क्या हुआ भाई,अब तो बता दे क्या हुआ है,'मैंने राहुल के पास जाते हुए कहा,नानू भी उसके साथ ही था,
'कुछ नहीं भाई,बस थोडा दिल भरा भरा लग रहा है उस लड़की को देखकर ,साले परमिंदर ने तो उसकी जिंदगी ही बिगड़ दि थी,'राहुल का चहरा मुरझा सा गया,नानू उसे आश्चर्य से देख रहा था,
'अरे यार मेरा भाई इतना सेंसेटिव है मुझे तो पता ही नहीं था,'मैंने राहुल को हलकी सी चपात लगाते हुए कहा,
'साला मुझे भी नहीं पता था की ये इतना दुखी भी हो सकता है,'नानू ने हलकी हसी हस दि ..राहुल नानू की तरफ देखते हुए कुछ अलग भाव ले आया,
'परमिंदर तो तुम्हारा दोस्त था ना तुम्हे नहीं पता था क्या की वो क्या करता है,'अब चौकाने की बरी नानू की थी,
'अरे भाई हमें तो पता था की ये लड़की बाज है,जैसे हम है पर ये नहीं पता था की ये इतना कमीना है की लडकियों को गंदे मैसेज करता है,और जबर्दस्ती भी करेगा,हमें तो लगता था की वो लडकिया पटाता है और उनसे खेलता है,और साला उनकी विडिओ भी निकलता है ये हमें कहा पता था,'उसकी बात सुनकर मैं और राहुल चौक गए 
'विडिओ बनता है ???तुझे किसने बताया उसके पास से तो कुछ नहीं मिला था ना,कोई फोटो या विडिओ,'मैंने प्रश्न दागा जिसे सुनकर वो थोडा सकुचा गया,
'भाई होस्टल के लड़के बता रहे थे और अब हमें उससे क्या मतलब है ,'नानू ने अपनी सफाई दि 
'साले जब तुझे पता था की वो अच्छा लड़का नहीं है तो तूने दीदी की दोस्ती उससे क्यों कराई ,'अब चौकाने की बरी राहुल की थी ,
'इसने दोस्ती करायी,कब'राहुल के चहरे पर गुस्सा साफ़ दिख रहा था जिसे देखकर नानू भी एक बारी डर गया,
'अरे दीदी ने ही तो बताया था मुझे ,करीब एक महीने पहले इन दोनों ने दोस्ती करायी थी,'
"एक महिना पहले यानि दीदी ने आकाश से झूट बोला है,कैसे पता करू की सच क्या है साला विडिओ भी देख नहीं पा रहा दीदी की ऐसी हालत देखि नहीं जाती अब क्या करू भगवान ,"राहुल ने मन में सोचा,
'भाई नेहा को तो जानते हो ना मैं और विक्की परमिन्दर से बात कर रहे थे और उसी समय नेहा आ गयी तो इंट्रो कराया था,पर नेहा तो बातूनी है उससे घुल मिल गयी और पता नहीं आगे क्या हुआ,मुझे बस इतना ही पता है,'मुझे बात नार्मल लगी पर राहुल की आँखों में अब भी शक था,
तभी विक्की और नेहा दीदी भी बात करते हुए वह पहुचे दोनों हस हस के बात कर रहे थे राहुल की भव फिर से चढ़ गयी,'क्यों क्या हो रहा है अरे आकाश आज तू भी इनके साथ मेरी बात को सीरियस ले लिया क्या 'दीदी ने हसकर कहा,
'कौन सी बात दि ,' 'अरे वही गर्ल फ्रेंड वाली 'दीदी ने आँख मारते हुए कहा ,
'क्या दि आप भी जब कोई लड़की पसंद आएगी तो सबसे पहले आप को ही बताऊंगा इन चिड़ीमारो के साथ मुझे लड़की नहीं देखनी साला मेरी ही बदनामी हो जाएगी,'मेरी बात पर दीदी हसने लगी और बाकियों का चहरा उतर गया,
एक शांत कमरा और एक टेबल कुछ पोलिश वाले कमरे के बाहर थे और कमरे में विक्की नानू थे जो परमिंदर से मिलने आये थे,
