Antarvasna kahani चुदाई का घमासान
12-07-2018, 01:26 PM,
#21
RE: Antarvasna kahani चुदाई का घमासान
मेरे हाथों ने अपने आप बढ़ कर उनके हिलते हुए स्तनों को जकड़ लिया। बड़े मोटे चुचे थे चाची जान के… उनके निप्पल के चारों तरफ लम्बे लम्बे बाल थे। मैं जब उनके दानों को चूस कर छोड़ता तो उनके लम्बे बाल में रह जाते जिनको मैं दांतों से दबा कर काफी देर तक खींचता।
चाची जान मेरे इस खेल से सिहर उठी, उन्हें काफी दर्द हो रहा था पर मजा भी आ रहा था इसलिए वो बार बार अपने निप्पल फिर से मेरे मुंह में भर देती।
उधर, शबाना के मुंह को काफी देर तक चोदने के बाद चाचू ने उसे घुमाया जिससे मेरी बहन की गांड हवा में उठ गयी। उन्होंने अपना मोटा लंड शबाना की योनि पर टिकाया और एक तेज झटका मारा, चाचू का लंड अपनी भतीजी की कसी योनि में उतरता चला गया।
शबाना चीखी- आआ अयीईईई ईईईईइ… आआह्ह्ह… चाचू धीरे… आआआह…
शबाना अपनी कोहनियों के बल बैठी थी, उसका चेहरा मेरे चेहरे के बिल्कुल ऊपर था। चाचू के लंड डालते ही उसकी आँखें फ़ैल गयी और फिर थोड़ी ही देर में उत्तेजना के मारे बंद होती चली गयी। वो थोड़ा झुकी और मेरे होंठ चूसने लगी। उसकी योनि में उसके चाचू का लंड था और मेरे लंड के चारों तरफ चाची जान की योनि लिपटी हुई थी। पूरे कमरे में गर्म सांसों की आवाज आ रही थी।
मेरे लंड पर चाची जान बुरी तरह से उछल रही थी जैसे किसी घोड़े की सवारी कर रही हो। उनकी योनि बड़ी मजेदार थी, वो ऊपर नीचे भी हो रही थी और बीच बीच में अपनी गांड घुमा घुमा कर घिसाई भी कर रही थी।
जल्दी ही मेरे लंड की सवारी करते हुए चाची जान झड़ने लगी- आआअह्ह्ह… मैं…आयीईईई ईईइ…
और उनके रस ने मेरे लंड को नहला दिया।
मेरा लंड भी आखिरी पड़ाव पर था, उसने भी बारिश होते देखी तो अपना मुंह खोल दिया और चाची जान की योनि में पिचकारियाँ मारने लगा।
शबाना से भी चाचू के झटके ज्यादा बर्दाश्त नहीं हुए, वो तो अपने चाचू का लंड अपनी योनि में लेकर फूली नहीं समा रही थी, उसने भी जल्दी ही झड़ना शुरू कर दिया। चाचू ने भी दो चार जोर से झटके दिए और अपना रस अपनी भतीजी की कमसिन योनि में छोड़ दिया।
चाचू ने अपना लंड बाहर निकला और शबाना के चेहरे के सामने कर दिया। शबाना ने बिना कुछ सोचे उन का रस से भीगा लंड मुंह में लिया और चूस चूस कर साफ़ करने लगी।
चाची जान भी मेरे लंड से उठी और खड़ी हो गयी, चाची जान की योनि में से हम दोनों का मिला जुला रस टपक रहा था। वो थोड़ा आगे हुई और मेरे पेट पर पूरा रस टपका दिया। फिर नीचे उतर कर मेरे लंड को मुंह में भरा और साफ़ कर दिया। फिर अपनी जीभ निकाल कर ऊपर आती चली गयी और मेरे पेट पर गिरा सारा रस समेट कर चाट गयी।
शबाना ने भी अपनी योनि में उंगलियाँ डाली और चाचू का रस इकट्ठा कर के चाट गयी।
तभी दरवाजे की तरफ से आवाज आई- ये क्या हो रहा है?
हमने देखा तो रुखसाना वहां खड़ी थी अपने चेहरे पर आश्चर्य के भाव लिए…
हम सभी की नजर दरवाजे पर खड़ी रुखसाना पर चिपक सी गयी। मैं, शबाना, निदा चाची जान और फारुख चाचू सब नंगे हुए एक दूसरे को चाट और चूस रहे थे और थोड़ी ही देर पहले हम सबने चुदाई भी की थी.. ना जाने कब से रुखसाना ये सब देख रही थी।
मेरी और शबाना की तो कोई बात नहीं… पर चाचू और चाची जान की शक्ल देखने वाली थी, उन्होंने सोचा भी नहीं था कि उनकी बेटी उन्हें ‘नंगे’ हाथों पकड़ लेगी।
मैंने गौर से देखा तो रुखसाना का ध्यान चाचू के लंड पर ही था और उस के चेहरे पर अजीब तरह के भाव थे।
मैं समझ गया और उठ खड़ा हुआ- देखो रुखसाना, तुमने तो वैसे भी अपने अम्मी अब्बू को हमारे अम्मी अब्बू के साथ नंगा देख ही लिया है उस आयने वाली जगह से और आज हालात कुछ ऐसे हुए कि हमें चाचू चाची जान को अपने राज में शामिल करना पड़ा!
और फिर मैंने सारी बात विस्तार से बता दी रुखसाना को।
चाचू और चाची जान ने जब ये सुना कि रुखसाना ने भी उन्हें दूसरे कमरे में रंगरेलियां मनाते हुए देखा है तो वो थोड़ा शर्मिंदा हो गए। पर फिर उन्होंने सोचा की जब उसे पता चल ही गया है तो क्यों न उसे भी इसमें शामिल कर लिया जाए।
निदा चाची जान जानती थी कि रुखसाना अपने स्कूल में लड़कों को काफी लिफ्ट देती है और उसने कई बार रुखसाना को उस के रूम में एक साथ पढ़ाई कर रहे लड़कों के साथ चूमते चाटते भी देखा था। उन्होंने फारुख चचा जान की तरफ देखा और आँखों आँखों में कुछ इशारे करे।
फिर वो आगे आई और रुखसाना का हाथ पकड़ कर वही बेड पर बिठा लिया।
रुखसाना आँखें फाड़े हम सभी नंगे लोगों को देख रही थी। दरअसल उस का भी प्रोग्राम में दिल नहीं लग रहा था और जब वो वापिस आई तो उसने अपने अम्मी अब्बू को हमारे रूम में घुसते हुए देखा, वो भी पूरे नंगे… वो समझ गयी कि अन्दर क्या होने वाला है पर अपने अम्मी अब्बू के सामने वो एकदम से ये नहीं दर्शाना चाहती थी कि वो भी मेरे और शबाना के साथ चुदाई के खेल में शामिल है, इसलिए उसने खिड़की से अन्दर का सारा प्रोग्राम देखा।
अपने अब्बू के द्वारा शबाना की चुदाई करते देख कर उस की छोटी सी योनि में आग लग गयी थी और जब मैंने उस की अम्मी की चुदाई की तो उस के बर्दाश्त से बाहर हो गया और उसने वही खिड़की पर खड़े खड़े अपनी योनि में उंगलियाँ डाल कर उस की अग्नि को शांत किया… पर अन्दर के खेल को देख कर उस की योनि अभी भी खुजला रही थी। इसलिए उसने तय किया कि वो भी अन्दर जायेगी और इसमें शामिल हो जाएगी।
निदा चाची जान ने रुखसाना की टी शर्ट उतार दी। रुखसाना किसी बुत की तरह बैठी थी।
फिर शबाना आगे आई और उसने उस की जींस के बटन खोल कर उसे भी नीचे कर दिया। अब रुखसाना सिर्फ पर्पल कलर की पेंटी और ब्रा में बैठी थी। उस का बाप यानी फारुख चाचू तो उस के ब्रा में कैद मोटे मोटे और गोल चुचे देख कर अपनी पलकें झपकाना ही भूल गया… वो मुंह फाड़े अपनी कमसिन सी बेटी के अर्धनग्न जिस्म को निहार रहा था और अपनी जीभ अपने सूखे होंठों पर फिरा रहा था।
मैं एक कोने मैं बैठा सबकी हरकतें नोट कर रहा था।
चाची जान उठी और अपने चुचे को रुखसाना के होंठों से चिपका दिए, रुखसाना ने कुछ नहीं किया। शायद वो अभी भी दर्शाना चाह रही थी कि वो ये सब नहीं करना चाहती पर अन्दर ही अन्दर उस की योनि में ऐसी खुजली हो रही थी कि अपनी अम्मी को वही पटके और उस के मुंह में अपनी योनि से ऐसी रगड़ाई करे कि उस की सारी खुजली मिट जाए।
थोड़ी देर बाद उसने अपने होंठ खोले और अपनी आँखें बंद करके अपनी अम्मी का दूध पीने लगी। शबाना ने उस की ब्रा खोल दी और नीचे से हाथ डाल कर उस की पेंटी भी उतार दी।
ब्रा के खुलते ही रुखसाना के दोनों पंछी आजाद हो गए। मैंने देखा उस के निप्प्ल्स एक दम खड़े हो चुके हैं और योनि से भी रस टपक कर चादर को गीला कर रहा है यानि वो काफी उत्तेजित हो चुकी थी। फारुख चाचू ने अपनी बेटी को नंगी देखा तो उनकी साँसें रुक सी गयी।
चाची जान ने इशारे से चाचू को आगे बुलाया, वो तो जैसे इसी इन्तजार में बैठे थे, वो लपक कर आगे आये और अपनी बेटी के दायें चुचे को अपने मुंह में भर कर लगे चूसने किसी बच्चे की तरह। उन्होंने उत्तेजना के मारे उस के दाने पर जोर से काट मारा।
रुखसाना चिल्लाई- आआआ आआह्ह्ह…. पाआआ… पाआआआ… स्स्सस्स सस्स्स… अयीईईई ईईईई…
रुखसाना ने अपने अब्बू के सर को किसी जंगली की तरह पकड़ा और उनकी आँखों में देख कर अपने थूक से गीले हुए होंठ उनसे भिड़ा दिए, रुखसाना के अब्बू के तो मजे आ गए। अपनी बेटी के इस जंगलीपन को देखकर चाचू का लंड फिर से तन कर खड़ा हो गया।
खड़ा तो मेरा भी हो गया था पर लगातार 3-4 बार झड़ने के बाद मैं अपने लंड को थोड़ा आराम देना चाहता था।
बाप बेटी एक दूसरे को ऐसे चूस रहे थे जैसे कोई गेम चल रही हो और दोनों एक दूसरे से ज्यादा पॉइंट्स लेने के लिए ज्यादा चूसने वाली गेम खेल रहे हैं।
चाचू ने अपने हाथ रुखसाना की गोलाइयों पर टिका दिए और उन्हें मसलने लगे.
