bahan sex kahani भैया का ख़याल मैं रखूँगी
02-01-2019, 04:35 PM,
#11
RE: bahan sex kahani भैया का ख़याल मैं रखूँगी
चाबी लेकर आशना गॅरेज की तरफ भागी और बिहारी काका ने अपने कमरे से चाबियो का गुच्छा लेकर घर को लॉक करना शुरू कर दिया. गॅरेज पहुँच कर एक पल के लिए आशना के कदम ठितके क्यूंकी यह चाबी किस गाड़ी की थी उसे पता नही था और वहाँ पर 4 गाड़ियाँ खड़ी थी. आशना ने बिना वक्त गवाए सबसे पिछली वाली गाड़ी के लॉक मे चाबी घुसाइ और घुमा दी. गाड़ी अनलॉक कर दी. जब तक आशना गाड़ी को मेन गेट पर लाती बिहारी काका दौड़ते हुए वहाँ पहुँच चुके थे. गाड़ी उनके पास रुकी तो बिहारी काका ने मेन गेट लॉक किया और पिछला दरवाज़ा खोल कर वो उस मे बैठ गये. तभी आशना के फोन की घंटी बजी. आशना ने जल्दी से बॅग खोल कर उस मे नंबर. देखा. डॉक्टर. बीना की कॅल आई थी. आशना ने कॉल पिक की और इससे पहले कि डॉक्टर. कुछ बोलती, आशना ने काका की तरफ देखकर डॉक्टर. से पूछा वीरेंदर को होश आ गया क्या डॉक्टर. 

बीना: हां, वीरेंदर को अभी कुछ देर पहले ही होश आया है बस अभी कुछ देर मे उसका चेकप करने जा रही हूँ. डॉक्टर. अभय कल से आउट ऑफ स्टेशन गये हैं. आशना ने एक गहरी साँस ली और कहा डॉक्टर. एक बहुत ज़रूरी बात करनी है आपसे, इस लिए मेरे आने तक आप उनसे कोई बात नहीं करेंगी, यह कहकर आशना ने फोन काटा और गाड़ी दौड़ा दी.

बिहारी काका रास्ता बताते गये और 15 मिनट मे ही गाड़ी हॉस्पिटल की पार्किंग मे खड़ी थी. बिहारी काका को टॅक्सी का किराया देकर आशना हॉस्पिटल की ओर भागी. एंटर करते ही उसने डॉक्टर. रूम की तरफ अपने कदम मोड़ लिए. कॅबिन मे डॉक्टर. बीना अपनी चेर पर बैठ कर उसका वेट कर रही थी. जैसे ही आशना रूम के अंदर घुसी, बीना उसे देख कर चौंक गई. आशना के बिखरे बाल, लाल आँखें और अस्त व्यस्त हालत यह बता रही थी कि आशना सारी रात सोई नहीं और काफ़ी परेशान भी है. अंदर आते ही आशना ने बीना से कहा डॉक्टर. मुझे आपसे बहुत ज़रूरी बात करनी है. 

बीना: कूल डाउन आशना, वीरेंदर को होश आ गया है और अब उसका हार्ट नॉर्मली वर्क कर रहा है. घबराने की कोई ज़रूरत नहीं. पहले तुम अटॅच वॉशरूम मे जाकर अपनी हालत सुधारो, तब तक मैं चाइ बनाती हूँ. 


आशना बिना कुछ बोले वॉशरूम मे घुस गई और ठंडे पानी के छींटो से अपनी सुस्ती मिटाने लगी. अच्छी तरह से हाथ मूह धोकर और अपने बाल और कपड़ो की हालत सुधारकर वो बाहर आई. बाहर आते ही उसने देखा कि डॉक्टर. बीना चाइ बना रही हैं एक कॉर्नर मे छोटी सी किचन मे. आशना भी उनके साथ उसी किचेन मे आ गई. 

डॉक्टर. बीना: हो गई फ्रेश?, गुड, चलो अब चाइ पीते हैं और मुझे सब कुछ डीटेल मे बताओ. यह कह कर उन्होने एक कप आशना की तरफ बढ़ाया. आशना ने कप पकड़ा और बाहर कॅबिन मे आकर एक चेर पर बैठ गई. बीना भी अपनी चेर पर बैठ गई अपने रूम को लॉक करने के बाद. 

बीना: हां आशना अब बोलो ऐसा क्या हुआ जो तुम इतनी सुबह सुबह परेशान दिख रही हो. जब तुमने मुझे कॉल किया तो मे तब वॉश रूम मे थी, बाहर आकर अननोन नंबर. देखा तो पहले तो इग्नोर कर दिया पर फिर जब मेने कॉल किया तो तुम्हारी डरी हुई आवाज़ ने मुझे चौंका दिया. बोलो क्या बात है. 

आशना: डॉक्टर., वीरेंदर भैया की डाइयरी मेने पढ़ी, उन्हे डाइयरी लिखने का शौक है और इस तरह से आशना ने उन्हे सारी बाते बता दी. सब कुछ जानने के बाद डॉक्टर. के चहरे पर भी चिंता की लकीरें देखी जा सकती थी. 

डॉक्टर.: आशना सब कुछ जानने के बाद मैं बस इतना कह सकती हूँ कि वीरेंदर ने पिछले कुछ सालो मे बहुत कुछ सहा है और शायद उसका दिल अब और दर्द बर्दाश्त ना कर पाए. उसे किसी भी तरह खुश रखना होगा ताकि उसके दिल पर ज़्यादा दवाब ना पड़े और सबसे ज़्यादा ज़रूरी है कि उसकी शादी हो जानी चाहिए जिससे उसके जिस्म मे दौड़ता लहू अपनी लय मे दौड़ सके. 

आशना: लेकिन डॉक्टर., क्या भैया पर शादी के लिए दवाब डालना ठीक रहेगा? 

डॉक्टर. बीना: कुछ देर चुप रहने के बाद, आशना शायद तुम ठीक कह रही हो, दवाब मे हो सकता है कि उसके दिल पर बुरा असर पड़े. लेकिन इसके अलावा कोई चारा भी तो नहीं. उसकी कोई गर्लफ्रेंड भी नहीं है जो उसे एग्ज़ाइट करे और वो मास्तरबेट या सेक्स करने पर मजबूर हो जाए.


आशना: डॉक्टर., आप कैसे कह सकती है कि अगर भैया की कोई गर्लफ्रेंड हो तो वो उसे मास्टरबेशन या सेक्स पर मजबूर कर सकती है? (अब आशना बिल्कुल खुल के डॉक्टर. से बात कर रही थी). 

डॉक्टर. बीना: मुस्कुराते हुए, आशना यह जो औरत का जिस्म होता हैं ना यह तो बूढो मे भी जान देता है और वीरेंदर तो अभी काफ़ी जवान और हॅटा-कटा पुरुष है. मैं यकीन के साथ कह सकती हूँ कि ऐसा ही होगा. 

आशना कुछ देर डॉक्टर. की बातों पर गौर करती रही. 

डॉक्टर.बीना: अच्छा आशना तुम चाहो तो यहाँ बैठो या मेरे साथ चल सकती हो मुझे एमर्जेन्सी वॉर्ड का एक राउंड लेना है उसके बाद वीरेंदर का चेकप करके तुम्हें दवाइयाँ समझाकर उसे डिसचार्ज कर दूँगी. आशना की कोई प्रतिक्रिया ना पाकर बीना ने अपना हाथ आशना के हाथो पर रखा. डॉक्टर. बीना के गरम हाथो हाथो का स्पर्श जब आशना के ठंडे हाथो पर पड़ा तो दोनो ने अपने अपने हाथ खेंच लिए. आशना इस लिए चौंकी कि बीना के गरम हाथो ने उसको ख़यालो की दुनिया से बाहर खैंच लिया और डॉक्टर. बीना इसलिए चौंकी क्यूंकी आशना के हाथ बरफ की तरह ठंडे थे. बीना एक सयानी डॉक्टर. थी वो जानती थी कि आशना या तो डरी हुई है या कुछ नर्वस है. 
-  - 
Reply
02-01-2019, 04:35 PM,
#12
RE: bahan sex kahani भैया का ख़याल मैं रखूँगी
बीना: आशना तुम मुझसे कुछ कहना चाहती हो? 

आशना एक दम हड़बड़ाई न..ना..नही डॉक्टर. वो मे सोच रही थी कि . इतना कहकर आशना खामोश हो जाती है. 

डॉक्टर. बीना: बोलो आशना, जो भी बोलना है बोल दो . मुझपर भरोसा रखो मैं तुम्हारी बात सुनूँगी और समझूंगी. 

आशना: डॉक्टर., भैया के साथ जो भी हुआ उस मे कुछ दोष शायद मेरा भी है, मेरे कारण भी उन्होने काफ़ी तकलीफ़ झेली है, में उन्हे इस सिचुयेशन से बाहर निकालना चाहती हूँ पर वो अंजाने मे ही सही मुझ से नफ़रत करने लगे हैं. तो क्या इस वक्त मेरा उनके पास जाना उनकी सेहत के लिए ठीक रहेगा. 

डॉक्टर. बीना उसकी बात सुनकर गहरी सोच मे पड़ गई. कुछ देर सोचने के बाद बीना बोली, आशना तुम आख़िरी बार भैया से कब मिली थी. आशना को कुछ समझ मे नहीं आया पर फिर भी बोली पापा के अंतीमसंस्कार के वक्त. 

डॉक्टर: क्या उस वक्त की तुम्हारे पास तुम्हारी कोई तस्वीर है. 

आशना ने सवालिया नज़रो से उसे देखा और फिर अपने बॅग से एक आल्बम निकाली. आशना ने कुछ पन्ने पलट कर एक पन्ना डॉक्टर. के सामने रखा "यह फोटो तब की है जब पापा मुझे बोरडिंग स्कूल मे अड्मिट करवा के आए थे. यह उनके साथ मेरी आख़िरी फोटो थी. बीना ने फोटो को गौर से देखा फिर आशना की तरफ देखा. बीना की आँखो मे चमक आ गई जिसे आशना ने भी महसूस किया पर कुछ समझ नहीं पाई. बीना ने जल्दी से आल्बम बंद की और आशना की तरफ बढ़ा दी. आशना ने आल्बम लेकर बॅग मे डाल दी और डॉक्टर. की तरफ देखने लगी. डॉक्टर. के चहरे पर मुस्कान देख कर आशना ने उसका कारण पूछा. 

डॉक्टर.: यार तुम तो पहचानी ही नहीं जा रही हो, काफ़ी सेक्सी हो गई हो. 

आशना का चेहरा शरम से लाल हो गया. ऐसा पहली बार नहीं था कि किसी ने उसे सेक्सी बोला हो. उसकी फ्रेंड्स तो हमेशा उसे सेक्सी ही बुलाती पर एक अधेड़ उम्र के मूह से ऐसा सुनने से वो शरम के मारे गढ़ गई. 

बीना: आओ मेरे साथ, इतना कहकर बीना उठ खड़ी हुई. बीना ने वॉशरूम से लेकर उसे एक स्काइ-ब्लू कलर का शॉर्ट गाउन दिया जो कि डॉक्टर. यूज़ करती हैं. आशना ने गाउन पकड़ते हुए डॉक्टर. की तरफ सवालिया नज़रो से देखा. 

बीना: तुम वीरेंदर की मदद करना चाहती हो. 

आशना ने धीरे से सिर हां मे हिलाया. 

बीना: तो इसे पहन लो और मेरे साथ चलो. 

आशना को अभी भी कुछ समझ नहीं आया था. 

बीना ने उसकी मनोदशा को समझते हुए कहा: देखो जब वीरेंदर ने तुम्हे देखा था तुम एक छोटी सी बच्ची थी और आज तो तुम माशा अल्लाह एक कयामत का रूप ले चुकी हो. तो ज़ाहिर सी बात है कि वो तुम को नहीं पहचान पाएगा और मुझे पूरा यकीन है कि तुम भी उससे उसकी बेहन बनके मिलना पसंद नहीं करोगी. इसी लिए यह गाउन पहन लो जिससे तुम इस हॉस्पिटल की एक. डॉक्टर. लगो और मे तुमको वीरेंदर के घर यह कहकर भेज दूँगी कि तुम उसकी केर के लिए वहाँ जा रही है. 