'साला पूरी जिंदगी ही लुट गयी बहनचोद ,अब ना कोई कैरियर रहेगा और ना इज्जत,'परमिंदर ने लगभग रोते हुए कहा,
'मदेरचोद क्या जरुरत थी जबर्दस्ती करने की ,सब तो मिल ही जाता ना तुझे प्यार से ही कर लेता एक बार दवाई खिला देता फिर तो तेरी गुलामी करती ही ना वो साले इतनी अच्छी मॉल छुट गयी तेरे कारन,'नानू ने गुस्से में कहा ,
'बहन के लवडे यहाँ जिंदगी झंड हो गयी है इसे मॉल की पड़ी है,साली वो छिनाल नेहा की ही करनी है ये सब,'परमिंदर ने धीरे से कहा,
'वो सब छोड़ सब तेरी ही गलती है साले क्या जरूरत थी नेहा से पंगा लेने की बोला था ना उसके भाइयो के बारे में कुछ मत बोलना मार दि ना गांड तेरी ,अब ये बता वो सब फोटोज और विडिओ कहा है ,साले तुझे पता है ना किसी के हाथ लग गए तो हमारे सब कर्मकांड फुट जायेंगे,'विक्की ने गंभीर स्वर में कहा,
'लवडे मुझे क्या पता कहा है मैं तो लेपी और मोबाईल में ही रखा था ,भाई मुझे यहाँ से बाहर निकालो यार वो अविनाश साला हाथ धोकर पीछे पड़ा है जेल करा के ही मानेगा ऐसा लग रहा उसकी ही बहन को चोद दिया हो ,और उस साली आयशा का कुछ करो की केस वापस ले ले ,'
'मदर चोद पागल हो गया है क्या तेरी लेपी और मोबाईल हमने छान मार लिया पर कही कुछ भी नहीं है साले याद कर कही और तो सेव नहीं कर के रखा है,और जेल से तुझे कोई नहीं बचा सकता बस अगर हम बहार रहे तो यहाँ तुझे पैसे भेजते रहेंगे पर अगर वो विडिओ पोलिश के हाथ लग गया ना तो हम भी जेल के अंदर हो जायेंगे बता दे लवडे कहा रखा है ,'इस बार विक्की गुस्से से भर गया था,
'नहीं भाई वही था,'
;कोई आया था क्या ' 'सालो बहुत लोग थे आते ही मरना चालू कर दिया मेरा तो धयान ही नहीं गया उधर ,'विक्की और नानू सोच में थे की क्या किया जाय 
'चल ठीक है अब हम चलते है 'दोनों उठ कर जाने लगे 
'भाई और कब आओगे यहाँ अंदर मेरे लिए कुछ पैसे छोड़ जाओ यार यहाँ सब बहुत महंगा है साला घर वाले तक बात करने को तैयार नहीं है,भाई कम से कम सूटटा तो पिने मिल जायेगा,'परमिंदर ने बड़े ही आग्रह के भाव से उन्हें देखा,
'भाग जा मादरचोद,बहुत चूत मरी है ना तूने अब गांड मरा यहाँ ,'नानू ने हस्ते हुए कहा और दोनों बहार निकल गए .....
विक्की अभी भी थोडा टेंशन में था ,'हो ना हो ये काम नेहा का ही होगा उसे परमिंदर के बारे में अच्छे से पता है अब साला मुझे टेंशन हो रहा है 'विक्की ने गंभीर होते हुए कहा ,
'भाई बात तो तेरी जम रही है पर अगर उसे कुछ करना होता तो अभी तक हम जेल में होते ना,और आज जिम में भी तो हमसे हसके बात कर रही थी ,तो इसे क्या समझे ,'
'साले जो समझ ना आये वही तो नेहा है साली कोई बड़ा कांड तो नहीं करने वाली या हमसे कुछ करने की तयारी में तो नहीं है ना,'विक्की फिर चिंता मग्न हो गया,
इधर नेहा अपना लेपी खोल के अपने रूम में बैठी है,और धयान से हेड फोन लगाये विडिओ को देख रही है वो उन अश्लील विडिओ में से कुछ काम की चीज निकलने की कोसीसी में है और पेन कापी में कुछ नोट कर रही है,.....