रुखसाना की सिसकारी निकलने लगी- आआह आआअह्ह दबाओ ऊऊऊ इन्हीईए.. पाआआ… पाआआ…
निदा चाची जान ने अपनी बेटी रुखसाना को बेड पर लिटा दिया और उस की रस टपकती योनि पर हमला बोल दिया। शबाना ने भी अपनी चाची जान का साथ दिया और वो दोनों रुखसाना की योनि के दोनों तरफ आधे लेट गई और बारी बारी से रुखसाना की योनि चाटने लगी।
ऊपर चाचू अपनी जवान सेक्सी बेटी के मुंह के अन्दर घुसे हुए उस का रसपान कर रहे थे। उन्होंने किस तोड़ी और थोड़ा नीचे खिसक कर अपने होंठ से रुखसाना के चुचे चूसने लगे। रुखसाना बेटी ने हाथ बड़ा कर अपने अब्बू का लंड अपने हाथ में ले लिया और उसे आगे पीछे करने लगी, फिर उसने लंड को थोड़ा और खींच कर अपने मुंह के पास खींच लिया।
चाचू समझ गए और अपना चेहरा उस की योनि की तरफ घुमा कर उस के मुंह पर बैठ गए और रुखसाना ने अपने अब्बू का लंड अपने कोमल मुंह में ले लिया और चूसने लगी।
चाचू का चेहरा देखने लायक था, उनके आनंद की कोई सीमा नहीं थी। आज अपनी भाभी से और फिर अपनी भतीजी से चुसवाने के बाद अब वो अपना लंड अपनी ही बेटी के मुंह में डाले मजे ले रहे थे।
चाचू थोड़ा झुके और शबाना और निदा को हटा कर अपना मुंह अपनी बेटी की योनि पर रख कर चाटने लगे उस की रसीली योनि को। बीच बीच में वो सांस लेने के लिए ऊपर आते और ये मौका शबाना और निदा ले लेती और उस की योनि चाटने लगती।
कुल मिला कर रुखसाना की योनि तीन लोग चाट रहे थे और वो अपने अब्बू का लंड चूस रही थी।
चाचू जब झड़ने वाले थे तो उन्होंने एकदम से अपना लंड रुखसाना के मुख से निकाल लिया और वापिस ऊपर आ कर उस को चूमने लगे। रुखसाना से भी अब बर्दाश्त करना मुश्किल हो रहा था, उसने अपने अब्बू को धक्का दिया और उछल कर उन के ऊपर बैठ गयी।
फारुख चाचू का फड़कता हुआ लंड रुखसाना की योनि के नीचे था। रुखसाना ने अपने अब्बू के दोनों हाथों में अपनी उंगलियाँ फंसाई और अपनी गांड और अपना सर नीचे झुका दिया। उस के होंठ अपने अब्बू के होंठों से जुड़े थे और योनि उनके लंड से।
पीछे से निदा चाची जान ने अपने पति का लंड पकड़ा और अपनी बेटी की योनि में फंसा दिया और उसे नीचे की तरफ दबा दिया। रुखसाना की कसी योनि में उस के अब्बू का लंड उतरता चला गया।
“आआ आआअ आआआह्ह…. आआस्स… आआअह्ह्ह… पाआआ… पाआआ… म्म्म्म म्म्म्म म्म…” रुखसाना ने थोड़ा ऊपर होकर लम्बी सिसकारी निकाली… और अपने चुचे को फारुख चाचू के मुंह में ठूँस दिया।
अब चाचू का पूरा लंड उनकी बेटी की योनि के अन्दर था।
रुखसाना ने उछलना शुरू किया और चाचू का लंड अपनी योनि में अन्दर बाहर करने लगी। चाची जान और शबाना नीचे बैठी बड़े गौर से इस चुदाई को देख रही थी। चाची जान ने हाथ आगे करके अपनी उंगलियाँ शबाना की योनि में डाल दी और शबाना ने निदा चाची जान की योनि में। फिर उन्होंने अपनी टाँगें एक दूसरे में ऐसी फंसाई कि दोनों की योनि आपस में रगड़ खाने लगी और उन्होंने बैठे बैठे ही एक दूसरी की योनि को अपनी योनि से रगड़ना शुरू कर दिया।
-  - 
Reply
12-07-2018, 01:26 PM,
#22
RE: Antarvasna kahani चुदाई का घमासान
“आआम्म आआह… अह्ह्ह ह्ह्ह्हह… अहहहः… आहाहाहा.. हा.. हा हा.. हा.. अहा.. हह्ह्ह.. म्मम्म…” शबाना और चाची जान अजीब तरह से हुंकार रही थी।
पूरे कमरे में सेक्स का नया दौर शुरू हो चुका था। मेरा लंड भी तन कर खड़ा हो चुका था पर इतनी चुदाई के कारण वो दर्द भी कर रहा था इसलिए मैंने दूर बैठे रहना ही उचित समझा।
चाचू ने रुखसाना के गोल योनिड़ों को पकड़ा और नीचे से धक्के लगाने शुरू कर दिए। रुखसाना की सिसकारियां चीखों में बदल गयी और जल्दी ही वो झड़ने लगी- आआआअह्ह… अह्ह्ह.. अहः अहः अ अहः अ आहा हा… हा… पपाआआआ… मैं… आयीईईईइ… ऊऊओ… ऊऊऊ… ऊऊऊऊ… आआआह्ह.. और उसने अपने रस से अब्बू के लंड को नहला दिया और अपने मोटे मोटे चूचों को उनके मुंह पर दबा कर वही निढाल हो कर गिर पड़ी।
चाचू ने उसे नीचे उतारा और उस की टांगों को अपने हाथों से पकड़ कर ऊपर उठाया और अपना लंड उस की योनि में फिर से डाल दिया और धक्के देने लगे। चाचू का भी तीसरा मौका था इसलिए झड़ने में काफी समय लग रहा था। पर जल्दी ही अपने नीचे पड़ी अपनी बेटी के मोटे मोटे मम्मे हिलते देख कर वो भी झड़ने लगे और अपना रस उस की योनि के अन्दर उड़ेल दिया वो अपनी बेटी की योनि में झड़ गये, और उस की छाती के ऊपर गिर कर हांफने लगे।
रुखसाना ने उनके चारों तरफ अपनी टाँगें लपेट ली और सर पर धीरे धीरे हाथ फेरने लगी।
चाची जान और शबाना की योनि भी आपसी घर्षण की वजह से जल उठी और उन का लावा भी निकल पड़ा और उन्होंने झड़ते हुए एक दूसरी को चूम लिया।
मैं ये सब देख कर बेड के एक कोने में बैठा मुस्कुरा रहा था।
थोड़ी देर लेटने के बाद चाचू और चाची जान चले गए। उन के जाते ही शबाना और रुखसाना ने एक दूसरे की योनि चाट कर साफ़ कर दी और हम तीनों वही नंगे लेट गए।
दूसरे कमरे में जाकर चाची जान ने आयना हटा कर देखा और अपनी नंगी बेटी को मेरी बगल में लेटते हुए देख कर वो मुस्कुरा दी।
अगले दिन सुबह हम तीनों, यानि मैं, शबाना और रुखसाना नाश्ता करने के बाद पहाड़ी की तरफ चल दिए। शबाना आगे चल रही थी। वो वही कल वाली जगह पर जा रही थी, उस ऊँची चट्टान पर।
मैं और रुखसाना उसके पीछे थे। रुखसाना ने अपने हाथ मेरी कमर पर लपेट रखे थे और मैंने उसकी कमर पर। बीच बीच में हम एक दूसरे को किस भी कर लेते थे। बड़ा ही सुहाना मौसम था, आज धूप भी निकली हुई थी।
रुखसाना थोड़ा थक गयी और सुस्ताने के लिए एक पेड़ के नीचे बैठ गयी। मैं भी उसके साथ बैठ गया। शबाना आगे निकल गयी और हमारी आँखों से ओझल हो गयी।
रुखसाना ने अपने होंठ मेरी तरफ बढ़ा दिए और मैं उन्हें चूसने लगा। मैंने हाथ बड़ा कर उसके सेब अपने हाथों में ले लिए और उनके साथ खेलने लगा। उसे बहुत मजा आ रहा था।
मेरा लंड भी खड़ा हो चुका था, पर तभी मेरा ध्यान शबाना की तरफ गया और मैं जल्दी से खड़ा हुआ और रुखसाना को चलने को कहा। क्योंकि वो जंगली इलाका था और मुझे अपनी बहन की चिंता हो रही थी।
हम जल्दी जल्दी चलते हुए चट्टान के पास पहुंचे और वहां देखा तो शबाना अपने उसी पोज में बैठी थी अपने कपड़े उतार कर बिल्कुल नंगी।
शबाना ने हमसे शिकायती लहजे से पूछा- तुम क्या रास्ते में ही शुरू हो गए थे, इतनी देर क्यों लगा दी?
रुखसाना ने जब देखा कि शबाना नंगी है तो उसने भी अपनी लोन्ग फ्रोक को नीचे से पकड़ा और अपने सर से उठा कर उसे उतार दिया। वो नीचे से बिल्कुल नंगी थी और वो भी जाकर अपनी बहन के साथ चट्टान पर लेट गयी।
अब मेरे सामने दो हंसती खेलती नंगी जवान लड़कियां बैठी थी, मेरा लंड मचल उठा और मैंने भी अपने कपड़े बिजली की फुर्ती से उतार डाले।
रुखसाना ने मेरा लंड देखा तो उसकी आँखों में एक चमक सी आ गयी, वो आगे बड़ी तभी शबाना ने उसे पीछे करते हुए कहा- चल कुतिया पीछे हो जा, पहले मैं चूसूंगी अपने भाई का लंड!
रुखसाना को विश्वास नहीं हुआ कि शबाना ने उसे गाली दी। पर जब हम दोनों को मुस्कुराते हुए देखा तो वो समझ गयी कि आज गाली देकर चुदाई करनी है… तो वो भी चिल्लाई- तू हट हरामजादी, अपने भाई का लंड चूसते हुए तुझे शर्म नहीं आती… कमीनी कहीं की…
और उसने शबाना के बाल हल्के से पकड़ कर पीछे किया और झुक कर मेरे लम्बे लंड को मुंह में भर लिया।
ठन्डे मौसम में मेरा लंड उसके गर्म मुंह में जाते ही मैं सिहर उठा।
शबाना- अच्छा तो तू इसे चूसना चाहती है, ठहर मैं तुझे बताती हूँ…
और ये कहते ही उसने रुखसाना की गांड को थोड़ा ऊपर उठाया और अपनी जीभ रख दी उसके गांड के छेद पर!
रुखसाना चिल्ला उठी… और इतने में शबाना ने एक जोरदार हाथ उसके गोल योनिड़ पर दे मारा… और अपनी एक उंगली उसकी गांड के छेद में डाल दी.
“आआ आआह्ह्ह्ह… नहीईई ईईईईईई… वहान्न्न न्न्न्न.. नहीईई ईईई… ”
पर शबाना ने नहीं सुना और अपनी छोटी बहन की गांड में दूसरी उंगली भी घुसेड़ दी… उसकी आँखें बाहर निकल आई पर उसने मेरा लंड चूसना नहीं छोड़ा।
उन दोनो की लड़ाई में मेरे लंड का बुरा हाल था क्योंकि अपने ऊपर हुए हमले का बदला रुखसाना मेरे लंड को उतनी ही जोर से चूस कर और काट कर ले रही थी।
मैंने रुखसाना के बाल वहशी तरीके से पकड़े और उसका चेहरा ऊपर करके उसके होंठ काट डाले।
वो दर्द से बिलबिला उठी- छोड़… कुत्ते… आआआ आयीईईईई… भेन चोद… भूतनी के… आआआआआह…
वो चिल्लाती जा रही थी क्योंकि उसकी गांड में शबाना की उंगलियाँ थी जिससे उसकी गांड फट रही थी और ऊपर से मैं उसके होंठ काट काट कर उसकी फाड़ रहा था।
रुखसाना के मुंह से लार गिर रही थी और उसके पेट पर गिर कर उसे चिकना बना रही थी। अचानक शबाना ने अपने दूसरे हाथ को आगे बढ़ा कर मेरी गांड में एक उंगली डाल दी। मेरे तन बदन में बिजली दौड़ गयी। मैं उछल पड़ा, पर मैंने रुखसाना को चूसना नहीं छोड़ा।
मैंने अपनी बलशाली भुजाओं का प्रयोग किया और रुखसाना को किसी बच्चे की तरह उसकी जांघों से पकड़ कर ऊपर उठा लिया और उसने अपनी टाँगें मेरे मुंह के दोनों तरफ रख दी और अपनी योनि का द्वार मेरे मुंह पर टिका दिया।
शबाना ने चूस कर उसकी योनि को काफी गीला कर दिया था। मेरे मुंह में उसका रस और शबाना के मुंह की लार आई और मैं सपड़ सपड़ करके उसे चाटने लगा। रुखसाना ने मेरे बालों को जोर से पकड़ रखा था और मैं चट्टान पर अपनी गांड टिकाये जमीन पर खड़ा था। रुखसाना मेरे मुंह पर योनि टिकाये चट्टान पर हवा में खड़ी थी और शबाना नीचे जमीन पर किसी कुतिया की तरह अब मेरे गांड के छेद को चाट रही थी।
पूरी वादियों में हम तीनों की सिसकारियां गूंज रही थी। मैंने अपना हाथ पीछे करके रुखसाना की गांड पर रख दिया और उसकी गांड के छेद में एक साथ दो उंगलियाँ घुसा दी। अब उसे भी अपनी गांड के छेद के द्वारा मजा आ रहा था।
पिछले दो दिनों में वो मुझ से और अपने बाप से चुद चुकी थी… पर आज उसके मन में गांड मरवाने का भी विचार आने लगा।
अपनी गांड में हुए उत्तेजक हमले और योनि पर मेरे दांतों के प्रहार से रुखसाना और भड़क उठी और वो अपनी योनि को ओर तेजी से मेरे मुंह पर घिसने लगी और झड़ने लगी- आआहह आआआअह्ह्ह… ले कुत्ते… भेन के लोड़े… पी जा मेरा रस… आआह्ह…
उसकी योनि आज काफी पानी छोड़ रही थी। मेरे मुंह से निकल कर रुखसाना की योनि के पानी की बूंदें नीचे गिर रही थी और वहां बैठी हमारी कुतिया शबाना अपना मुंह ऊपर फाड़े उसे कैच करने में लगी हुई थी।
झड़ने के बाद रुखसाना मेरे मुंह से नीचे उतर आई और चट्टान पर अपनी टाँगें चौड़ी करके बैठ गयी। मैंने अपना फड़कता हुआ लंड उसकी योनि के मुहाने पर रखा ही था कि उसने मुझे रोक दिया और बोली- बहन चोद, आज मेरी गांड में डाल…
मैंने हैरानी से उसकी आँखों में देखा और उसने आश्वासन के साथ मुझे फिर कहा- हां… बाबा… चलो मेरी गांड मारो… प्लीज…
मैंने अपनी वही पुरानी तरकीब अपनाई ओर एक तेज झटका मारकर उसकी योनि में अपना लंड डाल दिया.
वो चिल्लाई- अबे… भेन चोद… समझ नहीं आती क्या… गांड मार मेरी… योनि नहीं कुत्ते…
पर मैं नहीं रुका और उसकी योनि में अपना लंड अन्दर तक पेल दिया ओर तेजी से झटके मारने लगा।
अब मेरा लंड रुखसाना की योनि के रस से अच्छी तरह सराबोर हो चुका था, मैंने अपना लण्ड निकाला… रुखसाना की आँखों में विस्मय के भाव थे कि मैंने उसकी योनि में से अपना डंडा क्यों निकाल लिया। मैंने उसे उल्टी लेटने को कहा, कुतिया वाले पोज में। वो समझ गयी और अपनी मोटी गांड उठा कर चट्टान पर अपना सर टिका दिया।
शबाना जो अब तक खामोश बैठी अपनी योनि में उँगलियाँ चला रही थी, उछल कर चट्टान पर चढ़ गयी और अपनी टाँगें फैला कर रुखसाना के मुंह के नीचे लेट गयी। रुखसाना समझ गयी और अपना मुंह उसकी नर्म और गर्म योनि पर रख दिया और चाटने लगी।
शबाना ने अपनी आँखें बंद कर ली ओर चटवाने के मजे लेने लगी। वो रुखसाना के सर को अपनी योनि पर तेजी से दबा रही थी- चाट कुतिया… मेरी योनि से सारा पानी चाट ले… आआहह आआअह्ह… भेन चोद… हरामजादी… चूस मेरी योनि को… आआआह्ह्ह्ह!