यह सुनते ही आशना की आँखो मे चमक आ गई और उसने झट से अपनी जॅकेट उतार कर वो गाउन पहन लिया. आशना को सब समझ आ गया था. वो डॉक्टर. बीना के एहसान तले दब गई उसकी इस मदद के लिए. दोनो हॉस्पिटल के राउंड के लिए निकल पड़ी. करीब 8:00 बजे वो वीरेंदर के कॅबिन के बाहर पहुँची. 

डॉक्टर. बीना ने नॉक किया. अंदर से वीरेंदर की आवाज़ आई. यस, कम इन. बीना ने दरवाज़ा खोला और अंदर आ गई उसके पीछे-पीछे आशना ने भी धड़कते दिल से अंदर कदम रखा. आशना ने एक नज़र वीरेंदर के चेहरे पर डाली, चेहरे पर दाढ़ी काफ़ी आ गई थी. वीरेंदर काफ़ी बदल गया था इतने सालो मे. उसका शरीर काफ़ी मज़बूत हो गया था रोज़ जिम करने से और हाइट तो उसकी पहले ही काफ़ी थी. कुल मिलाकर वो एक बेहद ही तंदुरुस्त पर कमज़ोर दिल का गबरू जवान था. आशना की तंद्रा टूटी जब बीना ने वीरेंदर से कहा कि डॉक्टर, आशना हैं, मेरी असिस्टेंट हैं. आज हम तुम्हें डिसचार्ज कर रहे हैं यह तुम्हारे साथ कुछ दिन तुम्हारे घर पर रुकेंगी जब तक तुम बिल्कुल ठीक नहीं हो जाते. 

वीरेंदर: क्या डॉक्टर. आंटी मे बिल्कुल ठीक हूँ, आप इन्हें परेशानी मे मत डालिए. इतना सुनते ही आशना एक दम घबरा गई. 

बीना: मुझे पता है तुम कितने ठीक हो, डॉक्टर. मैं हूँ तुम नहीं और तुम्हारे अंकल ने जाने से पहले मुझे ख़ास हिदायत दी है कि कुछ दिनो तक तुमको अब्ज़र्वेशन मे रखना पड़ेगा. 


वीरेंदर: बाप रे अंकल का हुकुम है, फिर तो मानना ही पड़ेगा नहीं तो पता नहीं क्या- क्या पाबंदियाँ लग जाएँगी और उनका बस चले तो मुझे यहीं पर रोक लें. इतना कहते ही बीना और वीरेंदर दोनो हँस पड़े. आशना के चेहरे पर भी स्माइल आ गई. 

बीना: डॉक्टर. आशना आप मेरे साथ चलिए मैं आपको इनकी दवाइयों के बारे मे बता देती हूँ और फिर आप इन्हे डिसचार्ज करवा के इनका चार्ज अपने हाथो मे ले लें. 

आशना: जी डॉक्टर. चलिए.

आशना जाने के लिए मूडी ही थी कि वीरेंदर बोला: एक मिनट डॉक्टर. 

आशना. आशना के कदम ठिठक गये और उसने मुड़ते हुए ही वीरेंदर की तरफ देखा. 

वीरेंदर: डॉक्टर. आशना आप कहाँ की रहने वाली हो. 

इससे पहले कि आशना हड़बड़ाहट मे कोई जवाब देती, बीना बीच मे बोल पड़ी. यह मेरे फ्रेंड की बेटी है. इसके माँ-बाप बचपन मे ही चल बसे. इसीलिए यह बचपन से मेरे पास ही रही और फिर यहाँ के गँवरमेंट. हॉस्पिटल से इसने इसी साल एमबीबीएस किया और अब मुझे असिस्ट कर रही है. आशना ने एक ठंडी सांस छोड़ी और वीरेंदर की तरफ़ देखा. 

वीरेंदर: आइ आम सॉरी डॉक्टर. आशना मेने ऐसी ही पूछा था. आपके पेरेंट्स का सुन के मुझे काफ़ी दुख हुआ. 

बीना: ओके अब तुम आराम करो आज दोपहर तक तुमको डिस्चार्ज कर देंगे, टेक केर. 

वीरेंदर: बाइ डॉक्टर. आंटी, बाइ आशना.
-  - 
Reply
02-01-2019, 04:35 PM,
#13
RE: bahan sex kahani भैया का ख़याल मैं रखूँगी
कॅबिन से बाहर आकर आशना ने एक लंबी सांस ली और बीना की तरफ देखा. बीना ने भी उसकी तरफ देखा और उसे आँख मार दी. दोनो हंसते हंसते बीना के रूम तक पहुँचे. चलो एक काम तो हो गया, अब तुम्हे सोचना है कि तुम उसके साथ कितने दिन रह सकती हो और इन दिनों मे कैसे उसे शादी के लिए मना लो. 

आशना: आइ विल डू इट एनी कॉस्ट डॉक्टर. 

.बीना: तुम कितने दिन की छुट्टी लेकर आई हो. 

आशना ने घड़ी की तरफ देखा और बोली रूको अभी पता करती हूँ एरलाइन्स से कि वो कितने दिन की छुट्टी एक्सटेंड कर सकते हैं. आशना ने नंबर. मिलाया और कुछ देर बाद उसके एरलाइन्स ओफीसर से उसके सीनियर ने फोन उठाया. 

आशना: सर, आइ आम आशना शर्मा, फ्लाइट अटेंडेंट फ्रॉम ----------टू ------------- ऑफ युवर एरलाइन्स. सर, आइ आम सॉरी टू इनफॉर्म यू बट आइ कॅन'ट रेज़्यूमे माइ ड्यूटी अगेन. आइ हॅव सम फॅमिली प्रॉब्लम्स, बाइ. आशना ने बिना किसी प्रतिक्रिया जानने के पहले ही फोन काट दिया. 

आशना: लो जी डॉक्टर. आंटी छुट्टी मंज़ूर हो गई, अब बोलो क्या करना है? 

डॉक्टर. बीना उसे हैरानी से देखती रह गई. 

बीना: करना क्या है, कुछ दिन तक तुम वीरेंदर की केर टेकर बन कर रहो उस घर मे उसके बाद तो तुम्हें वहाँ रहने का किराया देना पड़ेगा. इतना कहकर आशना और बीना दोनो खिलखिलाकर हंस पड़ी.
-  - 
Reply
02-01-2019, 04:35 PM,
#14
RE: bahan sex kahani भैया का ख़याल मैं रखूँगी
दोपहर तक आशना ने अपनी कुछ ज़रूरी शॉपिंग भी कर ली थी. उसने अपनी ज़रूरत के हिसाब से सब कुछ खरीद लिया तह और उसे वीरेंदर की गाड़ी मैं डाल कर उसे हवेली छोड़ आई थी. बिहारी काका को उसने कह दिया थे कि वो उपर वाले फ्लोर मे से कोई एक कमरा उसके लिए तैयार कर दे और उसका सारा समान वहाँ पर रख दे. बिहारी काका को उसने बताया के वो डॉक्टर. बीना के दोस्त की बेटी है और अब वो यहीं रहकर वीरेंदर का इलाज करेगी. बिहारी काका को सब कुछ समझा कर और गाड़ी को अपनी जगह लगाकर वो टॅक्सी से हॉस्पिटल पहुँची तो दोपहर के 12:30 बज गये थे.

हॉस्पिटल पहुँचते ही वो डॉक्टर. बीना के रूम मे गई. बीना: आओ आशना, मैने वीरेंदर की डिसचार्ज स्लिप बना दी है. अब तुम उसे घर ले जा सकती हो. आशना की आँखों में आँसू आ जाते हैं और वो गले लग कर डॉक्टर. बीना को ज़ोर से गले लगा लेती है. आशना: थॅंक यू डॉक्टर. अगर आप नहीं होती तो मेरे लिए यह सब मुमकिन नहीं था.

डॉक्टर. बीना, इट्स ओके आशना, पर तुम्हे किसी तरह वीरेंदर को फिर से नयी ज़िंदगी देनी होगी. 

आशना- मैं ज़रूर ऐसा करूँगी. इतना कहकर उसने स्लिप डॉक्टर. से ली,

डॉक्टर. ने उसे सारी दवाइयों के बारे मे समझा दिया और आशना जैसे ही जाने के लिए मूडी के बीना ने कहा: "आशना काश तुम सचमुच वीरेंदर की बेहन ना होती". आशना के कदम यह सुनकर एकदम ठिठक गयी पर वो मूडी नहीं, शायद यह बात तो उसने भुला ही दी थी कि वो वीरेंदर की बेहन है. 


हॉस्पिटल से वीरेंदर को लेके वो एक टॅक्सी मे वीरेंदर के घर के बाहर पहुँचे. बिहारी काका उनका गेट खोलकर बाहर ही वेट कर रहे थे. टॅक्सी सीधा कॉंपाउंड मे घुसी और बंग्लॉ के दरवाज़े के पास आकर रुकी. वीरेंदर ने टॅक्सी वाले के पैसे देकर उसे वहाँ से रवाना किया और एक ठंडी सांस छोड़ी. वीरेंदर ने धीरे से कहा "फिर से वही ख़ालीपन मुबारक हो वीरेंदर" और इतना कहकर वो अंदर चला गया. आशना ने उसे सॉफ सुना पर उस वक्त उसने कुछ बोलना ठीक नहीं समझा.



अंदर आने पर वीरेंदर सीधा अपने कमरे मे चला गया और आशना किचन की तरफ चल दी. बिहारी काका ने दोपहर के खाने की तैयारी कर रखी थी. आज बिहारी काका ने चिकन,मटन, डाल, वेजिटेबल,,खीर और चावल बनाए थे. आशना के पीछे पीछे बिहारी काका भी किचन मे आ गये.

काका: बिटिया भूख लगी है क्या. 

आशना ने बिना पीछे देखे जवाब दिया: नहीं काका बस आपके खाने की खुश्बू यहाँ तक खींच लाई. वैसे वीरेंदर के आने पर आज तो अपने पूरी दावत की तैयारी कर रखी है. 

बिहारी काका झेन्प्ते हुए: नहीं बिटिया ऐसी बात नहीं है, आज बड़े दिनो बाद मालिक ठीक होकर घर आए हैं तो सारी उनकी पसंद की चीज़े बनाई हैं. छोटे मालिक को खाने मे मीट-मुर्ग बहुत पसंद है. 

आशना मन मैं सोचते हुए (तभी इतनी सेहत बना रखी है जनाब ने). 

आशना: पर काका कुछ दिन वीरेंदर के खाने का थोड़ा ध्यान रखना पड़ेगा क्यूंकी इस तरह के खाने मे काफ़ी फॅट होता है जो वीरेंदर की सेहत के लिए अच्छा नहीं है. 

काका: पर बिटिया, मालिक तो रोज़ाना शाम को जिम मे खूब कसरत करके सारी चर्बी बहा देते हैं. 

आशना: बहती कहाँ है काका वो तो उनके अंदर ही रहती है. आशना ने यह बोल तो दिया पर उसे इसका एहसास काका के होंठों पर आई कुटिल मुस्कान से हुआ कि उसने अंजाने मे यह क्या कह दिया. आशना का चेहरा शरम से लाल हो गया और आँखें झुक गईं. 

काका ने बात संभालते हुए कहा: पर बिटिया मालिक तो मीट -मुर्ग के बिना खाना खाते ही नहीं 

आशना कुछ ना बोल सकी उसके पास और कुछ बोलने के लिए कुछ बचा ही नहीं था. वो अपनी पिछली बात के बारे मे ही सोच रही थी. 

काका: वैसे भी अब तुम आ ही गई हो तो मालिक का ख़याल तो तुम रख ही लॉगी. यह बात काका ने बड़े ज़ोर देके कही. इससे पहले आशना कुछ समझ पाती, काका ने कहा : जब भूख लगेगी बता देना, मैं रोटियाँ बना दूँगा. आशना ने नज़रें नीचे करके ही हां मैं गर्दन हिलाई. काका वहाँ से चले गये और आशना इन सारी बातों का मतलब निकालने लगी. आशना सोचने लगी कि काका ने कितनी जल्दी मेरी बात पकड़ ली और मुझे वीरेंदर की चर्बी का इलाज भी बता दिया. 