-  - 
Reply
08-22-2018, 10:55 PM,
#10
RE: Bhai Behen Chudai मैं ,दीदी और दोस्त
नेहा अपनी स्कूटी से एक क्लिनिक के पास रुकती है ऊपर लिखा था डॉ चुन्निलाला तिवारी यरवदा वाले (M.B.B.S.) जिसे देख कर नेहा के चहरे में मुस्कान आ गयी ये थे डॉ चिन्नीलाल जिसे लोग डॉ चुतिया या चुतिया डॉ भी कहा करते थे डॉ साहब थे तो ऍम बी बी एस पर वो एक मनोवैज्ञानिक ,दर्शनशास्त्री भी थे इसके अलाव भी उनके बहुत गुण थे जो आगे पता चलते जायेगा,नेहा अंदर गयी तो उसने देखा की डॉ अपनी नर्स मेडम मेरी मार लो के साथ गुफ्त्गुह फरमा रहे है,और उसके पिछवाड़े को अपने हाथो से सहला रहे है नेहा के चहरे की मुस्कान और बढ़ गयी ,मेरी के भाव से लग रहा था की डॉ ने अपनी उंगली उसके पिछवाड़े में घुसा दि है,
'डॉ साहब क्या मैं अंदर आ सकती हु ,'डॉ चुतिया ने अचानक अपने हाथ मेरी के स्कर्ट से निकले तो मेरी उचक पड़ी,
'अरे नेहा तुम तुमने तो डरा ही दिया था मुझे लगा कोई पेशेंट आ गया ,'चुतिया के चहरे पर मुस्कान फैली,
'अरे चुतिया जी आपके पास कोई पेशेंट आते भी है जो आप डर रहे हो,'नेहा अब खिलखिला के हस पड़ी और टेबल के सामने रखे खुरसी पर बैठ गयी 
'और बताओ क्या चल रहा है काम हुआ की नहीं ,कुछ मिला तुम्हे ,'डॉ अब सीरियस था,
'नहीं सर कुछ नहीं बस इतना ही पता चला की जैसे ही वो इंजेक्शन परमिंदर किसी को लगता था वो लड़की वासना के आगोश में डूब जाती थी और फिर सेक्स की अपरिमित भूख का शिकार हो जाती थी जिसे पूरा करना कठिन हो जाता था पर वो क्या है ये तो समझ ही नहीं आ पाया वो हरे रंग का लिक्विड है'नेहा ने अपने विडिओ से देखे सभी डिटेल्स डॉ को बताये,
'पता नहीं साले को ये कहा से मिल गया ,पता लगाना पड़ेगा उससे भी जरुरी है ये पता लगाना ई उसने ये किसे किसे दिया है और इसका इलाज क्या है,'
'ये तो पता चल गया है की किसे दिया है और इलाज तो आप ही कर सकते हो डॉ,'
'कोई बात नहीं ,और विक्की और नानू का क्या करना है,उन्हें भी तो उनके किये की सजा मिलनी चाहिए ना,'
'मिलेगी अभी तो उन्हें कुछ पता ना ही चले तो बेहतर है,उन्हें तो अभी ही जेल भेजा जा सकता है पर मैं नहीं चाहती की जो लडकिय इन सबसे दूर हो गयी है वो इन विडिओ के बहार आने से बेइज्जत हो जाये,उन्हें तो मैं सजा दूंगी पर थोडा मजा भी तो करने दो उनके साथ उन्हें भी तो पता चले की दर्द तकलीफ और जलील होना क्या होता है जब जिस्म की भूख इतनी बढ़ जाये की इज्जत का ख्याल ही ना रहे ,तो वो पीड़ा क्या होती है,'कहते कहते नेहा की आँखों में पानी आ गया साथ ही आँखे लाल अंगारे सी धधाकने लगी...