रुखसाना ने उसकी योनि को खोल कर उसकी क्लिट को अपने मुंह में ले लिया और चूसने लगी। शबाना तो पागल ही हो गयी- ओह.. ओह.. ओह.. ओह.. ओ.. ओह.. ओह.. ओह.. अह.. अह.. अह.. अह.. अह.. अह.. अह…
वो बुदबुदाये जा रही थी और चुसवाती जा रही थी।
पीछे से मैंने रुखसाना की गांड की बनावट देखी तो देखता ही रह गया। उसके उठे हुए कूल्हे किसी बड़े से गुब्बारे से बने दिल की आकृति सा लग रहा था। मैंने उसे प्यार से सहलाया और अपने एक हाथ से उसे दबाने लगा।
रुखसाना ने शबाना की योनि चाटना छोड़ा और पीछे सर करके बोली- अबे भेन चोद… क्या अपना लंड हिला रहा है पीछे खड़ा हुआ… कमीने, मेरी गांड मसलना छोड़ और डाल दे अपना हथियार मेरी कुंवारी गांड में… डाल कुत्ते…
वो लगभग चिल्ला ही रही थी।
मैंने अपना लंड थूक से गीला किया और उसकी गांड के छेद पर टिकाया, थोड़ा सा धक्का मारा- अयीईईई… मर… गयीईई… अह्ह्ह ह्ह्ह्ह… नहींईईईईइ…
मेरे लंड का टॉप उसकी गांड के रिंग में फंस गया था।
मैंने आगे बढ़ कर अपने लंड को निशाना बनाकर थूका… जो सही निशाने पर लगी, लंड गीला हो गया। मैंने एक और धक्का मारा- आआआ आआआ आआअह्ह्ह…
मेरी चचाजाद बहन की ये चीख काफी लम्बी थी… उसने अपने दांत शबाना की योनि में गाड़ दिए।
शबाना भी बिलबिला उठी- हटट… कुतियाआ… अपनी गांड फटने का बदला मेरी योनि से ले रही है… आआआ आआह्ह्ह्ह… धीरे चाट… नहीं तो तेरी योनि में लकड़ी का तना डाल दूंगी…
शबाना ने रुखसाना को धमकी दी।
मेरा लंड आधा उसकी गांड में घुस चुका था… मैंने उसे निकाला और थोड़ी और थूक लगाकर फिर से अन्दर डाला। अब मैं सिर्फ आधा लंड ही डाल रहा था। रुखसाना भी अपनी गांड धीरे धीरे मटका कर घुमाने लगी। मैं समझ गया की उसे भी मजा आ रहा है।
रुखसाना की गांड मोटी होने के साथ साथ काफी टाईट भी थी। आठ दस धक्के लगाने के बाद मैंने फिर से आगे की तरफ झटका मारा… तो रुखसाना फिर से चिल्लाई- अम्मी के लौड़े… तेरी अम्मी की योनि… भोंसड़ी के… कमीने… कुते… फाड़ डाली मेरी गांड… आआ आआह्ह्ह आआआआह्ह्ह्ह…
वो चिल्लाती जा रही थी और अपनी गांड मटकाए जा रही थी, मैं समझ नहीं पा रहा था कि उसे मजा आ रहा है या दर्द हो रहा है।
उधर शबाना का बुरा हाल था, चटवाने से पहले उसे बड़े जोर से पेशाब आ रहा था पर चटवाने के लालच में वो कर नहीं पायी थी। अब जब रुखसाना उसकी योनि का ताना बाना अलग कर रही थी तो उससे बर्दाश्त नहीं हुआ और उसने अपने तेज पेशाब की धार सीधे रुखसाना के मुंह में दे मारी।
पहले तो रुखसाना को लगा कि शबाना झड़ गयी है पर जब पेशाब की बदबू उसके नथुनों में समायी तो उसने झटके से अपना मुंह पीछे किया और शबाना की योनि पर थूक दिया।
शबाना की योनि का फव्वारा बड़ी तेजी से उछला और रुखसाना के सर के ऊपर से होता हुआ रुखसाना की पीठ पर गिरा। मेरे सामने शबाना अपनी योनि खोले अपने पेशाब से रुखसाना की कमर भिगो रही थी। रुखसाना की कमर से होता हुआ शबाना का पेशाब, मेरे गांड मारते लंड तक फिसल कर आ गया और उसे और लसीला बना दिया और मैं और तेजी से रुखसाना की गांड मारने लगा।
रुखसाना ने अपना मुंह तो हटा लिया था पर उसके गले से कुछ बूँदें उसके पेट में भी चली गयी थी। उसका स्वाद थोड़ा कसैला था.. पर उसे पसंद आया। आज रुखसाना किसी जंगली की तरह बर्ताव कर रही थी। उसने उसी जंगलीपन के आवेश में अपना मुंह वापिस बारिश कर रहे फव्वारे पर टिका दिया और जलपान करने लगी।
शबाना ने जब देखा कि उसकी बहन उसका पेशाब पी रही है तो वो और तेजी से झटके दे देकर अपनी योनि रुखसाना के मुंह में धकेलने लगी। मेरा लंड भी अब काफी गीला हो चुका था… थूक, पेशाब और रुखसाना की योनि के रस में डूब कर… मेरा लौड़ा किसी पिस्टन की तरह रुखसाना की गांड में अन्दर बाहर हो रहा था। रुखसाना की गांड का कसाव मेरे लंड पर हावी हो रहा था।
मेरे लंड ने जवाब दे दिया और उसने रुखसाना की गांड में उल्टी कर दी।
रुखसाना ने भी अपनी गांड में गर्म वाला महसूस करते ही झड़ना शुरू कर दिया और वहां शबाना की योनि ने भी जवाब दे दिया और वो भी रस टपकाने लगी।
रुखसाना ने अपनी गांड से मेरा लंड निकाला और अपना मुंह शबाना की योनि की तरफ घुमा कर अपनी गांड उसके मुंह पर टिका दी। शबाना उसकी गांड से बहते हुए मेरे लावे को चाटने लगी और अपना रस रुखसाना को चटवाने लगी।
मैं जमीन पर खड़ा हुआ अपने मुरझाते हुए लंड को देख रहा था और उन दोनों कुतियों को एक दूसरे की योनि चाटते हुए देख रहा था।
-  - 
Reply
12-07-2018, 01:26 PM,
#23
RE: Antarvasna kahani चुदाई का घमासान
सारी चुदाई की कथा ख़त्म होने के बाद हम तीनों ने अपने कपड़े पहने और नीचे की तरफ चल दिए। रुखसाना थोड़ा धीरे चल रही थी… चले भी क्यों न… मेरी बहन की गांड जो फट गयी थी आज!
हम तीनों को काफी समय हो गया था।
चुदाई खत्म होने के बाद मैंने उनसे कहा- अब हमें चलना चाहिए, हमारे अम्मी अब्बू हमें ढूँढ रहे होंगे..
हम तीनों ने अपने कपड़े पहने और नीचे की तरफ चल दिए। रुखसाना थोड़ा धीरे चल रही थी… चले भी क्यों न…मेरी बहन की गांड जो फट गयी थी आज!
हम को काफी समय हो गया था, हम भागते हुए अपने केबिन पहुंचे तो हमारे अम्मी अब्बू नंगे फारुख चाचू के कमरे से निकल रहे थे। हम दोनों को सामने पाकर वो दोनों ठिठक कर वहीं खड़े हो गए।
हमें सामने पाकर अब्बू ने अपने लण्ड को हाथों से छुपा लिया औऱ अम्मी भी अपने बदन को ढकने के लिए अपने छोटे से हाथो का सहारा ले रही थी पर उनसे कुछ छुप नहीं पा रहा था।
हड़बड़ाहट में अम्मी ने हम से पूछा- तुम इतनी देर तक कहाँ थे?? क्या करके आ रहे हो??
वो पूरी नंगी हमारे सामने खड़ी थी इसलिए थोड़ा शर्मा भी रही थी अपनी हालत पर।
शबाना ने अपने अब्बू के आधे खड़े हुए लंड को घूरते हुए कहा- हम सब बस घूम कर आ रहे हैं।
मैंने अम्मी की तरफ देखते हुए पूछा- क्या आप दोनों चाचू के कमरे से आ रहे हैं?
अम्मी ने हड़बड़ा कर कहा- ह्म्म्म… हम उन्हें गुड नाइट बोलने गए थे… उनके निप्प्ल्स तन कर खड़े हो चुके थे।
मैंने कहा- ठीक है… गुड नाइट.
और हम सब अपने कमरे में चले गए।
अन्दर जाते हुए हम तीनों ने बड़ी मुश्किल से अपनी हंसी रोकी। हम जानते थे कि हमने अम्मी अब्बू को रंगे हाथों पकड़ लिया है, उनकी शक्ल देखते ही बनती थी।
अन्दर आकर रुखसाना सीधे बाथरूम में चली गयी, शबाना ने भी अपने कपड़े बड़ी फुर्ती से उतार फैंके और बेड पर जाकर लेट गयी।
दूसरे कमरे में चाचू और चाची जान ने जब हमारी बात सुनी और बाद में हमें अन्दर आते देखा तो उन्होंने आयने वाली जगह से अन्दर झाँका और शबाना को नंगी लेटे देखकर चाचू का लंड फिर से तन कर खड़ा हो गया और वो उसे सहलाने लगे।
मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार डाले और बेड पर कूद कर शबाना की रसीली रसमलाई जैसी योनि पर मुंह टिका दिया। शबाना ने अपने योनिड़ ऊपर हवा में उठा दिए और मेरे मुंह में अपनी योनि से ठोकरें मारने लगी।
दूसरे कमरे में निदा चाची जान ने मेरा लंड मेरी टांगों के बीच से लटकता हुआ देखा तो उनसे सहन नहीं हुआ और वो दोनों नंगे ही अपने कमरे से निकल कर हमारे कमरे में आ गए। चाची जान ने आते ही मेरी टांगो के बीच लेटकर मेरे लटकते हुए खीरे को अपने मुंह में भर लिया। मेरे मुंह से एक लम्बी सिसकारी निकल गयी… “आआआ आअह्ह्ह्ह.. उम्म्ह… अहह… हय… याह…”
चाचू भी अपना फड़कता हुआ लंड लेकर आगे आये और मेरे सामने लेटी हुई शबाना के मुंह के पास जाकर उसके मुंह में अपना लंड डाल दिया। शबाना ने उसे भूखी शेरनी की तरह लपका और उसका रस चुसना शुरू कर दिया।
चाची जान बड़ी आतुरता से मेरा लंड चूस रही थी। उनके और शबाना के मुंह से सपड़ सपड़ की आवाजें आ रही थी। तभी बाथरूम का दरवाजा खुला और रुखसाना अन्दर आ गयी। वो अन्दर का नजारा देखकर बोली- मुझे तुम लोग वहां छोड़ कर यहाँ मजे ले रहे हो..
ये कह कर उसने भी अपने कपड़े उतारे और कूद गयी वो भी बेड पर।
रुखसाना भी ऊपर आकर अपने अब्बू के पास गयी और अपने नन्हे होंठों से उनके मोटे मोटे होंठ चूसने लगी। चाचू ने हाथ आगे करके अपनी बेटी के मोटे मोटे चुचे थाम लिए और उन्हें जोर से दबा डाला।
रुखसाना चाचू के आगे आ कर शबाना के मुंह के ऊपर जाकर बैठ गयी। शबाना ने चाचू का लंड चुसना छोड़ दिया और रुखसाना की योनि को चाटने लगी। चाचू का लंड अब रुखसाना के पेट से टकरा रहा था। रुखसाना काफी उत्तेजित हो गई थी और उससे सहन नहीं हुआ और उसने अपने अब्बू का लंड पकड़ कर अपनी रस उगलती योनि पर टिका दिया और उसे अन्दर समाती चली गयी.
“आआ आआआईईईई ईईईई… पपाआआ आआ…”
नीचे लेटी शबाना ने इस काम को बड़ी खूबी से अंजाम दिया… लंड को योनि में धकेलने के लिए।
शबाना अब रुखसाना की गांड के छेद को चूस रही थी। उधर अपने कमरे में जाने के बाद अम्मी को इस बात की बड़ी चिंता हो रही थी की आज वो चाचू के कमरे से नंगे बाहर निकलते हुए पकडे गए।
अम्मी इस बात को चाचू को भी बताना चाहती थी ताकि अगर हम उनसे भी पूछें हमारे अम्मी अब्बू रात के समय नंगे उनके कमरे से क्यों निकल रहे थे तो वो भी वो ही जवाब दें जो अम्मी ने दिया था।
यह सोच कर अम्मी अपने कमरे से निकली और चाचू के कमरे में चली गयी। वहां जाकर उन्होंने देखा कि कमरा तो बिल्कुल खाली था। तभी उनकी नजर दीवार पर गयी, आयना नीचे पड़ा हुआ था और उस जगह एक बड़ा सा छेद था।
अम्मी आगे गयी और अन्दर झाँका। वहां का नजारा देखकर शाजिया मैडम यानि मेरी माम के दिमाग के परखच्चे उड़ गए। उनका बेटा नंगा अपनी सगी बहन की योनि चाट रहा था और नीचे लेटी उनकी देवरानी उनके बेटे का लंड चूस रही थी और ऊपर उनका देवर अपनी ही बेटी को चोद रहा था और नीचे से उनकी बेटी रुखसाना अपनी जीभ से अपनी बहन शबाना की गांड चाट रही थी।
उनकी आँखें घूम गयी ये सब देख कर।
अम्मी जल्दी से भाग कर वापिस गयी और अपने कमरे से अब्बू को बुला कर लायी। तब तक मैं अपने लण्ड को शबाना की योनि में डाल कर चुदाई करने लगा था। अम्मी ने आयने वाली जगह से अब्बू को अन्दर देखने को कहा।
जब अब्बू ने अन्दर का नजारा देखा तो उनकी आँखें फटी की फटी रह गयी। उनका छोटा भाई अपनी बेटी को चोद रहा था और उनका बेटा अपनी सगी बहन की चुदाई कर रहा था। ये देखकर वो आग बबूला हो गए और अम्मी को साथ लेकर वो दनदनाते हुए हमारे कमरे में आये और चिल्लाये- ये सब हो क्या रहा है!?!
अब्बू की आवाज सुन कर मैंने दरवाजे की तरफ देखा तो मैं स्तब्ध रह गया। पर मेरा लंड जो झटके मार मार कर अपनी बहन को चोद रहा था, वो नहीं रुका। मैंने धक्के देते हुए हैरानी से उनकी तरफ देखा और बोला- अम्मी .. अब्बू.. आप..?
उधर रुखसाना की योनि में उसके अब्बू का लंड अपनी आखिरी साँसें ले रहा था, चाचू से सहन नहीं हुआ और उन्होंने अपना रस अपनी बेटी की योनि में उगलना शुरू कर दिया। रुखसाना ने भी आँखें बंद करके अपने अब्बू के गले में अपनी बाहें डाल कर एक लम्बी चीख मारी- आआआआ अयीईईईइ… पपाआआ आआआ…
और वो भी झड़ने लगी। उनका मिला जुला रस नीचे लेटी शबाना बड़े चटखारे ले ले कर पी रही थी।
शबाना को मालूम तो चल गया था कि उसके अम्मी अब्बू कमरे में आ गए हैं पर अपनी योनि में अपने भाई के लंड के धक्के और अपने मुंह पर बरसते गर्म रस का मजा लेने से उसे कोई नहीं रोक सका।
शबाना ने भी अपनी उखड़ी साँसों से उन्हें देखा और पूछा- मोम… डैड… आप यहाँ क्या कर रहे हैं?
अम्मी ने मेरी तरफ घूरकर देखते हुए कहा- समीर… क्या तुम ये करना बंद करोगे?