आशना: छि मैं भी क्या सोच रही हूँ, वो मेरे भैया हैं, मैं उनका ख़याल रखूँगी पर एक बहन होने के नाते. मैं उनके लिए खुद एक अच्छी सी लड़की ढूँढ लाउन्गी जो उनकी इस अजीब बीमारी मे इनकी मदद करे. यह सोचते सोचते आशना कब सीडीयाँ चढ़ कर उपर पहुँची उसे पता ही ना लगा. उपर आकर वो अपने कमरे मे चली गई और अपनी न्यू ड्रेस लेकर बाथरूम मे चली गई. यह बाथरूम सेम नीचे वाले बाथरूम जैसा था बस टाइल्स अलग कलर्स और डिज़ाइन की थीं. अच्छे से नहाने के बाद आशना ने नये कपड़े पहने और अपने कमरे से बाहर आकर वीरेंदर के कमरे की तरफ चल दी. आशना ने डोर नॉक किया. उसके कानों मे फिर वोही भारी मर्दाना आवाज़ गूँजी 'आ जाओ". 


आशना ने दरवाज़े को हल्का सा धक्का दिया तो वो खुलता गया. अंदर वीरेंदर एक सफेद लोवर और ग्रीन टी-शर्ट मे सोफे पे बैठा कुछ फाइल्स देख रहा था. उसने एक उड़ती सी नज़र आशना पर डाली और फिर फाइल्स मे खो गया. 

आशना: यह क्या वीरेंदर जी, आपने आते ही ओफिसे का काम देखना शुरू कर दिया. 
-  - 
Reply
02-01-2019, 04:35 PM,
#15
RE: bahan sex kahani भैया का ख़याल मैं रखूँगी
वीरेंदर ने एक बार उसे देखा और फिर दोबारा फाइल्स पर नज़रें गढ़ा दी. कुछ देर चुप रहने के बाद वीरेंदर बोला, काम की चिंता नहीं है मुझे. मेरा मेनेज़र सब संभाल रहा है. यह तो वो कुछ फाइल्स दे गया है जिसे साइन करना है ताकि डिसट्रिब्युटर्स को उनकी रुकी हुई पेमेंट दे सकें.

आशना: पर काम तो काम ही है ना, आप कुछ दिन सिर्फ़ आराम ही करेंगे और आपका सारा काम उसके बाद. इतना कह कर आशना ने फाइल्स उसके हाथ से ली और उन्हे मेज़ पर रख दिया. 

वीरेंदर हैरानी से उसे देखता रहा. पहली बार उसने आशना के मासूम चेहरे को देखा तो देखता ही रह गया. आशना अपनी ही धुन मे कुछ बड़बड़ाये जा रही थी. फाइल्स को मेज़ पर रखने के बाद उसने वो दवाइयाँ निकाली जो वीरेंदर को दोपहर मे लेनी थी. उसने दवाइयाँ निकाली और जग से ग्लास मे पानी डाल कर वीरेंदर की तरफ़ मूडी. जैसे ही उसने वीरेंदर को देखा उसके कदम वहीं ठिठक गये.वीरेंदर एकटक उसे देखे जा रहा था. आशना एक दम शांत खड़ी हो गई. उसकी इस हरकत से वीरेंदर को होश आया, उसने जल्दी से अपनी नज़रें आशना के चेहरे से घुमाई और ग्लास पकड़ने के लिए हाथ आगे बढ़ाया.

आशना ने उसे ग्लास दिया और दवाइयाँ खिलाने लगी. वीरेंदर एक अच्छे बच्चे की तरह सारी दवाइयाँ खा गया.

आशना(मुस्कुराते हुए): शाबाश, रोज़ ऐसे ही अच्छे बच्चे की तरह दवाई खाओगे तो जल्दी ठीक हो जाओगे. 

वीरेंदर: डॉक्टर. अगर आप इतनी डाँट खिलाने के बाद दवाइयाँ खिलाओगी तो मैं ठीक बेशक हो जाउ पर डर के मारे कमज़ोर ज़रूर हो जाउन्गा. इतना कह कर वीरेंदर हंस पड़ा और आशना के चेहरे पर भी स्माइल आ गई. 


आशना: प्लीज़ आप मुझे आशना कहें, डॉक्टर. ना कहें. वीरेंदर ने उसकी तरफ सवालिया नज़रो से देखा तो आशना बोली. डॉक्टर. वर्ड थोड़ा फॉर्मल हो जाता है ना इसलिए. 

वीरेंदर: जैसा तुम्हे ठीक लगे आशना. 

अपना नाम वीरेंदर के होंठों से सुनकर आशना एक दम सिहर उठी. 

आशना- अच्छा आप जल्दी से फाइल्स साइन कर लीजिए और अपने मेनेज़र को कह दीजिए कि वो अब कुछ दिन आपको आराम करने दें. वीरेंदर सिर्फ़ मुस्कुराया बोला कुछ नहीं. आशना अपने कमरे की तरफ चल दी. रास्ते मे उसने उपर से ही काका को आवाज़ लगा कर बता दिया कि वीरेंदर को दवाइयाँ दे दी हैं, एक घंटे के बाद खाना लगा दें.

अपने रूम मे आने के बाद आशना अपने बेड पर लेट गई और वीरेंदर के साथ होने वाली बातों को सोच कर रोमांचित होने लगी. बीच में उसे काका के साथ हुई किचन की भी बात याद आ गई तो वो और सिहर उठी. ना जाने क्यूँ दिल के किसी एक कोने मे वो उन बातों को सहेज कर रखने लगी. आशना का ध्यान भंग हुआ जब उसके दरवाज़व पर नॉक हुई. आशना ने घड़ी की तरफ देखा, खाने का टाइम हो गया था. 

आशना: काका आप ख़ान लगाइए मैं आती हूँ. 

काका: जी बिटिया.

कुछ देर बाद आशना नीचे पहुँची तो देखा काका खाना लगा रहे थे. आशना ने इधर उधर देखा और फिर काका से पूछा वीरेंदर नहीं आए नीचे. 

काका: उन्होने कहा है कि वो उपर ही खाएँगे. 

इतना सुनते ही आशना सीडीयाँ चढ़कर उपर पहुँची और बिना नॉक किए दरवाज़ खोल दिया. वीरेंदर वहाँ नहीं था. तभी उसे बाथरूम के अंदर से आवाज़ आई, काका आप खाना रख दो मैं अभी आता हूँ. आशना कुछ ना बोली, वो वहीं खड़ी रही. कुछ दो-तीन मिनिट के बाद बाथरूम का दरवाज़ा खुला और वीरेंदर सिर्फ़ लोवर मैं बाहर निकला. बाहर निकलते ही उसने आशना को देखा जो हैरानी से कभी उसकी बालों से भरी चौड़ी छाती देख रही थी तो कभी उसके चेहरे की तरफ. उसके बाल गीले थे शायद वो बाल धोके आया था. इतने दिन हॉस्पिटल रहने के बाद शायद उसे अपने सर से बदबू सी आ रही होगी. कुछ पलों तक दोनो एक दूसरे को देखते रहे उसके बाद पहली हरकत वीरेंदर ने की. वीरेंदेट ने अपने दोनो बाज़ू अपनी छाती पर रख कर उन्हे छुपाने की कोशिश की. 

यह देख कर आशना की हसी छूट गई. वो फॉरन मूडी और कमरे से बाहर भागी. दरवाज़े पर पहुँच कर उसने धीरे से पीछे देखा और मुस्कुराते हुए बोली: क्या लड़कियो की तरह खड़े हो. जल्दी से कपड़े पहनो और नीचे आ जाओ, आज खाना नीचे ही मिलेगा. वीरेंदर ने अग्याकारी बच्चे की तरह हां में गर्दन हिलाई और लपक कर अलमारी खोली. आशना नीचे पहुँची तो उसके होंठों पर मुस्कान अभी भी थी जिसे देख कर बिहारी काका ने पूछा "क्यूँ देख लिया वीरेंदर बाबू को टॉपलेस. आशना ने हैरानी से काका को देखा जैसे पूछ रही हो उन्हे कैसे मालूम. 

काका: यह तो मालिक की पुरानी आदत है, जब भी वो दोपहर को घर पर होते है, खाना खाने से पहले वो अपनी टी-शर्ट उतार देते हैं. 

आशना: बाप रे, फिर तो रात के खाने में तो.......इतना कहना था कि दोनो खिलखिला कर हंस दिए. तभी वीरेंदर ने डाइनिंग हॉल में कदम रखा. दोनो एकदम चुप हो गये.

वीरेंदर अंदर आते ही: काका तुमने तो पता है ना, फिर तुमने इसे रोका क्यूँ नहीं. 

काका: मुझे पता ही कब लगा यह कब उपर गई, मैं तो इसे बता रह था कि तुमने खाना उपर मँगवाया है, ये तो पलक झपकते ही उपर पहुँच गई. 

वीरेंदर: आशना , आइ आम सॉरी. 

आशना: आइ आम सॉरी, मुझे नॉक कर के आना चाहिए था. 

बिहारी काका: चलो आप बैठ जाएँ मैं खाना परोस देता हूँ. 

आशना: काका, तुम जाकर खाना खा लो आज इनको खाना मैं परोसुन्गि. काका चले गये तो वीरेंदर बोला: देखो डॉक्टर. बन कर आई थी और क्या क्या करना पड़ रहा है? 

आशना: देखते जाओ अभी और क्या क्या करूँगी और हँस दी.


आशना ने दो प्लेट्स में खाना डाला और दोनो खाना खाने लगे. खाना कहते हुए बार बार दोनो की नज़रें मिल रही थी.आशना टाइट पिंक स्वेट शर्ट और ब्लॅक स्किन टाइट जीन्स में काफ़ी सेक्सी लग रही थी और वीरेंदर भी आशना से नज़रें चुराकर बार बार उसकी खूबसूरती का रस पी रहा था. आशना पूछना तो चाहती थी वीरेंदर से कि वो खाना इस डाइनिंग हॉल में ना ख़ाके अपने रूम मे क्यूँ ख़ाता है पर फिर उसे उसकी आदत (टी-शर्ट उतारकर खाना खाने की आदत) याद आ गई और उसने अपने दिमाग़ से वो सवाल झटक दिया. लेकिन आशना ने एक और सवाल वीरेंदर से कर दिया. 

आशना: वीरेंदर जी बुरा मत मानीएगा पर यह टी-शर्ट उतार कर खाना खाने की आदत कुछ समझ नही आई और यह सवाल पूछ कर वो हँस दी. 

वीरेंदर आशना के इस सवाल से झेंप गया और हड़बड़ाते हुए जवाब दिया "अक्सर जब मैं घर होता था और दोपहर का खाना खाने बैठता था तो खाना खाते खाते मुझे बड़ी बेचैनी सी होती थी, मेरा शरीर एकदम पसीने से नहा जाता, मेरा गला सूखने लगता तो फिर मैं अपनी कमीज़ या टी-शर्ट उतार फेंकता. बस अब आदत सी हो गई है. जब भी घर पर होता हूँ तो दोपहर को खाना ऐसे ही ख़ाता हूँ. 

आशना: क्या आज भी ऐसा ही फील हो रहा है खाना खाते वक्त. 

वीरेंदर: तुम तो पूरी जासूस की तरह पीछे पड़ गई हो. तुम्हे डॉक्टर. नहीं जासूस होना चाहिए. 

आशना: वोही समझ लो पर अभी तक आपने मेरे सवाल का जवाब नहीं दिया. 

वीरेंदर कुछ देर उसको देखता रहा फिर बोला ऐसा कभी कभी ही होता है और फिर तो मुझे उसके बाद कुछ होश ही नहीं रहता. उसके बाद तो कई घंटो तक मैं सोया ही रहता हूँ. 

आशना (चिंता भरे स्वर में): क्या अपने कभी डॉक्टर. से कन्सल्ट नहीं किया? 

वीरेंदर: डॉक्टर. आंटी को एक बार मैने अपनी बेचैनी के बारे मे बताया तो उन्होने चेकप किया और बताया कि सब नॉर्मल है बस थकान से ऐसा होता है. 
-  - 
Reply
02-01-2019, 04:35 PM,
#16
RE: bahan sex kahani भैया का ख़याल मैं रखूँगी
आशना को कुछ गड़बड़ लग रही थी पर वो डॉक्टर. तो थी नहीं जो इस बीमारी का कारण जान सकती. उसने खाना खाने के बाद प्लेट्स संभाली और काका को आवाज़ लगा कर कहा कि बर्तन उठा कर सॉफ कर दें. फिर वीरेंदर अपने कमरे की तरफ चल पड़ा और आशना अपने कमरे में चली गई.