'ओके जैसा तुम ठीक समझो,पर क्या कोई उस दवाई के असर के बाद भी अच्छी जिंदगी जी सकता है,'डॉ ने प्रश्न दागा,
'अरे चूतिये जब जिंदगी में आफत आती है तो जीना भी सिखा देती है,'मेरी ने बड़े गंभीर लहजे में कहा था पर नेहा उसके अरे चूतिये बोलने के तरीके से हस पड़ी ,डॉ भी बड़ी आँखे किये उसे देखने लगा,
'डॉ साहब एक बात पुछु,आप अपना निक नेम क्यों नहीं बदल लेते ये क्या चुतिया नाम रखा हुआ है ,'अब गंभीर होने की बारी डॉ की थी,
'नेहा बात ऐसी है की गुस्सा और हँसी आदमी के जीने की पहचान है ,ये बतलाती है की कोई व्यक्ति जीवंत है की नहीं,जब मुझे कोई इस नाम से बुलाता है तो मुझे या तो गुस्सा आता है या हँसी तो मुझे पता लग जाता है की मैं भी जिन्दा हु,'डॉ की फिलासफी सुनकर नेहा के चहरे में भी मुस्कान आ गयी ...

'डॉ सर मुझे एक बात और पूछनी थी आपसे,आपको मनोविज्ञान का भी ज्ञान है,मेरी एक प्रोब्लम है,'
'हा हा पूछो ना,'
'मेरे भाई आकाश को तो आप जानते ही है,वो हमेशा से बड़ा ही सीधा साधा रहा है ,अपने काम से काम रखने वाला है,मैंने आजतक उसे किसी लड़की की तरफ आकर्षित होते नहीं देखा,और मुझे तो वो दिलो जान से चाहता भी है,पर मुझे एक चिंता सता रही है,अभी हाल में ही जब उसने परमिंदर और मेरी तस्वीरों को देखा था,तब से पता नहीं उसे कुछ हो गया है,मैंने उसके नजरो में अपने लिए ही वासना देखी ,इतना ही नहीं जिस दिन उसने फोटोज देखे उस दिन तो उसने मेरे स्तनों को भी सहलाया,मैं उससे बहुत प्यार करती हु और उसके लिए कुछ भी कर सकती हु पर मैं अपने भाई को यु वासना के आग में जलते नहीं देख सकती जो मुझे फील होती है,कभी तो लगता है मैं उसके लिए पूरी तरह खुल जाऊ और उसकी हवस को शांत कर दू पर मैं नहीं चाहती वो इस ग्लानी में जिए वो मुझे बहुत प्यार करता है,पर आजकल ये कभी कभी ही हो रहा है,वो मेरे अंगो को निहारता है और फिर बहुत ग्लानी से भर जाता है,वो कोई दूसरी लड़की पसंद करने को भी तैयार नहीं है डॉ साहब कुछ उपाय बताइए की वो नार्मल हो जाए..'नेहा बहुत ही परेशान हो गयी होती भी क्यों ना वो अपने भाई से बेतहासा प्यार जो करती थी,
'हूमम्म मेरी बात ध्यान से सुनना तुम्हे कुछ चीजे बुरी लग सकती है पर ये मेरा फर्ज है और अब तुम्हारा भी,जहा तक मैं आकाश को जानता हु उसे पहले ही लडकियों में कोई इंटरेस्ट नहीं था,लेकिन है तो वो मर्द ही और वो भी गबरू मर्द ,उसके अंदर बहुत ही ताकत है जो उसे देख के ही समझ आता है और इतनी एनर्जी को सम्हालना बहुत मुस्किल होता है,मुझे तो लगता है उसने आज तक हस्तमैथुन भी नहीं किया होगा,और दिन ब दिन उसकी एनर्जी बड़ते ही जा रही है,वो इसे सम्हाल पता है क्योकि उसने कभी ऐसे विचार अपने मन में नहीं लाये कोई ऐसा दोस्त भी नहीं है उसका जो सेक्स से सम्बंधित बाते उससे करे राहुल भी उससे ये सब बाते करता डरता है ,और दुसरो