वो एक तरह से मुझे अपनी बहन की योनि मारने से रोक रही थी।
मैं अपने आखिरी पलों में था, मैंने जैसे ही अपना लंड बाहर निकाला उसका विकराल रूप जो मेरी बहन की योनि के रंग में डूब कर गीला हो चुका था और उस पर चमकती नसे देख कर मेरी अम्मी की आँखें फटी की फटी रह गयी।
मेरे लंड ने बाहर निकलते ही झड़ना शुरू कर दिया और मेरी पिचकारी सीधे शबाना की खुली हुई योनि से जा टकराई। चाची जान जल्दी से आगे आई और मेरे लंड पर अपना मुंह टिका दिया और मेरा सारा रस पी गयी।
चाची जान ने फिर शबाना की योनि के ऊपर अपना मुंह टिकाया और वहां से भी मलाई इकट्ठी करके खा गयी और मेरी अम्मी की तरफ देखकर बोली- भाभी, आपके बच्चे बड़े टेस्टी हैं।
अम्मी ने चाची जान को डांटते हुए कहा- निदा… तुम ये सब कैसे कर सकती हो?
चाची जान ने सपाट लहजे में कहा- हमें तो इन्होंने ही बुलाया था।
मेरी अम्मी का मुंह खुला का खुला रह गया- क्या???
और फिर चाची जान ने सारी कहानी हमारे अम्मी अब्बू को सुना दी। वो अपना मुंह फाड़े सब बातें सुन रहे थे। उन्होंने ये भी बताया कि हम दोनों उनके कमरे में देखते हैं और हमें उनके बारे में सब पता है कि कैसे वो चारों लोग ग्रुप सेक्स करते हैं।
अम्मी -अब्बू ये सारी बात सुन कर शर्मिंदा हो गए पर फिर भी अम्मी ने मेरी तरफ देखा और बोली- तुम दोनों ने ये सब क्यों किया??
मैंने अम्मी को सीधे शब्दों में बताया- हम भी आपके और अब्बू की तरह बनना चाहते थे। जब हमने देखा कि आप और अब्बू, चाचू और चाची जान के साथ मिल कर सेक्स कर रहे हो और एन्जॉय भी कर रहे हो तो हमने भी ठान लिया की हम भी ये करेंगे। हमने यहाँ और लोगों को भी ग्रुप सेक्स करते देखा है और वो सब भी खूब एन्जॉय करते हैं।
अम्मी ने मुझसे रुंधी आवाज में कहा- लेकिन तुम्हें ये सब नहीं करना चाहिए।
अब शबाना भी मेरे पक्ष में बोल पड़ी- क्यों नहीं करना चाहिए… मेरी योनि में हर तरह का लंड चला जाता है और मुझे उन्हें चूसने में भी मजा आता है… तो फिर ये सब क्यों नहीं करना चाहिए?
अम्मी ने फिर से कहा- पर ये सब गलत है, भाई बहन को आपस में ये सब नहीं करना चाहिए।
शबाना ने अपने शब्दों को पीसते हुए अम्मी से कहा- अच्छा… तो आप लोग जो करते हो वो गलत नहीं है क्या??
चाची जान जो बड़े देर से ये सब देख रही थी, वो अम्मी की तरफ हँसते हुए बोली- देखो भाभी, ये जो कह रहे हैं, वो सही है। हम लोग भी कहाँ रिश्तेदारी का ख्याल रखते हैं। हमें भी तो सिर्फ सेक्स करने में मजा आता है, अगर ये भी वो ही कर रहे है तो बुरा क्या है।
अम्मी ने फिर से कहा- पर ये हमारे बच्चे हैं।
अब की बार चाचू ने कहा- हाँ हैं… और तभी इनके साथ ये सब करने में कुछ ज्यादा ही मजा आता है.
और उन्होंने अपनी बाँहों में पकड़ी नंगी रुखसाना को अपने सीने से दबा दिया और आगे बोले- और मुझे लगता है… कि आपको भी एक बार ये सब करना चाहिए।
अम्मी ने अपने सर को एक झटका दिया और कहा- मेरी तो कुछ समझ नहीं आ रहा है। मैं सोने जा रही हूँ, इस बारे में कल बात करेंगे।
चाची जान ने उनसे कहा- ठीक है बाय…
अम्मी ने हैरानी से पूछा- बाय का क्या मतलब है… तुम लोग नहीं जा रहे क्या अपने कमरे में?
चाची जान- नहीं, अभी मुझे कुछ और भी काम है.
और चाची जान ने हाथ बढाकर मेरे लंड को थाम लिया और दूसरे हाथ से अपनी योनि मसलने लगी।
अम्मी चिल्लाई- निदा… बंद करो ये सब!
चाचू आगे आये और अम्मी का हाथ पकड़ कर बेड पर बिठा दिया और कहा- अरे भाभी, आप यहाँ आओ और थोड़ा आराम करो.
चाचू का झूलता हुआ लंड अम्मी की आँखों के सामने लटक रहा था।
चाचू ने अम्मी का मुंह पकड़ा और अपना लंड उनके मुंह में ठूस दिया और उन्हें नीचे धक्का देकर बेड पर लिटा दिया और खुद उनकी छाती पर चढ़ बैठे।
चाचू ने अम्मी की आँखों में देख कर कहा- अब चुपचाप लेटी रहो और मेरा लंड चूसो भाभी!
और निदा की तरफ देख कर बोले- डार्लिंग… मेरी थोड़ी मदद करो न…
चाची जान- हाँ… हाँ… क्यों नहीं..
और चाची जान अपनी जगह से उठी और बेड के किनारे आकर अम्मी के गाउन को खींच कर बीच में से खोल दिया। अम्मी ने नीचे कुछ नहीं पहना था और चाची जान ने उनकी मोटी जांघें पकड़ कर उनकी रसीली योनि पर अपना मुंह रख दिया।
अम्मी के मुंह में चाचू का लंड था पर फिर भी उनके मुंह से घुटी हुई सी सिसकारी निकल गयी- आआआ आअह्ह्ह्ह…
चाचू का लम्बा लंड अम्मी के मुंह में किसी पिस्टन की तरह आ जा रहा था। नीचे बैठी चाची जान भी अपनी लम्बी जीभ के झाड़ू से अम्मी की योनि की सफाई करने में लगी हुई थी। चाचू ने अम्मी के ऊपर बैठे हुए उनके गाउन के बटन खोल दिए और अम्मी के मोटे चुचे ढलक कर दोनों तरफ झूल गए।
चाचू ने अम्मी के गाउन को कंधों से थोड़ी मुश्किल से उतारा और बाकी काम नीचे बैठी चाची जान ने कर दिया। चाची जान ने उनकी गांड ऊपर करके उसे नीचे से बाहर खींच दिया और इस तरह अम्मी हमारे सामने पूरी नंगी हो गयी।
अम्मी को इतनी पास से नंगी देखने का ये मेरा पहला अवसर था। वो किसी अनुभवी की तरह चाचू के लंड को आँखें बंद किये चूस रही थी। अम्मी की योनि से इतना रस बह रहा था कि चाची जान उसे पी ही नहीं पा रही थी और वो बह कर अम्मी की गांड को भी गीला कर रहा था।
अम्मी के मोटे मोटे चुचे देख कर मेरे मुंह में भी पानी आ गया। मैंने उनके चुचे हमेशा अपने मुंह में लेने चाहे थे। घर में भी जब वो बिना चुन्नी के घूमती थी तो मेरा मन उनकी गोलाइयाँ देख कर पागल हो जाता था और अब जब वो मेरे सामने नंगे पड़े थे… मेरा लंड उन्हें देख कर तन कर खड़ा हो गया था, मैंने अपने हाथ से लण्ड को मसलना शुरू कर दिया।
शबाना ने इशारा करके अब्बू को अपनी तरफ बुलाया। वो थोड़ा झिझकते हुए शबाना के पास आये और हम सबके साथ आकर खड़े हो गए। शबाना ने अपना हाथ उनकी कमर में लपेट दिया और उनसे सट कर खड़ी हो गयी।
अब्बू थोड़ा असहज महसूस कर रहे थे.. हो भी क्यों न उनकी जवान लड़की नंगी जो खड़ी थी उनसे चिपक कर…
हम सभी की नजर अम्मी पर गड़ी हुई थी। मेरी देखा देखी अब्बू ने भी अपना पायजामा नीचे गिरा दिया और अपनी पत्नी को अपने भाई और उसकी पत्नी के द्वारा चुदता हुआ देखकर वो भी अपना लंड हिलाने लगे।
अब्बू का मोटा लंड देखकर शबाना की आँखों में एक चमक आ गयी। वो अपने अब्बू के लंड को काफी दिनों से देख रही थी और मन ही मन उनसे चुदना भी चाहती थी। आज उन्हें अपने साथ खड़ा होकर हिलाते देखकर उससे सहन नहीं हुआ और उसने झुक कर अपने अब्बू का लंड अपने मुंह में भर लिया।
अब्बू के मुंह से एक ठंडी सिसकारी निकल गयी- स्स्स स्स्स्स स्स्स… आआआ आअह्ह्ह…
उन्होंने अपना हाथ हटा लिया।
अपने सामने बैठी अपनी नंगी बेटी को देख कर उनका लंड फुफकारने लगा और वो तेजी से उसका मुंह चोदने लगे।
“आआआ आआआ आह्ह्ह…” अब्बू ने अपनी आँखें बंद करी और एक तेज आवाज निकाली। शबाना उठ खड़ी हुई और अब्बू के लंड को पकड़ कर आगे की तरफ चल पड़ी। बेड पर पहुंचकर उसने अब्बू को नीचे लिटाया और उनकी कमर के दोनों तरफ टाँगें चौड़ी करके बैठ गयी और उनकी आँखों में देखकर अपनी योनि का निशाना उनके लंड पर लगाया और बोली- अब्बू प्लीज… चोदो मुझे… और उसने अपने मोटे योनिड़ों का बोझ अब्बू के लंड के ऊपर डाल दिया।
अब्बू का मोटा लंड अपनी बेटी की योनि में ऐसे गया जैसे मक्खन में गर्म छुरी.
“आआ आआआआ आआअह्ह…” शबाना ने एक तेज सीत्कार ली.
उसकी आवाज सुनकर अम्मी ने अपनी आँखें खोली और पास लेटे अपने पति को अपनी बेटी की योनि मारते हुए देखा और फिर उन्होंने भी मौके की नजाकत समझी और अपनी आँखें बंद करके चाचू का लंड चूसने में मस्त हो गयी।
अब्बू और अम्मी ने जब एक दूसरे को देखा तो वो समझ गए कि अब अपने आपको रोकना व्यर्थ है इसलिए इन हसीं पलों के मजे लो और जब अम्मी ने आँखें बंद कर ली तो अब्बू ने अपना ध्यान शबाना की तरफ लगा दिया।
अब्बू ने अपने हाथ ऊपर उठाये और शबाना के झूलते हुए मम्मे अपने हाथों में भर लिए। वो हमेशा घर पर अपनी बेटी के ब्रा में कैद और टाइट टी-शर्ट में बंद इन्ही कबूतरों को देख कर मचलते रहते थे। आज ये दोनों रस कलश उनके हाथ में थे। उन्होंने अपना मुंह ऊपर उठाया और उन कलशों से रस का पान करने लगे। उनके मोटे मोटे होंठ और मूंछें शबाना के नाजुक निप्पलों पर चुभ रही थी पर उनका एहसास बड़ा ही मजेदार था।
-  - 
Reply
12-07-2018, 01:26 PM,
#24
RE: Antarvasna kahani चुदाई का घमासान
शबाना ने अपने अब्बू के सर के नीचे हाथ करके अपनी छाती पर दबा दिया और अपना चुचा उनके मुंह में ठूँसने की कोशिश करने लगी। अब्बू ने अपना मुंह पूरा खोल दिया और शबाना का आधे से ज्यादा स्तन उनके मुंह के अन्दर चला गया।
अब्बू का मुंह अपनी बेटी के चुचे से पूरा भर गया और फिर जब उन्होंने अपनी जीभ अन्दर से शबाना के चूचों पर घुमानी शुरू की तो शबाना तो जैसे पागल ही हो गयी। इतना मजा आज तक उसे नहीं आया था। नीचे से अब्बू का लम्बा लंड उसकी योनि की प्यास बुझा रहा था और ऊपर से अब्बू उसका दूध पीकर अपनी प्यास बुझा रहे थे।
चाची जान अपनी जगह से उठी और अपनी योनि को अम्मी के मुंह के ऊपर ले जाकर रगड़ने लगी। चाचू अम्मी के मुंह से नीचे उतर गए और उनके उतरते ही अपनी जवानी की आग में तड़पती हुई रुखसाना उन पर झपट पड़ी और चाचू के होंठ अपने मुंह में दबाकर नीचे चित लिटा दिया और चचा जान का मोटा लंड अपनी योनि पर टिका कर उसे अन्दर ले लिया।
मैंने अम्मी की योनि के ऊपर अपना मुंह रखा और उसे चाटने लगा। अम्मी को शायद पता चल गया था कि मैं उनकी योनि चूस रहा हूँ। उन्होंने उत्तेजना के मारे अपने योनिड़ ऊपर उठा दिये। मैंने नीचे हाथ करके उनके चौड़े पुट्ठे पकड़े और अपनी दो उँगलियाँ उनकी गांड के अन्दर डाल दी और अपनी लम्बी जीभ उनकी योनि के अन्दर।
अम्मी मचल उठी इस दोहरे हमले से…”आआआ आआआ आआआ आआआ आआह्ह्ह्ह..”
मैं उठा और अपना लंड उनकी योनि के छेद पर टिका दिया।
आज मैं अम्मी की योनि चुदाई कर रहा था, उसी छेद के अन्दर अपना लंड डाल रहा था जहाँ से मैं निकला था। मेरे लंड का स्पर्श अपनी योनि पर पाकर अम्मी तो बिफर ही पड़ी। उन्होंने अपने योनिड़ फिर से ऊपर उठा लिये और मेरा पूरा लंड उनकी योनि के अन्दर समाता चला गया।
“आआआ आअह…” अम्मी के मोअन की हल्की आवाजें चाची जान की योनि से छन कर मुझे सुनाई दे रही थी। मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और मैं तेजी से अपनी अम्मी की योनि मारने लगा।
उधर शबाना अपने आखिरी पड़ाव पर थी, वो अब्बू के लंड के ऊपर उछलती हुई बडबडा रही थी- आआआअह्ह्ह… चोदो मुझे अब्बू… अपने प्यारे लंड से… फाड़ डालो अपनी बेटी की योनि इस डंडे से… चोदो न… जोर से… आआआह्ह्ह… बेटी चोद… सुनता नहीं क्या तेज मार… कुत्ते… बेटिचोद… चोद जल्दी जल्दी… आआआ आआह्ह… डाल अपना मुसल मेरी योनि के अन्दर तक… अह्ह्ह्ह ह्ह्ह… और तेज और तेज और तेज… आआआअह्ह्ह… हाँ… ऐसे..ही… भेन्चोद… चोद… अह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हह्ह!