काफ़ी दिनो से थकि होने के कारण आशना को बेड पर लेटते ही गहरी नींद ने अपने आगोश में ले लिया. आशना की नींद खराब की उसके मोबाइल की रिंगटोन ने " ज़रा-ज़रा टच मी टच मी टच मी ओ ज़रा- ज़रा किस मी किस मी किस मी". आशना ने अलसाए हुए रज़ाई(क्विल्ट) से अपने चेहरे को कस के ढक लिया ताकि रिंगटोन की आवाज़ उसके कानों तक ना पड़े मगर मोबाइल लगातार बजे जा रहा था. कुछ देर बाद झल्ला कर उसने फोन उठाया और स्क्रीन पर नंबर. देखने लगी. जैसे ही उसकी नज़र स्क्रीन पर पड़ी कॉल डिसकनेक्ट हो गई. आशना का मन आनंदित हो गया. आशना ने मोबाइल तकिये के पास रखा और सोने के लिए आँखें बंद ही की थी कि एक बार फिर से मोबाइल बजने लगा. अब तक आशना की नींद टूट चुकी थी, उसने स्क्रीन पर नंबर. देखा, डॉक्टर. बीना का फोन था. फिर आशना ने घड़ी की तरफ देखा, 7:00 बज चुके थे. आशना ने कॉल रिसीव की और बीना ने उसका और वीरेंदर का हाल जानने के बाद फोन काट दिया. हालाँकि उनकी बातचीत कुछ ज़्यादा देर नहीं चली पर बीना ने उसे एक हिदायत देते हुए कहा कि जो भी करना है जल्द से जल्द और सोच समझ कर करना. उसने इस बात पर खास ज़ोर दिया कि वीरेंदर को ना पता चले कि वो उसकी बेहन है क्यूंकी हो सकता है वीरेंदर ज़्यादा गुस्से में आ जाए और उसकी सेहत पर इसका उल्टा असर पड़े.

फोन अपनी पॅंट की पॉकेट मे रखने के बाद आशना ने अपनी न्यू जॅकेट जो कि लाइट ब्राउन कलर की थी उसे पहन लिया. शाम को काफ़ी ठंड हो गई थी. आशना अपने कमरे से बाहर नहीं निकली, वो अपने रूम मे ही बैठ कर टीवी देखने लगी और आगे क्या करना है वो सोचने लगी. करीब 2 घंटे तक काफ़ी सोचने के बाद उसके सिर में दर्दे होने लगा. उसे समझ में नहीं आ रहा था कि वो अब क्या करे. कैसे वीरेंदर भैया से उनकी शादी की बात करे और सबसे बड़ा सवाल कि शादी करने के लिए लड़की कहाँ से लाई जाए. अंत में आशना ने वीरेंदर को ही कुरेदना ठीक समझा और उसके कमरे में जाने की सोची. 

आशना टीवी ऑफ करके अपने कमरे से बाहर निकली ही थी के उसे बिहारी काका वीरेंदर के रूम से खाने की ट्रे लिए निकलते हुए दिखे. 

आशना: काका वीरेंदर ने खाना खा लिया क्या?

काका: हां बिटिया, तुम्हारे लिए भी उपर ही ले आउ. आज बहुत ठंड है, अपने कमरे में ही खा लो. 

आशना कुछ देर सोचती रही फिर बोली ठीक है काका, आप खाने मेरे रूम में लगा दें, मैं थोड़ी देर वीरेंदर के रूम से होके आती हूँ, उन्हे दवाई खिला दूं. 

काका: ठीक है. 

आशना आगे बढ़ी ही थी कि उसके पैर एक दम रुक गये, 

उसके रुके कदमों को देख कर काका ने उसे सवालिया नज़रो से देखते हुए इशारे से पूछा कि क्या हुआ. 

आशना: वो काका वीरेंदर जी पूरे कपड़े तो पहने हैं ना? 

काका: हां तुम सुरक्षित हो जाओ. काका के इस जवाब से आशना शरम के मारे ज़मीन मे गढ़ी जा रही थी. उसके बाप समान एक आदमी उसे यह समझा रहा था कि जिस आदमी के पास वो जा रही है वो उसे कुछ भी नहीं करेगा. 

काका: बिटिया, जब वीरेंदर बाबू का हो जाए तो हमारा भी एक काम करना.

आशना एक दम चौंकी काका की बात सुनकर. बिहारी ने बहुत जल्दी बात संभालते हुए कहा कि बिटिया मेरा मतलब है कि जब वीरेंदर बाबू दवाइयाँ खा लें तो तुम मेरे कमरे में नीचे आना, तुमसे कुछ ज़रूरी बातें करनी हैं. आशना जल्द से जल्द यहाँ से निकलना चाहती थी उसने अपनी गर्दन हां में हिलाई और वीरेंदर के रूम की तरफ चल दी. 


बिहारी नीचे आ गया और अपने मोबाइल को ऑन करके एक नंबर. डाइयल किया. कुछ देर बाद वहाँ से किसी ने फोन उठाया. बिहारी धीमी आवाज़ में "चिड़िया के मन में आग डाल रहा हूँ, अब आगे बोलो जब वो मेरे कमरे में आए तो क्या करना है. कुछ देर बिहारी चुप चाप उसकी बात सुनता रहा और फिर बोला ऐसा ही होगा. फिर बिहारी बोला: बहुत दिन हो गये हैं, अब तो दिन में मिलना भी मुस्किल है जब तक इस चिड़िया के पर ना कट जाएँ, अगर मूड है तो आज रात को आ जाओ नहीं तो मुझे आज फिर से हिलाकर ही सोना पड़ेगा. थोड़ी देर सामने वाले की बात सुनकर बिहारी बोला: तो मैं क्या यहाँ ऐश कर रहा हूँ. पिछले 10 दिन तो खूब ऐश की हम दोनो ने. कभी तुम यहाँ तो कभी मैं वहाँ. पर अब मेरा घर से निकलना ख़तरे से खाली नहीं होगा. चिड़िया चालाक लगती है, थोड़ा सा भी इधर उधर हुआ तो ख़तरा होगा, इसी लिए अब कुछ दिन तो तुमको ही यहाँ पर आना होगा. बिहारी ने कुछ देर सुनने के बाद सामने वाले को बोला: मैं दरवाज़ा खोल दूँगा तुम सेधे मेरे कमरे में आ जाना. वीरेंदर को तो नींद की गोलियाँ दे चुका हूँ दूध में. चिड़िया को भी दूध पिलाकर सुला दूँगा फिर जशन होगा. तुम ठीक 12:00 बजे पहुँच जाना. इतना कह कर उसने फोन काटा, उसे स्विचऑफ किया और आशना के लिए खाना लेने किचन में चला गया. 


बिहारी काका पिछले 25 साल से शर्मा परिवार के घर पर नौकर था, काफ़ी ईमानदार और काम मे लगन होने के कारण उसके साथ शर्मा परिवार में एक फॅमिली मेंबर की तरह बिहेव किया जाता. वो कभी किसी को कोई शिकायत का मोका नहीं देता. दिखने मे कोई 45 का एक तगड़े शरीर का मालिक था. बचपन मे गाँव मे पला बढ़ा होने के कारण मेहनत उसके खून मे थी और वो थोड़ी मेहनत अपने शरीर पर भी किया करता. इस उम्र मे भी वो सुबह जल्दी उठ कर घर मे बने पीछे जिम मे कुछ देर शरीर के लिए मेहनत करता और काफ़ी हेल्ती भी ख़ाता. बस उसकी यही आदत के कारण वो आज भी किसी भी औरत या लड़की पे भारी पड़ता. उसने शादी नहीं की क्यूंकी उसे शादी की ज़रूरत ही नहीं पड़ी, क्यूंकी जब तक शर्मा परिवार मे सब ठीक था, वो घर की नौकरानियों को खूब रगड़ता. फिर उस आक्सिडेंट के बाद वीरेंदर ने घर के सभी नौकर नोकारानियों को घर से दूर एक बस्ती मे बसा दिया जिससे बिहारी वीरेंदर से नफ़रत करने लगा था. उसने वीरेंदर को बहुत समझाया कि कम से कम एक नौकरानी को यहीं रहने दे ताकि वो घर के काम मे उसकी मदद करे पर कोई भी नौकरानी रुकने को तैयार नहीं हुई. उन्हे रहने के लिए बस्ती मे मकान, वीरेंदर से पगार और बिहारी से छुटकारा जो मिल रहा था.
-  - 
Reply
02-01-2019, 04:35 PM,
#17
RE: bahan sex kahani भैया का ख़याल मैं रखूँगी
बिहारी तो पहले, पूरा दिन भर सर्वेंट क्वॉर्टर्स मे ही रहता. कभी किसी नोकरानी को तो कभी किसी नोकरानी को अपने कमरे मे बुलाकर बहाल कर रहा होता. वो घर मे सर्वेंट्स का हेड था तो कभी किसी की हिम्मत नहीं हुई उसकी शिकायत करने की. एक बार एक नोकरानी ने शिकायत करके उसे घर से निकालने की कोशिश भी की पर बिहारी ने उसके पति को पैसे देके उसी नोकरानी को बदचलन साबित करके घर से धक्के देके निकलवा दिया था. बाद मे पता लगा कि उसके पति ने भी उसे तलाक़ दे दिया था. इस डर से कोई भी उसके खिलाफ नहीं बोलता. सारे नोकरो के जाने के बाद बिहारी तो जैसे भूखे शेर की तरह हो गया था. वो रोज़ रात को अपना पानी निकाल कर सो जाता पर इस से उसकी आग और भड़क रही थी. लेकिन जल्द ही उसकी ज़िंदगी मे एक ऐसी औरत आई जो अपनी नज़र शर्मा परिवार की जायदाद पर रखती थी. एक बार वो हवेली मे आई तो बिहारी से उसकी मुलाकात हुई. उस औरत ने जल्द ही बिहारी की आँखों मे हवस देख ली और उसे फसा लिया. 

बस यहाँ से शुरू हुआ उनका वीरेंदर की जायदाद को हथियाने का एक चक्रव्यूह. वो औरत भी बिहारी जैसा दमदार मर्द पाकर खुश थी. दोनो अक्सर घर पर मिलने लगे जब वीरेंदर ऑफीस होता और धीरे धीरे उन्होने वीरेंदर की जायदाद हड़पने के प्लान पर अमल करना शुरू कर दिया. लेकिन आशना के यूँ अचानक आ जाने से उन्हे अपना प्लान असफल होता नज़र आ रहा था क्यूंकी वीरेंदर की वसीयत के मुताभिक अगर आशना घर वापिस लौट आती है तो 50% शेर उसका होगा और अगर वो लौट के ना आए तो सारा शेयर वीरेंदर की वाइफ और बच्चों को जाएगा (यह वसीयत वीरेंदर ने अपने परिवार की मौत के तुरंत बाद बनवा ली थी और तब तक उसे यही लगता था कि रूपाली उससे शादी करेगी). वसीयत मे एक यह क्लॉज़ भी था कि अगर किसी कारण वीरेंदर की मौत आशना के लौटने से पहले या वीरेंदर की शादी होने से पहले हो जाती है तो सारी ज़ायदाद एक ट्रस्ट को सौंप दी जाएगी. 