की बात को वो इग्नोर कर देता है,दुस्र्री चीज की वो हमेशा से तुम्हारे साथ ही रहा है,साथ ही सोता है तो उसे लड़के और लडकियों के बीच का वो अंतर अभी तक समझ नहीं आया था जिससे वो सेक्सुअल विचारो की और प्रेरित हो जाय,उसे लड़की का मतलब दीदी ही समझ आता और बहन का मतलब एक अलग किस्म का प्यार,जिसमे वासना का नाम भी नहीं है,इतनी एनर्जी होने से और उसका उपयोग ना होने से आम आदमी पागल भी हो जाता है,(नेहा के चहरे पर चिंता के भाव गहरा गए ) लेकिन अब तक आकाश ने इस एनर्जी को तुम्हारे प्यार में और व्ययाम में और पढाई में लगा दिया,ये कंडीशन तो योगियों और ब्रम्ह्चारियो की होती है इस लिए आध्यात्म के मार्ग पर कई लोग पागल भी हो जाते है,इसलिए उन्हें खानपान का संयम नियमीत योग,प्राणायाम,और ध्यान व्यायाम करने कहा जाता है,इससे मन शांत होता है और विचार ही नहीं आते पूरी ताकत अध्यात्मिक विकाश में ही लगती है,पर आकाश तो ये सब नहीं कर सकता ना,,,अब हुआ ये है की उसे तुम्हारी फोटोज देखकर वो चीजे समझ आने लगी जिनसे वो अभी तक बचा हुआ था,और उसकी एनर्जी इतनी है की जब वो सेक्सुअल विचारो से भरता है तो वो पागलो जैसा हो जाता है,अब तुम उसकी दीदी ही नहीं रह गयी तुम एक लड़की भी हो उसके लिए उसे बाकि लडकियों में दिलचस्पी भी तो तुम्हारे बेपनाह प्यार की वजह से ही नहीं थी ना,तो अब कैसे पैदा होगी ,जब तक वो किसी लड़की में तुम्हारा चहरा नहीं देखता उसे प्यार की फेल्लिंग नहीं आएगी,लेकिन उसे अब सेक्सुअल विचार आने लगे है तो उसको शांत करना जरुरी है,...'डॉ की बातो से नेहा की चिंता डर में बदलने लगा,
'कैसे???मैं अपने भाई को खो नहीं सकती डॉ कुछ तो उपाय होगा इसका ,मैं कुछ भी करुँगी आप बताइए तो ,'डॉ के चहरे पर नेहा का प्यार देखकर एक मुस्कान आ जाती है,
'नेहा तुम कुछ नहीं कर सकती,'नेहा स्तब्ध हो जाती है,
'अपने भाई के लिए मैं कुछ भी कर सकती हु ,आप बताइए डॉ मुझे अपना शारीर उसे देना है क्या मैं तैयार हु डॉ,वो जो मेरे साथ करना चाहे कर सकता है बताइए ना डॉ,'कहते कहते नेहा रोने लगी लेकिन डॉ के चहरे पर अब भी मुस्कान था,वो अपनी जगह से खड़े हुए और नेहा के सर को प्यार से सहलाने लगे,
'तुम्हे कुछ नहीं करना है ,बस यही करना है,'डॉ साहब ने फिर फिलासफी झाड दि,नेहा आश्चर्य से आँखों में आंसू लिए डॉ को देखती रही,
'अरे चूतिये सीधे बता दे ना बच्ची को इसकी भी लेने की फ़िराक में है क्या,मुझसे मन नहीं भरता तेरा,'मेरी ने बड़े प्यार से ये कहा,और साथ में अपने स्तनों को दबाकर इशारा किया ,डॉ के चहरे पर एक मुस्कान आ गयी 