अब्बू से अपनी बेटी के ये प्यारे शब्द बर्दाश्त नहीं हुए और उन्होंने अपना रस अपनी छोटी सी बेटी की योनि के अन्दर उड़ेल दिया। शबाना भी अब्बू के साथ साथ झड़ने लगी।
शबाना को देखकर रुखसाना को भी जोश आ गया… वो भी चिल्लाने लगी चाचू के लंड पर कूद कर- हननं… डेडी…चोदो अपनी बेटी को… देखो शबाना को ताऊ जी कैसे चोद रहे है… वैसे ही चोदो अपनी लाडली को… डालो अपना लंड मेरी योनि के अन्दर तक… आआहहह… डाआल ऊऊऊऊओ…
और वो भी चाचू के साथ साथ झड़ने लगी।
शबाना अब्बू के लंड से नीचे उतरी और अब्बू के लण्ड को अपने मुंह में लेकर चूसने लगी। चाची जान जो अपनी योनि अम्मी से चुसवा रही थी, उन्होंने अपना सर आगे किया और शबाना की योनि से टपकते अब्बू के रस को पीने लगी।
मेरे लिए भी अब सब्र करना कठिन हो गया था। मैंने भी एक दो तेज झटके मारे और अपना पानी अम्मी की योनि के अन्दर छोड़ दिया। अम्मी ने अपने अन्दर मेरे गर्म पानी के बहाव को महसूस किया और वो भी जोर से चिल्ला कर झड़ने लगी- आआह आआ आअह्ह्ह्ह… आआआ… अह.. अह.. अ..अ..हहा.. ह..अ..ह.. हा..हा.. हा…!
मैंने अपना लंड बाहर निकाला और शबाना जो अब्बू के लंड से उतर चुकी थी, आगे आई और अम्मी की योनि से मेरा रस पीने लगी। अपनी योनि पर अपनी बेटी का मुंह पाकर अम्मी की योनि के अन्दर एक और हलचल होने लगी।
अम्मी ने शबाना के सर को पकड़ कर अपनी योनि पर दबा दिया और उसकी टाँगें खींच कर अपने मुंह के ऊपर कर ली और उसकी योनि से अपने पति का वीर्य चाटने लगी। शबाना की योनि को अम्मी बड़े चाव से खा रही थी। थोड़ी ही देर में उन दोनों की योनि में दबी वो आखिरी चिंगारी भी भड़क उठी और दोनों एक दूसरी के मुंह में अपना रस छोड़ने लगी।
चाची जान ने हम तीनों बच्चों की तरफ हाथ करके कहा- ये कितने अच्छे बच्चे हैं…
वो हमारी परफ़ोरमेन्स से काफी खुश थी।
अम्मी ने बेड से उठते हुए कहा- ये कुछ ज्यादा ही हो गया।
शबाना ने उनसे पूछा- क्या आपको ये सब अच्छा नहीं लगा अम्मी ?
अम्मी ने धीरे से कहा- हम्म्म्म हाँ अच्छा तो लगा… पर ये सब एकदम से हुआ… मेरी तो कुछ समझ नहीं आ रहा है.
शबाना ने उनसे सवाल किया- पर हमें तो बड़ा मजा आया, क्या आपको मेरी योनि को चूसना अच्छा नहीं लगा… मेरी तो इतने दिनों की इच्छा पूरी हो गयी अब्बू के लंड से अपनी योनि मरवा कर… कितना मजा आया उनका मोटा लंड लेने में… क्या आपको नहीं आया भैया का लंड अपनी योनि में लेने में… बोलो??
सब की नजरें अम्मी की तरफ उठ गयी।
शबाना ने अब्बू से पूछा- और अब्बू क्या आपको मेरी योनि पसंद नहीं आई??
उन दोनों को चुप देख कर चाची जान ने कहा- अरे… अब आप दोनों ऐसे क्यों शर्मा रहे हैं… आप दोनों को अपने बच्चों के साथ सेक्स करने में मजा आया है तो इस बात को कबूल करने में इतना झिझक क्यों रहे हो?? हमने भी तो अपनी बेटी रुखसाना को इस खेल में शामिल किया है और उसकी योनि चूसने में मुझे तो बड़ा मजा आता है, उसके अब्बू भी कल से अपनी बेटी की कसी हुई योनि की बार बार तारीफ़ कर रहे हैं.
अम्मी ने कहा- चलो ठीक है… अब हमें अपने कमरे में चलना चाहिए।
चाची जान ने कहा- अरे भाभी… मूड मत खराब करो… अभी तो मजा आना शुरू हुआ है… अभी तो पूरी रात पड़ी है।
मैंने मन ही मन सोचा- साली, इस चाची जान के बदन में आग लगी है, पूरी रात चुदवाने की तैयारी से आई थी हरामजादी।
अम्मी ने कहा- नहीं… अब और नहीं… चलो तुम दोनों अब चुपचाप सो जाओ… और निदा फारुख… प्लीज… आप भी चलो यहाँ से!
हम सबने उनकी बात को मानना उचित समझा और अपने बेड पर जाकर रजाई के अन्दर घुस गए।
चाची जान- चलो ठीक है… तुम कहती हो तो चलते हैं। चलो फारुख… अपने रूम में जाकर हम दोनों ही आपस में चुदाई करते हैं.
और चाची जान हमारे पास आकर हमें गुड नाईट बोली और मेरे लंड को अपने हाथ में लेकर मसल दिया और बोली- काफी मजा आया… कल मिलते हैं।
सब के जाने के बाद हम तीनों अपने बेड पर नंगे रजाई में बैठे हंस रहे थे।
शबाना- मुझे विश्वास ही नहीं हो रहा है कि हमने अपने अम्मी अब्बू के साथ भी चुदाई की. और इतना सब होने के बाद भी उन लोगों ने हमें फिर से इस कमरे में छोड़ दिया… हा हा हा!
रुखसाना ने अपनी योनि को मेरी टांगों पर दबाते हुए कहा- और मैं सच कहूं तो तुम्हारे अम्मी अब्बू को भी काफी मजा आया होगा। वो अभी खुल कर नहीं बता रहे हैं पर तुम दोनों से सेक्स करके वो भी कम खुश नहीं थे।
शबाना ने मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ कर कहा- तो तुम्हारा ये लंड अभी भी कुछ कर दिखाने के मूड में है क्या?
मैंने उन्हें उकसाया- मेरे लंड के कारनामे देखना चाहते हो तो उसे तैयार करो और फिर मैं तुम दोनों को दिखाता हूँ की चुदाई क्या होती है।
शबाना ने अपनी आँखें मटकाते हुए रुखसाना की तरफ देखा- ओह… माय माय… लगता है किसी को अपने लंड पर कुछ ज्यादा ही गुरुर हो गया है…
और फिर वो दोनों एक साथ बोली- लगता है गुरुर तोड़ना पड़ेगा… हा हा हा…
उसके बाद जो चुदाई का खेल शुरू हुआ तो उनकी योनि के परखचे ही उड़ गए। उस रात मैंने शबाना और रुखसाना की कितनी बार चुदाई की… मुझे खुद ही नहीं मालूम और वो दोनों बेचारी अपनी सूजी हुई योनि लेकर नंगी ही मुझ से लिपट कर सो गयी।
उधर अपने कमरे में पहुंचकर चाची जान ने आयने वाली जगह पर ही खड़े होकर दूसरे कमरे में अपनी बेटी और अपनी भतीजी को मुझसे चुदते हुए देखकर चाचू से लगभग तीन या चार बार अपनी योनि मरवाई।
अगली सुबह मैंने अपने लंड के चारो तरफ गीलेपन का एहसास पाया, कोई मेरा लंड चूस रहा था। मैंने अपने दोनों तरफ देखा शबाना और रुखसाना दोनों अपने मोटे मोटे चुचे मुझ में घुसेड़े आराम से सो रही थी।
मैंने नीचे देखा तो पाया कि निदा चाची जान मेरा लंड मुंह में लेकर चूस रही है। मुझे अपनी तरफ देखता पाकर वो मुस्कुरा दी और मुझे गुड मोर्निंग बोलकर फिर से मेरा लंड चाटने लगी।
मेरे शरीर की हलचल पाकर शबाना भी जाग गयी और जब उसने देखा कि चाची जान मेरे लंड से ब्रुश कर रही है तो उसकी योनि भी सुबह की खुमारी में रस से सराबोर हो गयी। उसने थोड़ी जगह बना कर चाची जान को बेड पर आने को कहा।
चाची जान ऊपर आई और अपनी टांगें शबाना के चेहरे के ऊपर करके वापिस मेरा लंड चाटने लगी।
रुखसाना भी अब जाग चुकी थी, अपनी अम्मी को सुबह सुबह नंगी लंड चूसते देख कर उसके बदन में भी आग लग गयी और उसने मुझे चूमना शुरू कर दिया। मैंने अपने हाथ रुखसाना के उभारों पर रख दिए और उन्हें दबा दबाकर उन्हें और बड़ा करने लगा।
रुखसाना के चुचों के बारे में एक बात कहना चाहता हूँ, वो बड़े ही मुलायम है पर उसके एरोला और निप्पल उतने ही कठोर, वो किसी कील की तरह मेरे हाथों में चुभ रहे थे। मैंने उन्हें और जोर से दबाना शुरू कर दिया और उतनी ही बेदर्दी से उसके नाजुक होंठों को भी चूसना जारी रखा।
-  - 
Reply
12-07-2018, 01:26 PM,
#25
RE: Antarvasna kahani चुदाई का घमासान
तभी दरवाजा खुला और हमारे अब्बू अन्दर आ गए। उन्होंने जब देखा कि अन्दर सुबह की चुदाई की तैयारी चल रही है तो वो चुपचाप अन्दर आये और अपने कपड़े उतार कर वो भी ऊपर चढ़ गए। चाची जान की योनि तो वो कई बार मार चुके थे और कल रात उन्होंने शबाना की भी जम कर चुदाई करी थी।
इसलिए आज उनकी नजर रुखसाना के कमसिन जिस्म पर थी। रुखसाना जो मेरे मुंह में घुसी हुई कुछ ढूँढ रही थी, उसकी टांगें चौड़ी करके अब्बू ने अपना मुंह उसकी योनि पर रख दिया और उसे चूसने लगे।
रुखसाना ने जब अपनी योनि पर अपने ताऊ जी की गर्म जीभ को पाया तो उसकी रस बरसाती योनि से एक कंपकपी सी छूट गयी- आआ आआआ आअह्ह्ह्ह… म्म्मम्म म्म… हाआआ अन्न्न… ऐसे ही… जोर से…
और वो अब्बू को और जोर से अपनी योनि को चूसने के लिए प्रोत्साहित करने लगी।
जवान लड़की की योनि पाकर अब्बू भी दुगने जोश से अपने अनुभव का इस्तेमाल करते हुए रुखसाना की योनि की तलाशी लेने लगे।
वहां फारुख चाचू की जब नींद खुली तो चाची जान को बगल में ना पाकर उन्होंने भाग कर आयने वाली जगह देखा और वहां का नजारा देखकर वो नंगे ही हमारे कमरे में दौड़ कर चले आये। उनकी पत्नी मेरा लंड चूस रही थी और उनके बड़े भाई उनकी बेटी की योनि चाट रहे थे और उनकी पत्नी की योनि को उनकी भतीजी साफ़ कर रही थी।
कमरे में अब सिर्फ शबाना की योनि ही बची थी जो खाली थी। चाचू झट से उसकी तरफ चल पड़े और वहां पहुंच कर अपनी लम्बी जीभ का इस्तेमाल करके शबाना की योनि और गांड बारी बारी से चाटने लगे, पूरे कमरे में सिसकारियां गूंज रही थी।
अब्बू का लंड पूरी तरह से खड़ा हो चुका था, वो रुखसाना को बेड पर लिटा कर खुद जमीन पर उठ खड़े हुए और रुखसाना की एक टांग को हवा में उठा कर अपना लंड उसकी छोटी सी योनि पर टिका दिया। उनका टोपा काफी बड़ा था, रुखसाना की छोटी सी योनि के सिरे पर वो फंस सा रहा था।
अब्बू ने थोड़ा जोर लगाया तो रुखसाना दर्द से बिलबिला उठी- आआ आआआ आआआह्ह्ह्ह… धीरे डालो… बड़े अब्बू… धीरे…
लंड का टोपा अन्दर जाते ही बाकी का काम उसकी योनि की चिकनाई ने कर दिया। अब्बू का लौड़ा उस पतली सुरंग में फिसलता चला गया.
“अयीईईई ईईईई ईईई… मर… गयी.. अह..अह.. अह..अह.. अह.. अह…”
और अब्बू ने तेजी से धक्के मारने शुरू कर दिए।
रुखसाना की छाती मेरे सीने पर रखी हुई थी, रुखसाना के मोटे चूचे मेरे सीने से टकरा रहे थे और उसके खुले मुंह से निकलती लार मेरी छाती पर टपक रही थी।
चाची जान भी उठ खड़ी हुई और मेरे दोनों तरफ टांगें करके अपनी योनि को मेरे लंड पर टिकाया और मेरी टाँगों पर बैठ गयी। अब उनके मोटे तरबूज भी मेरी आँखों के सामने झूल रहे थे। मैंने हाथ बढ़ा कर उन्हें भी सहलाना शुरू कर दिया। चाची जान थोड़ा और आगे हुई और मेरे सीने पर लेटी हुई अपनी बेटी रुखसाना के होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उन्हें चूसने लगी।
शबाना जो अब तक अपनी योनि चटवा कर काफी गर्म हो चुकी थी।, उसने चाचू के मुंह से बड़ी मुश्किल से अपनी योनि छुड़वाई और उनके लम्बे लंड को एक किस करके उनके ऊपर चढ़ बैठी। बाकी काम चाचू ने कर दिया अपना खड़ा हुआ लंड उसकी रस टपकाती योनि में डाल कर।
अब हमारे कमरे में तीन चुदाई चल रही थी और सभी बड़े जोरो से आवाजें निकाल निकाल कर चुदाई कर रहे थे।
शबाना चिल्लाई- आआआ आआआह्ह्ह… चाअचूऊऊऊऊऊ… चोदो मुझे… और जोर से… अह…
रुखसाना भी बोली- बड़े अब्बू… डालो अन्दर तक अपना मोटा लंड… आआआआह्ह… और तेज… चोदो… अपनी रुखसाना को बड़े अब्बू।
चाची जान भी कहाँ पीछे रहने वाली थी- आआआआअह्ह… समीर… डाल बेटा… अपनी चाची जान की योनि कैसी लगी… बता ना?