आशना के आ जाने से बिहारी और उस औरत की एक मुश्किल बढ़ गई थी और एक आसानी भी हो गई थी. मुश्किल यह थी कि अगर आशना वीरेंदर के सामने उसकी बेहन बनकर जाएगी तो 50% शेयर उसका हो जाएगा और तब उनका सारी जायदाद पर हाथ सॉफ करने का सपना अधूरा रह जाएगा पर आसानी यह हो गई कि आशना वीरेंदर के सामने उसकी बेहन बनकर नहीं जाना चाहती थी (जी हां, ठीक सोचा अपने, बिहारी जानता है कि आशना वीरेंदर की बेहन है. वो यह सब कैसे जानता है उसके लिए पढ़ते रहिए), जिस कारण उनके दिमाग़ में एक नया प्लान बना. वीरेंदर जैसे चालाक और समझदार आदमी को तो अपने बस मे करना उनके लिए नामुमकिन था पर आशना को इस झूठ के ज़रिए वो ब्लॅकमेल कर सकते थे. तो उन दोनो ने प्लान किया कि किसी तरह आशना वीरेंदर की सेक्षुयल नीड्स को पूरा करे या वो ऐसे हालत पैदा करें कि आशना मजबूर हो जाए अपने भैया का बिस्तर गरम करने के लिए तो फिर वो वीरेंदर का काम तमाम करके आशना को वीरेंदर की बीवी साबित करके उससे वसीयत बदलवा सकते हैं. इससे दो फ़ायदे होंगे, एक तो यह कि आशना कभी अपना मूह नहीं खोल पाएगी और दूसरा यह कि अगर आशना ना होती तो उन्हे किसी और लड़की की मदद लेनी पड़ती जो कि ख़तरनाक भी साबित हो सकता था.

तो यह था उनका नया प्लान, जो उन्होने आशना के आने के बाद बनाया, उनका पहले का प्लान भी काफ़ी ख़तरनाक और दमदार था. वीरेंदर के खाने में वो कभी कभी कुछ अफ़रोडियासिक का एक मिश्रण मिला दिया करते थे जिससे वीरेंदर की सेक्स करने की इच्छा भड़क उठे और वो फ्रस्टेट होके किसी भी औरत या लड़की को अपना शिकार बना डाले. इस से यह होता कि सेक्षुयल असॉल्ट के जुर्म में वीरेंदर जैल जाता और यह दोनो पीछे से सारा माल सॉफ कर जाते मगर इस में किस्मत उनका साथ नहीं दे रही थी क्यूंकी वीरेंदर ऑफीस से घर और घर से ऑफीस बस इन्ही दो जगह जाता था और दोनो ही जगह कोई भी लड़की काम नहीं करती थी. बिहारी ने कई बार वीरेंदर को किसी औरत या लड़की को नौकरानी रखने के लिया मनाना चाहा पर वीरेंदर ने हर बार मना कर दिया. वीरेंदर अपनी सेक्षुयल ज़रूरतें खुद भी पूरी करने में असमर्थ था, शुरू शुरू में एक बार उसने काफ़ी एग्ज़ाइटेड होकर अपने लिंग को हाथो से ठंडा करने की कोशिश भी की पर उसके लिंग की सील बरकरार होने से यह उसके लिए काफ़ी कष्टदायक रहा. उसके बाद तो वीरेंदर ने तोबा कर ली थी. जिस भी दिन बिहारी काका को उस दवाई की डोज दे देते, वो काफ़ी उत्तेजित रहता और यही वजह है कि कई बार उसे दोपहर का खाना खाते खाते एकदम बैचनी होने लगती और वो अपने कपड़े उतार फैंकता. बिहारी काका अक्सर उसे 10-15 दिन बाद एक डोज दोपहर के खाने में दे देते जब भी कभी वीरेंदर घर पर लंच करता. उन्होने दोपहर का ही वक्त इसलिए चुना था कि जब डेढ़ दो घंटे बाद इसका असर बिल्कुल ज़्यादा हो तो उस वक्त वीरेंदर के बाहर जाकर कोई ग़लती करने के चान्सस ज़्यादा रहते पर वीरेंदर पर तो रूपाली का धोखा इस कदर हावी हो चुका था के वो घंटो अपने कमरे में ही खोया खोया बैठा रहता और अपनी उत्तेजना को दबाने की कोशिश करता रहता.इसी फ्रस्टेशन के चलते ही कुछ दिन पहले उसे एक माइनर सा अटॅक आया था जिस कारण वो हॉस्पिटल पहुँचा. दवाइयों के सहारे कुछ दिन तक तो उसे ठीक रखा जा सकता था पर अब यह सिचुयेशन उसके लिए काफ़ी ख़तरनाक साबित हो रही थी. बिहारी जानता था अगर इससे पहले कुछ ना किया तो वीरेंदर की वसीयत के मुताबिक उसका सारा पैसा एक ट्रस्ट में चला जाएगा जिसे वो हरगिज़ मंजूर नहीं करता. उसी चाल के सिलसिले में उसने आशना को उसने अपने कमरे में बात करने के लिए बुलाया था.

आशना को वीरेंदर के कमरे से अपने कमरे मे आए हुए एक घंटे के करीब हो गया था. बिहारी सोच रहा था कि अब तक आशना ने खाना खा लिया होगा. बिहारी अपने कमरे के दरवाज़े पर खड़ा होकर उपर की तरफ ही देख रहा था कि उसे आशना के रूम का दरवाज़ा खुलने का आभास हुआ, वो फॉरन अपने कमरे में घुस गया और दरवाज़ा धीरे से बंद कर दिया. करीब पाँच मिनिट तक वेट करने के बाद भी जब आशना उसके रूम मे नहीं आई तो उसे हैरानी और परेशानी दोनो होने लगी. अब तो बिहारी को डर भी लगने लगा था क्यूंकी 11 बजने वाले थे और करीब 12 बजे उस औरत ने भी आना था.

बिहारी अजीब की कशमकश में था कि उसका दरवाज़ा धीरे से नॉक हुआ. बिहारी एक दम अपनी जगह से उठा और दरवाज़ा खोल दिया जो कि पहले से ही थोड़ा खुला था. 

बिहारी: नॉक करके क्यूँ शर्मिंदा करती हो बिटिया यह तुम्हारा ही कमरा, मेरा मतलब घर है जब चाहे किसी भी कमरे में आ- जा सकती हो. आशना को झटका लगा जब बिहारी ने उसे कहा कि यह उसका ही घर है. बिहारी को भी अपनी ग़लती का एहसास हो चुका था. उसने जल्दी से बात बदलते हुए कहा कि कुछ दिनो तक जब तक मालिक ठीक नहीं हो जाते तब तक तो तुम यहीं पर रुकेगी तो तब तक यह घर उसी का हुआ ना. बिहारी ने बड़ी चालाकी से अपनी बात पलट दी थी.


अंदर आते ही आशना की नज़र बिहारी के कमरे पर पड़ी, बड़ा ही सॉफ सुथरा और घर के बाकी कमरो की तरह काफ़ी आकर्षक कमरा था. सुख-सुविधाओ से सुसज्जित कमरे मे हर एक वस्तु मौजूद थी. हर एक चीज़ जो इंसान की ज़रूरत होती है वो सब उस कमरे मे मौजूद थी जो कि बिहारी का रुतबा इस घर मे बयान कर रही थी. आशना हैरान थी कि एक नौकर का कमरा भी इतना सुंदर हो सकता है. खैर वीरेंदर को इसका होश ही कहाँ था कि घर मे क्या हो रहा है, उसे तो बस काम और सिर्फ़ काम से मतलब था. 
-  - 
Reply
02-01-2019, 04:35 PM,
#18
RE: bahan sex kahani भैया का ख़याल मैं रखूँगी
बिहारी: बैठो बिटिया मैं तुम्हारे लिए पानी लाता हूँ. 

आशना: नहीं काका अभी पीकर ही आई हूँ. 

बिहारी: बहुत लेट हो गई तुम, मुझे लगा शायद सो गई होगी. मैं भी सोने ही वाला था कि तुम आ गई. 

आशना: नहीं काका वो डॉक्टर. बीना का फोन आया था, वीरेंदर के ट्रीटमेंट के बारे मे समझा रही थी.. आशना ने बड़ी सफाई से झूठ बोल दिया जबकि वो यही सोचे जा रही थी कि बिहारी काका ने उसे अपने कमरे मे क्यूँ बुलाया है. 

बिहारी: कोई बात नहीं, बैठो. 

आशना बेड के पास लगे सोफे पर बैठ गई. उसके आगे मेज़ पर एक शराब की बोतल और खाली ग्लास रखा था. शराब काफ़ी महँगी लगती थी और ग्लास में कुछ शराब होने के कारण आशना समझ चुकी थी कि काका शराब पी रहे थे. आशना बड़ा अनकंफर्टबल फील कर रही थी काका के आगे. वो डर रही थी कि अगर काका ने कोई ग़लत हरकत की तो वो कैसे अपने आप को सच्चा साबित कर पाएगी क्यूंकी वीरेंदर तो उस से यही पूछेगा इतनी रात को आशना उसके कमरे मे क्या कर रही थी. 

बिहारी: वो माफ़ करना बिटिया कभी कभी पी लेता हूँ जब बहुत ज़्यादा खुश होता हूँ या बहुत ज़्यादा उदास. आज तो मेरी लिए खुशी का दिन है, मालिक ठीक होकर घर पर आ चुके हैं. 

आशना: कोई बात नहीं काका. 

बिहारी उसके लेफ्ट साइड पर आके सोफे के साथ लगे बेड पर बैठ गया. आशना ने वोही दोपहर वाली पिंक टी-शर्ट पहनी थी और जॅकेट वो उपर ही भूल आई थी. बिहारी उसके लेफ्ट साइड पर बैठा था जिस से बिहारी की नज़र आशना के क्लीवेज पर पड़ी जो कि आशना के बैठने से बाहर की तरफ उभर आई थी. आशना ने झट से काका की नज़रें पढ़ ली पर वो इसी वक्त कुछ रियेक्शन करती तो उसे खुद भी ज़िल्लत उठानी पड़ती और काका भी झेन्प जाते. 

आशना: बोलिए काका, क्या कम था आपको मुझसे. 

बिहारी उसकी आवाज़ सुनकर एक दम अपना ध्यान आशना के बूब्स से हटाता है और बोलता है. 


बिहारी: अब तुम्हें ही कुछ करना होगा मालिक के लिए. 

आशना: मैं समझी नहीं. 

बिहारी: देखो मैं ज़्यादा पढ़ा लिखा तो नहीं पर जितना डॉक्टर. ने मुझे बताया उससे मैं यह अंदाज़ा तो लगा ही सकता हूँ कि वीरेंदर बाबू को कोई बीमारी नहीं है. बस उनकी कुछ ज़रूरतें हैं जो पूरी नही हो रही. 

आशना ने सिर झुका कर कहा: लेकिन काका मैं इस बारे मे उनकी क्या मदद कर सकती हूँ. 

बिहारी: देखो आशना, इतनी नासमझ तो तुम हो नहीं कि मेरी बात का मतलब ना समझो पर खैर कोई बात नहीं मैं तुम्हे समझाता हूँ. आशना एक दम हैरान होकर बिहारी काका की तरफ देखने लगी क्यूंकी दिन भर बिटिया-बिटिया बुलाने वाले काका एकदम उसका नाम लेकर बात कर रहे थे.
आशना डर के मारे काँपने लगी. बिहारी उसकी हालत समझते हुए बोला: डरो नहीं, मैं तुमसे कोई भी काम ज़बरदस्ती नहीं करवाउंगा पर अगर तुम वीरेंदर बाबू को पूरी तरह ठीक करने मे मेरी मदद करो तो मैं वादा करता हूँ कि तुम्हें ज़िंदगी भर काम करने की ज़रूरत ही नहीं रहेगी. आशना मूह फाडे बिहारी की बातें सुन रही थी, उसके गले से शब्द ही नही निकल पा रहे थे. वो काका की बातों का मतलब भली भाँति समझ रही थी. उसके दिल के किसी कोने में यह ख़याल तो कुछ दिनों से घर कर ही गया था पर वो इसे नकार रही थी, आख़िर वीरेंदर भाई था उसका. पता नहीं काका क्या क्या बोले जा रहे थे पर उनकी आख़िरी बात ने उसे चौंका दिया "आशना अगर तुमने मेरी बात मान ली तो मैं वादा करता हूँ कि वीरेंदर बाबू तुम्हे अपनाए या ना अपनाए पर मैं तुम्हें समाज मे इज़्ज़त दिलवाउन्गा और ज़रूरत पड़ने पर तुम्हारे बच्चो को मैं अपना नाम देने को तैयार हूँ. आशना का पहले तो मन किया कि खैंच के एक ज़ोरदार थप्पड़ बिहारी के गाल पर मारे पर उसने अपने आप को रोक लिया, क्यूंकी अगर बात बिगड़ गई तो फिर आशना को अपनी सफाई देनी मुश्किल हो जाएगी कि वो इतनी रात को बिहारी के कमरे में बिहारी काका से साथ क्या कर रही थी जब कि बिहारी इस समय शराब पी कर धुत था. 