'हा नेहा तुम्हे कुछ नहीं करना है,बस उसे समझाना है की कुछ गलत नहीं है अगर आप मन में प्यार रखो,प्यार हवास से जादा ताकतवर है,अगर तुम उसे अपना जिस्म दे भी दो तो क्या होगा ,वो तुम्हे भोगेगा और फिर ग्लानी से भर जायेगा जो की किसी के लिए अच्छा नहीं होता,उसे अपने किये पर कोई पछतावा नहीं होना चाहिए,उसे लगाना चाहिए की ये बस वैसा ही प्यार है जो तुम अभी तक करते आय हो ,ये काम है तो बड़ी ही विचित्र पर आकाश को प्यार की भाषा का ही पता है उसे हवस का पता नहीं है,अगर दर्शन की भाषा में कहो तो उसका अनहत चक्र(heart chakra of 7 kundalini chakra) जादा विकसित है,बाकि चक्रों के मुकाबले,तो जब वो कुछ करे तो बस उसके साथ प्यार से पेश आओ उसे मत कहना की ये गलत है,उसे प्यार देना अगर उसे ग्लानी के भाव आय तो उसे समझाना की ये भी तो प्यार ही है,सिर्फ हवस से हवस ही बढेगी उसके अंदर जो तुम भी नहीं चाहोगी,उसकी वासना को प्यार में बदलने दो हो सकता है की वो तुमसे सेक्स करे हो सकता है ना भी करे उसे कुछ करने पर फ़ोर्स ना करो बस करने दो तुम अपना प्यार लुटाओ और देखो वो शांत रहने लगेगा उसकी एनर्जी फिर नए दिशाओ को खोज लेगी,क्योकि एनर्जी कभी स्थिर नहीं होती ये ओशो ने भी कहा है,वासना से ये निचे जाएगी और शांति में ये ऊपर....'नेहा का दिल अब शांत था उसने डॉ के हाथो को पकड़ चूम लिया ...
'thanks dr. so sweet of you..हा मैंने उसे उस दिन ये कहा था की गलत है,,पर जब मैंने उसे प्यार किया तो वो मेरे प्यार में खो गया..मुझे समझ आ गया है,की कैसे कुछ नहीं करना है,और यही करना है,'नेहा ने एक स्माइल दि और डॉ दे विदा लिया,डॉ अब मेरी की तरफ मुड़े,,उसके निताम्भो को अपने हाथो से दबा दिया 
'बहुत बोल रही थी चल अब सटर गिरा अब तेरे चिल्लाने का टाइम है..'मेरी के चहरे पर भी मुस्कान आ गयी,
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Thumbs Up XXX Sex Kahani रंडी की मुहब्बत 55 2,930 5 hours ago
Last Post:
Star Adult kahani पाप पुण्य 222 991,791 03-04-2020, 07:50 PM
Last Post:
Star Incest Sex Kahani रिश्तो पर कालिख 144 42,510 03-04-2020, 10:54 AM
Last Post:
Lightbulb Incest Kahani मेरी भुलक्कड़ चाची 27 42,649 02-27-2020, 12:29 PM
Last Post:
Thumbs Up bahan sex kahani बहना का ख्याल मैं रखूँगा 85 189,372 02-25-2020, 09:34 PM
Last Post:
Thumbs Up Indian Sex Kahani चुदाई का ज्ञान 119 122,178 02-19-2020, 01:59 PM
Last Post:
Star Kamukta Kahani अहसान 61 243,134 02-15-2020, 07:49 PM
Last Post:
  mastram kahani प्यार - ( गम या खुशी ) 60 159,279 02-15-2020, 12:08 PM
Last Post:
Lightbulb Maa Sex Kahani माँ की अधूरी इच्छा 228 832,271 02-09-2020, 11:42 PM
Last Post:
Thumbs Up Bhabhi ki Chudai लाड़ला देवर पार्ट -2 146 109,431 02-06-2020, 12:22 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