मैंने चाची जान की आँखों में देखा और कहा- भेनचोद… कुतिया… कितने लोगों से मरवा चुकी है… तेरी अम्मी की योनि… साली… कमीनी.. बता मुझे?
चाची जान ने उखड़ती साँसों से कहा- बड़े लंड लिए है अपनी योनि में… पर अपनों का लेने में जो मजा है वो कहीं नहीं है… चोदो मुझे… दुनिया की हर चाची जान को तेरे जैसा भतीजा मिले जिसका इतना मोटा लंड हो तो मजा ही आ जाए… बिना पूछे डाल दिया कर अपना लंड मेरी योनि में कभी भी… कहीं भी… आआआ आआआह्ह्ह्ह…
लगता है चाची जान मेरे लंड से कुछ ज्यादा ही इम्प्रेस हो गयी थी।
मैंने उनके होर्न अपने हाथों में पकड़े और अपने इंजिन की स्पीड बढ़ा दी।
तभी दरवाजा दुबारा खुला और अम्मी वहां खड़ी थी, अम्मी ने अन्दर आकर पूछा- तुम लोगों को कोई शर्म है या नहीं?
मैंने उनसे कहा- हाय मॉम… गुड मोर्निंग!
अम्मी ने अब्बू की तरफ देखा और कहा- आप तो कम से कम इन्हें रोकते, पर आप तो खुद ही यहाँ लगे हैं अपनी भतीजी की योनि मारने में!
अब्बू ने जवाब दिया- शाजिया, अब ये लोग हमारे कहने से रुकने वाले तो हैं नहीं और कल जब सब कुछ हो ही चुका है तो आज इन्कार करने से क्या फायदा… आओ तुम भी आ जाओ ऊपर और खा जाओ घर के लौड़े!
मैंने अपनी जीभ अपने होंठों पर फिराते हुए कहा- हाँ अम्मी , आप यहाँ आओ, मेरे मुंह के ऊपर मैं आपकी योनि चूसना चाहता हूँ… बड़ी प्यास लगी है मुझे…
चाचू ने भी जोर दिया- हाँ भाभी… आ जाओ ऊपर!
अम्मी ने सभी की बात सुनी और अपना सर हिलाते हुए उन्होंने अपनी हार मान ली और उन्होंने अपना गाउन वहीं जमीन पर गिरा दिया और नंगी ऊपर बेड पर चढ़ गयी और मेरे मुंह के ऊपर आकर बैठ गई।
मेरी लम्बी जीभ उनकी योनि का इन्तजार कर रही थी।
जैसे जैसे अम्मी नीचे हुई, मेरी पैनी जीभ उनकी योनि में उतरती चली गयी.
“आआ आआआ आअह्ह्ह्ह…” अम्मी ने एक लम्बी सिसकारी मारी और मैंने अपनी जीभ से उनकी क्लिट को दबाना और चुबलाना शुरू कर दिया।
अम्मी का मुंह मेरे लंड की तरफ था जहाँ चाची जान मेरे लंड की सवारी करने में लगी हुई थी। चाची जान ने आगे बढ़ कर अम्मी के मोटे चूचों को पकड़ा और उन्हें फ्रेंच किस करने लगी। अम्मी अपनी योनि मेरे मुंह पर बड़ी तेजी से रगड़ रही थी।
मैं जिस तरह से अम्मी की योनि चाट और चबा रहा था, उन्हें काफी मजा आ रहा था। आज अपने बीच तीनों बच्चो को शामिल करके सेक्स करने का मजा लेने में लगे थे सभी बड़े लोग।
अम्मी ने अपनी दायीं तरफ देखा जहाँ उनके पति अपनी भतीजी की योनि का तिया पांचा करने में लगे थे और बायीं तरफ उनकी लाड़ली बेटी अपने चाचू के लंड को आँखें बंद किये मजे से उछल उछल कर ले रही थी और उनके नीचे लेटा उनका बेटा उनकी योनि चाटने के साथ साथ अपनी चाची जान को भी चोद रहा था.
इतनी कामुकता फैली है इस छोटे से कमरे में।
तभी चाची जान ने एक तेज आवाज करते हुए झड़ना शुरू कर दिया और वो निढाल होकर नीचे लुढ़क गयी। मेरा लंड उनकी गीली योनि से निकल कर तन कर खड़ा हुआ था। अम्मी ने जब अपने सामने अपने बेटे का चमकता हुआ लंड देखा तो उनके मुंह में पानी आ गया।
अम्मी ने नीचे झुक कर मेरे लंड को अपने मुंह में भर लिया और उसे चूस चूस कर साफ़ करने लगी। मैंने पलट कर अम्मी को नीचे किया और घूम कर उनकी योनि की तरफ आया और अपना साफ़ सुथरा लंड उनकी फूली हुई योनि पर टिका दिया। मैंने उनकी आँखों में देखा और कहा- आई लव यू मॉम!
और अपना लंड उनकी लार टपकाती योनि में उतार दिया।
अम्मी ने लम्बी सिसकारी भरी- आआ आआआ आह्ह्ह्ह… म्म्म्म म्म…
अम्मी ने मेरा लंड पूरा निगल लिया और मेरी कमर पर अपनी टांगों का कसाव बना कर मुझे बाँध लिया और बोली- बस थोड़ी देर ऐसे ही लेटे रहो… मैं तुम्हारा लंड अपनी योनि में अन्दर तक महसूस करना चाहती हूँ।
मैं अम्मी की छाती पर लेटा रहा और उनके अधखुले होंठों को अपने मुंह में लेकर चूसने लगा। धीरे धीरे उन्होंने नीचे से धक्के मारने शुरू कर दिए। मैंने उनकी टांगों का जाल खोला और उन्हें अपने दोनों हाथों से पकड़ कर उनकी टांगों को और भी चौड़ा कर दिया और लगा धक्के पे धक्के मारने अपनी अम्मी की योनि में।
-  - 
Reply
12-07-2018, 01:27 PM,
#26
RE: Antarvasna kahani चुदाई का घमासान
अम्मी के मुंह से बरबस ही बोल फूट पड़े- आआआ आअह्ह्ह… चोद मुझे बेटा… चोद डाल… और अन्दर डाल अपना लंड… मादरचोद… चोद मुझे… बहन चोद… चोद मुझे… आआआ आआह्ह्ह… डाल अपना मोटा लंड अपनी अम्मी की योनि में… आआह… ह्ह्ह्हहाहा… आहा… ह्ह्ह.. हा.. अह्ह्ह्ह ह्ह…
मैंने भी अम्मी की योनि मारते हुए कहा- ले साली रंडी… बड़ी सती सावित्री बनती है… अपने देवर से चुदवाती है और मुझसे शर्मा रही थी… और अब लंड डाला है तो दुगने मजे ले रही है… कुतिया कहीं की… साली रंडी…
अम्मी ने अपनी गांड उठा कर चुदते हुए कहा- हाँ मैं रंडी हूँ… तेरी रंडी हूँ मैं आज से… चोद मुझे… घर पर जब भी तेरा मन करे चोद देना मुझे… अपने दोस्तों से भी चुदवाना अपनी रंडी अम्मी को… शाबाश बेटा चोद मुझे!
अम्मी पहले जितना शरमा रही थी उतनी ही खुल गयी थी अब।
अब्बू ने अपनी भतीजी की कसी योनि जैसी योनि आज तक नहीं मारी थी। रुखसाना के कसाव के आगे उनके लंड के पसीने छुट गए और उन्होंने अपनी बाल्टी रुखसाना की योनि में खाली कर दी पर रुखसाना अभी भी नहीं झड़ी थी।
चाचू के लंड को शबाना अजीब तरीके से दबा रही थी अपनी योनि से। उन्होंने भी अपनी जवान भतीजी के आगे घुटने टेक दिए और झड़ने लगे उसकी योनि के अन्दर।
शबाना भी बिना झड़े रह गयी, उसने रुखसाना को इशारा किया और उसे अपने पास बुला कर उसकी टांगों के बीच अपनी टांगें फंसा कर अपनी योनि से उसकी योनि को रगड़ने लगी।
दोनों की योनि जल रही थी और जल्दी ही उन्होंने एक दूसरे की योनि को अपने रस से नहलाना शुरू कर दिया- आआआ आआह्ह्ह… येस्स स्सस्स… बेबी… ओह… फक्क… आआआह्ह्ह!
इधर अम्मी भी मेरे लंड की सवारी को ज्यादा नहीं कर पायी और उन्होंने एक दो झटके मारे और झड़ने लगी- आआस्स आआअह्ह्ह्ह… मैं तो गयी… आआअह्ह्ह… मजा आआअ… गयाआआ… आआआ आआ आआअह्ह्ह्ह!
मैंने अम्मी की योनि की गर्मी महसूस करी और मैंने भी अपना रस अपनी जननी की योनि में उतार दिया।
चारों तरफ वीर्य और योनि के रस की गंध फैली हुई थी. सबने एक दूसरे को चूमना और सहलाना शुरु किया और बारी बारी से सब की योनि और लंड साफ़ किये और फिर सभी उठ खड़े हुए और फिर सब लोग तैयार होकर नाश्ता करने चले गए।
सुबह नाश्ता करने के बाद हम सब लोग घूमने निकल गए। आज हम पूरे परिवार के साथ घूमने निकले थे तो बड़े लोगो के साथ खुले में चुदाई नहीं कर सकते थे। कुछ देर बाद हम वापस अपने केबिन में आ गए। चचा जान चाची जान, रुखसाना के साथ अपने रूम में चले गए और मैं, शबाना और अम्मी अब्बू के साथ उनके रूम में चले गए।
आते ही शबाना हरकत में आई और उसने अब्बू का लंड पकड़ा और उन्हें लंड से घसीटते हुए बेड पर जाकर लेट गयी और उन्हें अपने ऊपर गिरा लिया। अब्बू का खड़ा हुआ लंड सीधा शबाना की फड़कती हुई योनि में घुस गया और शबाना ने अपनी टांगें अब्बू की कमर में लपेट कर उसे पूरा अन्दर ले लिया और सिसकारने लगी- आआ आआह आअह्ह… पाआअपाआअ… म्मम्मम्मम!
अम्मी ने भी मुझे बेड पर धक्का दिया और अपनी योनि को मेरे लंड पर टिका कर नीचे बैठ गयी और मेरा पूरा लंड हड़प कर गयी अपनी योनि में!
“उयीईईई ईईईईई… अह्ह्ह- उनके मुंह से एक लम्बी सी सिसकारी निकली।
अब्बू ने भी चोदते हुए अपने होंठों को शबाना के होंठों पर रख दिया। अब्बू के गीले होंठों के स्पर्श से शबाना का शरीर सिहर रहा था। उसके लरजते हुए होंठों से अजीब अजीब सी आवाजें आ रही थी। अपनी पतली उंगलियाँ वो अब्बू के घने बालों में घुमा कर उन्हें और उत्तेजित कर रही थी। अब्बू के होंठ जब उसके खड़े हुए चूचियों तक पहुंचे तो उसकी सिहरन और भी बढ़ गयी, उसके मुंह से अपने आप एक मादक चीख निकल गयी- अह्ह्ह्ह ह्ह्ह्ह… पाआआ..पाआ… म्म्म्मम्म…
शबाना ने अपनी आँखें खोलकर देखा तो अब्बू अपनी लम्बी जीभ निकाल कर उसके निप्पल के चारों तरफ घुमा रहे थे, उसके कठोर निप्पल और एरोला पर उभरे हुए छोटे छोटे दाने अब्बू की कठोर जीभ से टकरा कर उसे और भी उत्तेजित कर रहे थे।
शबाना चाहती थी कि अब्बू उन्हें और जोर से काटें, बुरी तरह से दबायें। वो अपने साथ उनसे वहशी जैसा बर्ताव करवाना चाहती थी पर अब्बू तो उसे बड़े प्यार से सहला और चूस रहे थे।
तभी अब्बू ने उसे जोर से चोदने लगे।
शबाना चीखी- आआआआह… पपाआआअ… जोर से… चूसो… नाआआआअ.. अपनी बेटी को… हां.. ऐसे… हीईईई… आआआआआह्ह… काटो मेरे निप्पल को दांतों से… आआ आआअह्ह्ह्ह… दबाओ इन्हें अपने हाथों सेईईईईई… आआआआह्ह्ह्ह… चबा डालो… इन्हें ईईए… मत तड़पाओ… ना पपाआआआ… प्लीज…
शबाना की बातें सुन कर अब्बू समझ गये कि वो जंगली प्यार चाहती है इसलिए उन्होंने अपनी फूल सी बेटी के जिस्म को जोर से मसलना और दबाना, चूसना और काटना शुरू कर दिया।
मेरा लंड भी अपनी अम्मी की योनि के अन्दर काफी तेजी से आ जा रहा था। आज वो काफी खुल कर चुदाई करवा रही थी, उनके मोटे मोटे चुचे मेरे मुंह पर थपेड़े मार रहे थे। मैं उनके मोटे कूल्हों को पकड़ा हुआ था और अपनी एड़ियों के बल उठ कर, नीचे लेटा उनकी चुदाई कर रहा था।
अम्मी के मुंह में सिसकारियों की झड़ी लगी हुई थी- उफ्फ्फ… ओफ्फ्फ.. ओफ्फ्फ्फ़.. अआः अह अह अह अह अह अहोफ्फ्फ़… ओफ्फ्फ्फ़… ओफ्फ्फ्फ़… फक्क.. मीई… अह्ह्ह्ह्ह… हाआआआन…
और अंत में उन्होंने अपनी गर्म योनि में से मलाईदार रस छोड़ना शुरू कर दिया- आआ आआअह्ह्ह्ह… मैं… गयीईइ… ओह्ह्ह्… गॉड…
मैंने अम्मी को नीचे लिटाया और अपना लंड निकाल कर उनकी दोनों टांगें उठा कर अपने लंड को उनकी गांड में लगा दिया। उनकी आँखें विस्मय से फ़ैल गयी। मैंने जब से अपनी अम्मी को चुदते हुए देखा था, मैं तभी से उनकी मोटी और फूली हुई गांड मारना चाहता था। आज मौका लगते ही मैंने अपना लंड टिकाया उनकी गांड पर और एक तेज धक्का मारा।
वो चिल्ला पड़ी- आआआ उम्म्ह… अहह… हय… याह… आआ आआआह्ह्ह्ह…
मॉम की गांड का कसाव सही में लाजवाब था।
मैंने तेजी से झटके देने शुरू किये। गांड के कसाव के कारण और उनके गद्देदार योनिड़ों के थपेड़ों के कारण मुझे काफी मजा आ रहा था। मेरे नीचे लेटी अम्मी की चूचियां हर झटके से हिल रही थी। अम्मी ने अपनी चूचों को पकड़ कर उन्हें दबाना शुरू कर दिया और मेरी आँखों में देखकर सिसकारियां सी भरने लगी- आआ आआआ आअह्ह्ह… म्मम्मम्म… ओफ्फ्फ… ओफ्फ्फ… अह्ह्ह्ह… शाबाश बेटा… और तेज करो… हाँ ऐसे ही… आआ आह्ह्ह्ह…
अम्मी अब दोबारा उत्तेजित हो रही थी, मेरे हर झटके से वो अपनी गांड हवा में उठा कर अपनी तरफ से भी ठोकर मारती थी.