बिहारी अपनीी बात बोलकर चुप हो गया और आशना की तरफ देखने लगा. आशना की साँसे तेज़ चल रही थी जिससे उसके उन्नत वक्ष उसकी टी-शर्ट मे हिल रहे थे. बिहारी बड़े ही ध्यान से उन्हे एकटक देखे जा रहा था. आशना ज़्यादा देर तक वहाँ बैठ ना सकी क्यूंकी अब उसे बिहारी काका की हवस भरी नज़रो मे उतावलापन नज़र आ रहा था. वो उठकर जैसे ही जाने को हुई. बिहारी बोला: कोई जल्दी नहीं है, तुम सोच समझ कर फ़ैसले लो. लेकिन इतना याद रखना कि तुम्हे मालामाल कर देंगे और तुम्हे अपनाने के लिए मैं तो हूँ ही ना अगर वीरेंदर बाबू ने तुम्हे बाद मे ठुकरा भी दिया तो. एक एक शब्द आशना की आत्मा को छल्नि कर रहा था. आशना दौड़ कर सीडीयाँ चढ़ने लगी तो बिहारी ने आवाज़ लगा कर कहा कि उपर आपके रूम मे दूध भी रखा है. अगर पिया नहीं तो अब पीकर सो जाना, नींद अच्छी आ जाएगी. आशना ने कोई जवाब नहीं दिया और भाग कर अपने कमरे मे आई और अंदर आते ही आशना धडाम से बेड पर पेट के बल गिरी और सिसक उठी. 

यह उसके साथ क्या हो रहा है. क्यूँ वो इस जगह आई, वो तो बहुत खुश थी अपनी उस छोटी सी दुनिया मे. वहाँ उसे कोई पाबंदी नहीं थी, वो वहाँ पर एक आज़ाद ज़िंदगी जी रही थी मगर यहाँ आते ही उसकी ज़िंदगी ने एक अलगा ही रुख़ ले लिया था. पहले उसे अपने ही भाई के घर मे झूठ बोलकर घुसना पड़ा और फिर अब वो अपनी नौकरी भी छोड़ चुकी थी. हालाँकि आशना के लिए नयी नौकरी ढूँढना कोई बड़ा मुश्किल काम नहीं था. अभी भी एक एरलाइन्स का ऑफर उसके पास था मगर वो यहाँ से जा भी तो नहीं सकती थी वीरेंदर को इस हालत मे छोड़कर. वो यह भी जानती थी कि यहाँ रुकना भी उसके लिए ठीक नहीं रहेगा. आख़िर वो कब तक वीरेंदर से सच छुपाकर रखेगी. उसे वीरेंदर से सच बोलने मे भी अब कोई प्राब्लम नहीं थी पर वो परेशान थी तो बिहारी की बातों से. कैसे उस इंसान ने सॉफ शब्दों मे आशना को समझा दिया कि उसे वीरेंदर की रखैल बनकर इस घर में रहना पड़ेगा और अगर वीरेंदर ने आशना से बेवफ़ाई की और इस सौदे मे वो प्रेग्नेंट हो गई तो बिहारी उससे शादी करके उसके बच्चों को अपना नाम दे देगा आशना काफ़ी देर तक सोचती रही और घुट घुट कर रोती रही. फिर उसे नीचे मैन दरवाज़ा खुलने की आवाज़ आई. आशना ने सोचा बुड्ढ़ा शराब पीकर कहीं जा रहा होगा. आशना जो कि बिहारी की इज़्ज़त करती थी उसकी इस हरकत से बिहारी उसकी नज़रो से गिर चुका था. वो जान चुकी थी बिहारी की गंदी नज़र उसके जिस्म पर है. उसने बिहारी की आँखों मे हवस के लाल डोरे तैरते देखे थे जब वो उससे बात कर रहा था. आशना मन मैं सोचने लगी कि हवस इंसान को कितना अँधा बना देती है. वो इंसान यह भी नही सोचता कि सामने उसकी बेटी है या बेटी जैसी कोई और. 

काफ़ी देर यूँही अपना मन हल्का करने के बाद आशना उठी और मूह धोने के लिए बातरूम मे चली गई. वॉशरूम मे मूह धोते हुए उसकी नज़र अपने चेहरे पर पड़ी. उसने अपने आप को ध्यान से देखा और सोचने लगी : क्या मैं इतनी खूबसूरत हूँ कि एक बूढ़ा इंसान भी मेरी तरफ आकर्षित हो सकता है. ऐसा सोचते सोचते आशना रूम मे आई और शीशे के सामने खड़ी होकर अपने आप को देखने लगी. अपने जिस्म को प्यासी नज़रो से देखते हुए उसके गाल लाल होने लगे और उसकी साँसे भारी होने लगी. आज कितने दिन हो गये थे उसे अपने आप से प्यार किए हुए. यह सोचते ही आशना के शरीर मे एक बिजली की लहर सी दौड़ गई और अनायास ही उसके हाथ अपनी टी-शर्ट के सिरो को पकड़ कर उपर उठाते चले गये.

आशना ने टी-शर्ट सिर से निकाल कर उसे एक तरफ़ उछाल दिया और फिर अपनी पॅंट के बटन खोलने लगी. आशना का दिल काफ़ी ज़ोरों से धड़क रहा था, उसने पॅंट भी टी-शर्ट के पास उछाल दी और टेबल पर रखे दूध को एक ही घूँट मे पीकर रज़ाई मे घुस गई. आशना ने जैसे ही आँखे बंद की उसके हाथ अपने आप ही उसके अन्छुए कुंवारे बदन पर हर जगह छाप छोड़ने लगे. आशना की एग्ज़ाइट्मेंट बढ़ती ही जा रही थी. अपने ब्रा कप अपने बूब्स से हटा कर उसने अपने गुलाबी निपल्स को अपनी उंगलियो मे कस लिया जिससे वो और भी तन कर खड़े हो गये जैसे चीख चीख कर बोल रहे हों कि आओ और घोंट दो हमारा गला. जैसे ही आशना ने निपल्स पर अपनी गिरफ़्त बढ़ाई उसके गले से एक आह निकली जो कि एक घुटि चीख का रूप लेकर उसके होंठों तक आ पहुँची. आशना बहुत ही ज़्यादा एग्ज़ाइटेड हो चुकी थी. वो सेक्स के नशे मे अपने बूब्स को लगातार मरोड़ रही थी. आशना ने हाथ पीछे लेजाते हुए अपने ब्रा के हुक्स खोल दिए और ब्रा को अपने कंधे से निकाल कर एक ओर उछाल दिया. अब आशना केवल एक पैंटी मे रज़ाई के अंदर रह गई थी. आशना ने अपने पैर के पंजो पर वेट डाल कर अपनी आस को हवा मे उठाया और धीरे धीरे से अपनी पैंटी भी उतार दी. जैसे जैसे पैंटी उसके बदन का साथ छोड़ रही थी आशना की साँसें तेज़ होने लगी. पैंटी को एक साइड पर फैंकते ही उसने अपनी दोनो टाँगे ज़ोरे से भींच ली जैसे कोई उसकी इस हरकत को देख रहा हो.वो इस वक्त ऐसा महसूस कर रही थी कि वो इस कमरे मे अकेली नहीं कोई और भी उसके साथ है. इस सोच ने उसे और भी रोमांचित कर दिया. उसका चेहरा एक दम आग उगल रहा था और निपल्स तन कर डाइमंड की तरह हार्ड हो गये थे. आशना जानती थी कि अब वो नहीं रुक पाएगी. धीरे धीरे आशना के थाइस का फासला बढ़ता गया और एक वक्त ऐसा आया कि आशना की दोनो टाँगो के बीच काफ़ी जगह बन गई. आशना ने अपने बाएँ हाथ की छोटी उंगली अपनी पुसी की दर्रार मे चलानी शुरू कर दी. लेकिन उसकी पुसी के बाल उसे पूरी तरह उलझाए हुए थे. धीरे धीरे उसने बालों को एक साइड करके अपनी उंगली के लिए जगह बनाई और जैसे ही उसने दरार मे उंगली उतारने की कोशिश की वो दर्द से कराह उठी. एग्ज़ाइट्मेंट मे उसने उंगली ज़्यादा अंदर घुसा दी थी. आशना ने फॉरन उंगली बाहर निकाली और उंगली की तरफ देखने लगी. आशना मन मे सोचते हुए: यह छोटी सी उंगली अंदर घुसने मे इतनी तकलीफ़ करती है तो तब क्या होगा जब इस मे कोई अपना पेनिस डालेगा. यह ख़याल आते ही उसे वीरेंदर की याद आ गई. आज तक आशना ने सिर्फ़ अपने आप को ही प्यार किया था पर आज उसे एक दम वीरेंदर की याद आ जाने से उसके तन बदन मे आग बढ़ने लगी. आशना ने लाख कोशिश की कि वो वीरेंदर के बारे मे ना सोचे पर इस वक्त दिल- दिमाग़ पर हावी हो रहा था. वीरेंदर का ख़याल आते ही उसकी हथेली अपनी पुसी पर चलने लगी. जैसे ही आशना ने अपनी आँखें बंद की उसे वीरेंदर का चेहरा दिखाई दिया और बस इतना काफ़ी था उसे उसके अंजाम तक पहुँचाने के लिए. उसकी आस हवा मे 5-6 बार उठी और फिर धीरे धीरे उसका शरीर ठंडा पड़ने लगा. जैसे ही आख़िरी धार उसकी पुसी ने छोड़ी आशना की आँखों के आगे बिहारी का चेहरा घूम गया. आशना ने डर कर एकदम आँखे खोल दी. धीरे धीरे उसने अपनी सांसो पर काबू पाया और फिर अच्छे से रज़ाई लेकर नींद की आगोश मे चली गई. 

अपने ही घर मे आशना का अपने साथ यह पहला प्यार था. वो जानती थी कि ऐसे कई दिन आएँगे जब उसे अपना सहारा बनना पड़ेगा क्यूंकी आशना जब भी फ्री होती उसे मास्टरबेशन करने का मन करता. उसे देख कर कोई सोच भी नहीं सकता था कि इतनी भोली भली सी दिखने वाली लड़की सेक्स मे इतना इंटेरेस्ट रखती होगी.
-  - 
Reply
02-01-2019, 04:36 PM,
#19
RE: bahan sex kahani भैया का ख़याल मैं रखूँगी
चलिए दोस्तो इस पॉइंट को भी देख लेते हैं
पहला तो यह कि जब आशना ने रात को मैन दरवाज़े के खुलने की आवाज़ सुनी तो उस वक्त वो औरत दबे पाँव बिहारी के रूम मे घुस गई. उस औरत के रूम मे घुसते ही बिहारी ने जल्दी से कमरे का दरवाज़ा बंद किया और फिर टूट पड़ा उस औरत पर. बिहारी केवल एक अंडरवेर मे बैठ कर शराब पी रहा था और शराब के नशे मे चूर था. उसका लिंग तो आशना के झूलते हुए वक्षों को देख कर ही अकड़ने लग गया था.जब उस औरत ने कमरे में कदम रखा था तो बिहारी दरवाज़े की तरफ लपका और जैसे ही दरवाज़ा बंद हुआ उस औरत को अपनी गोद मे उठा कर नरम मुलायम बेड पर पटक दिया. दिखने मे वो औरत ज़्यादा उम्र की नहीं थी. कोई 36-37 साल की उम्र की वो औरत दिखने मे एक अच्छे घर से लगती थी. उसके ड्रेसिंग स्टाइल से यही लगता था कि वो काफ़ी मॉडर्न फॅमिली से बिलॉंग करती होगी. उस औरत ने बिहारी को रोकते हुआ कहा कि पहले काम की बात कर लें मेरे राजा. 

फ्रेंड्स यहाँ से आगे मैं कुछ ऐसे वर्ड्स यूज़ करने जा रही हूँ जो मेरे नेचर मे तो नहीं पर कहानी को देखते हुए या आपके टेस्ट को ध्यान मे रखते हुए उन्हे यूज़ करना पड़ेगा. शायद इसके द्वारा मैं आप सब को बिहारी और उस औरत की मानसिक स्तिथि के अवगत करवा सकूँ और आप अपने मन मे उनकी एक छवि बनाने मे कामयाब हो सकें.