a r creation bollywood actressRapejabrdasti sexkutton se gadhon Se chudati Hui ghodo se ladkiyan Hindi BF sex.comDiyvaka tripathi sex baba new thread. Comgaun ka mannu ka chudai kahani ka pura bhagAnkita Sharma xxx photo Sex Baba netBahu nagina aur sasur kamina full sex storyमुस्कान की चुदाई सेक्सबाबSex story Ghaliya de or choot fadiसवीता भाभी गंधी बात मराठी काणीxxxxpeshabkartiladkiबायको तोडात दिला बुलाwww.xvideos ek sadune ladki ko roomme laja kar sex kiya videoचोदाई पीचर लौडे के साथPharenara xnxxbache ko vhodna sikhaya hot stories कहानी भाई बहिन कि जबर जशती चोदा कहानी अचछी होDesi52xxxxtapsi pannu hard pic sex bababaratghar me chudi me kahaniसुजाताची पुचीs.uth bhabhj sexPachas.sal.ki.anti.ki.chudai.hindiBaba nay anty ko choda in nighty videosइंडियन किचनमधील सेक्सी विडीओsas sasur ki raslila sexy Kahani sexbaba netsrimukhi lanja sexy ass nude picturesचुममा होठ नंगा Bfसकेसी स्तन ब्र साड़ी स्क्सी बायको हॉट फिगरsex pron bxxx garl hordcar tvWww.sweitabhabhisex.hindipasabBahen sexxxxx ful hindi vdoदादाजी सेक्सबाबा स्टोरीसdevr n buritarh choda xxx moveडाक्टर ने जबरदस्ती गांड चुत की सील तोङकर मा बना दियाVasna sex Story jungle ki Devi ya dekeatxxxmovis.jahriliaadhi raat ko maa ne bete se chudbaiHindisexstory chuddkar maa beta n bahuमुस्लिम औरत की गाँड मारी सेक्स डरीindan ladki chudaikarvai comXxxviboe kajal agrval porn sexy south indianಅಮ್ಮನ ಲಂಗ xossipthekdar ne bhen ki chudai ki bilding main sex hindi sex storieshotho sext auntysfuck videosBhabhi ne khade Lund ko dekh kar kamutejna huaaRaj sharma storieउईईईईईईई और चोद राजा उईईईईxxx vidoekarinakapurland ko jyada kyu chodvas lagta haiशोबा बिबी पति सेक विडिओbig xxx hinda sex video chudai chut fhadnaअन्तर्वासना कहानी गाँव की गरीब भाभी और उसकी छोटी बहनो कोपिकनिक पर ले जाकर चोदा didi ki chudai tren mere samne pramsukhमात्र से dugni उमर की नीता madem की चुदाई antervasna मेंwww xnxx com search house 20guest 20sexUrvashi rautela chillayi aur gaand marwayiChachi ki cudae hindi kutheke sat khaniबीवी को चुड़ते पकड़ापेसाब।करती।लडकीयो।की।व्यंग्Bhudi nokarani ur nani ki chot chudai storiपटनी lki समूहों पति और कुत्ते का गाया mastram cim सेक्स कहानी हिन्डे चुदाईCoti behu shiryl sexy cudai videoपिंक पेंटी एक्स एक्स एक्स वीडियो उंगली करते हुए लौंडाxnxchodachodiMasi ke blouse ka kankh ka pasina hindi sex storiesकेवल दर्द भरी चुदाई की कहानियाँanaxxx saxy bor dakaie kahanidanvi bhanushali actress sex baba xxxतमन्ना नुदे सेक्स स्टोरी हिंदीthamanea boobs and pussy sexbabaबुर कि गपा गप पेलाइ लंड डालके जबरदसत पेलाईhindisxxx vidéo khabi khadi mere