और जल्दी ही मेरे लंड ने जवाब दे दिया और मैंने एक तेज आवाज निकालते हुए उनकी कसी हुई मोटी गांड में झड़ना शुरू कर दिया- आआआआह्ह… मॉम्म्म… मैं… आआया… आआआआ … आअह्ह्ह…
अम्मी ने मेरे सर के ऊपर हाथ रखा और बोली- आजा… आआआ… मेरे…लाल्ल… आआआअह्ह्ह
और वो भी झड़ने लगी।
अपने जवान बेटे की चुदाई देखकर उनकी आँखों से ख़ुशी के मारे आंसू आने लगे और वो मुझे गले लगाये मेरे लंड को अपनी गांड में लिए लेटी रही।
-  - 
Reply
12-07-2018, 01:27 PM,
#27
RE: Antarvasna kahani चुदाई का घमासान
अब्बू भी आज काफी खूंखार दिख रहे थे, उन्होंने शबाना की योनि का भोसड़ा बना दिया अपने लम्बे लंड के तेज धक्कों से।
शबाना तो जैसे भूल ही गयी थी कि वो कहाँ है। अपने अब्बू के मोटे लंड को अन्दर लिए वो तेजी से चिल्ला रही थी- आआआआआह्ह्ह… पपाआआआ और तेज मार साले… बेटी चोद… मार अपनी बेटी की योनि… आआआह… माआअर… कुत्ते… ओफ्फफ्फ्फ़… अयीईईईई…
वो बड़बड़ा भी रही थी और सिसकारियां भी मार रही थी। जल्दी ही दोनों अपने आखिरी पड़ाव पर पहुँच गए और शबाना ने अपनी टांगें अब्बू की कमर के चारों तरफ लपेट ली और अपने दोनों कबूतर उनकी घने बालों वाली छातियों में दबा कर और उनके होंठों को अपने होंठों में फंसा कर वो झड़ने लगी।
अपने लंड पर बेटी के गर्म रसाव को महसूस करते ही अब्बूके लंड ने भी अपने बीज अपनी बेटी के खेत में बो दिए और वो भी झड़ते हुए शबाना के नर्म और मुलायम होंठों को काटने लगे… और उसके ऊपर ही ढेर हो गए।
थोड़ी देर बाद हम सभी चाचू कमरे में पहुंचे और दरवाजा खोलते ही हम हैरान रह गए। अन्दर फारुख चाचू और निदा चाची जान, रुखसाना के साथ थ्रीसम कर रहे थे।
फारुख चाचू किसी पागल कुत्ते की तरह नंगी लेटी निदा चाची जान की योनि में अपना मूसल जैसा लंड पेल रहे थे और वो चुदक्कड़ निदा चाची जान तो लंड को देख कर बिफर सी गयी और चाचू के मोटे लंड पर चढ़ कर अपनी बुर को बुरी तरह से रगड़ रही थी।
रुखसाना भी अपनी अम्मी की कमर पर गांड रखकर लेटी हुई थी और अपनी अम्मी के होंठों और उनके चूचों को चूस रही थी। चाचू भी पीछे से रुखसाना की योनि और गांड चाट रहे थे।
हम सभी को देखते ही फारुख चाचू और निदा चाची जान मुस्कुरा दिए। मैंने देखा कि चाची जान ने हम सभी की आवाजें सुनते ही अपनी आँखें खोली और मेरी तरफ देखकर एक आँख मार दी। उसे चाचू के लंड को अपनी योनि में डलवाने में बड़ा ही मजा आ रहा था। उसके मोटे चुचे हर झटके के साथ आगे पीछे हो रहे थे और उसकी टांगें हवा में थी।
निदा चाची जान हमारी तरफ मुढ़ी और अम्मी को देखकर बोली- आओ भाभी… यहाँ आ जाओ… बड़ा ही मजा आ रहा है… आआ आ आआ आआअह्ह्ह्ह…
हम सभी अभी अभी चुदाई करके आये थे इसलिए थोड़ा थक गए थे। हमने ये बात चाचू को बताई और कहा- आप लोग मजे लो, हम थोड़ी देर बैठ कर आप लोगो की चुदाई देखेंगे और फिर शामिल भी हो जायेंगे।
और वो तीनों फिर से अपनी चुदाई में लग गए।
अम्मी , शबाना और मैं बड़े ही गौर से चचा जान को निदा चाची जान की चुदाई करते हुए देख रहे थे और अब्बू भी उन्हें देख कर फिर से ताव में आने लगे थे। चाची जान के दिलकश चुचे उनकी आँखों में एक अलग ही चमक पैदा कर रहे थे।
चाची जान तो पहले से ही अब्बू के लंड की दीवानी थी पर आज उसकी योनि में अब्बू का लंड भी नहीं गया था। इसलिए वो आगे गए और चाची जान के पास जा कर खड़े हो गए।
निदा चाची जान ने जब देखा कि उनके जेठ बड़े चाव से उसे चुदते हुए देख रहे है तो उसने अब्बू पुचकार कर अपने पास बुला लिया और रुखसाना को उठा कर, अब्बू को अपने झूलते हुए चुचे पर झुका कर उसके मुंह में अपना निप्पल डाल दिया।
अब्बू ने अपने दांतों से चाची जान के दाने को चूसना शुरू कर दिया… नीचे से चचा जान का लंड और ऊपर से अपने दाने पर जेठ के होंठों का दबाव पाकर निदा चाची जान लंड पर नाचने सी लगी। अब्बू तो जैसे चाची जान के हुस्न को देखकर सब कुछ भूल से गए थे। वो अपने छोटे भाई को उसकी पत्नी की योनि मारते देखकर फिर से उत्तेजित हो गए और अपना लटकता हुआ लंड मसलते हुए उनके पास जाकर खड़े हो गए।
चाची जान ने जब देखा कि मेरे अब्बू उसके पास खड़े हैं तो उसने मेरी तरफ देखा, मैंने सर हिला कर उसे इशारा किया और वो समझ गयी। उसने मुस्कुराते हुए हाथ बड़ा कर अब्बू का लंड पकड़ लिया। फिर चाची जान ने लंड को दबाना और मसलना शुरू कर दिया। जल्दी ही उनका वसीम नाग अपने पूरे शवाब पर आ गया।
चाचू ने जब देखा कि अब्बू पूरी तरह तैयार हैं तो उन्होंने चाची जान की योनि से अपना लंड बाहर निकाल लिया और अब्बू से बोले- भैय्या आप आ जाओ… आप मारो इस गर्म कुतिया की योनि!
अब्बू ने कहा- अरे नहीं फारुख… ऐसे कैसे… तुम एक काम करो… तुम नीचे लेट कर इसकी योनि मारो और मैं पीछे से इसकी गांड मारूँगा।
चाची जान भी खुशी खुशी यह मान गयी। अब्बू का लण्ड बिल्कुल सूखा था तो उन्होंने चाची जान से कहा- तुम फारुख पर उलटी होकर लेट जाओ, वो नीचे से अपना लंड तुम्हारी योनि में डालेगा और फिर थोड़ी देर बाद वो निकाल लेगा और मैं पीछे से तुम्हारी योनि में डाल दूंगा जिससे मेरा लौड़ा चिकना हो जाए।
चाची जान ने उनकी बात समझते हुए हाँ बोल दिया।
उनकी बातें सुनकर और चुदाई देखकर मेरे लंड ने भी हरकत करनी शुरू कर दी थी। रुखसाना भी उठकर हमारे पास आ गयी थी। शबाना भी अपने होंठों पर जीभ फिरा कर अपने एक हाथ को अपनी योनि पर रगड़ रही थी।
फारुख चाचू नीचे लेट गए और उन्होंने चाची जान को अपने ऊपर खींच लिया और अपना लंड वापिस उसकी योनि में डाल दिया। नीचे से लंड डालने के एंगल से लंड पूरी तरह उसकी योनि में जा रहा था।
आठ दस धक्के मारने के बाद चाचू ने अपना लंड निकाल लिया और पीछे खड़े अब्बू ने अपना मोटा लंड टिका दिया उसकी फुद्दी पर और एक करार झटका मारा।
चाची जान- अयीईईई ईईई… मररर… गयीईईई… अह्ह्ह्हह्ह!
करते हुए लुढ़क कर चाचू के ऊपर गिर गयी।
अब्बू का मोटा लंड चाची जान की योनि के अन्दर घुस गया था। उसके गुदाज चुचे चाचू के मुंह के ऊपर थे, उनके तो मजे हो गए, उन्होंने उन चुचों को चुसना शुरू कर दिया। पीछे से रेलगाड़ी फिर चल पड़ी और अब्बू चाची जान के मोटे योनिड़ों को थामे जोर जोर से धक्के मारने लगे।
चाची जान की सिसकारियां गूंजने लगी मजे के मारे ‘हम्म्म्म… अ हा हा अ अह अह.. आ… ऊओफ उफ ओफ्फोफ़… ऑफ़… ऑफ़ ऑफ़.. उफ.. ऑफ… ऑफ.. फ़… आह… आह्ह… म्मम्मम जोर से करो ना… भाई साब… प्लीज… और तेज मारो…
तभी अब्बू ने अपना लंड निकाल दिया चाची जान की योनि से क्योंकि अब चाचू की बारी जो थी। वो परेशान सी हो गई लेकिन अगले ही पल चाचू ने नीचे से फिर से अपना लंड डाल दिया और वो फिर से खो गयी चुदाई की खाई में।
अब्बू ने भी अपना गीला लंड चाची जान की गांड के छेद पर रख दिया। वो समझ गयी और अपने दोनों हाथों से अपनी गांड के छेद को फैलाने लगी।
अब्बू के एक झटके ने उन्हें चाचू के ऊपर फिर से गिरा दिया और इस बार अब्बू का लंड उसकी गांड को चीरता हुआ अन्दर जा धंसा.
वो चीखी- आआआआअह्ह्ह्ह… मररर… गयीईईई… अह्ह्हह्ह्ह…
अब्बू ने अगले दो चार और तेज झटकों ने अपना पूरा आठ इंच लंड चाची जान की गांड में घुसा दिया था। नीचे से चाचू ने फिर से चाची जान के दूध पीना शुरू कर दिया। वो हिल भी नहीं पा रही थी। अब दोनों भाई चाची जान की गांड और योनि एक साथ मार रहे थे… बड़ा ही कामुक दृश्य था।
शबाना भी अपने अब्बू और चाचू की कलाकारी देखकर मंत्र मुग्ध सी उन्हें देख रही थी। उसने अपने पूरे कपड़े उतार फैंके और मेरे से लिपट गयी। मेरे कपड़े भी कुछ ही देर में नीचे जमीन पर पड़े हुए थे।
दो लंड से चुद रही निदा चाची जान अचानक जोर जोर से चिल्लाने लगी- आआआ आआआह्ह… अह.. अह.. अह.. अ हा.. आह.. आह. आह.. आह… उफ.. उफ..उफ.. आआ आआ आअह्ह और तेज मारो… आआआ आअह्ह मजा आ गया!
और चाची जान ने अपना रस छोड़ दिया चचा जान के लंड के ऊपर।
पर अभी भी उनके दोनों छेदों की बराबरी से चुदाई चल रही थी।
-  - 
Reply
12-07-2018, 01:27 PM,
#28
RE: Antarvasna kahani चुदाई का घमासान
तभी शबाना ने मुझे धक्का देकर नीचे गिराया और मेरे लंड को अपनी गीली योनि पर टिका कर उसके ऊपर बैठ गयी और धक्के मारने लगी। मैंने अपने हाथ अपने सर के नीचे रख लिए और लंड को अपनी बहन की योनि में डाले मजे लेने लगा।
अम्मी भी आगे आई और गहरी सांस लेती अपनी भतीजी रुखसाना की योनि को किसी पालतू कुतिया की तरह चाटने लगी। रुखसाना ने भी सर घुमा कर अम्मी की योनि पर अपने होंठ टिका दिए और दोनों 69 की अवस्था में एक दूसरी को चूसने लगी।
मैंने अपनी बहन की योनि को ऐसे चोदा कि उसकी चीखें निकल गयी और वो भी झड़ने लगी- आआआ आअह्ह्ह्ह… रोहाआआन्न.. मैं तो गयीईई…
और वो भी गहरी साँसें लेने लगी।
मैंने भी चारों तरफ देखा, चाची जान को अब्बू और चाचू एक साथ योनि और गांड में चोद रहे थे। अम्मी और रुखसाना भी एक दूसरे की योनि चाट रही थी।
मैंने भी शबाना को पीछे घुमाया और अपना लंड शबाना की गांड के छेद में फंसा दिया। शबाना को जैसे ही मेरे मोटे लंड का अहसास अपनी गांड के छेद में हुआ, वो सिहर उठी, उसने भी अपनी गांड के छेद को फैलाया और मैंने भी एक तेज शोट मारकर अपना लंड उसकी गांड में धकेल दिया।
वो चिल्ला उठी- आआ आआ आआ आआह्ह्ह…
मैं शबाना की गांड मैं अपना लण्ड पेल रहा था और अम्मी और रुखसाना एक दूसरी की योनि को चाटकर झड़ने लगी औऱ फिर उन दोनों ने एक दूसरी के रस को चाट कर साफ कर दिया। रुखसाना अब अम्मी के ऊपर निढाल होकर गिर पड़ी।
तभी अब्बू ने अपना लण्ड चाची जान की गांड से बाहर निकाल दिया। चाची जान ने हैरानी से पीछे मुड़ कर देखा और फिर अब्बू ने अपना लंड उनकी योनि पर टिका दिया। चाचू का लंड पहले से ही वहां पर था।
अब्बू के मोटे लंड का अहसास पाकर चाचू ने अपना लंड बाहर निकलना चाहा पर अब्बू ने दबाव डाल कर चाचू के लंड को बाहर नहीं आने दिया और अपना लंड चाची जान की योनि में फंसा कर एक तेज झटका मारा।
चाची जान की योनि के धागे खुल गए, उनका मुंह खुला का खुला रह गया- अयीईईई ईईईईईई… मर… गयीईई…साले कुत्ते… भेन के लंड… निकाल अपना लौड़ा मेरी योनि से… फट गयी… आआआ आआआह्ह्ह्ह!