बिहारी: वो बातें भी होती रहेंगी, पहले इसे तो संभाल, यह कहते ही उसने अपना अंडरवेर उतार फैंका और उस औरत के मूह पर दे मारा. 

बिहारी: देख साली पिछले दो दिन से तेरे नाम की मूठ मार मार कर यह अंडरवेर भी भर दिया पर तुझे इस पर दया नहीं आई.

उस औरत ने मुस्कुराते हुए कहा: तुम्हे देख कर लगता है कि तुम्हारा हमेशा खड़ा ही रहता है और यह कहकर बिहारी के आधे खड़े लंड को पकड़ कर कहने लगी, देखो तो क्या हाल बना रखा है तुमने इसका. बिहारी ने एक गरम सांस छोड़ी और उसकी ओर एक कदम बढ़ाया. एक कदम आगे आने से उसका लंड उस औरत के मूह से थोड़ा ही दूर रह गया. बिहारी अपना हाथ उसके सिर पर रखते हुए उसके मूह को अपने लंड के पास खींचने की कोशिस करने लगा. उस औरत ने कामुक नज़रों से बिहारी को देखा और फिर नज़रें उसके लंड पर रखकर अपने होंठों पर जीभ फेरने लगी. 

बिहारी: ले खा जा साली, पूरा खा ले.

इतना सुनते ही उस औरत ने अपना मूह खोला और गप्प से उसका लंड अपने मूह मे ले लिया. बिहारी खड़े खड़े ही काँप गया. उसका लंड उस औरत के मूह मे अपनी औकात दिखाने लगा और कुछ ही सेकेंड्स मे वो अपनी पूरी औकात मे आ गया. उस औरत को लंड मूह मे रखने मे काफ़ी कठिनाई हो रही थी. 4" मूह के अंदर और करीब 2-2.5" बाहर रखते हुए वो अपना मूह आगे पीछे करने लगी. बिहारी तो जैसे सातवें आसमान मे उड़ रहा था. उसने आगे झुक कर उस औरत की कमीज़ मे हाथ डाल कर उसकी 36" तनी हुई चूचियाँ कस कर पकड़ ली. उस औरत ने भी पैंतरा बदला और उसके टॅट्टो को हाथो से मरोड़ने लगी. 

बिहारी: धीरे से साली, 

उस औरत ने लंड मूह से बाहर निकालते हुए कहा: इतने से ही डर गये क्या. फोन पर तो बड़ी बातें छोड़ रहा था. 

बिहारी: फोन पर बातें छोड़ रहा था साली अब तुझे चोदुन्गा फिर देखता हूँ तेरा दम. यह कह कर उसने उस औरत को बेड से उठाया और उसकी कमीज़ का सिरा पकड़ कर उसे उतार दिया. कमीज़ के बाद उसने उस औरत को बाहों मे भर कर उसके ब्रा स्ट्रॅप्स को नीचे सरका दिया.कुछ पलों के लिए वो औरत थोड़ी कसमसाई और फिर अपने आप को ढीला छोड़ दिया. बिहारी ने धीरे धीरे स्ट्रॅप्स पर दबाव बनाते हुए उसकी सफेद ब्रा उसकी कमर तक पहुँचा दी और उसके नंगे सीने मे उस औरत की चुचियों के नुकेले निपल्स धँस गये. बिहारी ने उसे और कस कर पकड़ लिया और उस औरत ने भी अपनी बाहों की गिरफात में उसे बाँध लिया. बिहारी ने पीछे से उसकी 38" गान्ड पर अपने हाथ रख लिए और उसे अपनी तरफ दबाने लगा. जिससे उसका 8" का लोड्‍ा उस औरत की चूत पर अपनी दस्तक देने लगा. वो औरत पूरी तरह से गीली हो गई थी. उसकी चूत से रस टपक कर उसकी पैंटी पूरी भिगो चुका था. बिहारी ने उसे एकदम पलटा दिया और उसकी पीठ से चिपक गया. उसने अपने होंठ उस औरत के कान के पिछले हिस्से पर रखे तो वो औरत और सिहर गई. उसकी आँखें बंद हो गई थी और होंठों पर एक हल्की सी मुस्कान तैर रही थी. बिहारी ने उसकी सलवार का नाडा खोल कर ढीला किया तो उसकी सलवार एक दम से उसके पैरो में गिर पड़ी. उस औरत ने एक कदम आगे बढ़ाया और सलवार को पैरों से आज़ाद कर के वो बेड की तरफ चल दी. अब वो सिर्फ़ एक लसेदर पैंटी मे रह गई और उसकी ब्रा उसकी कमर मे झूल रही थी.बिहारी ने उसे पीछे से पकड़ा और घुमा कर बाहों मे उठा लिया. बिहारी की ताक़त का अंदाज़ा इस से ही लग जाता है कि कैसे उसने एक औरत को अपनी बाहों मे उठा रखा था. उसे बेड तक लेजाने मे उसे थोड़ी भी दिक्कत ना हुई और फिर उसने उसे बेड पर पटक दिया. वो औरत तो बस किसी दासी की तरह उसकी हर हर्केत बर्दाश्त कर रही थी. बिहारी ने उसे बेड के किनारे पर खींच कर उसकी टाँगे घुटनो से मोड़ दी और खुद उसकी टाँगो के बीच मूह रखकर फरश पर बैठ गया.

बिहारी ने उसकी चूत की खुसबु की एक लंबी सांस ली और फिर धीरे से उसकी सफेद पैंटी को उसकी चूत के एक साइड पर कर दिया. एक बार के लिए तो वो औरत थोड़ा चिहुनकि पर फिर शांत पड़ गई. उसे आने वाले क्षण का इंतज़ार था. बिहारी को चूत चूसना सबसे ज़्यादा पसंद था. उसका बस चले तो वो पूरी रात चूत ही चूस्ता रहे. तभी उस औरत के हलक से एक छोटी सी चीख निकली जब उसे महसूस हुआ कि बिहारी ने अपने होंठ उसकी तपती हुई चूत पर रख दिए हैं. बिहारी पहले तो होंठों से उसकी चूत चूस्ता रहा और वो औरत अपनी सिसकारिओ को रोकने की नाकाम कोशिश करती रही. काफ़ी देर तक चूत चूसने के बाद वो औरत बोली " 69 मे आओ". बिहारी उसकी बात सुनकर ज़मीन से उठा और अपने कपबोर्ड से वीडियो कॅमरा लेकर उसके सर के पीछे आ गया. वो औरत भी सीधा हुई और अपनी टांगे खोल कर घुटनो से मोड़ ली. बिहारी बिल्कुल उसके सिर से पीछे खड़ा था. उस औरत ने अपने शरीर को थोड़ा पीछे खिसकाया और अपना मूह उसकी टाँगो मे फसा दिया. उस औरत ने झट से अपना मूह खोला और बिहारी के टॅट्टो को अपने मूह मे ले लिया. बिहारी इस के लिए तैयार नही था वो तो वीडियो कॅमरा की सेट्टिंग मे लगा था.

कॅमरा अड्जस्ट करने के बाद बिहारी ने उसे टेबल पर बेड की तरफ ज़ूम करके रखा और बेड के पास आकर बिहारी ने अपने दोनो पैर उसके कंधो के इर्द गिर्द रखे और अपने शरीर को झुकाने लगा. अपने लोड्‍े को ठीक उसके होंठों पर रखकर उसने अपना मूह उसकी चूत की तरफ बढ़ा दिया. बिहारी का लोड्‍ा अपने मूह मे लेते ही वो औरत किसी कुतिया की तरह उस पर बुरी तरह से टूट पड़ी. बिहारी ने भी अपनी जीभ निकाल कर उसकी चूत पर हमला शुरू कर दिया. काफ़ी देर तक एक दूसरे को चूसने के बाद बिहारी बोला. क्या लगती हो चूत पर आज भी वैसे की वैसे ही टाइट माल है साली. 


उस औरत ने मूह से लंड निकालते हुए कहा कि मेरी चूत टाइट नहीं है यह तो तुम्हारा लोड्‍ा ही इतना बड़ा और मोटा है कि हर बार ऐसा लगता है कि मैं पहली बार चुद रही हूँ. बिहारी काफ़ी देर उसे इस मुद्रा मे चूस्ता रहा. उसके लंड मे उबाल आने लगा तो वो उसके उपर से हट गया और उसे उठाकर सोफे की दोनो साइड्स पर उसके घुटने रखकर उसे उल्टा बिठा दिया. बिहारी ने पलट कर अपने चेहरे को उसकी गान्ड के नीचे रखा और उसकी बड़ी गान्ड का सहारा लेकर सोफे से अपनी पीठ की टेक लगा ली जिस से उसका चेहरा सीधा उस औरत की चूत तक पहुँच गया. वो औरत तो बिहारी के इस आसन से निढाल हो गई और लगातार अपनी चूत उसके होंठों पर रगड़ने लगी.

करीब पाँच मिनिट तक ऐसे ही उसकी चूत चूसने के बाद जब वो औरत और बर्दाश्त ना कर सकी तो वो वहाँ से उठ खड़ी हो गई. बिहारी भी मन मार कर उठ गया. चूत चुसाइ से उसका मन कभी भरता ही नहीं. उस औरत ने बिहारी का लंड पकड़ा और उसे बेड की तरफ ले गई. बेड के पास उसे लेजा कर उसे पीठ के बल लिटा दिया और अपने होंठों पर जीब फिरने लगी. फिर उसने भी बेड पर अपने लिए जगह बनाई और बिहारी के लंड को चूसना शुरू कर दिया. बिहारी की आँखें बंद होने लगी. उसका लंड काफ़ी सख़्त हो गया और नसें भी उभर आई.

चूत चुसाइ से वो औरत तो पहले से ही बहाल थी. बिहारी भी अब और तड़पेने के मूड मे नहीं था. उसने बालो से पकड़ कर उसे अपने उपर खींच लिया और उस औरत ने अपने नाज़ुक हाथो से रास्ता दिखाते हुए उसका लंड अपनी चूत मे प्रवेश करवाना शुरू किया. लंड को अंदर लेते ही उस औरत ने ज़ोरदार तरीके से उसकी सवारी करनी शुरू कर दी पर बिहारी जैसे चूत के रसिया पर इसका कोई असर ना हुआ.

करीब 10 मिनिट की ज़ोरदार चुदाई के बाद वो औरत थकने लगी तो बोली,"मुझे अपने नीचे लो मैं थक गई हूँ".

इतना सुनकर बिहारी उपर से हटा और उसकी टाँगों मे आकर अपनी पोज़िशन ले ली. बिहारी ने अपने लंड को उसकी चूत के मुहाने पर रखा और एक ज़ोरदार धक्का लगा दिया. यह तो शूकर है कि उपर दोनो नीद की गोलियाँ खाकर सो चुके थे वरना इस चीख से तो अब तक उनकी नींद टूट चुकी होती. 
-  - 
Reply
02-01-2019, 04:36 PM,
#20
RE: bahan sex kahani भैया का ख़याल मैं रखूँगी
औरत: हरामी थोड़ा धीरे कर ना, बीवी थोड़े हूँ तेरी. 

बिहारी: रानी कुछ टाइम की ही बात रह गई है फिर तू मेरी बीवी भी बनेगी. 

औरत: ऐसा सोचना भी मत. मैं तो अपने पति के साथ ही रहूंगी. काम होने के बाद हम दोनो अलग हो जाएँगे. और फिर तभी मिला करेंगे जब मुझे तुम्हारे लोड्‍े की ज़रूरत पड़ेगी. 

बिहारी: वाह साली, तुझे तो तेरे पति का लंड मिल जाएगा पर मेरा क्या. मुझे इस उम्र मे अब लड़की कहाँ से मिलेगी. चल कोई बात नहीं मैं अपना जुगाड़ कर ही लूँगा लेकिन कभी कभी टेस्ट चेंज करने तुझे बुला लिया करूँगा. 

औरत: मेरे बस मे होता तो तुझे कभी छोड़ कर नहीं जाती पर समाज का क्या करूँ. इतनी इज़्ज़त कमाने के बाद ऐसी कोई हरकत करूँगी तो लोगों को शक हो सकता है हम दोनो पर, इसीलिए हम मिला तो करेंगे मगर ऐसे ही जैसे अभी मिलते हैं.