चाची जान की आँखों से आंसू आने लगे, उनकी योनि में दो वसीमकाय लंड जा चुके थे। चाची जान की योनि में तेज दर्द हो रहा था। शायद वो थोड़ी फट भी गयी थी और खून आ रहा था। पर अब्बू नहीं रुके और उन्होंने एक और शोट मार कर अपना लंड पूरा उनकी योनि में डाल दिया।
चाचू के लंड के साथ अब उनका लंड भी चाची जान की योनि में था। उन दोनों का लंड एक दूसरे की घिसाई कर रहा था और दोनों की गोलियां एक दूसरे के गले मिल रही थी। चाची जान के लिए ये एक नया अहसास था, उनकी योनि की खुजली अब शायद मिट जाए, ये सोच कर अब्बू ने फिर से नीचे से धक्के देने शुरू कर दिए। चाचू ने भी अब्बू के साथ ताल मिलायी और वो दोनों चाची जान की योनि में अपने अपने लंड पेल रहे थे।
दो लंड जल्दी ही अपना रंग दिखाने लगे और चाची जान की दर्द भरी चीखें मीठी सिसकारियों में बदल गयी- आआआ आआह आआह्ह्ह्ह… म्मम्मम्म… साले कुत्तो… तुमने तो मेरी योनि ही फाड़ डाली… आआआ आअह्ह्ह पर जो भी है… म्मम्मम्म… मजा आ रहा है… मारो अब दोनों… मेरी योनि को… आआआआह्ह्ह्ह…
और फिर तो अब्बू और चाचू ने चाची जान जो रेल बनायी… जो रेल बनायी… वो देखते ही बनती थी।
निदा चाची जान की हिम्मत भी अब जवाब दे रही थी।
सबसे पहले अब्बू ने अपना वीर्य छोड़ा, वो चिल्लाए- आआआ आअह्ह्ह्ह… वाह… मजा आ… गयाआआ!
चाची जान भी अपनी योनि में गर्म लावा पाकर पिघलने लगी और चाचू के लंड को और अन्दर तक घुसा कर कूदने लगी। जल्दी ही चाचू और चाची जान भी एक साथ झड़ने लगे. आआआ आअयीईई ईईई… म्मम्मम्म… मैं तो गयी…आआह आआअह्ह्ह्ह… ऊऊओफ़ गॉड!
मैं भी अपनी मंजिल के काफी करीब था, शबाना तो ना जाने कितनी बार झड़ चुकी थी, वो फिर से झड़ने लगी तो मैंने भी उसी पानी में अपना पानी मिला कर उसकी योनि को भिगोना शुरू कर दिया। हम दोनों का पानी उसकी नन्ही सी योनि में नहीं आ पा रहा था और वो नीचे की तरफ रिसता हुआ मेरे ही पेट पर गिरने लगा।
शबाना उठी और मेरे लंड को अपने मुंह में लेकर चूसने लगी और फिर उसने पेट पर गिरे वीर्य को भी साफ़ किया। सारा रस पीने के बाद उसने जोर से डकार मारा और हम सभी की हंसी निकल गयी।
अगले तीन दिनों तक हम सभी ने हर तरीके से एक दूसरे को कितनी बार चोदा, बता नहीं सकता और अंत में वो दिन भी आ गया जब हमें वापिस जाना था।
मुझे इतना मजा आज तक नहीं आया था। मैंने इस टूर पर ना जाने कितनी चूतें चोदी थी और कितनी बार चोदी, मैं गिनती भी नहीं कर पा रहा था।
चचा जान चाची जान, रुखसाना के साथ अपनी कार में सवार हो कर घर के लिए निकल गए और हम लोग भी अपने घर चल दिये थे।
वापिस जाते हुए मैं कार में बैठा सोच रहा था कि कैसे जुबैर और रियाज को शबाना की योनि दिलाई जाए और इसके लिए कितना चार्ज किया जाए। मैं तो ये भी सोच रहा था कि अम्मी को भी इसमें शामिल कर लेना चाहिए.
देखते हैं।
तभी अम्मी के फोन की घंटी बज उठी और उन्होंने कहा- अरे… हिना का फोन है.
और ये कहते हुए उन्होंने फोन उठा लिया और बातें करने लगी।
हिना अम्मी की छोटी बहन है यानी हमारी मौसी! वो अम्मी की तरह ही गोरी चिट्टी हैं, बाल कटे हुए, दुबली पतली। पर उनके चुचे देख कर मेरे मुंह में हमेशा से पानी आ जाता था। वो गुजरात में रहती हैं और उनके पति सरकारी जॉब करते हैं। उनके दो बच्चे हैं अयान और सुरभि, दोनों लगभग हमारी ही उम्र के हैं।
मैं गोर से उनकी बातें सुनने लगा। बात ख़त्म होने के बाद अम्मी ने खुश होते हुए कहा- अरे सुनो… हिना आ रही है अपने परिवार के साथ। वो लोग भी छुट्टियों में घुमने के लिए शिमला गए थे और वापसी में वो लोग कुछ दिन हमारे पास रुकना चाहते हैं।
अम्मी की बात सुनकर अब्बू बड़े खुश हुए, उनकी नजर हमेशा अपनी साली पर रहती थी, ये मैंने कई बार नोट किया था पर हिना मौसी बड़े नकचढ़े स्वभाव की थी। वो अब्बू की हरकतों पर उन्हें डांट भी देती थी इसलिए अब्बू की ज्यादा हिम्मत नहीं होती थी पर अब बात कुछ और थी। अम्मी अब्बू हमारे साथ खुल चुके थे इसलिए वो खुल कर बात कर रहे थे हमारे सामने।
अब्बू बोले- इस बार तो मैं इस हिना की बच्ची की योनि मार कर रहूँगा। बड़े सालों से ट्राई कर रहा हूँ, भाव ही नहीं देती साली।
अम्मी ने कहा- अजी सुनो… तुम ऐसा कुछ मत करना। वो पहले भी कई बार मुझसे तुम्हारे बारे में बोल चुकी है और इस बार तो उसके साथ सभी होंगे। उसके बच्चे और उसका पति सलमान भी। तुम ऐसी कोई हरकत मत करना जिससे उसे कोई परेशानी हो… समझे?
“देखेंगे…” अब्बू ने कहा और ड्राइव करने लगे।
जल्दी ही हम सभी घर पहुँच गए और सीधे अपने कमरे में जाकर बेसुध होकर सो गए। शबाना मेरे साथ मेरे कमरे में ही सो रही थी वो भी नंगी पर हमारे में इतनी भी हिम्मत नहीं थी कि चुदाई कर सकें, सफ़र में काफी थक चुके थे।

समाप्त
समाप्त
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Hindi Porn Stories हाय रे ज़ालिम 929 498,267 5 hours ago
Last Post:
Star Antarvasna तूने मेरे जाना,कभी नही जाना 32 103,949 Yesterday, 08:09 PM
Last Post:
Lightbulb Antarvasna kahani हर ख्वाहिश पूरी की भाभी ने 49 88,794 01-26-2020, 09:50 PM
Last Post:
Star Adult kahani पाप पुण्य 215 840,160 01-26-2020, 05:49 PM
Last Post:
Star Incest Kahani परिवार(दि फैमिली) 661 1,553,795 01-21-2020, 06:26 PM
Last Post:
Exclamation Maa Chudai Kahani आखिर मा चुद ही गई 38 182,409 01-20-2020, 09:50 PM
Last Post:
  चूतो का समुंदर 662 1,809,322 01-15-2020, 05:56 PM
Last Post:
Thumbs Up Indian Porn Kahani एक और घरेलू चुदाई 46 74,589 01-14-2020, 07:00 PM
Last Post:
Thumbs Up vasna story अंजाने में बहन ने ही चुदवाया पूरा परिवार 152 716,648 01-13-2020, 06:06 PM
Last Post:
Star Antarvasna मेरे पति और मेरी ननद 67 230,660 01-12-2020, 09:39 PM
Last Post:



Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.

Online porn video at mobile phone


pativrata maa aur dadaji ki incest chudaiishita ki nagi vali xxx poatoXnxmameeantrvasna naggi ghumayaमाँ की बजर म कदएअययास बेहन शरबी भाई Rajsharma ki sex kahniमै पापा कि रखैल बनके लिए कबसे बेकरार.sex.kahaniसेकशी फोटो जिसको जुदाई करते है उसको चौड मेbhai bhanxxx si kahani hindi maभाभी सेकस करताना घ्यायची काळजीगांद से tatti निकाली छुड़ाई मे सेक्स स्टोरीचडि के सेकसि फोटूbete ne maa ki tatti khai or chudai ki raj sharma storiesSeptikmontag.ru मां को ग्रुप में चोदाफ़तेहि फोटो क्सक्सक्स वीडियोaashiyana sexbaba net chudai stotiestara sutari nuda sexpussy vidioनागडि सेकसि मुसलिम लडकि फोटोsouth me jitna new heroine he savka xnxxपतली कमर औरत का सेकसी वीडियो डाबलोडसमीरा मलिक साथ पड़े सोफे पर पैर पर पैर रखकर बैठी तो उसकी मोटी मोटी मांस से भरी जांघें मेरे लोड़े को खड़ा होने पर मजबूर करने लगीं। थोड़ी थोड़ी देर बाद उसकी सेक्सी जांघ को देखकर अपनी आँखों को ठंडा किया जब दुकान मे मौजूदा ग्राहक चली गईं तो इससे पहले कि कोई और ग्राहक दुकान में आता मैंने दुकान का दरवाजा लॉक कर दिया वैसे भी 2 बजने में महज 15 मिनट ही बाकी थे। दरवाजा बंद करने के बाद मैंने समीरा मलिक का हाल चाल पूछा और पानी भी पूछा मगर उसने कहा कि नहीं बस तुम मुझे ड्रेस दिखाओ जिसे कि मैं पहन कर देख सकूँ। मैं उसका ड्रेस उठाकर समीरा मलिक को दिया और उसे कहा कि ट्राई रूम में जाकर तुम पहन कर देख लो। समीरा मलिक ने वहीं बैठे बैठे अपना दुपट्टा उतार कर सोफे पर रख दिया। दुपट्टे का उतरना था कि मेरी नज़रें सीधी समीरा मलिक के सीने पर पड़ी जहां उसकी गहरी क्लीवेज़ बहुत ही सेक्सी दृश्य पेश कर रहीBhabi poraha saat vavar ne xx kiya jobordoti indin.नगि मोटा बोबा नहाती xxxHeroinsSex baba nude photosMummy ko chote chacha se chudwate dekhaममीं उसका बचा चुदीchudakkad bibi ka bhosda gair mard pati ke samne chudai thukai storyविग्रे in gril अंदर तक xxx सेक्सी विडियो न्यूडxxx berjess HD schoolxxx.nude.bhoto.tmkuc.gokulgham.komalbabhi na jalidar bra pahni cut coda kahaniMummy our surash ancle sex khani hindi ma Antarvasnakam karte wakt niker dikhana xmxcGokuldhamxxxstoryxxxi video ort ke cuot me se pani kese nikalta he codne prxxxFull lund muh mein sexy video 2019माँ की बड़ी चूत झाट मूत पीxnxxxनविनFudi ka rush nekal do pornmaut marnaxxxAntarvasna pet me garv nahi thartababi k dood pioburi me pelo sekashsex babanet hawele me chudae samaroh sex kahaneबहन sexbabaaka.ladaki.ko.carajan.ne.jabradasti.se.coda.sexi.kahanima ke bhosde ka namkeen pesab kamuktashunidhi chauhan pussy without panyChut maravate samay ourat chillati kyo he hindi me stori bataye15 inch land Mukhiya market dikhana video sex .comदिया बाती सीरियल सोस्सिप सेक्सी स्टोरीसबस मे प्यारी बहनाके साथ प्यारभरा सफरindin pusy girl पेंटी ब्रा उतारती हुई कामdidi ki badi gudaj chut sex kahaniऔरतों को गांड़ मराने में ज्यादा मजा कयों आता है इसका चित्र सहित समझाएShafaq naaz sex baba net com sex gif images अजली किXxx story jijadisha patni or shiraddha kapoor chut chattiगाँड उपर की ओर कर चोदवायेpedal rah chalti lugai ko ptaya chudai ke liye xxx hindi kahanixxx bhikh dene bahane ki chudaixxxBafidnकहानी वासना भरी थ्रेडjabarjateexxx momXxxxपडोसी सचक्सक्सक्स कहानी भाई ने गाली दे दे कर छोड़kidnaep ki dardnak cudai story hindiDaya or jethalal chudai kahaniy hidi meरातभर हुई बेहतरीन चुदाई कहानीलंड माझ्या तोंडाindian pelli sexbaba.netxxxvideoshindhi bhabhijajamin cobhari xnxxXxx dase baba uanjaan videoRandi mummy ko peshab pine ki hawas gandi chudai ki hinde sex khaniDesi.netjabrdasti.commeri pyari bajiyo ki dmdar chudaideshi bhabi devar "pota" ke leya chut chudai xxc bfTamnya bhat xxxbf.comjub अचानक मा ने बेटे का लौड़ा पकड़ लिया xxx sex video ma betaantervasnabusPriti zintas ass hol photos sex babaमाँ के मुँह में लौड़ा पेल के मूत दियाWww.nangisexkahaniyan.com.sexi dehati rep karane chikhanalandchutihnwenthttps://septikmontag.ru/modelzone/Thread-rajsharmastories-%E0%A4%A7%E0%A5%8B%E0%A4%AC%E0%A4%A8-%E0%A4%94%E0%A4%B0-%E0%A4%89%E0%A4%B8%E0%A4%95%E0%A4%BE-%E0%A4%AC%E0%A5%87%E0%A4%9F%E0%A4%BE?page=2sexstoryhindimanjugowthan andramya porn imageindian girl bfcholi walarakul sexbaba 26