बिहारी लगातार धक्के लगाए जा रहा था. उस औरत ने भी अपनी गान्ड उठाकर उसके धक्कों का जवाब देना शुरू कर दिया था. 

औरत: आज का दिन कैसा रहा हमारे प्लान का. 

बिहारी: मैने उसके दिमाग़ मे बात डाल दी है, कुछ दिन तो वो नकारेगी फिर वो ज़रूर मान जाएगी, मुझे पूरा यकीन हैं.

औरत: इतना आसान नहीं है, वो भाई है उसका. इसके लिए हमे कल से ही एक और प्लान पर अमल करना होगा और उसने सारा प्लान बिहारी को समझा दिया. 

बिहारी: साली तू बड़ी छिनाल है. बेहन को भाई से चुदवाकर ही रहेगी. 

औरत: तभी तो हमारा सपना पूरा होगा. लेकिन मुझे एक बात का डर है

बिहारी ने सवालिया नज़रो से उसे देखा और धक्के लगाने जारी रखे

औरत: आशना अभी बहुत छोटी है या यूँ समझ लो कि वो अभी बच्ची है, सिर्फ़ 20 साल की ही तो है वो और वीरेंदर एक पागल घोड़ा. क्या आशना वीरेंदर को झेल पाएगी ? 

बिहारी ने हैरानी से उसे देखते हुए पूछा " क्या मतलब"?

औरत: मैने खुद अपनी आँखों से हॉस्पिटल मे उसका ट्राउज़र उतार कर उसका लोड्‍ा देखा था ( जी हां वो औरत कोई और नहीं बीना ही है, डॉक्टर, बीना. आगे से मैं उसका नाम ही यूज़ करूँगी). 

बिहारी: साली छीनाल, अपने सारे पेशेंट्स के लोड्‍े चेक करती हो क्या. 

बीना: नहीं वो तो अभय ने मुझे बताया कि वीरेंदर के लोड्‍े की सील अभी तक टूटी नहीं है तो मुझे यकीन नहीं हुआ. इसलिए एक रात को मैने चेक किया तो वाकई उसके लोड्‍े की सील अब तक बरकरार है. इससे यह साफ पता चलती है कि ना तो उसने अभी तक मूठ मारी है ना ही कभी किसी लड़की को चोदा है.

बिहारी: मुझे तो लगा था कि वीरेंदर ने रूपाली को चोद दिया होगा पर वो तो ऐसे ही हाथ से निकल गई साली. (जी हां बिहारी जो के अनपढ़ होने का नाटक करता था उसने वीरेंदर की सारी डाइयरी पढ़ी थी और उस दिन भी जान भुज कर उसने यह डाइयरी वीरेंदर के कमरे मे बेड पोस्ट पर रख दी थी कि जब आशना वहाँ आए तो वो उसे पढ़े और वीरेंदर की ऐसी हालत जान कर वो उसके लिए परेशान हो ताकि बिहारी और बीना उसे अपने प्लान के मुताबिक ढाल सकें). बिहारी अब तक बीना को चोदे जा रहा था. बीना दो बार झाड़ चुकी थी पर बिहारी था कि रुकने का नाम नहीं ले रहा था. 

बीना: आज क्या बात है आधा घंटा हो गया तुम रुकने का नाम नहीं ले रहे. 

बिहारी अपने चेहरे पे कुटिल मुस्कान लाते हुए: जो दवाई मैं अपने दुश्मन को खिलाता हूँ आज थोड़ी सी मैने भी चख ली है.

बीना: क्या?.

बिहारी: हां, मेरी जान आज तो तेरा बॅंड बजा कर छोड़ूँगा. 

बीना जानती थी कि बिहारी अभी जल्दी झड़ने वाला नहीं है. वो दवाई थी ही ऐसी कि एक मामूली आदमी भी बिना रुके किसी भी औरत को घंटो चोद सकता था. 

बीना: मेरा तो बुरा हाल हो गया है. थोड़ी देर रुक जाओ, फिर बाद में कर लेना.

बिहारी: चुप चाप लेटी रह नहीं तो गान्ड भी चोद दूँगा. याद है ना वो दिन जब मैने पहली बार तेरी गान्ड मारी थी, उस दिन से लेकर आज तक तूने गान्ड को हाथ भी नही लगाने दिया. 

बीना: गान्ड कोई ऐसे मारी जाती है जैसे तू उस दिन मार रहा था. कितनी बुरी तरह रगडी थी मेरी गान्ड तूने, मैं तो 4-5 दिन ठीक से बैठ भी नहीं पाई थी.

बिहारी: आज तो हमे अपने प्लान की ढाल भी मिल गई है, आज तो तेरी गान्ड बनती ही है.

बीना जो कि काफ़ी थक गई थी और उसकी चूत भी छीलनी शुरू हो गई थी अजीब सी कशमकश में पड़ गई थी. अगर "ना" करती है तो चूत का बुरा हाल हो जाता और अगर "हां" करती है तो गान्ड का. लेकिन उसकी चूत मे उठ रहे दर्द को देखते हुए उसे अपनी गान्ड देना ही बेहतर समझा. 

बीना: चल आज इस खुशी के मोके पर तू मेरी गान्ड भी मार ले मगर तेल लगा कर और प्यार से, नहीं तो आज के बाद मेरी गान्ड को भूल ही जाना. 

बिहारी तो जैसे एकदम खिल उठा. उसे गान्ड मारना बहुत पसंद था और वैसे भी बीना की गान्ड एकदम38" की गोल गदराई हुई गान्ड थी, 

बिहारी: ठीक है चल कुतिया बन जा मैं तेल लेकर आता हूँ. इतना कह कर बिहारी उसके उपर से उठा और अपना लंड बीना की चूत से खींच लिया. 

बीना ने राहत की साँस ली. बिहारी नंगा ही किचन मे गया और तेल एक कटोरी मे डाल कर ले आया. बिहारी ने ढेर सारा तेल उसकी गान्ड में डालकर उंगली से उसे खूब चिकना किया और फिर अपने लोड्‍े को तेल लगा कर भिड़ा दिया उसे बीना की गान्ड से. बीना का पहला गान्ड एक्सपीरियंस भी बिहारी के साथ काफ़ी दर्दनाक था उसे अपनी गान्ड को रिलॅक्स रखने में मुश्किल आ रही थी. 

बिहारी: थोड़ा रिलॅक्स करो और यकीन रखो आज मैं तुम्हें गान्ड मे वो मज़ा दूँगा कि तुम हर बार मुझसे अपनी गान्ड मरवाने की विनती करोगी. बीना ने अपनी गान्ड के सुराख को ढीला छोड़ा और तकिये मे मूह छिपा लिया. उसने दाँतों से बेड की चद्दर को पकड़ रखा था और अपने हाथो से कस कर तकिये को पड़के हुए वो आने वाले पल के लिए तैयार थी. 
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Lightbulb Incest Kahani मेरी भुलक्कड़ चाची 27 10,656 Yesterday, 12:29 PM
Last Post:
Thumbs Up bahan sex kahani बहना का ख्याल मैं रखूँगा 85 152,092 02-25-2020, 09:34 PM
Last Post:
Star Adult kahani पाप पुण्य 221 956,604 02-25-2020, 03:48 PM
Last Post:
Thumbs Up Indian Sex Kahani चुदाई का ज्ञान 119 91,452 02-19-2020, 01:59 PM
Last Post:
Star Kamukta Kahani अहसान 61 228,581 02-15-2020, 07:49 PM
Last Post:
  mastram kahani प्यार - ( गम या खुशी ) 60 150,058 02-15-2020, 12:08 PM
Last Post:
Lightbulb Maa Sex Kahani माँ की अधूरी इच्छा 228 792,705 02-09-2020, 11:42 PM
Last Post:
Thumbs Up Bhabhi ki Chudai लाड़ला देवर पार्ट -2 146 95,413 02-06-2020, 12:22 PM
Last Post:
Star Antarvasna kahani अनौखा समागम अनोखा प्यार 101 213,814 02-04-2020, 07:20 PM
Last Post:
Lightbulb kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत 56 31,615 02-04-2020, 12:28 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 2 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


chudna.pornmuviआ आ दुखली गांडXXX पूरन सैकसी बडे मूमे HD www.7sex photo xxx bpgeeta kapoor Baba porn picsrajsharma sex.chhote bahen ke beraham chudaianita bhabhi bhabhi ji dhar par hai xxx photos sexbabaपूजा दीदी की फूली बुर और उभरे गान्डmaa ki adhuri icha puri ki bete ne xossiptantravasna bete ko fudh or moot pilayaXxx vidos panjibe ghand marviमालकिन के परिवार में सेक्स की कहानी sexbabaangori vs atama sex jabrdastiपंडिताइन की गांड मारी सलीम और स्माइल ने सेक्स स्टोरीsangarsh xx story savitri or panditराजशर्मा मराठी सेक्स स्टोरी आजोबा Xxx dase baba uanjaan videoKriti Suresh ke Chikni wale nange photoදියනිය xxx.comCigarette pite meena chachi hindi sex storykamla bhaujisex.comमेरी चुत पुरे परिवार ने चोदीभी न बहें का बोओब्स चुसा फीर के चुड़ै वेद्योvilleg.me.aagan.me.salhaj.ki.jhante.dekhi.chudai.ki.story.घडलेल्या सेक्स मराठि कहाणिMegha ki suhagrat or honeymoon me chudai kahani-threadcuci.se.dood.peke.cudai.sexvideoचूतड मटका कर रिझाने की कोशिश sexbaba Nandoi ji ne meri cheekh nikhalhi sex stories Tttty saxssx vdeoचूत की फूली हुई फांको को फैला कर उसकी गुलाबी चूत चाटने लगता हैbidieo mast larki ki chudaiwwwxxxhindi Sadime gawkisexbaba + baap betiहिंदी सेक्स स्टोरी matakte gad ma behan dada bibi betiभाभी और बहन को ट्रैन माय ३० आदमियो ने छोड़ा सेक्स स्टोरीwo us admi ke niche tadap rahi thi. par us ke shakti ke age vivash thibutipalar cloth pahane xnxxwww.hindisexstory.sexybaba.www.big boobs fake blause photosbeta ne ma ko pelte pelte behos kar diya xxx story hindisasur ji ne bra kharida mere liyeRajsarma complete Papa ki dulari jaban beti chodaicodacodi kre avo kharab vidiyo jna ane ldakiSex gand fat di yum storiesaapsi sahmati se ma bete ki chusabana ko berahmi se choda sex storypapa ne Kya biteko jabrjsti rep xxx videoxxx hindi vedeo maa ne bete ke sath sex kiya hindi vartalap ke sath full hdसगी दीदी कि चढती जवान मे चुत को चोदा सील की कहानीमसत कामिनिसेक्सी उपन्यास भोसड़ा नरमDesi chudai caddhi meDesi.ladke.ka.sundre.esmart.dehati.photo.dekhanxxxx.www..totuti.huy.hindi.danwlodxnxx tuoutionsex videos xnxx can लड़की मुठ केसे मारती हैंbadi chachi ne choti chachi ko chodte pakde aur faida utaya sex storiesAparna. bhabi pucchisexsneha ullal nude sex babawww sexbaba net Thread E0 A4 AD E0 A4 BE E0 A4 AD E0 A5 80 E0 A4 95 E0 A4 BE E0 A4 B0 E0 A5 87 E0 A4xxx गाँव की लडकीयो का पहला xxx खुन टपकताbadai 2 dudh piyaa chudai kahaniaaantarvasna colej ki gurlfremd ki choot se khoon nikal diyaKamukta ki imtiha full image sahit sexy khanijacqueline fernandez nudesexbabanew porn photo rajokri gaw ishita ki nagi vali xxx poatohotho se hoth mile chhati se chhati chut me land ghusa nikal gaya pani sexkapra otar kar suhag ratHindibfBhabiअपने पेटिकोट को जाँघो तक चढ़ा लिया था लॉन्ग सेक्स स्टोरीज xxxhdbhainsxxx kajer calake diya chda cudi bfमोटे लडँ से चुदाई की कहानियाँ पोर्न स्टारma ne apne 8sal ke bete ko chodna sikihaya hindi sex storiesxxx chopa lagany wala